GLIBS
27-12-2020
अवैध रेत परिवहन पर तहसीलदार ने की कार्यवाही,बनाया पंचनामा

कांकेर। भानुप्रतापपुर तहसीलदार के द्वारा चारामा की ओर से रेत से भरी हाइवा को रोक  रॉयल्टी की चेकिंग की गई। हाइवा चालक के पास किसी भी तरह की रॉयल्टी नहीं होने के कारण उस पर कार्यवाही की गई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार हाइवा क्रमांक सीजी 04 जेडी 6623 में रेत भरकर चारामा से भानुप्रतापपुर की ओर आ रही हाइवा को भानुप्रतापपुर तहसीलदार द्वारा रोककर पूछताछ की तो ड्रायवर के द्वारा ना तो संतुष्टि जनक उत्तर दिया गया और ना ही उसके पास रेत परिवहन के लिए आवश्यक कागजात मिले। जो कागजात चालक ने प्रस्तुत किये उसमें ना तो तिथी अंकित थी और न ही समय का उल्लेख था। हाइवा चालक ने बताया की वह चारामा ब्लाक के चिनौरी नदी से रेत लेकर आ रहा है तथा रेत को भानुप्रतापपुर ब्लाक के केवटी ग्राम में खाली करने की बात कही।

परंतु चालक के द्वारा प्रस्तुत रायल्टी में रेत माहुद से भिलाई ले जाने की अनुमति अंकित थी। इसके अलावा रेत की मात्रा भी हाइवा के क्षमता से अधिक दिख रही थी तथा रेत से अधिक मात्रा में पानी भी निकल रहा था,जिससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि उक्त रेत किसी डम्प स्थान से ना लाकर सीधे नदी से ही निकाली गई है।  इस पर तहसीलदार आंनदराम नेताम ने हाइवा को भानुप्रतापपुर पुलिस थाना में पंचनामा बनाकर सुपुर्द कर दिया तथा अवैध रेत परिवाहन का मामला दर्ज कर लिया है।

11-12-2020
मांगों के लिए अधिकारी-कर्मचारियों ने किया धरना प्रदर्शन,मुख्यमंत्री के नाम तहसीलदार को सौंपा ज्ञापन

बीजापुर। जिला मुख्यालय स्थित लाइवलीहुड कॉलेज के सामने छत्तीसगढ़ अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन के द्वारा 20 सूत्रीय मांगों को लेकर धरना प्रदर्शन किया गया। मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ के नाम बीजापुर तहसीलदार टीपी साहू को ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन के अनुसार शासन की उपेक्षा पूर्ण रवैया के लोकतांत्रिक विरोध एवं मांगों के निराकरण के लिए शासन का ध्यान आकृष्ट करने की चरणबद्ध आंदोलन करने का निर्णय लिया है। कर्मचारियों की विभिन्न मांगों में लिपिक संवर्ग के वेतन विसंगति का निराकरण साथ ही शिक्षक एवं स्वास्थ्य संवर्ग सहित अन्य कर्मचारी संवर्ग का वेतन विसंगति निराकरण। प्रदेश के कर्मचारियों और पेंशनरों को जुलाई 2019 का  एवं जनवरी 2020 का महंगाई भत्ता स्वीकृति आदेश जारी करने तथा छत्तीसगढ़ वेतन पुनरीक्षण नियम 2017 का बकाया एरियर चार किस्तों के भुगतान के लिए आदेश जारी करने सभी विभागों में लंबित समवर्गीय पदोन्नति क्रमोन्नति समय मान तथा तृतीय समय मान वेतनमान का लाभ समय सीमा में प्रदान करने सहायक पशु चिकित्सा अधिकारी एवं सहायक शिक्षक पद पर नियुक्त शिक्षकों को तृतीय समान वेतन स्वीकृति आदेश जारी करने शासकीय सेवा के दौरान कोरोना संक्रमण से मृत कर्मचारियों एवं अधिकारियों के परिवार को राजस्थान सरकार के आदेश के तर्ज पर 50 लाख अनुग्रह राशि बता दिए जाने अनियमित कर्मचारियों को नियमित किया जाए।

