GLIBS

15-10-2020
शेयर बाजार में जबर्दस्त गिरावट, निवेशकों को हुआ करोड़ों का नुकसान, सेंसेक्स-निफ्टी धड़ाम

मुंबई। शेयर बाजार में आज जबर्दस्त गिरावट दर्ज की गई। सेंसेक्स 1066 अंकों की गिरावट के साथ 39728 के स्तर पर बंद हुआ और निफ्टी 290 अंकों की गिरावट के साथ 11680 पर बंद हुआ। खबर के मुताबिक आज निवेशकों के 3.3 लाख करोड़ रुपये डूब गए। बीएसई लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप घटकर 157.22 लाख करोड़ पर पहुंच गया।मामूली गिरावट पर खुला था बाजार आज सुबह सेंसेक्स की शुरुआत 53.30 अंक यानी 0.13 फीसदी ऊपर 40848.04 के स्तर पर हुई थी और निफ्टी 0.44 फीसदी यानी 52.40 अंकों की बढ़त के साथ 12023.45 के स्तर पर खुला था। इसके बाद बाजार ने सारी बढ़त गंवाई और बिकवाली हावी हो गई।पिछले कारोबरी दिन लगातार 10वें दिन शेयर बाजार बढ़त के साथ बंद हुआ था। सेंसेक्स 0.42 फीसदी की बढ़त के साथ 169.23 अंक ऊपर 40794.74 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं निफ्टी 0.31 फीसदी (36.55 अंक) की बढ़त के साथ 11971.05 के स्तर पर बंद हुआ था। 

 

 

12-10-2020
बढ़त के साथ बंद हुआ शेयर बाजार, सेंसेक्स-निफ्टी में रही तेजी

 नई दिल्ली। शेयर बाजार सोमवार को बढ़त के साथ बंद हुआ। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 0.21 फीसदी की बढ़त के साथ 84.31 अंक ऊपर 40593.80 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 0.14 फीसदी (16.75 अंक) की बढ़त के साथ 11930.95 के स्तर पर बंद हुआ। वही आज सप्ताह के पहले दिन शेयर बाजार बढ़त के साथ खुला था। सेंसेक्स की शुरुआत 287.59 अंक यानी 0.71 फीसदी ऊपर 40797.08 के स्तर पर हुई। वहीं निफ्टी 0.67 फीसदी यानी 80.05 अंकों की बढ़त के साथ 11829.70 के स्तर पर खुला था। पिछले कारोबारी दिन शुक्रवार को सेंसेक्स-निफ्टी मजबूती के साथ बंद हुए थे। सेंसेक्स 0.81 फीसदी की बढ़त के साथ 326.82 अंक ऊपर 40509.49 के स्तर पर बंद हुआ था और निफ्टी 0.67 फीसदी (79.60 अंक) की बढ़त के साथ 11914.20 के स्तर पर बंद हुआ था।

 

07-10-2020
उछाल के साथ बंद हुआ शेयर बाजार, सेंसेक्स पहुंचा 39 हजार के पार, निफ्टी मेें रही तेजी

मुंबई। वित्तीय शेयरों में गिरावट तथा वैश्विक बाजारों के कमजोर संकेत के कारण बुधवार को शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 100 अंक से अधिक गिर गया था। हालांकि, कारोबार के अंत में सेंसेक्स 304.38 अंकों की बढ़त के साथ 39,878.95 और निफ्टी 76.45 अंक उछलकर 11,738.85 के स्तर पर बंद हुआ।बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स कारोबार के शुरुआती दौर में 100.60 अंक यानी 0.25 प्रतिशत गिरकर 39,473.97 अंक पर आ गया। वहीं एनएसई का निफ्टी भी इस दौरान 23.45 अंक यानी 0.20 प्रतिशत गिरकर 11,638.95 अंक पर आ गया।वैश्विक बाजारों से सकारात्मक संकेत मिलने और खरीदारी का जोर रहने से मंगलवार को बंबई शेयर बाजार (बीएसई) का सेंसेक्स 600 अंक उछलकर 39,574.57 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं निफ्टी 156.85 अंकों की  बढ़त के साथ 11,660.20 पर बंद हुआ था।

