GLIBS
21-05-2020
अजीत जोगी का हाल जानने अस्पताल पहुंचे मोहन मरकाम

रायपुर। पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के स्वास्थ्य की जानकारी लेने पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम गुरुवार को अस्पताल पहुंचे। उन्होंने डॉ.रेणु जोगी, अमित जोगी से मुलाकात कर अजीत जोगी के स्वास्थ्य की जानकारी ली। इस दौरान विधायक विनय जायसवाल, चद्रदेव राय,पूर्व विधायक गुरुमुख सिंह होरा, आरके राय, चुन्नीलाल साहू, प्रेमचन्द जायसी,चन्द्रशेखर शुक्ला, गिरीश दुबे भी अजीत जोगी का हाल जानने अस्पताल पहुंचे थे।

19-05-2020
अजीत जोगी का स्वास्थ्य अभी हिमो डायनामिकली स्थिर, मेडिकल बुलेटिन जारी

रायपुर। छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के सोमवार को ब्लड प्रेशर और हार्ट रेट में जो अत्यधिक उतार-चढ़ाव चल रहा था, उसे डॉक्टरों ने लगातार सूक्ष्म निगरानी रखकर फिलहाल नियंत्रण में ले लिया है। डॉक्टर सुनील खेमका मैनेजिंग डायरेक्टर नारायणा हॉस्पिटल रायपुर ने कहा कि अजीत जोगी का स्वास्थ्य अभी हिमो डायनामिकली स्थिर है। वे लगातार कोमा में चल रहे हैं और वेंटिलेटर के माध्यम से सांस ले रहे हैं। उनकी हालत अभी लगातार गंभीर बनी हुई है।

18-05-2020
लू-नियंत्रण के लिए स्‍वास्‍थ्‍य केंद्रों में बनाया गया ओआरएस कार्नर

रायपुर/धमतरी। गर्मी में मौसमी बीमारियों के साथ ही लू से बचाव के लिए उपाय करना जरुरी है। गर्मी बढ़ने पर धूप में या खुले में जाना लू लगने के लिहाज से खतरनाक हो सकता है।धमतरी जिले के मगरलोड ब्लॉक के सामुदायिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र के अंतर्गत आने वाले 4 प्राथमिक स्‍वास्‍थ्‍य  केंद्रों व 26 उप स्‍वास्‍थ्‍य केंद्रों में बीएमओ डॉ.शारदा ठाकुर के निर्देश पर लू नियंत्रण कक्ष की स्थापना कर ओआरएस कार्नर बनाए गए हैं। यह सुविधा समुदाय के लिए निशुल्क उपलब्ध है| डॉ.ठाकुर ने बताया सभी स्वास्थ्य केन्द्रों में ओआरएस कार्नर बनाया गया है। लू के उपचार के लिए मितानिन, एएनएम, स्वास्थ्य कार्यकर्ता एवं चिकित्सक से मिलने की सलाह भी दी जाती है| उन्होंने कहा लू से बचने के लिए पानी के साथ ओआरएस के घोल का सेवन बार-बार करते रहना चाहिए।

ज्यादा जरुरी कार्य होने पर घरों से बाहर निकते वक्त धूप से बचाव के लिए चेहरे को ढकने के लिए गमछे का इस्तेमाल करना चाहिए। लू के लक्षणों में शरीर का तापमान बढने यानी बुखार आने की शिकायत पर चिकित्सक से सलाह लेकर ओआरएस का घोल पीना चाहिए। इन दिनों लॉकडाउन की वजह से प्रवासी मजदूरों का अपने घर वापसी के लिए दोपहर में सड़कों पर पैदल चलने से लू की चपेट में आने की समस्या हो सकती है। डॉ. शारदा ठाकुर ने बताया लू लगने के किडनी, दिमाग और दिल पर बुरा प्रभाव पड़ता है,जिससे इन अंगों की कार्यक्षमता प्रभावित होती है। लू लगने के बाद नाड़ी और सांस की गति तेज हो जाती है। कई बार देखा गया है कि त्वचा पर लाल दाने भी हो जाते हैं। कई लोगों को लू लगने पर बार-बार पेशाब की भी शिकायत हो जाती है और शरीर में जकड़न हो जाती है। अगर अचानक शरीर का तापमान बढ़ जाय या फिर सिर में तेज दर्द होना अचानक से शुरू होना लू लगने के लक्षण हैं।

