GLIBS
20-11-2020
मंगलभवन निर्माण मामले में अंबिका सिंहदेव से मिले चैंबर ऑफ कामर्स के पदाधिकारी

कोरिया। संसदीय सचिव अम्बिका सिंहदेव से चैंबर ऑफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज के प्रतिनिधिमंडल ने नगरपालिका परिषद की ओर से प्रस्तावित मंगलभवन निर्माण स्थल के चयन पर पुनर्विचार करने को लेकर मुलाकात की है। चैंबर के सदस्यों ने व्यवसायियों के हस्ताक्षर युक्त प्रतिवेदन दिया गया। इस संबंध में आम नागरिक एवं व्यापारियों की अपेक्षा से अवगत कराया। उनका कहना है कि नगर के मुख्य मार्ग में मंगलभवन ना बनाकर विशाल व्यावसायिक परिसर का निर्माण किया जाए। इससे कि नगर के मध्यमवर्गीय व्यापारी को व्यापार के लिए उचित मूल्य पर दुकाने उपलब्ध हो। क्योंकि मांगलिक कार्यों के लिए एक विशाल पार्किंग सहित सर्वसुविधा युक्त स्थान की आवश्यकता है। स्थल इसके लिए अपर्याप्त है। शहर में बढ़ते ट्रॉफिक को देखते हुए यहाँ इस तरह का कोई भी निर्माण कार्य सही नहीं होगा।

अम्बिका सिंह ने अधिकारियों से चर्चा कर उचित हल निकालने का आश्वासन दिया। इसके बाद चैंबर ऑफ कामर्स के पदाधिकारियों ने कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। इस दौरान चैंबर ऑफ कॉमर्स के प्रतिनिधिमंडल में जिला उपाध्यक्ष शैलेंद्रशर्मा, जिला महामंत्री शारदा प्रसाद गुप्ता, राजेश जायसवाल, चंदन गुप्ता, प्रियांशु जायसवाल, हिमांशु अवस्थी और सत्यम गुप्ता उपस्थित थे।

19-11-2020
स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने विश्व शौचालय दिवस पर स्वच्छ भारत मिशन के तहत बांटे 4.35 करोड़ के इनाम

रायपुर। मंत्री टीएस सिंहदेव ने आज विश्व शौचालय दिवस पर वर्चुअल माध्यम से स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के तहत स्वच्छता के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यक्तियों-संस्थाओं को अलग-अलग 15 विषयों में 4 करोड़ 35 लाख रूपए की नकद राशि, प्रशस्ति-पत्र और ट्रॉफी देकर सम्मानित किया। सिंहदेव ने वर्चुअल सम्मान समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि स्वच्छता के जरिए स्वच्छ और सुन्दर समाज का निर्माण कर मानव कल्याण के लिए बेहतर कार्य किया जा सकता है। यह एक अभियान के तहत जन सहभागिता से ही संभव हो सकेगा। उन्होंने स्वच्छता के क्षेत्र में कार्य करने वाले लोगों का उत्साहवर्धन करते हैं पुरस्कृत सभी लोगों को बधाई और शुभकामनएं दी। सिंहदेव ने विजेताओं से उपलब्धियों को कायम रखते हुए और आगे भी इसी तरह बेहतर कार्य करने की अपील की। सिंहदेव ने कहा कि स्वच्छ और सुन्दर समाज से हमारा स्वास्थ और पर्यावरण अच्छा रहेगा। इससे जीवन अच्छा और लंबा होगा।

