GLIBS

06-06-2020
यामी ने कहा,एक अभिनेत्री के रूप में तलाशने के लिए बहुत कुछ है

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री यामी गौतम ने कहा कि वह विभिन्न भूमिकाएं अदा कर आश्चर्य को बरकरार रखना पसंद करेंगी। फिल्म इंडस्ट्री में आठ साल पूरे कर चुकी यामी अधिक कहानियों और शैलियों में काम करने के लिए उत्सुक हैं। यामी ने कहा, "यदि इंडस्ट्री की अपनी यात्रा को संक्षेप में कहना हो, तो मैं कहूंगी कि मैं सभी के प्रति धन्यवाद व्यक्त करती हूं। इसमें मेरी प्रतिभा पर विश्वास करने वाले फिल्म निर्माताओं और कुछ खास लोगों सहित जीवन का वह चरण भी शामिल है, जब मैंने जिस तरह प्लानिंग की और सफल नहीं हुई। ऐसा इसलिए है क्योंकि जीवन के इस फेज ने मुझे और अधिक मजबूत बना दिया है।" यामी ने कहा कि उन्होंने अपने उतार-चढ़ाव से बहुत कुछ सीखा है। यामी ने जीवन का आभार जताते हुए कहा, "इसने मुझे धैर्य रखने में मदद की। इसने मुझे अपनी प्रतिभा पर विश्वास रखने में मदद की, इसलिए मेरे पास जो कुछ भी है उसके लिए मैं बहुत आभारी हूं।" यामी ने कहा, "यात्रा अभी भी जारी है और एक अभिनेत्री के रूप में तलाशने के लिए बहुत कुछ है। अभी तक कई कहानियों और शैलियों का पता लगाना बाकी है। बहुत सारे फिल्म निर्माता और लेखक हैं, जिनके साथ मैं काम करना चाहती हूं।" 'बाला' जैसी फिल्म का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि उन्हें ऐसी कई भूमिकाएं निभानी हैं, जो उनके प्रशंसकों को आश्चर्यचकित कर दें। यामी ने साल 2012 में आई फिल्म 'विक्की डोनर' से बॉलीवुड में अपनी शुरुआत की थी। बाद में उन्होंने 'बदलापुर', 'सनम रे','काबिल', 'सरकार 3', 'उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक' और 'बाला' जैसी फिल्मों में अभिनय किया।

 

 

06-06-2020
वेब शो आर्या को लेकर सुष्मिता सेन ने कही यह खास बात....

मुंबई। अभिनेत्री सुष्मिता सेन ने अपनी आगामी वेब सीरीज 'आर्या' के साथ "अविश्वसनीय" वापसी का वादा किया है। वो कहती हैं कि यह एक ऐसी मां की कहानी है, जो अपने बच्चों की सुरक्षा के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार है। शो का ट्रेलर शुक्रवार को जारी किया गया, जिसमें परिवार, प्रेम, अपराध और पाप से मुक्त होने की एक कहानी की झलक दिखाई गई। सुष्मिता ने आर्या की भूमिका निभाई है। सुष्मिता ने कहा, "आर्या ताकत, दृढ़ संकल्प और अपराध से भरी दुनिया में सभी कमजोरियों का प्रतिनिधित्व करती है, जो पुरुषों द्वारा संचालित एक दुनिया है।

व्यक्तिगत रूप से मेरे लिए यह परिवार, विश्वासघात और एक मां की कहानी है, जो अपने बच्चों की रक्षा के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार है।" उन्होंने कहा, "मुझे इस तरह का रोल पाने में एक दशक का समय लग गया और मैं इस अविश्वसनीय कहानी का हिस्सा बनकर रोमांचित हूं। मैं राम माधवानी और उनकी टीम की शुक्रगुजार हूं कि उन्होंने मुझे ऐसा लाइफटाइम रोल दिया।" 'आर्या' लोकप्रिय डच क्राइम ड्रामा 'पेनोजा' का आधिकारिक रीमेक है। शो को संदीप श्रीवास्तव और अनु सिंह चौधरी ने लिखा है। इसमें नमित दास, सिकंदर खेर, जयंत कृपलानी, सोहिला कपूर, सुगंध गर्ग, माया सरीन, विश्वजीत प्रधान और मनीष चौधरी भी हैं।

