GLIBS

17-09-2020
अनानास खाने के है अनेक फायदे..

रायपुर। पाइनएप्पल यानि की अनानास में भरपूर मात्रा में फाइबर्स होता है। स्वाद में खट्टा और मीठा दोनों होने के कारण यह बहुत ही मजेदार होता है। लेकिन इसे खाकर आप अपने शरीर की कई सारी परेशानियों को कम कर सकते हैं या फिर दूर भगा सकते हैं। दरअसल पाइनएप्पल में कई सारे ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो आपकी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद साबित होते हैं। पाइनएप्पल खाने से आपको सेहत से जुड़ी कई सारी परेशानियों से मुक्ति मिल सकती है। पाइनएप्पल में विटामिन और एंटीऑसीडेंट के गुण पाए जाते हैं। तो चलिए जानते हैं अगर आप इशका सेवन करते हैं तो आपको इसके कितने सारे फायदे मिलेंगे।

हड्डियों के लिए फायदेमंद : पाइनएप्पल खाने में जितना स्वादिष्ट होता है उतना ही आपकी सेहत के लिए भी फायदेमंद होता है। अगर आप पाइनएप्पल खाते हैं तो इससे आपकी हड्डियों को मजबूती मिलती है। इसलिए आप पाइनएप्पल का जूस जरुर पीए। इसमें कई सारे मिनरल्स और विटामिन होते हैं जो आपकी हड्डियों को मजबूत बनाने का काम करते हैं। खसाकर महिलाओं और बच्चों का इसका सेवन जरूर कराएं, ये उनके लिए कापी असरदार साबित होता है।

आंखों के लिए फायदेमंद : पाइनएप्पल अगर आप खाते हैं बतौर जूस या फिर फ्रूट के तौर पर तो इससे आपकी आंखों को भी कई सारे फायदे होते हैं। आजकल लोग अपना ज्यादातर समय अपना कंप्यूटर पर बिताते हैं। ऐसे में आपको अपनी आंखों का खास ख्याल रखना चाहिए ताकि उनमें किसी प्रकार की परेशानी ना हो। 

स्टोन के लिए : अगर आप पथरी या फिर स्टोन से परेशान हैं तो ऐसे में आप पाइनएप्पल को अपने खाने में जरूर शामिल करें। आप चाहें तो इसका जूस बनाकर भी पी सकते हैं। पाइनएप्पल एक प्राकृतिक औषधि के रूप मे उपयोग की जाती है। यह पथरी या किडनी स्टोन के लिये बहुत फायदेमंद होता है।

इम्युनिटी के लिए करागर : इम्युनिटी आजकल हर किसी के लिए बहुत जरूरी है। ऐसे में आपको अपने शरीर का खास ध्यान देना होगा तभी आपकी इम्युनिटी अच्छी रहेगी। क्योंकि अगर ये गिरती है तो ऐसे में आपका स्वास्थ भी नीचे आ जाता है और शरीर कमजोर और थका हुआ हो जाता है। ऐसे में आप पाइनएप्पल से अपनी इम्युनिटी को बढ़ा सकते हैं। आप इसे फल या फिर जूस के तौर पर ले सकते हैं।

वजन कम करने में मददगार : अगर आप डायट पर हैं तो ऐसे में पाइनएप्पल का सेवन जरूर करें। इसका इस्तेमाल आप जूस के रूप में भी कर सकते हैं। इसके सेवन से शरीर में कमजोरी महसूस नहीं होती है। वजन को कम करने में भी आपकी मदद कर सकता है।

17-09-2020
बेजान और रूखे बालों का देसी इलाज, अपनाएं घर पर...

