GLIBS
11-08-2021
मंदिर से आभूषण और पूजा का सामान चोरी करने वाले दो शातिर चोर गिरफ्तार

जगदलपुर। मंदिर से हजारों रुपयों के आभूषण और पूजा का सामान चोरी करने वाले दो शातिर चोरों को पुलिस ने बुधवार को गिरफ्तार किया है। मामला परपा थाना क्षेत्र का है। परपा टीआई बीआर नाग ने बताया कि बीते दिनों प्रार्थी ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि ग्राम राजुर में स्थित सुंदरा दई माता मंदिर से किसी अज्ञात चोर ने माता के आभूषण और पूजा का सामान चोरी कर लिया है। इसकी कीमत लगभग 40 हजार रुपए बताई जा रही है। रिपोर्ट दर्ज होने के बाद पुलिस आरोपी की तलाश कर रही थी। इस दौरान पुलिस कुछ संदेहियों को पकड़कर उनसे पूछताछ की थी। इसी बीच मुखबिर से सूचना मिलने के बाद पुलिस ने एर्राकोट निवासी बंशीराम कश्यप (50) को पकड़ लिया। इसके बाद पुलिस ने उससे पूछताछ की। पूछताछ में आरोपी बंशीराम ने अपने एक साथी के साथ मिलकर मंदिर में चोरी करना स्वीकार किया। पुलिस ने आरोपी के साथी रामचन्द्र (24) निवासी नयामुण्डा को भी गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने आरोपियों के पास से मंदिर से चोरी किए हुए आभूषण और पूजा का सामान बरामद कर लिया है। पुलिस ने दोनों आरोपियों को न्यायिक हिरासत में भेजा है।

 

09-08-2021
सावन का तीसरा सोमवार आज, करें शिव की आराधना

रायपुर। आज सावन का तीसरा सोमवार है। सावन के महीने में सोमवार का विशेष महत्व बताया गया है। मान्यता है कि सावन का महीना भगवान शिव को समर्पित है। पौराणिक कथाओं के अनुसार सावन मास भगवान शिव का प्रिय मास है। 

सावन सोमवार महत्व :
श्रावण मास भगवान शिव को अत्यंत प्रिय है। इस माह में प्रत्येक सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा करने से व्यक्ति को समस्त सुखों की प्राप्ति होती है। श्रावण मास के विषय में प्रसिद्ध एक पौराणिक मान्यता के अनुसार श्रावण मास के सोमवार व्रत, जो व्यक्ति करता है उसकी सभी इछाएं पूर्ण होती है।

17-07-2021
मां दुर्गा की विधि विधान से पूजा करने का दिन मासिक दुर्गाष्टमी आज भक़्तों पर प्रसन्न हो शत्रु पर विजय दिलाती है मां

रायपुर। हर माह शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि के दौरान मासिक दुर्गा अष्टमी का उपवास किया जाता है। इस मां दुर्गा की विधि-विधान से पूजा करते है। इससे मां दुर्गा भक्तों पर प्रसन्न होकर उन्हें सभी प्रकार के कष्टों से मुक्ति दिलाती है। उनको शत्रुओं पर विजय दिलाती है। मान्यता है कि सच्चे मन से मां दुर्गा की आराधना करने वालों पर वे अपनी कृपा बरसाती है। 
दुर्गाष्टमी व्रत का महत्त्व :

धार्मिक मान्यता है कि मां दुर्गा की सच्चे मन से विधि पूर्वक उपासना करने से मां की कृपा बरसती है। उनकी कृपा से घर में सुख समृद्धि और खुशहाली आती है।  धन का आगमन अनवरत बना रहता है।  मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है।

13-07-2021
विघ्नहर्ता गणेश जी की पूजा का विशेष विनायक चतुर्थी आज, बनते हैं बिगड़े काम, होती है बाधाएं दूर

