GLIBS

18-09-2019
फेसबुक ने भारतीय यूजर्स को दिया तोहफा, ‘स्टोरीज’ में किया ये बदलाव

नई दिल्ली। फेसबुक ने अपने भारतीय यूजर्स को एक नया तोहफा दिया है। अब भारत में भी यूजर्स अपने फेसबुक और इंस्टाग्राम प्रोफाइल के ‘स्टोरीज’ सेक्शन में संगीत को जोड़ पाएंगे। अभी तक इस सेक्शन में अपने वीडियो और फोटो को 24 घंटे के लिए जोड़ने की सुविधा ही यूजर्स को मिली हुई थी। फेसबुक ने  जारी बयान में कहा, हम भारत में लोगों को फेसबुक और इंस्टाग्राम पर अपनी भावनाएं संगीत के जरिए पेश करने का नया रास्ता दे रहे हैं। अब वे अपनी स्टोरीज में म्यूजिक स्टिकर्स और अपने फेसबुक प्रोफाइल में अन्य क्रिएटिव तरीकों जैसे, गानों के बोल, लिप सिंक लाइव और पसंदीदा गाने जोड़ सकते हैं। इसी के साथ फेसबुक पर संगीत सुविधा पाने वाला भारत दुनिया का 55वां देश बन गया है। फिलहाल यूजर्स अपनी स्टोरीज में हालिया रिलीज कबीर सिंह फिल्म का बेख्याली गाना और नब्बे के दशक की मशहूर आशिकी फिल्म का बस इक सनम चाहिए गाना अपलोड कर सकते हैं।

जल्द ही अन्य गाने भी स्टोरीज सेक्शन के लिए उपलब्ध हो जाएंगे। फेसबुक इंडिया के निदेशक व पार्टनरशिप हेड मनीष चोपड़ा ने कहा, हमने इस नए उत्पाद को प्रचलित बनाने के लिए भारतीय म्यूजिक कम्युनिटी के साथ साझेदारी की है। बता दें कि इस साल के शुरू में फेसबुक ने टी-सीरीज म्यूजिक, जी म्यूजिक कंपनी और यशराज फिल्मस के संगीत का फेसबुक और इंस्टाग्राम पर उपयोग करने के लिए उनके साथ साझेदारी करने की घोषणा की थी। यूजर्स को इस म्यूजिक फीचर का उपयोग करने के लिए फेसबुक या इंस्टाग्राम पर जाकर कैमरा ऑन करना होगा या कोई भी एक फोटो या वीडियो अपने मोबाइल या डेस्कटॉप से चुनने के बाद उसमें म्यूजिक स्टिकर जोड़ना होगा। म्यूजिक स्टिकर के जरिए गाना चुनने के बाद यूजर्स यह भी चुन पाएंगे कि उन्हें अपनी स्टोरी पर गाने के कौन से हिस्से को चलाना चाहते हैं। साथ ही वह गायक का नाम और गाने का टाइटल भी स्टोरीज में जोड़ पाएंगे। इसके अलावा टिकटॉक एप की तर्ज पर लिप सिंक लाइव फीचर के जरिए फेसबुक यूजर्स किसी भी गाने को खुद ही गाने का अभिनय करते हुए भी वीडियो अपलोड कर पाएंगे।

 

16-09-2019
मोटोरोला आज भारत में लॉन्च करेगा टीवी और स्मार्टफोन मोटो E6S

 

