GLIBS

21-07-2019
वेस्टइंडीज दौरे के लिए हुआ टीम इंडिया का ऐलान, ऋषभ पंत को मिला स्थान

नई दिल्ली। वेस्टइंडीज दौरे के लिए भारतीय टीम की घोषणा हो चुकी है। 3 अगस्त से आरंभ हो रहे दौरे के लिए मुंबई में रविवार को अखिल भारतीय सीनियर चयन समिति ने टीम का ऐलान किया। टीम इंडिया में महेंद्र सिंह धोनी के स्थान पर विकेटकीपर बल्लेबाज के तौर पर ऋषभ पंत को जगह दी गई है। बता दें कि शनिवार को 38 वर्षीय धोनी ने बीसीसीआई को सूचित किया था कि वे फिलहाल किसी भी किस्म की क्रिकेट के लिए उपलब्ध नहीं रहेंगे, क्योंकि वह अगले 2 माह तक पैरा सैन्य रेजिमेंट के साथ रहेंगे। वेस्टइंडीज दौरे पर भारतीय टीम को तीन टी-20 इंटरनेशनल, तीन वनडे और दो टेस्ट मैच खेलने हैं. वनडे और टी 20 टूर्नामेंट के लिए ये टीम खेलेंगी। 

तीन टी-20 इंटरनेशनल के लिए भारतीय टीम
विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा (उप-कप्तान), शिखर धवन, केएल राहुल, श्रेयस अय्यर, मनीष पांडे, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), क्रुणाल पंड्या, रवींद्र जडेजा, वॉशिंगटन सुंदर, राहुल चाहर, भुवनेश्वर कुमार, खलील अहमद, दीपक चाहर, नवदीप सैनी।

 

20-07-2019
इंडोनेशिया ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट: चीन की खिलाड़ी को परास्त कर फाइनल में पहुंचीं पीवी सिंधू  

नई दिल्ली। भारत की बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु ने इंडोनेशिया ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट में फाइनल
में स्थान बना लिया है। उन्होंने चीन की चेन यू फेई को शनिवार को 21-19, 21-10 से हराया और इंडोनेशिया ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट के फाइनल में अपनी जगह बनाई। विश्व रैंकिंग में पांचवें नंबर की भारतीय खिलाड़ी ने तीसरी रैंकिंग की चीनी खिलाड़ी से यह मुकाबला 46 मिनट में जीता। पी.वी सिंधु ने वल्र्ड नंबर-2 जापान की नोजोमी ओकुहारा को 21-14, 21-7 से हराकर इंडोनेशिया ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में प्रवेश किया था। पांचवीं सीड सिंधु ने शुक्रवार को खेले गए महिला एकल के क्वार्टर फाइनल मैच में ओकुहारा को 44 मिनट में मात दी थी।  बता दें कि सिंधु का इस साल का यह पहला फाइनल मुकाबला है। उन्होंने पिछले साल के आखिर में वल्र्ड टूर फाइनल में खिताब जीता था। 

19-07-2019
इंग्लैंड के स्टोक्स चुने गये ‘न्यूजीलैंडर आफ द ईयर’

वेलिंगटन। इंग्लैंड क्रिकेट टीम की ऐतिहासिक विश्वकप जीत के हीरो रहे बल्लेबाज बेन स्टोक्स को फाइनल की विपक्षी टीम न्यूजीलैंड में बड़ा सम्मान देते हुये ‘न्यूजीलैंडर आॅफ द ईयर’ चुना गया है।
विश्वकप फाइनल में इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड को हराकर पहली बार खिताब जीता था। उपविजेता कीवी टीम का प्रदर्शन भी इस मैच में कमाल का रहा जिसके लिये उसके कप्तान केन विलियम्सन को भी सर्वश्रेष्ठ न्यूजीलैंडर चुना गया है। लेकिन इंग्लैंड के खिलाड़ी स्टोक्स का इस पुरस्कार के लिये चुना जाना दिलचस्प है।
दरअसल स्टोक्स मूल रूप से न्यूजीलैंड के निवासी हैं और 12 वर्ष की उम्र में अपने परिवार के साथ इंग्लैंड में आकर बस गये थे। उनके पिता कुछ वर्षों पहले वापिस न्यूजीलैंड लौट गये थे लेकिन स्टोक्स इंग्लैंड की राष्ट्रीय टीम में खेलते हैं और अपने परिवार संग इंग्लैंड में ही रहते हैं। विश्वकप में स्टोक्स ने 66.42 के औसत से 465 रन बनाये थे तथा सात विकेट भी लिये थे। विश्वकप फाइनल में हालांकि उनका नाबाद 84 रन और सुपर ओवर में सर्वाधिक रन ने उन्हें इंग्लैंड का हीरो बना दिया जिसकी बदौलत वह 44 वर्षों में पहली बार चैंपियन बन सका।

