GLIBS
24-06-2020
श्रमिकों को योजनाओं का लाभ दिलाने होगा श्रम-मित्रों का मनोनयन,मंत्री डहरिया ने लिखा पत्र

रायपुर। श्रम और नगरीय प्रशासन मंत्री डाॅ. शिवकुमार डहरिया ने निर्माण श्रमिकों को विभाग द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ सुगमतापूर्वक उपलब्ध कराने के लिए मंत्रियों और विधायकों को पत्र लिखकर श्रम मित्र मनोनयन के लिए अनुशंसा करने को कहा है। श्रम मित्र का मनोनयन श्रम मित्र योजना के तहत किया जाएगा।उल्लेखनीय है कि श्रम विभाग के छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल द्वारा निर्माण श्रमिकों के पंजीयन तथा पंजीकृत श्रमिकों को मण्डल द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ सुगमतापूर्वक उपलब्ध करवाने के लिए श्रम मित्रों का मनोनयन किया जा रहा है।

पत्र में कहा गया है कि योजनाओं का व्यापक प्रचार-प्रसार करने के उद्देश्य से श्रम मित्र योजना का संचालन किया जा रहा है। पंजीकृत निर्माण श्रमिकों में से ही श्रम मित्र का मनोनयन किया जाएगा। प्रत्येक नगर निगम में 12 वार्डों का एक यूनिट, नगर पालिक परिषद-नगर पंचायत-जनपद पंचायत को एक यूनिट मानकर प्रत्येक यूनिट में पांच-पांच श्रम मित्र का मनोनयन किया जाना है। इसमें दो महिला श्रम मित्रों का मनोनयन अनिवार्य रूप से किया जाएगा।

20-06-2020
 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से अन्य राज्यों में फंसे 41 हजार 361 श्रमिकों को वापस लाया गया छत्तीसगढ़

रायपुर। विभिन्न राज्यों में लॉक डाउन में फंसे श्रमिकों को वापस लाने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर श्रमिक स्पेशल ट्रेन का परिचालन किया जा रहा है। श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से 41 हजार 361 श्रमिक वापस जांजगीर-चांपा जिले में लाए गए हैं।कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए लागू लॉक डाउन से उत्पन्न परिस्थितियों के कारण देश के अन्य राज्यों में छत्तीसगढ़ के मजदूर रूके हुए थे। छत्तीसगढ़ सरकार ने इन श्रमिकों को सुरक्षित छत्तीसगढ़ लाने के लिए बनायी गई कारगर नीति श्रमिक स्पेशल ट्रेनों की व्यवस्था से इन श्रमिकों को सकुशल छत्तीसगढ़ लाया गया है।राज्य सरकार के निर्देशानुसार जिला प्रशासन के मार्गदर्शन में स्वास्थ्य विभाग की एडवाइजरी अनुसार वापस आए श्रमिकों को उनके गृह ग्राम के नजदीक क्वारेंटाइन की व्यवस्था की गई है। श्रमिकों के पहुचने पर प्लेटफार्म पर श्रमिकों का थर्मल स्क्रीनिंग कर स्वास्थ्य परीक्षण किया गया एवं बसों से उन्हें गृह ग्राम के नजदीक बनाए गए क्वारेंटाइन सेंटर तक पहुंचाया गया। प्राप्त जानकारी के अनुसार अब तक पहुंचे श्रमिकों में जनपद पंचायत अकलतरा के 4,192, बलोदा-2,360, नवागढ़-5,885, पामगढ़-9,288, सक्ती-2,059, जैजैपुर-7988 नवागढ़-4,443, डभरा-1,929 और बम्हनीडीह के 3,217 प्रवासी श्रमिक सुरक्षित अपने गृह जिला पहुंचाए गए हैं।

 

17-06-2020
श्रमिकों को छोडऩे जा रही बस खेत में घुसी

रायपुर/महासमुंद। सोमवार शाम मजदूरों को उनके गांव छोडऩे जा रही बस अनियंत्रित होकर खेत में जा घुसी। ओडिशा से आए सेवाती कोल्दा, बरगांव और सम्हर के करीब 10 मजदूरों को यह बस छोडऩे जा रही थी कि सेवाती कोल्दा से पहले अनियंत्रित हो गई और बस खेत में जा घुसी। लेकिन, चालक ने गंभीर घटना नहीं होने दी और तत्काल बस को नियंत्रित कर लिया। इससे बड़ी दुर्घटना टल गई। बस में सवार सभी मजदूर सकुशल हैं।

