GLIBS

27-05-2020
Breaking: जशपुर में मिले 5 नए कोरोना पॉजिटिव, छत्तीसगढ़ में एक्टिव केस 286

रायपुर। छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले में 5 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं।  रायगढ़ कोविड अस्पताल में भर्ती कराया जा रहा है। राज्य में अब एक्टिव मरीजों की कुल संख्या 286 हो गई है। बता दें कि इससे पहले शाम को प्रदेश में कोरोना के 2 पॉजिटिव मरीज मिले थे, वहीं 4 मरीज स्वस्थ्य होने के बाद डिस्चार्ज किए गए थे। बुधवार को अब तक प्रदेश में कोरोना के 8 पॉजिटिव मरीज की पहचान की गई है। इनमें 1-1 जगदलपुर, बलौदाबाजार और बिलासपुर से और अब 5 नए कोरोना पॉजिटिव की पहचान जशपुर जिले से हुई है। बुधवार को डिस्चार्ज हुए मरीजों में बालोद और बलौदाबाजार के 2-2 मरीज शामिल थे, जो एम्स रायपुर से ठीक होकर डिस्चार्ज किए गए हैं।

27-05-2020
नगर निगम हुआ सतर्क, शहर की घनी आबादी वाले क्षेत्र को किया सैनिटाइज  

राजनांदगांव। जिले में कोरोना पॉजिटिव केस मिलने के बाद नगर निगम प्रशासन सतर्क हो गया है। निगम अमला शहर के घनी आबादी वाले क्षेत्रों को सैनिटाइज करने में जुट गया है। बुधवार को निगम अमले ने एतिहातन शहर के घनी आबादी वाले वार्ड तुलसीपुर को सैनिटाइज किया। इस दौरान निगम की नेता प्रतिपक्ष शोभा सोनी, पार्षद पारस वर्मा उपस्थित थे। निगम की नेता प्रतिपक्ष ने लोगों से सतर्कता बरतने और लॉक डाउन के नियमों का पालन करने की अपील भी की। 

 

27-05-2020
सप्ताह में 6 दिन दुकानें खुलने के फैसले से व्यापार जगत में हर्ष,रायपुर सराफा एसोसिएशन ने जताया आभार

रायपुर। प्रदेश में कोविड-19 के नियंत्रण और लॉक डाउन के बाद ठप्प पड़ी आर्थिक गतिविधियों को दोबारा शुरू करते हुए अब प्रदेश में सप्ताह के पूरे 6 दिन दुकानें खोले जाने का निर्णय मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने लिया है। इसके लिए रायपुर सराफा एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री सहित पूरे मंत्रिमंडल का आभार व्यक्त किया है। एसोसिएशन के अध्यक्ष हरख मालू, पवन अग्रवाल, लक्ष्मी नारायण लाहोटी, प्रहलाद सोनी और अनिल कुचेरिया ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार के इस फैसले से लोगों को राहत मिलेगी। रोज कमाने-खाने को फिर से रोजगार मिलेगा। साथ ही अर्थव्यवस्था को भी गति मिलेगी। निम्न शर्तों के साथ पहले जहां राज्य सरकार ने सराफा की दुकानों को दो दिन खोलने का आदेश दिया था, उसका सराफा कारोबारियों ने पूरा पालन किया।  6 दिन दुकानें खोलने का निर्णय आते ही पूरे सराफा एसोसिएशन के साथ ही व्यापार जगत में खुशी का माहौल है। रायपुर सराफा एसोसिएशन ने सराफा कारोबारियों से कहा है कि वे अपनी दुकानों में ग्राहकों से शारीरिक दूरी बनाते हुए सैनिटाइजर और मॉस्क का उपयोग अनिर्वाय रूप करें।

27-05-2020
तीन जिलों से छत्तीसगढ़ में प्रवेश कर सकता है टिड्डी दल, अलर्ट जारी होते ही रायपुर सहित सभी जिलों में तैयारियां तेज

रायपुर। टिड्डी दल राजस्थान होते हुए मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र राज्य तक पहुंच गया है। छत्तीसगढ़ में प्रवेश की संभावना को देखते हुए कृषि विभाग ने अलर्ट जारी किया है। कृषि विभाग के अधिकारियों को टिड्डी दल के प्रकोप की रोकथाम के लिए किसानों को आवश्यक मार्गदर्शन और दवाओं के छिड़काव के बारे में भी जानकारी देने के कहा गया है। संचालक कृषि टामन सिंह सोनवानी ने बताया कि 27 मई को सुबह सवा 4 बजे टिड्डी दल सिंगरौली की तरफ बढ़ा है, जो छत्तीसगढ़ राज्य के सीमावर्ती जिले कोरिया, सूरजपुर और बलरामपुर की ओर से छत्तीसगढ़ राज्य में प्रवेश कर सकता है। उन्होंने सभी जिला कलेक्टरों को टिड्डी दल के नियंत्रण के लिए आपदा प्रबंधन मद से आवश्यक व्यवस्था करने को कहा है। टिड्डी दल के संबंध में सूचनाओं के आदान-प्रदान और इनके नियंत्रण के लिए कृषकों को आवश्यक सलाह दिए जाने के लिए जिला स्तर पर नियंत्रण कक्ष भी स्थापित करने के निर्देश दिए गए हैं।

