GLIBS
13-06-2020
हाईकोर्ट पहुंचा सर गंगाराम हॉस्पिटल का मामला, एफआईआर रद्द करने की लगाई गुहार

नई दिल्ली। कोविड-19 से जुड़े प्रावधानों के उल्लंघन के आरोप में कार्रवाई का सामना कर रहे देश की राजधानी में स्थित सर गंगाराम हॉस्पिटल ने अब दिल्ली हाईकोर्ट का रुख किया है। अस्पताल प्रबंधन ने इस बाबत दिल्ली पुलिस की ओर से दर्ज एफआईआर को रद्द करने की गुहार लगाई है। बता दें कि केजरीवाल सरकार की शिकायत के बाद पुलिस ने अस्पताल के खिलाफ मामला दर्ज किया है। हाईकोर्ट 15 जून को इस पर सुनवाई करेगा। दरअसल, हॉस्पिटल के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का कारण कोरोना संबंधित नियमों को तोडऩे का आरोप है। इसके खिलाफ दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने पुलिस के पास शिकायत दर्ज कराई थी,जिसके बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज की।जानकारी मिली है कि दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने यह शिकायत दर्ज कराई थी। इस मामले में हॉस्पिटल की तरफ से अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है।दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने कोरोना संक्रमित मरीजों को हॉस्पिटल में भर्ती करने से मना करने वालों के अलावा बेड की कालाबाजारी में कर रहे हॉस्पिटल के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की बात कही थी। सीएम ने कहा था कि दिल्ली सरकार इस संबंध में एक आदेश जारी करने वाली है,जिसमें हॉस्पिटल ऐसे पेशेंट का इलाज करने से मना नहीं कर सकते हैं।

 

10-06-2020
Video: कार की गुप्त डिक्की में मिले भारी मात्रा नोट, पुलिस ने दो लोगों को किया गिरफ्तार, मामला आईटी को सौंपा

महासमुन्द। जिले के सिंघोडा थाना पुलिस ने बुधवार को एक करोड़ 12 लाख 99 हजार 200 रुपए कार की गुप्त बनी डिक्की से बरामद किया है। इसमें दो ओडिसा निवासी प्रतीक छापड़िया पिता गोविंद प्रसाद छापड़िया 30 साल, सुरेंद्र सोना पिता दवारुं सोना 28 साल को गिरफ्तार कर धारा 102 के तहत कारवाई कर एसआईटी को मामला सौंप दिया है।महासमुन्द पुलिस अधीक्षक प्रफुल्ल ठाकुर ने बताया कि 8 और 9 जून की दरम्यानी रात साढ़े 12 बजे के करीब रेहटी खोल रोड में चेकिंग के दौरान वाहन क्रमांक ओआर 17 के 5052 में  सवार दो व्यक्ति बरगढ़ ओडिसा की ओर से आ रही थी,जिसे सिंघाड़ा पुलिस ने वाहन में गांजा होने की शंका में उक्त वाहन को रुकवा कर वाहन के पीछे डिक्की में चेक किया। पुलिस को डिक्की के अंदर एक गुप्त डिक्की नजर आई,जिसे पुलिस ने खोला तब पुलिस को यह जानकारी मिली के वाहन में बेनामी करोड़ों रुपए अवैध रूप से ओडिसा से रायपुर परिवहन किया जा रहा था।

पुलिस ने उक्त रकम बरामद कर जब उसकी गिनती की तो एक करोड़, 12 लाख 99, 200 निकला। इसमें 500, 200 और 2000 के नोट मिले। गिरफ्तार आरोपियों ने पुलिस को यह जानकारी दी है की ओडिसा से रायपुर किसी व्यापारी को देने जा रहे थे, वाहन में सवार दोनों व्यक्तियों को रकम किसे देना है इसकी जानकारी नहीं थी। बहरहाल महासमुन्द पुलिस ने धारा 102 के तहत कार्रवाई मामला आईटी रायपुर को सौंप दिया है।

 

30-05-2020
श्रमिक स्पेशल ट्रेन में बॉडी 4 दिन तक पड़े रहने का मामला रेलवे के माथे पर कलंक : कांग्रेस 

