GLIBS

लोकप्रिय
24-01-2022
रेलवे ने नहीं बढ़ाया किराया, रायपुर रेलवे स्टेशन में पहले दिन बने 16 एमएसटी

रायपुर। रेल से रोजाना सफर करने वाले दैनिक यात्रियों को रेलवे ने कोरोनाकाल के लंबे समय बाद बड़ी सुविधा दी है। लोकल ट्रेनें अभी भले ही स्पेशल के रूप में चल रही हैं,। लेकिन मासिक टिकट पास का किराया नहीं बढ़ाया गया है। पहले जैसा ही रायपुर से आसपास के शहरों की एमएसटी बन रही हैं। 22 महीने बाद एमएसटी की सुविधा रेलवे ने लोकल ट्रेनों के लिए बहाल किया है। पहले दिन रविवार होने की वहज से रायपुर टिकट काउंटर से 16 यात्रियों ने अपना एमएसटी बनवाया। अब वे आसानी से आ-जा  सकेंगे। उन्हें रेलवे के टिकट काउंटरों से रोजाना टिकट लेने की झंझट का सामना नहीं करना पड़ेगा। उक्त जानकारी रायपुर रेलवे स्टेशन के डायरेक्टर राकेश सिंह ने दी।

24-01-2022
रेल यात्रियों के लिए खुशखबरी, अब टिकट के लिए नहीं लगानी पड़ेगी लंबी लाइन, यहां से भी करा सकेंगे बुक

नई दिल्ली। ट्रेन से यात्रा करने वाले लोगों के लिए अच्छी खबर है। अब यात्रियों को टिकट के लिए स्टेशनों पर लंबी लाइनें नहीं लगानी पड़ेगी। दरअसल अब यात्री ट्रेन का टिकट नजदीकी पोस्ट ऑफिस से भी बुक करवा सकेंगे। आईआरसीटीसी ने यह सुविधा उत्तर प्रदेश में शुरू की है।

पिछले दिनों रेलवे मंत्री अश्विनी वैष्णव ने पोस्ट ऑफिस से रेल टिकटों की बुकिंग की सेवा को हरी झंडी दिखाई थी। रिपोर्ट्स के अनुसार उत्तर प्रदेश में 9147 पोस्ट ऑफिसेस में ट्रेन बुकिंग सेवा की शुरुआत की गई है। इससे दूर-दराज रहने वाले लोगों को ट्रेन के टिकट की बुकिंग करवाने की सुविधा मिल सकेगी। इससे यात्रियों के पास ट्रेवल एजेंट के पास जाने का समय और रुपए, दोनों की ही बचत होगी। 

23-01-2022
सात की जगह 15 दिन बढ़ना चाहिए धान खरीदी : बृजमोहन

रायपुर। भाजपा विधायक एवं पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने मुख्यमंत्री के 7 दिन धान खरीदी बढ़ाने की घोषणा पर चुटकी लेते हुए कहा है कि सरकार वही करती है जो हम कहते हैं लेकिन समय पर नहीं करती है। जिसके कारण धोखा खाती है। उन्होंने कहा कि धान खरीदी 7 दिन नहीं बल्कि 15 दिन बढ़ाया जाना चाहिए।

बता दें कि कि अग्रवाल पिछले कई दिनों से प्रदेश में हुई असमय बारिश से किसानों के धान भीगने तथा उनके रजिस्ट्रेशन होने में गड़बड़ी और कम्प्यूटर से किसानों का नाम डिलीट होने के साथ उनके टोकन में गड़बड़ी की शिकायत पर लगातार धान खरीदी को एक महीने बढ़ाने की बात कर रहे हैं। आज अचानक मुख्यमंत्री की ओर से धान खरीदी एक हफ्ते बढ़ाने की घोषणा हुई है।

अग्रवाल ने धान खरीदी की अवधि बढ़ाने पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि अगर यह समय सीमा पहले बढ़ा देते तो आज के जैसी भगदड़ नहीं मचती, किसानों में धान बेचने की इतनी मारामारी नहीं होती। उन्होंने कहा कि इतना कम समय किसानों के लिए पर्याप्त नहीं होगा, इससे किसानों में और भगदड़ मचेगी। अगर सरकार ठीक से धान खरीदना चाहती है, तो कम से कम पन्द्रह दिन और धान खरीदी की समय सीमा बढ़ाई जानी चाहिए।

