GLIBS

22-04-2021
यदि लौटे हैं कुंभ से तो दें प्रशासन को पूरी जानकारी, कोरोना को बढ़ने से रोकने में करें सहयोग: कलेक्टर

कोरबा।  हरिद्वार कुंभ में शामिल होकर कोरबा लौटे श्रद्धालुओं और लोगों से जिला प्रशासन ने अपनी यात्रा की पूरी जानकारी देने और निर्धारित कोविड प्रोटोकाॅल का पालन करने की अपील की है। ऐसे लोगों के बारे में आस पड़ोस के लोग भी जानकारी प्रशासन को दे सकते हैं। यह जानकारी कंट्रोल रूम के फोन नम्बर 07759-224608 पर या ई मेल पर भी भेज सकते है। जानकारी में यात्रियों को अपने नाम पता मोबाइल नम्बर के साथ यात्रा में जाने और वापस लौटने की तिथि,गंतव्य जगह, सह यात्रियों की संख्या , नाम ,पता भी बताना होगा । अन्य प्रदेशों में आयोजित वृहद् कार्यक्रमों और सम्मेलनों, मेलों में शामिल होकर कोरबा लौटे यात्री अपनी जानकारी निर्धारित प्रपत्र में जिला कार्यालय के कोविड कंट्रोल रूम नम्बर 23 में दे सकते है। ऐसे सभी यात्रियों को कोरोना संक्रमण से बचाने और उनसे अन्य लोगों को कोरोना संक्रमण फैलने से रोकने के लिए जिला प्रशासन द्वारा व्यापक इंतजाम किए जाएँगे। इसके साथ ही संक्रमित व्यक्ति के ईलाज की भी समय पर बेहतर व्यवस्था की जा सकेगी। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए कोरबा जिला प्रशासन ने तीस मार्च 2021 या उसके बाद अन्य प्रदेशों के बड़े मेलों,या आयोजनो में शामिल होकर लौटे लोगों से विस्तृत जानकारी माँगी है। कलेक्टर किरण कौशल में कोरबा जिले में लौटे ऐसे सभी लोगों से अपनी यात्रा का पूरा डिटेल प्रशासन के साथ जल्द से जल्द साझा करने की अपील लोगों से की है। किरण कौशल ने कहा है कि देश के दूसरे राज्यों में आयोजित मेला, बड़े सम्मेलन या अन्य वृहद् आयोजनो में शामिल होकर लौटे लोगों के कोरोना संक्रमित होने और उनसे परिजनों तथा दूसरे लोगों के भी संक्रमित होने की सम्भावना है। ऐसे लोग स्वयं अपनी यात्रा की जानकारी प्रशासन को उपलब्ध करायें, ताकि उनको और उनके परिजनों को कोविड संक्रमण से बचाने के लिए प्रयास किए जा सकें।

 

22-04-2021
सर्दी-खांसी-बुखार के मरीजों की जानकारी लेने घर-घर तक पहुंच रही एक्टिव सर्विलेंस टीम

कोरबा। कलेक्टर किरण कौशल के निर्देश पर कोरोना संक्रमण के रोकथाम के लिए बनाए गए एक्टिव सर्विलेंस टीम द्वारा घर-घर पहुंचकर कोरोना के संदिग्ध लक्षण वाले लोगों की पहचान की जा रही है। सर्वे दल द्वारा लोगों की सर्दी, खांसी, बुखार की जानकारी ली जा रही है। एक्टिव सर्विलेंस टीम पिछले नौ दिनों में जिले के 48 हजार 240 घरों तक पहुंच चुकी है। सर्वे के दौरान जिले में 13 हजार 112 लोग लक्षण सहित पाये गये, जिनमें से एक हजार 568 लोग उच्च जोखिम वाले मिले। कोरोना संदिग्ध 24 हजार 279 लोगों का एंटीजन टेस्ट कराया गया तथा चार हजार 798 लोगों का आरटीपीसीआर टेस्ट के माध्यम से कोरोना जांच की गई। जांच रिपोर्ट में चार हजार 952 लोग एंटीजन टेस्ट में कोरोना पाॅजिटिव पाये गये तथा 535 लोगों की कोरोना पाॅजिटिव रिपोर्ट आरटीपीसीआर के माध्यम से प्राप्त हुई। सर्वे के दौरान कुल पांच हजार 487 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। जिला प्रशासन द्वारा कोरोना संक्रमण से बचाव और रोकथाम के लिये घर-घर जाकर कोरोना के लक्षण वाले लोगों की पहचान की जा रही है, जिससे समय रहते संक्रमण को अधिक लोगों में फैलने से रोका जा सकता है।

