GLIBS

25-05-2019
25-05-2019
ऑटो उद्योग ने मजबूत एवं स्थिर सरकार की वापसी का किया स्वागत

नई दिल्ली। ऑटो उद्योग ने केंद्र में मजबूत एवं स्थिर सरकार की वापसी का स्वागत किया। घरेलू वाहन निमार्ता कंपनियों के संगठन सियाम ने यह उम्मीद जतायी है कि मोदी सरकार देश के आर्थिक विकास को गति देने और मांग बढ़ाने की दिशा में समुचित कदम उठायेगी। ऑटो उद्योग को साथ ही यह भी उम्मीद है कि सरकार इस उद्योग को प्राथमिकता प्राप्त उद्योग का दर्जा देगी।

सियाम के अध्यक्ष राजन वढ़ेरा ने कहा, मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लोकसभा चुनाव में भारी जीत के लिए बधाई देता हूूूं। नयी सरकार के आने से मुझे उम्मीद है कि देश आर्थिक विकास के रास्ते पर होगा, जिससे ऑटोमोबाइल समेत सभी उपभोक्ता उत्पादों की मांग बढ़ेगी। सियाम के महानिदेशक विष्णु माथुर ने कहा, फिलहाल उद्योग सभी श्रेणियों में मांग की कमी के कारण मुश्किल दौर से गुजर रहा है। हमें उम्मीद है कि नयी सरकार मांग को बढाने की दिशा में कुछ पहल करेगी।

24-05-2019
मोदी का शेयर बाजार ने किया स्वागत, हरे निशान के साथ खुला सेंसेक्स

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मोदी को जनता ने एक बार फिर देश की राजगद्दी सौंप दी। सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन देश के प्रमुख शेयर बाजार हरे निशान के साथ खुले। 30 अंकों वाला सेंसेक्स 265 अंक की तेजी के साथ 39,076.28 के स्तर पर खुला। वहीं 50 अंकों वाला निफ्टी 91 अंक की तेजी के साथ 11,748 के स्तर पर खुला। इससे पहले चुनाव नतीजे के दिन गुरुवार को सेंसेक्स 298.82 अंक की गिरावट के साथ 38811.39 पर और निफ्टी 80.85 अंक गिरकर 11657.05 पर बंद हुआ।

रिकॉर्ड हाई पर गया शेयर बाजार

कारोबारी सत्र के दौरान शुक्रवार सुबह करीब 9.52 बजे सेंसेक्स 182.78 अंक की तेजी के साथ 38994.17 के स्तर पर कारोबार करते देखा गया। लगभग इसी समय निफ्टी 49.45 अंक चढ़कर 11706.50 के स्तर पर दिखाई दिया। गुरुवार को शेयर बाजार अपने रिकॉर्ड हाई 40,124.96 के स्तर पर गया और निफ्टी 12000 के मनोवैज्ञानिक स्तर को पार कर गया था। लेकिन कारोबार के अंत में यह गिरावट के साथ बंद हुआ।

इन सेक्टर्स में निवेश रहेगा फायदेमंद

जानकारों का कहना है कि आने वाले समय में कंज्यूमर सेक्टर में निवेश करने वालों को फायदा होगा। इसके अलावा कंजम्पशन सेक्टर, फाइनेंशियल सेक्टर और इंडस्ट्रियल सेक्टर में भी पैसा लगाना भविष्य के हिसाब से अच्छा रहेगा। खास शेयर की बात करें तो एशियन पेंट्स, इंटरग्लोब एविएशन और अडानी पोर्ट में निवेश फायदेमंद रहेगा। बैंकिंग सेक्टर से बहुत ज्यादा उम्मीद नहीं की जा सकती। हेल्थ केयर और आईटी भी निवेश के नजरिये से बहुत मुफीद साबित नहीं होंगे।

24-05-2019
अपनी मुद्रा को कम आंकने वाले देशों पर अमेरिका लगा सकता है शुल्क

वाशिंगटन। अमेरिका डॉलर की तुलना में अपनी मुद्रा को कम आंकने वाले देशों से आयात किए जाने वाले सामानों पर आयात शुल्क लगाने की योजना बना रहा है। अमेरिकी वाणिज्य मंत्रालय ने गुरुवार को एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर यह जानकारी दी।
विज्ञप्ति के मुताबिक अमेरिकी वाणिज्य मंत्रालय ने एक नोटिस जारी कर बताया कि उसने उन देशों के सामानों पर प्रस्तावित आयात शुल्क लगाने की योजना बनाई है जो डॉलर की तुलना में अपनी मुद्रा को कम आंकते हैं।

