GLIBS

23-05-2019
मोदी सरकार का खौफ : पाक ने किया शाहीन-2 मिसाइल का परीक्षण

इस्लामाबाद। इधर भारत में नरेंद्र मोदी सरकार की फिर वापसी हो रही है और उधर पाकिस्तान ने खौफ खाते हुए अपनी शाहीन-2 मिसाइल का परीक्षण  किया है। इस मिसाइल का परीक्षण कर पाकिस्तान ने भारत को एक तरह से चेतावनी भी दे दी है। पाकिस्तान ने कहा है कि यह एक तरह से जमीन से जमीन पर मार करने वाली बैलेस्टिक मिसाइल है, जो 1500 मील तक एरिया कवर कर सकती है। इस मिसाइल के जरिए परमाणु और पारंपरिक हथियार भी दागे जा सकते हैं। पाकिस्तान की सेना ने बयान जारी करते हुए कहा है कि यह मिसाइल उसकी जरूरतों को पूरा करती है, ताकि क्षेत्र में कोई उसकी तरफ आंख उठा कर न देख सके और मुल्क में शांति रहे। पाक सेना के प्रवक्ता ने कहा है कि इस मिसाइल का इंपैक्ट प्वाइंट अरब सागर में था। 

बता दें कि बालाकोट में आतंकी गुट जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों पर की गई वायुसेना के एयर स्ट्राइक के खौफ  से पाकिस्तान अभी भी उबर नहीं पाया है। एयर स्ट्राइक के 75 दिन बाद भी उसे अपने एफ-16 लड़ाकू विमानों की सुरक्षा की चिंता खाए जा रही है। एक समय पर भारत ने पाकिस्तान को छह मिसाइल दागने की धमकी दी थी, इसपर इस्लामाबाद ने कहा था कि वह भारत की एक मिसाइल का जवाब तीन मिसाइल से देगा। पाकिस्तान कई अन्य लांच करके भारत की किसी भी मिसाइल का मुकाबला कर सकता है। 

22-05-2019
सिर्फ पांच साल प्रतीक्षा कीजिए, आप भी उड़ेंगे हवाई कार में... 

बर्लिन। जर्मनी की स्टार्टअप कंपनी लीलियम ने एक इलेक्ट्रिक एयर टैक्सी  बनाई है। कंपनी ने इस 5-सीटर इलेक्ट्रिक एयर टैक्सी का पहली बार ट्रायल किया। ये एयर टैक्सी कार से पांच गुना तेज चलेगी और एक बाइक से कम आवाज करेगी, यानी ये सर्विस पूरी तरह से प्रदूषण मुक्त होगी।  इस इलेक्ट्रिक एयर टैक्सी की टॉप स्पीड 300 किलोमीटर प्रति घंटा है। एक बार फुल चार्ज होने पर यह 300 किलोमीटर की रेंज देती है।  यानी 300 किलोमीटर की दूरी तय कर सकती है। इसमें 36 इलेक्ट्रिक जेट इंजन लगे हैं, जो टेक-ऑफ  करने के बाद स्टैंडर्ड प्लेन की तरह घूमना शुरू कर देते हैं।

 हेलीकॉप्टर टेक्नोलॉजी पर बेस्ड यह 2000 हॉर्स पावर का मल्टी रोटर ड्रोन 10 फीसदी ही ऊर्जा खपत करके नार्मल हेलीकॉप्टर की तुलना में 10 गुना दूरी तय कर लेता है। 2017 में कंपनी ने इस एयरटैक्सी का पहली बार टेस्ट किया था। लेकिन उस वक्त ये टैक्सी महज टू सीटर थी लेकिन अब इसमें पायलट के साथ 5 लोग बैठ सकते हैं। लीलियम ने इस इलेक्ट्रिक जेट की डिजाइन काफी साधारण रखी है। इसमें टेल, गियरबॉक्स, प्रोपेलर्स और रडार नहीं हैं। इस एयर टैक्सी को पायलट के साथ या ड्रोन मोड में ऑपरेट किया जा सकता है। इसमें पैनारोमिक विंडो और गल-विंग डोर जैसे पैसेंजर फ्रेंडली फीचर्स दिए गए हैं। लीलियम का दावा है कि कंपनी 2025 तक दुनिया के कई शहरों में फ्लाइंग एयर टैक्सी शुरू कर देगी।