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में स्वच्छ पर्यावरण और अच्छा वातावरण के निर्माण में बेहतर नीति के माध्यम से अपनी एक अलग पहचान बनाई है। इससे प्रदेश को पर्यावरण और स्वच्छता के क्षेत्र में एक नया आयाम मिला है। सिंहदेव ने कहा कि जहां साफ-सफाई दिखती हैं वहां स्वच्छता के क्षेत्र में बेहतर काम करने वाले लोगों का कार्य प्रतिबिम्बित होता है। उन्होंने अपशिष्टों का बेहतर प्रबंधन एवं उपयोगिता की ओर लोगों का ध्यान आकर्षित किया। उन्होंने पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए नुकसानदायक प्लास्टिक का उपयोग नहीं करने और ऐसे वस्तुओं का बेहतर प्रबंधन के साथ उनके रिसायकल करने पर बल दिया। मंत्री सिंहदेव ने महावारी स्वच्छता प्रबंधन के क्षेत्र में कार्य करने वाली ग्राम पंचायतों और स्व-सहायता समूहों की महिलाओं की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि प्रदेश में महिलाओं द्वारा सेनेटरी पैड का उपयोग बहुत कम किया जा रहा है। महिलाओं के स्वास्थ्य और मानसिक सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सेनेटरी पैड के उपयोग के प्रति महिलाओं को जागरूक करने पर जोर दिया। उन्होंने छत्तीसगढ़ में तृतीय लिंग समुदाय और दिव्यांगों के लिए सुगम सामुदायिक शौचालय निर्माण एवं व्यवस्था के क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों की भी सराहना की।

 

10-11-2020
सीमेंट पोल व फेंसिंग जालियां भी बनाने लगी है महिलाएं, खुद भी रोजगार से जुड़ रही है और सबको भी प्रेरित कर रही है

रायपुर/दंतेवाड़ा। महिलाएं लगातार ये साबित कर रही है कि वो ठान ले तो हर कार्य संभव है। इन दिनों महिलाएं सीमेंट के खंभे और फेंसिंग जाली निर्माण कर रही हैं। महिलाएं इस स्वरोजगार से खुद को सक्षम बनाएंगी और दूसरी महिलाओं को इस व्यवसाय के लिए प्रेरित करेंगी। अब तक सीमेंट पोल व जाली बनाने के लिए महिलाएं आगे नहीं आई थीं, लेकिन जिला पंचायत द्वारा संचालित प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजना नरवा, गरूवा, घुरूवा व बाड़ी प्रोजेक्ट के तहत जिले में 8 स्व-सहायता समूह व्यवसाय करने मन में ठानी और काम शुरू भी कर दी हैं। जिले में सभी पंचायतों में देवगुड़ी, गोठान का निमार्ण किया जा रहा है। इसमें घेराव के लिए सीमेंट पोल की आवश्यकता पड़ती है, इसीलिए जिले में 8 स्व-सहायता समूह द्वारा सीमेंट पोल का निमार्ण किया जा रहा है। वर्तमान स्थिति तक 4950 पोल, जिसे 14 लाख 85 हजार रुपए तक बेच चुके हैं। इस गतिविधि से 80 परिवार लाभान्वित हो रहे हैं। जिले में सचांलित समूहों द्वारा सीमेंट पोल निर्माण, दिशा महिला ग्राम संगठन टेकनार, सीता महिला ग्राम संगठन गंजेनार, रानी लक्ष्मी ग्राम संगठन गाटम, दीपक महिला ग्राम संगठन मैलावाड़ा, जागृति महिला कलस्टर संगठन पेन्टा सीमेंट पोल का निमार्ण कर रही है। जिले में 6 स्व-सहायता समूह द्वारा चैंन लिंक फेंसिंग का निमार्ण किया जा रहा है। इसमें दिशा महिला ग्राम संगठन भांसी, शांति महिला ग्राम संगठन मटेनार, रानी लक्ष्मी ग्राम संगठन गाटम, रोयेमुंग ग्राम संगठन मासौड़ी, जगदम्बे स्व सहायता समूह नागफनी, माँ शक्ति ग्राम संगठन कुआकोंडा समूहो ने वर्तमान स्थिति तक 1147 बण्डल, जिसे 30 लाख 96 हजार 9 सौ रुपए तक बेच चुके हैं। चैंन लिंक फेंसिंग निर्माण से 58 परिवार और सीमेंट पोल निमार्ण से 80 परिवारों लाभान्वित हो रहे हैं। चैंन लिंक फेंसिंग एवं सीमेंट पोल निमार्ण से जोड़ना उस क्षेत्र की महिलाओं के लिए एक बड़ी उपलब्धि है। इससे ना सिर्फ महिलाएं आत्मनिर्भर हो रही हैं बल्कि अन्य महिलाओं के लिए भी स्व-रोजगार से जुड़ने के अवसर खुल रहे हैं। वर्तमान में महिला समूह द्वारा तैयार किए गए सीमेंट पोल को सबसे पहले ग्राम पंचायत के लिए सप्लाई करेंगी।

