GLIBS
16-09-2020
वायरलेस हेलमेट पहनने पर ही स्टार्ट होगी बाइक, चोरी होने पर रेंज के बाहर जाते ही बाइक हो जाएगी बंद

रायपुर/दंतेवाड़ा। जिले के बचेली के एक युवा प्रेम भारद्वाज ने सेंसर लगा एक वायरलेस हेलमेट बनाया है, जिसके पहनने पर ही बाइक स्टार्ट होगी। साथ ही वाहन के सुरक्षा के लिए भी कारगर होगा। प्रेम के प्रयोगों से बचेली के लोग बेहद खुश हैं। प्रेम ने भांसी के आईटीआई से वर्ष 2016-17 में पढ़ाई पूरी की है। प्रेम भारद्वाज ने बताया कि बचेली पुलिस के अधिकारियोंं ने सुझाव दिया था कि ऐसा कुछ डिवाइस भी तैयार करो, जिससे वाहन चोरी न होने पाए। उन्होंने बताया कि रिले सेंसर से जुड़े हेलमेट-वाहन को किसी जगह पार्क कर हेलमेट को अपने साथ रखकर जाते हैं तो हेलमेट में लगा सेंसर जब तक एक सीमित रेंज में नहीं आएगा, जब तक बाइक स्टार्ट नहीं होगी।

सीमित रेंज में हैं और चोर बाइक को स्टार्ट कर चोरी कर ले जाता है तो रेंज के बाहर जाते ही बाइक बंद हो जाएगी। इसमें लगा सिस्टम बैटरी से ऑपरेट होता है। मोबाइल के चार्जर से ही फुल चार्ज होकर एक से डेढ़ महीने तक चलेगी। यह वायरलेस हेलमेट नार्मल हेलमेट की तरह ही दिखता है। इसके पहले भी प्रेम कबाड़ से जुगाड़ कर 4-स्ट्रोक डीजल इंजन मॉडल, इमरजेंसी मोबाइल चार्जर, दोपहिया वाहन में साइड स्टैंड डिवाइस भी बना चुका है। इसके लिए तत्कालीन कलेक्टर सौरभ कुमार ने सम्मानित किया था। इसके अलावा भी एनएमडीसी, विधायक व 26 जनवरी के मौके पर भी प्रेम इन प्रयोगों के लिए सम्मानित हो चुका है।

09-09-2020
एनएमडीसी के चेयरमैन सुमित देव ने सीएम भूपेश बघेल को सौजन्य मुलाकात में कोरोना से लड़ने के लिए 10 करोड़ का चेक सौंपा

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से एनएमडीसी के सीएमडी सुमित देव ने सौजन्य मुलाकात की। उन्होंने कोरोना संक्रमण से रोकथाम व बचाव के लिए मुख्यमंत्री बघेल को मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए 10 करोड़ रूपए की राशि के चेक सौंपा। मुख्यमंत्री ने इस सहायता के लिए देव को धन्यवाद दिया। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, सचिव खनिज संसाधन विभाग  अन्बलगन पी. एवं एनएमडीसी के सलाहकार दिनेश श्रीवास्तव भी उपस्थित थे।

 

19-07-2020
मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र, 30 प्रतिशत रियायत पर लौह अयस्क उपलब्ध कराने किया आग्रह