22-05-2019
आरआईएसएटी-2बी का सफल प्रक्षेपण, सुरक्षा बलों- आपदा एजेंसियों को मिलेगी मदद

चेन्नई। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने बुधवार को रडार इमेजिंग उपग्रह आरआईएसएटी-2बी का सफल प्रक्षेपण कर नया इतिहास रच दिया। पृथ्वी की निगरानी करने वाले इस उपग्रह का प्रक्षेपण पीएसएलवी-सी46 के जरिये यहां से करीब 80 किलोमीटर दूर श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से तड़के 05:30 बजे प्रक्षेपण किया गया। प्रक्षेपण के 15 मिनट 25 सेकंड के बाद 615 किलोग्राम वजनी आरआईएसएटी-2बी को भूमध्यरेखा से 37 डिग्री के झुकाव के साथ 556 किलोमीटर की कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित कर दिया गया। प्रक्षेपण की 25 घंटों की उलटी गिनती श्रीहरिकोटा में मंगलवार तड़के 04:30 बजे शुरू हो गयी थी।

आरआईएसएटी-2बी के सफल प्रक्षेपण के बाद इसरो के अध्यक्ष डॉ. के. शिवन ने कहा, मुझे यह घोषणा करते हुए बेहद खुशी हो रही है कि पीएसएलवी-सी46 ने आरआईएसएटी-2बी को सफलतापूर्वक निर्धारित कक्षा में स्थापित कर दिया। आरआईएसएटी-2बी को भूमध्यरेखा से 37 डिग्री के झुकाव के साथ 556 किलोमीटर की कक्षा में स्थापित कर दिया गया है। उन्होंने कहा, यह मिशन इस मायने में महत्वपूर्ण है कि पीएसएलवी ने अंतरिक्ष में 50 टन का वजन प्रक्षेपित करने का रिकॉर्ड पार किया है। इसने अब तक 350 उपग्रहों का प्रक्षेपण किया है जिनमें से 47 राष्ट्रीय उपग्रह हैं और शेष छात्रों के एवं विदेशी उपग्रह हैं।

आरआईएसएटी-2बी इसरो के आरआईएसएटी कार्यक्रम का चौथा चरण है और इसका इस्तेमाल रणनीतिक निगरानी और आपदा प्रबंधन के लिए किया जाएगा। यह उपग्रह एक सक्रिय एसएआर (सिंथेटिक अर्पचर रडार) इमेजर से लैस है जो पृथ्वी की निगरानी की क्षमता बढ़ाता है। उपग्रह का ‘रेगुलर’ रिमोट-सेंसिंग या ऑप्टिकल इमेजिंग उपग्रह बादल छाये रहने या अंधेरे में पृथ्वी पर छिपे वस्तुओं का पता नहीं लगा पाता है जबकि एक सक्रिय सेंसर ‘एसएआर’ से लैस यह उपग्रह दिन हो या रात, बारिश या बादल छाये रहने के दौरान भी अंतरिक्ष से एक विशेष तरीके से पृथ्वी की निगरानी कर सकता है। सभी मौसम में काम करने की यह विशेषता इसे सुरक्षा बलों और आपदा राहत एजेंसियों के लिये मददगार बनाती है। यह उपग्रह कृषि, वानिकी और आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में बड़ी उपलब्धि है। अंतरिक्ष से पृथ्वी की निगरानी क्षमता को और विकसित करने के लिए भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी निकट भविष्य में कम से कम छह और ऐसे उपग्रहों का प्रक्षेपण करने की योजना बना रही है।

