GLIBS

11-02-2020
CH / NEWS
01:44pm

रायपुर।मशहूर भजन गायक अनूप जलोटा ने राष्ट्रीय पुरस्कार दिए जाने कि प्रक्रिया पर तंज कसा।उन्होंने यंहा तक कह दिया कि पाकिस्तान के राष्ट्रपति पूर्व क्रिकेटर इमरान खान अगर भारतीय बन जाये तो उन्हें पद्मभूषण दे दिया जाएगा।यंहा ये बताना जरूरी होगा कि पाकिस्तानी गायक अदनान सामी को पद्मश्री मिलने पर बॉलीवुड और संगीत की दुनिया से तीखी प्रतिक्रियाएं सामने आई थी।सीएए और एनआरसी पर पूछे गए सवालों के जवाब में उन्होंने कहा जिसे उसका मतलब तक पता नही है वे हंगामा कर रहे है और जो जानते है वे खामोश बैठे है जैसे कि मैं।उन्होंने कहा कि ये नागरिकता देने वाला कानून है छिनने वाला नही।अनूप जलोटा ने आये दिन खड़े होने वाले हिन्दू मुस्लिम विवाद पर बेहद तल्ख टिपण्णी की।उन्होंने कहा कि उनका बस चले तो रंगों को भी जाति में बांट दे।

17-01-2020
इसरो ने लॉन्च किया संचार उपग्रह जीसैट-30, इतने साल तक करेगा काम

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के नाम एक और कामयाबी जुड़ गई है। इसरो ने शुक्रवार को सुबह करीब दो बजकर 35 मिनट पर संचार उपग्रह जी-सैट 30 का प्रक्षेपण यूरोपीयन स्पेस एजेंसी एरियनस्पेस के फ्रेंच के गुआना में एरियन-5 व्हीकल से सफलतापूर्वक कर दिया। इसके थोड़ी देर बाद यह व्हीकल से अलग हो गया और अपनी कक्षा की ओर बढ़ गया। ये सैटेलाइट इनसैट-4ए की जगह लेगा। जीसैट-30 का वजन करीब 3,357 किलोग्राम है। वैज्ञानिकों का मानना है कि इस सैटेलाइट के सफल प्रक्षेपण के बाद कु-बैंड और सी-बैंड कवरेज में बढ़ोतरी होगी।

इससे भारतीय क्षेत्र और द्वीपों के साथ बड़ी संख्या में खाड़ी और एशियाई देशों के साथ ऑस्ट्रेलिया में पहुंच बढ़ेगी। जीसैट-30 संचार सैटेलाइट है जो 15 साल के मिशन के लिए प्रक्षेपित किया गया है। इसरो ने इस सैटेलाइट को 1-3केबस मॉडल में तैयार किया है, जो जियोस्टेशनरी ऑर्बिट के सी और कु-बैंड से संचार सेवाओं में मदद करेगा। इसरो के अनुसार इस सैटेलाइट की मदद से टेलीपोर्ट सेवा, डिजिटल सैटेलाइट न्यूज गैदरिंग, डीटीएच टेलिविजन सेवा, मोबाइल सेवा कनेक्टिविटी जैसे कई सुविधाओं को बेहतर करने में मदद मिलेगी। कु-बैंड सिग्नल से पृथ्वी पर चल रही गतिविधियों को पकड़ा जा सकता है।

04-01-2020
अगर पासवर्ड हुआ चोरी तो गूगल करेगा अलर्ट, जाने कैसे करे फीचर का इस्तेमाल  

नई दिल्ली। तेजी से डिजिटल हो रही दुनिया में शायद ही किसी का डाटा सुरक्षित है। आए दिन लोगों के डाटा लीक हो रहे हैं। चाहे फेसबुक हो, ट्विटर हो या फिर व्हाट्सएप ही क्यों ना हो। हर एक प्लेटफॉर्म पर निजी जानकारी लीक होने का खतरा बना रहता है। पिछले साल ही व्हाट्सएप यूजर्स की जासूसी हुई थी जिसके बाद पीड़ित लोगों ने भारत सरकार से भी सवाल पूछे थे। तो अब सवाल यह है कि कैसे पता चलेगा कि आपकी निजी जानकारी लीक हो रही है। आइए जानते हैं...