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर बस्तर में स्टील उद्योग को एनएमडीसी के माध्यम से 30 प्रतिशत रियायत पर लौह अयस्क उपलब्ध कराने का आग्रह किया है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि इससे बस्तर में बड़े पैमाने पर स्टील उद्योगों का संचालन और इसके जरिए बड़े पैमाने पर स्थानीय युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने में मदद मिलेगी। इससे बस्तर के विकास और आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा। मुख्यमंत्री ने अपने पत्र में इस बात का उल्लेख भी किया है कि, राज्य शासन की ओर से भारत सरकार के उपक्रम एनएमडीसी को इस आशय का प्रस्ताव भी भेजा जा चुका है।
मुख्यमंत्री बघेल ने पत्र में लिखा है कि एनएमडीसी की ओर से दंतेवाड़ा जिले में विगत लगभग आधी शताब्दी से बड़ी मात्रा में लौह अयस्क का खनन किया जा रहा है। लौह अयस्क की प्रचुरता के बाद भी विषम परिस्थितियों के विद्यमान होने के कारण निजी उद्यमियों के लिए बस्तर में स्टील उद्योगों की स्थापना लाभप्रद नहीं है। यदि एनएमडीसी की ओर से बस्तर में स्टील निर्माण किए जाने वाले निवेशकों को लौह अयस्क 30 प्रतिशत की छूट पर दिया जाए, तो इससे बस्तर अंचल में छोटी-बड़ी अनेक स्टील निर्माण इकाईयों की स्थापना का मार्ग प्रशस्त हो सकेगा।  स्थानीय निवासियों के लिए प्रत्यक्ष रोजगार के लाखों नए अवसर निर्मित हो सकते हैं। मुख्यमंत्री ने अवगत कराया है कि राज्य शासन की ओर से एनएमडीसी को इस आशय का औपचारिक प्रस्ताव प्रेषित किया जा चुका है।

 

16-06-2020
तीन महिलाओं ने मिलकर रची लाखों के गबन की साजिश, उड़ गए सुनने वालों के होश

भिलाई। एनएमडीसी में नौकरी दिलाने व पार्टनर को झांसा देकर 35 लाख की ठगी करने का मामला प्रकाश में आया है। मामले में भिलाई 3 पुलिस ने तीन महिलाओं के खिलाफ धारा 420,34 के तहत अपराध कायम किया है। भिलाई तीन थाना प्रभारी संजीव मिश्रा से प्राप्त जानकारी के अनुसार पदुम नगर भिलाई 3 निवासी पीड़ित अभेराम साहू की शिकायत पर रायपुर निवासी पूनम नायक, खुशबू नायक उर्फ राखी ध्रुव, शोभा साहू, डीपी देशमुख के खिलाफ अपराध कायम किया है। पुलिस ने बताया कि पीड़ित की पत्नी आभा साहू शासकीय नौकरी में है। इसके चलते बच्चों की देखरेख के लिए शोभा साहू को नौकरी पर रखा था। आरोपी शोभा ने पीड़ित की पत्नी को जानकारी दी कि पूनम नायक और अन्य सांस्कृतिक संस्था का संचालन करते हैं। संस्था में जुड़ने पर दोगना लाभ होने का झांसा देकर शोभा साहू ने पीड़ित की पत्नी को फंसाया। वही पीड़ित एनएमडीसी में अपनी नौकरी लगाने के लिए 24 लाख और अपनी पत्नी को संस्था से जुड़ने के लिए करीब 11 लाख रुपए झांसा में आकर दिया। लेकिन अब तक पीडितों का काम नहीं होने से परेशान होकर भिलाई 3 पुलिस से फरियाद करने पहुंचे। मामले में सभी आरोपी फरार है।रेलवे कर्मी से 22 लाख की ठगीसुपेला पुलिस ने बताया कि रायपुर निवासी दोष श्रीधर ने रेलवे कर्मी एन.श्रीनिवास राव के नाम से 22 लाख रुपए का होम लोन लिया था। आरोपी ने लोन लेने के लिए रेलवे कर्मी के दस्तावेज पेश किया था। फायनेंस कंपनी में सेटिंग के चलते लोगों को अपने कार्यस्थल पर ले जाकर खुद को रेलवे कर्मी के रूप में शिनाख्त कराया। कंपनी को अलग-अलग स्थानों से जानकारी मिली की जिसने 22 लाख का लोन लिया है। वह फर्जी रेलवे कर्मी है। जांच करने पर आरोपी की पहचान दोष श्रीधर, दोषपति इंदु,प्रणव साखरे के रूप में हुई। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी और कूट रचना की धाराओं के तहत अपराध कायम किया है। मामले में पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धारा 120 बी,419,420,467,468,471 के तहत अपराध दर्ज किया है।