06-10-2020
डॉ. शिववरण शुक्ल बने छत्तीसगढ़ निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग के अध्यक्ष

रायपुर। राज्यपाल एवं कुलाध्यक्ष अनुसुईया उइके ने छत्तीसगढ़ निजी विश्वविद्यालय (स्थापना एवं संचालन) अधिनियम, 2005 की धारा 36 की उपधारा (4) में प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए डॉ. शिववरण शुक्ल (अध्यक्ष प्रभारी) को 70 वर्ष की आयु अथवा तीन वर्ष की अवधि जो भी पहले हो, तक के लिए छत्तीसगढ़ निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग का अध्यक्ष नियुक्त किया है। डॉ. शुक्ल का कार्यकाल, उपलब्धियां तथा सेवा शर्तें उक्त अधिनियम तथा उसके तहत् गठित नियमों के अध्याधीन होगी।

 

 

05-10-2020
वित्तमंंत्री ने की घोषणा, राज्यों को बांटे जाएंगे 20 हजार करोड़ रुपए के कंपन्सेशन सेस

नई दिल्ली। जीएसटी परिषद की सोमवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में बैठक हुई। बैठक के बाद सीतारमण ने कहा कि क्षतिपूर्ति उपकर से प्राप्त 20,000 करोड़ रुपये का वितरण राज्यों के बीच किया जाएगा। यह रकम उन्हें सोमवार रात मिल जाएगी। जीएसटी परिषद ने साथ ही जून 2022 के बाद भी क्षतिपूर्ति उपकर जारी रखने का निर्णय किया है। जीएसटी काउंसिल की 12 अक्टूबर को फिर बैठक होगी, जिसमें राज्यों को क्षतिपूर्ति के मामले में चर्चा की जाएगी।
बैठक में राज्यों को मुआवजे की भरवाई के मुद्दे पर कोई सहमति नहीं बन पाई। सीतारमण ने कहा कि 21 राज्यों ने केंद्र द्वारा सुझाए गए विकल्पों को चुना। लेकिन कुछ राज्यों ने कोई विकल्प नहीं चुना। एक तरह से बैठक में जीएसटी मुआवजा का मुद्दा सुलझ नहीं पाया है। इसलिए इस मुद्दे पर और चर्चा करने का फैसला किया गया। काउंसिल की अगली बैठक 12 अक्टूबर को होगी।

सीतारमण ने कहा कि हम राज्‍यों को मुआवजे की राशि से इनकार नहीं कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट की वजह से ऐसी स्थिति पैदा हुई है। ऐसी स्थिति की पहले किसी ने कल्पना नहीं की थी। मौजूदा हालात इस तरह के नहीं हैं कि केंद्र सरकार फंड पर कब्‍जा करके बैठी है, और देने से इनकार कर रही है। हमें फंड हर हाल में उधार लेना होगा। उन्होंने कहा कि बिहार के वित्‍त मंत्री सुशील कुमार मोदी ने सुझाव दिया है कि उधार लेने के विकल्‍प पर सभी को फिर से मिलकर बात करनी चाहिए। इसलिए 12 अक्‍टूबर को फिर मिलेंगे और इस समस्या पर बातचीत होगी। वित्त सचिव अजय भूषण पांडेय ने कहा कि जिन टैक्सपेयर्स का सालाना टर्नओवर 5 करोड़ रुपये से कम है, उन्हें जनवरी से मासिक रिटर्न यानी जीएसटीआर3बी और जीएसटीआर1 भरने की जरूरत नहीं होगी। उन्हें केवल तिमाही रिटर्न फाइल करना होगा। जीएसटी परिषद ने साथ ही छोटे करदाताओं पर बोझ को आसान बनाने समेत इसरो और एंट्रिक्स की उपग्रह प्रक्षेपण सेवाओं को माल एवं सेवा कर दायरे से छूट देने का निर्णय किया है। वहीं बैठक में यह तय हुआ है कि लग्जरी और कई अन्य तरह की वस्तुओं पर लगने वाले कम्पनसेशन सेस को 2022 से भी आगे बढ़ाया जाएगा। यानी कार, सिगरेट जैसे प्रोडक्ट पर कम्पनसेशन सेस आगे भी लगता रहेगा, राज्यों को नुकसान से बचाने के लिए यह निर्णय लिया गया है। 