नई दिल्ली। चीनी टेक कंपनी लेनेवो की सब्सिडयरी मोटोरोला भारत में आज टीवी लॉन्च करने की तैयारी में है। कंपनी ने इसके लिए ई-कॉमर्स वेबसाइट फ्लिपकार्ट के साथ पार्टनर्शिप की है। आज इसे भारत में लॉन्च किया जाएगा। मोटोरोला टीवी के बारे में बात करें तो फिलहाल ये साफ नहीं है कि इस टीवी में क्या नई खासियत होगी। हालांकि इतना तय है कि ये ये स्मार्ट टीवी होगा और एंड्राइड बेस्ड ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलेगा। इसे फुल एचडी या 4K रेज्योलुशन के साथ कंपनी लॉन्च कर सकती है। मोटोरोला टीवी के अलावा आज दोपहर 12 बजे कंपनी भारत में एक नया स्मार्टफोन भी लॉन्च कर रही है। मोटो E6S को भारत में आज पेश किया जाएगा। ये बजट स्मार्टफोन है और इसे पहले मोटो E6 प्लस के नाम से दूसरे देशों में लॉन्च किया जा चुका है। मोटो E6S के स्पेसिफिकेशन्स की बात करें तो इस स्मार्टफोन में 6.1 इंच की एचडी प्लस डिस्प्ले है और इसमें मीडियाटेक हेलिओ P22 ऑक्टाकोर प्रोसेसर दिया गया है।

इस स्मार्टोफोन में 4GB रैम है और ये एंड्राइड 9 Pie पर चलता है। मोटो E6S में डुअल रियर कैमरा दिया गया है। प्राइमरी सेंसर 13 मेगापिक्सल का है, जबकि दूसरा सेंसर 2 मेगापिक्सल का है और डेप्थ सेंसिंग के लिए है। सेल्फी के लिए इस स्मार्टफोन में 8 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा दिया गया है। इस स्मार्टफोन में 3,000mAh की बैटरी है और इसमें रियर फिंगरप्रिंट स्कैनर दिया गया है। मोटो E6S की कीमत भारत में क्या होगी फिलहाल साफ नहीं है। लेकिन कंपनी ने मोटो E6 Plus को लैटिन अमेरिका में 139 यूरो में लॉन्च किया था। इसे भारतीय रुपये में तब्दील करें तो ये 11000 रुपये होता है। उम्मीद की जा सकती है इसे भारत में कंपनी 10000 रुपये के अंदर लॉन्च करेगी।

11-09-2019
आईफोन 11, 11 प्रो और 11 प्रो मैक्स लॉन्च, 13 सितंबर से शुरू होगी बुकिंग, जानिए कीमत....

नई दिल्ली। दिग्गज टेक्नोलॉजी कंपनी एपल ने मेगा इवेंट के दौरान Apple के तीन नए आई फोन्स लॉन्च किए हैं। इसमें iPhone 11, iPhone 11 Pro और iPhone 11 Pro Max। इन तीनों की बिक्री भारत में 20 सितंबर से शुरू होगी। इसके लिए 13 सितंबर से प्री बुकिंग भी करा सकते हैं। कंपनी ने कीमतों का भी ऐलान कर दिया है।

शुरुआती कीमत 64,990 रुपये
इंडियन मार्केट में आई फोन 11 की शुरुआती कीमत 64,990 रुपए है, इसकी इंटरनल स्टोरेज 64 जीबी है। इसके अलावा आई फोन 11 दो अन्य वेरिएंट 128 जीबी और 256 जीबी (GB) इंटरनल स्टोरेज के साथ भी आएगा। आईफोन11, 6 कलर ऑप्शन पर्पल, व्हाइट, ग्रीन, यलो, ब्लैक और रेड कलर में उपलब्ध होगा। फोन का प्री-ऑर्डर 30 देशों में 13 सितंबर से शुरू होगा। फोन की बिक्री 20 सितंबर से शुरू होगी, वहीं इंडिया में यह 27 सितंबर से शुरू होगी।

4 घंटे ज्यादा बैटरी लाइफ मिलेगी
एपल ने नए आई फोन की बैटरी लाइफ भी बेहतर दी है। आई फोन 11 प्रो में आई फोन XS के मुकाबले 4 घंटे ज्यादा बैटरी लाइफ मिलेगी। इसी तरह आई फोन 11 प्रो मैक्स में  आई फोन XS Max के मुकाबले 5 घंटे ज्यादा बैटरी लाइफ होगी। आई फोन 11 Pro में 5.8 इंच का डिस्प्ले होगा। वहीं आई फोन Pro Max में 6.5 इंच का डिस्प्ले होगा। आई फोन 11 Pro की शुरुआती कीमत 99,900 रुपये होगी। जबकि आई फोन 11 Pro Max की शुरुआती कीमत 1,09,900 रुपये है।