06-06-2020
जानें ट्विटर पर क्यों ट्रेंड कर रहा विराट-अनुष्का का डिवोर्स

मुंबई। सोशल मीडिया पर कभी कुछ भी ट्रेंड हो सकता है। शनिवार को सभी तब चौंक गए जब ट्विटर पर #VirushkaDivorce ट्रेंड करने लगा। ये मामला साल 2016 में आई एक न्यूज के दोबारा वायरल होने से शुरू हुआ था, जिसमें बताया गया था कि विराट और अनुष्का अलग हो रहे हैं। कभी-कभी ट्विटर भी अपना अजीब खेल दिखा देता है। आपने कई बार लोगों को कहते सुना होगा कि ट्विटर पर ट्वीट नहीं हो रहा, किसी को फॉलो करना चाहते हैं वह फॉलो नहीं हो रहा, वगैरा-वगैरा लेकिन जरा सोचिए किसी बॉलीवुड स्टार की डिवोर्स की खबर अगर रातों-रात ट्रेंड होने लगे और वह भी तब जब वो अपनी जिंदगी खुशहाल तरीके से जी रहे हो।

ऐसे में सोशल मीडिया के इस प्लेटफार्म से भरोसा उठना लाजमी हो जाता है। हैरानी की बात तो यह है कि ऐसा सच में हुआ है। दरअसल शुक्रवार की रात देखते ही देखते विराट-अनुष्का के तलाक की खबरें ट्रेंड करने लगी। #Virushkadivorce ट्विटर पर लगातार ट्रेंड कर रहा है। दरअसल शुक्रवार की रात देखते ही देखते विराट अनुष्का के तलाक की खबरें ट्रेंड करने लगी। #Virushkadivorce ट्विटर पर लगातार ट्रेंड कर रहा है। ये ट्रेंड करते ही हर कोई हैरान हो गया। विराट अनुष्का के परेशान हो गए तो वहीं कुछ यूजर्स ने इसको लेकर मीम्स बनाना शुरू कर दिया। लिहाजा ये ट्रेंड और बढ़ता चला गया था।

हालांकि अब तक सबकी समझ से परे है कि आखिर ट्विटर पर बिना बात के विराट अनुष्का के डिवोर्स की खबरें ट्रेंड कैसे कर सकती हैं। इस ट्रेंड को हाल ही में पाताल लोक को लेकर हुई कॉन्ट्रोवर्सी से जोड़कर भी देखा जा रहा है। दरअसल अनुष्का शर्मा के प्रोडक्शन हाउस के बैनर में बनी वेब सीरीज पाताल लोक के एक सीन को लेकर काफी विवाद हुआ। बहरहाल अभी विराट अनुष्का दोनों में से किसी ने भी इस खबर को लेकर कोई बयान नहीं दिया है। बता दें दोनों की शादी 2017 में हुई थी और तभी से दोनों अपनी खुशहाल जिंदगी बिता रहे हैं। लॉक डाउन के दौरान दोनों पति-पत्नी क्वालिटी टाइम स्पेंड कर रहे हैं। अक्सर दोनों की वीडियोस सोशल मीडिया पर वायरल भी होती है।

06-06-2020
कोरोना वायरस ने ली एक और फिल्म निर्माता की जान, कई अस्पतालों ने भर्ती करने से किया था इनकार

नई दिल्ली। प्रसिद्ध बॉलीवुड फिल्म निर्माता अनिल सूरी का निधन हो गया है। 77 साल के थे और कोरोना वायरस से संक्रमित थे। अनिल सूरी ने अपने फिल्मी करियर में कई सुपरहिट और यादगार फिम्लें दी हैं। बता दें कि गुरुवार को इस जानलेवा वायरस से लड़ते-लड़ते वो जिंदगी की जंग हार गए और हमेशा के लिए इस दुनिया को अलविदा कह गए। अनिल के निधन की पुष्टि उनके भाई राजीव सूरी ने की। अनिल सूरी को बुधवार रात अस्पताल में भर्ती किया गया था। अनिल कोरोना से संक्रमित हो गए थे। गुरुवार को उनकी हालत ज्याद बिगड़ने के बाद उन्हें वेंटिलेटर पर शिफ्ट कर दिया गया। जिसके बाद उन्होंने गुरुवार को शाम 7 बजे दम तोड़ दिया।