रायपुर। बढ़ते प्रदूषण के कारण बाल बेहद बेजान और रुखे हो जा रहे हैं। कोरोना की वजह से लोग डरकर पार्लर नहीं जा रहे हैं। ऐसे में आप घर पर ही रहकर अपने बालों की देखभाल कर सकते हैं, ताकि आपके बालों में चमक हमेशा बरकरार रहे। अगर आपके बाल रुखे और बेजान हो रहे हैं तो ऐसे में घर पर बने आसानी स्पा से आप अपने बालों की चमक वापस पा सकते हैं। पार्लर में जाकलर हेयर स्पा नहीं लेना चाहती हैं तो ऐसे में आपको घर पर रखे कुछ सामान की मदद से आप अपने बालं को फिर से स्टाइलिश बना सकती हैं।

चाय की पत्ती का पैक : बालों के लिए चाय की पत्ती का पैक बेहतरीन है। इसे बनाने के लिए एक चम्मच चाय की पत्ती को एक बड़े चम्मच तेल में डालकर गर्म करें। जब तेल अच्छे से गर्म हो जाए तो छन्नी से छानकर ताय की पत्ती को अलग कर दें। अब इसमें चुकंदर का पेस्ट मिलाकर पूरे बालों में लगाएं और 30 मिनट के बाद अपने बालों को धो लें। 

केले का पेस्ट : आपके बाल अगर लंबे हैं तो आप उसके हिसाब से केले का पस्टे बनाएं वहीं छोटे हैं तो उस हिसबा से रखें। केले का पेस्ट बनाने के लिए अंडा और एक बूंद जैतून का तेल डालें और अच्छे से मिक्स कर लें। बालों पर लगाने के बाद इसे सूखने के लिए छोड़ दें और इसके बाद इसे माइल्ड शैंपू से धो लें आपको फर्क जल्द दिखाई देगा।

मेथी का पेस्ट : मेथी के दानों को रातभर भिगोकर रखें और अगले दिन इसका पेस्ट बना लें और इसमें दही और शहद मिलाकर अपने बालों में लगाएं। जब बालों में ये अच्छे से लग जाए और सूखने के बाद इसे शैंपू से अच्छे से धो लें।

16-09-2020
कुरकुरी भिंडी बनाकर रसोई में करें कुछ हटकर ट्राई

रायपुर। भिंडी को कई अलग-अलग तरीके से भी बनाया जाता है, जिसमें से एक कुरकुरी भिंडी है। अक्सर लोग आम तरीके से बनाई जाने वाली भिंडी की सब्जी खाकर बोर हो जाते हैं तो ये कुरकुरी भिंडी ट्राई कीजिए। मसाले और बेसन में मैरिनेट करके तली हुई कुरकुरी भिन्डी उन्हें भी पसन्द आती है जो भिन्डी खाना पसंद नहीं करते हैं। 

कुरकुरी भिंडी बनाने की आसान विधि :-
-भिंडी को लंबाई में काटें और फिर पतले-पतले स्ट्रिप्स में काट ले। एक कढ़ाई में आवश्यकतानुसार तेल गरम कर लें।
-भिंडी को एक बाउल में डालें, उसमें नमक, बेसन, लाल मिर्च पावडर, चाट मसाला, अमचूर और जीरा पावडर डाले और अच्छी तरह मिला लें।
-अब इन्हें गरम तेल में डालें और सुनहरा और करारा होने तक तल लें। तेल में से निकाल कर एक अबज्ञौरबेंट पेपर पर रखें।
-अब प्लेट में सर्व करके पराँठे या चपाती के साथ कुरकुरी भिंडी का आनंद ले ।

16-09-2020
ब्लू टी से पाएं डिप्रेशन, डायबिटीज से छुटकारा और इम्यूनिटी पावर, कई अन्य फायदे...