अनियमित कर्मचारियों को नियमित करने जन घोषणा पत्र में उल्लेखित चार स्तरीय पदोन्नत वेतनमान स्वीकृति आदेश जारी करने तथा घोषणा पत्र में उल्लेखित अन्य मांगों को पूरा करने छत्तीसगढ़ वेतन पुनरीक्षण नियम 2017 के मूल वेतन के आधार पर गृह भाड़ा भत्ता सहित अन्य समस्त भत्ता लागू करने राज्य में पुरानी पेंशन योजना लागू करने के पदों पर  के बंधन को मुक्त करते हुए समय सीमा के भीतर अनुकंपा नियुक्ति के समस्याओं का निराकरण करने चतुर्थ श्रेणी कार्यभारित आकस्मिक सेवा के कर्मचारियों को नियमित पदों पर पदस्थापना समायोजित करते हुए नियमित कर्मचारियों के समान वेतन एवं पेंशन का लाभ देने प्रदेश के पटवारियों को पदोन्नति एवं लैपटॉप के साथ उनके कार्यालय में कंप्यूटर की सुविधा देने को भुगतान के लिए राज्य पुनर्गठन अधिनियम की धारा 49 को द्वारा तत्काल भारतीय स्टेट बैंक गोविंदपुरा भोपाल से रायपुर छत्तीसगढ़ में स्थापित करने एवं करने का के लिए ज्ञापन सौंपा जाना है। आज के एक दिवसीय धरना प्रदर्शन के दौरान जिला संयोजक संभाग संयोजक गजेंद्र चौहान,प्रांतीय संयोजक जिला कार्यकारिणी में अध्यक्ष जाकिर खान,उपाध्यक्ष गणपति माधवराव,महेश शेट्टी,नसीब खान,सचिव कैलाश चंद्र रामटेके, कोषाध्यक्ष लोकेश,महासचिव संतोष दास,इनके अलावा सुशील दुर्गम, बालेन्द्र सिंह राठौड़,फारुख शेख,वीराबाबू उपस्थित रहे।

 

11-12-2020
धान खरीदी में किसानों को न हो परेशानी, शिकायत के लिए जारी किए गए फोन नंबर

कोण्डागांव। कलेक्टर पुष्पेन्द्र कुमार मीणा ने सभी अनुविभागीय अधिकारी और तहसीलदारों को निर्देशित किया है कि सभी ग्रामों में कोटवारों से मुनादी कराकर स्वयं पटवारी किसानों से मिलकर गिरदावरी रकबा और धान पंजीकृत रकबा का मिलान करेंगेए यदि मिलान पश्चात् कोई कमी या त्रुटि पायी जाती है तो तत्काल जांच कर तहसीलदार की आईडी से उसका निराकरण किया जायेगा। इसके साथ ही सभी उर्पाजन केन्द्रों में धान पंजीकृत किसानों की सूची चस्पा कर दी गई है। जहां किसान जाकर अपनी धान पंजीकृत रकबा का जांच कर सकते है, कोई कमी पाये जाने पर उसे 3 दिन के भीतर सुधरवाया भी जा सकता है। इसके अलावा किसान अपने इलाके के पटवारी को या धान खरीदी केन्द्र प्रभारी को भी शिकायत कर सकते हैं। इस क्रम में जिला स्तर पर किसानों की शिकायत के निवारण के लिए कन्ट्रोल रूम भी बनाया गया है।

उक्त कन्ट्रोल रूम के प्रभारी खाद्य निरीक्षक फरसगांव नवीन श्रीवास्तव मोबाइल नंबर. 9407781390 रहेंगे। जिनपर किसी भी प्रकार की शिकायत प्राप्त होने पर 24 घंटे के भीतर समस्याओं का निराकरण करने का दायित्व होगा। इसके साथ ही पुलिस कन्ट्रोल रूम 9479191290ए 7470956665 पर भी संपर्क किया जा सकता है।इसके साथ ही सभी उर्पाजन केन्द्र प्रभारी और ऑपरेटरों को निर्देशित किया गया है कि किसानों की समस्या से अवगत होने पर तत्काल खरीदी केन्द्र स्तर पर ही निराकरण करें। इस क्रम में ऐसी समस्या जिनका निराकरण खरीदी केन्द्र स्तर पर किया जाना संभव नहीं होगा, उसे तत्काल कन्ट्रोल रूम जिला कार्यालय कोण्डागांव को अवगत कराने के लिए निर्देशित किया गया है।