आई फोन 11 स्पेशिफिकेशन
आई फोन 11 में 6.1 इंच का लिक्विड रेटिना डिस्प्ले दिया गया है। नया आईफोन 11 आईवोएस 13 पर रन करता है। कंपनी ने आई फोन 11 के रियर में 2 कैमरे दिए हैं। आई फोन 11 में 12 मेगापिक्सल का ट्रूडेफ्थ वाइडर सेंसर दिया गया है। फोन में वायरलेस चार्जिंग की सुविधा मिलेगी। यह 2 मीटर तक वाटर रेजिस्टेंट होगा। इसमें तेज फेस अनलॉक होगा और यह वाई फाई 6 को सपोर्ट करेगा।

आई फोन 11 Pro के फीचर्स
आई फोन 11 Pro में 5.8 इंच का डिस्प्ले दिया गया है। आई फोन 11 Pro भी मिडनाइट ग्रीन, स्पेस ग्रे, सिल्वर/व्हाइट और गोल्ड कलर में मिलेगा। भारत में इसके 64 GB वाले बेस वेरिएंट की कीमत 99,900 रुपए से शुरू हो रही है। कंपनी की तरफ से फोन 256 GB और 512 GB वाला वेरिएंट भी उपलब्ध कराया जाएगा। आई फोन 11 Pro मिडनाइट ग्रीन, स्पेस ग्रे, सिल्वर/व्हाइट और गोल्ड कलर में मिलेंगे।

08-09-2019
इसरो ने माना-चांद से टकराया था 'विक्रम लैंडर', नुकसान होने का डर!

नई दिल्ली। चंद्रयान-2  के विक्रम लैंडर  को इसरो ने चांद की सतह पर खोज निकाला है। इसके साथ ही रविवार को इसरो प्रमुख के सिवन ने कहा है कि देखकर लगता है कि विक्रम लैंडर जाकर चांद की सतह से टकरा गया है। इसके साथ उन्होंने यह भी स्वीकार कर लिया है कि विक्रम लैंडर की प्लान की गई लैंडिंग सॉफ्ट नहीं रही। उन्होंने कहा है कि हां, हमने चांद की सतह पर लैंडर को ढूंढ लिया है। यह जरूर चांद की सतह पर तेजी से गिरा होगा। इसके बाद जब इसरो चीफ के सिवन से पूछा गया कि क्या तेजी से चांद से टकराने के चलते लैंडर को नुकसान पहुंचा है, जिस पर सिवन ने कहा है कि वे अभी इस बात को नहीं जानते हैं। लेकिन कई अंतरिक्ष जानकारों का कहना है कि तेजी से चांद से टकराने के चलते विक्रम लैंडर को हुए नुकसान की बात से इंकार नहीं किया जा सकता है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि रोवर प्रज्ञान अभी भी लैंडर के अंदर है। यह बात चंद्रयान-2 के ऑनबोर्ड कैमरे के जरिए खींची गई लैंडर की तस्वीर को देखकर पता चलती है। साथ ही इसरो ने यह भी बताया कि चंद्रयान 2 का ऑर्बिटर जो कि पूरी तरह से स्वस्थ, सुरक्षित और सही तरह से काम कर रहा है, चंद्रमा के चक्कर लगातार लगा रहा है। इससे पहले बेंगलुरू स्थित इसरो के हेडक्वार्टर की ओर से यह बयान भी जारी किया गया था कि ऑर्बिटर का कैमरा सबसे ज्यादा रिजोल्यूशन वाला कैमरा है। जो अभी तक किसी भी चंद्र मिशन में इस्तेमाल हुए कैमरे से ज्यादा अच्छी रिजोल्यूशन वाली तस्वीर खींच सकता है। यह तस्वीरें अंतरराष्ट्रीय विज्ञान समुदाय के लिए बहुत ज्यादा काम की हो सकती हैं।

 

