GLIBS

20-01-2020
आईएमएफ ने घटाया भारत की आर्थिक वृद्धि के अनुमान को, किया 4.8 प्रतिशत

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) ने 2019-20 वित्त वर्ष के लिए भारत की आर्थिक वृद्धि दर (जीडीपी) के अनुमान को कम कर 4.8 प्रतिशत कर दिया है। गैर-बैंकिग वित्तीय कंपनियों में दबाव और ग्रामीण भारत में आय वृद्धि कमजोर रहने का हवाला देते हुए वृद्धि अनुमान को कम किया गया है। विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) का सालाना शिखर सम्मेलन शुरू होने से पहले वैश्विक अर्थव्यवस्था की स्थिति के बारे में जानकारी देते हुए आईएमएफ ने वैश्विक वृद्धि दर के साथ साथ भारत की आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान में संशोधन की जानकारी दी है। आईएमएफ ने अपने बयान में कहा है कि विश्व की अर्थव्यवस्था को डाउनग्रेड करने के पीछे उभरते बाजारों में आर्थिक गतिविधियों को नुकसान पहुंचाने वाली गतिविधियां हैं, खासतौर पर भारत की सुस्त विकास दर की वजह से दुनिया की अर्थव्यवस्था की विकास की रफ्तार पर असर पड़ रहा है। कुछ मामलों में इस आर्थिक मंदी का प्रभाव सामाजिक अस्थिरता के बढ़ने के रूप में भी देखा जा सकता है। आईएमएफ के अनुसार 2019 में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 4.8 प्रतिशत, 2020 में 5.8 प्रतिशत और 2021 में 6.5 प्रतिशत रह सकती है। भारत में जन्मीं आईएमएफ की मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ ने कहा कि मुख्य रूप से गैर-बैंकिंग वित्तीय क्षेत्र में नरमी और ग्रामीण क्षेत्र की आय में कमजोर वृद्धि के कारण भारत की आर्थिक वृद्धि दर अनुमान कम किया गया है। उन्होंने कहा कि वहीं दूसरी तरफ चीन की आर्थिक वृद्धि दर 2020 में 0.2 प्रतिशत बढ़कर 6 प्रतिशत करने का अनुमान है। यह अमेरिका के साथ व्यापार समझौते के प्रभाव को बताता है। मुद्राकोष ने कहा कि भारत में घरेलू मांग उम्मीद से हटकर तेजी से घटी है। इसका कारण एनबीएफसी में दबाव और कर्ज वृद्धि में नरमी है।
गोपीनाथ ने यह भी कहा कि 2020 में वैश्विक वृद्धि में तेजी अभी काफी अनिश्चित बनी हुई है। इसका कारण यह अर्जेन्टीना, ईरान और तुर्की जैसी दबाव वाली अर्थव्यवस्थाओं के वृद्धि परिणाम और ब्राजील, भारत और मेक्सिको जैसे उभरते और क्षमता से कम प्रदर्शन कर रहे विकासशील देशों की स्थिति पर निर्भर है।

 

20-01-2020
सुप्रीम कोर्ट ने लगाई कारोबारी विजय माल्या को फटकार, कही यह बात...

नई दिल्ली। शराब कारोबारी विजय माल्या की याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने खरी खोटी सुनाई। विजय माल्या से सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आपने अब तक एक पैसा भी वापस नहीं किया है। इस मामले में जस्टिस आरएफ नरीमन ने खुद को सुनवाई अलग कर लिया है। दरअसल, जस्टिस नरीमन के पिता सीनियर एडवोकेट फली नरीमन आरोपी विजय माल्या के लिए दूसरे केस में पैरवी कर चुके हैं। दरअसल, 12 बैंकों ने कर्नाटक हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा जब्त की गई विजय माल्या की संपत्ति बैंकों को देने की गुहार लगाई है। विजय माल्या ने इसके विरोध में सुप्रीम कोर्ट में अर्जी लगाई है। बता दें कि माल्या भारतीय बैंकों से लिए गए 9,000 करोड़ रुपए के कर्ज को चुकाए बिना भारत से भाग गया था और वर्तमान में इंग्लैंड में प्रत्यर्पण संबंधी प्रक्रियाओं से गुजर रहा है।