रायपुर। हिंदू पंचांग में आषाढ़ माह की विनायक चतुर्थी मंगलवार को है। विनायक चतुर्थी के पावन दिन पर व्रत रखते हैं और विघ्नहर्ता श्री गणेश जी की विधिपूर्वक पूजा करते हैं। विघ्नहर्ता भगवान गणेश भक्तों के जीवन से सभी बाधाओं को दूर करते हैं। साथ ही लोगों की मनोकामनाएं पूरी करते हैं। धार्मिक मान्यता के अनुसार भगवान गणेशी जी की पूजा का विनायक चतुर्थी के दिन विशेष महत्व होता है। मान्यता है कि इस दिन गणपति की पूजा करने से सभी बिगड़े कार्य बन जाते हैं। साथ ही हर तरह की बाधाएं भी समाप्त हो जाती हैं। इस वजह से इन्हें विघ्नहर्ता के नाम से भी जाना जाता है। क्योंकि भगवान गणेश अपने भक्तों के सारे विघ्नों को तत्काल ही हर देते हैं।

09-07-2021
दर्श अमावस्या आज, चंद्रमा की पूजा करने से चंद्र देवता बरसाते हैं अपनी कृपा 

रायपुर। हिंदू धर्म में दर्श अमावस्या का खास महत्व है। इस दिन चांद छुप जाता है। इस दिन पूर्वजों की पूजा करना काफी शुभ माना जाता है। इस दिन कुछ लोग व्रत भी रखते हैं। ऐसे में इस बार दर्श अमावस्या 9 जुलाई को है। 

दर्श अमावस्या महत्व :
दर्श अमावस्या के खास दिन का व्रत रखने और चंद्रमा की पूजा करने से चंद्र देवता अपनी कृपा बरसाते हैं और सौभाग्य व समृद्धि का आर्शीवाद देते है। चंद्र देव भावनाओं और दिव्य अनुग्रह के स्वामी है। इसे श्राद्ध की अमावस्या भी कहते हैं। क्योंकि इस दिन अपने पूर्वजों को याद किया जाता है और उनके लिए प्रार्थना की जाती है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पूर्वज धरती पर आकर अपने परिवार को आर्शीवाद देते हैं।

23-06-2021
राजेन्द्रनगर-दुर्ग के मध्य स्पेशल ट्रेन की सुविधा बढ़ी, अब 2 सितंबर तक दौड़ेगी पटरी पर

रायपुर। रेलवे प्रशासन ने राजेन्द्रनगर-दुर्ग-राजेन्द्रनगर के मध्य 2 जुलाई तक चल रही स्पेशल ट्रेन की सुविधा आगे बढ़ा दी है। इस ट्रेन का 2 सितंबर तक विस्तार किया जा रहा है। अब गाड़ी संख्या 03288 राजेन्द्रनगर-दुर्ग  स्पेशल ट्रेन 31 अगस्त तक चलेगी। इसी तरह विपरीत दिशा में गाड़ी संख्या 03287 दुर्ग-राजेन्द्रनगर पूजा स्पेशल ट्रेन 2 सितंबर तक चलेगी।

26-05-2021
राज्यपाल ने मां गायत्री की पूजा कर देश और प्रदेश को कोरोना संक्रमण से मुक्त करने की कामना

रायपुर। राज्यपाल अनुसुईया उइके ने बुधवार को मां गायत्री की पूजा कर देश और प्रदेश को कोरोना संक्रमण से मुक्त करने की कामना की। राज्यपाल अखिल विश्व गायत्री परिवार शांति कुंज हरिद्वार के तत्वावधान में राजभवन में देश एवं प्रदेश से कोरोना संक्रमण से मुक्ति के लिए हुए गायत्री यज्ञ में शामिल हुईं। राज्यपाल ने देश एवं प्रदेश को कोरोना संक्रमण से मुक्त करने, पर्यावरण संवर्धन एवं प्रदेशवासियों के अच्छे स्वास्थ्य की कामना की। संस्था के छत्तीसगढ़ जोन समन्वयक दिलीप पाणिग्रही ने बताया कि पूरे विश्व, देश एवं प्रदेश में आई कोरोना संक्रमण से मुक्ति के लिए और लोक मंगल की कामना से पूरे विश्व के घरों में गायत्री यज्ञ और उपासना की गई। पूरे विश्व में करीब 2 करोड़ से अधिक, छत्तीसगढ में करीब 2 लाख और रायपुर में करीब 40 हजार घरों में आमजनों की ओर से गायत्री यज्ञ किया गया। इसका उद्देश्य कोरोना के वैश्विक संकट से मुक्ति, कोरोना से दिवंगत आत्माओं की शांति व सद्गति, कोरोना से अस्वस्थ परिजनों के स्वस्थ के लिए एवं घर परिवार का वातावरण परिशोधन है। इस दौरान लच्छूराम निषाद, जिला समन्वयक रायपुर एवं डीआर यादव, जोन कार्यालय रायपुर उपस्थित थे।

