GLIBS

20-06-2019
भविष्य में एशिया में गहराएगा जल संकट का खतरा, तेजी से पिघल रहे है हिमालय के ग्लेशियर 

नई दिल्ली। ग्लोबल वार्मिंग के असर से हिमालय के ग्लेशियर 21वीं सदी में दो गुना अधिक रफ्तार से पिघल रहे हैं। इसके चलते आने वाले समय में एशिया के करोड़ों लोगों को पानी का संकट उठाना पड़ सकता है। तेजी से पिघल रहे ग्लेशियर नए अध्ययन के अनुसार चीन, भारत, नेपाल, भूटान में 40 वर्ष के सैटेलाइट अध्ययन से पता चलता है कि ग्लेशियर काफी तेजी से पिघल रहे हैं। वर्ष 2000 से हर वर्ष एक से डेढ़ फीट की बर्फ पिघल रही है। जोकि 1975 से 2000 की तुलना में दोगुनी है। कोलंबिया यूनिवर्सिटी के लेमंट दोहार्ती ऑब्सरवेटरी के पीएचडी उम्मीदवार जोशुआ मोरेर की अगुवाई में किए गए इस अध्ययन में कहा गया है कि हिमालय पर बर्फ तेजी से पिघल रही हैं।

इसका सीधा असर 800 मिलियन लोगों पर इसका असर पड़ेगा। 25 फीसदी ग्लेशियर पिघल जाएंगे। इस शोध में कहा गया है कि आने वाले समय में ग्लेशियर अपना 25 फीसदी हिस्सा गंवा देंगे। ग्लेशियर जियोग्राफर जोसेफ शी का कहना है कि दुनियाभर के ग्लेशियर भी बढ़ते तापमान और ग्लोबल वॉर्मिंग से प्रभावित हुए हैं और ग्लेशियर पहले की तुलना में तेजी से पिघल रहे हैं। बता दें कि हाल ही में नीति आयोग की रिपोर्ट सामने आई है, जिसमें कहा गया है कि अगले एक वर्ष में यानि 2020 तक देश के 21 शहरों का ग्राउंड वॉटर लेवल खत्म हो जाएगा। जिसकी वजह से देश की 10 करोड़ आबादी को पीने के पानी के लिए तरसना होगा।

जिन 21 शहरों में ग्राउंड लेवल वॉटर अगले वर्ष खत्म हो जाएगा उसमे दिल्ली, चेन्नई, हैदराबाद जैसे शहर भी शामिल हैं। 40 फीसदी आबादी को पानी का संकट रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि 2030 तक देश की 40 फीसदी आबादी के लिए पीने का पानी नहीं होगा। इस तरह से नीति आयोग की यह रिपोर्ट सामने आई है उससे साफ है कि स्थिति काफी भयावह हो गई है। अगले वर्ष देश के 21 शहरों को पीने के पानी के लिए जूझना होगा। चेन्नई की तीन नदियों, चार जल स्रोत, पांच तालाब, छह जंगल पूरी तरह से सूख चुके हैं। चेन्नई के यह हालात तब हैं जब अन्य मेट्रोल शहरों की तुलना में यहां पर बेहतर वॉटर रिसोर्स और बारिश के पानी को बचाने की बेहतर व्यवस्था है।

20-06-2019
हिरासत में मौत मामले में पूर्व आईपीएस संजीव भट्ट और उनके सहयोगी को उम्रकैद

 

नई दिल्ली। गुजरात की जामनगर कोर्ट ने हिरासत में मौत के मामले में बर्खास्त आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट और उनके सहयोगी को दोषी करार दिया है। कोर्ट ने संजीव भट्‌ट को उम्रकैद की सजा सुनाई है। 1990 में जामनगर में भारत बंद के दौरान हिंसा हुई थी। भट्ट उस वक्त जामनगर के एएसपी थे। इस दौरान 133 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया, जिनमें 25 लोग घायल हो गए थे और आठ लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया।

न्यायिक हिरासत में रहने के बाद एक आरोपी प्रभुदास माधवजी वैश्नानी की मौत हो गई। इस मामले में गुरुवार को जामनगर कोर्ट ने पूर्व आईपीएस और उनके सहयोगी को उम्रकैद की सजा सुनाई है। बता दें कि संजीव भट्ट को बिना किसी मंजूरी के गैरहाजिर रहने व आवंटित सरकारी वाहन के दुरुपयोग को लेकर 2011 में निलंबित कर दिया गया था। इसके बाद 2015 में उन्हें बर्खास्त कर दिया गया था।