07-11-2020
खुर्सीपार में होगा सामुदायिक भवन का निर्माण, महापौर ने किया भूमिपूजन

भिलाई। नगर पालिक निगम भिलाई क्षेत्र अंतर्गत खुर्सीपार वार्ड क्रमांक 31 संत रविदास प्रांगण में सामुदायिक भवन का निर्माण किया जाएगा। कार्य की शुरुआत करने महापौर एवं भिलाई नगर विधायक देवेंद्र यादव तथा तुलसी साहू पहुंचे। निर्मित होने वाले भवन में एक बड़ा हॉल होगा, जिससे समिति के द्वारा किए जाने वाले विभिन्न आयोजन के लिए स्थान मिल पाएगा। कार्य की स्वीकृति दिलाने के लिए समिति के अध्यक्ष शिव बचन भारती, सचिव विनोद भारती, कोषाध्यक्ष जगत किशोर, कार्यकारिणी अध्यक्ष भोला भारती, संरक्षक हीरालाल, सेवा समिति के अध्यक्ष महंगी रामा निराला, उपाध्यक्ष राम भवन निरंकारी, कोषाध्यक्ष डॉक्टर विनोद कुमार, सदस्य प्यारेलाल ने महापौर का धन्यवाद ज्ञापित किया। देवेंद्र यादव ने भूमि पूजन के दौरान कहा कि लोगों की मांग के अनुरूप सामाजिक और सार्वजनिक हित को ध्यान में रखते हुए कार्य किया जा रहा है। समिति की बहुप्रतीक्षित मांग भवन की थी जिसे आज पूरा किया जा रहा है। धार्मिक कार्य के आयोजन मंदिर प्रांगण में हर मौसम में किए जा सकेंगे। क्षेत्र वासियों एवं समिति को एक बेहतर स्थल मिल पाएगा। 

 

06-11-2020
युवाओं के लिए यूथ हब और ग्रीन कॉरिडोर का होगा निर्माण, शिव डहरिया ने किया ई-भूमिपूजन

रायपुर। नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिव कुमार डहरिया ने शुक्रवार को रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड द्वारा जीई रोड में 17.71 करोड़ की लागत से प्रस्तावित यूथ हब एवं ग्रीन कॉरिडोर निर्माण कार्य का ई-भूमिपूजन किया। मंत्री डॉ. डहरिया ने अपने उद्बोधन कहा कि नगर विकास की दिशा में तेजी से चल रही कार्य योजनाओं में यह योजना भी मील का पत्थर साबित होंगी। ई-भूमिपूजन के अवसर पर संसदीय सचिव विकास उपाध्याय, विधायक सत्यनारायण शर्मा और नगर निगम रायपुर के महापौर एजाज ढेबर, नगर निगम कमिश्नर एवं रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड के प्रबंध संचालक सौरभ कुमार, एमआईसी सदस्य ज्ञानेश शर्मा, श्रीकुमार मेनन और सुंदर जोगी विशेषरूप से शामिल थे। अधिकारियों ने बताया कि जीई रोड को भव्य, आकर्षक व जनसुविधा अनुरूप विकसित किए जाने की इस योजना के पूर्ण होने पर इस पूरे क्षेत्र की तस्वीर बदलेगी और समता कॉलोनी, चौबे कॉलोनी, दीनदयाल उपाध्याय नगर, मंगल बाजार, रोहणीपुरम, कोटा, सुंदर नगर, टाटीबंध, तात्यापारा, विवेकानंद आश्रम, रामकुंड सहित शहर के समीपवर्ती क्षेत्र के निवासियों को उन्नत सु-विकसित क्षेत्र का लाभ मिलेगा एवं निर्धन परिवारों को अपनी आजीविका के संचालन के लिए एक सर्वसुविधायुक्त वेंडिंग जोन की सुविधा प्राप्त होगी।