अनिल के भाई राजीव ने बताया कि तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर उन्हें पहले लीलावती, फिर हिंदुजा अस्पताल ले जाया गया। उनका कहना है कि दोनों चिकित्सा संस्थानों में उन्हें बेड देने से मना किया गया था। राजीव सूरी साल 1979 में आई बासु चटर्ची की फिल्म 'मंजिल' के निर्माता थे। इस फिल्म में अमिताभ बच्चन और मौसमी चटर्जी मुख्य भूमिका में थे। गुरुवार की सुबह ही निर्देशक बासु चटर्ची का निधन हो गया था। और शाम को सात बजे राजीव के भाई अनिल सूरी ने अंतिम सांस ली। इस बात से दुखी राजीव सूरी ने कहा एक ही दिन में भाई और पसंदीदा निर्देशक के निधन से दिल दहल गया है।

05-06-2020
किरण मजूमदार शॉ को मिला ‘ईवाई वर्ल्ड आंत्रप्रन्योर’पुरस्कार, सम्मान पाने वाली बनीं तीसरी भारतीय

नई दिल्ली। बायोकॉन की कार्यकारी अध्यक्ष किरण मजूमदार शॉ को एक  ‘ईवाई वर्ल्ड एंट्रेप्रन्योर ऑफ द ईयर 2020’ का पुरस्कार मिला है। ये पुरुस्कार उन्हें एक वर्चुअल इंवेंट में दिया गया। कंपनी ने बताया कि 41 देशों के 46 उद्यमियों के बीच उन्हें इस पुरस्कार के लिए चुना गया। मजूमदार शॉ ने पुरस्कार मिलने पर कहा, ‘‘मैं प्रतिष्ठित ईवाई वर्ल्ड एंट्रेप्रन्योर ऑफ द ईयर अवार्ड 2020 मिलने पर सम्मानित महसूस कर रही हूं। उद्यमशीलता समस्याओं को हल करने से संबंधित है। मेरी उद्यमशीलता की यात्रा के दौरान अनुभव रहा है कि सबसे बड़ा अवसर अक्सर सबसे कठिन समय में आता है।

उन्होंने कहा कि महिलाएं भी आर्थिक विकास में बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं, और बहुत लंबे समय तक उनके योगदान को नजरअंदाज किया गया है। उन्होंने कहा कि ईवाई वर्ल्ड एंट्रेप्रन्योर मंच का इस्तेमाल महिलाओं को उद्यमिता के क्षेत्र में प्रोत्साहित करने के लिए किया जाना चाहिए। बयान में कहा गया कि मजूमदार शॉ यह पुरस्कार जीतने वाली तीसरी भारतीय हैं और उनसे पहले कोटक महिंद्रा बैंक के उदय कोटक और इंफोसिस टेक्नालॉजीस के नारायणमूर्ति को यह पुरस्कार मिल चुका है।

 

 

04-06-2020
लॉक डाउन में पैसों की तंगी के कारण डिप्रेशन में चली गई थी यह अभिनेत्री,रखी अपनी बात..

मुंबई। बॉलीवुड से लेकर टीवी इंडस्ट्री तक में काम करने वाले कलाकार लॉक डाउन में काम नहीं मिल पाने के कारण परेशान हैं। बॉलीवुड एक्ट्रेस टिया बाजपेयी भी इन दिनों मुश्किलों से गुजर रही हैं। एक इंटरव्यू के दौरान उन्होंने अपनी आर्थिक स्थिति के बारे में बताया। लॉक डाउन में सुसाइड करने वाले कलाकारों के बारे में बात करते हुए उन्होंने अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि लॉक डाउन से उन्हें कापी नुकसान हुआ है। लॉक डाउन के पहले सप्ताह के भीतर ही वह डिप्रेशन में चली गईं थी।  टिया ने कहा,'पैसों की तंगी के कारण जो लोग इस समय सुसाइड कर रहे हैं या जो डिप्रेशन के दौर से गुजर रहे हैं, मैं उनका दर्द समझ सकती हूं। लॉक डाउन में मेरे पास भी बिल्कुल सेविंग नहीं बची थी, सारे पैसे खर्च हो चुके थे। ऐसे में कुछ दोस्तों ने मुझे संभाला और अब मैं ऑनलाइन काम करती हूं। काम करने से मुझे राहत मिली और अब मैं खुश हूं और अपने गाने पर काम कर रही हूं। 