 

 

02-02-2020
अबूझमाड़ पीस मैराथन 2020 निमंत्रण के लिए जगदलपुर में हुआ राहगिरी कार्यक्रम का आयोजन

जगदलपुर। जिला नारायणपुर में 08 फरवरी को 21 कि.मी. अबूझमाड़ मैराथन दौड़ का आयोजन किया जा रहा है। वर्ष 2019 की मैराथन दौड़ की सफल आयोजन तथा जनसमर्थन को देखते हुये इस साल भी मैराथन दौड़ का आयोजन किये जाने का निर्णय लिया गया है। इस दौड़ में बस्तर संभाग के धावक के अलावा देश के विभिन्न राज्यों तथा विदेशी धावक भी शामिल होगें। जिला नारायणपुर से शुरू होकर अबूझमाड़ के बासिनबहार गांव आईटीबीपी कैंप तक आयोजित इस दौड़ के प्रति जागरूकता लाने तथा कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु रविवार को जगदलपुर शहर में एक राहगिरी कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

शहर के लालबाग मैदान से शुरू होकर महावीर चौक, चांदनी चौक होते हुए शहीद पार्क तक बालक-बालिका, पुलिस के जवान, नागरिकगण, पुलिस महानिरीक्षक, बस्तर रेंज सुंदरराज पी., पुलिस अधीक्षक बस्तर,  दीपक झा एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण दौड़ते हुए शहरवासी तथा राज्यवासियों को 08 फरवरी को आयोजित अबूझमाड़ पीस मैराथन के लिए आमंत्रित किया गया। राहगिरी कार्यक्रम के समापन समारोह में शहीद पार्क में अबूझमाड़ मैराथन दौड़ गाने पर शहर के बच्चों से लेकर वरिष्ठजन नाचते-गाते हुए आयोजन का आंनद उठाया। अबूझमाड़ मैराथन के सफल आयोजन के लिए जिला प्रशासन, पुलिस, एनएमडीसी, SAIL व अन्य व्यवसायिक संस्था के अलावा स्थानीय नागरिक उत्साह से अपना भागीदारी निभा रहे है।

 

18-12-2019
 उद्योगों को लौह अयस्क आपूर्ति की शर्त पर बढ़ाई गई एनएमडीसी खदान की लीज

रायपुर। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा राष्ट्रीय खनिज विकास निगम (एनएमडीसी) की बैलाडीला लौह अयस्क खदान की लीज 20 वर्षों के लिए बढ़ा दी गई है। छत्तीसगढ़ के उद्योगों के विकास एवं स्थानीय रोजगार को उत्तरोत्तर वृद्धि को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा बैलाडीला से एनएमडीसी द्वारा खनन किए गए लौह अयस्क की उपलब्धता निरंतर एवं प्राथमिकता के साथ छत्तीसगढ़ में स्थित उद्योगों को मिलें यह सुनिश्चित करने की शर्त के साथ ही खनिपट्टा विस्तारण करने के निर्देश दिए गए हैं।
राष्ट्रीय खनिज विकास निगम लिमिटेड के चार खनिपट्टों को 1965 के पश्चात अभी खान एवं खनिज (विकास एवं विनियमन) अधिनियम 1957 के अधीन बनाए गए नियमों के तहत राज्य शासन द्वारा खनिज (सरकारी कम्पनी द्वारा खनन) नियम, 2015 के अंतर्गत विस्तारण का स्वीकृति जारी की गई है। एनएमडीसी लौह अयस्क खनन के क्षेत्र में देश का सबसे बडा सार्वजनिक उपक्रम है एवं उनकी लगभग तीन चौथाई खनिज उत्पादन छत्तीसगढ़ के बैलाडीला पहाडि़यों से होता है। छत्तीसगढ़ के उद्योगों के विकास एवं स्थानीय रोजगार को उत्तरोत्तर वृद्धि को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा बैलाडीला से एनएमडीसी द्वारा खनन किए गए लोह अयस्क की उपलब्धि निरंतर एवं प्राथमिकता के साथ छत्तीसगढ़ में स्थित उद्योगों को मिलें यह सुनिश्चित करने की शर्त के साथ ही खनिपट्टा विस्तारण करने के निर्देश दिया गया। तदानुसार खनिज साधन विभाग द्वारा खनि रियायत नियम, 2016 के नियम 12(1)(आई) के तहत छत्तीसगढ़ राज्य में संचालित लोह अयस्क आधारित उद्योगों को उनके आवश्यकतानुसार खनिज लौह अयस्क की आपूर्ति निरंतर बनाए रखने की शर्त के साथ खनि पट्टों का विस्तारण आदेश जारी किया गया है।