 

22-04-2021
गरज चमक के साथ बारिश के आसार, तापमान में हो सकती है मामूली बढ़ोत्तरी 

रायपुर। छत्तीसगढ़ में गरज चमक के साथ बारिश के असार हैं। मौसम विभाग ने इस संबंध में पूर्वानुमान जारी किया है। मौसम विज्ञानी एचपी चंद्रा ने बताया है कि एक उत्तर-दक्षिण द्रोणिका दक्षिण मध्य महाराष्ट्र से दक्षिण तमिलनाडु तक स्थित है। प्रदेश में बंगाल की खाड़ी से नमी आ रही है। इसके प्रभाव से 23 अप्रैल को प्रदेश के दक्षिणी हिस्से में मौसम बदलने के आसार हैं। एक-दो स्थानों पर गरज चमक के साथ हल्की बारिश होने या छींटे पड़ने की संभावना है। प्रदेश के बाकी हिस्सों में हल्के बादल रह सकते हैं। प्रदेश में अधिकतम तापमान में मामूली वृद्धि संभावित है किंतु कोई बड़ा परिवर्तन होने की संभावना नहीं है।

22-04-2021
केन्द्र से अनुपस्थित रहने पर जिपं साईओ ने कर्मचारी को जारी किया कारण बताओ नोटिस

जांजगीर चंापा। जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी  गजेन्द्र सिंह ठाकुर ने गुरूवार को नवागढ़ विकासखण्ड के धुरकोट प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, खोखरा, मेंहदा हाईस्कूल में बनाए गए कोविड टीकाकरण केन्द्रों का निरीक्षण किया। धुरकोट केन्द्र के निरीक्षण के दौरान सचिव प्रकाश साहू अनुपस्थित पाए जाने पर कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि जिले के 168 केन्द्रों में कोविड 19 का टीकाकरण किया जा रहा है। कोविड वैक्सीन के लिए सामुदायिक, प्राथमिक, उपस्वास्थ्य केन्द्रों आदि में लगाए जाने की व्यवस्था की गई है। सभी 45 साल से अधिक उम्र के व्यक्तियों को कोविड-19 वैक्सीन लगाई जानी है, इसलिए सभी कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए घर से केन्द्र तक पहुंचे। कोविड के संक्रमण से बचने के लिए जिले में भी टीकाकरण अभियान तेज गति से चल रहा है। टीकाकरण केन्द्रों में सभी व्यवस्थाएं की गई है। उन्होंने केन्द्र प्रभारियों को सख्त निर्देश दिए कि टीकाकरण के दौरान हितग्राहियों को किसी तरह की कोई समस्या नहीं आनी चाहिए। 

 