08-09-2019
जापान के साथ मून मिशन की तैयारी कर रहा इसरो

नई दिल्ली। भारत के महत्वकांक्षी मिशन चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम का चांद की सतह पर पहुंचने से पहले बेशक संपर्क टूट गया है लेकिन पूरी दुनिया ने इसरो के हौसले को सलाम किया है। भारत की अंतरिक्ष एजेंसी का जज्बा भी कायम है। अब वह चांद पर बड़े मिशन की तैयारी कर रहा है। इसरो का अगला मून मिशन पहले से बेहतर और बड़ा होगा। माना जा रहा है कि यह मिशन चांद के ध्रुवीय क्षेत्र से सैंपल ला सकता है। चांद के ध्रुवीय क्षेत्र में शोध के इस मिशन को इसरो जापान एयरोस्पेस एक्सप्लोरेशन एजेंसी (जाक्सा) के साथ साझेदारी में करेगा। इसरो ने एक बयान में कहा कि इसरो और जाक्सा के वैज्ञानिक चांद के ध्रुवीय क्षेत्र में शोध करने के लिए एक संयुक्त सैटेलाइट मिशन पर काम करने की संभावना पर विचार कर रहे हैं। चंद्रयान-2 की घोषणा 2008 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल के दौरान हुई थी। उस समय इसे रूस के साथ अंजाम देने की योजना थी। रूस की अंतरिक्ष एजेंसी रॉसकॉसमॉस को चंद्रयान-2 के लिए लैंडर उपलब्ध कराना था। हालांकि यह योजना किसी वजह से आगे वहीं बढ़ पाई। जिसके बाद 2012 में इसरो ने अकेले इसे पूरा करने का निर्णय लिया। इस साल जुलाई में जाक्सा ने क्षुद्रग्रह पर अपने हायाबुसा मिशन-2 को सफलतापूर्वक उतारा था। इस मुश्किल मिशन को सफलतापूर्वक अंजाम देकर जापान ने अपनी तकनीकी क्षमता का लोहा मनवाया है। जाक्सा का यह मिशन क्षुद्रग्रह पर शोध करने से संबंधित था। इसरो और जाक्सा के संयुक्त मिशन को 2024 में लागू किया जाएगा। इससे पहले 2022 में भारत का प्रस्तावित गगनयान मिशन है जिसके तहत मानव को अंतरिक्ष में भेजा जाएगा। पहली बार भारत और जापान के संयुक्त मून मिशन को लेकर 2017 में सार्वजनिक तौर पर बात की गई थी। यह बातचीत मल्टी स्पेस एजेंसियों की बंगलूरू में हुई बैठक के दौरान हुई थी। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब 2018 में जापान गए तो यह अंतरसरकारी बातचीत का भी हिस्सा था। 



 

08-09-2019
अब पेटीएम ऐप पर किसी भी क्यूआर कोड से होगा भुगतान

नई दिल्ली। डिजिटल भुगतान कंपनी पेटीएम ने अपने उपभोक्ताओं को किसी भी भुगतान प्लेटफॉर्म के क्यूआर कोड के माध्यम से यूपीआई भुगतान करने की सुविधा प्रदान की है। पेटीएम ने रविवार को जारी बयान में कहा कि वह ऑफलाइन रिटेल स्टोर पर डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए हमेशा प्रयासरत है और अब इसी कड़ी में उपभोक्ताओं को भीम यूपीआई, गूगल पे जैसे भुगतान प्लेटफॉर्म के क्यूआर कोड को स्कैन कर भुगतान किया जा सकता है। उसने कहा कि इसके लिए ऐप पर एक क्विक गाइड भी दिया गया है, जिसमें क्यूआर कोड स्कैनर के उपयोग से लेकर यूपीआई भुगतान तक के बारे में बताया गया है।