विश्वकप फाइनल में प्लेयर आॅफ द मैच रहे स्टोक्स को न्यूजीलैंड के कप्तान विलियम्सन के साथ सर्वश्रेष्ठ न्यूजीलैंडर का पुरस्कार दिया गया है। इस पुरस्कार के लिये दोनों क्रिकेटरों के अलावा न्यूजटॉक जेडबी के एंकर साइमन बार्नेट, पूर्व लीग स्टार मनु वातुवेई और क्राइस्टचर्च मस्जिद हमले के हीरो अब्दुल अजीज हैं। न्यूजीलैंडर आॅफ द ईयर पुरस्कार के प्रमुख जज कैमरन बेनेट ने कहा कि स्टोक्स और विलियम्सन दोनों को ही विश्वकप फाइनल के बाद कई तरह के पुरस्कारों के लिये नामित किया जा रहा है। उन्होंने कहा, स्टोक्स भले ही इंग्लैंड के लिये खेलते हैं लेकिन वह क्राइस्टचर्च में पैदा हुये हैं और उनके परिजन यहीं रहते हैं। वह माओरी मूल के हैं और उनके अंदर असल कीवी भावना दिखती है। इंग्लैंड में प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार बोरिस जानसन और जेरेमी हंट पहले ही संकेत दे चुके हैं कि स्टोक्स को देश के सर्वाेच्च नागरिक पुरस्कार ‘नाइटहुड’ की उपाधि से नवाजा जाएगा। इस पुरस्कार के लिये 15 सितंबर तक नामांकन होने हैं।

18-07-2019
भारत की उडऩपरी पीटी उषा आईएएएफ  वेटरन पिन के लिए नामांकित

नई दिल्ली। भारत की दिग्गज एथलीट पीटी उषा को इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ  एथलेटिक्स फेडरेसन ने वल्र्ड एथलेटिक्स के लिए उनकी सेवाओं के लिए उन्हें वेटरन पिन के लिए नामांकित किया है।

आईएएएफ  सीईओ जॉन रिडजियोन ने 55 साल की हो चुकी उषा को भेजे लेटर में लिखा है कि हमें आपको बताते हुए खुशी हो रही है कि वल्र्ड एथलेटिक्स में आपके योग्यदान के लिए आपको आईएफएफ वेटरन पिन के लिए नॉमिनेट किया गया है।  इसके साथ ही पीटी उषा को 52वें आईएफएफ कॉग्रेस की ओपनिंग सेरेमनी में आने का न्योता भी दिया। यह समारोह कतर के नेशनल कंवेशन सेंटर में 24 सितंबर को होगी। पीटी उषा ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इसे शेयर करते हुए लिखा  कि इस सम्मान के लिए आईएएएफ का बहुत-बहुत शुक्रिया। बता दें कि  पीटी उषा को ट्रैक एंड फील्ड की रानी कहा जाता है। साल 1985 में जकार्ता में हुए एशियन गेम्स में उन्होंने 100 मीटर, 200 मीटर, 400 मीटर, 400 मीटर हडज़्ल और 4&400 मीटर रिले में गोल्ड जीता था। साल 1985 में लॉज एंजेल्स में हुए ओलिंपिक गेम्स के 400 मीटर हर्डल में पहुंचने वाली वह पहली भारतीय थी, जहां वह सेंकड के 100वें हिस्से से ब्रॉन्ज मेडल से चूक गई थीं।

 

