GLIBS
24-07-2020
पिता ने बेटी की कब्र खुदवाकर क्यों करवाई पोस्टमार्टम, जानिए क्या है मामला

रायपुर/रायगढ़। मामा के घर में रह रही सात साल की बच्ची की संदिग्ध मौत के मामले में पिता ने उसके मामा और सगे छोटे साले के खिलाफ हत्या का आरोप लगाते हुए जांच की है। संवेदनशील मामले में पुलिस ने कोर्ट के आदेश सुबह 10 बजे डॉक्टर एवं न्यायिक अधिकारियों की मौजूदगी में कब्र से शव को निकालकर पोस्टमार्टम और जांच के बाद शव को मिट्टी डालकर दफन कर दिया। गौरतलब है कि पीड़ित पिता दुकालू दास महंत ग्राम सोनसरी तहसील अकलतरा थाना मुलमुला जिंदल के अंगुल में इलेक्ट्रिकल विभाग में कार्यरत है। होली से 4 दिन पहले दुकालू अपने परिवार व ससुराल के साथ अंगुल जा रहे थे। इसी बीच रायगढ़ स्टेशन में बच्ची के नानी व अन्य सदस्य उतरे तो बच्ची भी अपने नानी के साथ रायगढ़ स्टेशन में उतर गई थी।

10 जुलाई को बच्ची के मामा ने उसके पिता दुकालू को फोन कर बताया कि बेटी की तबियत खराब हो गई है। वह खून की उल्टी कर रही है, जल्दी आने के लिए कहा था। बदहवास पिता रायगढ़ साले के घर भरतपुर पहुंचा और बेटी की सुध लिया। दुकालू ने मौत के बारे में पूछताछ भी किया तब ससुराल वाले ने कहा कि तबियत खराब थी। इसके उपरांत सामाजिक रीति रिवाज से कफ़न दफन किया गया। इसी बीच उसे उड़ती खबर से ज्ञात हुआ कि मौत से पहले तक बच्ची ठीक थी। इस पर उसे मौत पर हत्या आशंका हुई। परिस्थितियों को देखते हुए दुकालू दास ने मामले की सच्चाई जानने के लिए कोतरारोड टीआई से निष्पक्ष जांच कर पता लगाने का निवेदन किया था। वही गुरुवार को नायब तहसीलदार की उपस्थिति में स्वास्थ्य विभाग एवं पुलिस टीम ने शव को कब्र खोद कर निकाला और शव का पोस्टमार्टम कराया गया। पुलिस पीएम रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई करने की बात कह रही है।

07-05-2020
नमन सिंह राजपूत की जमानत याचिका खारिज

दुर्ग। मुख्यमंत्री के खिलाफ विवादित टिप्पणी करने वाले नमन सिंह राजपूत की जमानत याचिका कोर्ट ने खारिज कर दी है। इस प्रकरण में प्रार्थी अधिवक्ता प्रीतम देशमुख,ओमप्रकाश शर्मा,अशोक धोटे, सौरभ ताम्रकार एवं आनंद कपूर ताम्रकार थे। कुछ लोगों द्वारा सरकार और मुख्यमंत्री की छवि ख़राब करने विधि विरुद्ध कार्य किया जाता रहा है। इस पर कांग्रेस लीगल सेल द्वारा क़ानूनी कार्यवाही की गई।

01-05-2020
कोर्ट में वीडियो कान्फ्रेसिंग के जरिए हुई न्यायालयीन प्रकरणों की सुनवाई 

दुर्ग। छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय बिलासपुर के दिशा निर्देश के अनुसार और जिला एवं सत्र न्यायाधीश दुर्ग जीके मिश्रा के मार्गदर्शन एवं दिशा निर्देश में द्वितीय अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश रामजीवन देवांगन, शुभ्रा पचौरी, अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश प्रथम फास्ट ट्रेक स्पेशल कोर्ट दुर्ग, गरिमा शर्मा, चतुर्थ अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश दुर्ग के द्वारा न्यायालयीन प्रकरण की सुनवाईं वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से की गई। विडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से की गई जमानत प्रकरण की सुनवाई में पैरवी किये जाने वाले अधिवक्ता अपने आफिस से मोबाईल के माध्यम से जुड़े हुए थे तथा शासन की ओर से शासकीय अधिवक्ता भी अपने मोबाइल के माध्यम से जुड़े हुए थे। दोनों पक्षों के तर्क सुना गया और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए जमानत आवेदन की सुनवाई पूर्ण कर निराकरण किया गया।