पिछले साल जनवरी में विशेष अदालत ने माल्या को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित कर दिया था और धन शोधन रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) से संबंधित मामलों में उसकी संपत्ति जब्त करने की कार्यवाही शुरू कर दी थी। फरार चल रहे शराब कारोबारी विजय माल्या के स्वामित्व वाला किंगफिशर हाउस तीन साल में एक बार फिर 8वीं बार नीलामी के लिए रखा जा चुका है। वर्तमान में किंगफिशर हाउस डिफंक्ट किंगफिशर एयरलाइंस लिमिटेड (केएएल) का मुख्यालय है। जब्त संपत्ति के लिए बेंगलुरु स्थित ऋण वसूली अधिकरण (डीआरटी) ने एक ऑनलाइन बोली प्रक्रिया के माध्यम से 27 नवंबर को एक नई नीलामी तिथि की घोषणा की है।

20-01-2020
लुढ़का शेयर बाजार, सेंसेक्स 416 अंक आया नीचे, निफ्टी 121.60 अंक टूटा

मुंबई। कच्चे तेल में तेजी के बीच बैंकिंग तथा वित्तीय कंपनियों के साथ रिलायंस इंडस्ट्रीज जैसी दिग्गज कंपनियों के शेयरों में बिकवाली से घरेलू शेयर बाजार सोमवार को एक प्रतिशत लुढ़ककर डेढ़ सप्ताह के निचले स्तर पर आ गए।
बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सोमवार को 416.46 अंक यानी 0.99 प्रतिशत की गिरावट में 41,528.91 अंक पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 121.60 अंक यानी 0.98 फीसदी टूटकर कारोबार की समाप्ति पर 12,230.75 अंक पर रहा। यह दोनों सूचकांकों का 9 जनवरी के बाद का निचला स्तर है। चौतरफा बिकवाली के बीच मझौली और छोटी कंपनियों पर कम दबाव रहा। बीएसई का मिडकैप 0.57 प्रतिशत की गिरावट के साथ 15,618.86 अंक पर और स्मॉलकैप 0.39 प्रतिशत टूटकर 14,651.17 अंक पर आ गया। 

20-01-2020
63 अरबपतियों के पास है देश के बजट से ज्यादा संपत्ति

नई दिल्ली। भारत के एक प्रतिशत लोगों के पास 953 मिलियन (9530 लाख) लोगों से चार गुना ज्यादा संपत्ति है। यह 953 मिलियन लोग देश की 70 प्रतिशत आबादी के निचले हिस्से में रहते हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार सभी भारतीय अरबपतियों की कुल संपत्ति पूरे साल के आम बजट से कहीं अधिक है। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि देश के 63 अरबपतियों के पास बजट से ज्यादा धन है। यह रिपोर्ट सोमवार को जारी हुई है। वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (डब्ल्यूईएफ) की 50वीं वार्षिक बैठक से पहले यहां 'टाइम टू केयर' रिपोर्ट का विमोचन करते हुए राइट्स ग्रुप ऑक्सफैम ने कहा कि दुनिया के 2,153 अरबपतियों के पास इस धरती के 4.6 बिलियन लोगों से ज्यादा संपत्ति है जो इस दुनिया की 60 प्रतिशत आबादी है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि वैश्विक असमानता चौंकाने वाली, विशाल और अरबपतियों की संख्या पिछले दशक में दोगुनी हुई है। जबकि पिछले साल उनकी संयुक्त संपत्ति में गिरावट आई है। आक्सफैम इंडिया के सीईओ अमिताभ बेहर ने इस मौके पर कहा, 'अमीर और गरीब के बीच की खाई को खत्म करने के लिए असामनता फैलाने वाली नीतियों के खिलाफ कदम उठाने होंगे और बहुत कम सरकारें इसके लिए प्रतिबद्ध हैं।'