डॉ.ठाकुर ने बताया, प्रवासी मजदूरों का स्‍वास्‍थ्‍य का परीक्षण में कोरोना वायरस के संदिग्ध् मरीजों की टेम्प्रेचर जांच और स्वाब सेम्पल लिया जा रहा है। इसके अलावा पैदल अन्य राज्यों से आने वाले मरीजों का भी लू के लक्षण पाए जाने पर लू नियंत्रण कक्ष में इलाज सुविधा रखा गया है। उन्होंने बताया कोविड-19 को लेकर सतर्कता बनाए रखते हुए मरीजों से सोशल डिसटेंसिंग का पालन और मास्क व सैनिटाइजर का उपयोग किया जा रहा है। धूप में निकलते वक्त छाते का इस्तेमाल करना चाहिए। सिर ढक कर धूप में निकलने से भी लू से बचा जा सकता है। घर से पानी या कोई ठंडा शरबत पीकर बाहर निकलें जैसे आम पना, शिकंजी, खस का शर्बत ज्यादा फायदेमंद है। तेज धूप से आते ही और ज्यादा पसीना आने पर फौरन ठंडा पानी नहीं पीना चाहिए। गर्मी के दिनों में बार-बार पानी पीते रहना चाहिए ताकि शरीर में पानी की कमी न हो। पानी में नींबू और नमक मिलाकर दिन में दो-तीन बार पीते रहने से लू लगने का खतरा कम रहता है।

17-05-2020
राज्य करेंगे जोन का रंग तय, बस सेवा होगी शुरू, होटल,सिनेमा हॉल, मॉल रहेंगे बंद

 नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने लॉक डाउन के चौथे चरण का ऐलान कर दिया है। अब देश में लॉक डाउन 31 मई तक लागू रहेगा। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इसके लिए दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं।

लॉक डाउन 4.0 में इन पर रहेगा प्रतिबंध

— सभी घरेलू और अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा पर प्रतिबंध जारी रहेगा। हालांकि, घरेलू स्वास्थ्य सेवाएं, घरेलू एयर एंबुलेंस और और गृह मंत्रालय से अनुमति प्राप्त सुरक्षा कारणों से हवाई सेवा का इस्तेमाल किया जाएगा। 

— मेट्रो रेल सेवाओं पर प्रतिबंध जारी रहेगा।
— स्कूल, कॉलेज, शिक्षण/प्रशिक्षण/कोचिंग संस्थान आदि बंद रहेंगे। ऑनलाइन और दूरस्थ शिक्षा को अनुमति रहेगी और इन्हें बढ़ावा भी दिया जाएगा। 
— होटल, रेस्टोरेंट और अन्य आतिथ्य सेवाएं बंद रहेंगी। उनको अनुमति होगी, जिनका इस्तेमाल स्वास्थ्य, पुलिस, सरकारी अधिकारियों, स्वास्थ्य कर्मियों, दूसरे स्थानों पर फंसे लोगों और क्वारंटीन केंद्रों के तौर पर किया जा रहा है। रेस्टोरेंट को भोजन की होम डिलिवरी करने की अनुमति रहेगी। 
— सभी सिनेमा हॉल, शॉपिंग मॉल, जिम, स्विमिंग पूल, मनोरंजन पार्क, थिएटर, बार, ऑडिटोरियम, सभागार और ऐसे सभी स्थान बंद रहेंगे। स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स और स्टेडिम को खुलने की अनुमति रहेगी हालांकि, दर्शकों को जाने की अनुमति नहीं होगी। 
— सभी सामाजिक, राजनीतिक, खेल संबंधी, मनोरंजन, शैक्षिक, सांस्कृतिक, धार्मित और अन्य भीड़ जमा करने वाले कार्यक्रमों पर रोक जारी रहेगी। 
— सभी धार्मिक स्थान जनता के लिए बंद रहेंगे। धार्मिक बैठकों पर सख्त प्रतिबंध रहेगा।


 इन चीजों की रहेगी अनुमति

— अंतरराज्यीय यात्रा के लिए वाहनों और बसों को अनुमति दी जाएगी। इसके लिए संबंधित राज्यों या केंद्रशासित प्रदेश की अनुमति जरूरी होगी। 
— राज्य के अंदर परिवहन के लिए वाहनों और बसों के संचालन का निर्णय राज्य व केंद्रशासित प्रदेश खुद करेंगे। 
— लोगों के आवागमन के लिए मानक संचालन प्रक्रियाएं (एसओपी) का पालन करना अनिवार्य होगा। 