 

12-06-2020
क्वारेंटीन में रखे गए प्रवासी श्रमिकों ने हॉस्टल के उद्यान को बनाया मनमोहक

रायपुर। दूसरे राज्यों से लौटे श्रमिकों ने क्वारेंटीन सेंटरों में रंगाई-पोताई, बागवानी और साफ-सफाई करके परिसरों और उद्यानों को मनमोहक बनाने में लगे हैं। जांजगीर-चांपा जिला मुख्यालय स्थित पोस्ट मैट्रिक छात्रावास में बनाए गए विशेष क्वारंटीन सेंटर रह रहे श्रमिकों ने स्वप्रेरणा से वहां के उद्यान में साफ-सफाई करने वृक्षों की टहनियों को छांटकर सुडौल बनाकर उद्यान की सुंदरता बढ़ा दिया है। श्रमिकों ने छात्रावास परिसर की साफ-सफाई और उद्यान को संवारने में श्रमिकों ने स्व-प्रेरणा से कार्य किया है।राज्य सरकार की पहल पर विशेष आवश्यकता वाली गर्भवती महिलाओं को जिला मुख्यालय में बनाए गए विशेष क्वारंटीन सेंटर मेें रहने की व्यवस्था की गयी है। सहमति के आधार पर उनके श्रमिक पति भी साथ रह रहे हैं। इन गर्भवती महिला श्रमिकों और परिवार के साथ रह रहे पुरूष श्रमिकों को जिला प्रशासन द्वारा गर्म भोजन, स्वल्पाहार आदि उपलब्ध कराया जा रहा है । क्वारंटीन सेंटर में रह रहे श्रमिक परिसर को स्वच्छ करके अपने समय का सदुपयोग कर रहे हैं। जांजगीर एसडीएम द्वारा उद्यान को संवारने के लिए श्रमिकों को कुछ जरूरी औजार उपलब्ध करवाया गया। श्रमिकों ने अपने खाली समय, अनुभव व श्रम का सदुपयोग करके परिसर को संवार दिया है। गौरतलब है कि राज्य सरकार की पहल पर गर्भवती महिला श्रमिकों को पौष्टिक आहार देने के साथ-साथ उनका हीमोग्लोबिन जांच, कोरोना जांच, कैल्सियम और आयरन टेबलेट दिया जा रहा है। छोटे बच्चों और गर्भवती महिलाओं का नियमित टीकाकरण किया जा रहा है। इसके अलावा महिला एवं बाल विकास की योजना के तहत भी इन श्रमिकों को लाभान्वित किया जा रहा है।

 

12-06-2020
जशपुर के 699 क्वारेंटाइन सेंटर में 4453 श्रमिक, मेडिकल टीम कर रही निगरानी

रायपुर/जशपुर। कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए अन्य जिलों से आए श्रमिकों और अन्य लोगों को क्वारेंटाइन सेंटर में रखा जा रहा है। जशपुर में 699 क्वारेंटाइन सेंटर बनाए गए हैं। इन क्वारेंटाइन सेंटर में 4453 श्रमिक हैं,जिसमें 3904 पुरुष और 549 महिलाएं है।जशपुर विकासखंड के 58 क्वारेंटाईन सेंटर में 353 लोगों को रखा गया है। इसी प्रकार मनोरा के 57 क्वारेंटाइन सेंटर में 200, दुलदुला विकासखंड के 90 क्वारेंटाइन सेंटर में 613, कुनकुरी विकासखंड के 153 क्वारेंटाइन सेंटर में 628, फरसाबहार विकासखंड के 55 क्वारेंटाइन सेंटर में 1054, कासांबेल विकासखंड के 55 क्वारेंटाइन सेंटर में 468, पत्थलगांव विकासखंड के 128 क्वारेंटाइन सेंटर में 556 लोगों को और बगीचा विकासखंड के 103 क्वारेंटाइन सेंटर में 581 लोगों को रखा गया है।कलेक्टर महादेव कावरे के निर्देश पर एसडीएम, जनपद सीईओ और नगरीय निकाय के अधिकारियों द्वारा क्वारेंटाइन सेंटर में पानी, बिजली, शौचालय, भोजन के साथ बुनियादी सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। साथ ही उनका स्वास्थ्य परीक्षण और स्क्रीनिंग कराई जा रही है। इसके बाद 14 दिनों के क्वारेंटाइन अवधि में उन्हें रखा जा रहा है। इस दौरान मेडिकल टीम के द्वारा उनकी सतत निगरानी की जा रही है।

