GLIBS
16-04-2021
कलेक्टर ने कोरोना उपचार के संबंध में शिकायतों के निराकरण के लिए किया प्रभारी अधिकारी नियुक्त

जगदलपुर। कोविड-19 के संक्रमण के मरीजों की संख्या में लगातार वृद्धि होने के कारण गंभीर मरीज उपचार के लिए जिले में स्थित निजी एवं शासकीय चिकित्सालयों में भर्ती हो रहे हैं। अस्पताल के संबंध में मरीजों के परिजनों से लगातार शिकायतें प्राप्त हो रही है। कलेक्टर रजत बंसल ने अस्पताल से संबधित सभी विभागों के बीच आपसी समन्वय स्थापित कराने एवं मरीजों के परिजनों के शिकायतों का निराकरण कराये जाने के लिए कोविड अस्पतालों में प्रभारी अधिकारी की नियुक्ति की है। एमपीएम अस्पताल के लिए प्रभारी अधिकारी नायब तहसीलदार मधुकर सिरमौर के मोबाइल नम्बर 7000374723 और डिमरापाल चिकित्सालय महाविद्यालय के लिए प्रभारी अधिकारी तोकापाल तहसीलदार राहुल कुमार गुप्ता के  मोबाइल नम्बर 6263550976 में चिकित्सा व्यवस्था के संबंध में शिकायत दर्ज की जा सकती है।

 

19-03-2021
मर्दापाल में खुला उप तहसील कार्यालय, राजस्व प्रकरणों के निराकरण में आएगी तेजी

रायपुर। प्रदेश में लोगों की सुविधा के लिए राजस्व प्रशासन को सहज और सुलभ बनाया जा रहा है। लोगों के राजस्व संबंधी काम उनके निवास के नजदीक ही हो जाए, इसके लिए राजस्व प्रशासन की नई ईकाइयां प्रारंभ की जा रही है। इसी कड़ी में कोंडागांव जिले के मर्दापाल में उपतहसील का शुभारंभ नारायणपुर के विधायक एवं छत्तीसगढ़ हस्तशिल्प विकास बोर्ड के अध्यक्ष चंदन कश्यप ने किया। उल्लेखनीय है कि 51 हजार से अधिक जनसंख्या वाले इस नवीन उपतहसील में 45 ग्राम पंचायत एवं दो राजस्व निरीक्षक मंडल गोलावंड व मर्दापाल सम्मिलित होगें।

इनके अंतर्गत 19 हल्के एवं 78 आश्रित ग्राम भी शामिल होंगे। तहसील शुभारंभ के दौरान पर चंदन कश्यप ने कहा कि मदार्पाल एवं आस-पास के गांव कई वर्षों से पहाड़ी-जंगल एवं संवेदनशील क्षेत्र होने के कारण विकास की धीमी गति से जूझते रहे हैं। क्षेत्र के ग्रामीणों को अपने छोटे-छोटे कार्यों के लिए जिला मुख्यालय तक बार-बार आना पड़ता था। इससे उन्हें दिक्कतों का सामना करना पड़ता था। मर्दापाल में उपतहसील कार्यालय स्थापित होने से अब ग्रामीणों के आय, जाति, निवास आदि प्रमाण पत्र एवं नामांतरण, बटवारा, सीमांकन के कार्य उप तहसील के माध्यम से ही पूर्ण हो जाएंगे। उन्हें इसके लिए मुख्यालय पर जाने की आवश्यकता नहीं होगी। मर्दापाल का विकास अधिक तीव्र गति से हो सकेगा। इस दौरान जिला पंचायत के अध्यक्ष देवचंद मातलाम, कलेक्टर पुष्पेन्द्र मीणा, जनपद अध्यक्ष शिवलाल मंडावी सहित जिले के अन्य जनप्रतिनिधि एवं अधिकारी उपस्थित थे।

18-03-2021
ग्रामीणों की समस्याओं के निराकरण के लिए जिला पंचायत भवन में लगाई गई शिकायत पेटी