रायपुर। ब्लू टी यानी नीली चाय बाकी चाय से ज्यादा फायदेमंद है। नीली चाय को ‘ब्लू टी’ और ‘बटरफ्लाई टी’ भी कहा जाता हैै। सेहत के लिए यह टी उतनी ही लाभकारी है। जितनी कि अन्य हर्बल टी हैं। इस चाय को बनाने के लिए बटरफ्लाई पिक फ्लावर का इस्तेमाल किया जाता है। ब्लू टी का सेवन बालों और त्वचा के लिए लाभकारी होता है। शुगर के मरीजों को ब्लू टी का सेवन जरूर करना चाहिए। यह ब्लड में शुगर की मात्रा को कंट्रोल में रखता है। जिन लोगों को शुगर की बीमारी नहीं भी है, वे अगर अगर ब्ल्यू टी रोज एक कप पीते हैं तो उन्हें कभी डायबिटीज की समस्या नहीं हो सकती। इसे पीने से इम्यूनिटी बढ़ती है और इससे कई तरह के रोगों से बचाव होता है। 

यह काफी एनर्जेटिक होती है और इसे पीने से जल्दी थकान का अनुभव नहीं होता। इसमें एक खास तरह की खुशबू होती है, जो लंबे समय तक तरोताजा रखती है। साथ ही ब्‍लू टी में एंटी-ऑक्सीडेंट्स होते हैं। इसमें मौजूद बायो कंपाउड शरीर से टॉक्सिन्स निकालने में मदद करते हैं और सेहत के लिए लाभकारी होते हैं। अक्सर हम अपने बालों और त्‍वचा को लेकर परेशान रहते है। ब्लू टी में मौजूद विटामिन्स और मिनरल्स बालों और त्वचा के लिए लाभकारी होते हैं। त्वचा को जवां और बालों को घना और खूबसूरत बनाने के लिए ब्लू टी का सेवन फायदेमंद होता है। ब्लू टी एंग्जाइटी और डिप्रेशन को भी कम करती है। इसमें पाए जाने वाले अमीनो एसिड तनाव को कम करते हैं। अगर ब्लू टी का नियमित सेवन किया जाए तो दिमाग सही रहता है। इस तरह ब्लू टी के अनेक फायदे है। निरंतर इसके उपयोग से सेहत के लिए चिंता करने की आवश्यकता नहीं होगी।

15-09-2020
हार्ट और किडनी की समस्या से निजात दिलाएगा देसी रामबाण इलाज...

रायपुर। हार्ट और किडनी की समस्या आजकल बेहद आम हो गई है। यदि हमारे शरीर को पर्याप्त मात्रा में पोटेशियम नहीं मिलता तो बहुत सी बीमारियां जैसे कि मांसपेशियों में दर्द, दिल की धड़कन का कम हो जाना या फिर हाई ब्लड प्रेशर जैसी समस्याएं उत्पन्न होने लगती हैं। पोटेशियम केवल फलों में ही नहीं और भी कई चीजें है, जिनमें आसानी से मिल जाता है।

टमाटर : टमाटर तो आप सलाद में लेते ही होंगे साथ ही सॉस भी लेते ही होंगे और खास बात ये है कि इनमें पोटेशियम भरपूर होता है। इसलिए आप इसे खाते रहें और अपने खाने में हमेशा शामिल किए करें ताकि आप स्वस्थ रह सकें। 

किशमिश: किशमिश खाने में स्वादिष्ट होती है इसे आप ऐसे ही खा सकते हैं और आप इन्हे सलाद, किसी सब्जी या मिठाई आदि में मिला कर भी खा सकते हैं। किशमिश आप की सेहत के लिए बहुत लाभदायक होती है। यह पोटेशियम का एक अच्छा स्रोत है इसमें कैलोरी की मात्रा भी कम होती है अतः किशमिश को अपनी सब्जी या अपने आहार में जरुर शामिल करें।

तरबूज : यह फल पानी से भरपूर होता है इसलिए आप के शरीर में पानी की कमी नहीं होती इसके साथ साथ आप को तरबूज में पोटेशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है।

आलू : आलू आपको हर घर में मिलेगा और सबसे ज्यादा पंसद भी किया जाता है। आलू में विटामिन बी6, बी 3 का अच्छा स्रोत होता है। यदि आप आलुओं पर बटर या क्रीम आदि लगा कर खाएंगे तो जाहिर है उनका आधा पोटेशियम कम हो जाएगा इसलिए जब भी आप आलू खाएं तो ब्रोकली आदि सब्जियों के साथ खाएं इससे आपको आधिक लाभ होगा।

एवोकाडो : एवोकाडो पोटेशियम का एक अच्छा स्रोत है। यह न केवल पोटेशियम बल्कि यह फल विटामिन ए, सी व ई से भी भरपूर होता है। इससे आप को कोलेस्ट्रॉल लेवल कम करने में भी बहुत मदद मिलती है। इसलिए आपको अपने आहार मे यह फल आवश्य शामिल करना चाहिए।

14-09-2020
पाचन तंत्र और हार्ट के लिए वरदान है लहसुन...