गूगल करेगा अलर्ट
लगातार लीक हो रहे डाटा के बाद गूगल ने अपनी एक नई सर्विस शुरू की है। गूगल की इस सर्विस का नाम गूगल पासवर्ड मैनेजर है। गूगल के इस पासवर्ड मैनेजर के जरिए आप अपने सोशल मीडिया अकाउंट समेत इंटरनेट बैंकिंग के पासवर्ड या किसी अन्य वेबसाइट के पासवर्ड को सुरक्षित रख पाएंगे। गूगल पासवर्ड मैनेजर का इस्तेमाल करने पर पासवर्ड बदलने का भी अलर्ट मिलेगा।

डाटा लीक हुआ है या नहीं, ऐसे करें चेक
गूगल के पासवर्ड मैनेजर में जाकर आपको पता लगा सकते हैं कि आपका कोई पासवर्ड लीक हुआ है या नहीं। इसके लिए आपको passwords.google.com पर जाना होगा। इसके बाद पासवर्ड मैनेजर खुल जाएगा जिसमें आपको चेक पासवर्ड का विकल्प मिलेगा जिसपर क्लिक करने के बाद गूगल आपसे उस सिस्टम पर पहले से लॉगिन जीमेल का पासवर्ड मांगेगा। पासवर्ड डालने के बाद गूगल आपको बता देगा कि आपका पासवर्ड कहीं इस्तेमाल हुआ है या नहीं। साथ ही यह भी बताएगा कि आपका पासवर्ड लीक हुआ है या नहीं।

पासवर्ड लीक की जानकारी मिलने पर तुरंत बदलें
उदाहरण के तौर पर यदि गूगल आपको पासवर्ड लीक होने की जानकारी देता है तो आपको तुरंत अपना पासवर्ड बदल लेना चाहिए। इसके अलावा टू फैक्टर ऑथेंटिकेशन को भी ऑन कर लेना चाहिए। पासवर्ड बदलते समय भी कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए, जैसे- पासवर्ड में अपना नाम या जन्म तारीख ना डालें। इसके अलावा पासवर्ड में मोबाइल नंबर के इस्तेमाल से भी बचें। साथ ही अपने जीमेल अकाउंट के पासवर्ड को समय-समय पर बदलते रहें।

 

11-12-2019
डिफेंस सैटेलाइट रीसैट-2 बीआर 1 सफलतापूर्वक लॉन्च

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन इसरो ने बुधवार को दोपहर 3.25 बजे ताकतवर राडार इमेजिंग सैटेलाइट रीसैट-2बीआर1 की सफल लॉन्चिंग की है। लॉन्चिंग के बाद अब देश की सीमाओं पर नजर रखना आसान हो जाएगा। ये सैटेलाइट रात के अंधेरे और खराब मौसम में भी काम करेगा। इस लॉन्चिंग के साथ ही इसरो के नाम एक और रिकॉर्ड बन गया है। इसरो ने 20 सालों में 33 देशों के 319 उपग्रह छोड़ा है। 1999 से लेकर अब तक इसरो ने कुल 310 विदेशी सैटेलाइट्स अंतरिक्ष में स्थापित किए हैं। 

 

15-11-2019
मिशन 'गगनयान' के लिए तैयार हुआ भारत, चुना गया 12 यात्रियों को

नई दिल्ली। भारत के अंतरिक्ष में पहले मानव मिशन गगनयान के लिए 12 संभावित यात्रियों को चुना गया है। वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने गुरुवार को कहा कि इसरो के पहले मानव मिशन गगनयान के लिए अंतरिक्ष यात्रियों का चुनाव पेशेवर तरीके से किया जा रहा है। बंगलूरू में आयोजित इंडियन सोसाइटी फॉर एयरोस्पेस मेडिसिन (आईएसएएम) के 58वें वार्षिक सम्मेलन के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए एयर चीफ मार्शल ने कहा कि संभावित अंतरिक्ष यात्रियों के चयन की प्रक्रिया जारी है। मेरा मनना है कि यह बहुत ही पेशेवर तरीके से किया जाएगा। इसरो के साथ बढ़ते संवाद से स्वयं चयन प्रक्रिया के प्रति समझ बढ़ी है।