आईएएस, आईपीएस सेवा नियम में बदलाव के मुद्दे पर मुख्यमंत्री के केन्द्र से विरोध पर उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री सिर्फ विरोध के लिए विरोध कर रहे हैं। अभी सभी राज्यों से रायशुमारी चल रही है। सभी को अपनी बात कहने का हक है, लेकिन कोई भी राज्य केन्द्र का विरोध कर अपना विकास नहीं कर सकता है। सभी राज्यों की जो राय होगी उसके अनुसार ही केन्द्र निर्णय लेगा। मुख्यमंत्री का विरोध केवल अपने नंबर बढ़ाने का प्रयास भर है।

23-01-2022
188 गोठानों में दाल और 148 में होगी तेल मिल की स्थापना

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शनिवार को गोधन न्याय योजना के तहत पशुपालक ग्रामीणों, गोठान समितियों और महिला स्व-सहायता समूहों को 4 करोड़ 21 लाख रुपए की राशि का ऑनलाइन भुगतान किया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा, सरकार की गोधन न्याय योजना को पूरे देश में एक आदर्श योजना के रूप में स्वीकार किया है। इस बार गणतंत्र दिवस के अवसर पर नई दिल्ली के राजपथ पर गोधन न्याय योजना की झांकी देश दुनिया के लोग देखेगें। गांवों में स्थापित गोठानों में आजीविका के साधनों को बढ़ाने रुरल इंडस्ट्रियल पार्क विकसित किए जा रहे है। प्रथम चरण में राज्य के 148 गोठानों में तेल मिल और 188 गोठानों में दाल मिल की स्थापना की जा रही है। इस मौक पर मुख्य सचिव अमिताभ जैन, अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, मुख्यमंत्री के सचिव सिद्धार्थकोमल परदेशी, गोधन न्याय योजना के राज्य नोडल अधिकारी डॉ. एस. भारतीदासन सहित अन्य मौजूद थे।

अब तक 122 करोड़ 17 लाख का भुगतान: गोबर खरीदी की एवज में अब तक गोपालकों को 122 करोड़ 17 लाख रुपए का भुगतान किया गया है।

23-01-2022
छत्तीसगढ़ में कोविड-19 के 5661 नए मामले

रायपुर। पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना वायरस से 5661 और लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। इसके साथ ही राज्य में शनिवार तक कोविड-19 की चपेट में आने वालों की कुल संख्या बढ़कर 10,91,868 हो गई।

 

राज्य में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि आज 245 लोगों को संक्रमण मुक्त होने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दी गई, वहीं 4980 लोगों ने घर में पृथकवास की अवधि पूरी की। राज्य में शनिवार को कोरोना वायरस से संक्रमित 11 और मरीजों की मृत्यु हो गई।

 

अधिकारियों ने बताया कि आज संक्रमण के 5661 नए मामले आए हैं। इनमें रायपुर से 1789, दुर्ग से 690, राजनांदगांव से 222, बालोद से 99, बेमेतरा से 65, कबीरधाम से 35, धमतरी से 132, बलौदाबाजार से 102, महासमुंद से 100, गरियाबंद से 14, बिलासपुर से 331, रायगढ़ से 390, कोरबा से 196, जांजगीर—चांपा से 294, मुंगेली से 181, गौरेला—पेंड्रा—मरवाही से 19, सरगुजा से 122, कोरिया से 62, सूरजपुर से 99, बलरामपुर से 20, जशपुर से 62, बस्तर से 102, कोंडागांव से 83, दंतेवाड़ा से 119, सुकमा से 105, कांकेर से 133, नारायणपुर से 36 और बीजापुर से 59 मामले शामिल हैं।

उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ में अब तक 10,91,868 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है, जिनमें से 10,46,971 मरीज इलाज के बाद संक्रमण मुक्त हो गए हैं। राज्य में 31181 मरीज उपचाराधीन हैं। राज्य में वायरस से संक्रमित अब तक 13,716 लोगों की मौत हुई है।

24-01-2022
फिल्म गहराइयां का पहला गाना रिलीज, एक दूसरे में डूबे दीपिका और सिद्धांत