20-05-2019
गूगल पे ने निकाला खास कैश बैक ऑफर, यूजर्स ले सकते हैं इसका फायदा

नई दिल्ली। भारत में अपने भुगतान प्लेटफॉर्म ‘गूगल पे’ को आगे बढ़ाने के लिए ‘गूगल कंपनी’ एंड्रॉइड ऐप पर ‘कैश बैक’ प्रोत्साहन की पेशकश करने की योजना बना रही है। ‘प्रोजेक्ट क्रूजर’ कोडनेम की इन-ऐप ‘एंगेजमेंट रिवार्डस प्लेटफॉर्म’ पिछले साल से इस पर काम कर रही है और इसका नेतृत्व गूगल की ‘नेक्स्ट बिलियन यूजर्स’ टीम कर रही है। टेकक्रंट ने शुक्रवार को कहा, ‘गूगल पे का उपयोग व्यवसायों और उपयोगकर्ताओं के बीच लेनदेन के लिए किया जाएगा, जिससे गूगल की भुगतान सेवा की पहुंच का विस्तार होगा। कंपनी के कार्यकारी अधिकारियों ने हाल के महीनों में भारत में कई व्यवसायों को बोर्ड पर आने के लिए तैयार किया है।

योजना के हिस्से के रूप में, ‘सर्च-इंजन’ की दिग्गज कंपनी लोगों को अपने एंड्रॉइड ऐप को अपडेट करने एक दोस्त को संदर्भित करने के लिए या दोनों को गूगल पे पर एक विशिष्ट राशि तक जीतने के लिए प्रोत्साहित करेगी। गूगल ने डेवलपर्स को बताया है कि ऐप पर सभी पुरस्कार गूगल पे के माध्यम से ही प्राप्त किए जाएंगे।

18-05-2019
बैन हटने के बाद एक बार फिर टॉप पर पहुंचा टिकटॉक एप 

नई दिल्ली। बैन हटने के बाद टिकटॉक एक बार फिर एप्पल एप स्टोर में फ्री एप कैटेगरी और गूगल प्लेट स्टोर पर सोशल कैटेगरी में टॉप फ्री स्पॉट पर पहुंच गया है। बुधवार को कंपनी ने इस बात की जानकारी दी कि एप एक बार फिर टॉप पोजिशन पर पहुंच गया है। दोनों एप स्टोर में टिकटॉक के टॉप पर पहुंचने के पीछे कंपनी के प्रमोशन का भी बड़ा हाथ है। इस माइक्रोसाइट पर लिंक दी गई है, जिसकी मदद से एंड्रॉयड और आईओएस दोनों प्लेटफॉर्म से इस एप को डाउनलोड किया जा सकेगा। टिकटॉक (इंडिया) के एंटरटेनमेंट स्ट्रेटजी और पार्टनरशिप हेड प्रमुख सुमेधास राजगोपाल ने बताया, ‘भारत में 20 करोड़ यूजर्स के रिस्पॉन्स, सपोर्ट और प्यार के लिए हम तहे दिल से शुक्रिया शदा करना चाहते हैं।’

उन्होंने कहा, ‘हम टिकटॉक परिवार के साथ अपने आगे की यात्रा जारी रखेंगे और यूजर्स के लिए सेफ और सुरक्षित माहौल बनाए रखने की दिशा में काम कर रहे हैं।’ बता दें कि मद्रास हाई कोर्ट की मदुरई बेंच ने टिकटॉक एप पर पिछले महीने की शुरूआत में आपत्तिजनक और पॉर्नोग्राफिक कंटेंट के कारण बैन लगा दिया था। जिसके बाद गूगल और एप्पल ने इस एप को अपने एप स्टोर से हटा दिया था। हालांकि पिछले महीने के आखिरी हफ्ते में मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने एप से बैन हटा दिया। कंपनी ने एप डाउनलोड को बढ़वाने के लिए 1 मई से कैपेनिंग शुरू की थी। जिसके तहत माइक्रोसाइट को सोशल मीडिया पर प्रमोट करने पर कंपनी1 लाख रुपए का इनाम दे रही थी। बता दें कि टिकटॉक का अधिकार रखने वाली चीनी कंपनी बाइटडांस दावा करती है कि भारत में उसके मासिक एक्टिव यूजर्स की संख्या 12 करोड़ से ज्यादा है।