 

01-10-2020
सितंबर में बढ़ा जीएसटी संग्रह, पहुंचा 95,000 करोड़ के पार

नई दिल्ली। वित्त मंत्रालय ने गुरुवार को माल एवं सेवा कर संग्रह के आंकड़े जारी किए।  इसके अनुसार सितंबर में जीएसटी संग्रह में सुधार देखने को मिला। सितंबर में माल एवं सेवा कर (जीएसटी) संग्रह 95,480 करोड़ रुपये रहा। जबकि इससे पहले अगस्त में इसमें एक फीसदी की कमी आई थी और यह 86,449 करोड़ रुपये रहा था। यानी सितंबर में यह 9031 करोड़ ज्यादा रहा है। जुलाई में यह आंकड़ा 87,422 करोड़ रुपये था। जीएसटी संग्रह जून के 90,917 करोड़ रुपये था। सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, सीजीएसटी वसूली 17,741 करोड़ रुपये रही, जो अगस्त में 15906 करोड़ रुपये थी। वहीं एसजीएसटी वसूली अगस्त के 21,064 करोड़ रुपये के मुकाबले सितंबर में 23,131 करोड़ रुपये हो गई। इस दौरान आईजीएसटी 47,484 करोड़ रुपए रहा। सरकार ने आईजीएसटी से 21,260 करोड़ रुपये सीजीएसटी और 16,997 करोड़ रुपए एसजीएसटी का नियमित निपटान किया। सितंबर 2019 के मुकाबले इस साल रेवेन्यू में चार फीसदी का उछाल आया है।

 

 

30-09-2020
अब 30 नवंबर तक भर सकते आयकर रिटर्न

नई दिल्ली। आयकर विभाग ने 2018-19 के आयकर रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तारीख दो महीने बढ़ाकर बुधवार को 30 नवंबर कर दी। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने एक आदेश में कहा कि कोरोना वायरस संकट के चलते करदाताओं को पेश आ रही परेशानियों को देखते हुए यह निर्णय किया गया है। आकलन वर्ष 2019-20 के लिए देरी से या संशोधित आयकर रिटर्न दाखिल करने की तारीख 30 सितंबर 2020 से बढ़ाकर 30 नवंबर 2020 कर दी गई है। कोविड-19 संकट के चलते वित्त वर्ष 2018-19 का आयकर रिटर्न दाखिल करने के लिए सरकार की ओर से यह चौथी बार समयसीमा बढ़ाई गई है। इससे पहले मार्च में सरकार ने अंतिम तारीख को 31 मार्च 2020 से बढ़ाकर 30 जून 2020 किया था। बाद में इसे 31 जुलाई 2020 तक और फिर 30 सितंबर 2020 तक बढ़़ाया गया। 

 

 

29-09-2020
मुकेश अंबानी ने रुतबा रखा बरकरार,लगातार 9वें वर्ष बने सबसे अमीर भारतीय