    अधिकारियों ने बताया कि रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड द्वारा नगर के मध्य से गुजर रहे जीई रोड को आकर्षक स्वरूप में विकसित किया जा रहा है। इस मार्ग को सुंदर, हरीतिमायुक्त आकर्षक स्वरूप देने वृहद कार्य योजना तैयार कर विवेकानंद आश्रम के समीप से आमानाका तक यूथ हब बनाकर ग्रीन कॉरीडोर विकसित किया जाएगा। इसके तहत साइंस कॉलेज मैदान के पास सर्वसुविधायुक्त वेंडिंग जोन बनाया जाएगा, जिसमें 65 दुकानें व वेंडिंग कार्ट संचालित होंगे। योजना के अनुरूप आमानाका के समीप वेंडिंग जोन स्थापना के साथ आयुर्वेदिक कॉलेज, साइंस कॉलेज कैम्पस, पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय के कैम्पस को विकसित किया जाएगा। अधिकारियों ने बताया कि जीई रोड में वर्तमान में संचालित वेंडिंग जोन को व्यवस्थित व सर्वसुविधायुक्त बनाते हुए स्मार्ट ठेला और दो व चार पहिया वाहनों की पार्किंग व्यवस्था के साथ ही धूप से बचने के लिए शेड और बैठक व्यवस्था भी इस योजना के अंतर्गत की जाएगी। बच्चों के खेलने के लिए उपयुक्त क्रीडा स्थल भी तैयार करने की योजना बनाई गई है। सड़कों में इंटरसेक्शन, साइड वॉल में लाइटिंग, लैंडस्कैपिंग के साथ एचटी और एलटी केबल भी लगाए जाएंगे। इस मार्ग पर भूमिगत जल निकासी व्यवस्था के अलावा संचार प्रणाली को भी अंडर ग्राउंड किया जाएगा। योजना के तहत बस वे और पाथ वे निर्माण का प्रावधान भी किया गया है।

 

06-11-2020
एसएनजी विद्यालय में बनेगा डोमशेड, कार्यक्रमों के लिए होगी सहूलियत, देवेंद्र यादव ने किया भूमिपूजन

भिलाईनगर। भिलाई के सेक्टर 4 वार्ड 51 स्थित एसएनजी विद्यालय में डोमशेड का निर्माण किया जाएगा। इसका भूमिपूजन महापौर एवं विधायक देवेन्द्र यादव ने किया। विद्यालय परिसर में डोमशेड निर्माण होने से विद्यार्थियों को विभिन्न गतिविधियों के आयोजन के लिए सहूलियत मिलेगी, इसके लिए विधायक यादव ने विधायक निधि से 10 लाख रुपए की स्वीकृति दी है। स्कूल प्रबंधन ने विकास कार्य से खुशी जाहिर करते हुए महापौर व निगम प्रशासन का आभार व्यक्त किया। महापौर यादव ने कहा कि स्कूल आने के दौरान डोमशेड की मांग प्रबंधन द्वारा की गई थी, जिसको देखते हुए डोमशेड की स्वीकृति देकर आज कार्य की शुरुआत कर दी गई है। स्कूल प्रबंधन द्वारा अब किसी भी कार्यक्रम के लिए रुकावट नहीं आएगी। भूमिपूजन होने के बाद महापौर ने उपस्थित सहायक अभियंता कुलदीप गुप्ता को डोमशेड निर्माण कार्य को शीघ्रता से प्रारंभ कराने के निर्देश दिए है।