18-05-2019
मंगल के बाद अब शुक्र की तैयारी में इसरो, देखें पूरी खबर

नई दिल्ली। भारत के छह साल पहले मंगल ग्रह पर जाने के बाद अब इसरो की मिशन शुक्र ग्रह (वीनस) की तैयारी है। इसरो ने अगले 10 वर्षों में सात वैज्ञानिक मिशन की योजना बनाई है, जिसमें 2023 में शुक्र ग्रह की तारीख भी शामिल है। अगले दस सालों में 2020 में ब्रह्मंडीय विकिरण का अध्ययन करने के लिए एक्सपोसेट, 2021 में सूर्य के लिए एल1, 2022 में मंगल मिशन-2, 2024 में चंद्रयान-3 और 2028 में सौरमंडल के बाहर एक खोज इसरो की सूची में शामिल हैं। आकार, संरचना और घनत्व में समान होने की वजह से शुक्र ग्रह को पृथ्वी की जुड़वां बहन माना जाता है। मिशन शुक्र ग्रह, वहां की सतह और इसकी उप-सतह, वायुमंडलीय रसायन विज्ञान और सौर हवाओं के अध्ययन पर केंद्रित होगा। इसरो के अध्यक्ष के सिवन ने कहा कि ये उत्साह से भरा हुआ मिशन है। 

सिवन ने शुक्रवार को श्रीहरिकोटा में 108 स्कूली छात्रों को युविका-2019 के युवा वैज्ञानिक कार्यक्रम में संबोधित करते हुए कहा, हमें दुनिया भर से शानदार प्रतिक्रिया मिली है और हमारी 20 से अधिक पेलोड की योजना है। इसरो अध्यक्ष ने आगे कहा कि आदित्य एल1 और एक्सपोसेट मिशन परिभाषित किए गए हैं। बाकी योजना चरणों में हैं। सिवन के अनुसार अदित एल1, सूर्य मिशन पृथ्वी पर जलवायु परिवर्तन को समझने और भविष्यवाणी करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

18-05-2019
आज ही के दिन भारत बना था परमाणु महाशक्ति

 

नई दिल्ली। आज से 45 साल पहले 18 मई 1974 को भारत ने अपना पहला परमाणु परीक्षण किया था। यह शांतिपूर्ण परीक्षण तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के कार्यकाल के दौरान राजस्थान के रेगिस्तान क्षेत्र पोखरण में हुआ था। इसका नाम स्माइलिंग बुद्धा रखा गया था। इसे पोखरण-1 के नाम से भी जाना जाता है। यह भारत का पहला सफल परमाणु बम परीक्षण था। स्माइलिंग बुद्धा ने भारत को दुनिया का छठवां परमाणु शक्ति संपन्न राष्ट्र बना दिया था। इससे पहले अमेरिका, तत्कालीन सोवियत संघ, ब्रिटेन, फ्रांस और चीन परमाणु शक्ति संपन्न राष्ट्र थे जो सफलतापूर्वक परमाणु बम परीक्षण कर चुके थे।

आज हम आपको इसका इतिहास और इसके परिणाम बताते हैं :