18-07-2019
सीनियर नेशनल चैम्पियनशिप के लिए छत्तीसगढ़ रग्बी फुटबॉल की टीम रवाना

रायपुर। रग्बी इण्डिया द्वारा सीनियर नेशनल रग्बी फुटबॉल चैम्पियनशिप का आयोजन पाटिलीपुत्र स्टेडियम, पटना (बिहार) में 19 जुलाई 2019 से 21 जुलाई 2019 के बीच हो रहा है। इस सीनियर नेशनल चैम्पियनशिप में जो 7 टीमें उच्च स्थान प्राप्त करेंगी वह नेशनल गेम्स के लिए क्वॉलिफाई होगी। जिसमें हमारे छत्तीसगढ़ की सीनियर रग्बी फुटबॉल टीम के खिलाड़ी भाग ले रहे है। छत्तीसगढ़ टीम साऊथ बिहार एक्सप्रेस से आज सुबहा रवाना हो गई।
टीम :
पुरूष वर्ग के खिलाड़ी:- ढालसिंह, तुषार, थानेश, कार्तिक मिथलेश, शिवेंद्र यादव, दीपक रजक, नवीन , शुभम, जॉन्टी, साहील, राकेश तिवारी, दीपक। कोच मैनेजर सिद्धान्त निषाद। 
महिला वर्ग के खिलाड़ी : प्रेमलता, योगेश्वरी, भानुमति, टेनिशा, शहनाज बानु,़ मधुमिता, चन्द्रप्रभा साहू, ज्योति पटेल, सोनी देवी, आरती विश्वकर्मा ,शैली तिवारी, रश्मि श्रीवास। कोच मैनेजर किरण महाड़िक।

18-07-2019
एशिया को फतह करने लेबनान रवाना भारत की लड़कियां

लखनऊ। लेबनान के बेरूत में 20 से 29 जुलाई के बीच खेली जाने वाली 15वीं एशियन जूनियर बालिका (अंडर-19) हैण्डबॉल चैंपियनशिप में भाग लेने भारतीय जूनियर टीम बुधवार को रवाना हो गयी।
इस चैंपियनशिप के लिए भारतीय टीम की कमान हरियाणा की खुशबू को सौंपी गयी है। टूनार्मेंट के लिए मुख्य कोच साई के अतनू मजूमदार बनाए गए है वहीं हरियाणा के अनूप सिंह और मणिपुर की टी.शीतल रानी शर्मा कोच की भूमिका में होंगे। हैण्डबॉल फेडरेशन आॅफ इंडिया के महासचिव आनन्देश्वर पाण्डेय ने टीम की घोषणा करते हुए बताया कि भारतीय टीम की लिए तैयारी कैंप अयोध्या के डा.भीमराव अम्बेडकर इंडोर स्टेडियम में 27 जून से 17 जुलाई तक लगाया था। यहां ट्रैटाफ्लैक्स पर हुए इस शिविर में कड़े अभ्यास के बाद प्रशिक्षकों ने खिलाड़ियों को कड़ा अभ्यास कराया। इसमें खासकर खेल की तकनीक, इंडयोरेंस, स्टेमिना व गति में सुधार के लिए विशेष मेहनत की गई जिसके चलते उम्मीद है कि टीम अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करेगी।

 

18-07-2019
हिमा को टेबोर एथलेटिक्स मीट में स्वर्ण

नई दिल्ली। फरार्टा धाविका भारत की हिमा दास ने अपने स्वर्णिम अभियान को बरकरार रखते हुये चेक गणराज्य में हुयी टाबोर एथलेटिक्स मीट की 200 मीटर रेस में स्वर्ण पदक जीत लिया है जो उनका पिछले 15 दिनों में अंतरराष्ट्रीय स्पधार्ओं में चौथा स्वर्ण पदक भी है। हिमा ने महिलाओं की 200 मीटर रेस मे 23.25 सेकंड का समय निकाला। भारतीय धाविका को अधिकतर चेक खिलाड़ियों से ही चुनौती मिली। हालांकि वह अपने व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 23.10 सेकंड से थोड़ी दूर रह गयीं। अन्य भारतीय धाविका वीके विस्माया ने सत्र का अपना सर्वश्रेष्ठ 23.43 सेकंड का समय निकाला और दूसरे नंबर र रहीं।