मुंबई। अभिनेता सिद्धांत चतुर्वेदी और एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण की फिल्म 'गहराइयां' का पहला गाना आउट हो गया है। फिल्म के पहले गाने का नाम 'डूबे' हैं। रिपोर्ट्स के अनुसार डूबे गाने में दीपिका और सिद्धांत की स्टीमी केमिस्ट्री देखा जा सकता है। दोनों अपने-अपने पार्टनर्स के साथ मिलकर छुट्टी पर गए हैं। लेकिन दोनों पार्टनर को छोड़कर आपस में रोमांस करते नजर आ रहे हैं। गाने में सिद्धांत और दीपिका एक दूसरे को बार-बार किस करते हैं और फ्लर्ट करते नजर आ रहे हैं। वीडियो के बैकग्राउंड में सिंगर लोथिका की आवाज एकदम कमाल है।

23-01-2022
प्रधानमंत्री ने प्रमुख सरकारी योजनाओं के कार्यान्वयन पर विभिन्न जिलों के जिलाधिकारियों के साथ बातचीत की

दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विभिन्न जिलों के जिलाधिकारियों से वीडियो कॉन्‍फ्रेंस के माध्यम से प्रमुख सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन पर बातचीत की।

जिलाधिकारियों ने अपने अनुभव साझा किए जिससे कई संकेतकों पर उनके जिलों के कार्य निष्पादन में सुधार हुआ है। प्रधानमंत्री ने उनसे उन प्रमुख कदमों और उस प्रयास में उनके सामने आने वाली चुनौतियों के बारे में सीधे तौर पर फीडबैक मांगा, जिनके परिणामस्वरूप जिलों में सफलता मिली है। उन्होंने उनसे यह भी पूछा कि आकांक्षी जिलों के कार्यक्रम के तहत काम करना उनके पहले किए गए काम से कैसे अलग है। अधिकारियों ने बताया कि किस प्रकार जनभागीदारी इस सफलता के पीछे एक महत्वपूर्ण घटक रहा है। उन्होंने यह भी बताया कि कैसे उन्होंने अपनी टीम में काम करने वाले लोगों को दैनिक आधार पर प्रेरित किया और इस भावना को विकसित करने का प्रयास किया कि वे नौकरी नहीं कर रहे हैं, बल्कि एक सेवा कर रहे हैं। उन्होंने विभागों के बीच समन्वय बढ़ाने और डेटा द्वारा संचालित शासन के लाभों के बारे में भी बताया।

नीति आयोग के सीईओ ने एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट प्रोग्राम की प्रगति तथा कार्यान्वयन के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम किस प्रकार टीम इंडिया की भावना से प्रेरित प्रतिस्पर्धी और सहकारी संघवाद से लाभान्वित हुआ। इन प्रयासों के परिणामस्वरूप इन जिलों ने हर पैरामीटर में उल्लेखनीय रूप से बेहतर निष्पादन किया है। यह एक ऐसा तथ्य है, जिसे वैश्विक विशेषज्ञों द्वारा भी स्वतंत्र रूप से मान्यता दी गई है। बिहार के बांका से स्मार्ट क्लासरूम पहल, ओडिशा के कोरापुट में बाल विवाह को रोकने के लिए मिशन अपराजिता जैसे सर्वश्रेष्ठ कार्यों, आदि को अन्य जिलों द्वारा भी दोहराया गया। जिले के प्रमुख अधिकारियों के कार्यकाल की स्थिरता के साथ-साथ जिलों के निष्पादन का विश्लेषण भी प्रस्तुत किया गया।

ग्रामीण विकास सचिव ने आकांक्षी जिलों में किये गये केन्द्रित कार्यों की तर्ज पर चयनित 142 जिलों के उत्थान के मिशन पर प्रस्तुतीकरण दिया। इन चिन्हित जिलों के उत्थान के लिए केंद्र तथा राज्य मिलकर काम करेंगे ताकि अल्प विकास वाले क्षेत्रों की समस्याओं का हल किया जा सके। 15 मंत्रालयों और विभागों से जुड़े 15 क्षेत्रों की पहचान की गई। इन क्षेत्रों में, प्रमुख प्रदर्शन संकेतक (केपीआई) की पहचान की गई। सरकार का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि चयनित जिलों में केपीआई अगले एक वर्ष में राज्य के औसत से अधिक हो और वे दो वर्षों में राष्ट्रीय औसत के बराबर हो जाए। प्रत्येक संबंधित मंत्रालय/विभाग ने केपीआई के अपने सेट की पहचान की है, जिसके आधार पर जिलों का चयन किया गया था। इस पहल का उद्देश्य सभी हितधारकों के साथ मिलकर जिलों में विभिन्न विभागों द्वारा मिशन मोड में विभिन्न योजनाओं की पूर्णता के लक्ष्य को प्राप्त करना है। विभिन्न मंत्रालयों और विभागों के सचिवों ने इन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए उनके मंत्रालयों के प्रयासों के बारे में एक कार्ययोजना प्रस्तुत की।