09-12-2020
कलेक्टर ने तहसीलदारों से कहा, तीन दिन के भीतर करें किसानों के त्रुटिपूर्ण धान रकबे में सुधार

कोरबा। धान खरीदी के लिए किसानों के त्रुटिपूर्ण रकबे में अगले तीन दिनों में जांच कर वास्तविक सुधार किया जाएगा। कलेक्टर किरण कौशल ने बुधवार को समय सीमा की साप्ताहिक बैठक में इसके निर्देश सभी तहसीलदारों तथा राजस्व विभाग के मैदानी अमले को दिए हैं। कलेक्टर ने निर्देशित किया है कि धान खरीदी के लिए किसानों के रकबे में त्रुटि सुधार के लिए मिले आवेदनों तथा सूचना पर त्वरित कार्यवाही करते हुए पटवारियों से तत्काल जांच कराई जाए। किसान द्वारा वास्तविक रूप से बोए गए धान के रकबे के अनुसार मौका सत्यापन कर वास्तविक धान रकबे की इंट्री भुईयां मॉड्यूल में सुनिश्चित की जाए ताकि किसानों को धान बेचने में किसी प्रकार की परेशानी का सामना ना करना पड़े। किरण कौशल ने अगले तीन दिनों में किसानों के धान के रकबे में सुधार संबंधी सभी आवेदनों का निराकरण करने की जिम्मेदारी तीनों अनुभागों के अनुविभागीय राजस्व अधिकारियों को सौंपी है। बैठक में पुलिस कप्तान अभिषेक मीणा, नगर निगम आयुक्त एस. जयवर्धन, अपर कलेक्टर प्रियंका महोबिया सहित अन्य विभागों के वरिष्ठ अधिकारी तथा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा सभी अनुविभागीय राजस्व अधिकारी और मैदानी अमला भी मौजूद रहा।बैठक में कलेक्टर ने निर्देशित किया कि किसान पंजीयन के समय मिले आवेदन के संबंध में गिरदावरी की स्थिति का पता लगाया जाए।

यदि गिरदावरी अधूरी या त्रुटिपूर्ण है तो तत्काल मौका मुआयना कर सुधार किया जाए। यदि पंजीयन के दौरान किसी भी कारण से धान के वास्तविक बोए गए रकबे की इंट्री ना होकर कम रकबे की इंट्री हो गई है तो रकबे में तत्काल सुधार किया जाए। कलेक्टर ने यह भी निर्देशित किया कि पंजीकृत धान के रकबे में संशोधन के लिए आवेदन मिलने पर पर्याप्त परीक्षण कर तहसीलदारों द्वारा भुईयां पोर्टल में अपने लॉग इन आईडी से अनुमोदन के बाद रकबे के संबंध में गिरदावरी त्रुटि को ठीक कर उसकी सूचना प्राथमिक सहकारी साख समिति को भी दी जाए ताकि किसानों को समर्थन मूल्य पर समिति में धान बेचने में परेशानी ना हो। कलेक्टर ने धान खरीदी के लिए टोकन जारी करने में भी लघु-सीमांत किसानों को प्राथमिकता देने के निर्देश समिति प्रबंधकों को दिए। उन्होंने प्रतिदिन कुल जारी किए जाने वाले टोकनों में से 70 प्रतिशत टोकन 5 एकड़ से कम रकबे वाले किसानों तथा 30 प्रतिशत टोकन बड़े किसानों को जारी करने को कहा।कलेक्टर ने धान विक्रय संबंधी किसी भी समस्या के लिए किसानों को 112 या 100 नंबर पर फोन कर सूचना देने की सुविधा का व्यापक प्रचार-प्रसार करने के भी निर्देश बैठक में दिए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री बघेल द्वारा किसानों को दी गई इस सुविधा के बारे में गांवों में कोटवारों के माध्यम से मुनादी कराकर जानकारी किसानों तक पहुंचाई जाए। सभी ग्राम पंचायतों, लैंपस, सहकारी समितियों, सहकारी बैंक, पटवारी कार्यालय में भी इस संबंध में सूचना चस्पा की जाए। कलेक्टर ने बैठक में 112 या 100 नंबर पर फोन से प्राप्त शिकायतों पर भी त्वरित कार्यवाही करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। उन्होंने धान खरीदी के लिए प्रतिदिन जारी किए गए टोकन, खरीदी की मात्रा आदि की विस्तृत माॅनिटरिंग करते हुए हर दिन रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश अधिकारियों को दिए।   