भिलाई निगम क्षेत्र के सेक्टर 04 स्थित एसएनजी विद्यालय में डोम शेड निर्माण कार्य के लिए भूमिपूजन किया गया। 10 लाख की लागत से विद्यालय के भीतर बनने वाले डोमशेड से विद्यार्थियों को बारिश एवं गर्मी के दिनों में प्रार्थना एवं विभिन्न तरह के आयोजन करने में आसानी होगी। भूमिपूजन के दौरान स्कूल प्राचार्य कोमल बेदी, ईवी रंजन, पीआर संतोष, सी. बीजू, केएस चंद्रन, निगम के उप अभियंता श्वेता महेश्वर एवं क्षेत्र के वरिष्ठ नागरिक एवं निगम के अन्य अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित थे।

30-10-2020
महर्षि वाल्मीकि प्रतिमा स्थल के निर्माण के लिए महापौर ने दिए 80 हजार

दुर्ग। अखिल भारती महर्षि वाल्मीकि समाज की मांग पर शुक्रवार को महापौर धीरज बाकलीवाल ने महर्षि वाल्मीकि की प्रतिमा स्थापित करने के लिए स्टील रेलिंग का चबूतरा निर्माण करने महापौर निधि से 80 हजार रुपए प्रदान की। इस दौरान समाज का उपाध्यक्ष शुभम गोईर,  सदस्य आनंद करोसिया,संतोष श्यामसुखा,किरण गोईर,नितिन करोसिया, कपिल गोइर,विनय म्हरोलिया,उमेश करोसिया के अलावा निहाल करोलिया मौजूद थे। इस मौके पर महापौर बाकलीवाल ने कहा दुर्ग का प्रथम नागरिक होने के कारण मेरा हर धर्म समुदाय की भावनाओं का सम्मान आदर करना दायित्व है। मेरा सौभाग्य है की सिद्धार्थ नगर में शहर का पहला महर्षि वाल्मीकि की प्रतिमा स्थापित करने चबूतरा निर्माण में अपनी भागीदारी निभा रहा हूं। उन्होंने कहा वाल्मीकि समाज के लोग भारत सरकार द्वारा चलाए जा रहे स्वच्छता सर्वेक्षण में अपना योगदान दे रहे हैं। 

 

30-10-2020
सरदार वल्लभभाई पटेल ने देश के एकीकरण और अखण्ड भारत के निर्माण में अविस्मरणीय योगदान दिया : भूपेश बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने देश के प्रथम उप प्रधानमंत्री और गृहमंत्री स्व.सरदार वल्लभ भाई पटेल की 31 अक्टूबर को जयंती पर उन्हें नमन किया है। मुख्यमंत्री ने सरदार पटेल के योगदान को याद करते हुए कहा है कि देश के स्वतंत्रता संग्राम में उनकी अग्रणी भूमिका थी। उन्होंने देश के एकीकरण और अखण्ड भारत के निर्माण में अविस्मरणीय योगदान दिया। स्वतंत्र भारत के निर्माण में उनकी भूमिका को कभी नहीं भुलाया जा सकता।

 

24-10-2020
कोरोना से देश-विदेश का सफर आसान नहीं, पर छत्तीसगढ़ के शिक्षक कर आए अंतरिक्ष की सैर

रायपुर। बच्चों को चित्र एवं चार्ट के माध्यम से पढ़ाना हुआ पुराना। अब शिक्षक,  काल्पनिक वस्तुओं से वास्तविक जगत में पढ़ा सकेंगे और विद्यार्थियों को सिखाएंगे वर्चुअल जगत से निर्माण, ऑग्मेंटेड रियलिटी (ए.आर.) से बदलेगा पढ़ने-पढ़ाने का तरीका, साथ ही घर से निकले बिना कोरोना से बचकर कर सकेंगे पूरे विश्व की सैर...। छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मण्डल द्वारा शिक्षकों को नवीनतम तकनीक ऑग्मेंटेड रियलिटी का उपयोग करने के लिए आयोजित वेबीनार में यह जानकारी दी गई। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में कोरोना काल में स्कूल बंद होने के कारण राज्य शासन के स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा पढ़ई तुंहर कार्यक्रम के माध्यम से बच्चों को ऑनलाइन और ऑफलाइन शिक्षा प्रदान की जा रही है। वेबीनार में हजारों की संख्या में शिक्षकों ने भाग लिया।