कोंडागांव।  विगत दिनों मनरेगा अंतर्गत किए जा रहे कार्यों से प्राप्त शिकायतों की संख्या को देखते हुए कलेक्टर पुष्पेंद्र कुमार मीणा ने कार्यो में पारदर्शिता एवं शिकायत निवारण प्रणाली को सुदृढ बनाने के लिए  मनरेगा के लिए शिकायत पेटी की स्थापना के लिए निर्देश दिये थे। इस पर अमल करते हुए जिला पंचायत भवन के मुख्य द्वार के सामने शिकायत पेटी की स्थापना की गई है। ग्रामीण अपनी किसी भी समस्या के संबंध में इस शिकायत पेटी में अपनी समस्याओं को लिखकर इस पेटी में डाल सकते हैं। इसके लिए शिकायतकर्ता को किसी भी विशिष्ट प्रपत्र की आवश्यकता नहीं होगी। केवल सादे कागज पर लिखकर अपना आवेदन शिकायत पेटी में अन्य आवश्यक दस्तावेजों के साथ में डाल सकते हैं। इस शिकायत पेटी से रोजाना शिकायतों को निकाल कर उसे तुरंत निपटान के लिए मनरेगा शाखा में भेजा जायेगा। इस पेटी के स्थापना से बढ़ते कोविड-19 के प्रकरणों के समय में भीड़ नियंत्रण के लिये भी सहायता प्राप्त होगी। वर्तमान वित्तीय वर्ष 2020-21 मे मनरेगा शाखा में अब तक कुल 62 शिकायत प्राप्त हुई हैं। इसमें से 45 निराकृत एवं 17 जांच के लिए प्रक्रियाधीन है।
इस संबंध में जिला पंचायत सीईओ देवनारायण कश्यप ने बताया कि शिकायत पेटी के लगने से मनरेगा में मिल रही शिकायतों का जल्द समाधान प्राप्त होगा तथा आवेदनकर्ता को अपने आवेदन को जमा करने के लिए बार-बार कार्यालय के चक्कर नहीं लगाने होंगे। एक बार शिकायत प्राप्त होने के पश्चात विभाग द्वारा जल्द से जल्द उसका निवारण किया जाएगा।

17-03-2021
नवनियुक्त राज्य सूचना आयुक्तों ने शुरू की सुनवाई,5 प्रकरणों का किया निराकरण 

रायपुर। नवनियुक्त राज्य सूचना आयुक्त मनोज कुमार त्रिवेदी और धनवेन्द्र जायसवाल ने बुधवार से आयोग में द्वितीय अपील  के प्रकरणों की सुनवाई प्रारंभ की है। राज्य सूचना आयुक्त मनोज कुमार त्रिवेदी सरगुजा, राजनांदगांव, दुर्ग, कबीरधाम, कोरबा, दंतेवाड़ा, कोंडागांव और सुकमा  जिले के द्वितीय अपील और शिकायत प्रकरणों की सुनवाई वीडियो कांफ्रेंसिग के माध्यम से की। इसी प्रकार राज्य सूचना आयुक्त धनवेन्द्र जायसवाल ने राज्य सूचना आयोग में रायगढ़ जिले से संबंधित द्वितीय अपील और शिकायत प्रकरणों की सुनवाई वीडियो कांफ्रेंसिग के माध्यम से की। जायसवाल ने पांच प्रकरणों को निराकृत किया। राज्य सूचना आयुक्त एके अग्रवाल छत्तीसगढ़ राज्य सूचना आयोग के विरूद्ध द्वितीय अपील और शिकायत प्रकरणों की सुनवाई वीडियो कांफ्रेंसिग के माध्यम से की । केवल रायपुर जिले और मंत्रालय, संचालनालय के जनसूचना अधिकारी और प्रथम अपीलीय अधिकारी  प्रकरणों की सुनवाई व जवाब प्रस्तुत करने आयोग कार्यालय में उपस्थित हो सकते हैं।

10-03-2021
मतदाता सूची में 681 लोगों ने की दावा-आपत्ति, 13 मार्च तक किया जाएगा निराकरण