 

09-12-2020
धान खरीदी केंद्र में किसान की मौत, जिला प्रशासन ने दिए जांच की आदेश

राजनांदगांव। जिले के धान उपार्जन केंद्र घुमका में गिधवा निवासी 52 वर्षीय करण साहू  43 कट्टा धान बेचने लाया था। इस दौरान उसकी मासूरी धान की तौलाई हुई थी, वहीं मोटा धान की गुणवत्ता खराब होने का हवाला देकर उससे मोटा धान की तौलाई के एवज में 500 सौ रुपयों की मांग की गई। तब किसान करण साहू ने अपनी गरीब परिस्थित का हवाला देकर पैसा नहीं होने की बात कही और 300 ही देने की स्थिति को बताया। लेकिन धान उपार्जन केंद्र में उसकी बात नहीं सुनी गई और अधिक पैसे की मांग करते हुए किसान का धान नहीं तौलने की धमकी दी गई। तब किसान ने अपने पुत्र को रुपए लाने घर भेजा। उसका पुत्र जब रूपये लेकर धान खरीदी केन्द्र पहुंचा तब तक काफी देर हो चुकी थी और उसके पिता की मौत हो गई थी। मृतक की पत्नी का आरोप है कि मोटा धान नहीं खरीदने और रुपए मांगे जाने के चलते सदमे से उसके पति की मौत हुई है। इस मामले की खबर प्रशासन तक पहुंची तो प्रशासनिक अमले में भी हड़कंप मच गया। बुधवार सुबह मामले की जांच के लिए कलेक्टर ने एसडीएम व तहसीलदार को मौके पर भेजा, जहां एसडीएम और तहसीलदार के समक्ष मृतक की पत्नी ने मोटा धान खरीदी के लिए रुपए मांगे जाने फिर सदमे की वजह से उसके पति की मौत होने का बयान दर्ज कराया है।

किसान करण साहू धान खरीदी केंद्र में ही गश खाकर धान के बोरे पर ही गिर पड़ा था, जहां से उसे आनन-फानन में खरीदी केंद्र में मौजूद लोगों के द्वारा पुलिस वाहन 112 को सूचित किया और फिर उसे घुमका अस्पताल ले जाया गया,जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।  इस मामले में घुमका थाने में भी शिकायत की गई है। घुमका क्षेत्र के एसडीओपी जीसी पति का कहना है कि किसान को शुगर और ब्लड प्रेशर की बीमारी थी, उसकी मौत किस वजह से हुई यह जांच का विषय है।किसान के शव को पोस्टमार्टम के लिए राजनंदगांव मेडिकल कॉलेज अस्पताल भेजा गया। बताया जा रहा है कि मृतक किसान के नाम बैंक में 15000 रूपये का कर्ज भी था, वही किसान को प्रबंधक द्वारा 50 कट्ठा धान बेचने का टोकन जारी किया गया था, लेकिन धान खरीदी केन्द्र में तौलाई के दौरान उससे रूपये की मांग की गई और उसके धान की गुणवत्ता खराब होने की बात कही गई थी,जिससे किसान सदमे में था। बहरहाल किसान की मौत की वास्तविक वजह क्या है ये पोस्टर्माट रिपोर्ट के बाद ही मालूम होगा लेकिन प्रशासन ने पूरे मामले की जांच करने के निर्देश दे दिए हैं।

04-12-2020
किसान आत्महत्या मामलाः कलेक्टर ने किया पटवारी को निलंबित,तहसीलदार को कारण बताओ नोटिस