22-05-2019
सेंसेक्स 140 अंक और निफ्टी 29 अंक उछला

मुम्बई । अधिकतर विदेशी बाजारों से मिले मजबूत संकेतों के बीच लोकसभा चुनाव परिणाम से पहले निवेशकों के लिवाल बनने से बुधवार को बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 140.41 अंक की तेजी में 39,000 अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर के पार 39,110.21 अंक पर बंद हुआ। इस दौरान नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 28.80 अंक की बढ़त में 11,737.90 अंक पर पहुंच गया।
सेंसेक्स बढ़त के साथ 39,086.21 अंक पर खुला। बाजार में आज दिन भर उठापटक होती रही। कारोबार के दौरान सेंसेक्स 39,249.08 अंक के दिवस के उच्चतम और 38,903.87 अंक के दिवस के निचले स्तर से होता हुआ गत दिवस की तुलना में 0.36 प्रतिशत की तेजी में 39,110.21 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स की 30 में से पांच कंपनियां लाल निशान में और 24 कंपनियां हरे निशान में रहीं जबकि इंफोसिस के शेयर दिन भर के उतार चढाव के बाद अपरिवर्तित बंद हुए।
निफ्टी भी छलांग लगाकर 11,727.95 अंक पर खुला । कारोबार के दौरान 11,784.80 अंक के दिवस के उच्चतम और 11,682.80 अंक के दिवस के निचले स्तर से होता हुआ गत दिवस की तुलना में 0.25 प्रतिशत की तेजी में 11,737.90 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की 50 में से 16 कंपनियां गिरावट में और 34 तेजी में रहीं।
दिग्गज कंपनियों की तरह छोटी कंपनियों में भी निवेशकों ने पैस लगाया जबकि मंझोली कंपनियों में बिकवाली का जोर रहा। बीएसई का मिडकैप 0.16 प्रतिशत यानी 23.59 अंक की गिरावट में 14,671.83 अंक पर जबकि स्मॉलकैप 0.54 प्रतिशत यानी 76.71 अंक की तेजी में 14,369.26 अंक पर बंद हुआ।
बीएसई में कुल 2,707 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें 1,359 में तेजी और 1,162 में गिरावट रही जबकि 186 कंपनियों के शेयरों के दाम में कोई बदलाव नहीं हुआ।

22-05-2019
संयुक्त राष्ट्र ने भारत के विकास अनुमान में की बड़ी कटौती

न्यूयॉर्क। संयुक्त राष्ट्र ने व्यापार युद्ध और अंतरराष्ट्रीय व्यापार में मंदी के मद्देनजर भारत के विकास अनुमान में बड़ी कटौती करते हुये इसके चालू वित्त वर्ष में सात प्रतिशत और अगले वित्त वर्ष में 7.1 प्रतिशत रहने अनुमान जारी किया है।
वैश्विक संस्था ने वैश्विक आर्थिक स्थिति एवं परिदृश्य पर इस साल जनवरी में जारी मुख्य रिपोर्ट का अपडेट आज जारी किया। जनवरी में कहा गया था कि वित्त वर्ष 2019-20 में भारत की विकास दर 7.6 प्रतिशत रहेगी जिसमें 0.6 फीसदी की कमी करते हुये विकास अनुमान सात प्रतिशत कर दिया गया है। अगले वित्त वर्ष का विकास अनुमान 7.5 प्रतिशत से घटाकर 7.1 प्रतिशत किया गया है।