      वेबिनार में शिक्षा सलाहकार सत्यराज अय्यर ने ऑग्मेंटेड रियलिटी और वर्चुअल रियलिटी (वी.आर.) जैसे आधुनिक तकनीकों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस तकनीक में आसपास के वातावरण से मेल खाता हुआ एक कम्प्यूटर जनित वातावरण तैयार किया जा सकता हैं। आसान भाषा में समझे तो आसपास के वातावरण के साथ एक और आभासी दुनिया को जोड़कर एक वर्चुअल सीन तैयार किया जाता है, जो देखने में वास्तविक लगता है। उन्होंने वेबिनार के दौरान लाइव डेमो देते हुए, ऑग्मेंटेड रियलिटी की मदद से सचमुच का शेर, गाय, हाथी, ड्रैगन को बनाकर दिखाया। साथ ही शिक्षकों को मानव शरीर संरचना, सौर मंडल जैसे विज्ञान से जुड़ी अवधारणाओं को समझाने के लिए 3-डी सिम्युलेटेड वातावरण उपयोग के लिए लाइव डेमो प्रस्तुत किया। अय्यर ने बताया की हम सदियों से गणित पढ़ाते समय 3-डी आकारों को ब्लैकबोर्ड एवं पेपर जैसे 2-डी सतह पर बच्चों को सिखातें हैं, अब हमारे फोन में ऐसे फीचर्स आ चुके हैं कि शिक्षक 3-डी मॉडल को 3-डी सतह पर सीधा दिखा कर पढ़ा सकते हैं। यह तकनीक काफी समय से सैन्य प्रशिक्षण, इंजीनियरिंग डिजाइन, शॉपिंग, चिकित्सा जैसे क्षेत्रों में उपयोग हो रही हैं। शिक्षा के क्षेत्र में इसकी उपयोगिता बहुत कम एवं धीमी रही हैं। समय आ गया हैं की हम ऐसे नवाचारों को अपनाएं और विद्यार्थियों को भविष्य के लिए नवीनतम तरीके से तैयार करें।

  अय्यर ने इस बात पर भी जोर दिया की विद्यार्थियों को नए-नए प्रकार के क्षेत्रों में अपना भविष्य बनाना होगा। जॉब सीकर (Job Seeker) से हटकर जॉब क्रिएटर (Job Creator) बनना होगा। यह तभी संभव होगा जब हम आस-पास हो रही सामाजिक समस्याओं को गौर से देखेंगे, समझेंगे और नवीन तकनीक की मदद से इन समस्याओं को हल करने की दिशा में काम करेंगे। अक्सर गांव में रहने वाले विद्यार्थी समस्या को तो आसानी से परख लेते हैं, परन्तु उनके पास ऐसी तकनीकी जानकारी एवं सीमित संसाधनों के चलते जीवन में अच्छे मौके से वंचित रह जाते है। इसलिए शिक्षकों को इसके लिए जिम्मेदारी लेनी होगी और उन्हें अपने आप को सबसे पहले डिजिटल युग के अनुसार सक्षम बनना होगा ताकि वे बच्चों को प्रेरित कर सकें और उन्हें एक नई दुनिया और उज्वल भविष्य के लिए अपना मार्गदर्शन प्रदान कर सकें। यू-ट्यूब से जुड़ें शिक्षकों ने वेबिनार के प्रति अपनी संतुष्टि जतायी और कॉमेंट करते हुए कहा की वे भी इस नवाचार को कक्षा में अपनाते हुए बच्चों को रोचक तरीके से पढ़ाने की भरपूर कोशिश करेंगे।

