GLIBS

19-07-2020
रायपुर में 13 इलाकों को किया गया सील, कंटेनमेंट जोन में मेडिकल इमरजेंसी पर ही घर से निकलने की छूट

रायपुर। राजधानी में कोरोना मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। नए मरीजों की पहचान होने पर संबंधित इलाकों को जिला प्रशासन की ओर से कंटेनमेंट जोन घोषित किया जा रहा है। रायपुर जिले में रविवार की स्थिति में अब तक कुल 1172 कोरोना पॉजिटिव की पहचान हो चुकी है। इनमें 545 मरीजों को स्वस्थ होने पर डिस्चार्ज किया जा चुका है। कुल 6 मौत दर्ज की गई है। रायपुर में एक्टिव मरीजों की संख्या 621 पहुंच चुकी है। नए मरीजों की पहचान होने पर अपर कलेक्टर की ओर से संबंधित इलाकों की चतुर्सीमा तय कर कंटेनमेंट जोन का आदेश जारी किया जा रहा है। इसी क्रम में  अपर कलेक्टव व अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी रायपुर ने 13 नए कंटेनमेंट जोन की घोषणा की है।
जिला प्रशासन की ओर से जारी आदेशों के मुताबिक अंबेडकर चौक सिलतरा थाना धरसीवा क्षेत्र में 1 कोरोना मरीज की पहचान हुई है। इसी तरह आदर्श नगर थाना गुढ़ियारी क्षेत्र में 1, ग्राम कुम्हारी थाना आरंग क्षेत्र में 1,ग्राम तिबरैया थाना धरसीवा क्षेत्र में 1, आइटीबीपी 38 पुलिस फोर्स परिसर ग्राम मुड़पार थाना खरोरा में 1, विकासखंड धरसीवा जीके टाउनशिप सिलतरा थाना धरसीवा क्षेत्र में 1, धरसीवा-भाठा थाना धरसीवा क्षेत्र में 1, भाटापारा सिलतरा थाना धरसींवा क्षेत्र में 1, राशन दुकान वाली गली गोगांव थाना गुढ़ियारी क्षेत्र में 1, लक्की मेडिकल के पीछे सिलतरा थाना धरसीवा में 1,लोहार चौक भाटागांव थाना पुरानी बस्ती क्षेत्र में 1, वार्ड क्रमांक 30 आजाद चौक बिरगांव थाना क्षेत्र में 1 और सेक्टर 27 ब्लॉक 28 अटल नगर नया रायपुर थाना राखी क्षेत्र में 1 मरीज की पहचान हुई है। इन सभी इलाकों को सील कर जिला प्रशासन ने दिशानिर्देश जारी किए हैं। आदेश की कॉपी देखने यहां क्लिक करें  

 

27-05-2020
प्रदेश में कोरोना के 2 और पॉजिटिव मिले, 4 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज, स्वास्थ्य विभाग ने जारी की मेडिकल बुलेटिन

रायपुर। प्रदेश में कोरोना के 2 पॉजिटिव मरीज मिले हैं, वहीं 4 मरीज स्वस्थ्य होने के बाद डिस्चार्ज किए गए हैं। प्रदेश में एक्टिव मरीजों की संख्या अब 281 है। स्वास्थ्य विभाग ने मेडिकल बुलेटिन जारी कर बताया कि बुधवार को प्रदेश में कोरोना के अब तक 3 पॉजिटिव जगदलपुर, बलौदाबाजार और बिलासपुर से मिले हैं। वहीं बालोद और बलौदाबाजार के 2-2 मरीज जिनका एम्स रायपुर में इलाज जारी था स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किए गए हैं। बताया गया कि एम्स रायपुर में 85, कोविड अस्पताल माना रायपुर में 86, कोविड अस्पताल बिलासपुर में 39, मेडिकल कॉलेज अस्पताल अंबिकापुर में 22 और मेडिकल कॉलेज रायगढ़ में 12, मेडिकल कॉलेज राजनांदगांव में 34 मरीज भर्ती हैं। मेडिकल बुलेटिन देखने के लिए यहां क्लिक करें...   