रिपोर्ट में यह स्पष्ट किया गया है कि भारत का विकास अनुमान घटने के बावजूद देश में घरेलू माँग मजबूत बनी रहेगी। इदसमें कहा गया है भारतीय अर्थव्यवस्था 2018-19 में 7.2 प्रतिशत की रफ्तार से बढ़ी। मजबूत घरेलू उपभोग और निवेश विकास को बल देते रहेंगे। भारत का निर्यात अन्य देशों की तुलना में ज्यादा मजबूत हैं क्योंकि उसका आधा निर्यात अपेक्षाकृत तेज गति से बढ़ रहे एशिया देशों को होता है। संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि अनसुलझे व्यापार युद्ध के तनावों और अंतरराष्ट्रीय नीतियों की अनिश्चितता के बीच वैश्विक आर्थिक परिदृश्य कमजोर पड़ा है। विकसित एवं विकासशील दोनों श्रेणियों के देशों के लिए विकास अनुमान घटाया गया है। उसने वैश्विक विकास अनुमान में इस साल के लिए 0.3 प्रतिशत और अगले साल के लिए 0.1 प्रतिशत की कटौती की है। इस साल वैश्विक विकास दर 2.7 प्रतिशत और अगले साल 2.9 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया गया है।


रिपोर्ट में कहा गया है अंतरराष्ट्रीय व्यापार में मंदी के साथ कारोबारी धारणा भी कमजोर हुई है जिससे निवेश की संभावनाओं पर काले बादल छाये हुये हैं। आर्थिक गतिविधियों और मुद्रास्फीति में नरमी के दबाव में बड़े केंद्रीय बैंकों ने मौद्रिक नीति का रुख नरम कर दिया है।

22-05-2019
भारती और वोडाफोन ग्रुप के टॉवर कारोबार का विलय

नई दिल्ली। दूरसंचार सेवायें प्रदान करने वाली कंपनियों भारती एयरटेल और ब्रिटिश कंपनी वोडाफोन ग्रुप पीएलसी ने अपने टॉवर कारोबार के विलय के बाद बनने वाली कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और मुख्य वित्त अधिकारी की घोषणा की है।
इन दोनों कंपनियों ने यहां जारी संयुक्त बयान में कहा कि उनके शेयरधारकों ने इससे जुड़े प्रस्ताव को अनुमोदित कर दिये हैं। वोडाफोन का टॉवर कारोबार संचालित करने वाली कंपनी इंड्स टॉवर लिमिटेड को भारती इंफ्राटेल लिमिटेड में विलय किये जाने का प्रस्ताव है और यह विलय की प्रक्रिया अंतिम चरण में हैं।इसके तहत इंड्स टॉवर के मुख़्य कार्यकारी अधिकारी बिमल दयाल विलय वाली कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी होंगे और वे संयुक्त कारोबार के लिए जिम्मेदार होंगे। वह दोनों कंपनियों के विलय को भी पूरा करेंगे। इसी तरह से इंड्स टॉवर के मुख्य वित्त अधिकारी हेमंट रईया विलय वाली कंपनी के भी मुख्य वित्त अधिकारी होंगे। विलय की प्रक्रिया पूर्ण होने तक दोनों कंपनियों के शेष अधिकारी अगल अलग काम करते रहेंगे। विलय के बाद बनने वाली कंपनी के पास पूरे देश में 1.63 लाख टेलीकॉम टॉवर होंगे।

22-05-2019
लंदन-मुंबई उड़ान दुबारा शुरू करेगी वर्जिन एटलांटिक

नई दिल्ली। ब्रिटेन की निजी विमान सेवा कंपनी वर्जिन एटलांटिक मुंबई और लंदन के बीच उड़ान दुबारा शुरू करेगी। कंपनी ने मंगलवार को बताया कि यह उड़ान इस साल 27 अक्टूबर से शुरू होगी और 28 मई से टिकट बुक कराये जा सकेंगे। यह दैनिक सेवा होगी जिसका परिचालन लंदन के हिथ्रो हवाई अड्डे से किया जायेगा। इसका समय इस प्रकार रखा गया है यह एयरलाइन की हिथ्रो से अमेरिका सेवा से जुड़ जायेगी।कंपनी ने बताया कि इस मार्ग पर वह बोइंग 787-9 विमानों का परिचालन करेगी। वर्जिन एटलांटिक का जेट एयरवेज के साथ कोड शेयर समझौता था जिसके जरिये इस मार्ग पर वह सेवा दे रही थी। जेट एयरवेज के बंद होने के बाद कंपनी ने इस मार्ग पर स्वयं सेवा शुरू करने की घोषणा की है।

22-05-2019
वित्त आयोग की इलेक्ट्रानिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के साथ बैठक