19-10-2020
सिंचाई परियोजना के निर्माण व जीर्णोद्धार के लिए भूपेश सरकार ने मंज़ूर किए 24 करोड़ 34 लाख रुपए

रायपुर। सिंचाई परियोजनाओं के निर्माण कार्य के लिए भूपेश सरकार लगातर प्रयास कर रही है। छत्तीसगढ़ के विभिन्न जिलों में सिंचाई परियोजनाओं के निर्माण व जीर्णोद्धार कार्य के लिए 24 करोड़ 34 लाख 17 हजार रूपए की प्रशासकीय स्वीकृति जारी की है। इन परियोजनाओं के निर्माण एवं जीर्णोद्धार का कार्य पूर्ण होने के उपरांत 2221 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा उपलब्ध हो सकेगी। जल संसाधन विभाग मंत्रालय, महानदी भवन से जारी आदेशानुसार दुर्ग जिले के विकासखण्ड पाटन की औरी जलाशय के जीर्णोद्धार एवं नहर प्रणाली का रिमाडलिंग तथा लाइनिंग कार्य के लिए दो करोड़ 21 लाख 21 हजार रूपए की प्रशासकीय स्वीकृति दी गयी है। कार्य के पूर्णता से 155 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। विकासखण्ड दुर्ग की भेण्डसर नाला जलाशय के जीर्णोद्धार एवं नहर लाईनिंग कार्य के लिए एक करोड़ 87 लाख 41 हजार रूपए की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गयी है। कार्य के पूरा होने से 260 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। विकासखण्ड दुर्ग की रिसामा एल.पी. जलाशय जीर्णोद्धार व लाईनिंग कार्य के लिए एक करोड़ एक लाख 16 हजार रूपए की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गई है। योजना के पूरा होने से 55 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। दुर्ग के भेण्डरवानी जलाशय का जीर्णोद्धार एवं नहर लाईनिंग कार्य के लिए दो करोड़ 55 लाख 86 हजार रूपए की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गई है। योजना के पूरा होने से 324 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी।

विकासखण्ड पाटन की झाड़मोखली जलाशय का वेस्ट वियर एवं शूटफाल का जीर्णोद्धार व नहर का रिमाडलिंग तथा लाईनिंग कार्य के लिए दो करोड़ सैतीस लाख 43 हजार रूपए की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गयी है। योजना के पूरा होने से 124 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। पाटन की कसही स्टापडेम निर्माण कार्य के लिए एक करोड़ दो लाख 69 हजार रूपए की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गयी है। योजना के पूरा होने से 20 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। पाटन की सिपकोना डिस्ट्रीब्यूटरी के किकिरमेटा माईनर नहर का लाईनिंग कार्य के लिए दो करोड़ 41 लाख 74 हजार रुपए की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गई है। योजना के पूर्णता पर 585 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। पाटन की गुजरा नाला पर ग्राम मटिया के पास स्टापडेम निर्माण कार्य के लिए एक करोड़ 20 लाख पांच हजार रुपए स्वीकृति प्रदान की गई है। योजना के पूरा होने से 15 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। पाटन की मोखली स्टापडेम निर्माण कार्य के लिए 92 लाख 95 हजार रुपए की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गई है। योजना के पूरा होने से 15 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। पाटन की गुजरा नाला पर खोरपा-खम्हरिया स्टापडेम सह रपटा निर्माण कार्य के लिए एक करोड़ 49 लाख 84 हजार रुपए की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गई है। योजना के पूरा होने से 50 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। पाटन की मटिया व्यपवर्तन योजना के शीर्ष कार्य का जीर्णोद्धार एवं नहर लाईनिंग कार्य के लिए एक करोड़ आठ लाख 78 हजार रुपए की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गई है। योजना के पूरा होने से 222 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। पाटन की अमेरी जलाशय योजना के शीर्ष कार्य का जीर्णोद्धार एवं नहर प्रणाली का रिमॉडलिंग एवं लाईनिंग कार्य के लिए एक करोड़ 79 लाख 81 हजार रुपए की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गयी है। योजना के पूरा होने से 16 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। पाटन की मटंग जलाशय शीर्ष कार्य एवं नहरों का जीर्णोद्धार एवं नहर लाईनिंग कार्य के लिए एक करोड़ 22 लाख एक हजार रूपए की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गयी है। योजना के पूरा होने से 184 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। विकासखण्ड दुर्ग की करंजा भिलाई जलाशय सुधार कार्य एवं नहर लाईनिंग कार्य के लिए एक करोड़ 77 लाख 93 हजार रूपए की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गयी है। योजना के पूरा होने से 194 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिल सकेगी। कबीरधाम जिले के विकासखण्ड सहसपुर लोहारा के सुतियाघाट जलाशय की दांयी तट नहर कार्य के लिए एक करोड़ 35 लाख 30 हजार रुपए की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गयी है।