कोंडागांव। जिले के बडेराजपुर ब्लाक के ग्राम मारंगपुरी के किसान धनीराम की आत्महत्या के मामले में कलेक्टर ने बड़ी कार्यवाही  करते हुए संबंधित पटवारी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया  है तथा तहसीलदार को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। इस विषय पर कलेक्टर पुष्पेंद्र कुमार मीणा ने अनुविभागीय अधिकारी राजस्व केशकाल से किसान की आत्महत्या के संबंध में त्वरित जानकारी मांगी थी। जांच में पाया गया कि किसान धनीराम का 2.713 हेक्टेयर भूमि पर धान बोया गया था लेकिन त्रुटि वश 0.320 हैक्टेयर में धान की प्रविष्टि हो गई थी। इससे वह मानसिक रूप से व्यथित था, फिलहाल पटवारी डोंगर नाग द्वारा की गई लापरवाही के कारण उसे तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। तहसीलदार बड़ेराजपुर एचआर नायक को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

 

04-12-2020
तहसीलदार की शिकायत पर लैम्पस के लेखापाल व ऑपरेटर पर  मामला दर्ज

कांकेर। बांदे लेम्पस के लेखापाल और ऑपरेटर की पखांजूर तहसीलदार द्वारा की गई शिकायत पर मामला दर्ज हुआ।  पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार प्रार्थी पखांजूर तहसीलदार शशिशंकर मिश्रा 37 वर्ष निवासी तहसीलदार कार्यालय ने रिपोर्ट दर्ज कराई है कि आरोपी लेखापाल सुब्रत मलिक 39 वर्ष एवं आपरेटर राधिका निर्मलकर निवासी बांदे द्वारा आनलाइन सुसाइटी माड्यूल तहसील माड्यूल के माध्यम से 8.15 हेक्टयर का फर्जी धान पंजीयन किया था। इसके फलस्वरूप राज्य शासन के 25 सौ रूपये प्रति क्वींटल की दर से कुल 7 लाख 53 हजार 8 सौ 75 रूपये की वित्तीय हानि करने के उद्देश्य से धोखाधड़ी करना पाया गया। शिकायत मिलने पर प्रशासन ने कार्यवाही करते हुए दोनों को तत्काल निलंबित कर दिया था। इसकी शिकायत अब पुलिस थाना में दर्ज कराई गई। वहीं पुलिस ने भी दोनों आरोपियों के खिलाफ भादिव की धारा 420, 407, 468, 471, 34 के तहत अपराध दर्ज कर जांच में लिया है।

 

24-11-2020
सैकड़ों ग्रामीणों ने बेजा कब्जा हटाने तहसीलदार को सौंपा ज्ञापन

जांजगीर चाम्पा। जिले के जैजैपुर क्षेत्र में इन दिनों शासकीय भूमि पर दबंगों द्वारा अवैध कब्जा कर घर और खेती का कार्य किया जा रहा है। गांवों में विकास कार्यों के लिए शासकीय भूमि नहीं बच पा रही है। मुरलीडीह के सैकड़ों ग्रामीणों ने तहसील कार्यालय जैजैपुर आकर तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा। ग्रामीणों ने बताया कि गांव के कुछ दबंगों ने लगभग 80-100 एकड़ शासकीय भूमि पर अवैध कब्जा कर खेती कर रहे हैं। गांव में शासकीय भूमि नहीं बची है, जिससे गांव में विकास हो और गांव में बुनियादी सुविधाएं मिल सकें। 

 

20-11-2020
पांचवी कक्षा के नितिन साहू बने तहसीलदार, कुर्सी पर बैठकर कहा-सभी की मदद करने की कोशिश करूंगा