भिलाई। नगर पालिक निगम भिलाई के सभी 70 वार्डों में मतदाता सूची का प्रकाशन किया जा चुका है। प्रकाशन तिथि 1 मार्च से लेकर 9 मार्च तक दावा-आपत्ति के लिए अंतिम तिथि निर्धारित की गई थी। इस अवधि के भीतर 681 लोगों ने दावा आपत्ति किया है। निकाय की मतदाता सूची में नाम नहीं होने पर नाम जुड़वाने के लिए 519, नाम, पता, फोटो इत्यादि के संशोधन के लिए 100 एवं नाम विलोपित कराने के लिए 62 लोगों ने दावा-आपत्ति की है। दावा-आपत्ति का निराकरण 13 मार्च तक किया जाएगा। दावा-आपत्ति के निराकरण आदेश के विरुद्ध अपील के लिए निराकरण आदेश पारित होने के 5 दिवस के भीतर किया जा सकता है। यह प्रक्रिया पूर्ण होने के पश्चात 20 मार्च तक परिवर्धन, संशोधन एवं विलोपन सूची को सॉफ्टवेयर में एंट्री किया जाएगा। इसी दिन चेक लिस्ट तैयार कर निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारी द्वारा जांच करने तथा पीडीएफ के लिए जिला निर्वाचन को सौंपने का कार्य किया जाएगा। 24 मार्च तक अनुपूरक सूची का मुद्रण कराना और अनुपूरक सूची को मूल सूची के साथ संलग्न करने का कार्य किया जाएगा। सारी प्रक्रिया पूर्ण करने के बाद निर्वाचक नामावली का अंतिम प्रकाशन 26 मार्च को किया जाएगा।

 

08-03-2021
निगम कार्यालय में जनदर्शन में किया गया समस्याओं का निराकरण

भिलाई। समस्याओं के निराकरण करने के लिए हर सोमवार को निगम के सभी जोन कार्यालयों में तथा प्रथम एवं अंतिम शनिवार को मुख्य कार्यालय में जनदर्शन आयोजित किए जा रहे हैं। यहां प्राप्त होने वाले आवेदनों का शीघ्रता से निराकरण किया जा रहा है। जोन कार्यालय में सुबह 11 से 1.30 बजे तक आयोजित होने वाले जनदर्शन में लोगों की समस्याएं सुनने जोन आयुक्त सहित जोन के सभी अधिकारी व कार्यपालन अभियंता उपस्थित रहते हैं। इस दौरान निगम क्षेत्र के कोई भी व्यक्ति अपनी समस्याओं के निराकरण के लिए आवेदन दे सकते हैं। आज जनदर्शन में मुख्यतः संधारण, बिजली, सड़क व नाली का संधारण, पेयजल, जल निकासी, तालाब किनारे सफाई, राशनकार्ड बनवाने, नाली निर्माण, नाली संधारण, बोर खनन, पानी टैंकर, नल कनेक्शन करने, बोरिंग सफाई, नाली सफाई, सड़क निर्माण एवं सड़क संधारण जैसी समस्याओं से संबंधित आवेदन प्राप्त हुए।

 

06-03-2021
जिला स्तरीय जनचौपाल शिविर में 179 आवेदनों का किया गया निराकरण

धमतरी। आदिवासी बाहुल्य नगरी विकासखंड के वनांचल घठुला में शनिवार को पहला जिला स्तरीय जनचौपाल शिविर आयोजित किया गया। विकासखंड मुख्यालय नगरी से लगभग 14 किलोमीटर दूर इस गांव में आयोजित शिविर में आस-पास के 14 पंचायतों के लोगों ने विभिन्न मांग और समस्याओं सम्बन्धी आवेदन पंचायत सचिव के जरिए प्रस्तुत किए थे। घठुला शासकीय हाईस्कूल परिसर में हुए शिविर में पूर्व में मिले आवेदनों के निराकरण की स्थिति से विभाग प्रमुखों ने वहां उपस्थित ग्रामीणों को अवगत कराया। गौरतलब है कि जिला प्रशासन की पहल पर ब्लॉक स्तर पर जनचौपाल शिविर माह के सभी कार्य दिवस वाले शनिवार में आयोजित किए जा रहे हैं, जिससे कि ग्रामीण बेवजह अपनी समस्याओं और मांग को लेकर परेशान नहीं हो। इसी कड़ी में जिला स्तरीय जनचौपाल शिविर आयोजित करने का निर्णय कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य ने लिया और घठुला में आज पहला जिला स्तरीय शिविर आयोजित किया गया।
बताया गया कि आज के शिविर में मिले 185 आवेदनों को 16 से 26 फरवरी तक गांवों में मुनादी कर लिया गया था। शिविर स्थल में बताया गया कि 179 आवेदनों का निराकरण विभागों द्वारा किया गया। सर्वाधिक 139 आवेदन जनपद पंचायत नगरी को मिले, जिसमें से 137 आवेदनों का निराकरण किया गया।