नई दिल्ली। हुरुन इंडिया की सूची में मुकेश अंबानी लगातार 9वें साल सबसे अमीर भारतीय बने। उनकी निजी संपत्ति 6,58,400 करोड़ रुपये है। उनकी यह संपत्ति रिलायंस इंडस्ट्रीज में उनकी हिस्सेदारी के कारण बनी है। मुकेश अंबानी ग्लोबल रिच लिस्ट की में टॉप 5 में शामिल होने वाले एकमात्र भारतीय हैं। हुरुन इंडिया के एमडी अनस रहमान जुनैद ने कहा कि मुकेश अंबानी की संपत्ति लिस्ट में शामिल अगले पांच की कुल संपत्ति से अधिक है। मुकेश अंबानी के बाद लंदन स्थित हिंदुजा बंधुओं की कुल संयुक्त संपत्ति 1,43,700 करोड़ रुपये रही। एचसीएल के संस्थापक शिव नाडर 1,41,700 करोड़ रुपये की संपत्ति के साथ तीसरे स्थान पर रहे। 1,40,200 करोड़ रुपये की संपत्ति के साथ गौतम अडानी एंड फैमिली चौथे स्थान पर और अजीम प्रेमजी पांचवें स्थान पर हैं। हुरुन इंडिया सूची में 31 अगस्त, 2020 तक 1,000 करोड़ रुपये या उससे अधिक की संपत्ति वाले देश के सबसे अमीर व्यक्तियों का नाम है। 2020 के एडिशन में 828 भारतीय शामिल थे।

 

 

28-09-2020
शेयर बाजार में रही रौनक, उछाल के साथ बंद सेंसेक्स, निफ्टी ने लगाई छलांग

मुंबई। सप्ताह के पहले कारोबारी दिन सोमवार को घरेलू शेयर बाजार बढ़त पर बंद हुआ। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 1.59 फीसदी की बढ़त के साथ 592.97 अंक ऊपर 37981.63 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 1.60 फीसदी (177.30 अंक) की तेजी के साथ 11227.55 के स्तर पर बंद हुआ। कारोबारियों के मुताबिक ज्यादातर एशियाई बाजारों में सकारात्मक रुझान के चलते घरेलू बाजार में भी तेजी रही। शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 215.84 अंक यानी 0.58 फीसदी ऊपर 37604.50 के स्तर पर खुला था और निफ्टी 0.50 फीसदी यानी 55.10 अंकों की बढ़त के साथ 11105.35 के स्तर पर खुला था। पिछले कारोबरी दिन घरेलू शेयर बाजार बढ़त पर बंद हुआ था। सेंसेक्स 2.28 फीसदी की बढ़त के साथ 835.06 अंक ऊपर 37388.66 के स्तर पर बंद हुआ था और निफ्टी 2.26 फीसदी (244.70 अंक) की तेजी के साथ 11050.25 के स्तर पर बंद हुआ था। 

 

22-09-2020
शेयर बाजार में आई जबर्दस्त गिरावट, सेंसेक्स 300 अंक फिसला

मुंबई। शेयर बाजार में मंगलवार को जबर्दस्त गिरावट आई। सेंसेक्स 300 अंक लुढ़क गया। आज बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 0.79 फीसदी की गिरावट के साथ 300.06 अंक नीचे 37734.08 के स्तर पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 0.86 फीसदी (96.90 अंक) की गिरावट के साथ 11153.65 के स्तर पर बंद हुआ। कारोबारियों ने बताया कि कुछ प्रमुख अंतरराष्ट्रीय बैंकों में अनियमित वित्तीय व्यवहारों के बारे में खबर आने और यूरोप के कई हिस्सों में कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर उठने की आशंकाओं के चलते दुनिया भर के बाजारों में गिरावट देखने को मिल रही है।

शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 66.63 अंक यानी 0.18 फीसदी ऊपर 38100.77 के स्तर पर खुला था और निफ्टी 0.21 फीसदी यानी 23.70 अंकों की बढ़त के साथ 11274.25 के स्तर पर खुला था।  इसके बाद सेंसेक्स कारोबार के दौरान 300 अंकों से ज्यादा गिर गया। 30 शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स 305.12 अंक या 0.80 फीसदी की गिरावट के साथ 37,729.02 पर कारोबार कर रहा था, जबकि एनएसई निफ्टी 97.10 अंक या 0.86 फीसदी गिरकर 11,153.45 पर था। वही सोमवार को सेंसेक्स 2.09 फीसदी की भारी गिरावट के साथ 811.68 अंक नीचे 38034.14 के स्तर पर बंद हुआ था। निफ्टी 2.46 फीसदी (282.75 अंक) की गिरावट के साथ 11222.20 के स्तर पर बंद हुआ था।