नई दिल्ली। 15वें वित्त आयोग ने देश की डिजिटल संभावनाओं का किस तरह से उपयोग किया जाये को लेकर मंगलवार को यहां इलेक्ट्रानिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अधिकारियों के साथ बैठक की। वित्त आयोग के अध्यक्ष एन के सिंह की अगुवाई में यह बैठक हुयी जिसमें मंत्रालय के सचिव अजय प्रकाश साहनी ने विस्तृत प्रस्तुति दी। आयोग को डिजिटल अर्थव्यवस्था पर अपने सुझाव देने हैं और इसी उद्देश्य से उसने मंत्रालय के अधिकारियों के साथ बैठक की है। मंत्रालय ने अपनी प्रस्तुति में कहा कि वैश्विक अर्थव्यवस्था में डिजिटल की हिस्सेदारी बढ़ रही है और डिजिटल प्रौद्योगिकी की इसमें महत्ती भूमिका है। आयोग को बताया कि भारत एक लाख करोड़ डॉलर की डिजिटल अर्थव्यवस्था की ओर बढ़ रहा है। उसने कहा कि देश में भारी पैमाने पर डिजिटल बदलाव संभव है लेकिन इसके लिए उसे तैयारी करने की जरूरत है। मंत्रालय ने आयोग को सौपें अपने ज्ञापन में कई सुझाव भी दिये हैं।

22-05-2019
सीबीडीटी ने फॉर्म संख्या 10बी में संशोधन का मसौदा किया जारी

नई दिल्ली। केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने आयकर कानून 1961 के तहत फॉर्म संख्या 10 बी के संशोधन से जुड़ा मसौदा जारी करते हुये इस पर पांच जून 2019 तक हितधारकों से इस पर राय मांगी है। सीबीडीटी ने मंगलवार को यहां इस मौसेदे को जारी करते हुये कहा कि आयकर कानून 1961 की धारा 12ए में धारा 11 और 12 को लागू करने से जुड़ी शर्तों का उल्लेख किया गया है। उपधारा (1) के अनुच्छेद (बी) के तहत इस तरह की एक धारा यह है कि जब धारा 11 और 12 को अमल में लाए बिना ही किसी ट्रस्ट या संस्थान की गणना की गई कुल आय किसी पिछले वर्ष में उस अधिकतम राशि से अधिक हो जाती है, जिस पर आयकर नहीं लगता है, तो उस वर्ष के खातों का ऑडिट एक ऐसे लेखाकार द्वारा किया जाना चाहिए जिसके बारे में कानून में बताया गया है।इस धारा में यह भी कहा गया है कि उपर्युक्त आमदनी प्राप्त करने वाला व्यक्ति संबंधित आकलन वर्ष के लिए आयकर रिटर्न के साथ इस तरह के ऑडिट रिपोर्ट उस निर्दिष्ट फॉर्म में उपलब्ध कराता है, जो इस तरह के लेखाकार द्वारा हस्ताक्षरित एवं सत्यापित होता है। इसके अलावा भी कुछ विवरण उपलब्ध कराए जाते हैं।


इसी के लिए नियम 17बी और फॉर्म संख्या 10बी को इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए आयकर नियम, 1962 में शामिल किया गया। नियम 17बी में कहा गया है कि किसी भी ट्रस्ट अथवा संस्थान के लेखा के अंकेक्षण की रिपोर्ट फॉर्म संख्या 10बी में होगी। फॉर्म संख्या 10बी के अंतर्गत ऑडिट रिपोर्ट के अलावा अनुलग्नक के रूप में ब्योरेवार रिपोर्टों का विवरण भी उपलब्ध कराना होता है। नियम और फॉर्म को काफी पहले अधिसूचित किया गया था, इसलिए उन्हें मौजूदा समय की आवश्यकताओं के अनुरूप संशोधित करने की आवश्यकता है। इसी को ध्यान में रखते हुये यह संशोधन किया जा रहा है। इस संबंध में हितधारक पांच जून तक अपनी राय दे सकते हैं।