इसी तरह विद्युत विभाग को मिले आठ आवेदनों में से पांच और जल संसाधन विभाग को मिले चार आवेदनों में से तीन आवेदनों का निराकरण किया गया। इसके अलावा खाद्य विभाग को 16, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग को पांच, राजस्व को चार, कृषि को तीन, क्रेडा और शिक्षा विभाग को दो-दो तथा महिला एवं बाल विकास विभाग और अंत्यावसायी को एक-एक आवेदन मिले, जिनका शत्-प्रतिशत निराकरण कर लिया गया। कलेक्टर ने शिविर में मिले आवेदनों की जानकारी लेते हुए लंबित आवेदनों को 15 दिनों में निराकृत करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मिले आवेदनों को गंभीरता से निराकृत करने का प्रयास है। कलेक्टर ने मौके पर शिविर के स्वरूप से ग्रामीणों को रु-ब-रू कराया। उन्होंने बताया कि आवेदन जनचौपाल शिविर लगने के 15 दिन पहले पंचायतो के क्लस्टर बनाकर लिए जा रहे हैं। मिले आवेदनों की मौके पर समीक्षा करते हुए उन्होंने निर्देश दिए कि एक माह के भीतर खाद्य विभाग सुनिश्चित करे कि उनके राशन कार्ड संबधी सभी आवेदनों का निराकरण कर लिया जाए।

पेंशन प्रकरण मामले में कलेक्टर ने कड़े शब्दों में निर्देशित किया कि नगरी क्षेत्र के ऐसे पात्र लोगों को एक माह में अभियान चलाकर पेंशन स्वीकृत करना सुनिश्चित किया जाए।
कलेक्टर ने जनचौपाल शिविर में उपस्थित घठुला क्लस्टर के सरपंचों से भी चर्चा कर उनके क्षेत्र की मांग और समस्याओं की जानकारी ली। इसमें कोविड टीकाकरण, स्वास्थ्य, विद्युत, पेयजल, शिक्षा, आंगनबाड़ी, पेंशन, मनरेगा इत्यादि योजनाओं की जानकारी शामिल है। आज के घठुला शिविर में जिन पंचायतों के क्लस्टर से आवेदन लिए गए, उनमें बिरनासिल्ली, बोरई, फरसगांव, घठुला, लखनपुरी, लटियारा, गिधावा, लिखमा, पोड़ागांव, रतावा, पाईकभाठा, मैनपुर, घुटकेल, पांवद्वार सम्मिलित है। इस मौके पर मंच से जिला पंचायत सदस्य मनोज साक्षी ने जनचौपाल शिविर को कलेक्टर मौर्य के नेतृत्व में अच्छी पहल माना, क्योंकि इससे ग्रामीणों को अपनी मांग, समस्या रखने का एक और मंच मिला है। जनपद उपाध्यक्ष हुमित लिम्जा ने सभी ग्रामीणों को बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने प्रेरित किया, क्योंकि प्रशासन उनके द्वार तक पहुंच रहा है। जनपद सदस्य उमेश देव, कविता पवार ने भी मंच से ग्रामीणों को संबोधित किया। इस मौके पर सरपंच घठुला राजू सोम ने शिविर में उपस्थित सबका आभार प्रकट किया। इस अवसर पर मंच में जनपद सदस्य राजिम साहू, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी मयंक चतुर्वेदी एवं अन्य गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे। जिला स्तरीय जनचौपाल शिविर में अधिकारियों ने ना केवल आवेदन के निराकरण की स्थिति से अवगत कराया, बल्कि विभागीय योजनाओं की जानकारी भी उपस्थित ग्रामीणों को दी। जहां स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना टीकाकरण के लिए अपील की, वहीं कृषि विभाग ने जैविक खेती, वर्मी का उपयोग, धान के रकबे को कम कर अन्य फसल लेने प्रेरित किया। साथ ही दस मार्च से 25 मार्च तक आयोजित किए जाने वाले कृषक चौपालों की जानकारी दी, जिसके जरिए आगामी खरीफ सीजन में फसल चक्र परिवर्तन, वर्मी खाद को बढ़ावा देने किसानों को प्रोत्साहित किया जाएगा। शिविर में अन्य अधिकारियों ने  भी विभागीय योजनाओं की जानकारी दी, जहां बड़ी संख्या में ग्रामीण  उपस्थित रहकर शिविर का लाभ उठाए।