भारतीय वायुसेना की भूमिका के बारे में भदौरिया ने कहा कि टीम इसरो के साथ समन्वय कर रही है और अंतरिक्ष यान के डिजाइन के पहलुओं को देख रही है जैसे कि जीवन रक्षक प्रणाली, कैप्सूल का डिजाइन, साथ ही विमानन चिकित्सा प्रकोष्ठ यह सुनिश्चित कर रहा है कि इसरो चुनौती का सफलतापूर्वक सामना कर सफलता प्राप्त करे। सम्मेलन को संबोधित करते हुए वायुसेना के चिकित्सा सेवा के महानिदेशक एयर मार्शल एमएस बुटोला ने बताया कि गगनयान के लिए यात्रियों के चयन का पहला चरण पूरा हो गया है और संभावित अंतरिक्ष यात्रा के लिए वायुसेना के चुने गए कुछ चालक दल सदस्यों का रूस में प्रशिक्षण भी पूरा हो गया है। उन्होंने कहा कि जो काम उन्हें दिया गया था उसे समयबद्ध तरीके से पूरा किया गया है। 

एक अधिकारी के मुताबिक, वायुसेना के 12 लोगों को गगनयान परियोजना के लिए संभावित यात्री के रूप में चुना गया है और इनमें से सात प्रशिक्षण के लिए रूस गए हैं। पहचान जाहिर नहीं करते हुए अधिकारी ने कहा कि रूस गए सात संभावित अंतरिक्ष यात्रियों के वापस आने के बाद चुने गए शेष संभावित यात्रियों को प्रशिक्षण के लिए भेजा जाएगा। गगनयान भारत का पहला मानव अंतरिक्ष मिशन है जिसे इसरो द्वारा दिसंबर 2021 तक प्रक्षेपित करने का लक्ष्य रखा गया है। इसरो भारतीय वायुसेना के साथ मिलकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपने को पूरा करने के लिए काम कर रहा है। अंतरिक्ष यात्रियों को पृथ्वी की निचली कक्षा में भेजा जाएगा और यान में पर्याप्त ऑक्सीजन और गगनयान के यात्रियों के लिए जरूरी अन्य सामान के साथ कैप्सूल जुड़ा होगा। पहले गगनयान यात्रियों के लिए अधिकतम आयु सीमा 30 साल रखी गई थी लेकिन इस आयु वर्ग का कोई भी पायलट शुरुआती परीक्षा उत्तीर्ण नहीं कर सके जिसके बाद अधिकतम उम्र 41 साल कर दी गई।

 

03-11-2019
बंद करने जा रहा है इंस्टाग्राम ये ऐप, यह है कारण...

नई दिल्ली। इंस्टाग्राम यूजर्स के लिए एक बड़ी खबर निकलकर सामने आई है। अगर आप भी इंस्टाग्राम का यूज ज्यादा करते हैं तो यह खबर आपके लिए ही है। फेसबुक के अधिग्रहण वाला इंस्टाग्राम सोशल मीडिया नियमों का उल्लंघन करने पर लाइक पेट्रोल नाम की एक ऐप को बंद करने जा रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक जिन लोगों ने उस ऐप को डाउनलोड किया है, उन्हें ये ऐप बाकी यूज़र्स की एक्टिविटी की जानकारी देता था। रिपोर्ट के अनुसार, इंस्टाग्राम ने अपने नियमों का उल्लंघन करने पर ऐप को बंद करने का आदेश भेज दिया है। इसके बाद उम्मीद है कि लाइक पेट्रोल डेटा इकट्ठा नहीं कर पाएगा और पब्लिशर्स को ऐप बंद करना पड़ेगा। फेसबुक के एक प्रवक्ता ने बताया, हमारी नीतियों का उल्लंघन करने में शामिल कंपनियों पर हम कार्रवाई करते हैं। लाइक पेट्रोल यूजर्स के डेटा को चुरा रहा था, इसलिए हम उसके खिलाफ उचित कार्रवाई कर रहे हैं।'