अधिकारियों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि जब दूसरों की आकांक्षाएँ, अपनी आकांक्षाएँ बन जाएँ, जब दूसरों के सपनों को पूरा करना अपनी सफलता का पैमाना बन जाए, तो फिर वो कर्तव्य पथ इतिहास रचता है। उन्होंने कहा कि आज हम देश के एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट - आकांक्षी जिलों में यही इतिहास बनते हुए देख रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि विभिन्न कारणों से ऐसी स्थिति पैदा हुई है, जहां अतीत में आकांक्षी जिले पिछड़ने लगे थे। सर्वांगीण विकास को सुगम बनाने के लिए आकांक्षी जिलों के लिए विशेष हैंड-होल्डिंग की गई। स्थिति अब बदल गई है, क्योंकि आज आकांक्षी जिले, देश के आगे बढ़ने के अवरोध को समाप्त कर रहे हैं। आप सबके प्रयासों से, आकांक्षी जिले, आज गतिरोधक के बजाय गतिवर्धक बन रहे हैं। प्रधानमंत्री ने आकांक्षी जिलों में अभियान के कारण हुए विस्तार और नए स्वरूप के बारे में बताया। प्रधानमंत्री ने कहा कि इसने संविधान की संघीय भावना और संस्कृति को एक ठोस रूप दिया है, जिसका आधार केंद्र-राज्य और स्थानीय प्रशासन का टीम वर्क है।

प्रधानमंत्री ने जोर देकर कहा कि आकांक्षी जिलों में विकास के लिए प्रशासन और जनता के बीच सीधा कनेक्ट, एक इमोशनल जुड़ाव बहुत जरूरी है। एक तरह से गवर्नेंस का ‘टॉप टू बॉटम’ और ‘बॉटम  टू  टॉप’ फ़्लो और इस अभियान का महत्वपूर्ण पहलू है - टेक्नोलॉजी और इनोवेशन। प्रधानमंत्री ने उन जिलों के बारे में भी चर्चा की, जहां कुपोषण, स्वच्छ पेयजल और टीकाकरण जैसे क्षेत्रों में प्रौद्योगिकी और इनोवेशन के इस्तेमाल से बहुत  अच्छी सफलता मिली है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आकांक्षी जिलों में देश को जो सफलता मिल रही है, उसका एक बड़ा कारण है कन्वर्जेंस। सारे संसाधन वही हैं, सरकारी मशीनरी वही है, अधिकारी वही हैं लेकिन परिणाम अलग हैं। पूरे जिले को एक इकाई के रूप में देखने से अधिकारी को उनके प्रयासों की विशालता को महसूस करने तथा जीवन के उद्देश्य एवं सार्थक परिवर्तन लाने की संतुष्टि का एहसास होता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले 4 सालों में देश के लगभग हर आकांक्षी जिले में जन-धन खातों में 4 से 5 गुना की वृद्धि हुई है। लगभग हर परिवार को शौचालय मिला है, हर गाँव तक बिजली पहुंची है। उन्होंने कहा कि बिजली सिर्फ गरीब के घर में नहीं पहुंची है बल्कि लोगों के जीवन में ऊर्जा का संचार हुआ है। प्रधानमंत्री ने कहा कि कठिन जीवन के कारण आकांक्षी जिलों के लोग अधिक मेहनती, साहसी और जोखिम लेने में सक्षम हैं और इस ताकत को पहचाना जाना चाहिए।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आकांक्षी जिलों ने ये साबित किया है कि इंप्लीमेंटेशन में साइलो खत्म होने से, संसाधनों का ऑप्टिमम यूटिलाइजेशन होता है। उन्होंने जोर देकर कहा कि साइलो जब खत्म होते हैं तो 1+1, 2 नहीं बनता, 1 और 1, 11 बन जाता है। ये सामर्थ्य, ये सामूहिक शक्ति, हमें आज एस्पिरेशनल डिस्टिक में नजर आती है। आकांक्षी जिलों में शासन के दृष्टिकोण पर विस्तार से बताते हुए, प्रधानमंत्री ने कहा कि, सबसे पहले, लोगों से उनकी समस्याओं की पहचान करने के लिए परामर्श किया गया था। दूसरा, आकांक्षी जिलों में अनुभवों के आधार पर कार्यशैली को परिष्कृत किया गया और मापने योग्य संकेतकों, प्रगति की वास्तविक समय की निगरानी, जिलों के बीच स्वस्थ प्रतिस्पर्धा और अच्छी प्रथाओं की प्रतिकृति को प्रोत्साहित किया गया। तीसरे, अधिकारियों के स्थिर कार्यकाल जैसे सुधारों के माध्यम से प्रभावी टीमों के निर्माण को प्रोत्साहित किया गया। इससे सीमित संसाधनों में भी बड़े परिणाम प्राप्त करने में मदद मिली। प्रधानमंत्री ने उचित कार्यान्वयन और निगरानी के लिए क्षेत्र के दौरे, निरीक्षण और रात्रि विश्राम के लिए विस्तृत दिशानिर्देश विकसित करने के लिए कहा।