2015 में भारत सरकार द्वारा खनिज अधिनियम एवं नियमो में लाए गए संशोधन के पश्चात कई राज्यों में लौह अयस्क खदाने 2020 मार्च के बाद जब तक नये सिरे से नीलामी ना हो जाय तब तक बंद होने की संभावनाएं बनी हुई है। इससे स्टील उद्योग भी कच्चे माल उपलब्धता को लेकर बेहद चिंतित है। समय पर की गई खनिपट्टा विस्तारण से एवं उसमें स्थानीय उद्योगों की निरंतर लौह अयस्क उपलब्ध होने के रास्ता निकालने से राज्य एवं जनता के हित को ध्यान में रखा गया। एनएमडीसी द्वारा प्रतिवर्ष लगभग 24 मिलियन मीट्रिक टन लौह अयस्क का उत्पादन किया जाता है एवं स्थानीय उद्योगों द्वारा लगभग 7 मिलियन मीट्रिक टन की आवश्यकता बताई जा रही है।

जिला कार्यालय दंतेवाड़ा के प्रतिवेदन के अनुसार आवेदित क्षेत्र में लौह अयस्क पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है इसलिए जिला दक्षिण बस्तर दंतेवाड़ा की तहसील कुआकोंडा स्थित बैलाडीला डिपॉजिट नंबर 14 एनएमजेड कंपार्टमेंट नंबर 626,627, 638,639 और 640 के कुल रकबा 506.742 हेक्टेयर क्षेत्र पर खनिज लौह अयस्क के स्वीकृत खनिपट्टा को मैसर्स नेशनल मिनरल डेवलपमेंट कारपोरेशन लिमिटेड के पक्ष में खनिज (सरकारी कंपनी द्वारा खनन) नियम 2015 के परिपेक्ष में 20 वर्ष के लिए 7 दिसंबर 2015 से 6 दिसंबर 2035 तक (कुल अवधि 70 वर्ष) के लिए कुछ शर्तों के साथ विस्तारित किया गया है। एनएमडीसी को एमएमडीआर एक्ट 1957, वन संरक्षण अधिनियम 1960, वन,पर्यावरण अधिनियम 1980 के तहत सभी नियमों और निर्देशों का पालन सुनिश्चित करना होगा। इसी तरह खनिज (परमाणु और हाइड्रोकार्बन ऊर्जा खनिजों से भिन्न) रियायत नियम 2016 के नियम के अंतर्गत छत्तीसगढ़ राज्य में संचालित लौह आधारित उद्योगों को उनके आवश्यकतानुसार लौह अयस्क की आपूर्ति निरंतर बनाए रखी जानी होगी। खनि पट्टा स्वीकृत आदेश दिनांक 20 अप्रैल 1965 एवं नवीनीकरण आदेश दिनांक 29 जून 2002 में उल्लेखित अन्य शर्तें यथावत लागू रहेंगी।