23-05-2020
मोबाइल इंटरनेट स्पीड में पाकिस्तान से पिछड़ा भारत, जानें टॉप पांच में है कौन से देश

नई दिल्ली। भले ही भारत में टेलीकॉम कंपनियां अपने इंटरनेट स्पीड को लेकर बड़े-बड़े दावे कर लें। लेकिन ब्रॉडबैंड स्पीड के मामले में भारत की स्थिति काफी खराब है। मोबाइल ब्रॉडबैंड स्पीड के मामले में भारत अपने पड़ोसी देश पाकिस्तान और नेपाल से भी पीछे है। ब्रॉडबैंड स्पीड का विश्लेषण करने वाली कंपनी ऊकला की एक रिपोर्ट से इसका पता चलता है। मिली जानकारी के अनुसार मोबाइल ब्रॉडबैंड स्पीड में भारत तीन पायदान नीचे खिसक कर 132वें स्थान पर आ गया है। मोबाइल ब्रॉडबैंड स्पीड में भारत की स्थिति पाकिस्तान और नेपाल से भी खराब है। यह आंकड़े ऊकला के स्पीड टेस्ट के हैं। आंकड़ों के मुताबिक अप्रैल महीने में भारत की औसत मोबाइल ब्रॉडबैंड डाउनलोड स्पीड 9.81 Mbps रही, जबकि इसकी औसत अपलोड स्पीड 3.98 Mbps थी। बता दें कि ऊकला हर महीने मोबाइल ब्रॉडबैंड स्पीड के आधार पर 139 देशों की लिस्ट बनाती है।

 टॉप पांच में रहे ये देश :
दुनिया भर की औसत मोबाइल डाउनलोड स्पीड की बात करें तो अप्रैल के महीने में यह 30.89 Mbps और अपलोड स्पीड 10.50 Mbps रही है। स्पीडटेस्ट में दक्षिण कोरिया नंबर एक कंपनी रही है। यहीं की मोबाइल डाउनलोड स्पीड 88.01 Mbps और मोबाइल अपलोड स्पीड 18.14 Mbps रही। वहीं टॉप पांच में अन्य देश कतर, चीन, यूएई और नीदरलैंड रहे हैं।

 पाकिस्तान और नेपाल से भी पीछे भारत :
स्पीड के मामले में भारत को पाकिस्तान और नेपाल जैसे देशों ने भी पीछे छोड़ दिया। जहां नेपाल पांच पायदान ऊपर पहुंचते हुए 111वें नंबर पर रहा, वहीं पाकिस्तान ने 112वां स्थान हासिल किया है। इसके अलावा दो अन्य पड़ोसी देश श्रीलंका को 115वां और बांग्लादेश को 130वां स्थान मिला है। अन्य देशों की बात करें तो सिर्फ उज़्बेकिस्तान, लीबिया, अल्जीरिया, रवांडा, सुडान, वेनेजुएला और अफगानिस्तान जैसे देश ही भारत से नीचे रहे हैं।

20-05-2020
फैज़ल सिद्दीकी का टिक-टॉक अकाउंट बैन, ‘एसिड अटैक’ को बढ़ावा देते हुए बनाया था वीडियो

मुंबई। सोशल मीडिया एप्लीकेशन टिक-टॉक का लगातार भारत में विरोध हो रहा है। अपने कंटेंट को लेकर अक्सर ही सुर्खियों में रहने वाला टिकटॉक एक बार फिर अपने आलोचकों के निशाने पर है। टिकटॉक स्टार फैजल सिद्दीकी का एसिड अटैक वाला वीडियो वायरल होने के बाद देश भर में टिकटॉक बैन करने की मांग जोरों शोरों से उठने लगी। ट्विटर पर लोग हैशटैग बैन टिकटॉक के साथ ट्वीट कर रहे हैं और देश भर में ये ट्रें कर रहा है। इन सबसे टिकटॉक की रेटिंग 4.5 से सीधे 3.2 पर आ गिरी है। यह एक बहुत ही बड़ी गिरावट है। टिकटॉक की खुमारी लोगों को ऐसी चढ़ी हैं कि हर कोई स्टार बनना चाहता है, लेकिन स्टार बनने की चाह में विवादित वीडियो बनाकर भी अपलोड कर रहे हैं। कुछ ऐसा ही करना टिकटॉक के स्‍टार फैज़ल सिद्दीकी को करना बहुत महंगा पड़ा अपने इस नए वीडियो में वह एसिड अटैक करने की एक्टिंग करते नजर आए, जिसके बाद फैज़ल के टिकटॉक अकाउंट को बैन कर दिया गया है।