रायपुर। सेहत का ख्याल रखने और कई सारी बीमारियों से लहसुन बचाएं रखता है। लेकिन लहसुन को अक्सर लोग खाना पसंद नहीं करते हैं और इसकी वजह है इसे खाने के बाद मुंह से बदबू आना लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि ये एक ऐसा सुपरफूड है। जो आपके स्वास्थ को सुपर हेल्दी बनाता है। लहसुन आपकी इम्यूनिटी को बढ़ाने, शुगर लेबल को कम करने और हार्ट की बीमारियों से लड़ने में मदद करती है। यह विटामिन, खनिज, एंटीऑक्सिडेंट, एंटीवायरल और एंटीबैक्टीरियल गुणों से भरपूर है। इसके अलावा, लहसुन में कैलोरी की मात्रा कम होती है और यह वजन घटाने में मदद कर सकता है।

सलाद : सुनकर थोड़ा अजीब लगता है लेकिन और कुछ लहसुन की कली को जैतून के तेल, मिर्च औऱ सूखी जड़ी बूटियों के साथ मिलाएं और सलाद के अपने कटोरे पर ड़ाल दें। ये जैसा सलाद आप खाते हैं उससे अलग होगा लेकिन ये एक नया सवाद जरूर एड कर देगा। 

सूप : आप चाहें तो कुछ जले हुए लहसुन को सूप के साथ या सूप के कटोरे के ऊपर मिला सकते हैं, ताकि इसे और भी स्वादिष्ट बनाया जा सके। लहसुन को जलाने के लिए एक पैन में हल्का सा तेल से और गर्म करें और एक मुठ्ठी कटा हुआ लहसुन लें और धीमी आंच पर इसे सुनहरा होने तक पकाएं।

पराठे या सब्जी: आप चाहें तो अपने पराठे में भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं या फिर सब्जी बनाने के दौरान 2-4 लहसुन की कली डाल दें और सब्जी के साथ खाएं। जब आप दाल की तड़का लगाएं तो उसमें भी लहसुन का इस्तेमाल करें और दाल के साथ आप इसे खाएं।

लहसुन का अचार : अगर आप कच्चा लहसुन नहीं खा सकते हैं तो आप बतौर अचार के तौर पर इसे खाएं। लहसुन का अचार ये सभी चीजों मसालों और टेस्ट को बांध के रखने का काम करता है।

14-09-2020
कम्युनिटी लेवल पर जागरूकता जरूरी, कोरोना से ठीक हुए लोग करेंगे निजी अनुभवों को साझा

रायपुर/बैकुंठपुर। देश में बढते कोरोना मरीजों की संख्या पर लगाम लगाने के लिए जनसमुदाय में जागरूकता जरूरी है। इसके लिए केन्द्रीय स्वास्थ मंत्रालय द्वारा समय समय पर सलाह और निर्देश जारी करता रहता है। इसी कडी में केन्द्रीय स्वास्थ मंत्रालय ने कोविड-19 को लेकर नई एडवाइजरी जारी की है, जिसमें कोरोना से ठीक हुए लोग से स्वयं को स्वस्थ रखते हुए निजी अनुभवों को जनसमुदाय स्तर पर साझा करने की अपील शामिल है। जानकारी देते हुए सीएमएचओ डा. रामेश्वर शर्मा ने बताया, “केन्द्रीय स्वास्थ मंत्रालय द्वारा जारी एडवाइजरी के अनुसार कोरोना से ठीक हुये लोगों को मास्क लगाने, हाथों की स्वच्छता आदि का ध्यान रखना चाहिए। इसके साथ ही उन्हें पर्याप्त मात्रा में गर्म पानी पीने की सलाह दी गई है। यदि उनका स्वास्थ्य सही है तो नियमित रूप से घरेलू काम करते हुए खुद को एक्टिव रखने की सलाह शामिल है।”