20-06-2019
पेड़ पर बिजली के तार की चपेट में आने से तेंदुए की मौत

नई दिल्ली। करंट लगने से तेंदुए की मौत का मामला समाने आया है। घटना हरियाणा के गुरुग्राम जिले के सोहना स्थित मंडावरा गांव की बताई जा रही है। मिली जानकारी के अनुसार तेंदुआ एक पेड़ पर चढ़ा था, तभी अचानक से वो बिजली की एक नंगी तार से चिपक गया और करंट लगने से मौके पर ही उसकी मौत हो गई। घटना के बाद लोगों ने वन विभाग को सूचना दी। वन विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंचे और घटना स्थल का जायजा लिया।

20-06-2019
धरना स्थल पर निवेशकों एवं ऐजेंटों के बीच पहुंचीं विधायक रंजना साहू 

धमतरी। विधायक रंजना साहू ने गौशाला मैदान में धरना प्रर्दशन कर रहे निवेशकों एवं ऐजेंटों के बीच पहुंच कर मुलाकात की। उन्होंने कहा कि प्रदेश की सरकार अपने घोषणापत्र में चिटफंड कम्पनी के पैसे वापस दिलाने का वादा किया है। मैं इस मामले को आगामी मानसून सत्र में उठाऊंगी एवं मांग करुंगी कि सरकार अपने घोषणापत्र के अनुरुप कार्य करें। इस अवसर पर प्रमुख रूप से राजेन्द्र शर्मा निगम सभापति, शिवदत्त उपाध्याय, विजय साहू, उमेश साहू, डीपेन्द्र साहू, सतीश साहू, ममता सिन्हा उपस्थित थे। 

20-06-2019
CH / NEWS
01:44pm

ग्राम गोविंदा से खजुरानी रेत लेकर गए ट्रैक्टर खाली करके वापस लौटते वक्त ग्राम भोथिडिह के बाजार चौक के पास ट्रैक्टर में बैठा युवक प्रेमशंकर पटेल पिता बाबूलाल पटेल निवासी गोविन्दा अचानक ट्रैक्टर से निचे गिर पड़ा और ट्रोली के पहिये के नीचे आ जाने से चोट ग्रसित हो गया, तत्काल वहां पर मौजूद लोगों की मदद से सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र जैजैपुर ले जाया गया जहां पर डॉक्टरों ने प्रेमशंकर को मृत घोषित कर दिया पुलिस ने पन्चनामा कर मर्ग कायम कर मामले की जांच में जुटि गई। पुलिस ने पन्चनामा कर मर्ग कायम कर मामले की जांच में जुटि गई | 

20-06-2019
जंगली हाथियों के कुचलने से फारेस्ट गार्ड समेत दो लोगो की मौत

रायगढ़। रायगढ़ जिले में जंगली हाथियों ने एक फारेस्ट गार्ड सहित एक अन्य ग्रामीण को कुचल कर मार डाला। वन अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार जिले के धरमजयगढ़ वन मण्डल के छाल रेंज में कल शाम फारेस्ट गार्ड मुकेश कुमार पांडे और ग्रामीण भुजेन्द्र राठिया मोटर साईकिल से जंगल से लौट रहे थे कि रास्ते में मौजूद जंगली हाथियों ने उन्हे देखकर उन पर हमला बोलते हुए मोटर साईकिल के गिराकर कुचल दिया।कुछ दूरी पर गाँव के दो लड़कों ने घटना को देखा औ? भागकर सीधे बस्ती में आकर गाँव के लोगो को घटना की जानकारी दी।

ग्रामीणों ने इसकी सूचना छाल थाना एवं वन विभाग के दूसरे अधिकारियो को दिया जिस पर आनन फानन में समूचा महकमा घटना स्थल पहुँच गया। घटना स्थल के आसपास हाथियों के विचरण कर रहे समूह को किसी तरह भगाकर शव को बाहर निकाला गया।दोनो का शव रात में ही पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया था जहां आज पोस्टमार्टम के बाद शवों को परिजनों को सौंप दिया गया। हाथी की चपेट में अब तक ग्रामीणों की ही मौत होती रही है।यह पहली घटना है जब हाथी की चपेट में आने से ड्यूटी के दौरान किसी वन विभाग के कर्मचारी की मौत हुई है। मृतक बिलासपुर का रहने वाला था और धरमजयगढ़ वन मण्डल में पहली पोस्टिंग हुई थी।