सोमवार से शुरू हो रहे डब्ल्यूईएफ के पांच दिवसीय शिखर सम्मेलन में चर्चा के दौरान आय और लैंगिक असमानता के मुद्दों को प्रमुखता से उठाए जाने की उम्मीद है। डब्ल्यूईएफ की वार्षिक वैश्विक जोखिम रिपोर्ट ने यह भी चेतावनी दी है कि 2019 में वैश्विक आर्थिक अर्थव्यवस्था में आर्थिक कमजोरियों और वित्तीय असमानता को लेकर दबाव बना रहा। रिपोर्ट में कहा गया है कि असमानता को लेकर चिंता लगभग हर महाद्वीप में सामाजिक अशांति को रेखांकित करती है। हालांकि यह अलग-अलग कारकों जैसे कि भ्रष्टाचार, संवैधानिक उल्लंघनों या बुनियादी वस्तुओं और सेवाओं के लिए कीमतों में आई वृद्धि से प्रभावित होती है।

बेशक पिछले तीन दशकों में वैश्विक असमानता में कमी आई है, लेकिन कई देशों में घरेलू आय असमानता बढ़ी है। खासतौर से उन्नत अर्थव्यवस्थाओं में। ऑक्सफैम की रिपोर्ट में कहा गया है कि लैंगिकवादी अर्थव्यवस्था असमानता को बढ़ावा दे रही हैं। इसके लिए वह आम लोगों खासतौर से गरीब महिलाओं और लड़कियों को निशाना बना रहे हैं। भारत के परिप्रेक्ष्य में ऑक्सफैम ने कहा कि 63 भारतीय अरबपतियों की संयुक्त कुल संपत्ति वित्त वर्ष 2018-19 में कुल केंद्रीय बजट से कहीं ज्यादा थी जो 24,42,200 करोड़ रुपये थी। रिपोर्ट के अनुसार, एक महिला घरेलू कर्मचारी को एक साल में एक प्रौद्योगिकी कंपनी का सीईओ बनने के लिए 22,277 साल का समय लगता है।

 

20-01-2020
200 अंको की तेजी के साथ रिकॉर्ड स्तर पर खुला सेंसेक्स, 12 हजार के पार पहुंची निफ्टी

मुंबई। सप्ताह के पहले कारोबारी दिन यानी सोमवार को शेयर बाजार रिकॉर्ड स्तर पर खुला है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 201.41 अंक यानी 0.48 फीसदी की बढ़त के बाद 42,146.78 के स्तर पर खुला। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 47 अंक यानी 0.38 फीसदी की बढ़त के बाद 12,399.35 के स्तर पर खुला।

ऐसा रहा दिग्गज शेयरों का हाल

दिग्गज शेयरों की बात करें, तो पावर ग्रिड, यस बैंक, एचसीएल टेक, एचडीएफसी, इंफ्राटेल, जी लिमिटेड, एसबीआई, इंडसइंड बैंक और एशियन पेंट्स के शेयर हरे निशान पर खुले। वहीं आईओसी, टीसीएस, विप्रो, भारती एयरटेल, ओएनजीसी, ग्रासिम, कोल इंडिया, एनटीपीसी, बजाज ऑटो और नेस्ले इंडिया के शेयर लाल निशान पर खुले।

सेक्टोरियल इंडेक्स पर नजर

सेक्टोरियल इंडेक्स पर नजर डालें, तो आज आईटी के अतिरिक्त सभी सेक्टर्स हरे निशान पर खुले। इनमें मेटल, फार्मा, ऑटो, एफएमसीजी, रियल्टी, प्राइवेट बैंक, पीएसयू बैंक और मीडिया शामिल हैं।

प्री ओपन के दौरान यह था शेयर मार्केट का हाल

प्री ओपन के दौरान सुबह 9:10 बजे शेयर मार्केट हरे निशान पर था। सेंसेक्स 317.63 अंक यानी 0.76 फीसदी की बढ़त के बाद 42,263 के स्तर पर था। वहीं निफ्टी 78.15 अंक यानी 0.63 फीसदी की बढ़त के बाद 12,430.50 के स्तर पर था।

डॉलर के मुकाबले 71.10 के स्तर पर खुला रुपया

डॉलर के मुकाबले आज रुपया 71.10 के स्तर पर खुला। पिछले कारोबारी दिन डॉलर के मुकाबले रुपया 71.08 के स्तर पर बंद हुआ था।

