GLIBS
23-11-2020
बिना अधिग्रहण, मुआवजा किसानों की जमीन पर सड़क निर्माण, माकपा ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

कोरबा। किसानों की बिना सहमति और उनकी जमीन के अधिग्रण और मुआवजे के बिना प्रधानमंत्री सड़क योजना के अंतर्गत रजकम्मा से तानाखार तक बनाई जा रही सड़क के खिलाफ ग्रामीणों के पक्ष में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी और छत्तीसगढ़ किसान सभा ने मोर्चा खोल दिया है। इस संबंध में ग्रामीणों के एक प्रतिनिधिमंडल ने ज्ञापन पोड़ी एसडीएम अरुण खलखो को सौंपकर सड़क निर्माण पर रोक लगाने की मांग की है। माकपा ने चेतावनी दी है कि प्रशासन द्वारा कार्यवाही न किये जाने पर ग्रामीण स्वयं ही सड़क निर्माण कार्य को रोकने का काम करेंगे।उल्लेखनीय है कि पोड़ी विकासखंड में शासन द्वारा राजकम्मा से तानाखार तक 25 किमी लंबी सड़क प्रधानमंत्री सड़क योजना के तहत बनाई जा रही है। यह सड़क दस से ज्यादा गांवों से गुजर रही है और सड़क के रास्ते सैकड़ों ग्रामीणों की निजी भूमि और भवन आ रहे हैं। ग्रामीणों का आरोप है कि इस सड़क निर्माण के लिए उनकी भूमि जबरन छीनी जा रही है, क्योंकि न तो उनकी भूमि का अधिग्रहण हुआ है और न ही कोई मुआवजा अभी तक मिला है। अभी तक कृषि भूमि पर खड़े सैकड़ों कीमती पेड़ काट दिए गए हैं। बहुत से ग्रामीणों को अपना मकान छीने जाने का खतरा भी सता रहा है।

लेकिन पूरी योजना के बारे में न तो कोई अधिकारी और न ही कोई जन प्रतिनिधि सही जानकारी देने के लिए तैयार है।माकपा जिला सचिव प्रशांत झा, छग किसान सभा के नेता प्रताप दास, जवाहर सिंह कंवर व एकता परिषद के मुरली संत के नेतृत्व में ग्रामीणों के एक प्रतिनिधिमंडल ने पोड़ी एसडीएम से भेंट की, जिनमें नान दास, रामकुमार सिन्द्रम, धुरऊ दास, भूपेंद्र दास, जयंत सिंह पोर्ते, देवकुमार निर्मलकर, उमेंद्र सिंह, बुधराम दास, करम पाल चौहान, संतोष कुमार उइके आदि शामिल थे। ग्रामीणों ने बिना अधिग्रहण, बिना मुआवजा के हो रहे इस सड़क निर्माण को अवैध करार देते हुए इस पर तुरंत रोक लगाए जाने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि इस क्षेत्र में पांचवीं अनुसूची के प्रावधान व पेसा कानून लागू है। अतः बिना ग्रामीणों की सहमति के कोई निर्माण कार्य नहीं हो सकता। उन्होंने सड़क निर्माण योजना को सार्वजनिक करने की भी मांग की है, ताकि सभी ग्रामीणों को पता चले कि उनकी कितनी भूमि सड़क निर्माण में जा रही है।  इस सड़क निर्माण के बारे में एसडीएम ने भी अपनी अनभिज्ञता जाहिर की है और संबंधित अधिकारियों को बुलाकर, उनसे जानकारी लेने के बाद सकारात्मक कार्यवाही करने का आश्वासन माकपा और किसान सभा को दिया है। एसडीएम खलखो को ग्रामीणों ने चेतावनी दी है कि यदि प्रशासन ने इस अवैध निर्माण पर रोक नहीं लगाया तो इस क्षेत्र के ग्रामीण सड़क पर उतरकर इस निर्माण कार्य को रोकेंगे। उन्होंने मांग की है कि पहले भूमि का अधिग्रहण किया जाए, इस भूमि और इस पर खड़े मकान और पेड़ों के मुआवजे दिए जाएं, उसके बाद ही सड़क निर्माण की अनुमति दी जाएगी।