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि कोरोना से लड़ने के नाम पर केंद्र सरकार और रेलवे की ओर से खिलवाड़ लगातार जारी है। 21 डॉक्टरों की नियुक्ति 1 मई से होनी थी लेकिन पूरा मई माह बीत जाने के बावजूद रेलवे ने इस दिशा में  कोई कार्यवाही नहीं की है।  रेलवे ने 2500 डॉक्टरों और 352 नर्सों की तैनाती का झूठा और खोखला दावा किया था। छत्तीसगढ़ में भी डॉक्टरों के पदों के लिए विज्ञापन निकाले गए और डॉक्टरों के साक्षात्कार भी लिए गए। 20 अप्रैल को 21 डॉक्टरों की नियुक्ति के आदेश जारी भी कर दिए। इन डॉक्टरों को एक मई से ड्यूटी ज्वाइन करना था लेकिन आज तक इन डॉक्टरों की ड्यूटी ज्वाइन नहीं कराया गया है। इससे केंद्र सरकार और रेलवे की कोरोना से लड़ने की गंभीरता को लेकर सवालिया निशान खड़े हो गए हैं। 

त्रिवेदी ने कहा है कि श्रमिक स्पेशल ट्रेन में मुम्बई से लौटे मजदूर की डेड बॉडी चार दिन तक पड़े रहने का झांसी का मामला रेलवे के माथे पर कलंक है। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने भी रेलवे की अव्यवस्था के परिणामस्वरूप संज्ञान लेते हुए इसे यात्रियों के अधिकारों का उल्लंघन करार दिया है। रेलवे के अन्य दावे भी खोखले निकले। रेलवे ने कहा था कि देश में 5000 कोचों को आइसोलेशन वार्ड में बदला जाएगा। 35 हॉस्पिटल और ब्लॉक कोरोना के लिए चिन्हित किए गए हैं लेकिन अगर डॉक्टरों की नियुक्ति नहीं होगी तो यह आइसोलेशन वार्ड और हॉस्पिटल ब्लॉक चिन्हित करने का क्या फायदा ? त्रिवेदी ने कहा है कि करोना से निपटने के नाम पर मोदी सरकार और रेलवे का रवैया लगातार निराशाजनक बना हुआ है। भारतीय रेल ने कोरोना महामारी से लड़ाई और लॉक डाउन के समय देश को निराश किया है। इस महामारी के समय लाक डॉउन के समय भारतीय रेलवे आम आदमी का सहारा बन सकती थी। कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ जंग में भारतीय रेलवे ने भी पूरी ताकत से जुटने और अपनी भागीदारी निभाने के दावे किये थे। भारतीय रेलवे ने कोविड-19 महामारी से लड़ने के लिए 2500 डॉक्टरों और 35,000 नर्सों को तैनाती का भी झूठा खोखला दावा किया था। रेलवे के भोजन से लेकर दवाइयों की भी व्यवस्था के दावे झूठे निकले।

28-05-2020
संदिग्ध हालत में मिली महिला की जली हुई लाश

जांजगीर-चाम्पा। घर पर महिला की जली हुई लाश मिलने से सनसनी फैल गई। मामला शिवरीनायरायण थाना क्षेत्र के खोखरी गांव का है। जिस परिस्थिति में महिला की जली हुई लाश मिली है, उसके बाद मामला संदिग्ध नजर आ रहा है। सूचना के बाद पहुंची पुलिस ने पंचनामा कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। शिवरीनारायण थाने के एसआई पी. सेन ने बताया कि महिला गीता बाई रोहिदास, घर पर अकेली थी। जली हुई लाश मिलने के बाद पुलिस को सूचना दी गई। मौके पर पहुंचकर जांच शुरू की गई। मामले में परिजन का बयान लिया जाएगा। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से महिला की मौत के कारण का खुलासा हो पाएगा। पुलिस जांच में जुटी है।

26-05-2020
15 दिनों में पैसे दोगुने करने का झांसा देकर लाखों की धोखाधड़ी

रायपुर। शहर में 15 दिनों में कंपनी खोलकर पैसे दोगुने करने का झांसा देकर 48 लाख रुपए की धोखाधड़ी करने का मामला सामने आया है। मामले की शिकायत पर पुलिस ने तीन आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दिया है। खरोरा थाना पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक खरोरा निवासी पीड़ित एस कुमार साहू ने थाने में शिकायत की गई थी। जांच के बाद आरोपी कमल देवांगन, विकास पदमवार और पोषण देवांगन के खिलाफ धारा 420, 34 के तहत अपराध दर्ज किया गया है। बता दें कि घटना 1 मई की है। जब आरोपियों ने पीड़ित के निवास पहुंचकर उसे स्कीम की जानकारी दी। 15 दिनों में दोगुनी राशि मिलने के लालच में प्रार्थी ने 20 किश्तों में 48 लाख रुपए दे दिए। जब 15 दिनों बाद पीड़ित को पैसे नहीं मिले तो उसने कॉल करना शुरू कर दिया, जिसके बाद आरोपियों ने आज-कल का बहाना देकर उसे घुमाना शुरू कर दिया। जब पीड़ित आरोपियों के पास पहुंचकर दिए पैसे वापस मांगा तो आरोपी विकास पदमवार ने पीड़ित द्वारा दवाब डाले जाने पर आत्महत्या कर लेने की धमकी दी, जिसके बाद ठगी का शिकार होना महसूस कर पीड़ित ने मामले की शिकायत थाने में दर्ज कराई।