 

04-06-2020
दिग्गज फिल्मकार बासु चटर्जी का निधन, 'रजनीगंधा' और 'चितचोर' जैसी फिल्मों का किया था निर्देशन

मुबंई। साल 2020 बॉलीवुड के लिए किसी दु:स्वप्न जैसा साबित हो रहा है। इरफान खान, वाजिद खान और ऋषि कपूर के निधन के बाद अब एक और बुरी खबर आई है। रोमांटिक और गुदगुदाती हुई फिल्में बनाने वाले मशहूर निर्देशक बासु चटर्जी का निधन हो गया। इस बात की जानकारी फिल्मकार अशोक पंडित ने दी है। अशोक पंडित ने ट्वीट किया कि 'मैं यह बताते हुए बेहद दुखी हूं कि महान फिल्मकार बासु चटर्जी जी का निधन हो गया है। उनका अंतिम संस्कार आज दोपहर 2 बजे सांताक्रूज में किया जाएगा। यह फिल्म जगत के लिए एक बड़ी क्षति है। आपकी याद आएगी सर।' वह 90 साल के थे। उन्होंने कई बड़ी फिल्मों का निर्देशन किया है।

जिनमें 'रजनीगंधा', 'बातों बातों में', 'एक रुका हुआ फैसला', 'चितचोर' शामिल हैं। बासु चटर्जी की निधन किस कारण हुआ अभी इस बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है। बासु चटर्जी का जन्म 30 जनवरी 1930 को अजमेर में हुआ था। बासु को उनकी अलग पहचान बनाने वाली फिल्मों के लिए जाना जाता था। उनकी फिल्में मध्य वर्ग परिवारों पर आधारित होती थीं। ये फिल्में अक्सर दर्शकों को खूब गुदगुदाया करती थीं। बासु चटर्जी का निधन मनोरंजन जगत के लिए अपूर्णनीय क्षति है।

04-06-2020
एफटीआईआई फिल्मों की यूपीएससी, सिनेमा अब गांव की ओर : गणेश कुमार

रायपुर/जगदलपुर। हिंदी सिनेमा के उभरते हुए अभिनेता गणेश कुमार ने बस्तर टॉक वेबिनार के माध्यम से बातचीत कर कहा कि सिनेमा का एक नया दौर शुरू हो गया है। अब कहानियां गांव से निकलकर सिनेमा के पर्दे तक से फिर पहुंच रही हैं। विशाल माध्यम मोबाइल का स्क्रीन भी हो गया है। जीवन के द्वंद को व्यक्ति जब अपने सिनेमाई पर्दे पर खोजता है तो वहीं से कहानियों को आकार मिलने लगता है। गणेश कुमार ने कहा कि फिल्मों का हमेशा आधार हमेशा गांव रहा है। फिल्म दो बीघा जमीन हो या गांव पर केन्द्रीत अन्य कहानियां जो अपनों के बीच से निकलकर आई है। गणेश कुमार ने कहा कि बस्तर की जिंदगियों में बेहतर कहानियां है जिसे दर्शकों ने बेहद सराहा है। वह हॉलीवुड की फिल्म टाइगर ब्याय चंदूरू की कहानी हो या नक्सलवाद पर केंद्रित फिल्म न्यूटन हो। साथ ही अभी हाल में प्रदर्शित मलयालम फिल्म ऊन्डा हो, जिसे दर्शकों ने काफी पसंद किया।