प्रधानमंत्री ने अधिकारियों का ध्यान न्यू इंडिया की बदली हुई सोच की ओर दिलाया। उन्होंने कहा कि आज आज़ादी के अमृतकाल में देश का लक्ष्य है सेवाओं और सुविधाओं का शत प्रतिशत  सैचुरेशन। यानी, हमने अभी तक जो उपलब्धियां हासिल की हैं, उसके आगे हमें एक लंबी दूरी तय करनी है और बड़े स्तर पर काम करना है। उन्होंने जिलों के सभी गांवों में सड़कें, आयुष्मान कार्ड, हर व्यक्ति का बैंक खाता, उज्ज्वला गैस कनेक्शन, बीमा, पेंशन आवास सभी के लिए समयबद्ध लक्ष्य पर जोर दिया। उन्होंने हर जिले के लिए दो साल के विजन का आह्वान किया। उन्होंने सुझाव दिया कि प्रत्येक जिला आम लोगों के जीवन को आसान बनाने के लिए अगले 3 महीनों में पूरे किए जाने वाले 10 कार्यों की पहचान कर सकता है। इसी तरह, इस ऐतिहासिक युग में ऐतिहासिक सफलता प्राप्त करने के लिए आजादी का अमृत महोत्सव के साथ 5 कार्यों को जोड़ सकते हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि डिजिटल इंडिया के रूप में देश एक साइलेंट रिवॉल्यूशन का साक्षी बन रहा है। हमारा कोई भी जिला इसमें पीछे नहीं छूटना चाहिए। उन्होंने जोर देकर कहा कि डिजिटल इनफ्रास्ट्रक्चर हमारे हर गाँव तक पहुंचे, सेवाओं और सुविधाओं की डोर स्टेप डिलिवरी का जरिया बने, ये बहुत जरूरी है। उन्होंने नीति आयोग से जिलाधिकारियों के बीच नियमित बातचीत का एक तरीका तैयार करने को कहा। केंद्रीय मंत्रालयों को इन जिलों की चुनौतियों का दस्तावेजीकरण करने को कहा गया था।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार के अलग-अलग मंत्रालयों ने, अलग-अलग विभागों ने ऐसे 142 जिलों की एक लिस्ट तैयार की है जो विकास में इतने पीछे नहीं हैं लेकिन जिन एक-दो पैरामीटर्स पर ये अलग-अलग 142 जिले पीछे हैं, अब वहां पर भी हमें उसी कलेक्टिव अप्रोच के साथ काम करना है, जैसे हम एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट  में करते हैं। श्री मोदी ने कहा,“ये सभी सरकारों के लिए, भारत सरकार, राज्य सरकार, जिला प्रशासन, जो सरकारी मशीनरी है, उसके लिए एक नया चैलेंज है। इस चैलेंज को अब हमें मिलकर पूरा करना है।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि जो सिविल सर्विसेस के साथी जुड़े हैं, उनसे मैं एक और बात याद करने को कहूंगा। आप वो दिन जरूर याद करें जब आपका इस सर्विस में पहला दिन था। आप देश के लिए कितना कुछ करना चाहते थे, कितना जोश से भरे हुए थे, कितने सेवा भाव से भरे हुए थे। आज उसी जज्बे के साथ आपको फिर आगे बढ़ना है।