19 साल की हिमा का यह पिछले 15 दिनों में अंतरराष्ट्रीय स्पधार्ओं में चौथा स्वर्ण पदक है। उन्होंने इस वर्ष पोलैंड में दो जुलाई को हुई पोजनान एथलेटिक्स ग्रां प्री में 200 मीटर रेस में 23.65 सेकंड का समय लेकर स्वर्ण पदक जीता था। इसके बाद सात जुलाई को उन्होंने पोलैंड में ही कुटनो एथलेटिक्स मीट में 23.97 सेकंड का समय लेकर स्वर्ण जीता। हिमा ने इसके बाद 200 मीटर में अपना तीसरा स्वर्ण चेक गणराज्य की क्लाड्नो एथलेटिक्स मीटर में जीता जहां उन्होंने 23.43 सेकंड का समय निकाला। भारतीय धाविका से उम्मीद रहेगी कि वह आगे भी इस प्रदर्शन को बरकरार रखें क्योंकि उन्होंने अब तक विश्व चैंपियनशिप की 200 और 400 मीटर रेस के लिये क्वालीफाई नहीं किया है।

पुरूषों में भारत के मोहम्मद अनस ने 400 मीटर रेस में 45.40 सेकंड का समय लेकर जीत दर्ज की जबकि अन्य भारतीय टॉम नोआ निर्मल सत्र का अपना सर्वश्रेष्ठ समय 46.59 सेकंड लेकर दूसरे नंबर पर रहे। केएस जीवन ने 46.60 सेकंड का समय लिया और तीसरे तथा एमपी जबीर 47.16 सेकंड का समय लेकर चौथे नंबर पर रहे। क्लाड्नो में अनस ने 400 मीटर रेस में राष्ट्रीय रिकार्ड से बेहतर प्रदर्शन कर 45.21 सेकंड का समय लिया था और स्वर्ण पदक के साथ साथ विश्व चैंपियनशिप के लिये भी क्वालीफाई किया था।

17-07-2019
बैडमिंटन : इंडोनेशिया ओपन के दूसरे दौर में पहुंचीं पीवी सिंधु और श्रीकांत

नई दिल्ली। भारत की अग्रणी महिला बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु और पुरुष खिलाड़ी किदाम्बी श्रीकांत ने बुधवार को अपने-अपने मुकाबले जीत इंडोनेशिया ओपन के दूसरे दौर में कदम रख लिया है। पांचवीं सीड सिंधु को जापान की आयो ओहोरी ने महिला एकल वर्ग के मुकाबले में कड़ी चुनौती दी, लेकिन रियो ओलम्पिक की रजत पदक विजेता सिंधु तकरीबन एक घंटे तक चले मुकाबले में 11-21, 21-15, 21-15 से जीत हासिल करने में सफल रहीं। वहीं, पुरुष एकल वर्ग में वल्र्ड नंबर-9 किदाम्बी श्रीकांत ने जापान के केंटा निशिमोटो को माक दे दूसरे दौर में प्रवेश किया। श्रीकांत ने 38 मिनट तक चले मैच में 21-14, 21-13 से जीत हासिल की।

16-07-2019
टीम इंडिया के हेड कोच समेत इन 7 पदों के लिए मांगा आवेदन....

नई दिल्ली। विश्वकप समाप्त होने के बाद अब बीसीसीआई ने भारतीय टीम के कोचिंग स्टॉफ समेत विभिन्न महत्वपूर्ण पदों के लिए आवेदन मांगा है। इसमें सबसे महत्वपूर्ण पद भारतीय टीम के हेड कोच का है, जिस पर फिलहाल रवि शास्त्री काबिज हैं। रवि शास्त्री का कार्यकाल विश्वकप 2019 तक ही था। भारत इस प्रतियोगिता में सेमीफाइनल में ही बाहर हो गया था। लेकिन अब टीम को अपना अगला अंतरराष्ट्रीय दौरा जल्द ही करना है। यह दौरा 3 अगस्त से वेस्टइंडीज में शुरू हो रहा है। ऐसे में शास्त्री को 45 दिन का एक्सटेंडेट पीरियड दिया गया था। अब जब बीसीसीआई ने हेड कोच के लिए फिर से आवेदन मांगा है तो यह साफ है कि शास्त्री को एक बार फिर से भारतीय टीम का कोच बनने के लिए दोबारा आवेदन करना होगा। बीसीसीआई ने हेड कोच के अलावा बल्लेबाजी, गेंदबाजी और फील्डिंग कोच के पद के लिए भी आवेदन मांगा है। फिलहाल संजय बांगर बैटिंग कोच है लेकिन बीसीसीआई उनके काम से संतुष्ट नहीं है। ऐसे में उनकी विदाई तय मानी जा रही है। भरत अरुण गेंदबाज कोच हैं जिनके निर्देशन में टीम इंडिया ने बढ़िया काम किया है लेकिन ऐसी खबरें भी आई हैं कि टीम के कुछ खिलाड़ियों उनके काम से दिक्कत है। कोचिंग स्टाफ के अलावा बीसीसीआई ने फिजियोथेरेपिस्ट, स्ट्रेंथ एंड कंडिशनिंग कोच और प्रशासनिक मैनेजर के पद के लिए भी आवेदन मंगवाए हैं।