इससे पहले अक्टूबर में इंस्टाग्राम ने अपने फॉलोविंग टैब को खत्म कर दिया था। यह टैब उन पोस्ट्स और अकाउंट्स की जानकारी देता था जिनसे उनके फ्रेंड्स जुड़े हैं। इंस्टाग्राम ने अपने एक्सप्लोर टैब को 2011 में एक शुरुआती फीचर के रूप में अपना 'फॉलो' टैब लॉन्च किया था। इसके अलावा इंस्टाग्राम ने हाल ही में रेस्ट्रिक्ट नाम का एक नया मोड भी पेश किया है। इससे यूज़र्स उन लोगों पर रोक लगा सकेंगे जो उनके खिलाफ आपत्तिजनक कमेंट्स करते हैं।

02-11-2019
इसरो प्रमुख ने कहा, विक्रम लैंडर की कार्य योजना पर कर रहे हैं काम

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के प्रमुख के. सिवन ने कहा है कि वे विक्रम लैंडर की लैंडिंग के लिए कार्य योजना पर काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम विक्रम लैंडर की लैंडिंग के लिए प्रौद्योगिकी प्रदर्शित करना चाहते हैं। इसरो के 50 साल पूरे होने के मौके पर सिवन ने आईआईटी दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में यह बात कही। सिवन ने कहा कि आप सभी लोग चंद्रयान-2 मिशन के बारे में जानते हैं। तकनीकी पक्ष की बात करें तो यह सच है कि हम विक्रम लैंडर की सॉफ्ट लैंडिंग नहीं करा पाए, लेकिन पूरा सिस्टम चांद की सतह से 300 मीटर दूर तक पूरी तरह काम कर रहा था। हमारे पास बेहद कीमती डेटा उपलब्ध है। मैं भरोसा दिलाता हूं कि भविष्य में इसरो अनुभव और तकनीकी दक्षता के माध्यम से सॉफ्ट लैंडिंग का हरसंभव प्रयास करेगा। चंद्रयान-2 कहानी का अंत नहीं है। हमारा आदित्य एल 1 सोलर मिशन, ह्यूमन स्पेसफ्लाइट प्रोग्राम ट्रैक पर है। हम कई एडवांस सैटेलाइट्स को लॉन्च करने वाले हैं। एसएसएलवी दिसंबर-जनवरी में उड़ान भरेगा। 200 टन सेमी-क्रायो इंजन की टेस्टिंग और मोबाइल पर एनएवीआईसी सिग्नल भेजने पर भी जल्दी ही काम शुरू हो जाएगा। 

01-11-2019
बीएसएनएल ने दिया जिओ को बड़ा झटका, कॉल करने पर ग्राहकों को देगा पैसा

नई दिल्ली। रिलायंस जिओ ने हाल में अन्य नेटवर्क पर कॉल करने पर 6 पैसे प्रति मिनट चार्ज (आईयूसी) की घोषणा की। इसके बाद एयरटेल और वोडाफोन ने इसे मौके की तरह लेते हुए ग्राहकों से आईयूसी न लेने का ऐलान किया। अब सरकारी कंपनी बीएसएनएल ने इससे भी एक कदम आगे की घोषणा की है। बीएसएनएल अपने यूजर्स को हर 5 मिनट की वॉइस कॉल पर 6 पैसे देगा।

बीएसएनएल ने कहा है कि वह प्रत्येक 5 मिनट की वॉइस कॉल के लिए ग्राहक के खाते में 6 पैसे क्रेडिट करेगा। कंपनी से यह कैशबैक देश भर में सभी बीएसएनएल वायरलाइन, ब्रॉडबैंड और एफटीटीएच ग्राहकों को मिलेगा। बीएसएनएल ने यह घोषणा ऐसे समय में की है, जब आईयूसी का मामला चल रहा है। ऐसे में माना जा रहा है कि इससे कंपनी को नए ग्राहकों के रूप में फायदा मिल सकता है।