दुर्ग। पांचवी कक्षा के छात्र नितिन साहू तहसीलदार बने। वे इस कुर्सी पर प्रतीकात्मक रूप से बैठे। उद्देश्य था बच्चों को सार्वजनिक जीवन के एक्सपोजर का। यह कार्यक्रम जिला प्रशासन के सहयोग से एमसीसीआर तथा यूनिसेफ ने किया। नितिन साहू तहसील आफिस की तय समयावधि में आफिस पहुंचे और तहसीलदार की कुर्सी पर बैठे। वहां पर उन्होंने उपस्थित मीडिया से अपनी प्राथमिकताएं भी साझा की। तहसीलदार बने नितिन ने कहा कि मेरे लिए अमीर और गरीब सब बराबर हैं। सबके साथ न्याय हो, इसके लिए भरपूर कोशिश करूंगा। जो भी मेरे पास अपनी समस्या लेकर आएगा, उसे हल करने की पूरी कोशिश करूंगा। अपने तहसील में कानून और व्यवस्था की स्थिति अच्छी रखने की दिशा में काम करूंगा। मैं स्कूल जाउंगा, आंगनबाड़ी भी जाऊंगा और देखूंगा कि वहां व्यवस्था कैसी है। मैं खूब काम करूंगा। नितिन ने बताया कि उन्हें बहुत अच्छा लग रहा है और वे अब खूब पढ़ाई करेंगे। यहां मौजूद तहसीलदार उमेश साहू एवं अन्य अधिकारियों ने भी नितिन की खूब प्रशंसा की और उसे कहा कि खूब पढ़ो और जिंदगी में बड़ा मुकाम हासिल करो। उन्होंने एमसीसीआर तथा यूनिसेफ की टीम को भी इस अच्छे कार्यक्रम के लिए बधाई दी। उन्होंने कहा कि ऐसे कार्यक्रमों से बच्चों का हौसला बढ़ता है और वे बेहतर करने की दिशा में आगे बढ़ते हैं।

 

27-10-2020
Breaking : कलेक्टर ने तहसीलदार मनीष देव साहू को धरसींवा में किया पदस्थ, आदेश जारी 

रायपुर। छत्तीसगढ़ शासन राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग के आदेशानुसार मनीषदेव साहू तहसीलदार की पदस्थापना रायपुर जिले में की गई है। आदेश के पालन में कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन ने मनीषदेव साहू को अतिरिक्त तहसीलदार धरसींवा के पद पर पदस्थ किया है। प्रमोद कुमार नायब तहसीलदार को तहसीलदार नजूल के पद पर पदस्थ किया है। इस संबंध में कलेक्टर कार्यालय रायपुर से 26 अक्टूबर को आदेश जारी किया गया है। यह आदेश जारी होने के दिनांक से तत्काल प्रभावशील हो गया है।

23-10-2020
अनुविभागीय अधिकारी और तहसीलदार ने सहकारी समिति में किया औचक निरीक्षण

गुंडरदेही। अनुविभागीय अधिकारी भूपेंद्र अग्रवाल और तहसीलदार अश्वन कुमार पूशाम ने सहकारी समिति कानदुल, अर्जुंदा, मटिया और ओडारसकरी में औचक निरीक्षण कर कृषकों के धान पंजीयन के बारे में जानकारी ली। किसानों के धान खरीदी के लिए पंजीयन कार्य में जल्द प्रगति लाने के निर्देश दिए। वहीं ग्लिब्स न्यूज से बातचीत में भूपेंद्र अग्रवाल ने बताया कि समिति प्रबंधकों को निर्देशित किया है कि किसानों को पंजीयन कराने में किसी प्रकार की समस्या नहीं होना चाहिए नहीं तो प्रबंधन समिति पर कार्यवाही होगी। गौरतलब है कि धान खरीदी शुरू होने से पहले सभी सोसाइटीओ में पंजीयन कराने किसानों को किसी प्रकार की समस्या से निपटने  अधिकारी लगातार निरीक्षण कर रहे हैं। साथ ही सभी हल्का पटवारियों को अपने—अपने क्षेत्र के समितियों में जाकर नियमित रूप से बैठक कर किसानों के पंजीयन से संबंधित रकबा संशोधन, रकबा सुथार, त्रुटि सुधार, फौती नामांतरण आदि समस्याओं का त्वरित निराकरण करते हुए कृषकों का धान पंजीयन जल्द करने के लिए निर्देशित किया है।

शब्बीर रिजवी की रिपोर्ट 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804