01-09-2019
चांद की अंतिम कक्षा में पहुंचा चंद्रयान-2

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) का चंद्रयान-2 चांद के और करीब पहुंच गया है। चंद्रयान-2 अब चांद की अंतिम और पांचवीं कक्षा में पहुंच गया है। रविवार 1 सितंबर को भारतीय मानक समय शाम 06:21 बजे चंद्रयान-2 सफलता पूर्वक चांद की पांचवीं कक्षा में दाखिल हो गया। एडवांस ऑनबोर्ड प्रोपलशन सिस्टम का इस्तेमाल कर चंद्रयान-2 पांचवीं कक्षा में दाखिल हो गया। चंद्रयान-2 को कक्षा बदलने में 52 सेकेंड का वक्त लगा। स्पेसक्राफ्ट के सभी पैरामीटर्स नॉर्मल हैं। अब अगले ऑपरेशन में विक्रम लैंडर चंद्रयान-2 ऑरबिटर से अलग होगा। यह ऑपरेशन 2 सितंबर दोपहर 12:45 से 01:45 बजे(भारतीय समय अनुसार) के बीच पूरा होगा। वहीं 3 सितंबर को पहला डीऑर्बिट और 4 सितंबर को दूसरा डीऑर्बिट होगा पूरा होगा। इसका मतलब है कि 4 सितंबर को विक्रम लैंडर चांद के सबसे करीब होगा।

 

25-08-2019
शोध में पता चला, खुजली को यूं भांपता है हमारा दिमाग

नई दिल्ली। हमारी रीढ़ की हड्डी खुजली के संकेतों को दिमाग तक पहुंचाती है। यह शोधकर्ताओं ने पता लगाया है। ‘जर्नल ऑफ द मैकेनिकल बिहेवियर ऑफ बॉयोमेडिकल मैटिरीयल्स’ में प्रकाशित शोधपत्र को पढ़ने से खुजली को बेहतर ढंग से समझने में मदद मिलेगी और इससे पुरानी खुजली के इलाज की नई दवाइयां ढूंढी जा सकेगी। खुजली जो प्राय: एक्जिमा, मधुमेह या कुछ मामलों में कैंसर के कारण होती है। केलिफोर्निया के साल्क इंस्टीट्यूट के प्रोफेसर मार्टिन गाउल्डिंग ने बताया, खुजली की संवेदना का मस्तिष्क तक सफर अन्य स्पर्श से जुड़ी संवेदनाओं से अलग मार्ग से होती है और इसका रास्त रीढ़ की हड्डी से गुजरता है, जो एक विशिष्ट मार्ग है। शोधकर्ताओं ने पहले रीढ़ की हड्डी में निरोधात्मक न्यूरॉन्स का एक सेट खोजा था, जो कोशिकाओं के लिए ब्रेक की तरह काम करते हैं, जो खुजली की संवेदना को मस्तिष्क तक पहुंचाने वाले रीढ़ की हड्डी को अधिकांश समय बंद रखते हैं। ये न्यूरॉन्स न्यूरोट्रांसमिटर न्यूरोपेपटाइड वाई (एनपीवाई) का उत्पादन करते हैं, यह खुजली की संवेदना को मस्तिष्क तक पहुंचाने के मार्ग का निर्माण करते हैं, जो पुरानी खुजली के मामले में रास्ते को हमेशा खुला रखते हैं। चूहों पर किए गए प्रयोग में पाया गया कि इन न्यूरॉन्स की गैरमौजूदगी में उन्हें खुजली की संवेदना प्राप्त नहीं होती है। लेकिन प्रयोग के दौरान जब दवाइयों के डोज से इन न्यूरॉन्स की संख्या को दुबारा बढ़ाया गया तो वे लगातार खुजली की संवेदना हासिल करने लगी। यहां तक कि उन्हें छूकर खुजली नहीं की जा रही थी, फिर भी उनके मस्तिष्क को यह संदेश मिल रहा था कि खुजली हो रही है और वह वैसा ही व्यवहार कर रही थी। 

 

19-08-2019
जल्द ही स्मार्ट फोन में ऐसा दिखेगा वाटसऐप

नई दिल्ली। वॉट्सऐप अपने नाम के साथ फेसबुक का नाम जोड़ने वाला है। जल्द ही आपको यह अपडेट देखने को मिल सकता है। वॉट्सऐप ने अपने लेटेस्ट बीटा में यह नया अपडेट पेश कर दिया है। कंपनी ने अपनी ऐप में वॉट्सऐप फार्म फेसबुक टैग को जोड़ दिया है। यह लेटेस्ट बीटा एडिशन एक हफ्ते से भी कम समय में आ जाएगा। मगर कुछ बीटा यूज़र्स को अपनी ऐप में नया नाम दिखाई दे रहा है। यूज़र्स ने वीबीटा इनफो पर फोटो शेयर की है, जिसमें देखा जा सकता है कि वॉट्सऐप में ‘वॉट्सऐप फार्म फेसबुक ’ टैग ऐड कर दिया गया है।