04-03-2021
कलेक्टर हुए जन समस्याओं से रूबरू,निगम मुख्यालय में निराकरण के दिए निर्देश

भिलाई। कलेक्टर एवं नगर पालिक निगम भिलाई के प्रशासक डॉ.सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे गुरुवार को निगम मुख्यालय पहुंचे। प्रशासक कक्ष में पहले उन्होंने निर्माण एवं विकास कार्यों को लेकर जोन आयुक्त के कार्यों की समीक्षा की। इस दौरान निगम आयुक्त ऋतुराज रघुवंशी उपस्थित रहे। प्रशासक ने जोन आयुक्तों को निर्देशित किया कि जनता की मूलभूत समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर निराकरण किया जाए। पानी, बिजली, सफाई इत्यादि विषयों को लेकर अधिकारी अपने-अपने क्षेत्रों का भ्रमण कर समस्याओं का निदान करें। वही अपनी समस्याओं और शिकायतों को लेकर आने वाले लोगों से प्रशासक उनकी समस्याओं से अवगत हुए। आवेदक रमेश यादव ने वार्ड 28 छावनी में डोम शेड निर्माण में विलंब होने की समस्या बताई।

आवेदक ने कहा कि छावनी बस्ती औद्योगिक क्षेत्र से घिरा हुआ है तथा श्रमिक बस्ती क्षेत्र है, यहां मंगल बाजार में डोम शेड निर्माण किए जाने का कार्य आदेश जारी किया गया है, जहां कुछ महीने से काम अधूरा है। धार्मिक, सामाजिक व वैवाहिक एवं अन्य कार्यक्रम के लिए डोम शेड निर्माण कार्य पूर्ण कराने की मांग के लिए उन्होंने प्रशासक को आवेदन देकर समस्या से अवगत कराया। एक आवेदक ने फरीदनगर के रिक्त भूमि पर सौंदर्यीकरण के लिए आवेदन सौंपा। प्रशासक ने लोगों की समस्याओं को गंभीरता पूर्वक सुनकर नियमानुसार एवं यथोचित निराकरण करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। बैठक में मुख्य अभियंता सत्येंद्र सिंह,अधीक्षण अभियंता यूके धलेद्र, उपायुक्त अशोक द्विवेदी और नरेंद्र कुमार बंजारे तथा जोन आयुक्त अमिताभ शर्मा, पूजा पिल्ले, सुनील अग्रहरि एवं प्रीति सिंह मौजूद रहे।

 

23-02-2021
समस्याओं के निराकरण की पूरी जानकारी देने अब लगेंगे निराकरण शिविर

कोरबा। कलेक्टर की पहल पर आयोजित हुए निदान 36 शिविरों में ग्रामीणों द्वारा बताई गई समस्याओं और की गई मांगो का वास्तविक निराकरण अगले 15 दिनो में अनिवार्यतः करने के निर्देश विभागीय अधिकारियों को दिए गए हैं। कलेक्टर किरण कौशल ने यह निर्देश समय सीमा की साप्ताहिक बैठक में दिए। उन्होंने शिविरों में प्राप्त आवेदनों पर धीमी गति से कार्रवाई पर बैठक में नाराजगी भी व्यक्त की। कलेक्टर ने सभी समस्याओं और मांगो पर समाधान के लिए की गई कार्रवाई से ग्रामीणों को अवगत कराने पूर्व में आयोजित शिविर स्थलों पर अब निराकरण शिविर लगाने के निर्देश अधिकारियों को दिए। कलेक्टर ने बैठक में यह भी निर्देशित किया कि लोगों को उनके आवेदनों पर प्रशासन द्वारा की गई कार्रवाई से एक-एक कर अवगत कराया जाए।