 

09-06-2020
भूपेश बघेल से तीन जिलों के उद्योगपतियों ने की मुलाकात,मुख्यमंत्री ने दिए कई निर्देश

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने औद्योगिक इकाईयों के प्रतिनिधियों से कहा है कि वे बाहर से आने वाले श्रमिकों की जानकारी तत्काल प्रशासन को दें। यदि उनकी इकाईयों में किसी श्रमिक में संक्रमण के लक्षण दिखाई देते हैं तो इसकी भी जानकारी अनिवार्य रूप से दी जाए। उन्होंने उद्योगपतियों से राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए होटलों और रिसॉर्टों की स्थापना और कृषि और उद्यानिकी फसलों पर आधारित प्रसंस्करण के उद्योग स्थापित करने का आव्हान किया है। मुख्यमंत्री बघेल ने यह बातें अपने निवास कार्यालय में रायगढ़, जशपुर और सरगुजा जिले से आए विभिन्न औद्योगिक इकाईयों के प्रतिनिधियों से चर्चा के दौरान कही। उन्होंने इन जिलों में संचालित औद्योगिक गतिविधियों की जानकारी भी ली। प्रतिनिधियों ने राज्य शासन की ओर से कोरोना नियंत्रण रोकथाम के लिए किए गए प्रयासों की सराहना की। साथ ही देश में लोकप्रिय मुख्यमंत्रियों की सूची में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को दूसरा स्थान मिलने पर उन्हें स्मृति चिन्ह भेंट कर बधाई और शुभकामनाएं दी। मुख्यमंत्री ने सभी औद्योगिक प्रतिष्ठानों को अपनी-अपनी इकाईयों में कोरोना संक्रमण से बचाव संबंधी उपायों के प्रभावी अमल के लिए कहा। साथ ही उन्हें प्रतिष्ठानों में बाहर से आने वाले श्रमिकों तथा कर्मियों के ठहरने के लिए उचित प्रबंध और सोशल डिस्टेंसिंग और शासन के दिशा-निर्देशों का शत-प्रतिशत पालन तय करने के लिए भी कहा।


औद्योगिक इकाई के प्रतिनिधियों ने बताया कि कोरोना संकट के दौरान देश में अन्य राज्यों की अपेक्षा एक-डेढ़ महीने पहले से छत्तीसगढ़ में  औद्योगिक इकाईयां प्रारंभ हो गई है। रायगढ़ में शत-प्रतिशत और सरगुजा में 90 प्रतिशत इकाईयों में काम प्रारंभ हो गया है। मुख्यमंत्री बघेल ने इस पर खुशी जाहिर की। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि वे अपने-अपने प्रतिष्ठानों में कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सोशल डिस्टेंसिंग के साथ-साथ स्वच्छता तथा सुरक्षा आदि संबंधी सभी उपायों के अमल पर विशेष ध्यान दें। उन्होंने  द्योगिक प्रतिष्ठानों में बाहर से मालवाहक वाहनों के आने लोडिंग-अनलोडिंग के समय भी ड्राइवरों और श्रमिकों और लोगों के बीच फिजिकल डिस्टेंसिंग आदि का पालन तय करने निर्देश दिए। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ सांस्कृतिक और पर्यटन की दृष्टि से एक समृद्ध राज्य है। यहां पर्यटन के विकास की आपार संभावनाएं हैं। इसे ध्यान में रखते हुए उन्होंने औद्योगिक प्रतिष्ठानों से पर्यटन के क्षेत्र में भी आगे आने का आव्हान किया।