फेसबुक ने वॉट्सऐप को कई साल पहले खरीदा था। मगर इस प्लेटफॉर्म पर फेसबुक का कोई जिक्र नहीं था, हालांकि अब कंपनी का नाम जुड़ने से यूज़र्स को पता चलेगा कि वॉट्सऐप फेसबुक का हिस्सा है। फेसबुक ने कंफर्म किया कि वह वाटसऐप और इंस्टाग्राम का नाम बदलने जा रही है। 

13-08-2019
कल धरती की कक्षा छोड़ देगा चंद्रयान-2 और चांद की तरफ  बढ़ेगा 

नई दिल्ली। चंद्रयान-2  बुधवार को धरती की कक्षा छोड़ देगा और फिर यह चांद पर पहुंचने के लिए 'चंद्रपथ' पर अपनी यात्रा शुरू कर देगा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के वैज्ञानिक इसे चंद्रपथ पर डालने के लिए बुधवार सुबह एक महत्वपूर्ण अभियान प्रक्रिया को अंजाम देंगे। अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा है कि भारतीय समयानुसार बुधवार तड़के तीन बजे से सुबह चार बजे के बीच अभियान प्रक्रिया 'ट्रांस लूनर इंसर्शन' (टीएलआई) को अंजाम दिया जाएगा। इसरो ने कहा कि चंद्रयान-2 के 20 अगस्त को चंद्रमा की कक्षा में पहुंचने और सात सितंबर को इसके चंद्र सतह पर उतरने की उम्मीद है। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी के अध्यक्ष के। सिवन ने सोमवार को कहा कि 14 अगस्त को तड़के लगभग साढ़े तीन बजे हम 'ट्रांस लूनर इंजेक्शन' नामक अभियान प्रक्रिया को अंजाम देने जा रहे हैं। इस अभियान चरण के बाद 'चंद्रयान-2' धरती की कक्षा को छोड़ देगा और चांद की तरफ  बढ़ जाएगा। 20 अगस्त को हम चंद्र क्षेत्र में पहुंचेंगे। यह उल्लेख करते हुए कि 'चंद्रयान-2Ó बीस अगस्त को चांद के इर्द-गिर्द होगा, उन्होंने कहा कि  हमने चांद के आस-पास सिलसिलेवार अभियान प्रक्रियाओं को अंजाम देने की योजना बनाई है और अंतत: सात सितंबर को हम चांद पर इसके दक्षिणी ध्रुव के नजदीक उतरेंगे। इसरो अब तक 'चंद्रयान-2' को पृथ्वी की कक्षा में ऊपर उठाने के पांच प्रक्रिया चरणों को अंजाम दे चुका है। 

 

 