उन्होंने बताया, “कोरोना से ठीक हुए लोगों को स्वास्थ्य के अनुसार रोजाना योगासन, प्राणायाम और मेडिटेशन कर सकते हैं। डॉक्टर की सलाह से ब्रीदिंग एक्सरसाइज कर सकते हैं। सुबह और शाम को आरामदायक तरीके से वॉक करना,खान-पान को संतुलित और पौष्टिक रखें, जो पचाने में आसान हो। इसके साथ ही पर्याप्त नींद लें और आराम करें। धूम्रपान और शराब के इस्तेमाल से बचें। डॉक्टर की सलाह के अनुसार नियमित तौर पर दवाए लें। इसके अलावा ब्लड प्रेशर, टेम्परेचर, सुगर, प्लस ऑक्सीमेट्री आदि का ध्यान रखें। यदि लगातार सूखी खांसी या गले में खराश है तो गार्गल करें और स्टीम इनहेलेशन करें। कफ मेडिसिन, डॉक्टर की सलाह पर ही लेनी चाहिए।” जारी एडवाजरी में मंत्रालय ने च्यवनप्राश के उपयोग, योगासन, प्राणायाम की सलाह दी है। मंत्रालय की ओर से जारी पोस्ट कोविड-19 मैनेजमेंट प्रोटोकॉल में सलाह है कि कोरोना वायरस से रिकवर हो चुके लोग अपने व्यक्तिगत स्तर और कम्युनिटी स्तर पर चीजों का ध्यान रख सकते हैं। कम्युनिटी लेवल पर जागरूकता के लिए रिकवर व्यक्ति को कम्युनिटी लेवर पर सोशल मीडिया, कम्युनिटी लीडर, धार्मिक नेता आदि के माध्मय से पॉजिटिव एक्सपीरियंस शेयर करना चाहिए। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए योग, मेडिटेशन ग्रुप सेशन मे भाग लेना चाहिए।

11-09-2020
बेसन को त्वचा पर लगाने से त्वचा निखरती है, स्किन एजिंग की समस्या होती है दूर 

रायपुर। बेसन फेसपैक एक ऐसा घरेलू नुस्खा है, जिसका उपयोग पुराने समय से ही दादी- नानी  करते आ रहे हैं। ये कई तरह की स्किन प्रॉब्लम्स को दूर करके ग्लोइंग स्किन पाने में मदद कर सकता है। बेसन को त्वचा पर लगाने से त्वचा निखरती है। स्किन एजिंग की समस्या दूर होती है। टैनिंग को कम करने के लिए भी बेसन बेहद लाभदायक होती है। बेसन गन्दगी और विषाक्त पदार्थों को अंदर से साफ़ करने के लिए जाना जाता है। 

बेसन फेसपैक के फायदे  :-
बेसन को दूध के साथ मिलाने से स्किन को मॉइस्चराइज करने में मदद मिलती है।
बेसन को चेहरे पर लगाने से टैनिंग कम होती है। 
बेसन को चेहरे पर लगाने से मुहांसे दूर होते है। 
बेसन को फेस पर लगाने से ड्राई स्किन कम होगी। 
बेसन को चेहरे पर लगाने से तैलीय त्वचा से छुटकारा।
अनचाहे बालों को हटाने के लिए बेसन का करें इस्तेमाल। 
मृत कोशिकाओं को साफ करने के लिए चेहरे पर करें बेसन का उपयोग।

10-09-2020
बादाम और केसर का तेल डायबिटीज के लिए लाभप्रद और भी है अनेक फायदे...