उन पर आरोप है कि  वीडियो द्वारा उन्होंने कई सामुदायिक दिशा निर्देशों का उल्लंघन किया है। फैज़ल सिद्दीकी के टिकटॉक पर 13.4 मिलियन फॉलोअर है। एसिड अटैक वीडियो अपलोड होने के बाद लोगों ने उनका विरोध करना शुरू किया। दरअसल, उन्होंने जो वीडियो पोस्ट किया था ,उसमें वो एक लड़की के चेहरे पर एसिड फेंकते हुए देखा जा सकता था। बाद में उसी क्लिप में वह लड़की विचित्र मेकअप में नजर आती है। इसके बाद वीडियो में एक लाइन आती है, जिसमें फैजल कहते नजर आते हैं कि तुम्हें उसने छोड़ दिया, जिसके लिए तुमने मुझे छोड़ा था। फैजल के इस वीडियो के सामने के बाद सिर्फ यूजर्स ही नहीं बल्कि सेलेब्स से लेकर राष्ट्रीय महिला आयोग का गुस्सा भी फूटा था। महाराष्ट्र पुलिस और राष्ट्रीय महिला आयोग ने टिकटॉक इंडिया को पत्र लिखकर कार्रवाई की मांग की थी। मामला बढ़ता देख फैजल ने अपने वीडियो को हटा लिया था और साथ में अपनी सफाई भी पेश की थी।

टिकटॉक के एक प्रवक्ता ने कहा कि हमने वीडियो को हटा दिया है, साथ ही खाते को निलंबित कर दिया है। उन्होंने बताया कि अब वो इस मामले में कानून प्रवर्तन एजेंसियों के साथ काम कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि टिकटॉक के ऐसे ही कई वीडियो क्लिप्स ट्विटर पर सामने आए हैं, जो महिलाओं के खिलाफ यौन शोषण को बढ़ावा देने वाले हैं। ऐसे वीडियोज सामने आने के बाद नेटिजन्स #BanTikTokinIndia के साथ ट्वीट करने लगे और ये ट्रेंड करने लगा। कई ऐसे फोटोज और स्क्रीनशॉट शेयर किए गए हैं, जिसमें उन्होंने लिखा है कि हमने ऐप को केवल निगेटिव रेटिंग देने के लिए ही डाउनलोड किया था। ऐपल ऐप स्टोर और गूगल प्ले स्टोर पर ऐप पर 1-स्टार रिव्यूज की बाढ़ आ गई है। टिकटॉक ऐप 1-स्टार रिव्यूज की सीरीज के बाद गूगल प्ले स्टोर पर कुछ दिनों के भीतर ही रेटिंग 4.5 स्टार्स से घटकर 2 स्टार्स तक पहुंच गया है। इसके अलावा टिकटॉक कंटेंट क्रिएटर्स और यूट्यूब कंटेंट क्रिएटर्स की नोक-झोंक भी पिछले काफी दिनों से जारी ही है।

15-05-2020
39 करोड़ ग्राहकों के लिए जियो ने लॉन्च किया नया इंटरनेट प्लान, अब प्रतिदिन मिलेगा 3 जीबी डाटा वो भी इतने रुपए में...

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के कारण लॉक डाउन के इस दौर में घर से काम पर अधिक जोर दिया जा रहा है और इसके लिए निर्बाध चलने वाला इंटरनेट जरूरी है। इसी को ध्यान में रखकर रिलायंस जियो ग्राहकों के लिए केवल 999 के रिचार्ज पर 84 दिन तक हर रोज तीन जीबी हाईस्पीड डाटा के बाद 64 केबीपीएस असीमित डाटा का लाभ का नया प्लान लाई है। मोबाइल सेवा को अधिक प्रतिस्पर्धी बनाकर उपभोक्ताओं को अधिक से अधिक सेवाएं देने में हमेशा तत्पर जियो ने इस प्लान में कई अन्य सुविधाएं जिनमें वॉइस कॉल की सुविधा, जियो से जियो और लैंडलाइन पर मुफ्त और असीमित कॉल भी शामिल है।