22-04-2021
सुपर बाजार आधा शटर खोल कर दे रहा था सामान, निगम टीम ने लगाया जुर्माना

भिलाई। लाॅकडाउन में दुकाने बंद होने के निर्देश के बाद भी कुछ लोग हरकतों से बाज नहीं आ रहे है। निगम की मोबाइल टीम ने आधा शटर खोलकर सामान देने वाले एक सुपर बाजार में दबिश दी और बंद कराकर जुर्माना वसूल किया। ठेले में घूम-घूम कर फल, सब्जी बेचने के लिए दोपहर 2 बजे तक का समय निर्धारित किया है, इसके बाद भी देर शाम तक पाॅवर हाउस चैक, नंदिनी रोड, बापूनगर, कैलाश नगर, बालाजी नगर, सेक्टर 1, सेक्टर 2 क्षेत्र में सड़क किनारे ठेला लगाकर सामान बेचने वालों से अर्थदंड वसूला गया। समायावधि के बाद विक्रय नहीं करने की समझाइश देकर छोड़ा गया। नियमों का उल्लंघन करने वाले 11 लोगों से 3900 रूपए जुर्माना वसूला गया। 

 

22-04-2021
जिले में आज मिले कोरोना के सर्वाधिक 500 संक्रमित, तीन की मौत

कांकेर। जिले में आज फिर कोरोना के विस्फोटक आंकड़े सामने आये है। इसमें 500 कोरोना संक्रमितों की पुष्टि गुरूवार को स्वास्थ्य विभाग ने जारी बुलेटिन में की। वहीं तीन लोगों की मौत हुई है। आज कांकेर से 101, अंतागढ़ 19, भानुप्रतापपुर से 41, चारामा 111, दुर्गुकोंदल से 32, नरहरपुर से 92, कोयलीबेड़ा से 104 नए संक्रमित मिले है। इस प्रकार जिले में आज के आंकड़े सवार्धिक 500 संक्रमित मरीजों की पुष्टि हुई। वहीं कोयलीबेड़ा से विकासखण्ड से दो पुरुषों की एक 47 वर्षीय व एक 48 वर्षीय पुरुष जिन्हें सांस लेने की शिकायत पर एक को 14 अप्रैल व दूसरे को 17 अप्रैल  को कोविड अस्पताल कांकेर लाया गया था,जहाँ दोनों ने 22 अप्रैल की सुबह दम तोड़ा। वहीं तीसरे मामला कांकेर विकासखण्ड का है जहाँ एक 70 वर्षीय महिला ने जिसे भी सांस लेने की शिकायत पर 22 अप्रैल को कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जिसकी भी मौत होने की पुष्टि स्वास्थ्य विभाग ने की है। वहीं आज शहर के अलबेलापारा वार्ड से 5, शिवनगर से 4, कंकालिनपारा से 1, अन्नपूर्णापारा से 5, मांझापारा से 1, शांतिनगर से 4, माहुरबन्दपारा से 5, एमजी वार्ड से 2, उदय नगर से 2, रामनगर से 1, सिविल लाइन से 1, एकता नगर से 1, टिकरापारा में 2, लटटीपारा से 6, शितलापारा से 4, अघन नगर से 2 इस प्रकार शहर से कुल 46 व कांकेर विकास खण्ड के ग्रामीण क्षेत्र से कुल 55 नये संक्रमितों की पुष्टि हुई है।

 

22-04-2021
पांच दिनों में जिले में बढ़ेंगे 430 ऑक्सीजीनेटेड बिस्तर, कोविड मरीजों के इलाज में होगी आसानी