रायपुर। केसर का इस्तेमाल एक मसाले के तौर पर किया जाता है। यह काफी महंगा बिकता है। केसर से सेहत को तो फायदा मिलता ही है साथ ही इससे स्किन और बालों को भी लाभ मिलता है। ऐसे में आज हम आपको केसर के तेल के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे आप बालों और स्किन पर लगा सकते हैं। इससे होने वाले फायदों के बारे में जनकर यकीनन आपके होश उड़ जाएंगे।विधि : बादाम का तेल, 10 से 15 केसर ले फिर केसर का तेल बनाने के लिए सबसे पहले बोतल में बादाम का तेल डालें। अब इसमें केसर डालें और और अच्छे से मिलाएं। बोतल को बंद कर किसी ठंडी जगह पर रख दें। जब तेल नारंगी दिखने लगे तो आप इसे इस्तेमाल कर सकते हैं।

केसर के तेल के फायदे : यह आपको शारीरिक और मानसिक रूप से स्‍वस्‍थ रख सकता है। केसर तेल की सुगंध इतनी सुखदायक होती है कि यह स्वाभाविक रूप से तनाव को रिलीज करने और मन को शांत करने में मदद करता है। केसर के तेल में ब्लड शुगर को कंट्रोल करने की क्षमता होती है। यदि डायबिटीज रोगी अपनी डाइट में केसर के तेल को शामिल करते हैं, तो इससे उनका ब्‍लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है। वजन घटाने में केसर का तेल काफी मददगार साबित होता है। केसर का तेल आपकी भूख और क्रेविंग को कंट्रोल कर सकता है। दैनिक कैलोरी को कम करने में मदद करेगा और वजन घटाने में सहायक होगा। यह तेल मुंहासों को दूर करने में मदद करता है। इतना ही नहीं यह तेल एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-बैक्टीरियल और एक्सफ़ोलिएंट गुणों से भरपूर है, तो त्‍वचा को ग्‍लोइंग बनाने में मदद करता है। इसके अलावा, केसर का तेल आपके बालों के लिए भी अच्‍छा होता है। यह आपके बालों के झड़ने को रोकता है और बालों को लंबा बनाने में मदद करता है।

09-09-2020
आयुर्वेदिक उपायों को अपनाएं और काढ़ा बनाकर करें सेवन...

रायपुर। कोविड-19 से बचाव के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने आयुर्वेदिक उपायों के तहत तुलसी, काली, मिर्च, सोंठ, दाल चीनी मिश्रित गर्म पानी से बने काढ़ा का सेवन स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक है। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा भी दिन में गर्म पानी पीने, प्रतिदिन कम से कम 30 मिनट योगासन, प्राणायाम एवं ध्यान करने प्रेरित किया जा रहा है। खान-पान में हल्दी, जीरा, धनिया एवं लहसुन मसालों का उपयोग करने, 40 ग्राम तुलसी, 20 ग्राम काली मिर्च, 20 ग्राम दालचीनी का पाउडर बनाकर हवा बंद डिब्बे में बंद रखकर और 3 ग्राम पाउडर को 150 एमएल पानी के साथ दिन में दो बार सेवन करने, 5 ग्राम त्रिकटु पाउडर, 3 से 5 पत्ती तुलसी को 1 लीटर पानी में उबालकर पीने से कोविड-19 संक्रमण से बचाव की संभावना बढ़ जाती है।

09-09-2020
मसालों की शुद्धता की जांच करना बहुत आसान : स्वाद के लिए नहीं बल्कि सेहत के लिए भी जरूरी...