प्लान में जियो से दूसरे नेटवर्क पर 3000 मिनट की कॉलिंग मुफ्त दी गई है। इसके अलावा 84 दिन तक 100 एसएमएस प्रति दिन की सुविधाएं दी गई है। ग्राहकों सबसे अधिक इंटरनेट डाटा देने के मामले में रिलायंस जियो क्षेत्र की अन्य कंपनियों से हमेशा आगे रहती है और अपने प्रीपेड और ब्रॉडबैंड प्लान्स में हमेशा बदलाव करती रहती है। प्लान में ग्राहकों को जियो एप्स का सबस्क्रिप्शन पूरक मिलेगा। रिलायंस जियो की आक्रामक नीति और ग्राहकों के लिए वाजिब दरों पर नये-नये प्लान का परिणाम है कि कंपनी ने चार वर्ष के भीतर ही अन्य कंपनियों का वर्चस्व तोड़कर करीब 39 करोड़ ग्राहक का नेटवर्क बना लिया और मोबाइल सेवा की अगुआ बन गई।

22-04-2020
फेसबुक ने रिलायंस जियो के 9.9 फीसदी शेयर खरीदने का किया ऐलान..कितने के होंगे शेयर, जानकर उड़ जाएंगे होश...

नई दिल्ली। फेसबुक ने रिलायंस जियो के 9.9 फीसदी शेयर खरीदने का ऐलान किया है। रिलायंस जियो में 9.99 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने के लिए फेसबुक 5.7 बिलियन डॉलर यानी कि 43,574 करोड़ रुपए निवेश करेगा। फेसबुक भारत में जियो की परफॉर्मेंस से काफी उत्साहित है। फेसबुक ने ये शेयर रिलायंस इंडस्ट्री लिमिटेड में खरीदे हैं। इस डील पर रिलायंस का कहना है कि कंपनी के एक छोटे हिस्से पर किसी तकनीकी कंपनी का यह सबसे बड़ा निवेश है। यही नहीं भारत में तकनीक के क्षेत्र में एफडीआई के तहत यह अबतक का सबसे बड़ा निवेश है। वहीं इस डील के बारे में फेसबुक का कहना है कि यह निवेश भारत में हमारे विश्वास को दर्शाता है।

फेसबुक की ओर से कहा गया है कि जिस तरह से जियो ने भारत में जबरदस्त उत्साह लाया है, उसके बाद जियो में हमारा निवेश भारत में हमारे विश्वास को दर्शाता है। महज चार साल में ही जियो 388 मिलियन लोगों तक पहुंच गया है, जिसने व्यापार और कनेक्टिविटी के नए रास्ते खोल दिए हैं। हम जियो से साथ मिलकर भारत में अधिक से अधिक लोगों तक जुड़ने को लेकर आश्वस्त हैं। हमारा लक्ष्य है हर साइज के व्यापार को नए अवसर मुहैया कराए, लेकिन मुख्य रूप से हम 60 मिलियन छोटे बिजनेस को यह अवसर मुहैया कराना चाहते हैं। इस डील के साथ ही रिलायंस जियो की सबसे बड़ी शेयरहोल्डर कंपनी फेसबुक बन गई है। बता दें कि वर्ष 2016 में रिलायंस जियो को लॉन्च किया गया था। जियो देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी के रूप में उभरी और काफी तेजी से इसने बाजार पर अपनी धाक जमाई। रिलायंस ने ना सिर्फ टेलीकॉम बल्कि ब्रॉडबैंड से लेकर ई-कॉमर्स में भी अपना विस्तार किया। फेसबुक की बात करें तो अकेले भारत में कंपनी के 400 मिलियन यूजर्स हैं। भारत में वर्ष 2020 तक इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों की संख्या 850 मिलियन हो जाएगी।

19-04-2020
यूट्यूब ने अपने एंड्राइड ऐप में किया ये बदलाव...सोशल मीडिया पर किया जा रहा है ट्रोल