इन कारकों से प्रभावित होगी बाजार का चाल

एक फरवरी को पेश होने वाले आम बजट को लेकर उम्मीदों से इस सप्ताह शेयर बाजार की दिशा तय होगी। इसके अलावा, कंपनियों के तिमाही नतीजे, कच्चे तेल की कीमतों, रुपये की चाल और विदेशी निवेशकों के रुख भी बाजार को प्रभावित करेंगे। इस सप्ताह कोटक महिंद्रा बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, एक्सिस बैंक, केनरा बैंक और बैंक ऑफ बड़ौदा के तिमाही परिणाम आने हैं। इन पर निवेशकों की नजर रहेगी। विश्लेषकों का कहना है कि अमेरिका-ईरान तनाव कम होने और अमेरिका एवं चीन के बीच पहले चरण के व्यापार समझौते पर हस्ताक्षर शेयर बाजार की हालिया तेजी के प्रमुख वजह हैं।

पिछले कारोबारी दिन मामूली गिरावट पर खुला था सेंसेक्स

पिछले कारोबारी दिन शेयर बाजार मामूली गिरावट पर खुला था। सेंसेक्स 56.18 अंक यानी 0.13 फीसदी की गिरावट के बाद 41,876.38 के स्तर पर खुला था। वहीं निफ्टी 25.65 अंक यानी 0.21 फीसदी की गिरावट के बाद 12,329.85 के स्तर पर खुला था।

शुक्रवार को 41,945.37 के स्तर पर बंद हुआ था सेंसेक्स

शुक्रवार को दिनभर के कारोबार के बाद शेयर बाजार सपाट स्तर पर बंद हुआ था। सेंसेक्स 12.81 अंक यानी 0.03 फीसदी की बढ़त के बाद 41,945.37 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं निफ्टी 3.15 अंक यानी 0.03 फीसदी की गिरावट के बाद 12,352.35 के स्तर पर बंद हुआ था। 

19-01-2020
लगातार चौथे दिन पेट्रोल-डीजल के दाम हुए कम

नई दिल्ली। चौथे दिन लगातार पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कमी आई है। दिल्ली और मुंबई में एक लीटर पेट्रोल की कीमत 17 पैसे कम हुई है। दिल्ली और कोलकाता में एक लीटर डीजल 16 पैसे कम हुआ है। तेल कंपनियों ने लगातार चौथे दिन रविवार को पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कमी कर दी है। यानी आज पेट्रोल और डीजल के लिए ग्राहकों को शनिवार की तुलना में कम कीमत में देनी होगी। दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल की कीमत 17 पैसे कम हुई है, कोलकाता में 16 पैसे, मुंबई में 17 पैसे और चेन्नई में 18 पैसे, जिसके बाद इन महानगरों में पेट्रोल की कीमत क्रमश: 75.09, 77.69, 80.68 और 78.01 रुपये प्रति लीटर हो गई है। वहीं डीजल की बात करें तो दिल्ली और कोलकाता में एक लीटर डीजल 16 पैसे कम हुआ है और मुंबई और चेन्नई में 17 पैसे सस्ता हुआ है। इसके बाद डीजल की कीमत क्रमश: 68.45, 70.81, 71.77 और 72.33 रुपये प्रति लीटर हो गई है।