जिन आवेदनों पर समाधान कारक कार्रवाई संभव ना हो ऐसे आवेदनों पर संबंधित अनुभाग के एसडीएम जांच कर प्रतिवेदन देंवें। कलेक्टर ने बैठक में निदान शिविरों में मिले आवेदनों के वास्तविक निराकरण पर विशेष जोर दिया और सभी विभागों के अधिकारियों को सकारात्मक निराकरण के लिए कहा। कलेक्टर ने निराकृत नहीं हो सकने वाली समस्याओं और पूरी नहीं हो सकने वाली मांगो पर स्पष्ट कारण बताते हुए आवेदन कर्ताओं को पूरी जानकारी देने के निर्देश भी अधिकारियों को बैठक में दिए। बैठक में कलेक्टर ने आगे भी निदान शिविरो के आयोजन के लिए समयबद्ध कार्य योजना बनाने के निर्देश अपर कलेक्टर को दिए। उन्होंने मार्च महीने के पहले सप्ताह में सभी विकासखण्डों में स्थान चिन्हांकित कर एक-एक निदान शिविर आयोजित करने को कहा। किरण कौशल ने मार्च महीने के तीसरे सप्ताह में निराकरण शिविर आयोजित करने के निर्देश दिए। आज की समय सीमा की बैठक में अपर कलेक्टर प्रियंका महोबिया, नगर निगम आयुक्त एस. जयवर्धन, कोरबा वनमण्डलाधिकारी  प्रियंका पाण्डेय, सभी अनुभागों के एसडीएम एवं सभी विभागों के अधिकारी भी मौजूद रहे। वीडियो कोन्फ़्रेसिंग के माध्यम से विकासखण्ड मुख्यालयों से तहसीलदार, नायब तहसीलदार एवं अन्य विभागों के मैदानी अधिकारी-कर्मचारी भी बैठक में शामिल हुए।
समय सीमा की बैठक में कलेक्टर ने कोरोना काल के बाद खुले स्कूलों में कोविड प्रोटोकाॅल के पालन की समीक्षा भी की। उन्होंने जिला शिक्षा अधिकारी सतीश प्रकाश और सहायक आयुक्त संतोष वाहने से स्कूलों और आश्रम-छात्रावासों मे विद्यार्थियों के लिए कोविड से बचने के उपायों पर पूरी जानकारी ली। कलेक्टर ने केवल नौवीं से लेकर बारहवीं तक के ही विद्यार्थियों को स्कूल और छात्रावासों में प्रवेश कराने के निर्देश दिए। 

23-02-2021
लंबित आवेदनों का शीघ्र निराकरण करें विभाग :कलेक्टर

धमतरी। जिले में मुख्यमंत्री जनचौपाल, प्रभारी मंत्री कार्यालय से मिले पत्र और कलेक्टर जनचौपाल के लंबित पत्रों का गुणवत्तापूर्वक और शीघ्र निराकरण करने पर कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य ने जोर दिया है। साथ ही उन्होंने रोस्टर बनाने कहा है, जिसके आधार पर हर माह के पहले और चौथे शनिवार को आयोजित किए जाने वाले जनचौपाल शिविर में से किसी एक शिविर में जिला स्तरीय अधिकारी भी मौजूद रह सकें। इसके लिए उन्होंने अपर कलेक्टर दिलीप अग्रवाल को जल्द से जल्द रोस्टर बनाने के लिए कहा है। कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य कलेक्टोरेट सभाकक्ष में समय सीमा की बैठक ले रहे थे। इस दौरान उन्होंने निर्देश दिए। बैठक में कलेक्टर ने मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत मयंक चतुर्वेदी को सुनिश्चित करने कहा कि महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत अधिक से अधिक श्रमिकों को रोजगार मुहैय्या हो। इस पर मयंक चतुर्वेदी ने बताया कि मनरेगा के तहत जिले में फिलहाल 52 हजार श्रमिकों को रोज काम मिल रहा है। इस अवसर पर कलेक्टर ने विधानसभा सत्र के मद्देनजर सभी अधिकारियों को सख्त हिदायत दी कि बिना अनुमति कोई जिला मुख्यालय ना छोड़े।