मुंबई। वीडियो शेयरिंग कंपनी यूट्यूब ने अपने एंड्राइड ऐप में कुछ बदलाव किए हैं। दुनियाभर में हो रहे दिन प्रतिदिन बदलाव को देखते हुए यहा परिवर्तन किया गया है। भारतीय उपभोक्ताओं को लुभाने के लिए यूट्यूब ने अपने एंड्राइड ऐप में वीडियो के देखे जाने वालों की गिनती को अब मिलियन और बिलियन से हटाकर लाख और करोड़ में दिखाना शुरू कर दिया है। हालांकि मिलियन और बिलियन के आदी हो चुके भारतीयों को यूट्यूब का यह नया बदलाव बिल्कुल भी गले नहीं उतर रहा है और वह सोशल मीडिया पर लगातार इसकी बुराई कर रहे हैं। यूट्यूब के दुनियाभर में लगभग 200 करोड़ उपभोक्ता हैं, उनमें से लगभग 26 करोड़ पचास लाख उपभोक्ता अकेले भारत में पाए जाते हैं। एक बड़ी संख्या को उनकी ही क्षेत्रीय भाषा में लुभाने के लिए यूट्यूब ने यह बड़ा कदम उठाया है। हालांकि बिलियन और मिलियन से लाख और करोड़ में हुआ यह बदलाव अभी सभी भारतीयों को दिखाई देना शुरू नहीं हुआ है।

यूट्यूब ने बहुत छोटे पैमाने पर यह प्रयोग कुछ मुट्ठी भर एंड्राइड ऐपधारियों के ऊपर करके देखा है। इस प्रयोग के अंतर्गत किसी भी वीडियो के देखने वालों की संख्या ही नहीं, बल्कि किसी यूट्यूब चैनल के सब्सक्राइबर्स की संख्या को भी लाख और करोड़ में ही दिखाया जाएगा। अगर यह प्रयोग सफल रहता है तो यूट्यूब इसे सभी प्लेटफार्म के लिए लागू कर सकता है। जैसे ही इस बदलाव की खबर फैली, वैसे ही सोशल मीडिया पर लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया देना शुरू कर दिया। जिन लोगों के एंड्राइड ऐप पर यह बदलाव हुए हैं, उन्होंने अपने फोन से स्क्रीनशॉट लेकर फेसबुक, इंस्टाग्राम और टि्वटर पर साझा करना शुरू कर दिया। ज्यादातर लोगों ने इस बदलाव को बहुत ही खराब बताया। उनका मानना है कि वे अब मिलियन और बिलियन में गिनती करने के आदी हो गए हैं इसलिए लाख और करोड़ में किसी भी संख्या को गिनना हजम नहीं होता।

11-02-2020
CH / NEWS
01:44pm

रायपुर।मशहूर भजन गायक अनूप जलोटा ने राष्ट्रीय पुरस्कार दिए जाने कि प्रक्रिया पर तंज कसा।उन्होंने यंहा तक कह दिया कि पाकिस्तान के राष्ट्रपति पूर्व क्रिकेटर इमरान खान अगर भारतीय बन जाये तो उन्हें पद्मभूषण दे दिया जाएगा।यंहा ये बताना जरूरी होगा कि पाकिस्तानी गायक अदनान सामी को पद्मश्री मिलने पर बॉलीवुड और संगीत की दुनिया से तीखी प्रतिक्रियाएं सामने आई थी।सीएए और एनआरसी पर पूछे गए सवालों के जवाब में उन्होंने कहा जिसे उसका मतलब तक पता नही है वे हंगामा कर रहे है और जो जानते है वे खामोश बैठे है जैसे कि मैं।उन्होंने कहा कि ये नागरिकता देने वाला कानून है छिनने वाला नही।अनूप जलोटा ने आये दिन खड़े होने वाले हिन्दू मुस्लिम विवाद पर बेहद तल्ख टिपण्णी की।उन्होंने कहा कि उनका बस चले तो रंगों को भी जाति में बांट दे।

17-01-2020
इसरो ने लॉन्च किया संचार उपग्रह जीसैट-30, इतने साल तक करेगा काम

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के नाम एक और कामयाबी जुड़ गई है। इसरो ने शुक्रवार को सुबह करीब दो बजकर 35 मिनट पर संचार उपग्रह जी-सैट 30 का प्रक्षेपण यूरोपीयन स्पेस एजेंसी एरियनस्पेस के फ्रेंच के गुआना में एरियन-5 व्हीकल से सफलतापूर्वक कर दिया। इसके थोड़ी देर बाद यह व्हीकल से अलग हो गया और अपनी कक्षा की ओर बढ़ गया। ये सैटेलाइट इनसैट-4ए की जगह लेगा। जीसैट-30 का वजन करीब 3,357 किलोग्राम है। वैज्ञानिकों का मानना है कि इस सैटेलाइट के सफल प्रक्षेपण के बाद कु-बैंड और सी-बैंड कवरेज में बढ़ोतरी होगी।