20-06-2019
पंजाबी सिंगर हार्ड कौर के खिलाफ हुआ केस दर्ज

 

नई दिल्ली। यूके बेस्ड पंजाबी सिंगर हार्ड कौर को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के खिलाफ सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक बातें लिखने के लिए केस दर्ज किया गया है। बता दें कि हार्ड कौन ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तस्वीर शेयर करते हुए उन्हें 'रेपिस्ट' और आरएसएस चीफ मोहन भागवत को 'आतंकवादी' कहा था। ऐसा करने के लिये सोशल मीडिया पर उन्‍हें जम कर ट्रोल भी किया गया था। 

हार्ड कौर पहले भी ऐसे विवादित पोस्‍ट लिखती आई हैं लेकिन इस बार वह बुरा फंस गईं। कैन्ट पुलिस ने धारा 153 A 124 A 500,505 व 66 आईटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस को दी गई अपनी शिकायत में शेखर जो कि पेशे से वकील हैं, ने आरोप लगाया कि आरएसएस के स्वयंसेवक होने के कारण उन्हें यह देखकर बहुत दुख हुआ था।

20-06-2019
गलती से छूटी बेग, ट्रैफिक पुलिस ने पहुंचाया मालिक तक

 

धमतरी। धमतरी सिहावा चौक में बैंक ऑफ बडौदा के पास मोटर साइकिल में अज्ञात बेग की सूचना पर पुलिस ने अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए उसे उसके सही ठिकाने तक पहुंचाया। बता दें कि सिहावा चौक में आरक्षक ढाल सिंह ध्रुव एवं मिथिलेश ड्यूटी पर तैनात थे तभी खपरी निवासी खगेंद्र साहू ने ट्रैफिक पुलिस के जवानों को अज्ञात बेग सूचना दिया। जिसके बाद पतासाजी करने करने पर बैग वाले का कहीं पता नहीं चला। अज्ञात बेग करने पर 10-15 पासबुक और चेकबु के साथ जरूरी कागजात प्राप्त हुआ।

पासबुक में अंकित नाम मोबाइल नंबर के माध्यम से पता करने पर यातयात के जवानों को बैग के मालिक की जानकरी मिली। कमलेश कुमार सोरी साकेत नगर गोविंदपुर कांकेर का निवासी निकला। बेग मालिक को बुलाकर हेड कांस्टेबल उत्तम साहू आरक्षक राज कुमार नेताम ढाल सिंह मिथिलेश के समक्ष उक्त  बैग को कमलेश सॉरी को सुपुर्द किया गया। और नई मिशान हासिल किया।

20-06-2019
CH / NEWS
12:04pm

पंडरिया में अव्यवस्था को लेकर नगरीय प्रशासन की बड़ी कार्यवाही देखने को मिल रही है , नगरपंचायत पंडरिया लगातार Fifteen years से अव्यवस्था का दंश झेल रहा था पंडरिया में सत्ता परिवर्तन होने के छे माह बाद तत्काल नगर के लोगो की शिकायत के बाद नगरीय प्रशासन के द्वारा लगातार पाँच दिनों से अव्यवस्था को सुधारने के लिए गांधी चौक से लेकर माँ महामाया मुख्य मार्ग तक अव्यवस्था को सुधार रहा है 

20-06-2019
भारत विश्व की सबसे तेज़ी से विकसित हो रही अर्थव्यवस्थाओं में से एक : राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद इस समय संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित कर रहे हैं। अपने अभिषाषण में नए निर्वाचित सदस्यों को बधाई देते हुए कहा कि इस बार 61 करोड़ से ज्यादा मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग कर एक रिकॉर्ड कायम किया। राष्ट्रपति ने कहा कि इस बार देश की जनता ने स्पष्ट जनादेश दिया। इसी सत्र में सरकार बजट पेश करने वाली है। बता दें कि आज से ही राज्यसभा का सत्र भी शुरू हो रहा है जो 26 जुलाई तक चलेगा।

राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि पहली बार किसी सरकार ने छोटे दुकानदार भाई-बहनों की आर्थिक सुरक्षा पर ध्यान दिया है। कैबिनेट की पहली बैठक में ही छोटे दुकानदारों और रीटेल ट्रेडर्स के लिए एक अलग ‘पेंशन योजना’ को मंजूरी दे दी गई है। इस योजना का लाभ देश के लगभग 3 करोड़ छोटे दुकानदारों को मिलेगा। नेशनल डिफेंस फंड’ से वीर जवानों के बच्चों को मिलने वाली स्कॉलरशिप की राशि बढ़ा दी गई है। इसमें पहली बार राज्य पुलिस के जवानों के बेटे-बेटियों को भी शामिल किया गया है। भारत विश्व की सबसे तेज़ी से विकसित हो रही अर्थव्यवस्थाओं में से एक है।

राष्ट्रपति कोविन्द ने कहा कि सरकार द्वारा सामान्य वर्ग के गरीब युवाओं के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान किया गया है। इससे उन्हें नियुक्ति तथा शिक्षा के क्षेत्र में और अवसर प्राप्त हो सकेंगे। देश में हर बहन-बेटी के लिए समान अधिकार सुनिश्चित करने हेतु ‘तीन तलाक’ और ‘निकाह-हलाला’ जैसी कुप्रथाओं का उन्मूलन जरूरी है। मैं सभी सदस्यों से अनुरोध करूंगा कि हमारी बहनों और बेटियों के जीवन को और सम्मानजनक एवं बेहतर बनाने वाले इन प्रयासों में अपना सहयोग दें। राष्ट्रपति ने अपने अभिभाषण में कहा कि ‘उज्ज्वला योजना’ द्वारा धुएं से मुक्ति, ‘मिशन इंद्रधनुष’ के माध्यम से टीकाकरण, ‘सौभाग्य’ योजना के तहत मुफ्त बिजली कनेक्शन, इन सभी का सर्वाधिक लाभ ग्रामीण महिलाओं को मिला है। राष्ट्रीय आजीविका मिशन’ के तहत ग्रामीण अंचलों की 3 करोड़ महिलाओं को अब तक 2 लाख करोड़ रुपये से अधिक का ऋण दिया जा चुका है।

मेरी सरकार बैंक सेवाओं को देशवासियों के द्वार तक पहुंचाने का काम भी कर रही है। 50 करोड़ गरीबों को ‘स्वास्थ्य – सुरक्षा – कवच’ प्रदान करने वाली विश्व की सबसे बड़ी हेल्थ केयर स्कीम ‘आयुष्मान भारत योजना’ लागू की गई है। महिला सशक्तीकरण, मेरी सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक है। नारी का सबल होना तथा समाज और अर्थ-व्यवस्था में उनकी प्रभावी भागीदारी, एक विकसित समाज की कसौटी होती है। सरकार की यह सोच है कि न केवल महिलाओं का विकास हो, बल्कि महिलाओं के नेतृत्व में विकास हो।

हमें अपने बच्चों और आने वाली पीढ़ियों के लिए पानी बचाना ही होगा।  नए ‘जलशक्ति मंत्रालय’ का गठन, इस दिशा में एक निर्णायक कदम है जिसके दूरगामी लाभ होंगे।  इस नए मंत्रालय के माध्यम से जल संरक्षण एवं प्रबंधन से जुड़ी व्यवस्थाओं को और अधिक प्रभावी बनाया जाएगा। वर्ष 2022 तक देश के किसान की आय दोगुनी हो सके, इसके लिए पिछले 5 वर्षों में अनेक कदम उठाए गए हैं।

20-06-2019
चारागाह भूमि को बचाने के लिए ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन, कलेक्टर ने दिए जांच के आदेश

धमतरी। ग्राम देमार के चारागाह के लिए ग्रामीणों द्वारा सरकार को दी गई जमीन को फर्जीवाड़ा करके निजी नाम में नामांतरण कर रजिस्ट्री करवाने के लिए प्रस्तुत किया गया। इसकी ग्रामीणों को जानकारी मिलने पर हज़ारों की संख्या गांववालों ने आनंद पवार के नेतृत्व में कलेक्टर रजत कुमार बंसल को अवगत कराया। इसमें किसानों की ओर से सरकार को दी गई 55 एकड़ 70 डिसमिल भूमि,जो कि सरकारी रिकॉर्ड में घास जमीन है। कलेक्टर ने तत्काल रजिस्ट्री पर रोक लगाने एडीएम और एसडीएम को रजिस्ट्रारा से बात करने को कहा औऱ जांच होने तक रजिस्ट्री पर रोक लगाने का आदेश दिया।

