GLIBS
05-11-2020
सांसद विजय बघेल को रायपुर एम्स में कराया गया भर्ती, आईसीयू में उपचार जारी

रायपुर। भाजपा सांसद विजय बघेल की तबियत अचानक खराब होने से गुरुवार को रायपुर एम्स में भर्ती किया गया है। सांसद विजय बघेल का इलाज आईसीयू वार्ड में जारी है। ब्लड सर्कुलेशन की नली में सूजन आने से तकलीफ अधिक बढ़ गई। सांसद बघेल को सेक्टर-9 से बेहतर इलाज के लिए रायपुर एम्स रेफर किया गया है। पिछले 4 दिनों से सेक्टर-9 अस्पताल में उनका इलाज जारी था। सांसद विजय बघेल की तबियत खराब होने की जानकारी मिलने पर रायपुर सांसद सुनील सोनी एम्स पहुंचे। उन्होंने डॉक्टरों से सांसद बघेल का हालचाल जाना और डॉक्टरों को बेहतर उपचार के निर्देश दिए। सांसद विजय बघेल ने सोशल मीडिया के माध्यम से अपने शुभचिंतकों को जानकारी दी है कि उनके स्वास्थ्य में निरंतर सुधार हो रहा है। चिंता करने की कोई बात नहीं है।

 

 

31-08-2020
बिलासपुर में कोविड-19 से पति-पत्नी और पुत्र की मौत

रायपुर/बिलासपुर। वैश्विक महामारी कोविड-19 का कहर टिकरापारा जला राम मंदिर के पीछे रहने वाले व्यवसायी के परिवार में टूटा है। शनिवार की सुबह बिलासपुर के निजी अस्पताल में पिता की मौत हो गई थी। परिवार के लोग पिता की मौत के सदमा में थे कि रात को संक्रमित मां व बेटे की रायपुर एम्स में मौत होने की खबर आ गई। एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत से टिकरापारा के लोग दहशत में है।

30-08-2020
Video: जिला अस्पताल में बड़ी लापरवाही,अमानवीयता का शिकार कोविड पीड़िता ने बाहर ही बच्चे को दिया जन्म

रायपुर। राजधानी के जिला अस्पताल कालीबाड़ी में बड़ी लापरवाही सामने आई है। देर रात अस्पताल पहुंची महिला अमानवीयता का शिकार हुई है। कोरोना संक्रमित होने के कारण महिला को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। घटना के वक्त मौजूद कोई भी मेडिकल स्टाफ मदद के लिए सामने नहीं आया, जबकि यहां गर्भवती महिला के केस में 24 घंटे व्यवस्था रखी गई है। मामले में साफ तौर लापरवाही देखते हुए,अस्पताल अधीक्षक डॉ.रवि तिवारी ने जांच के आदेश दिए हैं।बता दें कि घटना शनिवार रात करीब 2 बजे की बताई जा रही है। महिला व उसके परिजन जिला अस्पताल कालीबाड़ी पहुंचे थे। जांच में कोविड पॉजिटिव आने पर महिला को बाहर का बैठा दिया गया। दर्द से तड़पते हुए गर्भवती महिला अपनी सास के पास लेटी रही,लेकिन कोई मदद के लिए आगे नहीं आया। दो घंटे तक दर्द से तड़पने  के बाद करीब चार बजे महिला ने बच्चे को जन्म दिया। इसके बाद ही जैसे-तैसे पीड़िता को मदद मिली।


अस्पताल अधीक्षक डॉ. रवि तिवारी ने कहा है कि घटना का वीडियो देखने से साफ प्रतीत हो रही है कि लापरवाही हुई है। घटना के संबंध में जांच की जा रही है। लापरवाहों पर कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कहा कि अस्पताल में विशेषकर गर्भवती महिलाओं के लिए 24 घंटे मेडिकल व्यवस्था की गई है। ऐसा प्रकरण आने पर लेबर रूम की व्यवस्था है। उपस्थित मेडिकल टीम की जवाबदारी थी कि महिला को निगरानी में रखा जाता। प्राथमिक जांच व उपचार दिया जाना था। जबकि एक स्टाफ को हमेशा इमरजेंसी के लिए पीपीई कीट के साथ तैयार रहने कहा गया। ऐसे प्रकरण में पीड़िता को मेकाहारा या रायपुर एम्स भेजा जाता है। उन्होंने कहा है कि महिला को मेकाहारा में भर्ती किया गया है। जहां महिला निगरानी में है और अभी महिला और बच्चा दोनों स्वस्थ है।