इससे भारतीय क्षेत्र और द्वीपों के साथ बड़ी संख्या में खाड़ी और एशियाई देशों के साथ ऑस्ट्रेलिया में पहुंच बढ़ेगी। जीसैट-30 संचार सैटेलाइट है जो 15 साल के मिशन के लिए प्रक्षेपित किया गया है। इसरो ने इस सैटेलाइट को 1-3केबस मॉडल में तैयार किया है, जो जियोस्टेशनरी ऑर्बिट के सी और कु-बैंड से संचार सेवाओं में मदद करेगा। इसरो के अनुसार इस सैटेलाइट की मदद से टेलीपोर्ट सेवा, डिजिटल सैटेलाइट न्यूज गैदरिंग, डीटीएच टेलिविजन सेवा, मोबाइल सेवा कनेक्टिविटी जैसे कई सुविधाओं को बेहतर करने में मदद मिलेगी। कु-बैंड सिग्नल से पृथ्वी पर चल रही गतिविधियों को पकड़ा जा सकता है।

04-01-2020
अगर पासवर्ड हुआ चोरी तो गूगल करेगा अलर्ट, जाने कैसे करे फीचर का इस्तेमाल  

नई दिल्ली। तेजी से डिजिटल हो रही दुनिया में शायद ही किसी का डाटा सुरक्षित है। आए दिन लोगों के डाटा लीक हो रहे हैं। चाहे फेसबुक हो, ट्विटर हो या फिर व्हाट्सएप ही क्यों ना हो। हर एक प्लेटफॉर्म पर निजी जानकारी लीक होने का खतरा बना रहता है। पिछले साल ही व्हाट्सएप यूजर्स की जासूसी हुई थी जिसके बाद पीड़ित लोगों ने भारत सरकार से भी सवाल पूछे थे। तो अब सवाल यह है कि कैसे पता चलेगा कि आपकी निजी जानकारी लीक हो रही है। आइए जानते हैं...

गूगल करेगा अलर्ट
लगातार लीक हो रहे डाटा के बाद गूगल ने अपनी एक नई सर्विस शुरू की है। गूगल की इस सर्विस का नाम गूगल पासवर्ड मैनेजर है। गूगल के इस पासवर्ड मैनेजर के जरिए आप अपने सोशल मीडिया अकाउंट समेत इंटरनेट बैंकिंग के पासवर्ड या किसी अन्य वेबसाइट के पासवर्ड को सुरक्षित रख पाएंगे। गूगल पासवर्ड मैनेजर का इस्तेमाल करने पर पासवर्ड बदलने का भी अलर्ट मिलेगा।

डाटा लीक हुआ है या नहीं, ऐसे करें चेक
गूगल के पासवर्ड मैनेजर में जाकर आपको पता लगा सकते हैं कि आपका कोई पासवर्ड लीक हुआ है या नहीं। इसके लिए आपको passwords.google.com पर जाना होगा। इसके बाद पासवर्ड मैनेजर खुल जाएगा जिसमें आपको चेक पासवर्ड का विकल्प मिलेगा जिसपर क्लिक करने के बाद गूगल आपसे उस सिस्टम पर पहले से लॉगिन जीमेल का पासवर्ड मांगेगा। पासवर्ड डालने के बाद गूगल आपको बता देगा कि आपका पासवर्ड कहीं इस्तेमाल हुआ है या नहीं। साथ ही यह भी बताएगा कि आपका पासवर्ड लीक हुआ है या नहीं।

पासवर्ड लीक की जानकारी मिलने पर तुरंत बदलें
उदाहरण के तौर पर यदि गूगल आपको पासवर्ड लीक होने की जानकारी देता है तो आपको तुरंत अपना पासवर्ड बदल लेना चाहिए। इसके अलावा टू फैक्टर ऑथेंटिकेशन को भी ऑन कर लेना चाहिए। पासवर्ड बदलते समय भी कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए, जैसे- पासवर्ड में अपना नाम या जन्म तारीख ना डालें। इसके अलावा पासवर्ड में मोबाइल नंबर के इस्तेमाल से भी बचें। साथ ही अपने जीमेल अकाउंट के पासवर्ड को समय-समय पर बदलते रहें।

 