15-11-2019
छत्तीसगढ़ सरकार एनएमडीसी की माईनिंग लीज बढ़ाएगी: भूपेश बघेल 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शुक्रवार को अपने निवास कार्यालय में एनएमडीसी के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक एन. बैजेन्द्र कुमार से मुलाकात के दौरान कहा कि एनएमडीसी की माईनिंग लीज जो 30 मार्च 2020 को समाप्त हो रही है उसे राज्य सरकार आगे बढ़ाएगी। मुख्यमंत्री ने एनएमडीसी से जुड़े विभिन्न विषयों पर कुमार के साथ विचार-विमर्श किया। उन्होंने कहा कि एनएमडीसी और सीएमडीसी महासमुंद जिले के सरायपाली तहसील के हीरा धारित क्षेत्र में पूर्वेक्षण का काम करेगी। चर्चा के दौरान यह भी तय हुआ की छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मंडल द्वारा नगरनार इस्पात संयंत्र परियोजना में लगभग 1200 करोड़ रूपए की लागत से बनने वाली हाऊसिंग परियोजना का निर्माण किया जाएगा। इसी प्रकार छत्तीसगढ़ सरकार को एनएमडीसी द्वारा माईनिंग कार्यों से संबंधित जो राशि दी जानी है, उसके संबंध में भी सहमती बनी है। एनएमडीसी द्वारा खनन से संबंधित 600 करोड़ रूपए की बकाया राशि का भुगतान जल्द ही राज्य सरकार को किया जाएगा। चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू द्वारा शुरू की गई सार्वजनिक क्षेत्र की नवरत्न कंपनी एनएमडीसी को पूरा सहयोग राज्य सरकार देगी। मुख्यमंत्री ने एनएमडीसी के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक को एनएमडीसी के स्थापना दिवस और हीरक जयंती की शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर वन मंत्री मोहम्मद अकबर, खनिज संसाधन विभाग के विशेष सचिव पी. अन्बलगन और एनएमडीसी के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थें।


 

04-11-2019
राज्योत्सव: स्कूल, कॉलेज के विद्यार्थी स्टॉल में जाकर खनिजों के बारे में ले रहे जानकारी

रायपुर। विज्ञान के विद्यार्थियों के लिए राज्योत्सव में लगाए गए खनिज साधन विभाग का स्टॉल जिज्ञासा और कौतूहल का केन्द्र बना हुआ है। स्कूल, कॉलेज के विद्यार्थी और युवा यहां प्रदर्शित डोलोमाइट, ग्रेफाइट, बॉक्साइट, बेन्डेट हेमेटाइट क्वार्टजाइट, गेलेना जैसे अनेक बहुमूल्य खनिज पदार्थों को देखने का अवसर मिल रहा है तथा इन खनिजों के बारे में दिलचस्पी के साथ जानकारी भी ले रहे हैं। साइंस कॉलेज मैदान में आयोजित राज्योत्सव में खनिज गतिविधियों एवं योजनाओं की महत्वपूर्ण उपलब्धियों की जानकारी जनसामान्य के लिए प्रदर्शित की गई है। खनिज साधन विभाग द्वारा किए जा रहे कार्यों में पारदर्शिता एवं प्रक्रिया के सरलीकरण के उद्देश्य से विभाग द्वारा वेब बेस्ड ‘खनिज ऑनलाईन पोर्टल का भी प्रदर्शन किया जा रहा है। पोर्टल के तहत प्रदेश में एसईसीएल, एनएमडीसी, बीएसपी, बाल्को, हिंडालको सहित अनेक सीमेंट संयंत्रों एवं क्रशर, वॉशरी संचालकों द्वारा सफलतापूर्वक खनिज आधारित व्यवसाय का संपादन किया जा रहा है।
विभागीय अधिकारियों ने बताया कि पोर्टल के तहत प्रथम फेज में मुख्य खनिज तथा कोयला, लौह अयस्क, बॉक्साइट, चूनापत्थर खानों में सिंगल पॉइंट पेमेंट, ऑनलाईन आवेदन, ई-परमिट, ई-ट्रांजिट पास, खनिज वाहनों का ई-पंजीयन इत्यादि सुविधाओं से जहां एक ओर इस कार्य में संलग्न व्यवसायियों, संस्थानों का कार्य व्यवस्थित एवं सरलीकृत हो गया है। वहीं वर्ष में विभाग को भी खानों के रेगुलेशन में भी सुविधा हुई है। खनिज ऑनलाईन पोर्टल में माह अक्टूबर 2019 तक कुल 108 लीज होल्डर्स, 159 लायसेंसी, 2520 एण्ड यूजर्स एवं 51 हजार 740 वाहन सफलतापूर्वक पंजीकृत होकर कार्य कर रहे हैं। पोर्टल से पांच हजार 611 करोड़ रूपए का राजस्व प्राप्त हुआ है एवं 31 लाख से अधिक ई-ट्रांजिट पास जारी किया जा चुका है। अधिकारियों ने बताया कि आईटी क्षेत्र में हो रहे सतत बदलावा एवं खनिज ऑनलाइन योजना अंतर्गत वर्तमान में संचालन की उपर्युक्त स्थित, ट्रांजेक्शनल फैक्ट्स के अलावा इसके अंतर्गत प्रमुख व्यवस्था, स्टेकहोल्डर्स की सुविधा एवं पोर्टल को और प्रभावी करने के उद्देश्य से खनिज ऑनलाईन 2.0 प्रस्तावित किया गया है। प्रस्तावित खनिज ऑनलाईन 2.0 परियोजना में नये मॉड्यूल जैसे मोबाइल एप्लीकेशन, व्हीकल ट्रेकिंग सिस्टम, कमाण्ड कंट्रोल सेंट्रल जैसे विभिन्न नवाचार के साथ खान एवं खनिज संबंधी सम्पूर्ण कार्य डिजिटल और पेपरलेस करते हुए खनिज ऑनलाइन को अपने नए स्वरूप में बहुआयामी और सारे हितधारको के लिए सरल बनाया जा रहा है। 