 

15-07-2019
इंग्लैंड ने पहली बार जीता विश्व कप का खिताब, सुपर ओवर में न्यूजीलैंड को दी मात

नई दिल्ली। आखिरकार सांस थाम देने वाले खिताबी मुकाबले के बाद विश्व क्रिकेट को अपना नया चैंपियन मिल ही गया। लॉर्ड्स के ऐतिहासिक मैदान पर रविवार रात सुपरओवर में 16 रन बचाते हुए इंग्लैंड ने पहली बार विश्व कप जीता। लगातार दूसरी बार फाइनल में पहुंचने वाली न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए इंग्लैंड के सामने 242 रन का लक्ष्य रखा था। जवाब में इंग्लैंड भी निर्धारित 50 ओवर्स में इतने ही रन बना पाया। विश्वकप में पहली बार कोई खिताबी मुकाबला सुपर ओवर में पहुंचा। सुपरओवर में मैच जाने के बाद इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड के सामने 16 रन का लक्ष्य रखा था, यहां पर भी स्कोर टाई ही रहा, लेकिन ज्यादा बाउंड्री लगाने के चलते इंग्लैंड मुकाबले का विजेता घोषित किया गया। इंग्लैंड ने पूरे मैच में 26 बाउंड्री लगाईं और न्यूजीलैंड ने 17 बाउंड्री। इससे पहले न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी की 50 ओवर में 8 विकेट पर 241 रन बनाए। इंग्लैंड की टीम भी 50 ओवर में 241 रन ही बना सकी। मैच का फैसला सुपर ओवर में हुआ। नाबाद 84 रन बनाने वाले बेन स्टोक्स प्लेयर आॅफ द मैच चुने गए।

27 साल बाद फाइनल में पहुंचने वाली इंग्लैंड ने 1992 में ग्राहम गूच की कप्तानी में फाइनल खेला था, लेकिन इमरान खान की कप्तानी वाली पाकिस्तान ने उसे विजेता की ट्रॉफी नहीं उठाने दी थी और पहली बार चैम्पियन बनने का गौरव हासिल किया था। मगर इस बार इंग्लिश टीम ने अपनी सरजमीं पर खिताब जीतकर फैंस को खुश होने का मौका दिया। इंग्लैंड की शुरूआत बेहद निराशाजनक रही। जेसन रॉय (17) पहली ही गेंद पर मिले जीवनदान को भुनाने में नाकामयाब रहे। छठे ओवर में मैट हेनरी ने निपटा दिया। यहां से कीवी गेंदबाजों ने चढ़ाई शुरू कर दी। एक-एक रन के लिए संघर्ष कर रहे इंग्लिश बल्लेबाज दबाव के चलते बिखरते चले गए। 17वें ओवर में जो रूट (30 गेंदों में 7 रन), 20वें ओवर में जॉनी बेयरस्टो (55 गेंदों में 36 रन), 24वें ओवर में कप्तान इयोन मॉर्गन (22 गेंदों में 9 रन) भी चलते बने।

इसके पहले इंग्लैंड की धारदार गेंदबाजी के सामने कोई भी कीवी बल्लेबाज क्रीज पर ज्यादा देर तक टिक नहीं पाया। नतीजतन निर्धारित 50 ओवर्स में न्यूजीलैंड 8 विकेट के नुकसान पर 241 रन ही बना पाया। सलामी बल्लेबाज हेनरी निकोलस ने सर्वाधिक 55 रन बनाए तो विकेटकीपर बल्लेबाज टॉम लाथम ने 47 रन का योगदान दिया। इंग्लैंड की ओर से क्रिस वोक्स और लियाम प्लंकेट को 3-3 विकेट मिले। जोफ्रा आर्चर और मार्क वुड के खाते में 1-1 विकेट आया। लगातार दूसरी बार फाइनल खेल रही न्यूजीलैंड की शुरूआत खराब रही और 7वें ओवर में मार्टिन गप्टिल 19 रन बनाकर आउट हुए। पहले पावर प्ले में न्यूजीलैंड ने एक विकेट के नुकसान पर 33 रन बनाए। न्यूजीलैंड के 50 रन 13.4 ओवर में पूरे हुए। न्यूजीलैंड ने 21.2 ओवर में अपने 100 रन पूरे किए। 