उन्होंने कहा कि राज्य के बस्तर वनांचल सहित रायगढ़ से लेकर जशपुर और सरगुजा संभाग में अनेक पर्यटन स्थल है। राज्य के पर्यटन स्थलों में पर्यटकों के ठहरने तथा भोजन आदि के बेहतर प्रबंध के लिए होटल और रिसॉर्ट आदि की अधिक से अधिक स्थापना की जाए तो इससे राज्य में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा और स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिलेगा। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए राज्य में राम वन गमन पथ को विकसित किया जा रहा हैै। इसके तहत राज्य में प्रथम चरण में राम वन गमन पथ के चिन्हांकित 9 पर्यटन स्थलों पर पर्यटकों की सुविधा के लिए आवश्यक विकास कार्य कराए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने स्थानीय स्तर पर होने वाली कृषि और उद्यानिकी फसलों पर आधारित प्रसंस्करण इकाईयों की स्थापना के लिए पहल करने की सलाह उद्योग क्षेत्र के प्रतिनिधियों को दी। बैठक में विभिन्न औद्योगिक इकाईयों के प्रतिनिधियों ने अपनी विभिन्न समस्याओं और मांगों के संबंध में मुख्यमंत्री को अवगत कराया। मुख्यमंत्री ने उनकी मांगों पर सहानुभूति पूर्वक विचार करने का आश्वासन दिया।

08-06-2020
भाजपा ने पूछा, सरकार ने पर्याप्त रोजगार से ग्रामीण अर्थव्यवस्था मजबूत की तो प्रदेश से क्यों हुआ पलायन?

रायपुर। छत्तीसगढ़ से श्रमिकों के पलायन के मुद्दे पर प्रदेश सरकार की कार्यप्रणाली और उसके दावों पर भाजपा ने सवाल उठाया है। प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने कहा कि सरकार श्रमिकों को पर्याप्त रोजगार मुहैया कराने और ग्रामीण अर्थ व्यवस्था की मजबूती के चाहे जितने दावे कर ले, छत्तीसगढ़ से हुआ पलायन इस बात का प्रमाण है कि प्रदेश सरकार इस मुद्दे पर झूठ फैलाकर प्रदेश को गुमराह कर रही है। पिछले डेढ़ साल में प्रदेश के श्रमिकों को पर्याप्त रोजगार उपलब्ध करा ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती देने का दावा करने वाली प्रदेश की कांग्रेस सरकार के दावों की हकीकत जमीनी सच यह है कि पिछले डेढ़ वर्ष के कांग्रेस शासन में प्रदेश से सर्वाधिक पलायन हुआ है। श्रीवास्तव ने कहा कि कोरोना संकट में जारी लॉकडाउन में फँसे श्रमिकों की वापसी के समय प्रदेश सरकार ने प्रदेश के सवा लाख श्रमिकों के अन्य प्रदेशों में होने की जानकारी दी थी लेकिन इन श्रमिकों की वापसी अब तक जारी है,जिनकी संख्या तीन से सवा तीन लाख तक आँकी गई है और यह संख्या अभी और बढ़ने का अनुमान है। श्रीवास्तव ने सवाल किया कि जब प्रदेश सरकार श्रमिकों को पर्याप्त रोजगार उपलब्ध करा ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती देने का दावा कर रही है तो फिर ये श्रमिक छत्तीसगढ़ से पलायन क्यों कर गए थे? इस सवाल का प्रामाणिक जवाब देने की चुनौती प्रदेश सरकार और कांग्रेस नेताओं को देते हुए श्रीवास्तव ने कहा कि प्रदेश की मौजूदा प्रदेश सरकार केवल खोखले दावों की सरकार है और अपनी झूठी वाहवाही कराने में मशगूल है।

06-06-2020
विधायक ने की श्रमिकों से कोरोना से बचाव के लिए सतर्कता बरतने की अपील

कोरिया। विधायक गुलाब कमरो कोरोना महामारी से बचाव के लिए अपील करे रहे हैं। शनिवार को गुलाब कमरो ने हसदेव क्षेत्र के खान प्रबंधन के साथ हसदेव क्षेत्र के हल्दीबाड़ी भूमिगत खदान का निरीक्षण किया। श्रमिकों को कोरोना के दौरान अपने कार्य को पूरी जिम्मेदारी से निभाये जाने पर उत्साहवर्धन किया। उन्होंने कोरोना से बचाव के लिए सतर्कता बरतने की श्रमिकों से अपील की।

 

05-06-2020
श्रमिकों को लेकर रायपुर से रवाना हुई पहली श्रमिक स्पेशल, जय घोष से गूंजा रेलवे स्टेशन  