22-05-2019
हुंडई ने लांच की कनेक्टेड एसयूवी वेन्यू, शुरूआत कीमत 6.50 लाख रुपये

नई दिल्ली। यात्री वाहन बनाने वाली देश की दूसरी बड़ी कंपनी हुंडई मोटर इंडिया ने अपनी पहली पूर्ण कनेक्टेड एसयूवी वेन्यू लाँच करने की घोषणा की जिसकी अखिल भारतीय शुरूआती कीमत 6.50 लाख रुपये है। कंपनी ने यहां जारी बयान में कहा कि स्मार्ट युवा प्रगतिशील ग्राहकों को ध्यान में रखकर डिजाइन की गयी वेन्यू ब्लू लिंक प्रौद्योगिकी आधािरत है। इस कार में 33 नये कनेक्टेड फीचर दिये गये है जिसमें से 10 फीचर विशेष भारतीय परिस्थितियों को ध्यान में रखकर दिये गये हैं।

उसने कहा कि सात स्पीड डुअल क्लच ट्रांसमिशन को इसमें पहली बार पेश किया गया है। यह तीन इंजन विकल्पों कप्पा 1.0 टुर्बो जीडीआई पेट्रोल, 1.2 पेट्रोल और 1.4 डीजल इंजन के उपलब्ध है। कप्पा इंजन 6 एमटी के 18.27 किलोमीटर प्रति लीटर माइलेज देने , कप्पा 7 सीडीटी 18. 15 किलोमीटर का माइलेज देने , 1.2 पेट्रोल इंजन के 17.52 किलोमीटर का और 1.4 लीटर डीजल इंजन के 23.70 किलोमीटर का माइलेज देने का दावा किया गया है। वेन्यू में सुरक्षा को प्रमुखता देते हुये डुअल फ्रंट एयरबैग सभी मॉडल में दिये गये हैं। इसके साथ ही ईबीडी के साथ एबीएस, आईसोफिक्स, रियर पार्किंग सेंसर आदि फीचर भी हैं। सबसे टॉप मॉडल में छह एयरबैग दिये गये हैं।

22-05-2019
सऊदी अरब के इस बयान के बाद गिरा क्रूड आयल, पेट्रोल-डीजल होगा सस्ता?

नई दिल्ली। इंटरनेशनल मार्केट में कच्चे तेल के भाव में आई गिरावट से बुधवार को घरेलू वायदा बाजार में भी कच्चे तेल के वायदा सौदों में करीब 1 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई। कच्चे तेल के भाव में नरमी आने से भारत में पेट्रोल और डीजल के दाम में राहत मिलने की उम्मीद जगती है। हालिया नरमी से उम्मीद इसलिए जगी है क्योंकि दुनिया के प्रमुख तेल उत्पादक देश सऊदी अरब ने कहा कि वह बाजार में संतुलन लाने की कोशिश करेगा।

ओपेक ने कोई साफ संकेत नहीं दिया

हालांकि तेल बाजार के जानकार बताते हैं कि बहरहाल तेल निर्यात देशों का समूह ओपेक ने इस संबंध में कोई स्पष्ट संकेत नहीं दिया है कि वह तेल के उत्पादन में कटौती के अपने फैसले को वापस लेने जा रहा है, लेकिन ओपेक के प्रमुख सदस्य सऊदी अरब का यह बड़ा बयान है कि वह खाड़ी क्षेत्र में तनाव कम करने की दिशा में प्रयास करने के साथ-साथ तेल बाजार में मांग और पूर्ति के बीच संतुलन बनाने की कोशिश करेगा।

अमेरिका के तेल भंडार में 24 लाख बैरल का इजाफा

उधर, अमेरिकी पेट्रोलियम इंस्टीट्यूट की ओर से जारी रिपोर्ट में कहा गया कि अमेरिका में बीते सप्ताह तेल के भंडार में 24 लाख बैरल का इजाफा हुआ है। अमेरिका में तेल का भंडार बढ़ने से तेल के दाम पर दबाव आया है। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज पर पूर्वाह्न् 10.17 बजे कच्चे तेल का जून अनुबंध 41 रुपये यानी 0.93 फीसदी की कमजोरी के साथ 4,374 रुपये प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा था। वहीं, अंतरराष्ट्रीय बाजार इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज पर बेंट्र क्रूड का जुलाई सौदा पिछले सत्र से 0.64 फीसदी फिसलकर 71.72 डॉलर प्रति बैरल पर बना हुआ था जबकि अमेरिकी लाइट क्रूड डब्ल्यूटीआई का जुलाई अनुबंध नायमैक्स पर 0.87 फीसदी की कमजोरी के साथ 62.58 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा था।

Please Wait... News Loading