17-01-2020
अब सभी बैंकों में कामकाज और लेनदेन का समय एकसमान, खाताधारकों को राहत

रायपुर। शहर में स्टेट बैंक सहित सभी बैंकों और उनकी शाखाओं में कामकाज का समय तय कर दिया गया है। सभी बैंकों में कामकाज सुबह 10 बजे शुरू होंगे और लेनदेन सहित समस्त कार्य शाम 4 बजे तक चलेगा। प्रदेश स्तरीय बैंकर्स समिति की बैठक में बैंकों के भिन्न-भिन्न टाइम का मामला उठा था।  इसके बाद तय किया गया कि एक ही समय पर सभी बैंकों और शाखाओं में कामकाज भी शुरू कर दिया जाये। गत वर्ष दिसंबर तक राज्य में बैंकों की टाइमिंग एकसमान नहीं थी इसलिए लोगों में भी शंका रहती थी कि किस बैंक में कितने समय तक काम होता है। कारोबारियों के लिए यह संदेश दिक्कत पैदा करता था और महीनों से यह मुद्दा उठाया जा रहा है की सारे बैंकों की टाइमिंग एक होनी चाहिए और लेनदेन का समय भी एक रहना चाहिए। प्रदेश स्तरीय बैंकर्स समिति की बैठकों में भी यह मामला उठा इसके बाद ही तय किया गया था कि जनवरी 2020 से सभी बैंकों में एक जैसे समय पर ही काम होगा। फैसला अब पूरी तरह लागू कर दिया गया है सभी बैंकों में टाइमिंग को लेकर यह सूचना भी लगा दी है यही नहीं लोगों को मोबाइल के माध्यम से एसएमएस भी भेजे जा रहे हैं।

16-01-2020
सोने की कीमत में दूसरे दिन भी बढ़ोत्तरी, चांदी के दाम भी चढ़े

नई दिल्ली। वैश्विक स्तर पर दोनों कीमती धातुओं में रही गिरावट के बीच दिल्ली सर्राफा बाजार में गुरुवार को सोना 50 रुपए चमककर 41,020 रुपए प्रति दस ग्राम पर पहुंच गया। चांदी भी 100 रुपए की बढ़त में 47,450 रुपए प्रति किलोग्राम के भाव बिकी। स्थानीय स्तर पर सोने-चांदी के भाव लगातार दूसरे दिन बढ़े हैं। लंदन एवं न्यूयॉर्क से मिली जानकारी के अनुसार, सोना हाजिर 0.70 डॉलर की गिरावट में 1,555.25 डॉलर प्रति औंस पर आ गया। अमेरिका और चीन के बीच व्यापार युद्ध पर पहले चरण का समझौता होने से सुरक्षित निवेश के रूप में सोने का आकर्षण कम हुआ है। अमेरिकी सोना वायदा हालांकि 0.90 डॉलर की तेजी के साथ 1,554.90 डॉलर प्रति औंस बोला गया। अंतरराष्ट्रीय बाजार में चांदी हाजिर भी 0.05 डॉलर फिसलकर 17.94 डॉलर प्रति औंस पर रही।

 

15-01-2020
सोना और चांदी की कीमतों में आया उछाल, इतने बढ़े दाम..

नई दिल्ली। वैश्विक बाजार में मजबूत लिवाली से बुधवार को दिल्ली में सोना 256 रुपये चढ़कर 40,441 रुपये प्रति दस ग्राम पर पहुंच गया। सोना मंगलवार को 40,185 रुपये प्रति दस ग्राम पर बंद हुआ था। वरिष्ठ विश्लेषक ने कहा,अमेरिका-चीन व्यापार समझौते से जुड़े संकेतों के बीच वैश्विक बाजारों में पीली धातु में मजबूत लिवाली से दिल्ली में 24 कैरेट सोने का हाजिर भाव 256 रुपये बढ़ा। चांदी भी 228 रुपये बढ़कर 47,272 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गई। पिछले कारोबारी दिन में चांदी 47,044 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुई थी। इस बीच, अमेरिका-चीन के बीच व्यापार करार से पहले निवेशकों के सतर्क रुख के बीच बुधवार को शुरुआती कारोबार में रुपया 14 पैसे टूटकर 71.01 प्रति डॉलर पर चल रहा था। अंतरराष्ट्रीय बाजार में, सोना बढ़कर 1,552 डॉलर प्रति औंस पर रहा जबकि चांदी चढ़कर 17.83 डॉलर प्रति औंस रही।

 