30-04-2020
व्यापारी की याचिका पर कोर्ट ने कहा, अभ्यावेदन पर नियमानुसार निर्णय ले शासन

रायपुर/बिलासपुर। छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने शासन को लॉक डाउन में फंसे व्यापारी को उत्तरप्रदेश जाने की अनुमति देने के लिए पेश अभ्यावेदन पर नियमानुसार निर्णय लेने का निर्देश दिया है।बता दें कि याचिकाकर्ता मथुरा निवासी दीपक कुमार शर्मा व्यवसाय के सिलसिले में 20 मार्च को बिलासपुर आए थे। लॉक डाउन के कारण वे यहीं फंस गए। उन्होंने कलेक्टर को स्वयं के वाहन से वापस अपने घर मथुरा जाने की अनुमति प्रदान करने आवेदन दिया। अनुमति नहीं मिलने पर उन्होंने अधिवक्ता धीरज वानखेडे के माध्यम से हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की। गुरुवार को याचिका में सुनवाई हुई। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा केंद्र व् राज्य शासन का इस संबंध में गाइड लाइन जारी हुआ है। याचिकाकर्ता को अभ्यावेदन प्रस्तुत करने एवं शासन को इस पर नियमानुसार निर्णय लेने का निर्देश दिया है।

 

16-03-2020
विधायक के साले साहब को आखिरकार पुलिस ने कर ही लिया गिरफ्तार

रायपुर। जशपुर विधायक विनय भगत के साले की चार दिन बाद आखिरकार पुलिस ने गिरफ्तारी कर ही ली। बता दें कि छात्रा से छेड़छाड़ करने के मामले में जशपुर विधायक विनय भगत के साले को पुलिस ने रविवार को देर रात गिरफ्तार किया है। सोमवार यानि आज उसे कोर्ट में पेश किया जाएगा। पीड़ित छात्रा की शिकायत पर कोतवाली पुलिस ने आरोपी नितेश भगत के खिलाफ धारा 354 के तहत अपराध दर्ज किया था। बीती रात पुलिस को सूचना मिली कि आरोपी अपने घर पर है। इसके बाद टीम ने उसके घर पर दबिश देकर गिरफ्तार कर लिया है। ज्ञातव्य है कि चार दिन पहले छात्रा परीक्षा देकर घर लौट रही थी। उसी दौरान आरोपी नितेश भगत ने बाइक में लिफ्ट देने के बहाने बाइक पर बैठाकर सूनसान क्षेत्र में ले जाने की कोशिश की। पीड़ित बाइक से उतरकर भागने की कोशिश तो नितेश ने उससे जबरदस्ती करने का प्रयास किया। शुक्रवार को इस मामले को लेकर गांव पंचायत का आयोजन किया गया था। इस पंचायत में ग्रामीणों के सामने विधायक विनय भगत की पत्नी ने अपने आरोपित भाई पर थप्पड़ बरसा कर पंचायत के कथित न्याय की रस्म अदा की थी।

 

05-03-2020
पटियाला हाउस में आज निर्भया के दरिंदों का नए डेथ वारंट पर होगी सुनवाई

नई दिल्ली। निर्भया दुष्कर्म मामले में सभी दोषियों के पास कानूनी विकल्प खत्म हो गए है। निर्भया के दरिंदों में से एक पवन कुमार गुप्ता की दया याचिका राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बुधवार को खारिज कर दी। पवन की अर्जी खारिज होने के साथ ही तिहाड़ जेल प्रशासन ने फांसी की नई तारीख के लिए पटियाला हाउस कोर्ट में अर्जी लगा दी। इस पर आज सुनवाई होगी।

निर्भया की मां ने राष्ट्रपति को धन्यवाद दिया निर्भया की मां ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को दोषी पवन गुप्ता की दया याचिका खारिज करने के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि अब उन्हें इंसाफ मिलने की उम्मीद पूरी होने वाली है। वहीं कोर्ट ने चारों दोषियों के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य की जांच कराने और राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) को हस्तक्षेप करने का निर्देश देने की मांग वाली याचिका पर बुधवार को सुनवाई करने से इनकार कर दिया।