रायपुर। छत्तीसगढ़ के विभिन्न जिलों में लॉक डाउन के कारण फंसे श्रमिकों और उनके परिवारों को लेकर रायपुर रेलवे स्टेशन से शुक्रवार को पहली विशेष श्रमिक ट्रेन उत्तरप्रदेश के लिए रवाना हुई। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर रायपुर जिला प्रशासन ने श्रमिकों की स्वास्थ्य जांच के अलावा रेलवे स्टेशन में स्वल्पाहार सहित रास्ते के लिए भोजन, पानी आदि की पर्याप्त व्यवस्था की। इसका जायजा लेने प्रभारी कलेक्टर सौरभ कुमार,जिला पंचायत के सीईओ डॉ.गौरव कुमार सिंह, डिवीजनल रेल प्रबंधक तन्मय मुखर्जी सहित जिला प्रशासन के आला अधिकारी रेलवे स्टेशन में पूरे समय मौजूद थे। ट्रेन रवाना होते समय सभी यात्रियों ने व्यवस्था में लगे कोरोना योद्धाओं का अभिवादन किया। जुग-जुग जिए छत्तीसगढ़ के जयघोष के साथ रायपुर से विदा हुए। यह श्रमिक स्पेशल ट्रेन शाम रायपुर रेलवे स्टेशन से रवाना हुई। इसमें प्रयागराज, फतेहपुर, कानपुर सेंट्रल, लखनऊ, बाराबंकी, गोंडा, बस्ती स्टेशन के लिए सवार होकर सभी श्रमिक अपने गृह ग्राम के लिए रवाना हुए। जिला पंचायत सीईओ डॉ.गौरव कुमार सिंह ने दोपहर 3 बजे ही इन श्रमिकों की व्यवस्थित यात्रा के लिए जिला पंचायत के अधिकारियों के साथ कमान संभाल ली थी। सम्पूर्ण व्यवस्था में लगे अधिकारियों को दिशा निर्देश देकर सारी व्यवस्थाएं की गई। श्रमिकों के स्वास्थ्य जांच के लिए जिला प्रशासन ने 50 हेल्थ चेकअप सेंटर बनाए गए थे, जिसमें छोटे बच्चों सहित सभी का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया।

सभी यात्रियों के लिए स्टेशन पर ही स्वल्पाहार, पानी की व्यवस्था की गई थी। इन यात्रियों को रायपुर जिला प्रशासन ने फेस शिल्ड, मास्क आदि देकर रास्ते में निश्चित दूरी बनाकर बैठने व मास्क लगाने के संबंध में समझाइश दी। यात्रा से पूर्व सभी यात्रियों को भोजन, बिस्किट, छांछ और फल आदि देकर स्टेशन से रवाना किया गया। व्यवस्था से अभिभूत यात्रियों ने छत्तीसगढ़ सरकार व रायपुर जिला प्रशासन के प्रति अपना आभार व्यक्त किया। इस मौके पर एसडीएम नगर संदीप अग्रवाल,सीईओ जनपद पंचायत शीतल बंसल, आरंग सीईओ जनपद किरण कौशिक, धरसींवा सीईओ जनपद एचआर बघेल, डीपीएम हेल्थ मनीष मझेवार, रायपुर स्मार्ट सिटी के जनसंपर्क महाप्रबंधक आशीष मिश्रा, एपीओ जिला पंचायत रोशनी तिवारी, रायपुर रेलवे स्टेशन के डायरेक्टर व्हीपीटी राव, शिक्षा समन्वयक केएल पटले, एडीओ शिरीष तिवारी सहित अन्य अधिकारी-कर्मचारी मौजूद थे। इस पूरी व्यवस्था को सुचारू रूप से संचालित करने के लिए आभास फाउंडेशन, खालसा रिलीफ फाऊंडेशन, नेहरू युवा केन्द्र, संकल्प संस्कृति समिति, चाइल्ड लाइन, रेलवे चिल्ड्रेन इंडिया और होप फॉर ह्यूमैनिटी ने भी अपनी सक्रिय भूमिका निभाई।

 

05-06-2020
क्वारेंटाइन सेंटरों में श्रमिकों को कराया जा रहा योग, प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में योग का विशेष  महत्व