28-06-2019
एनएमडीसी नक्सल क्षेत्रों के आईआईटी में चुने गए विद्यार्थियों को देगी पांच लाख

रायपुर। राष्ट्रीय खनिज विकास निगम(एनएमडीसी) छत्तीसगढ़ के धूर नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले में स्थानीय प्रशासन के सहयोग से चलाई जा रही छू-लो-आसमान योजना के तहत आईआईटी एवं एम्स में चुने जाने वाले विद्यार्थियों को पांच लाख रुपये की सहायता प्रदान करेंगा। राष्ट्रीय खनिज विकास निगम (एनएमडीसी) के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक एन.बैजेन्द्र कुमार ने यह जानकारी देते हुए बताया कि कॉरपोरेट सामाजिक जिम्मेदारी के तहत एनएमडीसी और जिला प्रशासन दंतेवाड़ा द्वारा चलाई जा रही छू-लो-आसमान योजना के तहत विद्यार्थियों की इंजीनियरिंग एवं मेडिकल प्रवेश परीक्षा के लिए कोचिंग दी जा रही है।

इस वर्ष योजना के तहत कोचिंग लेने वाले चार विद्यार्थियों ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान( आईआईटी) में प्रवेश के लिए क्वालिफाई किया है। उन्होंने बताया कि एनएमडीसी की ओर से आईआईटी और एम्स में विद्यार्थियों के चयन होने पर पांच-पांच लाख रुपये की राशि उनके पाठ्क्रम के दौरान समान वार्षिक किश्तों प्रदान की जाएगी। योजना में इस वर्ष मेडिकल प्रवेश परीक्षा(नीट में 39, एनआईटी में 11, विद्यार्थियों ने क्वालिफाई किया है। इनमें से 06 विद्यार्थियों को एमबीबीएस कोर्स में प्रवेश मिलने की संभावना है।उल्लेखनीय है कि छू-लो-आसमान योजना में कक्षा 8वीं के प्रतिभाशाली बच्चों का प्रवेश परीक्षा के माध्यम से चयन कर उन्हें 9 वीं से 12 वीं कक्षा की स्कूल की पढाई के साथ-साथ इंजीनियरिंग और मेडिकल की प्रवेश परीक्षाओं की विशेष कोचिंग दी जाती है। योजना संचालन के लिए प्रतिवर्ष चार करोड़ की राशि एनएमडीसी की ओर से उपलब्ध करायी जाती है। इस योजना के तहत विद्यार्थियों को नि:शुल्क गणवेश और कक्षा के साथ ही प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए पुस्तकें उपलब्ध करायी जाती है।