रिलायंस जियो को एक बार फिर झटका

बीएसएनएल की इस घोषणा के बाद रिलायंस जियो को एक बार फिर झटका लगा है। अग्रेसिव ऑफर की वजह से पिछले दो साल से ज्यादा समय से देश के टेलिकॉम मार्केट में जियो का दबदबा रहा। हालांकि, हाल में जियो से अन्य नेटवर्क पर कॉल करने के पर प्रति मिनट 6 पैसे आईयूसी की घोषणा के बाद इसके काफी ग्राहकों में नाराजगी देखने को मिली है। जियो की आईयूसी की घोषणा के बाद एयरटेल और वोडाफोन ने यह चार्ज नहीं लगाने का ऐलान किया। रिपोर्ट्स में कहा गया है कि आईयूसी लगाने के बाद जियो के काफी प्रीपेड कस्टमर्स अन्य नेटवर्क के साथ चले गए हैं। अब बीएसएनएल की इस नई घोषणा से जियो के ग्राहक इस नेटवर्क के साथ आ सकते हैं।

26-10-2019
फेसबुक यूजर्स अब अलग-अलग श्रेणियों में पढ़ सकेंगे खबर, जाने कैसे

 

नई दिल्ली। सोशल साइट फेसबुक ने अपनी समाचार सेवा शुरू कर दी है। इसके लिए उसने कुछ चुनिंदा समाचार प्रकाशित करने वाले संस्थानों से साझेदारी की हैं। इस सेवा के लिए फेसबुक एक अलग और नया न्यूज टैब देगी। फिलहाल यह सेवा यूनाइटेड स्टेट्स में केवल 2 लाख उपयोगकर्ताओं को दी जाएगी, ताकि इसका परीक्षण किया जा सके। जानकारी के अनुसार इस सेवा को अभी चार प्रकाशन श्रेणी के साथ शुरू किया गया है। यह श्रेणियां हैं सामान्य, सामयिक, विविध और सथानीय समाचार हैं। फेसबुक अपने न्यूज सर्विस के शुरुआत में द न्यू यॉर्क टाइम्स, द लॉस एंजलिस टाइम्स, ब्लूमबर्ग मीडिया, यूएसए टुडे पब्लिशर गैनेट कॉर्पोरेश जैसे न्यूज वेबसाइटों को लाइसेंस फीस देगा। इसके साथ ही कंपनी 200 न्यूज साइट्स एड करने पर विचार कर रही हैं।

कैसे दिखेंगे आर्टिकल्स?

फेसबुक के पेज पर साइंट ऐंड टेक, स्पोर्टर्स, एंटरटेनमेंट, बिजनेस, हेल्थ जैसे अन्य सेक्शन्स होंगे। यूजर्स को इस प्लेटफॉर्म में न्यूज सब्सक्रिप्शन को खरीदने की सुविधा मिलेगी। सोशल मीडिया कंपनी इन सेक्शन्स के लिए अपनी एक टीम रखेगी, जो दिनभर की महत्वपूर्ण खबरों को चिन्हित करेंगे।

मकसद है सही खबरें यूजर्स तक पहुंचें

फेसबुक के संस्थापक मार्क जकरबर्ग ने 'क्वॉलिटी जर्नलिज्म' को बढ़ावा देने के लिए फेसबुक न्यूज सेक्शन्स की शुरुआत की है। मार्क के इस कदम से सोशल मीडिया पर फेक न्यूज पर रोक लगेगी। उम्मीद की जा रही है कि फेसबुक का न्यूज सेक्शन सही खबरें यूजर्स तक पहुंचाएगा।  

18-10-2019
साउंड वन ने लॉन्च किया टू इन वन इयरफोन, इन तरीकों से कर सकेंगे इस्तेमाल