12-08-2019
20 अगस्त को पहुंचेगा चंद्रमा की कक्षा में चंद्रयान-2

अहमदाबाद। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के अध्यक्ष के. सिवन ने सोमवार को कहा कि भारत के दूसरे चंद्र अभियान चंद्रयान-2  के 20 अगस्त को चंद्रमा की कक्षा में पहुंचने की संभावना है और सात सितंबर को यह चंद्रमा की सतह पर उतरेगा। उन्होंने अहमदाबाद  में संवाददाताओं से कहा कि अंतरिक्ष यान दो दिनों बाद पृथ्वी की कक्षा से बाहर निकलना शुरू करेगा। भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के जनक समझे जाने वाले डॉ. विक्रम साराभाई की जन्मशती समारोह में हिस्सा लेने सिवन अहमदाबाद पहुंचे थे। इसरो प्रमुख ने कहा कि 3850 किलोग्राम के चंद्रयान-2 में तीन हिस्से हैं जिसमें एक ऑर्बिटर, लैंडर और रोवर है। अभियान के तहत 22 जुलाई को प्रक्षेपण कार्यक्रम के बाद सात सितंबर को यह चंद्रमा की सतह पर पहुंचेगा। उन्होंने कहा कि 22 जुलाई को चंद्रयान-2 के प्रक्षेपण के बाद हमने पांच बार प्रक्रिया को अंजाम दिया। चंद्रयान-2 का समग्र हिस्सा फिलहाल धरती के इर्द गिर्द घूम रहा है। अगली सबसे महत्वपूर्ण प्रक्रिया बुधवार सुबह में शुरू होगी। उन्होंने कहा कि 14 अगस्त को तड़के साढ़े तीन बजे हम ट्रांस लूनर इंजेक्शन नामक प्रक्रिया शुरू करेंगे। इस प्रक्रिया में चंद्रयान-2 पृथ्वी की कक्षा से बाहर होकर चंद्रमा की ओर बढ़ेगा। इसके बाद 20 अगस्त को हम चंद्रमा  की कक्षा में पहुंचेंगे। सिवन ने कहा कि फिलहाल अंतरिक्ष यान बहुत अच्छा कर रहा है और इसकी सभी प्रणाली सही से काम कर रही है। उन्होंने कहा कि इसरो में वैज्ञानिक आगामी दिनों में खासकर दिसंबर में काफी व्यस्त होंगे जब अंतरिक्ष एजेंसी छोटे उपग्रहों को प्रक्षेपित करने का अभियान शुरू करेगी।

 

 

06-08-2019
चंद्रयान-2 पहुंचा चंद्रमा के पास, पांचवी बार पृथ्वी की कक्षा सफलतापूर्वक बदली

नई दिल्ली। चंद्रयान-2 ने मंगलवार को दोपहर बाद पृथ्वी की कक्षा पांचवी बार सफलतापूर्वक बदली। इसके साथ ही अब यह चंद्रमा के और पास पहुंच गया है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (इसरो) ने ट्वीट करके कहा,“आज चंद्रयान-2 ने पांचवीं बार पृथ्वी की कक्षा बदली। चंद्रयान-2 ने मंगलवार को अपराह्न तीन बजकर चार मिनट पर पांचवीं बार सफलतापूर्व कक्षा बदली। उन्होंने कहा कि चंद्रयान सभी मापदंड़ों पर सही ढ़ंग से काम कर रहा है। इससे पहले 24 जुलाई को अपराह्न 2.52 बजे पहली बार चंदयान ने कक्षा बदली थी। इसके बाद 26 जुलाई को दूसरी बार,29 जुलाई को तीसरी बार और दो अगस्त को चौथी बार चंद्रयान ने पृथ्वी की कक्षा बदली थी। चंद्रयान-2 का 22 जुलाई को दोपहर 2.43 बजे श्रीहरिकोटा (आंध्रप्रदेश) के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से प्रक्षेपण हुआ था, जिसके 16 मिनट बाद ही यान सफलतापूर्वक पृथ्वी की कक्षा में पहुंच गया था। चंद्रयान-2 में ऑर्बिटर, लैंडर (विक्रम) और रोवर (प्रज्ञान) शामिल हैं, जो 48 दिन में तीन लाख 844 किमी की यात्रा पूरी करके चांद के दक्षिणी ध्रुव पर लैंड करेगा। स्वदेशी तकनीक से निर्मित चंद्रयान-2 में कुल 13 पेलोड हैं। आठ ऑर्बिटर में, तीन पेलोड लैंडर ‘विक्रम’ और दो पेलोड रोवर ‘प्रज्ञान’ में हैं। पांच पेलोड भारत के, तीन यूरोप, दो अमेरिका और एक बुल्गारिया के हैं। चंद्रयान-2 के 20 सितंबर को चांद की सतह पर उतरने की संभावना है और चांद की कक्षा में पहुंचने के बाद ऑर्बिटर एक साल तक काम करेगा। इसका मुख्य उद्देश्य पृथ्वी और लैंडर के बीच संपर्क स्थापित करना है।

 

Please Wait... News Loading