23-05-2020
सांसद दीपक बैज को मिली जान से मारने की धमकी, पुलिस जांच में जुटी

रायपुर। बस्तर सांसद दीपक बैज को जान से मारने की धमकी का मामला सामने आया है। सांसद बैज ने लोहण्डीगुड़ा थाने में शिकायत की है। दीपक बैज में मीडिया को बताया कि फोन पर उन्हें धमकी मिली है। अज्ञात आरोपी ने उन्हें फोन पर धमकी दी है। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। बता दें कि इस प्रकार की धमकी के मामले पूर्व में भी आए थे जिसमें आबकारी मंत्री कवासी लखमा को फोन पर धमकी दी गई थी, जिसे पुलिस ने गिरफ्तार भी कर लिया था। वहीं राजनांदगांव सासंद संतोष पाण्डेय ने भी पूर्व में धमकी मिलने की शिकायत की थी।

14-05-2020
गैरेज से 3 लाख का गुड़ाखू जब्त, किसका है पता नहीं, कार्यवाही जारी

धमतरी। एक गैरेज से तीन लाख का गुड़ाखू जब्त किया गया है। गुड़ाखू किसका है पता नही चल पाया है,जिसकी जांच की जा रही है। गुरुवार को कुरूद से यह मामला प्रकाश में आया है। बताया गया कि कुरुद स्थित एक गैरेज में अवैध गुड़ाखू की खबर थी,जिसके बाद वहां दबिश दी गई,जहां से बड़ी मात्रा में मंदिर छाप गुड़ाखू जब्त किया गया हालांकि गुड़ाखू किसका है पता नहीं चल पाया है।  यह चर्चा है कि वह गुड़ाखू मगरलोड क्षेत्र के किसी व्यक्ति का है। गैरेज संचालक पर 5 हजार का जुर्माना किया गया है औऱ गुड़ाखू मालिक का पता लगाया जा रहा है।बताया गया कि गैरेज में छापे के बाद 10 कार्टून में गुड़ाखू जब्त किया गया। इस संबंध में कुरुद एसडीएम योगिता देवमग्न ने बताया कि गुड़ाखू जब्त कर आगे की कार्यवाही की जा रही है।

 

09-05-2020
थम नहीं रही खाकी की दबंगई- एसआई ने लॉक डाउन में कार्यवाही का भय दिखाकर वसूले 20 हजार

रायपुर/कोरबा। बालको थाना के एक आरक्षक पर 50 हजार की वसूली करने का मामला किसी तरह शांत करा कर बैठे पुलिस अधिकारियों ने अभी चैन की सांस ली ही थी कि एक एसआई ने भी लॉक डाउन के बहाने दबंगई दिखाकर वसूली कर ली। पुलिस अधिक्षक अभिषेक मीणा से पाली थाना में पदस्थ एसआई अशोक शर्मा द्वारा भयादोहन कर गाली-गलौज करने एवं जेल में भेजने की धमकी दिए जाने की शिकायत का मामला सामने आया है। जिला मुख्यालय आकर निलेश गुप्ता पिता नारायण लाल गुप्ता, निवासी पाली तहसील पाली ने लिखित शिकायत में बताया है कि 23 अप्रैल 2020 को शाम 5 बजे अपने बीमार दादी के लिए दवाई लेने गया था, घर के सामने बाजार रोड पर दवाई लेके आ रहा था तभी पाली थाना में पदस्थ एसआई अशोक शर्मा एवं अन्य पुलिसगण द्वारा अपने वाहन से उसके घर के सामने बाजार रोड के पास पहुंच कर गाली देने लगे तथा जेल भेजूंगा कहकर अपने गाड़ी में बैठा लिए।