रायपुर। भारत सरकार की गाइड लाइन के तहत क्वॉरेंटाइन में रह रहे लोगों को तनाव मुक्त रखने और शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए श्रमिक आश्रय स्थलों पर योग करवाया जा रहा है। ज़िला मानसिक स्वास्थ्य प्रकोष्ठ द्वारा राधास्वामी सत्संग ब्यास,शासकीय शाला, पवनी (धरसीवा) शासकीय प्राथमिक शाला, निलजा और प्रयास रेजिडेंशियल स्कूल में श्रमिकों को तनाव मुक्त रखने और प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने के उद्देश्य से आश्रय स्थलों का दौरा किया गया और योग करने की सलाह दी गयी। क्वॉरेंटाइन सेंटरों के लिए बनाये गये मानसिक स्वास्थ्य के नोडल अधिकारी मनोचिकित्सक डॉ.अविनाश शुक्ला ने बताया लॉकडाउन के दौरान अलग अलग प्रदेशों से आये प्रवासी श्रमिकों  को तनाव मुक्त रखने और शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए सुबह और शाम योग करने की सलाह दी जा रही है । नियमित रुप से क्वॉरेंटाइन सेंटरों पर जा कर श्रमिकों को योग गुरू के माध्यम से योगा करने के लाभ और योगा की बारीकियों से विषय में भी बताया जाता है। साथ ही आश्रय स्थल पर किसी एक व्यक्ति का चुनाव करके उसको सामान्य योगा के बारे में जानकारी देकर सुबह और शाम नियमित रुप से योग करने का आग्रह किया जा रहा है। प्रतिदिन योगा कराने के साथ साथ लोगों को अपने जीवन शैली में शारीरिक डिस्टेंसिंग और मास्क के इस्तेमाल को अहम हिस्सा बनाने की हिदयत भी दी जा रही है ।


मनोचिकित्ससक डॉ.शुक्ला ने कहा राधास्वामी सत्संग ब्यास में 78,प्रयास आवासीय विद्यालय में 32,निलजा में 12,पावनी में 32, पथरी में 6, तरेसर में 5,कुरूद सिलियारी में 9,निलजा में 12,दोंदेखुर्द में 20,देवरी में 6 और धरसीवा के होम क्वॉरेंटाइन में 26 लोगों को तनाव मुक्त रखने और योग के माध्यम से प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने के लिए योग के बारे में बताया और क्वॉरेंटाइन में रहने के कारण लोगों में उत्पन्न मानसिक तनाव का भी समाधान भी किया । इस अवसर पर साइकोलॉजिस्ट ममता गिरी गोस्वामी भी सहयोगी के तौर पर मौजूद रही। योग गुरु राधेश्याम साहू ने बताया योग कराने से पूर्व शारीरिक दूरी को बनाने के लिए कहा जाता है । इस दूरी को आश्रय स्थल से निकलने के बाद भी ध्यान में रखते हुए जीवन शैली में अपनाना है। कोविड-19 से बचने के लिए पोष्टिक आहार के साथ-साथ योगा भी सभी लोगों के लिए बेहद जरूरी है। इससे शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है,जो हमें कोविड-19 से लड़ने में मदद करती है।

 

05-06-2020
छत्तीसगढ़ के 180 श्रमिकों को लेकर आज फिर बेंगलुरू से पहुंचा विशेष विमान

रायपुर। राजधानी के माना विमानतल में शुक्रवार को छत्तीसगढ़ के 180 प्रवासी मजदूरों को लेकर एक विशेष विमान बेंगलुरू से पहुंचा। यह रिलिफ फ्लाइट क्रमांक 6ए 9405 बेंगलुरू से दोपहर 12:50 बजे उड़ान भरकर रायपुर के स्वामी विवेकानंद विमानतल पहुंची। श्रमिकों को बेंगलुरू और हैदराबाद लॉ यूर्निवसिटी के सहयोग से श्रमिक विशेष विमान से रायपुर भेज गया है। मुख्यमंत्री भूपेश बधेल ने इस सहयोग के लिए आभार व्यक्त किया है। उन्होंने बताया गया कि इन सभी श्रमिकों को उनके गृह जिलों के क्वारेंटाइन सेंटरों तक पहुंचाने का इंतजाम किया जा रहा हैं। श्रमिकों को चिकित्सा जांच के बाद भोजन उपलब्ध कराके ही संबंधित जिलों में भेजा जा रहा है। इसी तरह 4 जून को भी 179 श्रमिकों को लेकर विशेष विमान रायपुर पहुंचा था। ये दोनों फ्लाइट विशेष श्रमिक फ्लाइट हैं, जिन्हें स्पेशली श्रमिकों को लाने के लिए बुक किया गया है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804