नई दिल्ली। ऑडियो डिवाइस बनाने वाली कंपनी साउंड वन ने पिछले कई महीनों में कई अच्छे प्रोडक्ट बाजार में पेश किए हैं। इस कड़ी में साउंड वन ने भारतीय बाजार में एक अनोखा ब्लूटूथ नेकबैंड इयरफोन लॉन्च किया है। साउंड वन ने डिटैचबल ब्लूटूथ इयरफोन पेश किया है। यानी इस ब्लूटूथ इयरफोन को तार और बिना तार दोनों तरीके से इस्तेमाल किया जा सकेगा। उदाहरण के तौर पर यदि इस वायरलेस इयरफोन की बैटरी खत्म हो जाती है तो उसके बाद आप इसे एक ऑक्स केबल के जरिए तारे वाले इयरफोन की तरह इस्तेमाल कर सकेंगे। कंपनी ऑक्स केबल साथ में देगी।

साउंड वन के इस अनोखे इयरफोन के बड्स में 3.5एमएम का हेडफोन जैक दिया गया है जिसमें ऑक्स का इस्तेमाल किया जा सकेगा। इस ब्लूटूथ इयरफोन के फीचर्स की बात करें तो इसमें ब्लूटूथ 5.0 वर्जन है। ऐसे में कनेक्टिविटी अच्छी रहेगी। इसमें 110mAh की पॉलिमर बैटरी है जिसे लेकर फुल वॉल्यूम पर 8 घंटे के बैकअप का दावा किया गया है। इसके अलावा इसे स्वेट और वाटर रेसिस्टेंट के लिए IPX5 की रेटिंग मिली है। इसमें माइक भी है और इसकी कीमत 2,990 रुपये है लेकिन ऑफर के तहत इसे 1,690 रुपये में अमेजन या फ्लिपकार्ट से खरीदा जा सकता है। इसके साथ एक साल की वारंटी भी मिल रही है।

 

04-10-2019
गूगल ने प्राइवेसी कंट्रोल के लिए जारी किए नए टूल्स, यूजर्स को होगा फायदा

नई दिल्ली। टेक जाइंट गूगल ने यूजर्स की प्राइवेसी को ध्यान में रखते हुए नए टूल्स जारी किए हैं। इन टूल के जरिए यूजर्स गूगल से जुड़ी हुई ऐप्स और वेबसाइट्स पर अपने डेटा हिस्ट्री को कंट्रोल कर पाएंगे। नए टूल्स की मदद से गूगल की कोशिश यूजर्स के डेटा को पहले से ज्यादा सुरक्षित करने की है।

पॉसवर्ड चेक अप टूल

गूगल का नया पॉसवर्ड चेक अप टूल Chrome में सेव किए गए सभी पॉसवर्ड्स को ऑडिट करेगा। इस टूल को इस्तेमाल करने पर यूजर्स को मालूम चल जाएगा कि उनका अकाउंट किसी और जगह तो इस्तेमाल नहीं हो रहा है। इसके अलावा इस टूल से एक यूजर्स का कोई पॉसवर्ड ब्रेक हुआ होगा तो उसकी जानकारी भी मिल जाएगी। रिपोर्ट के मुताबिक ऑनलाइन दुनिया में एक यूजर्स के पास एवरेज 27 अकाउंट हैं। अगर आपको सभी अकाउंट्स के पॉसवर्ड्स Chrome में सेव हैं तो आप एक क्लिक में ही उन्हें सुरक्षा को चेक कर सकते हैं। इसके अलावा गूगल ने यूजर्स को सभी अकाउंट्स के लिए अलग-अलग पॉसवर्ड रखने की ऐडवाइस भी दी है।