कोरबा। जिले में बढ़ते कोरोना मरीजों के इलाज के लिए जिला प्रशासन हर दिन अपनी क्षमता बढ़ाने में लगा है। अगले पांच दिनों में जिले के कोविड अस्पतालों में लगभग 430 ऑक्सीजीनेटेड बिस्तरों को बढ़ा लिया जाएगा। स्याहीमुड़ी के कोविड केयर अस्पताल में लगभग 400 ऑक्सीजीनेटेड बेड बढ़ाने के लिए सेंट्रल ऑक्सीजन वितरण प्रणाली लगाने का काम तेजी से किया जा रहा है। इसके साथ ही जिले के सबसे पुराने ईएसआईसी कोविड अस्पताल में भी मरीजों की संख्या को देखते हुए 30 और ऑक्सीजन युक्त बिस्तर अगले दो-तीन दिनों में बढ़ जाएंगे। इन दोनों अस्पतालों में ऑक्सीजन युक्त बिस्तरों के बढ़ जाने से जिले में ऑक्सीजीनेटेड बेड क्षमता 940 तक पहुंच जाएगी और तेजी से बढ़ते कोरोना मरीजों को इलाज के लिए जिले में ही सुविधा मिलने लगेगी। कोविड मरीजों को तत्काल और बेहतर उपचार के लिए जिले में 56 नये पैरा मेडिकल स्टाफ की भर्ती भी कर ली गई है और उन्हें विभिन्न शासकीय कोविड अस्पतालों में काम पर लगा दिया गया है। कलेक्टर किरण कौशल ने इन दोनों अस्पतालों में आने वाले तीन-चार दिनों में ऑक्सीजन पाइप लाइन फिटिंग और अन्य तकनीकी काम पूरे करने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं। स्याहीमुड़ी के सीपेट कोविड केयर अस्पताल में सेंट्रल आक्सीजन वितरण प्रणाली लगाने का काम तेजी से किया जा रहा है। इस अस्पताल में पहले चरण में 400 बिस्तरों तक आक्सीजन पहुंचाने के लिए पाइप लाइन फिटिंग और अन्य सहायक उपकरण लगाने का काम चल रहा है।  यह काम अगले तीन-चार दिनों में पूरा करने का लक्ष्य है। सीपेट के कोविड केयर अस्पताल में 400 बिस्तरों में आक्सीजन पहुंच जाने से अस्पताल की क्षमता में अभूतपूर्व बढ़ोत्तरी होगी। अभी इस अस्पताल में माॅडरेट प्रकृति के कोविड मरीजों को डाक्टरो की निगरानी में 40 बिस्तरों पर आक्सीजन सिलेंडर लगाकर इलाज की सुविधा दी जा रही है। वहीं लगभग 100 से अधिक बिना लक्षणों वाले कोरोना संक्रमित मरीजों का भी इलाज सामान्य वार्ड में रखकर किया जा रहा है। इस अस्पताल में आक्सीजीनेटेड बेड क्षमता बढ़ाने के साथ-साथ एक विशेषज्ञ एमडी मेडिसीन डाक्टर, दो मेडिकल ऑफिसर और अन्य जरूरी पैरा मेडिकल स्टाफ कोविड मरीजों का इलाज कर रहे हैं। 

 

 

22-04-2021
डॉ. मीरा बघेल ने निजी अस्पताल के संचालकों को चेताया,शिकायत आने पर होगी संस्था की मान्यता रद्द

रायपुर। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी रायपुर डॉ. मीरा बघेल ने जिले के सभी निजी डेडीकेटेड कोविड-19 अस्पताल के संचालकों को पत्र लिखा है। उन्होंने कोविड-19 उपचार में रेमडेसिविर इंजेक्शन की अनावश्यक मांग व उपयोग के संबंध में ध्यान आकर्षित किया है। मरीजों को उचित सलाह देने के निर्देश दिए हैं। डॉ. मीरा बघेल ने कहा है कि निजी चिकित्सालयों में कोविड-19 उपचार में इजेक्शन रेमडेसिविर की अनावश्यक मांग व उपयोग की बात संज्ञान में आई है। यह भी संज्ञान में आया है कि कोविङ-19 मरीजो को ओपीडी में बुला कर रेमडेसिविर लगाया रहा है। कोविङ मरीजों को  रेमडेसिविर इंजेक्शन नहीं लगाना है। कई  मरीजों के रिश्तेदारों को रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए पर्ची लिखकर भेजा जा रहा है। वे लंबी कतार में खड़े रहते हैं। उन्होंने पूछा है कि क्या प्रिस्क्रिप्शन चिकित्सक की ओर से लिखा जा रहा अथवा किसी भी स्टाफ की ओर से लिख दिया जा रहा है?  ऐसे मरीज जिनका सेचुरेशन 94-95 प्रतिशत है, उन्हें भी इंजेक्शन के लिए पर्ची लिखकर भेजा जा रहा है। क्या ऐसे मरीजों को रेमडिसिविर की आवश्यकता है?