17-04-2021
आज नवरात्रि का पांचवां दिन, मां स्कंदमाता की होगी पूजा, जानें विधि, शुभ मुहूर्त, आरती और भोग

रायपुर। नवरात्रि में नौ दिनों तक मां के नौ रूपों की पूजा-अर्चना की जाती है। शनिवार को नवरात्रि का पांचवां दिन है। नवरात्रि के पांचवे दिन मां के पंचम स्वरूप माता स्कंदमाता की पूजा-अर्चना की जाती है। आइए जानते हैं माता स्कंदमाता की पूजा विधि, शुभ मुहूर्त, आरती और भोग।

स्कंदमाता पूजा विधि : सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि से निवृत्त होने के बाद साफ- स्वच्छ वस्त्र धारण करें।
मां की प्रतिमा को गंगाजल से स्नान कराएं। 
स्नान कराने के बाद पुष्प अर्पित करें।
मां को रोली कुमकुम भी लगाएं। 
मां को मिष्ठान और पांच प्रकार के फलों का भोग लगाएं।
मां स्कंदमाता का अधिक से अधिक ध्यान करें।
मां की आरती अवश्य करें।

इस मंत्र का जप करें
सिंहासनगता नित्यं पद्माश्रितकरद्वया।
शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्विनी।।
नवरात्रि के पांचवे दिन की पूजा का महत्व : मां स्कंदमाता की पूजा- अर्चना करने से ज्ञान में वृद्धि होती है।
स्वास्थ्य संबंधित परेशानियों से भी छुटकारा मिल सकता है।
आत्मविश्वास में वृद्धि होती है।
मां स्कंदमाता जीवन में आने वाले संकटों को भी दूर करती हैं। 
स्कंदमाता का मंत्र : या देवी सर्वभूतेषु माँ स्कंदमाता रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

स्कंदमाता की आरती
जय तेरी हो स्कंद माता, पांचवा नाम तुम्हारा आता.
सब के मन की जानन हारी, जग जननी सब की महतारी.
तेरी ज्योत जलाता रहूं मैं, हरदम तुम्हे ध्याता रहूं मैं.
कई नामो से तुझे पुकारा, मुझे एक है तेरा सहारा.
कहीं पहाड़ों पर है डेरा, कई शहरों में तेरा बसेरा.
हर मंदिर में तेरे नजारे गुण गाये, तेरे भगत प्यारे भगति.
अपनी मुझे दिला दो शक्ति, मेरी बिगड़ी बना दो.
इन्दर आदी देवता मिल सारे, करे पुकार तुम्हारे द्वारे.
दुष्ट दत्य जब चढ़ कर आये, तुम ही खंडा हाथ उठाये
दासो को सदा बचाने आई, चमन की आस पुजाने आई।
मुहूर्त : तिथि -पंचमी
नक्षत्र -मृगशिरा
योग -शोभन
करण-बव
लग्न -मेष
शुभ समय- प्रात: 7:35 से 9:11, दोपहर 1:57 से शाम को 5:08 बजे तक
राहुकाल- प्रात: 9:00 से 10:30 तक
दिशा शूल-पूर्व
योगिनी वास-दक्षिण
गुरु तारा-उदित
शुक्र तारा-अस्त 
चंद्र स्थिति-मिथुन ।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804