उन्होंने यह भी निर्देशित किया है कि विधानसभा में लगे प्रश्नों के लिए तैयार की जाने वाली जानकारी में एहतियात बरतें। कलेक्टर ने बैठक में जिले के 22 गौठानों को सुव्यवस्थित और मॉडल बनाने के लिए सभी विभागों को आपसी सामंजस्य से काम करने पर जोर दिया। जिले में कोरोना टीकाकरण की समीक्षा करते हुए कलेक्टर ने प्रथम पंक्ति के कोरोना वारियर्स का शत्-प्रतिशत टीकाकरण करने पर जोर दिया। बताया गया कि पहले चरण में 7597 कोरोना वारियर्स को कोविशील्ड का प्रथम डोज दिया गया, वहीं 28 दिन बाद दूसरे डोज का टीकाकरण किया जा रहा है। इसके तहत अब तक एक हजार एक सौ ग्यारह लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है। इस मौके पर उन्होंने समय सीमा के लंबित प्रकरणों की भी विभागवार समीक्षा की और उनके सही तरीके से निराकरण पर जोर दिया। बैठक में वन मंडलाधिकारी सतोविशा समाजदार सहित जिला स्तरीय अधिकारी और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अनुविभागीय अधिकारी राजस्व तथा ब्लॉक स्तरीय अन्य अधिकारी जुड़े रहे।

 

14-02-2021
एजाज ढेबर ने कहा- तुंहर सरकार तुंहर द्वार कार्यक्रम में अब तक 17 हजार से अधिक समस्याओं का निराकरण

रायपुर। तुंहर सरकार तुंहर द्वार कार्यक्रम की कड़ी में रविवार दोपहर वार्ड क्रमांक 30 के दुर्गा नगर न्यू शान्ति नगर में समाधान शिविर लगाया गया। शिविर में वार्डवासियों की समस्याओं का मौके पर ही निराकरण किया गया। महापौर एजाज ढेबर ने इस दौरान अब तक इस कार्यक्रम के माध्यम से हुए कार्यों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि निगम के इतिहास में पहली बार बड़ी संख्या में प्राप्त आवेदनों पर कार्रवाई की जा रही है। महापौर ढेबर ने बताया कि रविवार को शिविर का 18वां दिन है। विगत 17 दिनों में 17 हजार से अधिक समस्याओं का समाधान किया गया है। पहले लोगों को अपनी समस्या के समाधान के लिए दफ्तरों के चक्कर लगाना पड़ता था। अब शहर सरकार उन तक पहुंचकर समस्याओं का समाधान कर रही है। समस्याओं का तत्काल समाधान करने से लोगों को काफी राहत मिली है। यह रायपुर नगर निगम के इतिहास में अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है। आम जनता की समस्या का समाधान करने के उद्देश्य से शुरू किया गया तुंहर सरकार तुंहर द्वार कार्यक्रम ऐतिहासिक हो गया है।

13-02-2021
निदान 36: एक हफ्ता, 30 शिविर, दो हजार 400 से अधिक समस्याओं-मांगों का निराकरण

कोरबा। कलेक्टर किरण कौशल की पहल पर 8 फरवरी से शुरू हुए निदान 36 कार्यक्रम से एक हफ्ते में ही जिले के ग्रामीण क्षेत्रों की दो हजार से अधिक समस्याओं और मांगों का मौके पर ही निराकरण हो गया। पिछले छह दिनों में जिले के दूरस्थ ग्रामीण अंचलों से लेकर शहर से सटे ग्रामीण क्षेत्रों तक में लोगों की समस्याओं और मांगो के निराकरण के लिए 30 निदान शिविर आयोजित किए गए। इनमें लोगों ने बढ़-चढ़ कर भागीदारी की। 30 निदान शिविरों में प्रशासनिक अधिकारियों के समक्ष ग्रामीणजनों ने समस्याओं और मांगों से संबंधित चार हजार 544 आवेदन दिए, जिनमें से दो हजार 431 का निराकरण तत्काल कर दिया गया। कलेक्टर किरण कौशल ने शेष समस्याओं और मांगो के मामलों में 15 दिनों में स्थल निरीक्षण,पात्रता निर्धारण आदि पूरा करके वास्तविक जरूरतों के आधार पर निराकरण के निर्देश दिए हैं। आठ फरवरी से लेकर 12 फरवरी तक पांचो विकासखण्डों में आसपास की पांच-सात ग्राम पंचायतों का क्लस्टर बनाकर क्लस्टर स्तरीय 25 निदान शिविर हुए। इन क्लस्टर स्तरीय निदान शिविरों में लोगों ने प्रशासन के समक्ष अपनी समस्याओं और मांगो से संबंधित तीन हजार 191 आवेदन दिए। अधिकारियों ने आवेदनों का परीक्षण कर मौके पर ही एक हजार 694 समस्याओं और मांगो का सकारात्मक निराकरण कर दिया। किसी का काफी समय से लंबित नामांतरण हो गया, तो किसी का नाम राशन कार्ड में जुड़ गया।