 

06-11-2020
कांकेर जिले में पटाखों के आयात और बिक्री पर रोक लगाने के निर्देश दिए कलेक्टर चन्दन कुमार ने

रायपुर/कांकेर। जिले में पटाखों के अवैधानिक आयात और उसके विक्रय पर रोक लगाने के लिए कलेक्टर चन्दन कुमार ने सभी एसडीएम को निर्देशित किया है। उन्होंने पटाखों के विक्रय के संबंध में उच्चतम न्यायालय ने वर्ष 2018 में जारी गाइडलाइन का उपयोग किए जाने के संबंध में निर्देश दिए हैं, जो न केवल अवैधानिक आयातित पटाखों के संबंध में है, बल्कि देश में निर्मित पटाखों के उपयोग के संबंध में भी है।

29-10-2020
एसडीएम की रेत चोरों पर बड़ी कार्रवाई, पांच ट्रैक्टर किए जब्त

कोरबा।  रेत चोरों के खिलाफ जिला प्रशासन की कार्रवाई निरंतर जारी है। बीती रात से अल सुबह तक कार्रवाई करते कोरबा एसडीएम सुनील नायक व उनकी टीम ने अवैध रेत खनन और परिवहन करते पांच ट्रैक्टर को पकड़ा है। सभी के खिलाफ खनिज अधिनियम के तहत कार्रवाई की जा रही है। बीती देर रात कोरबा एसडीएम सुनील नायक ने डेंगुरनाला लाल घाट में अवैध रेत का उत्खनन करते एक वाहन को जब्त किया वहीं डेंगुरनाला से रेत चोरी कर आ रहे एक अन्य ट्रैक्टर को पकड़ा। उन्होंने रामपुर बस्ती के भीतर घुस डेंगुरनाला से रेत चोरी कर ला रहे दो अन्य ट्रैक्टरों को भी जब्त किया। इसी तरह दोंदरो में अवैध रेत घाट से अल सुबह 6 बजे एक अन्य ट्रैक्टर को जब्त किया। 24 घंटे के भीतर कोरबा एसडीएम और उनकी टीम ने 5 ट्रैक्टर को जब्त कर खनिज अधिमियम के तहत कार्रवाई की है। सभी ट्रेक्टरों को जब्त कर तहसील कार्यालय में रखवाया गया है। उल्लेखनीय है कि कलेक्टर किरण कौशल ने जिले मे अवैध रेत खनन और परिवहन पर लगाम कसने जिला स्तरीय टास्क फोर्स गठित की है। कोरबा जिला प्रशासन लोगों को रियायती दरों पर रेत सुलभ उपलब्ध हो सके इस लिहाज से रेत चोरों पर लगातार कार्रवाई कर नदी-नालो में बेतरतीब खुदाई करते खनिज संपदा का दोहन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई जारी है। प्रशासन यह भी सुनिश्चित कर रहा वैध रेट घाटों में भी पूरी पारदर्शिता के साथ निर्धारित दरों पर ही रेत की बिक्री की जावे और ऐसा न करने वालों पर निरन्तर कार्रवाई भी की जा रही है।

 

15-10-2020
तहसील कार्यालय के लिपिक ने की आत्महत्या, मिला सुसाइड नोट, मानसिक रूप से था प्रताड़ित

गरियाबंद। देवभोग तहसील कार्यालय में पदस्थ लिपिक ने आत्महत्या कर ली है। मृतक का नाम शुभम पात्र है। मौके से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है,जिसमें उन्होंने मानसिक रूप से प्रताड़ित होने की बात लिखी है। देवभोग तहसील में सहायक लिपिक ग्रेड 3 के पद पर पदस्थ शुभम पात्र उम्र 25 वर्ष ने आज अपने किराये के मकान में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। आज जब वह अपने मकान से 11 बजे तक बाहर नही निकला तो पड़ोसियों ने पुलिस व तहसील को सूचना दिया। नायब तहसीलदार के उपस्थिति में दरवाजे का ताला तोडा गया। शव पंखे पर लटका मिला, पास के बिस्तर में सुसाइड नोट भी पड़ा हुआ था।