यहां फिल्मों के लिए बेहतर अवसर है और यही वजह है कि आज सिनेमा गांव की ओर है। गांवों में बेहतर कहानियां है। उन्होंने कहा कि बस्तर के लोक जीवन पर काम करने का अवसर मिलेगा तो जरूर करेंगे। भारतीय फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान पुणे से अभिनय की शिक्षा ले चुके गणेश कुमार का कहना है कि फिल्म निर्माण के क्षेत्र में सपना देखने वाले लोगों को बेहतर प्रशिक्षण के लिए एफटीआईआई की प्रवेश परीक्षा जरूर देनी चाहिए। यह सिनेमा का यूपीएससी है। जॉनी एलएलबी टू, सुपर 30 सहित कई ऐड फिल्मों व वेब सीरीज में काम कर चुके गणेश कुमार इन दिनों पाताल लोक वेब सिरीज में अभिनय की वजह से चर्चा में है। वेबीनार में डॉ. परवीन अख्तर, डॉ. आशुतोष मंडावी सहित तमाम लोगों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम का संचालन वर्षा मेहर ने किया व तकनीकी सहयोग अतुल प्रधान का रहा।

02-06-2020
महिला ने कहा- पति से परेशान हूं मुझे मायके भिजवा दो, सोनू सूद ने दिया ये जवाब

नई दिल्ली। भारत में लॉक डाउन के कारण लाखों प्रवासी मजदूरों को पलायन करना पड़ रहा है। साधनों के अभाव में वे पैदल ही सफर कर रहे हैं। इस दौरान तमाम ऐसी तस्वीरें आईं जिन्होंने पूरी दुनिया को झकझोर कर रख दिया। संकट की इस घड़ी में सोनू सूद ने अकेले दम पर पलायन की तस्वीरों को बदल रख दिया। उन्होंने एक मैसेज पर जिस तरह हजारों लोगों की मदद की उसके लिए उनकी जमकर तारीफ हो रही है। सोनू सूद ने हजारों लोगों को घर पहुंचाने के लिए बसों का इंतजाम किया। उनके रहने और खाने-पीने की व्यवस्था की। अब तक वह तमाम लोगों की मदद कर चुके हैं और यह सिलसिला अब तक बरकरार है। लोग सोशल मीडिया पर मदद मांग रहे हैं और सोनू सूद फरिश्ते की तरह उनके लिए हाजिर हो जा रहे हैं। इस बीच उन्हें कई मजेदार मैसेज भी मिले जिनका उन्होंने बड़े ही धांसू जवाब दिए। ऐसा ही एक ट्विट जमकर वायरल हो रहा है जिसमें एक महिला को सोनू सूद ने बड़ा ही मजेदार जवाब दिया है।

सोनू सूद का सेंस ऑफ ह्यूमर
“दरअसल एक महिला ने सोनू सूद को ट्वीट कर लिखा कि वह जनता कर्फ्यू से लेकर अब तक अपने पति के साथ रह रही है और उसके साथ रहकर तंग आ चुकी है। इसलिए वो चाहती है कि सोनू सूद उसको मायके छोड़ने की जिम्मेदारी लें या वे उनके पति को कहीं छोड़ दें। सोनू सूद ने इस ट्वीट पर गजब का जवाब दिया। सोनू ने लिखा, मेरे पास आप लोगों के लिए इससे भी अच्छा प्लान है। मैं आप दोनों को गोवा छोड़ देता हूं। क्या कहते हो? इससे पहले भी सोनू सूद से कई यूजर्स ने उनके घर पहुंचाने के लिए या उनका आभार जताने के लिए ट्वीट किए जिन पर एक्टर ने सादगी से रिप्लाई भी किया। लोगों को घर पहुंचाने के अलावा सोनू सूद ने जुहू में स्थित अपने होटल को भी डॉक्टर्स और कोरोना वॉरियर्स के लिए खोल दिया था।

01-06-2020
मशहूर संगीतकार साजिद-वाजिद की जोड़ी टूटी, वाजिद खान का 42 साल की उम्र में निधन