20-06-2019
क्या हम प्रलय को दे रहे हैं आमंत्रण? हिमालय से जुड़ी यह रिसर्च दे रही दहशत की दस्तक

काठमांडू। गर्मी से बेहाल उत्तर भारतीय इन दिनों बर्फ की तलाश में पहाड़ों का रुख किए हुए हैं। लोग इतनी भारी संख्या में पहाड़ों पर पहुंच रहे हैं कि वहां इससे खतरा पैदा हो सकता है। ताजा सर्वे में दावा किया गया है कि पहाड़ों पर भीड़भाड़ बढ़ने से हिमालय को नुकसान पहुंच रहा है। सर्वे में दावा किया गया है कि बढ़ते तापमान के कारण हिमालय के साढ़े छह सौ ग्लेशियर पर बड़ा खतरा मंडरा रहा है। एक अध्ययन में दावा किया गया है कि ग्लेशियरों के पिघलने की रफ्तार दोगुनी हो गई है। साइंस एडवांसेज जर्नल में प्रकाशित शोध के मुताबिक 1975 से 2000 के बीच ये ग्लेशियर हर साल 10 इंच घट रहे थे, लेकिन 2000-2016 के दौरान सालाना 20 इंच तक घटने लगे. इससे करीब आठ अरब टन पानी की क्षति हो रही है।

कोलंबिया विश्वविद्यालय के अर्थ इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं ने उपग्रह से लिए गए 40 साल के चित्रों को आधार बनाकर यह शोध किया है। ये चित्र अमेरिकी जासूसी उपग्रहों की ओर से लिए गए थे। सर्वे रिपोर्ट में कहा गया है कि ये तस्वीरें भारत, चीन, नेपाल और भूटान के हिस्से में पड़ने वाले हिमालय 650 ग्लेशियर की हैं। हाल ही में नेपाल सरकार ने भी हिमालय के गलेशियर तेजी से पिघलने का दावा किया था। जानकार मानते हैं कि एक तरफ हिमालय तेजी से पिघल रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ भारत सहित अन्य आसपास के देशों में तेजी से जल दोहन हो रहा है। इससे पृथ्वी में जल स्तर काफी नीचे जा रहा है। धरती पर पानी की कमी से तापमान में कमी आ रही है, जिसका सीधा असर हिमालय पर पड़ रहा है। बताया जा रहा है कि हिमालय के ज्यादा तेजी से पिघलने पर समुद्र के जल स्तर में विस्तार होगा, जो सीधे-सीधे मानव आबादी को प्रभावित करेंगे। यूं कहें कि धरती की पारिस्थिति तंत्र (ईको सिस्टम) में बड़ा बदलाव देखने को मिल सकता है।

हिमालय पर पनप रहे घातक रोग
नेपाल सरकार ने गुरुवार को दावा किया कि दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट पर बड़ी संख्या में पर्वतारोहियों की मौत सिर्फ 'भीड़भाड़' होने की वजह से ही नहीं हुई है. इसके पीछे बेहद ऊंचाई पर होने वाली बीमारियां, दूसरे स्वास्थ्य कारण और प्रतिकूल मौसम भी कारक है. अंतरराष्ट्रीय मीडिया ने माउंट एवरेस्ट पर मृतकों का आंकड़ा 11 बताया है जो इसे 2015 के बाद सबसे खतरनाक बनाता है. नेपाल पर्यटन मंत्रालय ने हालांकि मरने वालों का आंकड़ा 8 ही दिया है जबकि एक पर्वतारोही लापता बताया गया है.
पर्यटन अधिकारियों के मुताबिक इस सीजन में हिमालय में कुल मिलाकर 16 पर्वतारोहियों की जान गई जबकि एक लापता है। इन 16 पर्वतारोहियों में से चार भारतीय पर्वतारोहियों की मौत 8,848 मीटर की ऊंचाई वाले माउंट एवरेस्ट पर हुई जबकि माउंट कंचनजंघा और माउंट मकालू में भी दो-दो भारतीय पर्वतारोहियों की जान गई जिससे हिमालय में मरने वाले भारतीयों का आंकड़ा कुल 8 पहुंच गया। इस वसंत में सर्वोच्च चोटी को नापने का प्रयास करने वाले अंतरराष्ट्रीय पर्वतारोहियों में सबसे ज्यादा संख्या भारतीयों की थी। इस बार कुल 78 भारतीय पर्वतारोहियों को मंजूरी मिली थी।
 

Please Wait... News Loading