15-10-2020
कामर्शियल काम्प्लेक्स बनाने की योजना के दौरान सरकारी दफ्तर को कराया खाली

रायपुर। पीडब्ल्यूडी विभाग ने खाली पड़ी अपनी जमीन से कमाइ करने का रास्ता खोज निकाला है। शहर के कटोरातालाब और सिविल लाइन के बीच की जमीन का चयन किया है, जहां पुराने सभी निर्माण को हटाकर कॉमर्शियल और रेसिडेंशियल काम्प्लेक्स बनाने की योजना है। गौरतलब है कि सागौन बंगले से लगे सभी सरकारी दफ्तरों को खाली करा दिया है। लेकिन महीनों गुजर जाने के बाद भी अब तक इस प्रोजेक्ट पर कोई ठोस निर्णय नहीं लिया गया है। वहां से पूरे स्टाफ व दफ्तर को सिरपुर भवन परिसर की बिल्डिंग में शिफ्ट किया है।

10-10-2020
निर्धारित चौड़ाई के साथ  बनेगा शंकर नाला, निगम ने की अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई शुरू

दुर्ग। शंकर नाला क्षेत्र में अतिक्रमण को हटा कर निर्धारित चौड़ाई के साथ नाला का निर्माण प्रारंभ किया जाएगा। इसके लिए गुरुद्वारा के पास से लेकर संतरावाड़ी पुलिया तक तथा दुर्गा चौक से उरला तक लगभग 25 से 30 लोगों के सभी अतिक्रमणों को हटाने की कार्रवाई आज से गुरुद्वारा के पास से प्रारंभ किया गया है। उल्लेखनीय है कि नगर पालिक निगम दुर्ग द्वारा बारिश के पानी निकासी के लिए शंकर नाला में निर्माण कार्य प्रारंभ किया गया था। नाला का निर्माण गुरुद्वारा पुलिया तक कर लिया गया था।

विभागीय अधिकारी ने बताया बारिश के कारण नाला नाला निर्माण का कार्य रुका हुआ था। गुरुद्वारा पुलिया के पास से संतरा बाड़ी पुलिया तक तथा दुर्गा चौक से उरला तक 25 से 30 लोगों ने नाला क्षेत्र में  टीन शेड व अन्य  पक्का निर्माण कर बाथरूम और टॉयलेट बनाकर अतिक्रमण किए हुए हैं। सभी अतिक्रमणों को चिन्हित कर लिया गया है। इसे आयुक्त इंद्रजीत बर्मन के निर्देशानुसार नाला निर्माण के लिए अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही आज से प्रारंभ की गई है। नाला क्षेत्र में जिन लोगों ने भी अतिक्रमण कर लिया है। उन सभी से अपील है कि नुकसान होने के पूर्व अपंना अतिक्रमण सवयं हटा लेवें । अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई निरंतर जारी रहेगी।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804