28-06-2019
एनएमडीसी 1395 करोड़ के भेल के साथ हुए करार को करेगा रद्द

रायपुर। सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम राष्ट्रीय खनिज विकास निगम (एनएमडीसी) ने छत्तीसगढ़ के नगरनार में निमार्णाधीन इस्पात संयंत्र के लिए भारत हैवी इलेक्ट्रिकल लिमिटेड(भेल)के साथ.. रा मैटेरियल हैंडलिंग सिस्टम..लगाने के 1395 करोड़ रूपए के हुए करार को रद्द करने का निर्ण? लिया है।
एनएमडीसी के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक एन.बैजेन्द्र कुमार ने  इसकी पुष्टि करते हुए शुक्रवार को कहा कि करार को रद्द करने के लिए भेल को नियमानुसार नोटिस जारी किया गया है। उन्होंने इसे प्रक्रियाधीन बताते हुए और जानकारी देने से मना कर दिया लेकिन स्वीकार किया कि इस वजह से नगरनार संयंत्र के उत्पादन शुरू होने में निरन्तर देरी हो रही है।
एनएमडीसी के सूत्रों के अनुसार छत्तीसगढ़ में बस्तर जिले के नगरनार में स्थापित किए जा रहे इस्पात संयंत्र में रा मैटेरियल हैंडलिंग सिस्टम..लगाने के लिए भेल के साथ एक अगस्त 2011 में करार हुआ था। 1395 करोड रुपये के इस करार के अनुसार भेल को 28 फरवरी 2014 तक सिस्टम को लगाना था। करार को पूरा करने की नियत तिथि को पांच वर्ष से भी अधिक हो चुके है,पर कब तक यह काम भेल पूरा करेगा कुछ भी स्पष्ट नहीं है।
सूत्रों के अनुसार एनएमडीसी ने अपने स्तर से भेल से करार को पूरा करवाने का काफी प्रयास किया,लेकिन उसे कामयाबी नहीं मिली। इस मामले में भेल की तरफ से हो रही लेटलतीफी की जानकारी प्रधानमंत्री कार्यालय को भी दी गई,जिसके बाद वहां से भी कड़े निर्देश दिए गए पर उसके बाद भी भेल की ओर सो कोई कारगर पहल होती नहीं दिखाई पड़ी।
आखिरकार एनएमडीसी ने भेल के साथ 1395 करोड़ रुपए के अनुबंध को 95 महीने बाद भी पूरा नहीं किए जाने के आधार पर रद्द करने का निर्णय लिया है। एनएमडीसी ने अनुबंध रद्द करने के लिए नियमानुसार भेल को दो दिन पहले नोटिस भेज दिया है।

14-06-2019
दंतेवाड़ा में एनएमडीसी की ग्रुप सी और डी की परीक्षा का कांग्रेस ने किया स्वागत

 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर एनएमडीसी द्वारा अब दंतेवाड़ा में ग्रुप सी और ग्रुप डी की भर्ती परीक्षा आयोजित किए जाने के फैसले का स्वागत करते हुए प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा है कि अब इससे छत्तीसगढ़ और खासकर बस्तर के नौजवानों को एनएमडीसी में काम मिलना आसान होगा। छत्तीसगढ़ के और खासकर बस्तर के रहने वाले नौजवानों को इन परीक्षाओं में प्राथमिकता के आधार पर भर्ती किया जाना आवश्यक है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा एनएमडीसी के आगे पुरजोर तरीके से नौजवानों और बेरोजगारों की बात को रखने के परिणाम स्वरूप ही यह निर्णय संभव हो पाया है। इसी तरह नगरनार में स्टील प्लांट के मुख्यालय रखे जाने के मुख्यमंत्री की पहल पर लिये गये निर्णय का कांग्रेस ने स्वागत किया है। इस मांग को पूरी कराने  में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी ने बड़ी सकारात्मक पहल की है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804