 ग्रीन, ऑरेंज और रेड जोन को लेकर निर्देश
— ग्रीन, ऑरेंज और रेड जोन का निर्धारण राज्य और केंद्रशासित प्रदेश करेंगे। इसके लिए उन्हें केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा बताए गए मानकों का पालन करना होगा।
रेड और औरेंज जोन में कंटेनमेंट और बफर जोन का निर्धारण जिला प्राधिकरण द्वारा दिशानिर्देशों के मुताबिक किया जाएगा।

—कंटेनमेंट जोन में केवल आवश्यक गतिविधियों को इजाजत होगी। इन जोन से अंदर या बाहर लोगों का आवागमन न हो इस पर सख्त नजर रखी जाएगी। मेडिकल इमरजेंसी और आवश्यक सेवाओं और वस्तुओं की सप्लाई की स्थिति में ही लोगों को बाहर निकलने की अनुमति होगी। 
कंटेनमेंट जोन में बड़े स्तर पर कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग की जाएगी। घर-घर पर नजर रखी जाएगी और आवश्यकता के मुताबिक स्वास्थ्य सेवाओं का इस्तेमाल किया जाएगा।  

17-05-2020
अजीत जोगी के स्वास्थ्य में कोई सुधार नहीं, डॉक्टर कर रहे दिमाग को एक्टिव करने की कोशिश

रायपुर। पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का लगातार विशेषज्ञ डॉक्टर उपचार करने में लगे हैं लेकिन उनकी स्थिति गंभीर बनी हुई है। उनके दिमाग को एक्टिव करने की हर संभव कोशिश डॉक्टर कर रहे हैं। देश विदेश के विभिन्न डॉक्टर से संपर्क कर उपचार के संबंध में चर्चा भी की जा रही है। डॉ. सुनील खेमका ने बताया कि अजीत जोगी अभी भी कोमा में चल रहे हैं। राईल्स ट्यूब से उन्हें आहार दिया जा रहा है। श्रीनारायणा अस्पताल के न्यूरो फिजिशियन और न्यूरोसर्जन उनके मस्तिष्क का परीक्षण कर रहे हैं।

डॉक्टर अजीत जोगी के मस्तिष्क को एक्टिव करने के लिए टीसीडी, वीएनएस, इंफ्रारेड रेडिएशन सहित विभिन्न तकनीकों का उपयोग कर रहे हैं लेकिन अब भी स्थिति वैसी ही बनी हुई है। डॉ. खेमका ने बताया कि देश-विदेश के विभिन्न विशेषज्ञ चिकित्सकों की सलाह ली जा रही है। अस्पताल के डॉक्टर सहित डॉ. रेणु जोगी और अमित जोगी ने बेंगलुरु के निम्हांस हॉस्पिटल के न्यूरोलॉजी डिपार्टमेंट के प्रोफेसर डॉ. संजीब सिन्हा से अजीत जोगी के स्वास्थ्य के संबंध में चर्चा की। डॉ. सिन्हा सहित अन्य डॉक्टर एकमत हुए कि अजीत जोगी को जो ट्रीटमेंट अभी दिया जा रहा है उसे ऐसे ही जारी रखा जाए।

 

16-05-2020
अजीत जोगी के दिमाग का न्यूरोलॉजिस्ट ने किया परीक्षण, सिंगापुर के डॉक्टर से टेली कॉन्फ्रेंसिंग से ली सलाह

रायपुर। पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के स्वास्थ्य के संबंध में श्रीनारायणा हॉस्पिटल के डॉक्टर की टीम ने सिंगापुर के नेशनल यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल के न्यूरोलॉजिस्ट से टेली कॉन्फ्रेंसिंग से चर्चा की। इसमें डॉ रेणु जोगी और अमित जोगी भी शामिल हुए। डॉक्टर की टीम इस बात पर सहमत हुई कि जो ट्रीटमेंट अजीत जोगी को दिया जा रहा है उसे आगे भी जारी रखा जाएगा। श्री नारायणा हॉस्पिटल के डॉ. सुनील खेमका ने शनिवार को अजीत जोगी के स्वास्थ्य के संबंध में मेडिकल बुलेटिन जारी की। डॉ. खेमका ने बताया कि 9 मई को उन्हें रेस्पिरेटरी अरेस्ट और कार्डियक अरेस्ट होने के बाद अस्पताल में भर्ती हुए थे, उस दिन से वे लगातार कोमा में चल रहे हैं। उन्हें वेंटिलेटर से सांस दी जा रही है। उनकी स्थिति अभी भी गंभीर बनी हुई है।