भारत ने अपना परमाणु कार्यक्रम 1944 में शुरू कर दिया था। भौतिक विज्ञानी राजा रमन्ना ने परमाणु हथियारों पर वैज्ञानिक अनुसंधान का विस्तार और पर्यवेक्षण किया। वह परीक्षण करने वाले वैज्ञानिकों की छोटी सी टीम के पहले डायरेक्टिंग अधिकारी थे जिन्होंने परीक्षण की देखरेख की और इसे अंजाम दिया। पोखरण नाम उस जगह से आया जहां इस परीक्षण को अंजाम दिया गया। यह शहर राजस्थान के जैसलमेर में मौजूद है। राजा रमन्ना के नेतृत्व में 75 वैज्ञानिकों और इंजीनियरों की एक टीम ने 1967 से 1974 तक इसपर कार्य किया। इस टीम में पीके अयंगर, राजगोपाल चिदंबरम भी शामिल थे। यह परीक्षण सफल रहा लेकिन इसके परिणाम उत्साहजनक नहीं थे। यह परीक्षण गुस्से का कारण बन गया और इसपर चिंता जाहिर की जाने लगी क्योंकि यह परमाणु परीक्षण एक ऐसे देश ने किया था जो संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् के पांच स्थायी सदस्यों से इतर था। यह प्रयोग अंतरराष्ट्रीय समुदाय को चेतावनी दिए बिना हुए।

नतीजतन अमेरिका ने बिना किसी चेतावनी के भारत को परमाणु समुदाय में प्रवेश करने से रोकना शुरू कर दिया। इसके बाद भारत को मिलने वाली सहायता रोक दी और कई सारे प्रतिबंध लगा दिए गए। हालांकि जिस उपकरण से परीक्षण किया गया था वह एक फिशन उपकरण था और वातावरण में कोई रेडियोएक्टिव नहीं गया। तमाम प्रतिबंधों के बावजूद भारत 1970 में परमाणु अप्रसार संधि में शामिल नहीं हुआ और उसने दावा किया कि परमाणु परीक्षण शांतिपूर्ण कारणों की वजह से किए गए थे। इसके अमेरिका ने भारत के साथ परमाणु सौदा किया जो यह दिखाता है कि भारत एक जिम्मेदार परमाणु राष्ट्र है और इस बात को पूरी दुनिया स्वीकार चुकी है।

17-05-2019
व्हाट्सएप के ये नए फीचर्स आपके लिए होंगे फायदेमंद

नई दिल्ली। अगर आप व्हाट्सएप का उपयोग करते हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है। व्हाट्सएप लगातार नए फीचर पर काम कर रहा है। जल्द ही व्हाटसएप का नया अपडेट आने वाला है। इस अपडेट में अब स्टिकर को लेकर नोटिफिकेशन दिखेगा। इस नए फीचर का नाम स्टिकर नोटिफिकेशन प्रीव्यू है। व्हाट्सएप इस फीचर को एंड्रायड फोन के लिए लाने वाला है। इसे आईओएस के बीटा वर्जन में पहले ही दिया जा चुका है। ये 2.19.130 एंड्रायड बीटा अपडेट है। अब आपको टैक्स्ट मैसेज और इमोजी की तरह ही स्टिकर का नोटिफिकेशन प्रीव्यू भी दिखेगा। ये जानकारी डब्लूएबीटा इंफो ने दी है।

व्हाट्सएप ने गूगल प्ले बीटा प्रोग्राम के लिए नया अपडेट सबमिट किया है। जल्द ही इसे सभी एंड्रायड डिवाइस के लिए लाया जाएगा। अभी व्हाट्सएप किसी को स्टिकर भेजने पर नोटिफिकेशन में सिर्फ  स्टिकर लिखा दिखाता है। आपको ये किसी ग्रुप में मैसेज भेजने या चैट करने पर दिखाई देता है। अब आपको सीधे स्टिकर दिखेंगे। इससे पहले खबर आई थी कि व्हाट्सएप जल्द ही सभी एंड्रायड यूजर्स के लिए डार्कमोड रिलीज करने वाला है। हालांकि WABetainfo  के मुताबिक व्हाट्सएप बीटा वर्ज 2.19.82 में डार्क मोड का कोड है पर इसे डिसेबल रखा गया है। व्हाट्सएप समय-समय पर नए अपडेट लेकर आता है। कुछ महीनों पहले ही स्टिकर फीचर आया था। ये फीचर लोगों में काफी पसंद किया गया। लोग इमोजी के अलावा इस फीचर का चैट में इस्तेमाल कर रहे हैं। अब इसका प्रीव्यू दिखने से स्टिकर भेजना और आसान हो जाएगा।