 उन्होंने कहा है कि ऐसी शिकायतें मरीज व परिजनों की ओर से की जा रही है। उन्होंने कहा है कि आपके स्वास्थ्य संस्था से ऐसी शिकायतें आने पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए संस्था के मान्यता को निरस्त की जाएगी। उन्होंने संचालकों से कहा है कि मरीजों को उचित सलाह दें और निर्देशों  का पालन करना करें। संस्था में चिकित्सकों की ओर से कोविड-19 संक्रमित मरीजों के उपचार के लिए इंजेक्शन रेमडिसिविर लगाने के सलाह दी जा रही है। इस संबंध में डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन (हॉस्पिटल पर्ची) में डोज नंबर, मरीज का एसपीओ-2 का लिखा होना और डॉक्टर नाम एवं सील व टेस्ट रिपोर्ट साथ ही प्रेषित करें। उन्होंने संचालको को निर्देश दिया है कि इंजेक्शन रेमडेसिविर लगवाने वाले मरीजों का डाटा अनिवार्य रूप से संकलित करें। इससे आवश्यकतानुसार विभागीय अधिकारी की ओर से आॅडिट किया जा सके।

22-04-2021
कंटेनमेंट जोन में ट्रैक्टर-ट्राॅली से घर-घर बांटा जा रहा पानी

कोरबा। कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण कोरबा जिले में बने कंटेनमेंट जोनांे में गर्मी के मौसम में भी लोगों को पूरी सुरक्षा के साथ पानी की आपूर्ति सुनिश्चित करने के प्रयास जिला प्रशासन द्वारा किए जा रहे हैं। कलेक्टर किरण कौशल के निर्देश पर पेयजल समस्या वाले कंटेनमेंट जोन घोषित ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को कोविड प्रोटोकाॅल और पूर्ण तालाबंदी के प्रावधानों का पालन कराते हुए पीने का भरपूर पानी की उपलब्धता सुनिश्चित की जा रही है। लोक स्वास्थ्य यंांत्रिकी विभाग ने ऐसे सभी कंटेनमेंट जोन घोषित ग्रामीण इलाकों में हैण्डपंपो और स्पाॅट सोर्स पेयजल योजनाओं तथा सार्वजनिक नलों के पास सोशल डिस्टेंसिंग के हिसाब से सुरक्षा चक्र बनवा दिए हैं। कंटेनमेंट जोन के लोग पानी भरने के समय इन सुरक्षा चक्रों में कोविड प्रोटोकाॅल का पालन करते हुए खड़े होकर अपनी बारी का इंतजार करते हैं और अपना क्रम आने पर पानी भरकर सुरक्षित रूप से घर ले जा रहे हैं। कोरोना संक्रमितों के मिलने के बाद भैंसमा और कोरकोमा को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। यहां कोरोना संक्रमितों की संख्या अधिक होने के कारण पूर्ण लाॅकडाउन लागू है। लोगों की बेवजह आवाजाही पूरी तरह से प्रतिबंधित है। ऐसे में पीने और निस्तारी के पानी के लिए लोगों को लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा कोविड प्रोटोकाॅल का पालन करते हुए सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। जिलगा को भी कोरोना पाॅजिटिव मिलने पर कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। यहां भी पूर्ण तालाबंदी के प्रावधान सख्ती से लागू हैं। ऐसे में लोगों को पीने के पानी की पर्याप्त मात्रा में उपलब्धता सुनिश्चित कराने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के द्वारा ट्रैक्टर-ट्राॅली पर पानी टंकी रखकर घर-घर पानी पहुंचाया जा रहा है। पानी की इस टंकी को खाली होने पर बोरवेल से भरा जाता है और कोरोना संक्रमित परिवारों सहित गांव के अन्य लोगों को भी घर पहुंचाकर पानी बांटा जा रहा है।