रायपुर। घर के किचन में उपयोग किए जाने वाले मसालों की शुद्धता बेहद जरूरी है। खाने के स्वाद के लिए इस्तेमाल किए जाने के लिए ही नहीं बल्कि सेहद के लिए भी किया जाता है। मसालों में विटामिन, खनिज, एंटीऑक्सिडेंट, आवश्यक तेल, फाइटोन्यूट्रिएंट आदि पाए जाते हैं। जो अच्छे स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं। भारत में ज्यादातर सभी मसाले उगाए जाते हैं। लेकिन कौन से मसाले असली और और कौन से नकली इसकी पहचान बहुत जरूरी है। मसाले के कारोबार में नकली मसाले एक बहुत बड़ा खतरा हैं।

दालचीनी : दालचीनी में कई बार उसी की तरह दिखने वाली कैसिया बार्क नामक उत्पाद की मिलावट की जाती है। इसके लिए एक प्लेट में दालचीनी को डालें। कैसिया बार्क को नजदीक से देखने पर उसकी बाहर की परत खुरदुरी नजर आती है। जबकि दालचीनी की परत चिकनी होती है। दालचीनी काफी पतली होती है और इसकी महक भी अलग होती है।

धनिया पाउडर : पाउडर वाले धनिया में भी खरपतवार को बारीक से पीस कर उसमें मिश्रण कर दिया जाता है, जिसे देखने पर उसमें मिलावट की पहचान करना संभव नहीं हो पाता है। धनिया पाउडर से खुशबू नहीं निकलना उसमें मिलावट का एक सबूत है।

लौंग : लौंग का जब नैचरल ऑइल निकाल लिया जाता है वह पानी के ऊपर तैरने लगती है तो वह असली लौंग नहीं है। 

हल्दी पाउडर : हल्दी पाउडर देखने में गहरा रंग का होता है, उसमें कलर की मिलावट हो सकती है क्योंकि, शुद्ध हल्दी हल्के पीले रंग की होती है। कलर केमिकल से बनाया जाता है, जिसे हल्दी पाउडर के साथ खाने से शरीर में कई बीमारियों का जन्म हो सकता है। हल्दी को पानी में डालने पर अगर उसका कलर जल्दी गायब हो जाए तो समझिए कि वह मिलावटी है। इन दिनों मिलावटी चीजों का कारोबार तेजी से चल रहा है। ऐसे मे अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता दिखाते हुए खाने में उपयोग किए जाने वाले मसालों शुद्धता की जांच अवश्य करें क्योंकि मसाले स्वाद से ज्यादा सेहत के लिए जरूरी है।

09-09-2020
फटे हुए दूध से बनाएं चेहरे को चमकदार और खूबसूरत, जाने क्या है विधि...

रायपुर। ग्लोइंग स्किन पाने के लिए आपको किसी ब्यूटी प्रोडक्ट की जरूरत नहीं है आप घर की चीजों से भी खूबसूरत स्किन पा सकती हैं। फटे हुए दूध के पानी से आप अपने चेहरे को चमकदार और खूबसूरत भी बना सकती हैं। फटे हुए दूध के पानी का इस्‍तेमाल फेस सीरम के रूप में भी किया जा सकता है।

आइए जानते हैं कैसे बनााएं सीरम : कच्‍चा दूध- 1 कप, नींबू- आधा, हल्‍दी- 1 चुटकी, ग्‍लिसरीन – 1 चम्‍मच, नमक – 1 चुटकी इन्हें मिला ले।

सीरम बनाने के लिए सबसे पहले दूध में नींबू निचोड़ लें। अब इसे कुछ देर के लिए छोड़ दें। इससे दूध फट जाएगा। अब एक कटोरी में फटे दूध को छान लें। पानी में एक चुटकी नमक, 1 चम्‍मच ग्‍लिसरीन, 1 चुटकी हल्‍दी डालें। अच्छी तरह मिक्स करें और मिश्रण को एक बोतल में डालकर फ्रिज में रख दें। अब आपका सीरम तैयार हो चुका है।

चेहरे के लिए कैसे उपयोगी है फटा हुआ दूध : फटे हुए दूध में लैक्टिक एसिड की मात्रा ज्यादा पाई जाती है जो त्वचा के लिए फायदेमंद होती है। यह स्‍किन को फेयर और मुलायम बनाने का काम करता है। बाथ टब में कुछ बूंद एसेंशियल ऑयल के साथ मिलाकर नहा भी सकती हैं। ऐसा करने से आपके चेहरे की चमक बढ़ जाएगी।

Please Wait... News Loading