16-05-2019
वन प्लस 7 लांच, जानें कीमत और फीचर की डिटेल

नई दिल्ली। वन प्लस ने जो दो हैंडसेट मार्केट में लॉन्च किए हैं, उनमें सबसे पहले बात करते हैं वन पल्स 7 प्रो के फीचर्स की। फोन में क्वालकॉम एसडीएम855 स्नैपड्रैगन 855 आॅक्टाकोर प्रोसेसर है जिसका एक कोर 2.84 गीगाहर्ट्ज, 3 कोर 2.42 गीगाहर्ट्ज और 4 कोर 1.80 गीगाहर्ट्ज के हैं। इसमें एडरेनो 640 जीपीयू भी दिया गया है। इतनी अधिक प्रोसेसिंग क्षमता का फायदा एक साथ उसमें कई एप चलाने में होगा। फोन पाई 9.0 एंड्राइड वर्जन ओएस पर रन करेगा। इसके दो वैरिएंट मार्केट में आए हैं। एक में 8 से 12 रैम के साथ 256 जीबी इंटरनल स्टोरेज होगी। वहीं दूसरे में 6 जीबी रैम के साथ 128 जीबी मेन मैमोरी होगी। फोन में 3 प्राइमरी कैमरा हैं, 48 मेगापिक्सल का वाइड लेंस, 16 मेगापिक्सल का अल्ट्रा वाइड लेंस और 8 मेगापिक्सल का टेलीफोटो लेंस।

फोन के रियर कैमरा में 3 आॅप्टिकल जूम की फैसीलिटी दी गई है। फिंगरप्रिंट सेंसर से फोन का लॉक खुलने की सुविधा भी है। फोन में 4000अँ की धांसू बैटरी है। फोन कें अंदर एक क्वॉय दिया गया है जिसकी मदद से फोन में वायरलेस चार्जिंग हो सकेगी। चार्चिंग सुपरफास्ट मोड में होगी करीब 20 मिनट में 0 प्रतिशत से ये 50 प्रतिशत तक चार्ज होगा।  ये मार्केट में मिरर ग्रे, आल्मंड और नेब्यूला ब्लू कलर में अवलेबल होंगे। इसकी मार्केट प्राइस 60, 000 रुपये बताई जा रही है। 

फोन में क्वालकॉम एसडीएम855 स्नैपड्रैगन 855 आॅक्टाकोर प्रोसेसर लगा है। इसमें एक कोर 2.84 गीगाहर्ट्ज, तीन कोर 2.42 गीगाहर्ट्ज और चार कोर 1.80 गीगाहर्ट्ज के हैं। इसमें एडरेनो 640 जीपीयू  लगा है। प्रोसेसर की क्षमता अधिक होने की वजह से ये हैंग नहीं करेगा और मल्टीटास्क परफार्म करने में सहज होगा। इसकी रैम 8जीबी है और इंटरनल स्टोरेज 256 जीबी है। फोन दो वैरिएंट में लॉन्च हुआ है तो दूसरे में 6 जीबी रैम के साथ 128 जीबी इंटरनल स्टोरेज है। फोन में दो रियर कैमरा हैं एक 48 मेगापिक्सल का और दूसरा 5 मेगापिक्ल का। फोन से पैनोरमा शॉट आसानी से लिया जा सकता है। इसमें फ्लैश लाइट भी दी गई है ताकी कैमरा अंधेरे में भी बेहतरीन परफार्मेंस दे सके। इसका सेल्फी कैमरा 16 मेगापिक्ल का है जो एचडीआर तस्वीर क्लिक करेगा। इसमें फिंगर सेंसर की सुविधा है। स्मार्टप्रिक्स के मुताबिक फोन में 3700अँ की दमदार लॉग लास्टिंग बैटरी है। मालूम हो इसमें वन पल्स 7 प्रो की तरह वायरलेस चार्जिंग की सुविधा भी है।