इसमें उसने तहसील में पदस्थ जिम्मेदारों पर प्रताड़ना का आरोप लगाया है। फिलहाल मौके पर पुलिस के अलावा एसडीएम अनूपम आशीष टोप्पो, तहसीलदार बीएल कुर्रे पहुंचकर जानकारी प्राप्त कर रहे है। शुभम ने लिखा है कि गरियबन्द में रहने वाली मां की तबियत खराब रहती है, लिखित छुट्टी मांग कर देखभाल के लिए जाता था। कोटे में छुट्टी रहने के बावजूद उसे अवैतनिक कर प्रताड़ित किया जा रहा था। प्रताड़ना से तंग आकर खुदकुशी करने की बात लिखा है।

 

12-10-2020
फेडरेशन ने एसडीएम और बीईओ मोहला को ज्ञापन सौंपकर सत्याग्रह आंदोलन की दी चेतावनी

रायपुर/दल्लीराजहरा। छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन ब्लाक इकाई मोहला की ब्लाक स्तरीय बैठक किया गया। इसमें विभिन्न समस्याओं को पूरा कराने पर चर्चा की गई। बैठक के बाद अनुविभागीय अधिकारी मोहला तथा विकासखंड शिक्षा अधिकारी मोहला को ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन के बिंदु निम्नानुसार है नान डीएड/बीएड के कारण कटौती राशि की एरियर्स प्रदान करने के संबंध में। समयमान वेतनमान की एरियर्स की राशि के प्रदान करने के संबंध में। अनुकम्पा नियुक्ति की प्रकरण को जिला शिक्षाधिकारी कार्यालय- राजनांदगांव भेजने के संबंध में है।

03-10-2020
जीएडी कॉलोनी ठेकेदार के खिलाफ कार्यवाही के लिए एसडीएम ने ​कलेक्टर को लिखा पत्र 

रायपुर/बीजापुर। जिले के भोपालपटनम नगर पंचायत में जीएडी कॉलोनी बनाने में लेटलतीफी के लिए अनुबंधकर्ता ठेकेदार के खिलाफ एसडीएम उमेश कुमार पटेल ने कलेक्टर रितेश अग्रवाल को पत्र लिखा है। एसडीएम ने ठेकेदार के खिलाफ थाने में आईपीसी 1860 की धारा 188 के तहत प्राथमिकी दर्ज करने के लिए आदेशित करने का पत्र प्रेषित किया है। प्रभारी सचिव की अध्यक्षता में 20 जुलाई को हुई बैठक में इस निर्माण को सितंबर तक पूर्ण करने के निर्देश दिए गए थे। एसडीएम पटेल ने स्थल का निरीक्षण किया और पाया कि हाउसिंग बोर्ड एवं संबंधित ठेकेदार इसमें कोई गंभीरता नहीं दिखा रहे हैं। निर्माण कार्य देखने से ऐसा प्रतीत होता है कि इस साल इस काम में कोई प्रगति नहीं हुई है।

02-10-2020
एसडीएम ने बारदाना जमा नहीं करने पर दो दुकानों को किया निलंबित

रायपुर/बीजापुर। जिले के भैरमगढ़ अनुभाग के एसडीएम एआर राना ने आबंटित बारदानों को जमा नहीं करने के कारण दो दुकानों के संचालन को निलंबित कर इन्हें नजदीकी दुकानों से संलग्न कर दिया है। इस समूह ने 6 माह से बारदाने भी जमा नहीं किए। इसके बाद तालनार की दुकान को कोडोली एवं पिनकोण्डा की दुकान को बेलनार से संलग्न कर दिया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार भैरमगढ़ अनुभाग में शासकीय उचित मूल्य की 61 दुकानें हैं। इनमें से 42 दुकानों को समय पर डीडी एवं घोषणापत्र जमा करने के अलावा आबंटन मात्रा अनुसार लैम्प्स में बारदाना जमा करने की नोटिस दी गई थी।