गाड़ी में बैठाकर सैला होते हुए लाफा ले गये और वहां पर दो शराब बनाने वाले को पकड़े तथा मुझे भी अपने गाड़ी में ही बैठाकर तीन घंटे तक इधर-उधर घुमाएं। तीन घंटे पश्चात थाना पाली लेकर आए, फिर मेरे पिता को बुलवाये। मेरे पिता अपने दोस्त के साथ थाना पहुंचे तब मेरे सामने ही मेरे पिता को भी  गाली गलौच किए। तब मेरे पिता को बोले की तुमको मेरे घर को पोतवाने के लिए बोला था, तुमने नहीं पोतवाया और अपने वाहन एजेंसी में मेरे स्कुटी को कम रेट में काटे थे, इसलिए आज तेरे बेटे को कार्यवाही कर जेल भेजूंगा। तब बहुत ही हाथ पैर जोड़ने के बाद कहा कि 20,000 रुपये दोगे तो तेरे बच्चे को छोडूंगा। 20,000 रुपये नहीं देने पर तेरे बेटे को जेल में सड़ा दूंगा। तब मेरे पिता द्वारा 20,000 रुपये लाकर एसआई शर्मा को दिया गया तब मेरे को रात्रि 10 बजे छोड़े एवं नगर पंचायत पाली द्वारा 1000 रुपये का रसीद काटकर दिया गया, जो पैसा मैने अलग से दिया है, जिसकी रसीद की कॉपी आवेदन के साथ सलग्न किया है।

08-05-2020
मंत्री शिव डहरिया के बंगले में गिरी बिजली, बंगले में मौजूद थे मंत्री, कोई नुकसान नहीं

रायपुर। नगरीय प्रशासन एवं विकास, श्रम मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया के बंगले में आकाशीय बिजली गिरने का मामला सामने आया है। बिजली गिरते ही बंगले में ब्लैक आउट हो गया। बिजली गिरने के दौरान मंत्री डहरिया बंगले में ही मौजूद थे। घटना में किसी प्रकार की कोई हानि नहीं हुई है।

 

08-05-2020
सोशल मीडिया में सीएम के खिलाफ अपशब्दों का प्रयोग करने वाले युवकों के खिलाफ मामला दर्ज

धमतरी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के खिलाफ सोशल मीडिया पर दो युवकों ने अपशब्दों का प्रयोग किया है। शुक्रवार को कांग्रेस पार्षद दीपक सोनकर और सोमेश मेश्राम ने सिटी कोतवाली पहुंचकर अज्ञात के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। शिकायत में बताया गया है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को फेसबुक में आपत्ति जनक शब्दों का प्रयोग किया है,जिससे कांग्रेसियों में आक्रोश है। इसके चलते कांग्रेसियों ने थाने में शिकायत की है। वहीं कांग्रेसियों का कहना है अगर इसमें जल्द कार्यवाही नहीं होती तो कांग्रेस उच्च स्तर पर इसमें कार्रवाई की मांग करेंगे। आरोपी ने टिक-टॉक पर वीडियो अपलोड किया, और फेसबुक के एक पोस्ट पर कमेंट कर अपशब्दों का प्रयोग किया है। बहरहाल पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी है।

 

 

 

06-05-2020
मिक्की मेमोरियल ट्रस्ट के जयदेव व दी​पशिखा के खिलाफ ईओडब्ल्यू ने दर्ज किया मामला, पढ़े पूरी खबर

रायपुर। निलंबित डीजी मुकेश गुप्ता की परेशानियाँ बढ़ती ही जा रही है। ईओडब्ल्यू ने गुप्ता समेत मिक्की मेमोरियल ट्रस्ट के प्रधान ट्रस्टी जयदेव गुप्ता और एमजीएम आई इंस्टिट्यूट की डायरेक्टर डॉ.दीपशिखा अग्रवाल व अन्य के खिलाफ धोखाधड़ी, भ्रष्टाचार समेत आरोपों के तहत मामला दर्ज किया है। मिक्की मेहता चैरिटेबल ट्रस्ट को देश-विदेश से मिले चंदे का ब्यौरा छिपाया गया। ट्रस्ट के पैसे से विधानसभा रोड पर जमीन खरीदकर एमजीएम आई हॉस्पिटल का निर्माण किया गया। जिसमें नियमों का खुला उल्लंघन किया गया। साथ ही अवैध रूप से इंस्टिट्यूट का संचालन शुरू कर दिया गया।हॉस्पिटल की ज़मीन और भवन के एवज़ में एसबीआई बैरन बाज़ार ब्रांच से तीन करोड़ रुपये का लोन और 10 लाख रुपये का कैश क्रेडिट लोन लिया गयाइस लोन के NPA होने की स्थिति में राज्य शासन से गरीब मरीजों के फ्री मोतियाबिंद ऑपरेशन और आम लोगों और सरकारी कर्मचारियों का रियायती दरों पर इलाज और मेडिकल स्टाफ को प्रशिक्षण देने के नाम पर तीन करोड़ रुपये का अनुदान लेकर बैंक का लोन चुकाया गया.आपको बता दें कि फ़िलहाल इस मामले की शिकायत मिक्की मेहता के भाई मानिक मेहता द्वारा किये जाने पर ईओडब्ल्यू ने जांच की और शिकायतों को सही पाये जाने पर धारा 420, 406, 120 बी और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 7 (ग) के तहत अपराध पंजीबद्ध किया. अब अपराध की जांच की जा रही है।