04-03-2020
अरपा नदी से बेजा कब्जा हटाने की याचिका पर शासन और प्राधिकरण नहीं दे पाया विशेषज्ञों का नाम

रायपुर। छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में अरपा के उद्गम स्थल से अतिक्रमण हटाने और नदी के संरक्षण और संवर्धन की मांग को लेकर दायर की गई जनहित याचिका में सुनवाई हुई। राज्य शासन व विधिक सेवा प्राधिकरण को विशेषज्ञों के नाम देने थे। शासन ने नाम नहीं दे पाने के कारण कोर्ट से मोहलत मांग ली। खंडपीठ ने मामले की अगली सुनवाई के लिए एक सप्ताह बाद का समय निर्धारित किया है। चार वकीलों ने जनहित याचिका दायर कर अरपा नदी के उद्गम स्थल से बेजा कब्जा हटाने की मांग की है। चीफ जस्टिस पीआर रामचंद्र मेनन व जस्टिस पीपी साहू की खंडपीठ ने सुनवाई के दौरान राज्य शासन के अलावा विधिक सेवा प्राधिकरण को अरपा के संरक्षण के लिए सुझाव देने विशेषज्ञों के नाम मांगे थे। इसके लिए मंगलवार की तिथि तय की थी। मंगलवार को शासन व प्राधिकरण को अपनी तरफ से विशेषज्ञों की सूची सौंपनी थी। नाम नहीं दे पाने के कारण दोनों ने कोर्ट से मोहलत मांग ली है।

01-03-2020
VIDEO: दो साल पहले अनाथालय में छोड़ी बच्ची को लेने पहुंचे माता-पिता, संस्था ने भेजा कोर्ट, फिर हुआ ये...

रायगढ़। अक्सर ऐसा देखा जाता है कि जब भी दो पक्ष के बीच मतभेद बढ़ जाता है तब वे कोर्ट की शरण लेते है। कोर्ट के फैसले के बाद एक पक्ष निराश होता है तो वहीं जिसके पक्ष में कोर्ट का फैसला सुनाया जाता है वह फैसले से  खुश होता है। लेकिन रायगढ़ के परिवार न्यायालय ने एक ऐसा ऐतिहासिक फैसला सुनाया है जिसके बाद दोनों ही पक्ष खुशी-खुशी एक दूसरे को बधाई देते हुए नज़र आए। दरअसल यह पूरा मामला 2 साल पहले का है जब उन्नायक सेवा समिति द्वारा संचालित अनाथालय के बाहर लगे झूले में कोई एक दुदमुहि बच्ची को छोड़ गया था। समिति के सदस्यों ने इस बच्ची की देखभाल की और उसके लालन पालन में कोई कमी नहीं आने दी।

करीब एक साल बाद एक दंपत्ति नेहरू जांगड़े व तारा जांगड़े अनाथालय पहुंचे और बताया कि उन दोनों ने एक साल पहले एक बच्ची को झूले में छोड़ा था, लेकिन अब उन्हें उनकी गलती का एहसास हो गया है और वो बच्ची को वापस ले जाना चाहते है। उनके पास कोई पुख्ता दस्तावेज न होने के कारण समिति के सदस्यों ने उन्हें कोर्ट जाने की सलाह दी। मामला कोर्ट में जाने के बाद जांगड़े दंपत्ति का डीएनए टेस्ट करवाया गया और इस टेस्ट में उनकी जीत हुई। इसके बाद उन्नायक सेवा समिति के सदस्यों ने बच्ची को जांगड़े दम्पत्ति को सौंप दिया। संस्था के सदस्य सिद्धान्त मोहंती ने बताया कि जो भी बच्चा इस तरह से संस्था में आता है उसके माता पिता की कोई खबर नही होती न ही उनके मिलने की  कोई उम्मीद होती है,परन्तु आज हमारी संस्था के लिए यह बहुत सुनहरा अवसर है कि बच्ची अपने असली माता पिता के पास वापस जा रही है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804