रायपुर में जिला स्तरीय दल का गठन, नंबर जारी
रायपुर जिले के प्रभारी कलेक्टर एवं नगर निगम रायपुर के आयुक्त सौरभ कुमार के निर्देश पर जिले में टिड्डी दल के प्रकोप से बचाव के लिए जिला स्तरीय दल का गठन किया गया है। इसी तारतम्य में बुधवार को जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ.गौरव कुमार सिंह ने कृषि विभाग के अधिकारियों की बैठक लेकर जिले में टिड्डी दल के प्रकोप से सुरक्षा के व्यापक व्यवस्था के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जिले में भी  टिड्डियों के समूह आने की संभावना है। पेस्टीसाइड और स्प्रेयर की व्यवस्था के संबंध में जिले में समन्वय स्थापित करने कहा है। टिड्डी दल के प्रकोप से बचाव के लिए जिला स्तर पर नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है। जिला स्तर पर नोडल अनुविभागीय कृषि अधिकारी दीपक कुमार नायक को नियुक्त किया गया है। इसी तरह विकासखंड स्तर पर धरसींवा विकासखंड के लिए बीआर धृतलहरे,आरंग के लिए एमएल थावरे, अभनपुर के लिए एचसी साहू और तिल्दा के लिए जीएस यादव को नोडल अधिकारी बनाया गया है। टिड्डी दल के किसी भी प्रकार की जानकारी या सूचना नियंत्रण कक्ष के दूरभाष नंबर 0771-2439497 या टोल फ्री नंबर 1800-233-1850  पर दिया जा सकता है।

टिड्डी दल को नियंत्रित करने किसान कर सकते हैं ये प्रयास
उप संचालक कृषि आरएल खरे ने बताया कि टिड्डी दल नियंत्रण के लिए किसान दो प्रकार के साधन अपना सकते हैं। इसमें भौतिक साधन से किसान टोली बनाकर विभिन्न प्रकार के परंपरागत उपयोग शोर मचाकर,ध्वनि वाले यंत्रों को बजाकर,डराकर भगाया जा सकता है। इसके लिए ढोलक,ट्रैक्टर,मोटर साइकल का साइलेंसर, खाली टीन डिब्बे, थाली इत्यादि से ध्वनि की जा सकती है। टिड्डी दल के उपचार के लिए ट्रेक्टर स्प्रेयर धारक किसानों से ट्रेक्टर स्प्रेयर की व्यवस्था की जा रही है। इसके अतिरिक्त सभी छोटे स्प्रेयर वाले किसानों को फसलों के बचाव करने  के लिए सभी किसानों को तैयार रहने की जानकारी दी गई है।

कीट नाशक दवाओं के छिड़काव से रूकता है टिड्डों का प्रकोप
कृषि विभाग के अधिकारियों ने बताया कि टिड्डा कीट लगभग दो से ढाई इंच लंबा होता है। टिड्डा कीट हमेशा समूह में रहते हैं। टिड्डी दल जब भी समूह में खेत के आसपास आकाश में उड़ते दिखाई दे, तो उनको उतरने से रोकने के लिए तुरंत खेत के आसपास मौजूद घास-फूस को जलाकर धुंआ करना चाहिए। इससे टिड्डी दल खेत में न बैठकर आगे निकल जाएगा। कृषि विभाग ने टिड्डी दल के प्रकोप की रोकथाम के लिए किसानों को रासायनिक उपचार के बारे में भी आवश्यक जानकारी दी है। टिड्डी दल शाम को 6 से 7 बजे के आसपास जमीन में बैठ जाता है और सुबह 8 से 9 बजे के करीब उड़ता है। रासायनिक यंत्रों के लिए इस अवधि में इनके ऊपर ट्रेक्टर चलित स्पेयर की मदद से कीट नाशक दवाईयों का छिड़काव करके इनकों मारा जा सकता है। दवाओं का छिड़काव का सबसे उपयुक्त समय रात्रि 11 बजे से सुबह 8 बजे तक होता है। टिड्डी के नियंत्रण के लिए डाईफ्लूबेनज्यूरान 25 प्रतिशत घुलनशील पावडर 120 ग्राम या लैम्बडा-साईहेलोथ्रिन 5 प्रतिशत ईसी 400 मिली या क्लोरोपायरीफॉस 20 ईसी 200 मिली प्रति हेक्टेयर कीटनाशक का छिड़काव किया जाना चाहिए। कृषि विभाग ने किसानों से टिड्डी दल के दिखाई देते ही तत्काल अपने इलाके के कृषि विभाग के अधिकारी, किसान मित्रों, सलाहकारों या कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक डॉ.चंद्रमणी साहू अथवा किसान हेल्प लाईन टोल फ्री नंबर 18002331850 पर संपर्क किया जा सकता है।