 

 

21-08-2020
रायपुर एम्स में 23 अगस्त तक नहीं होगा कोरोना टेस्ट

रायपुर। छत्तीसगढ़ रोजाना कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं। इस बीच एम्स रायपुर ने 23 अगस्त तक कोरोना टेस्ट नहीं करने का निर्णय लिया है। एम्स की ओर से बताया गया कि विगत 6 महीने में 98556 लोगों की सैम्पलिंग अब तक की जा चुकी है,जिनमें 3776 पॉजिटिव केस 20 अगस्त तक सामने आए हैं। इसलिए प्रोटोकॉल के हिसाब से परिसर को सैनिटाइज किया जाना है। इस दौरान 21 से 23 अगस्त तक लैब बंद रहेगी। इसके बाद 24 अगस्त से टेस्ट फिर से शुरु हो जाएंगे।

बता दें कि प्रदेश में कोरोना अनियंत्रित रूप से बढ़ता जा रहा है। विगत दिनों 700 से अधिक मरीज प्रतिदिन मिल रहे हैं। वहीं प्रदेश में कोरोना से मौत का आंकड़ा भी 160 को पार कर चुका है। कोरोना मरीजों के बेहतर इलाज और सैम्पलिंग में एम्स रायपुर का महत्वपूर्ण योगदान है इसे ध्यान में रखते हुए यह तीन दिन काफी महत्वपूर्ण रहेंगे।

 

13-08-2020
 संसदीय सचिव विकास उपाध्याय ने किया एम्स का निरीक्षण, कहा- रायपुर एम्स देश में बेस्ट

रायपुर। एम्स रायपुर की तीसरी मंजिल से कूदकर जान देने की घटना सामने आने के बाद संसदीय सचिव विकास उपाध्याय ने अस्पताल का दौरा किया। अस्पताल का निरीक्षण करने के बाद विकास उपाध्याय ने कहा कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम में रायपुर एम्स देश में बेस्ट संस्थान है। उन्होंने कोरोना मरीजों के साथ पिछले कई महीनों से लगातार हो रही बातचीत और उनके उचित इलाज के संबंध में अपना अनुभव साझा करते हुए कहा कि आज भी लोगों में इस वायरस का पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद लोग उम्मीद से ज्यादा घबरा जा रहे हैं। यहाँ तक कि अच्छे अच्छे पड़े लिखे तंदुरुस्त लोगों में भी बेवजह घबराहट से तबियत ज्यादा बिगड़ रही है। लोगों में अभी भी जागरूकता की कमी है। एम्स में भी जिस मरीज ने आत्महत्या की सिर्फ इसी वजह से की, इसमें एम्स प्रबंधन की कोई चूक नजर नहीं आई। जबकि गौर करने वाली बात ये है कि इलाज के बाद लोग ठीक हुए हैं न कि उनकी मौत हुई है।