डॉ. खेमका ने बताया कि कल 15 मई को नारायणा हॉस्पिटल के न्यूरोलॉजिस्ट ने अजीत जोगी के मस्तिष्क का परीक्षण किया। डॉक्टरों की टीम ने सिंगापुर के नेशनल यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल के न्यूरोलॉजी विभाग के प्रमुख डॉ. विजय कुमार शर्मा से टेली कॉन्फ्रेंसिंग से अजीत जोगी के स्वास्थ्य के संबंध में चर्चा की। इस कॉन्फ्रेंसिंग में डॉ रेणु जोगी और अमित जोगी भी शामिल थे। डॉ. खेमका ने बताया कि इस टेली कॉन्फ्रेंसिंग के बाद सभी डॉक्टर का अभिमत रहा कि अजीत जोगी को सपोर्टिव ट्रीटमेंट दिया जा रहा है उसे जारी रखा जाए साथ ही उनके मस्तिष्क समेत सभी अंगों पर लगातार नजर रखी जाए। इस दौरान उनके ब्रेन स्टेम में कुछ अर्थपूर्ण गतिविधि देखने को मिलती है तो उस स्थिति के अनुसार आगे ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल पर निर्णय लिया जाएगा।

14-05-2020
अजीत जोगी के अंगूठे में दो बार हलचल देखी गई, स्थिति गंभीर

रायपुर। पुर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के स्वास्थ्य को लेकर अस्पताल प्रबंधन ने मेडिकल बुलेटिन जारी किया है। बुलेटिन में उनकी स्थिति पहले जैसी ही बनी हुई है। मस्तिष्क की गतिविधियां बेहद कम है। उनका ह्रदय ब्लड प्रेशर और यूरीन आउटपुट नियंत्रित हैं। उन्हें वेंटीलेटर के माध्यम से सांस दी जा रही है। हालांकि उनके बाएं हाथ के अंगूठे में दो बार थोड़ी हलचल देखी गई जिस समय उनके अंगूठे में हलचल हुई उस वक्त उनके पुत्र अमित जोगी भी मौजूद थे। डॉक्टर उनके स्वास्थ्य पर लगातार नजर बनाएं हुए हैं फिलहाल उनकी स्थिति गंभीर बनी हुई है।

13-05-2020
मंत्री डहरिया और आरपी मंडल पहुंचे अस्पताल, जोगी के स्वास्थ्य की ली जानकारी  

रायपुर। नगरीय प्रशासन एवं श्रम मंत्री डॉ. शिव कुमार डहरिया और मुख्य सचिव आरपी मंडल ने आज राजधानी रायपुर के नारायणा अस्पताल पहुंचकर वहां इलाज के लिए भर्ती छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के स्वास्थ्य के सम्बन्ध में डॉक्टरों से जानकारी ली। इस मौके पर पूर्व  मंत्री धनेश पाटिला भी उपस्थित थे। मंत्री डॉ. डहरिया ने अजीत जोगी के परिजन से भी मुलाकात की और  अजीत जोगी के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ के लिए ईश्वर से प्रार्थना की। मंत्री डॉ. डहरिया ने डॉक्टरों से अजीत जोगी को इलाज की बेहतर से बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने को कहा।

11-05-2020
Video : अजीत जोगी का स्वास्थ्य जानने धरमलाल कौशिक, सरोज पाण्डे और विक्रम उसेंडी पहुंचे अस्पताल

रायपुर। पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के स्वास्थ्य की जानकारी लेने नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, सासंद सरोज पाण्डेय और प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी अस्पताल पहुंचे। अमित जोगी और रेणु जोगी से उन्होंने चर्चा कर अजीत जोगी के स्वास्थ्य की जानकारी ली। उन्होंने अजीत जोगी के जल्द ठीक होने की कामना की। बता दें कि बंगले में गंगा इमली खाने के दौरान बीज अजीत जोगी के सांस नली में फंस गया था। इसके बाद तकलीफ होने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उनकी स्थिति चिंताजनक बनी हुई है। यहां विशेषज्ञ डॉक्टर की टीम उनकी देखभाल कर रही है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804