किसी का नया राशन कार्ड बन गया, तो किसी विधवा या बुजुर्ग का पेंशन प्रकरण तैयार हो गया। शनिवार को सभी विकासखण्डों में ब्लाॅक स्तरीय निदान शिविर लगे जिनमें एक हजार 353 आवेदन मिले और इनमें से 737 आवेदनों का निराकरण कर दिया गया। इन शिविरों में स्थानीय जनप्रतिनिधियों के साथ-साथ जिला एवं ब्लाक स्तर के विभागीय अधिकारी भी मौजूद रहे। इन शिविरों में आए ग्रामीणों की राजस्व संबंधी समस्याओं से लेकर बिजली, पानी, शिक्षा, सड़क, स्वास्थ्य आदि समस्याओं का यथा संभव मौके पर ही निराकरण किया गया। नए राशन कार्ड बनाने से लेकर नाम जोड़ने, नाम काटने के काम भी इन शिविरों में हुए। ग्रामीणों में से सामाजिक सुरक्षा पेंशनों के पात्र हितग्राहियों का चिन्हांकन, पेंशन प्रकरण तैयार कर स्वीकृति के लिए भेजने के काम भी इन शिविरों में हुए। शिविरों में उपस्थित ग्रामीणजनों को विभागीय अधिकारियों ने शासकीय योजनाओं की जानकारी दी और उनसे लाभ लेने के तरीके भी बताए। जिले में सभी विकासखण्डों में एक-एक ब्लाॅक स्तरीय निदान शिविर आयोजित किया गया। कटघोरा के सुकलाखार में प्राथमिक शाला परिसर में आयोजित निदान शिविर में 370 प्रकरण मिले, जिनमें से 332 आवेदनों का निराकरण मौके पर ही किया गया। करतला के सोहागपुर के हाईस्कूल परिसर में आयोजित शिविर में मिले 196 आवेदनों में से 46 आवेदनों का निराकरण तत्काल हुआ। पोंड़ीउपरोड़ा विकासखंड के पचरा के निदान शिविर में ग्रामीणजनों ने समस्याओं और मांगों से संबंधित 378 आवेदन दिए, जिनमें से 156 का निराकरण तत्काल कर दिया गया। पाली के चैतमा हाईस्कूल भवन में आयोजित शिविर में 247 आवेदन प्राप्त हुए और 109 का निराकरण मौके पर ही हो गया। कोरबा विकासखंड के अजगरबहार में आयोजित निदान शिविर में 162 आवेदन मिले, जिनमें से 94 प्रकरणों का निराकरण मौके पर ही किया गया।

पिछले छह दिनों से चल रहे निदान शिविरों से प्रशासन गांव-गांव तक पहुंचा है और ग्रामीणों ने खुलकर अपनी समस्याएं और मांगे प्रशासन के समक्ष रखीं हैं। छह दिनों में ही निदान शिविरों के माध्यम से दूरदराज के ग्रामीण इलाकों से लेकर शहरों के नजदीक के गांवो तक की चार हजार 544 समस्याएं और मांगे प्रशासन को मिली। कलेक्टर कौशल के निर्देश पर इनमें से दो हजार 431 समस्याओं और मांगो का समाधान मौके पर ही मौजूद अधिकारी-कर्मचारियों द्वारा कर दिया गया। इन छह दिनों में कोरबा विकासखण्ड में ग्रामीणों ने 516 आवेदन देकर अपनी समस्याएं-मांगे बताईं जिनमें से 308 का निराकरण हो गया है। इसी प्रकार करतला विकासखण्ड में केवल छह दिनों में ही 687 समस्याएं और मांगे सामने आईं हैं,जिनमें से 261 का निराकरण मौके पर ही कर दिया गया है। 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804