मुंबई। हिंदी सिनेमा की मशहूर जोड़ी, संगीतकार साजिद-वाजिद टूट गई है। बॉलीवुड के मशहूर संगीतकार वाजिद खान का 42 साल की उम्र में निधन हो गया है। उन्हें लंबे समय से किडनी की समस्या थी। सोनू निगम और एक्टर रणवीर शौरी समेत कई फिल्मी हस्तियों ने इसकी पुष्टि की है। सलमान खान के करीबी रहे वाजिद को 31 मई की रात अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बताया जा रहा है कि वाजिद खान का निधन कोरोना वायरस से हुआ है। वाजिद के निधन के साथ ही दो संगीतकार भाइयों की बेताज जोड़ी हमेशा के लिए टूट गई है। साजिद-वाजिद ने सबसे पहले 1998 में आई सलमान खान की फिल्म ‘प्यार किया तो डरना क्या’ से अपने करियर की शुरुआत की थी। वाजिद ने अपने भाई साजिद के साथ मिलकर कई फिल्मों में संगीत दिया है।

साजिद-वाजिद ने कई फिल्मों का सुपरहिट म्यूजिक दिया। वहीं वाजिद ने बतौर सिंगर सलमान खान के लिए 'हमका पीनी है', 'मेरा ही जलवा' समेत कई हिट गाने भी गाए हैं।बता दें कि वाजिद के निधन की वजह उनकी किडनी में समस्या बताई जा रही है। मिली जानकारी के अनुसार वाजिद खान कोरोना से संक्रमित थे। उनके परिवार की ओर से बताया गया है, 'वाजिद खान किडनी की बीमारी से पीड़ित थे और उनका दो साल पहले ट्रांस्पलांट हुआ था। उनके गले में इंफेक्शन था, वे चेंबूर के सुराना अस्पताल में भर्ती थे। अभी उनकी कोविड-19 की टेस्ट रिपोर्ट नहीं आई है।

26-05-2020
असुर' और 'पाताल लोक’ से आगे बढ़ें, शहर में आ गया है एक नया साइको ‘किलर’

रायपुर। नैनं छिन्दन्ति शस्त्राणि नैनं दहति पावकः। न चैनं क्लेदयन्त्यापो न शोषयति मारुतः॥ इसका मतलब है कि आत्मा को न तो किसी हथियार से काटा जा सकता है, न ही आग से जलाया जा सकता है, न ही पानी से भिगोया जा सकता है और न ही आत्मा को हवा सुखा सकती है। भगवद गीता का यह श्लोक कहानीकार सुधांशु राय की नवीनतम हिंदी थ्रिलर कहानी 'द किलर' के मुख्य पात्र की मनोस्थिति को दर्शाता है। यह कहानी एक ऐसे व्यक्ति के बारे में है जो एक के बाद एक निर्मम हत्याएं कर रहा है और अपने कर्मों को सही ठहराने करने के लिए इस श्लोक को उनका आधार बनाता है|इस कहानी की शुरुआत डिटेक्टिव बूमराह के साथ होती है, जो बनारस में बारिश के मौसम में इस 'किलर' की गुत्थी सुलझाने के जद्दोज़हद में विलीन है|। वह एक ऐसे सीरियल किलर के बारे में सुराग पाने की कोशिश कर रहा है,जो अपने अपराध का कोई निशान नहीं छोड़ता।

पीड़ितों के शरीर पर हमला करने या किसी भी घटनास्थल पर हत्यारे के आने अथवा जाने के कोई संकेत नहीं हैं। सभी पीड़ितों में केवल एक ही बात मिलती है की सबकी आखें मौत के बाद भी ऐसे खुली रहती हैं मानो अपनी आख़िरी सांस लेने के पहले किसी दृश्य ने उन्हें स्तब्ध कर दिया हो| इसके अलावा, प्रत्येक हत्या से पहले हत्यारा पौराणिक मंत्रों पर आधारित एक पहेली छोड़ता है,इसमें पीड़ित के बारे में सुराग होता है। हालांकि बूमराह के साथ-साथ पुलिस भी उन पहेलियों में छिपे संदेश को नहीं समझ पाती।बूमराह के लिए राहत की पहली खबर तब आती है जब उसका सहायक सैम पास के गाँव के एक संदिग्ध व्यक्ति की सूचना लेकर आता है,जिसका स्केच पुलिस बनवा चुकी है। इस सूचना के आधार पर डिटेक्टिव बूमराह बनारस से लगभग 40 किलोमीटर दूर स्थित छोटे से गाँव में पहुंचते हैं जहाँ उन्हें गांव वालों के गुस्से और नाराज़गी का सामना करना पड़ता है।