कप्तान केन को प्लंकेट ने विकेट के पीछे बटलर के हाथों लपकवाया। न्यूजीलैंड को निकोलस के रूप में तीसरा झटका लगा। हेनरी निकोलस ने वर्ल्ड कप में अपना पहला और करियर का 9वां अर्धशतक लगाया। वे 55 रन बनाकर प्लंकेट की गेंद पर बोल्ड हो गए। इसके बाद टेलर भी 15 रन ही बना सके। नीशाम 19 रन बनाकर आउट हुए। ग्रैंडहोम तेजी से रन नहीं बना सके और 16 रन बनाकर आउट हुए।

14-07-2019
विश्व चैंपियन बनने के लिए इंग्लैंड-न्यूजीलैंड में होगा रोमांचक मुकाबला आज 

नई दिल्ली। ऐतिहासिक लॉर्ड्स मैदान में रविवार को विश्वकप 2019 का फाइनल मैच इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच खेला जाएगा। आज के मैच में जीत के बाद विश्व क्रिकेट को एक नया विश्व चैंपियन मिलेगा। बता दें कि 27 साल बाद वर्ल्डकप के फाइनल में इंग्लैंड पहुंचा है। उसका यह चौथा फाइनल है। वह इससे पहले तीन बार फाइनल खेल चुकी है, लेकिन एक बार भी खिताब नहीं जीत पाई है। इस बार हालांकि उसे मेजबान होने के नाते खिताब का सबसे बड़ा दावेदार माना जा रहा है। वहीं न्यूजीलैंड की टीम ने भारत को रोमांचक मुकाबले में 18 रनों से हराकर दूसरी बार फाइनल में अपना स्थान पक्का किया है। कीवी टीम को 2015 के फाइनल में ऑस्ट्रेलिया के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। मेजबान होने के नाते इंग्लैंड को उसकी घरेलू परिस्थितियों का फायदा मिल सकता है। 

संभावित टीमें

इंग्लैंड : इयोन मॉर्गन (कप्तान), मोईन अली, जोफ्रा आर्चर, जॉनी बेयरस्टो (विकेटकीपर), जोस बटलर, टॉम कुरैन, लियाम डॉसन, लियाम प्लंकेट, आदिल राशिद, जो रूट, बेन स्टोक्स, जेम्स विंस, क्रिस वोक्स, मार्क वुड।

न्यूजीलैंड : केन विलियमसन (कप्तान), टॉम ब्लंडल, ट्रेंट बोल्ट, कोलिन डी ग्रैंडहोम, लॉकी फर्ग्यूसन, मार्टिन गप्टिल, टॉम लाथम, कोलिन मनरो, जिमी नीशाम, हेनरी निकोलस, मिशेल सेंटनर, ईश सोढ़ी, टिम साउदी, रॉस टेलर।

 

14-07-2019
हिमा दास ने हासिल की उपलब्धि, 11 दिन के भीतर जीता तीसरा गोल्ड मेडल

नई दिल्ली। भारतीय धाविका हिमा दास ने देश का नाम दुनिया में रोशन किया है। चेक रिपब्लिक में चल रहे क्लाद्नो मेमोरियल एथलेटिक्स मीट में धाविका हिमा ने 200 मीटर दौड़ में गोल्ड मेडल पर कब्जा किया है। बता दें कि हिमा ने महिलाओं की इस दौड़ स्पर्धा में 11 दिन के अंदर ही तीसरा गोल्ड मेडल जीता है। हिमा ने मात्र 23.43 सेकंड्स के समय में स्वर्ण पदक अपने नाम किया। इससे पहले हिमा ने पिछले हफ्ते 2 और 6 जुलाई को भी पोलैंड में कुट्नो एथलेटिक्स मीट में महिलाओं के 200 मीटर में दो अंतरराष्ट्रीय स्वर्ण पदक जीते थे।

Please Wait... News Loading