 

27-05-2020
कोविड-19 से बुजुर्गों को बचाने घर तक पहुंचाया जाएगा योजनाओं का लाभ

रायपुर। कोविड-19 का संक्रमण व्यापक रूप से फैला हुआ है। बुजुर्गों को संक्रमण की संभावना ज्यादा होती है। संक्रमण की स्थिति में बुजुर्ग उच्च जोखिम वाले समूह में आते हैं। उन्हें जटिल स्वास्थ्य समस्याएं होने की संभावना अधिक होती है। ऐसे में आवश्यक है कि बुजुर्गों को इस संक्रमण से शील्ड किया जाए। इसे ध्यान में रखते हुए प्रभारी कलेक्टर सौरभ कुमार ने बुजुर्गों को सुरक्षित रखने के लिए व्यापक अभियान चलाकर विभागीय योजनाओं का लाभ हितग्राहियों के घर तक पहुंचाने के निर्देश दिए हैं। इससे उन्हें घर रूपी ढाल से बाहर निकलने की आवश्यकता कम से कम पड़ेगी। उन्होंने कहा है कि बुजुर्गों के घर से बाहर जाने की अति आवश्यकता होने पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन अनिवार्य रूप से किया जाए। कोविड-19 के संक्रमण से बचाव की सम्पूर्ण जानकारी बुजुर्गों को दी जाए। इससे उन्हें संक्रमण से बचाया जा सके। साथ ही युवाओं को संक्रमण का संदेह होने पर बुजुर्गों के पास ना जाने की भी सलाह दी जाए। उन्होंने कहा कि किसी भी बुजुर्ग में कोविड संक्रमण से जुड़े कोई भी लक्षण दिखाई देने पर पर इसकी जानकारी तत्काल नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में 104 पर दी जाए।

27-05-2020
कांग्रेस का आरोप, किसान न्याय योजना पर भ्रामक जानकारी फैला रही है भाजपा

आरंग। आरंग ब्लॉक कांग्रेस ने प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निर्देश के बाद पत्रकारवार्ता में प्रदेश की भूपेश सरकार की उपलब्धियों के बारे में जानकारी दी। बुधवार को आयोजित इस प्रेस कांफ्रेंस में ब्लॉक और शहर कांग्रेस के पदाधिकारियों ने चुनाव में जनता से किए गए सभी वादों को निभाने की बात कही। इस दौरान पदाधिकारियों ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा की राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत मिले हुए पैसों से भारतीय जनता पार्टी की सहमति नहीं है तो कृपया भाजपा के तमाम नेता इस न्याय योजना के तहत मिली हुई राशि को तत्काल मुख्यमंत्री सहायता कोष में जमा कर दें ताकि यह राशि प्रदेश में फैल रहे कोरोना संक्रमण से लड़ने के काम आ सके। आरंग के कांग्रेस के पदाधिकारियों ने कहा कि यह कैसा भाजपा के टीम का विरोध है कि अपने खाते में आए हुए पैसे आप चुपचाप ग्रहण कर लेते हैं और शेष किसानों को गुमराह करने का प्रयास कर रहे हैं। इस दौरान कांग्रेस ने किसान न्याय योजना पर पर भ्रामक जानकारी फैलाने और टीका-टिप्पणी पर भाजपा को किसान विरोधी बताया। प्रेसवार्ता में ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष कोमल सिंह साहू, शहर अध्यक्ष अब्दुल कादिर गोरी, नगर पालिका अध्यक्ष चंद्रशेखर चंद्राकर सहित कांग्रेस के पदाधिकारी और कार्यकता मौजूद थे।