विकास ने कहा कि एम्स के निदेशक प्रो.(डॉ.) नितिन एम. नागरकर के नेतृत्व में कोरोना को लेकर जो काम रायपुर एम्स में किया जा रहा है वह पूरे देश में प्रथम स्थान पर है। एम्स से अब तक 1472 रोगी ठीक होने के बाद डिस्चार्ज हुए हैं। इसमें 163 की उम्र 60 या इससे अधिक की है,जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है। इसके अलावे 730 पुरुष रोगी, 472 महिलाएं और 270 बच्चे भी डिस्चार्ज हुए हैं। रायपुर एम्स अकेला ऐसा संस्थान है जहाँ अपने खुद के वीआरडी लैब में 94370 टेस्ट हो चुके हैं,जिनमें 2997 सैंपल पॉजीटिव पाए गए हैं और इन सब का इलाज भी यहीं हुआ है। विकास ने एम्स का निरीक्षण करने के बाद निदेशक नागरकर के कक्ष में तमाम चिकित्सकों के साथ बैठक कर एक एक बात की जानकारी ली। इसमें ये जानकारी भी मिली कि स्त्री रोग विभाग में अब तक 75 गर्भवती महिलाओं का कोविड-19 का इलाज किया गया है। इनमें पांच की आपरेशन के माध्यम से डिलीवरी और 4 की नार्मल डिलीवरी भी करवाई गई है। वर्तमान में 8 गर्भवती महिलाएं यहां उपचार प्राप्त कर रही हैं,यह भी सफलता का एक नया प्रतिमान है। बैठक के बाद विधायक ने कहा यहाँ जैसा काम पूरे देश में कहीं नही हो रहा है। डॉ. खुद मरीजों का मनोबल बढ़ाने, कोरोना के डर को दिमाग से हटाने कई तरकीब से मरीजों को मोटिवेट कर रहे हैं। उन्होंने भी ऐसे मरीजों से अपील की है कि कोरोना से बिल्कुल भी घबराने की जरूरत नहीं है और लोग इससे घबरा कर आत्महत्या जैसे कदम न उठाएं।

 

12-08-2020
Breaking : बुजुर्ग ने एम्स की तीसरी मंजिल से लगाई छलांग, शव को मरचुरी भेजा गया

रायपुर। राजधानी के एम्स अस्पताल से बड़ी खबर सामने आई है। बता दें कि कोरोना मरीज ने तीसरी मंजिल से छलांग लगाकर खुदकुशी कर ली। कोरोना के लक्षण नजर आने के बाद 65 वर्ष के बुजुर्ग को 7 अगस्त को एम्स में भर्ती कराया गया था। इससे पहले बुजुर्ग का मनोचिकित्सक के पास इलाज चल रहा था। फिलहाल बुजुर्ग का शव मरचुरी में रखा गया है।

05-08-2020
भिलाई विधायक व महापौर देवेंद्र यादव को रायपुर एम्स शिफ्ट किया गया

भिलाई। भिलाई विधायक व महापौर देवेंद्र यादव को 2 अगस्त को कोरोनावायरस का संक्रमण हुआ था। वहीं बुधवार देर शाम उन्हें रायपुर शिफ्ट किया गया। गौरतलब है कि 2 अगस्त को कोविड-19 का टेस्ट पॉजिटिव आने के बाद यादव ने इसकी जानकारी खुद अपने ट्विटर अकाउंट पर दी थी और होम आइसोलेशन की बात कही थी। घर पर उनका उपचार चल रहा था। लेकिन उनकी सेहत के मद्देनजर बुधवार को उन्हें रायपुर एम्स शिफ्ट किया गया। बता दें कि देवेंद्र यादव पिछले कुछ दिनों से हम आइसोलेशन पर थे और उन्हें जल्द स्वस्थ लाभ हो सके इसके लिए रायपुर एम्स रिफर किया गया। ताकि कि वह जल्द से जल्द स्वास्थ्य लाभ लेकर दोबारा सक्रिय सेवा के कार्यों में लग सके।

 