 

 

23-01-2022
राजधानी में बढ़ता अपराध का ग्राफ़, बेलगाम चाकूबाजों ने आर्मी जवान के साथ कि मारपीट

रायपुर। राजधानी रायपुर में अपराध बेलगाम होते नजर आ रहा है। आए दिन सामने आ रहे चाकूबाजी, मारपीट और मर्डर की वारदातें से क्राइम का ग्राफ बढ़ता ही जा रहा है। वहीं आरोपियों के हौसले इतने बुलंद हो गए हैं कि अब आर्मी के जवान के साथ भी मारपीट कर रहे हैं।

जानकारी के अनुसार मोवा थाना पुलिस ने आर्मी के जवान के साथ मारपीट करने वाले 1 नाबालिग समेत 3 आरोपी को गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि आरोपी आसिफ अली और अब्दुल शाहिल समेत 1 नाबालिग ने मिलकर आर्मी के जवान को घेरकर उसके साथ मारपीट की।

24-01-2022
वान इलेक्ट्रिक मोटो प्राइवेट लिमिटेड ने उतारी बाजार में  ‘अर्बनस्पोर्ट’ नाम की इलेक्ट्रिक बाइसिकल

दिल्ली। इलेक्ट्रिक वाहन संबंधी स्टार्टअप वान इलेक्ट्रिक मोटो प्राइवेट लिमिटेड ने ‘अर्बनस्पोर्ट’ नाम की इलेक्ट्रिक बाइसिकल बाजार में उतारी है।

कौशल विकास एवं उद्यमशीलता राज्यमंत्री राजीव चंद्रशेखर ने कोच्चि में शुक्रवार को डिजिटल तरीके से आयोजित कार्यक्रम के जरिये देश में वान इलेक्ट्रिक मोटो ब्रांड लांच किया था।

कंपनी की ओर से जारी विज्ञप्ति के मुताबिक, यह ई-बाइक दो संस्करणों में पेश की गई है। इनमें अर्बनस्पोर्ट की कीमत 59,999 रुपये और अर्बनस्पोर्ट प्रो की कीमत 69,999 रुपये रखी गई है। शुरुआत में इनकी बिक्री कोच्चि में की जाएगी और उसके बाद गोवा, बेंगलुरु, मुंबई और हैदराबाद में भी बिक्री की जाएगी।

वान इलेक्ट्रिक के मुताबिक, इन वाहनों की अधिकतम गति 25 किलोमीटर प्रति घंटा है। कंपनी ने कहा कि महज आधी यूनिट बिजली में बाइक चार्ज हो जाती है जिस पर सिर्फ चार-पांच रुपये का ही खर्च आता है।

केरल विधानसभा में विपक्ष के नेता वी डी सतीशन और ऑयलमैक्स एनर्जी के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक कपिल गर्ग ने संयुक्त रूप से वान ई-बाइक भारतीय बाजार में उतारी।

कंपनी का दावा है कि इस ई-बाइक की बैटरी हटाई भी जा सकती है। इस श्रेणी के वाहन में यह सुविधा पहली बार दी गई है।

23-01-2022
परिसीमन के बाद जम्मू-कश्मीर में होंगे चुनाव: अमित शाह

नई दिल्ली/रायपुर। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर में मौजूदा परिसीमन प्रक्रिया पूरी होने के बाद विधानसभा चुनाव होंगे। उन्होंने कहा कि केंद्र शासित प्रदेश में स्थिति सामान्य होने पर इसे राज्य का दर्जा बहाल कर दिया जाएगा। अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के बाद यहां आंतकी घटनाओं में 40 प्रतिशत और मौतों में 57 प्रतिशत की कमी आई है।

24-01-2022
व्यवसायिक परीक्षा मंडल की परीक्षा में 7217 परीक्षार्थी नहीं हुए शामिल


दुर्ग/रायपुर। व्यवसायिक परीक्षा मंडल की रविवार को आयोजित परीक्षा में पहली पाली में 33870 परीक्षार्थी शामिल हुए। जबकि 6109 लोग परीक्षा में शामिल नहीं हुए। दूसरी पाली में 2464 परीक्षार्थी शामिल हुए, वहीं 1108 परीक्षार्थी गैरहाजिर रहे। इस प्रकार कुल 7217 परीक्षार्थी परीक्षा में गैरहाजिर रहे।