27-05-2020
बिना लाइसेंस के कर रहे थे व्यवसाय, निगम ने लगाया जुर्माना  

दुर्ग। नगर टीम ने बुधवार को जांच के दौरान इंदिरा मार्केट में दिलीप ट्रेडर्स पर बिना लाइसेंस के व्यवसाय करने पर अर्थदंड लगाया। स्वास्थ्य अधिकारी ने दुकान संचालक पर 5 हजार रुपए जुर्माना लगाया और व्यवसाय का लाइसेंस बनाने निर्देश दिए। इसी प्रकार गंजपारा में राठी टेबोको द्वारा भी बिना लाइसेंस व्यवसाय किया जा रहा था। उन्हें भी 5000 रुपए जुर्माना कर लाइसेंस बनाने की हिदायत दी गई। स्वास्थ्य अधिकारी ने भ्रमण के दौरान दीपक नगर में ऋषि चाय सेंटर पर दुकान का कचरा नाला में डालने पर 1 हजार रुपए जुर्माना लगाया। 

 

27-05-2020
जेपी मौर्य ने जिला पंचायत सीईओ को सौंपा कार्यभार

 

राजनांदगांव। स्थानांतरित जिलाधीश जय प्रकाश मौर्य ने बुधवार शाम अपना कार्य भार जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी तनूजा सलाम को सौंप दिया। मंगलवार को जेपी मौर्य का स्थानांतरण धमतरी हुआ था। इस अवसर पर जिले के अनेक प्रमुख अधिकारी उपस्थित थे।

 

27-05-2020
छत्तीसगढ़ के नवाचारी कार्यक्रम “पढ़ई तुंहर दुआर” की सराहना

रायपुर। छत्तीसगढ़ में समग्र शिक्षा की परियोजना स्वीकृति बोर्ड की बैठक आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित की गई। भारत सरकार के अधिकारियों ने छत्तीसगढ़ में संचालित नवाचारी कार्यक्रम ’पढ़ई तुंहर दुआर’ की सराहना की। केन्द्र सरकार के अधिकारियों ने इस कार्यक्रम को छत्तीसगढ़ के आकांक्षी जिलों में क्रियान्वित करने पर बल दिया। लॉकडाउन अवधि में मितव्ययता के साथ चलते हुए प्रत्येक स्तर पर प्राथमिक कार्यों पर ही ध्यान देने के निर्देश दिए। वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से छत्तीसगढ़ राज्य में समग्र शिक्षा के लिए सत्र 2020-21 की वार्षिक कार्ययोजना पर विस्तार से चर्चा की गई।वीडियो कांफ्रेंसिंग में राज्य में स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव डॉ.आलोक शुक्ला के द्वारा छत्तीसगढ़ में चल रहे नवाचारी कार्यक्रम ’पढ़ई तुंहर दुआर’ की गतिविधियों के विषय में प्रभावी ढंग से प्रस्तुती दी। समग्र शिक्षा के मिशन संचालक जितेन्द्र शुक्ला ने पॉवर पॉइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से कार्यक्रम के विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डाला। जितेन्द्र शुक्ला ने प्रस्तुतीकरण में बताया कि छत्तीसगढ़ के परिप्रेक्ष्य में जहां बहुत से नेटवर्कविहीन क्षेत्र और स्मार्टफोन रहित आबादी है 

वहीं पर विभिन्न वैकल्पिक तरीकों जैसे -मोटरसाईकल गुरूजी, ब्लूटूथ फोन, ऑडियो सामग्री, टेलीविजन के माध्यम से बच्चों के लिए शिक्षा व्यवस्था को सुचारू रूप से संचालित करने के लिए विभिन्न नवाचारी सुझाव दिए। लगभग 3 घंटे चली इस ऑनलाइन बैठक में केन्द्र के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ ही राज्य शासन के स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों भी उपस्थित रहे। बैठक में लॉकडाउन के चलते बच्चों के अध्ययन-अध्यापन की निरंतरता के लिए चर्चा की गई। राज्य की वर्तमान परिस्थितियों खासतौर पर नक्सल प्रभावित क्षेत्रों सहित अन्य विषयों पर विस्तार से समीक्षा की गई। समग्र शिक्षा के परियोजना स्वीकृति बोर्ड की विडियो कांफ्रेंसिंग बैठक में भारत सरकार के स्कूल शिक्षा एवं साक्षरता विभाग की सचिव अनीता कारवाल, छत्तीसगढ़ में स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव डॉ. आलोक शुक्ला, स्कूल शिक्षा विभाग के सचिव आशीष भट्ट, संचालक समग्र शिक्षा जितेन्द्र कुमार शुक्ला, राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एस.सी.ई.आर.टी.) के अपर संचालक आरएन सिंह, संयुक्त संचालक डॉ. योगेश शिवहरे, समग्र शिक्षा के उप संचालक डीके कौशिक, सहायक संचालक डॉ.एम. सुधीश सहित सभी अधिकारी उपस्थित रहे।

 

Please Wait... News Loading