15-05-2019
शेयर बाजार में मायूसी, गिरावट के साथ बंद हुआ सेंसेक्स

मुंबई। शेयर बाजार में बुधवार को मायूसी का आलम रहा। सेंसेक्स 203.65 अंक की गिरावट के साथ 37,114.88 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं निफ्टी भी 65.05 अंक की कमजोरी के साथ 11,157 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं एनएसई का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी भी 65.05 अंक की कमजोरी के साथ 11,157 के स्तर पर बंद हुआ। 

बुधवार को कारोबार के अंत में बैंक निफ्टी 212.75 अंक की गिरावट के साथ 28,616.45 के स्तर पर बंद हुआ। निफ्टी के 100 शेयरों वाले मिड कैप में आधा फीसदी से ज्यादा की गिरावट दर्ज की गई। वहीं स्मालकैप इंडेक्स 1 फीसदी से ज्यादा की गिरावट के साथ 6,068.60 के स्तर पर बंद हुआ। बुधवार को कारोबार के अंत में आयशर मोटर्स, बजाज फाइनेंस, बजाज फिनसर्व, कोटक महिंद्रा, टाइटन कंपनी, आईटीसी, इंफोसिस, डॉ. रेड्डीज लैब्स, इंफोसिस और TCS मजबूती के साथ बंद हुए। मंगलवार को नौ दिन बाद शेयर बाजार का संसेक्स हरे निशान पर बंद हुआ था और बुधवार को फिर शेयर बाजार में गिरावट के कारण निवेशकों के चेहरे पर मायूसी देखी गई। 

01-05-2019
निर्माण कार्यों की गुणवत्ता के साथ कोई समझौता नहीं : कलेक्टर रजत बंसल 

धमतरी। कलेक्टर रजत बंसल ने बुधवार को जल संसाधन विभाग के तीनों संभागों में पदस्थ अधिकारियों की बैठक लेकर जिले में चल रहे निर्माण कार्यों एवं विभागीय कामकाज की समीक्षा की। उन्होंने सभी अधिकारियों को सख्त लहजे में निर्देशित किया कि विभाग के तहत चल रहे सभी निर्माण कार्य निर्धारित समय सीमा में पूर्ण करें। साथ ही इनकी गुणवत्ता को लेकर किसी भी प्रकार का समझौता कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। बैठक में जल संसाधन संभाग क्रमांक  02, 38 और 90 के कार्यपालन अभियंताओं ने अपने-अपने विभाग के कार्यों एवं विभागीय गतिविधियों की जानकारी दी।

16-03-2019
चीन में भूस्खलन से दो मरे 17 लापता

तैयूआन। चीन के उत्तरी प्रांत शांसी में भूस्खलन के कारण मकानों के ढहने से दो लोगों की मौत हो गई तथा 17 अन्य लापता हो गए। स्थानीय अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी। लींफेन शहर के जाओलिंग में शुक्रवार शाम 6:10 बजे यह घटना हुई, भूस्खलन के कारण दो रिहायशी मकान और एक सार्वजनिक स्नानघर ढ़ह गए। स्थानीय प्रशासन ने बताया कि मलबे से अब तक 13 लोगों को बचाया जा चुका है हालांकि दो लोग मृत पाय गए। इस हादसे में जीवित बचे लोग लापता हुए लोगों की तलाश कर रहे है। करीब 600 से अधिक लोगों में शामिल सार्वजनिक सुरक्षा अधिकारी, सशस्त्र पुलिस, आपातकाल राहत एवं चिकित्सा कर्मी राहत बचाव में जुटे हैं।

Please Wait... News Loading