23-01-2022
इंडियन प्रीमियर लीग कि अगले महीने होने वाली नीलामी 12 और 13 फरवरी को बेंगलुरू में

दिल्ली। भारतीय बल्लेबाज श्रेयस अय्यर और स्पिनर युजवेंद्र चहल के अलावा आस्ट्रेलिया के आक्रामक बल्लेबाज डेविड वार्नर को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की अगले महीने होने वाली नीलामी में शीर्ष ड्रॉ रखे जाने की संभावना है। इस नीलामी के लिये 1,200 से अधिक खिलाड़ियों ने पंजीकरण कराया है।

श्रेयस और चहल के अलावा 10 टीमें सीनियर सलामी बल्लेबाज शिखर धवन, बल्लेबाज ईशान किशन, तेज गेंदबाज शार्दुल ठाकुर और दीपक चाहर, पिछली बार सर्वाधिक विकेट लेने वाले हर्षल पटेल और अवेश खान तथा स्पिनर राहुल चाहर और ऑलराउंडर वाशिंगटन सुंदर जैसे भारतीय खिलाड़ियों पर बोली लगाएंगे।

इन भारतीय खिलाड़ियों के लिये सात से 15 करोड़ रुपये तक की बोली लगायी जा सकती है जबकि विदेशी खिलाड़ियों में वार्नर और दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाज कागिसो रबाडा, इंग्लैंड के मार्क वुड, आस्ट्रेलिया के मिशेल मार्श और पैट कमिन्स तथा न्यूजीलैंड के ट्रेंट बोल्ट पर मोटी बोली लग सकती है। 

फाफ डुप्लेसिस और ड्वेन ब्रावो जैसे खिलाड़ियों में उनकी फ्रेंचाइजी चेन्नई सुपर किंग्स फिर से दिलचस्पी दिखा सकती है।

आईपीएल ने शनिवार को जारी बयान में कहा, ‘‘कुल 1214 खिलाड़ियों (896 भारतीय और 318 विदेशी) ने आईपीएल 2022 की नीलामी के लिये पंजीकरण करवाया है।’’ 

नीलामी 12 और 13 फरवरी को बेंगलुरू में होगी।

खिलाड़ियों की नीलामी से पहले विभिन्न टीम ने कुल 33 खिलाड़ियों को रिटेन किया है या चुना हे। मौजूदा आठ आईपीएल फ्रेंचाइजी ने कुल 27 खिलाड़ियों को रिटेन किया है, जिसमें चेन्नई सुपर किंग्स में महेंद्र सिंह धोनी, मुंबई इंडियन्स में रोहित शर्मा और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर में विराट कोहली शामिल हैं।

आईपीएल की दो नयी टीमों ने छह खिलाड़ियों को चुना है जिनमें हार्दिक पंड्या को अहमदाबाद और केएल राहुल को लखनऊ फ्रेंचाइजी का कप्तान नियुक्त किया गया है।

जिन खिलाड़ियों को रिटेन किया गया है उनमें जसप्रीत बुमराह, रविंद्र जडेजा, केन विलियमसन, जोस बटलर, ग्लेन मैक्सवेल आदि भी शामिल हैं।

इस बार भूटान के भी एक खिलाड़ी ने पंजीकरण कराया है जबकि अमेरिका के रिकार्ड 14 खिलाड़ियों ने पंजीकरण कराया है। 

विदेशों से आस्ट्रेलिया के सर्वाधिक 59 और दक्षिण अफ्रीका के 48 खिलाड़ियों ने नीलामी के लिये अपना दावा पेश किया है।

इसके अलावा वेस्टइंडीज (41), श्रीलंका (36), इंग्लैंड (30), न्यूजीलैंड (29) और अफगानिस्तान (20) कुछ अन्य देश हैं जहां से कई खिलाड़ियों ने पंजीकरण कराया है। नामीबिया (5), नेपाल (15), नीदरलैंड (1), ओमान (3), स्कॉटलैंड (1), जिम्बाब्वे (2), आयरलैंड (3) और संयुक्त अरब अमीरात (1) के खिलाड़ी भी नीलामी का हिस्सा बनेंगे।