14-01-2020
आरबीआई के डिप्टी गवर्नर बने माइकल पात्रा

नई दिल्ली। माइकल पात्रा को भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) का नया डिप्टी गवर्नर नियुक्त किया गया है। आरबीआई के मौजूदा कार्यकारी निदेशक पात्रा को यह जिम्मेदारी मंगलवार को सौंपी गई। यह पद करीब छह महीने पहले विरल आचार्य के इस्तीफे के बाद से खाली पड़ा हुआ था। कैबिनेट की नियुक्ति समिति की ओर से जारी एक बयान के अनुसार, पात्रा को तीन साल के लिए नियुक्त किया गया है। पात्रा ने आचार्य का स्थान लिया, जिन्होंने पिछले साल 23 जुलाई को पद छोड़ दिया था। पात्रा भारतीय रिजर्व बैंक में चौथे डिप्टी गवर्नर के रूप में पदभार संभालेंगे। वह संभवत: आचार्य द्वारा संचालित मौद्रिक नीति का कार्यभार संभालेंगे। वह सभी महत्वपूर्ण मौद्रिक नीति समिति में भी शामिल होंगे, जो ब्याज दर पर निर्णय लेती है। आचार्य से पहले इस पद पर उर्जित पटेल थे, जिन्हें बाद में गवर्नर बना दिया गया। 2017 में आरबीआई के साथ करियर शुरू करने वाले माइकल पात्रा की मौद्रिक नीति को लेकर सोच आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास से मेल खाती है। 

09-01-2020
आयकर रिटर्न फॉर्म में किए गए बड़े बदलाव, देनी होगी ये अहम जानकारी  

नई दिल्ली। करदाताओं की सहूलियत के लिए आयकर विभाग ने करीब चार महीने पहले ही आकलन वर्ष 2020-21 के लिए रिटर्न फॉर्म को नोटिफाई कर दिया है। इसमें विभाग ने बड़े स्तर पर बदलाव करते हुए करदाताओं से कई नई तरह की जानकारियां मांगी हैं। आयकर विभाग अमूमन किसी आकलन वर्ष का आईटीआर फॉर्म अप्रैल के पहले सप्ताह में जारी करता है। करदाताओं की मांग पर केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने इस बार चार महीने पहले जनवरी की शुरुआत में ही दो फॉर्म नोटिफाई कर दिए हैं। विभाग ने अभी आकलन वर्ष 2020-21 के लिए आईटीआर फॉर्म-1 सरल और आईटीआर-4 सहज फॉर्म को नोटिफाई किया है। अन्य फॉर्म भी जल्द करदाताओं के सामने आ जाएंगे। हालांकि, इन्हें अभी एक्टिवेट नहीं किया गया है।

मकान के संयुक्त मालिक तो भरें आईटीआर-2

आयकर विभाग ने बताया है कि सालाना 50 लाख रुपये से कम आय वाले व्यक्तिगत करदाता या अविभाजित हिंदू परिवार (एचयूएफ) अगर किसी मकान के संयुक्त रूप से मालिक हैं, तो अब वे आईटीआर-1 नहीं भर सकेंगे। दरअसल, कर बचाने के लिए आमतौर पर नौकरीपेशा दंपति संयुक्त रूप से किसी मकान को खरीदते हैं। इस पर बैंक से बड़ा कर्ज भी मिल जाता है। 2020-21 के लिए उन्हें आईटीआर-2 फॉर्म भरना होगा।

देना होगा पासपोर्ट नंबर

आयकर विभाग ने आगामी आकलन वर्ष से जिन करदाताओं के पास पासपोर्ट है, उनके लिए रिटर्न फॉर्म में इसकी जानकारी देना अनिवार्य कर दिया है। यह नियम आईटीआर-1 और आईटीआर-4 के अलावा आने वाले सभी रिटर्न फॉर्म पर भी लागू होंगे।

विदेश यात्रा का विवरण

अगर किसी करदाता ने वित्त वर्ष 2019-20 में परिवार के साथ विदेश यात्रा की है, तो उसे रिटर्न में ज्यादा जानकारियां देनी होंगी। इस यात्रा में अगर 2 लाख रुपये से ज्यादा खर्च आता है तो करदाता आईटीआर-1 फॉर्म नहीं भर सकेंगे। अगर ये करदाता आईटीआर-4 के दायरे में आते हैं, तो इन्हें खर्च की गई राशि का खुलासा करना होगा।