 

17-09-2020
लाल निशान पर बंद हुआ शेयर बाजार, सेंसेक्स और निफ्टी में दर्ज की गई गिरावट

मुंबई। शेयर बाजार गुरुवार को गिरावट पर बंद हुआ। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 0.82 फीसदी की गिरावट के साथ 323 अंक नीचे 38979.85 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 0.74 फीसदी (85.30 अंक) की गिरावट के साथ 11519.25 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं आज सुबह शेयर बाजार हरे निशान पर खुला था। शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 191.11 अंक यानी 0.49 फीसदी नीचे 39111.74 के स्तर पर खुला। वहीं निफ्टी 0.60 फीसदी यानी 70 अंकों की गिरावट के साथ 11534.55 के स्तर पर खुला। पिछले कारोबारी दिन सेंसेक्स 0.66 फीसदी की बढ़त के साथ 258.50 अंक ऊपर 39032.85 के स्तर पर बंद हुआ था और निफ्टी 0.72 फीसदी (82.75 अंक) की बढ़त के साथ 11604.55 के स्तर पर। रुपया गुरुवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 14 पैसे टूटकर 73.66 (अनंतिम) के स्तर पर बंद हुआ। वही बुधवार को रुपया,अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 12 पैसे मजबूत होकर 73.52 पर बंद हुआ था। 

 

16-09-2020
लोकसभा में पास हुआ बैंकिंग विनियम (संशोधन) विधेयक, 2020, निर्मला सीतारमण ने कहा-होगा बेहतर प्रबंधन

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने मानसून सत्र के दौरान बुधवार को लोकसभा में बैंकिंग विनियमन संशोधन विधेयक, 2020 को पारित कर दिया। लोकसभा में वित्त मंत्री ने कहा कि बैंकिंग विनियमन (संशोधन) विधेयक सहकारी बैंकों को नियंत्रित नहीं करता है। सहकारी बैंकों का विनियमन 1965 से ही आरबीआई के पास है। हम कुछ नया नहीं कर रहे। जो नया कर रहे हैं वह जमाकर्ताओं के हित में है। इस बिल में जमाकर्ताओं के हितों की सुरक्षा के लिये बेहतर प्रबंधन और समुचित नियमन के जरिये सहकारी बैंकों को बैकिंग क्षेत्र में हो रहे बदलावों के अनुरूप बनाने का प्रावधान किया गया है। यह विधेयक इससे संबंधित अध्यादेश के स्थान पर लाया गया है। विपक्षी दलों के सदस्यों द्वारा यह पूछे जाने पर कि क्या राज्यों से विचार विमर्श किया गया, वित्त मंत्री ने कहा कि जो विषय समवर्ती सूची में होते हैं, उन्हीं पर राज्यों से विमर्श करने की जरूरत होती है लेकिन यह मुद्दा संघ सूची है और इसके लिये राज्यों से चर्चा की जरूरी नहीं है।

बता दें कि, यह विधेयक भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को अवश्यकता पड़ने पर सहकारी बैंकों के प्रबंधन में बदलाव करने का अधिकार देता है। इससे सहकारी बैंकों में अपना पैसा जमा करने वाले आम लोगों के हितों की रक्षा होगी। विधेयक में कहा गया है कि आरबीआई को सहकारी बैंकों के नियमित कामकाज पर रोक लगाये बिना उसके प्रबंधन में बदलाव के लिये योजना तैयार करने का अधिकार मिल जायेगा। कृषि सहकारी समितियां या मुख्य रूप से कृषि क्षेत्र में काम करने वाली सहकारी समितियां इस विधेयक के दायरे में नहीं आयेंगी। वहीं विपक्ष ने इस विधेयक को सहकारी संगठनों को लेकर राज्यों के अधिकारों में हस्तक्षेप बताया था। कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने आरोप लगाया कि सरकार सहकारी बैंकों के निजीकरण का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि इससे सहकारी बैंकों की स्वायत्तता खतरे में पड़ जायेगी।

 

 

Please Wait... News Loading