मिली जानकारी के अनुसार तालनार के अध्यक्ष ने डीडी एवं घोषणा पत्र हर माह समय से जमा नहीं किया। इस समूह ने बारदाना भी जमा नहीं किया। वहीं पिनकोण्डा समूह ने भी समय पर डीडी एवं घोषणा पत्र हर माह जमा नहीं किया। एसडीएम एआर राना ने 30 सितंबर को दो दुकानों के संचालकों पर कार्रवाई की। अध्यक्ष, सरस्वती महिला स्व सहायता समूह तालनार एवं अध्यक्ष, जय मां दुर्गा महिला स्व सहायता समूह पिनकोण्डा के संचालन की अनुमति को निलंबित कर दिया। कलेक्टर रितेश अग्रवाल ने सभी दुकानदारों को साफ निर्देश दिया है कि बारदाने की बिक्री पर प्रतिबंध रहेगा और यदि कोई बारदाना बेचेगा तो उसके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी।

01-10-2020
सभी एसडीएम प्राथमिक और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों का निरीक्षण कर देंगे साप्ताहिक रिपोर्ट : कलेक्टर

धमतरी। कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य ने गुरुवार को समय-सीमा की बैठक लेते हुए विभिन्न महत्वपूर्ण योजनाओं की प्रगति की समीक्षा की। कलेक्टर ने सभी अनुविभागीय अधिकारी राजस्व को प्राथमिक और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों का दौरा कर साफ-सफाई, दवाइयों की उपलब्धता, बैठक व्यवस्था इत्यादि का निरीक्षण कर हर सप्ताह रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा उन्हें खण्ड चिकित्सा अधिकारियों की बैठक लेने कहा है, ताकि संस्थागत प्रसव, नियमित टीकाकरण और चार बार गर्भवती की एएनसी जांच सुनिश्चित की जा सके। साथ ही निर्देशित किया कि वे हर 15 दिन में तहसील कोर्ट का निरीक्षण कर वहां सुचारू और गुणवत्तापूर्वक तरीके से प्रकरणों का निपटारा हो रहा, यह सुनिश्चित करेंगे।

बैठक में यह भी निर्देशित किया गया कि गिरदावरी शुद्ध हो इसके लिए दो अक्टूबर को आयोजित होने वाले ग्राम सभा में किसानों की सूची पटवारी जाकर वाचन करेंगे, जिससे कि किसानों के फसल और उसके खसरे की जानकारी को क्रॉस चेक करने में सुविधा हो और समय पर दावा-आपत्ति मंगाई जा सके। यह भी निर्देशित किया कि समर्थन मूल्य में खरीफ विपणन वर्ष 20-21 में धान खरीदी की तैयारी के लिए सभी एसडीएम क्षेत्र में बोरे की उपलब्धता की खाद्य निरीक्षक के साथ बैठक ले यह देखेंगे कि राइस मिलर्स से मिलने वाली बोरी और शासकीय उचित मूल्य दुकानों में उपलब्ध बोरी की समीक्षा हो सके। बताया गया कि मई से सितम्बर तक उचित मूल्य दुकानों से 8,93,706 के विरूद्ध 7,00,845 नग बोरी मिली है। इसके अलावा मिलर्स से अब तक 37,47,335 बोरी मिल चुकी है।

उन्होंने महिला एवं बाल विकास विभाग को निर्देशित किया कि ग्रामीण क्षेत्र के आंगनबाडियों में गरम पका भोजन खाने आने वाले बच्चों का आंकलन कर लें, अगर वह आंकड़ा 50 प्रतिशत से कम हो, तो अभिभावकों से सहमति ले लें। इस आधार पर उन आंगनबाड़ियों के बच्चों को सूखा राशन अगले एक माह के लिए दिया जाए। साथ ही कुपोषण मुक्ति की दिशा में सतत् प्रयास करने पर भी कलेक्टर ने बल दिया। बैठक में कलेक्टर ने प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की गारंटी अवधि की सड़कों को हर हाल में 15 नवंबर तक संधारित कराने के निर्देश दिए हैं। कार्यपालन अभियंता प्रधानमंत्री ग्राम सड़क को दिए हैं। इसके बाद एसडीएम उन सड़कों की गुणवत्ता की जांच करेंगे। अतः प्राथमिकता से सड़क सुधार के कार्य को करने पर कलेक्टर ने जोर दिया।