11-12-2019
डिफेंस सैटेलाइट रीसैट-2 बीआर 1 सफलतापूर्वक लॉन्च

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन इसरो ने बुधवार को दोपहर 3.25 बजे ताकतवर राडार इमेजिंग सैटेलाइट रीसैट-2बीआर1 की सफल लॉन्चिंग की है। लॉन्चिंग के बाद अब देश की सीमाओं पर नजर रखना आसान हो जाएगा। ये सैटेलाइट रात के अंधेरे और खराब मौसम में भी काम करेगा। इस लॉन्चिंग के साथ ही इसरो के नाम एक और रिकॉर्ड बन गया है। इसरो ने 20 सालों में 33 देशों के 319 उपग्रह छोड़ा है। 1999 से लेकर अब तक इसरो ने कुल 310 विदेशी सैटेलाइट्स अंतरिक्ष में स्थापित किए हैं। 

 

15-11-2019
मिशन 'गगनयान' के लिए तैयार हुआ भारत, चुना गया 12 यात्रियों को

नई दिल्ली। भारत के अंतरिक्ष में पहले मानव मिशन गगनयान के लिए 12 संभावित यात्रियों को चुना गया है। वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने गुरुवार को कहा कि इसरो के पहले मानव मिशन गगनयान के लिए अंतरिक्ष यात्रियों का चुनाव पेशेवर तरीके से किया जा रहा है। बंगलूरू में आयोजित इंडियन सोसाइटी फॉर एयरोस्पेस मेडिसिन (आईएसएएम) के 58वें वार्षिक सम्मेलन के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए एयर चीफ मार्शल ने कहा कि संभावित अंतरिक्ष यात्रियों के चयन की प्रक्रिया जारी है। मेरा मनना है कि यह बहुत ही पेशेवर तरीके से किया जाएगा। इसरो के साथ बढ़ते संवाद से स्वयं चयन प्रक्रिया के प्रति समझ बढ़ी है।

भारतीय वायुसेना की भूमिका के बारे में भदौरिया ने कहा कि टीम इसरो के साथ समन्वय कर रही है और अंतरिक्ष यान के डिजाइन के पहलुओं को देख रही है जैसे कि जीवन रक्षक प्रणाली, कैप्सूल का डिजाइन, साथ ही विमानन चिकित्सा प्रकोष्ठ यह सुनिश्चित कर रहा है कि इसरो चुनौती का सफलतापूर्वक सामना कर सफलता प्राप्त करे। सम्मेलन को संबोधित करते हुए वायुसेना के चिकित्सा सेवा के महानिदेशक एयर मार्शल एमएस बुटोला ने बताया कि गगनयान के लिए यात्रियों के चयन का पहला चरण पूरा हो गया है और संभावित अंतरिक्ष यात्रा के लिए वायुसेना के चुने गए कुछ चालक दल सदस्यों का रूस में प्रशिक्षण भी पूरा हो गया है। उन्होंने कहा कि जो काम उन्हें दिया गया था उसे समयबद्ध तरीके से पूरा किया गया है। 

एक अधिकारी के मुताबिक, वायुसेना के 12 लोगों को गगनयान परियोजना के लिए संभावित यात्री के रूप में चुना गया है और इनमें से सात प्रशिक्षण के लिए रूस गए हैं। पहचान जाहिर नहीं करते हुए अधिकारी ने कहा कि रूस गए सात संभावित अंतरिक्ष यात्रियों के वापस आने के बाद चुने गए शेष संभावित यात्रियों को प्रशिक्षण के लिए भेजा जाएगा। गगनयान भारत का पहला मानव अंतरिक्ष मिशन है जिसे इसरो द्वारा दिसंबर 2021 तक प्रक्षेपित करने का लक्ष्य रखा गया है। इसरो भारतीय वायुसेना के साथ मिलकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपने को पूरा करने के लिए काम कर रहा है। अंतरिक्ष यात्रियों को पृथ्वी की निचली कक्षा में भेजा जाएगा और यान में पर्याप्त ऑक्सीजन और गगनयान के यात्रियों के लिए जरूरी अन्य सामान के साथ कैप्सूल जुड़ा होगा। पहले गगनयान यात्रियों के लिए अधिकतम आयु सीमा 30 साल रखी गई थी लेकिन इस आयु वर्ग का कोई भी पायलट शुरुआती परीक्षा उत्तीर्ण नहीं कर सके जिसके बाद अधिकतम उम्र 41 साल कर दी गई।

 

Please Wait... News Loading