तीन और नए टूल लॉन्च

गूगल ने अपने प्लेटफॉर्म को इंटरनेट पहले से ज्यादा सुरक्षित बनाने के लिए तीन और टूल भी लॉन्च किए हैं। गूगल असिस्टेंट में यूजर्स को अपना सब डेटा हिस्ट्री क्लियर करने का मौका मिलेगा। इतना ही नहीं यूजर्स गूगल असिस्टेंट में 7 दिन पहले के अपने डेटा की हिस्ट्री भी क्लियर कर सकते हैं। हालांकि यूजर्स को यह नया फीचर मिलने में अभी कुछ दिन का वक्त लगेगा। गूगल My Activity के पेज पर यूजर्स को इस नए फीचर को इस्तेमाल करने की जानकारी दी जाएगी। गूगल मेप्स पर अब कंपनी यूट्यूब और क्रोम की तरह इन्सोगिनतो मोड देने जा रही है। इन्सोगिनतो मोड मिलने के बाद यूजर्स के पास गूगल मेप्स पर अपने एक्टिविटी को टर्न ऑफ करने का विकल्प मिलेगा। जो भी यूजर्स यह चाहता है कि गूगल को आपकी एक्टिविटी का डेटा नहीं मिले वह इन्सोगिनतो मोड को ऑन कर सकता है। एंड्रायड यूजर्स को यह फीचर आने वाले कुछ हफ्तों में मिलने की संभावना है। इसके अलावा गूगल का एक और नया फीचर यूजर्स को अपना लोकेशन डेटा, ब्राउजिंग हिस्ट्री और ऐप्स की एक्टिविटी को अपने आप डिलीट करने का विकल्प देगा। यह फीचर पहले एंड्रायड के यूट्यूब प्लेटफॉर्म पर काम करेगा। यूजर्स डेटा हिस्ट्री को डिलीट करने के लिए एक निश्चित समय भी सेट कर सकते हैं।

28-09-2019
फेसबुक ने किया बदलाव, अब साइट पर नहीं दिखेगा ये फीचर.......

नई दिल्ली। सोशल मीडिया साइट फेसबुक पर कोई भी फोटो या वीडियो पोस्ट करने के बाद यूजर को उस पर मिलने वाले लाइक का इंतजार रहता है। हालांकि, फेसबुक अब इस फीचर को बंद करने जा रहा है। मिली जानकारी के अनुसार अब फेसबुक पर डाली गई आपकी पोस्ट पर आपके फ्रेंड्स आपकी पोस्ट पर आने वाले लाइक या कोई भी रिएक्शन की संख्या नहीं देख पाएंगे। लेकिन आप खुद अपने पोस्ट पर आने वाले लाइक की संख्या देख सकेंगे।
फेसबुक ने ऑस्ट्रेलिया में इस नए फीचर का ट्रायल शुरू भी कर दिया है। 27 सितंबर से इस पर प्रोटोटाइप प्रोजेक्ट शुरू किया जाएगा। इसके बाद पोस्ट करने वाला व्यक्ति ही लाइक्स और रिऐक्शन्स के काउंट देख सकेगा बाकी के लोग नहीं देख सकेंगे। टेक क्रंच की रिपोर्ट के अनुसार फेसबुक के प्रवक्ता ने कहा कि कंपनी 27 सितंबर से लाइक्स के काउंट को ऑस्ट्रेलिया में हटाएगी और अगर यह सफल रहता है तो इसे सबके लिए कर दिया जाएगा।
बता दें कि इंस्टाग्राम भी यूजर्स के पोस्ट पर लाइक्स हाइड करने के लिए एक प्रोटोटाइप डिजाइन पर काम कर रहा है। इंस्टाग्राम का प्रोटोटाइप डिजाइन यूजर्स के पोस्ट से लाइक्स काउंट को छिपा देगा। इसे कनाडा में शुरू किया गया था लेकिन इसके बाद इसे 6 और भी देशों में बढ़ा दिया गया था। इसे हटाने के पीछे कंपनी का मानना है कि लोगों में लाइक के आधार पर प्रसिद्धि वाली धारणा न बने। जिस यूजर ने पोस्ट शेयर किया होगा, वह तो लाइक्स देख पाएगा, लेकिन बाकी यूजर नहीं देख पाएंगे कि उस पोस्ट पर कितने लाइक्स आए हैं।
इंस्टाग्राम की ओर से कहा गया है कि इस टेस्ट के दौरान केवल पोस्ट शेयर करने वाला यूजर ही देख पाएगा कि उसे कुल कितने लाइक्स मिले हैं। फिलहाल यह इंटरनल टेस्टिंग प्रोटोटाइप है और सभी यूजर्स के लिए उपलब्ध नहीं है। प्रोटोटाइप में पोस्ट के पास ही एक 'view likes' का बटन भी ऐड किया गया है और कहा जा रहा है कि यह बटन पोस्ट शेयर करने वाले यूजर को ही मिलेगा।

Please Wait... News Loading