बैठक में कलेक्टर ने कोविड 19 से बचाव के लिए अनिवार्य रूप से मास्क लगाने, नियमित तौर पर हाथ को धोते रहने और कार्यालय को भी समय-समय पर साफ कराते रहने पर जोर दिया। उन्होंने निर्देशित किया कि सभी अधिकारी नियमित तौर पर शासकीय काम करेंगे, ताकि योजनाओं को मैदानी स्तर पर सही तरीके से क्रियान्वित करने में सहूलियत हो। बैठक में अन्य विषयों पर भी चर्चा की गई। इस मौके पर मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जिला पंचायत नम्रता गांधी, वनमण्डलाधिकारी अमिताभ बाजपेई, अपर कलेक्टर दिलीप अग्रवाल सहित जिला स्तरीय अन्य अधिकारी मौजूद रहे। साथ ही ब्लॉक स्तर के अधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बैठक से जुड़े रहे।

30-09-2020
आकाशीय बिजली गिरने से 14 मवेशियों की मौत

रायपुर/दंतेवाड़ा। जिले के कुआकोंडा विकासखण्ड के ग्राम माहरा हौरनार में आकाशीय बिजली गिरने से 14 मवेशियों की मौत हो गई है। बचेली एसडीएम प्रकाश भारद्वाज ने हादसे की पुष्टि की। उन्होंने कहा कि इसकी सूचना पर पशुपालन विभाग की टीम मौके के लिए रवाना हो गई है।  

प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्राम माहरा हौरनार में अचानक तेज बारिश बिजली की गरज के साथ हुई। इसी बारिश के बीच आकाशीय बिजली गिरने से 14 मवेशियों जिसमें 4 बैल 1 बछड़ा और 9 बकरियों की मौत हो गई। घटना की खबर बचेली एसडीएम प्रकाश भारद्वाज को लगते ही मौके पर पशुपालन विभाग की टीम रवाना कर दी गई। घटना में मृत सभी मवेशियों के मालिकों को मुवावजा देने के लिए विभाग प्रकरण तैयार कर रहा है।

29-09-2020
एसडीएम करेंगे मृतक बंदी की दंडाधिकारी जांच

रायपुर/सुकमा। कलेक्टर चन्दन कुमार ने अनुविभागीय अधिकारी सुकमा नभ एल ईस्माइल को विचारधीन बंदी कवासी भीमा की जिला अस्पताल में उपचार के दौरान 18 सितम्बर को हुई मृत्यु के संबंध में जांच अधिकारी नियुक्त किए हैं। इस घटना के संबंध में कोई भी व्यक्ति किसी तरह की लिखित या मौखिक जानकारी अनुविभागीय कार्यालय में 24 अक्टूबर तक स्वयं अथवा अधिवक्ता या पोस्ट के माध्यम से प्रस्तुत कर सकते हैं।

26-09-2020
अनुविभागीय अधिकारी और तहसीलदार पहुंचे आइसोलेशन सेंटर,चखा भोजन

गुंडरदेही। खलारी में कोरोना संक्रमितों के लिए आइसोलेशन सेंटर बनाया गया। यहां शनिवार को एसडीएम भूपेंद्र अग्रवाल और तहसीलदार अश्विन कुमार एवं उनकी टीम निरीक्षण के लिए पहुंची। यहां अधिकारियों ने सेंटर से 20 मीटर दूरी पर भोजन का स्वाद चखा। अधिकारियों ने संतुष्टि जाहिर करते हुए भोजन सप्लायर को गरम भोजन देने की निर्देशित किया। वहीं कोविड सेंटर से 500 मीटर दूरी पर खाद गोदाम के बोर मशीन से पाइप लाइन के माध्यम से मरीजों को शुद्ध साफ पानी समय पर उपलब्ध कराने की व्यवस्था के भी निर्देश दिए। वर्तमान में नगर पंचायत के टैंकर के माध्यम से पानी की व्यवस्था की जा रही है। एसडीएम ने कहा कि लॉक डाउन होने से पॉजिटिव मरीजों की संख्या में कमी आई है। उन्होंने कहा यदि सावधानी बरते तो निश्चित रूप से हम कोरोना से जीत सकते हैं।

शब्बीर रिजवी की रिपोर्ट

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804