ज्यादा बिजली खपत का खुलासा

वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान किसी करदाता ने बिजली बिल पर 1 लाख रुपये से ज्यादा खर्च किए हैं, तो वह आईटीआर-1 दाखिल नहीं कर सकेगा। ऐसे करदाता को आईटीआर फॉर्म-4 का इस्तेमाल करना होगा और उन्हें बिजली बिल पर खर्च राशि की जानकारी भी देनी होगी।

1 करोड़ से ज्यादा जमा पर सहज फॉर्म

आयकर विभाग के मुताबिक, किसी करदाता ने 2019-20 में किसी एक या ज्यादा बैंकों के चालू खाते में 1 करोड़ से ज्यादा राशि जमा की है, तो उन्हें भी आईटीआर फॉर्म-4 यानी सहज चुनना होगा। साथ ही वित्त वर्ष के दौरान जमा की गई कुल राशि का भी खुलासा करना होगा।

 

09-01-2020
शेयर बाजार में आई बढ़त, सेंसेक्स में आई 480 अंक की बढ़त

मुंबई। सप्ताह के चौथे कारोबारी दिन यानी गुरुवार को शेयर बाजार हरे निशान पर खुला। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 483.24 अंक यानी 1.18 फीसदी की बढ़त के बाद 41,300.98 के स्तर पर खुला। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 130.75 अंक यानी 1.09 फीसदी की बढ़त के बाद 12,156.10 के स्तर पर खुला। निवेशकों ने इस अनुमान पर दांव लगाया कि पश्चिम एशिया में तनाव अब और नहीं बढ़ेगा।

ऐसा रहा दिग्गज शेयरों का हाल

दिग्गज शेयरों की बात करें, तो जेएसडब्ल्यू स्टील, इंफ्राटेल, आईओसी, इंडसइंड बैंक, जी लिमिटेड, बीपीसीएल, एसबीआई, टाटा स्टील और एक्सिस बैंक के शेयर हरे निशान पर खुले। वहीं एचसीएल टेक, टीसीएस, विप्रो और टेक महिंद्रा के शेयर लाल निशान पर खुले।

सेक्टोरियल इंडेक्स पर नजर

सेक्टोरियल इंडेक्स पर नजर डालें, तो आज सभी सेक्टर्स हरे निशान पर खुले। इनमें एफएमसीजी, फार्मा, पीएसयू बैंक, आईटी, ऑटो, रियल्टी, मेटल, मीडिया और प्राइवेट बैंक शामिल हैं।

प्री ओपन के दौरान यह था शेयर मार्केट का हाल

प्री ओपन के दौरान सुबह 9:10 बजे शेयर मार्केट हरे निशान पर था। सेंसेक्स 398.93 अंक यानी 0.98 फीसदी की बढ़त के बाद 41,216.67 के स्तर पर था। वहीं निफ्टी 127.80 अंक यानी 1.06 फीसदी की बढ़त के बाद 12,153.15 के स्तर पर था।

71.43 के स्तर पर खुला रुपया

डॉलर के मुकाबले आज रुपया 27 पैसे की बढ़त के बाद 71.43 के स्तर पर खुला। वहीं पिछले कारोबारी दिन भी डॉलर के मुकाबले रुपया 71.70 के स्तर पर ही बंद हुआ था।

बुधवार को इतने पर खुला था सेंसेक्स

बुधवार को बीएसई के सेंसेक्स में शुरुआती कारोबार में 270 अंक से ज्यादा की गिरावट दर्ज की गई थी। सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में 187.36 अंक यानी 0.46 फीसदी गिरकर 40,682.11 अंक पर आ गया था। वहीं निफ्टी भी शुरुआती दौर में 68.60 अंक यानी 0.57 फीसदी फिसलकर 11,984.35 अंक पर आ गया।

बुधवार को 40,818 के स्तर पर बंद हुआ था सेंसेक्स

बुधवार को निफ्टी 95 अंक और सेंसेक्स 341 अंक सुधरकर बंद हुआ। सेंसेक्स 52 अंक गिरकर 40,818 पर बंद हुआ था। निफ्टी 28 अंक गिरकर 12,025 पर बंद हुआ था। जबकि बैंक निफ्टी 26 अंक गिरकर 31,374 पर और मिडकैप 53 अंक चढ़कर 17,074 पर बंद हुआ।

 

Please Wait... News Loading