 

22-04-2021
कोरोना की वैक्सीन ही अभी संजीवनी, टीकाकरण से नहीं होती किसी की मौत: डाॅ. बड़गैया

कोरबा। बढ़ते कोरोना संक्रमण से बचाव और उससे होने वाली मौतों को रोकने के लिए कोरोना की वैक्सीन ही अभी संजीवनी साबित हो रही है। कोरोना की वैक्सीन लगवाने से अभी तक किसी भी व्यक्ति की मृत्यु नहीं हुई है। दवाईयों और बीमारियों के इलाजों के बारे में शोध करने वाली देश की सबसे बड़ी संस्था इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च विश्लेषण में यह बात साफ हो गई है कि कोरोना वैक्सीन के दोनों डोज लगवाने वाले 99 प्रतिशत लोग कोरोना संक्रमण से सुरक्षित हैं। वर्तमान में 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को कोवैक्सीन और कोविशील्ड टीका कोरोना से बचाव के लिए लगाया जा रहा है। कोरबा मेडिकल काॅलेज के डीन डाॅ. योगेन्द्र बड़गैया ने बताया कि कोरोना का टीका लगवाने के बाद आज तक किसी भी व्यक्ति की मृत्यु का कोई भी मामला संज्ञान में नही आया है। इसके इससे उलट आईसीएमआर का विश्लेषण बताता है कि वैक्सीन के दोनों डोज लगवाने वाले 99 प्रतिशत लोग कोरोना से संक्रमित नहीं हुए हैं। डाॅ. बड़गैया ने बताया कि कोरोना की वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है, जिसे मंजूरी देने के पहले सरकार और वैज्ञानिकों द्वारा सभी मानक मापदंडो पर टेस्टिंग की गई है। इन मापदंडो पर खरा उतरने पर ही टीकों को मंजूरी दी गई है। उन्होंने यह भी बताया कि वैक्सीन के दोनो डोज लगाने के बाद भी व्यक्ति कोरोना से संक्रमित हो सकता है लेकिन ऐसी स्थिति में संक्रमण सीवियर नहीं होगा। ऐसे लोग इलाज के बाद जल्द ठीक हो रहे हैं। 

22-04-2021
कोविड की जंग में मोहल्ला समितियां आई आगे, टीकाकरण के लिए कर रही प्रेेरित

बीजापुर। कोविड संक्रमण के बढ़ रहे मामलों के मद्देनजर बीजापुर नगर में मोहल्ला समितियों द्वारा नागरिकों को कोविड टीकाकरण करवाने सहित कोविड संक्रमण से बचाव के लिए सजगता बरतने की समझाइश दी जा रही है। इस दिशा में कलेक्टर रितेश कुमार अग्रवाल ने के निर्देशानुसार में बीजापुर नगर के अटल आवास वार्ड, प्रधानपारा,भट्टीपारा सहित अन्य वार्डों में मोहल्ला समितियों की बैठक हुई। इसमें मोहल्ला समितियों के सदस्यों ने मोहल्लावासियों को पात्र लोगों का टीकाकरण करवाने की समझाइश दी। वहीं कोविड संक्रमण से बचाव के लिए लॉकडाउन में सहयोग प्रदान करने सहित मास्क का अनिवार्य रूप से उपयोग, सोशल डिस्टेंस का पालन करने,साबुन हाथों की धुलाई करने और घर पर सुरक्षित रहने की समझाइश नागरिकों को दी। इस दौरान मोहल्ला समितियों द्वारा बाहर से आने वाले लोगों की सूचना कोविड नियंत्रण कक्ष 07853-22023 में अनिवार्य रूप से देने का निर्णय लिया गया। इससे बाहर से आये लोगों का कोविड जांच करने सहित कोविड संक्रमण के फैलाव को रोका जा सके। 

Please Wait... News Loading