लेकिन लोगों को समझा पाने की बूमराह की खूबी के कारण वे झील के बीच बनी उस झोपड़ी तक पहुंचने में कामयाब हो जाते हैं जहां संभवतः वह 'सीरियल किलर' रहता है।झोपड़ी में बूमराह को उसकी जिंदगी का सबसे बड़ा आश्चर्य मिलता है। संदिग्ध हत्यारे के साथ बातचीत के दौरान डिटेक्टिव को एक पहेली मिलती है और उसके पैरों तले जमीन खिसक जाती है। उस पहेली में वास्तव में क्या लिखा था? वे कौन से प्रश्न थे जिनके आधार पर वह रहस्यमयी हत्यारा पीड़ितों के स्वर्ग या नर्क में जाने की घोषणा करता था? क्या बूमराह उस सीरियल किलर को दबोचने में सफल होगा? इन सभी सवालों के जवाब कहानीकार सुधांशु राय की ‘द किलर’ में छिपे हैं, एक ऐसी कहानी जो आपको स्वयं की वास्तविकता का पता लगाने के लिए मजबूर करेगी।

26-05-2020
डिप्रेशन के चलते टीवी अभिनेत्री प्रेक्षा मेहता ने लगाई फांसी

इंदौर। टीवी अभिनेत्री प्रेक्षा मेहता ने सोमवार रात फांसी लगाकर जान दे दी। प्रेक्षा लॉक डाउन में काम ना मिलने की वजह से परेशान थीं। अभिनेत्री प्रेक्षा मेहता क्राइम पेट्रोल और कई अन्य टीवी शोज में काम कर चुकीं है। लॉक डाउन के दौरान वो इंदौर में रह रहीं थीं। टीवी अभिनेत्री प्रेक्षा मेहता के परिवार का कहना है कि लॉक डाउन में काम ना मिलने की वजह से वो परेशान थीं। इसी से डिप्रेश होकर प्रेक्षा ने आत्महत्या जैसा बड़ा कदम उठाकर अपनी जिंदगी खत्म कर ली।
अभिनेत्री प्रेक्षा मेहता पिछले कुछ टाइम से मुंबई में टीवी सीरियल्स में काम कर रही थीं। वो क्राइम पेट्रोल के कई एपिसोड में नजर आई थीं। हालांकि लॉक डाउन होने के कारण प्रेक्षा अपने घर इंदौर आ गई थीं।एक्ट्रेस प्रेक्षा मेहता वाकई काफी परेशान थीं इस बात का अंदाजा उनके निधन से पहले डाले गए आखिरी स्टेटस से लगाया जा सकता है।

प्रेक्षा ने वाट्सऐप पर अपना आखिरी स्टेटस लिखा था- सबसे बुरा होता है सपनों का मर जाना...। जैसा कि लॉक डाउन में सीरियस की शूटिंग बंद है इस वजह से वो अपने काम को लेकर काफी परेशान थीं। फिलहाल पुलिस ने मौके पर पहुंचकर केस दर्ज कर लिया है और मामले की जांच जारी है। प्रेक्षा के पिता के मुताबिक वे तनाव में थीं और परेशान चल रही थीं। सोमवार रात उन्होंने फांसी लगाकर अपनी जान ले ली। सुबह पिता जब प्रेक्षा को उठाने के लिए गए तो उन्होंने उसे फंदे पर लटका पाया। वे तुरंत अस्पताल ले गए, लेकिन तब तक प्रेक्षा की मृत्यु हो चुकी थी। फिलहाल सुसाइड नोट नहीं मिला है और पुलिस मामले की जांच कर रही है।प्रेक्षा उभरती हुई कलाकार थीं। उन्होंने कई नाटकों में अभिनय किया और पुरस्कार भी हासिल किए। उनका वीडियो अलबम भी जारी हुआ। अक्षय कुमार की फिल्म 'पैडमैन' में भी उन्हें अभिनय करने का अवसर मिला। कुछ शॉर्ट्स फिल्में भी की। प्रेक्षा 'मेरी दुर्गा' और 'नाल इश्क' जैसे टीवी धारावाहिकों में भी नजर आईं थीं। 

 

Please Wait... News Loading