15-06-2020
Breaking: छत्तीसगढ़ में 44 नए कोरोना पॉजिटिव मिले, एक पॉजिटिव की मौत

रायपुर। प्रदेश में सोमवार को 44 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं। वहीं 116 मरीज डिस्चार्ज हुए हैं। सोमवार को धमतरी के एक पॉजिटिव मरीज की रायपुर एम्स में इलाज के दौरान मौत हुई है। वह किडनी की बीमारी से पीड़ित होने के कारण डायलिसिस पर था। स्वास्थ्य विभाग ने इसकी पुष्टि की है। बताया गया कि 44 नए कोरोना पॉजिटिव में कोरबा से 16, बिलासपुर और रायपुर से 7-7, मुंगेली से 4, बलौदाबाजार से 3, बलरामपुर, दुर्ग और कोंडागांव से 2-2, कोरिया से 1 मरीज मिला है। वहीं रायपुर की निजी लैब से एक प्रकरण की पहचान हुई है। प्रदेश में अब 875 एक्टिव केस हैं। वहीं पॉजिटिव केस का आंकड़ा 1715 पहुंच गया है। मेडिकल बुलेटिन देखने के लिए यहां क्लिक करें...  

14-06-2020
आरंग क्षेत्र के 6 कोरोना मरीजों में से 4 की रिपोर्ट आई निगेटिव

आरंग। पिछले दिनों आरंग में 4 साल के बच्चे सहित क्षेत्र के ग्राम कोड़ापार और फरफौद 6 लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इन्हें प्रशासन और स्वास्थ्य अमले ने रायपुर एम्स और कोरोना अस्पताल रिफर किया था। प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार 4 साल के बच्चे के अलावा कोड़ापार के 3 ग्रामीणों का इलाज के बाद रिपोर्ट निगेटिव आई है। इसके अलावा स्वास्थ्य अमले ने बच्चे के 17 परिजनों के भी सेम्पल टेस्ट के लिए भेजा था। इसमें सभी की रिपोर्ट नेगेटिव आई हैं। इनके अलावा ग्राम फरफौद के दो मरीजों का इलाज चल रहा है। प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार एतिहाद के लिए बच्चे के डिस्चार्ज होने के बाद कंटेन्मेंट ज़ोन की मियाद 14 दिन और बढ़ा दी जाएगी। बच्चे के परिजन अभी होम क्वारेंटाइन में हैं।

08-06-2020
Breaking: प्रदेश में 53 कोरोना पॉजिटिव मरीज की पहचान, एम्स ने की पुष्टि

रायपुर। छत्तीसगढ़ में सोमवार को 53 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं। रायपुर एम्स ने ट्वीट कर इसकी पुष्टि की है। एम्स ने ट्वीट कर बताया कि सोमवार रात 8 बजे तक एम्स के वीआरडी लैब में किए गए परीक्षणों के दौरान 53 नमूने पॉजिटिव मिले हैं।  इसमें रायपुर से 9, कोरबा से 14, कबीरधाम से 6, जांजगीर चांपा से 4, शहडोल से 1, रायगढ़ से 1, बलौदाबाजार 13 और राजनांदगांव से 5 सैम्पल पॉजिटिव मिले हैं।

 

07-06-2020
आरंग में बच्चा मिला कोरोना पॉजिटिव, क्षेत्र को किया गया सैनिटाइज

आरंग। राजधानी से लगे आरंग में 4 साल के बच्चेे के अलावा विकासखंड के ग्राम कोडापार में क्वारेंटाइन में रह रहे मजदूर कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इन लोगों के कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद स्वास्थ्य और प्रशासनिक अमले ने संबंधित क्षेत्र सैनिटाइजेशन का कार्य शुरू कर दिया है। मिली जानकारी के अनुसार आरंग के एक क्षेत्र में रहने वाला 4 साल के बच्चे की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई। मिली जानकारी के अनुसार उक्त बच्चे का रायपुर एम्स में टीबी का इलाज चल रहा था,जो कुछ दिनों पहले डिस्चार्ज होकर अपने घर आरंग आया था। मामले की जानकारी मिलते ही स्वास्थ्य और प्रशासनिक महकमा बच्चे को इलाज के लिए एम्स भेज दिया है और उसके निवास के अलावा क्षेत्र में सैनिटाइज कर आइसोलेशन की कार्यवाही कर रहा है। वही ग्राम कोड़ापार के क्वारेंटाइन सेंटर में कोरोना पॉज़िटिव मजदूरों को एम्स रिफर कर सेंटर को सैनिटाइज किया जा रहा है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804