04-05-2020
Video: एकता चौक शराब दुकान खुलने का महिलाओं ने किया विरोध, समझाइश के बाद मामला हुआ शांत

महासमुन्द। शहर के एकता शराब दुकान खुलने के बाद आज सुबह नयापारा एकता चौक की महिला पुरूषों ने इस दुकानें के खुलने का जमकर विरोध जताते हुए हंगामा  कर दिया। महिलाओं के उग्र रवैय्ये को देखते हुए तत्काल पुलिस प्रशासन और जिला प्रशासन के अधिकारी एकता चौक पहुंचे थे। एसडीएम सुनील चंद्रवंशी ने आंदोलन कर रहे महिला पुरूषों से बातचीत कर उन्हें समझाइश दी। इसके बाद कही जाकर मामला शांत हो सका और एकता चौक की शराब दुकान सोशल डिस्टेंश का पालन कराते हुए मंदिरा प्रेमियों को शराब लेने की छूट मिली।प्रदेश सरकार के शराब भट्ठी खोलने के आदेश के बाद आज सुबह जिले की सभी शराब दुकानें खुल गई है और मंदिरा प्रेमियों की लम्बी लाइनें शराब दुकान के सामने देखी जा रही है। 41 दिन के लॉक डाउन के बाद आज शराब भट्ठी खुलने की सूचना पाकर मंदिरा प्रेमियों में काफी उत्साह देखा गया है। सुबह से ही लोग सरकारी शराब दुकान के सामने पहुंच गये थे। कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते जिला आबकारी अधिकारी मंजु कसरे ने पुलिस बल की व्यवस्था सभी शराब दुकानों में कराई है,पुलिस शराब लेने पहुंचे लोगों को भीड़ ना करने और सोशल डिस्टेश और फिजिकल डिस्टेंश रखने की हिदायत दे रहे हैं। शराब दुकान में पहुचें लोगोंं को एक कतार में खड़ा कर बारी बारी से शराब लेने की अनुमति दी गई है।


गौरतलब है कि आज सुबह 8 बजे से पूरे जिले की शराब दुकानें खुल गई है। आज सुबह जब एकता चौक अंग्रेजी शराब दुकान खुली तो मुहल्ले की महिलाओं ने शराब दुकान के सामने पहुंची और एकता चौक शराब दुकान खोलने का विरोध किया। महिलाओं का आरोप था कि दो माह पहले ही जिला आबकारी अधिकारी और जिला कलेक्टर को यह दुकान हटवाने के लिए आवेदन किया था,जिस पर जिला प्रशासन और आबकारी विभाग ने उन्हें आश्वासन दिया था कि एकता चौक के दुकान को जल्द हटा दिया जायेगा लेकिन अब तक ऐसा नहीं हो सका था। महिलाओं ने बताया कि एकता चौक के शराब दुकान की वजह से महिलाओं का सडक़ से गुजरना मुश्किल हो गया है, दिन रात असामाजिक तत्वों का जमावड़ा यहां लगा रहता है,जिससे उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।महिलाओं के शराब दुकान खुलने का विरोध करने की जानकारी जैसे ही जिला प्रशासन को मिली वैसे ही जिला प्रशासन के अधिकारी एसडीएम, तहसीलदार और महासमुन्द एसडीओपी नारद चंद्रवंशी एकता चौक शराब दुकान पहुंचे, विरोध कर रही महिलाओं से एसडीएम चंद्रवंशी ने बातचीत कर, जिला आबकारी अधिकारी मंजु कसरे को मौके पर पहुंचने कहा। एसडीएम के आदेश के बाद पहुंची जिला आबकारी अधिकारी ने जानकारी कि उक्त दुकान एकता चौक से हटा कर अन्यंत्र किये जाने के लिए आबकारी विभाग ने जगह से लिए विज्ञापन दे रखा है, लॉक डाउन के चलते कार्रवाई आगे नहीं बढ़ सकी है, दो माह मई जून के भीतर में ही एकता चौक की दुकान को हटा कर दूसरे स्थान पर खोले जाने के आश्वसन के बाद ही महिलाएं मानी, जिसके बाद एकता चौक की शराब दुकान को प्रारंभ करा दिया गया है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804