GLIBS

27-05-2020
भारतीय स्टेट बैंक ने दिया एक और झटका, एक ही महीने में दूसरी बार बदली फिक्स्ड डिपॉजिट की दरें

नई दिल्ली। भारतीय स्टेट बैंक ने एक महीने में दूसरी बार फिक्स डिपॉजिट करने वाले ग्राहकों को झटका दिया है। एसबीआई ने एक ही महीने में दूसरी बार फिक्स्ड डिपॉजिट पर मिलने वाले ब्याज में कमी कर दी है। बैंक ने सावधि जमा पर ब्याज दरों में 40 आधार अंकों की कटौती की है। दो करोड़ रुपए से कम की फिक्स्ड डिपॉजिट पर एसबीआई की नई दरें आज यानी 27 मई 2020 से लागू हो गई हैं। एसबीआई की वेबसाइट के मुताबिक बैंक ने 2 करोड़ या इससे अधिक की एफडी पर भी 50 बीपीएस तक की कटौती की है। इस श्रेणी के तहत एसबीआई द्वारा प्रस्तावित ब्याज दर अधिकतम 3% है। इस श्रेणी के अंतर्गत आने वाली नई दरें भी आज से ही लागू हो गई हैं। इससे पहले एसबीआई ने तीन साल की अवधि के खुदरा टर्म डिपॉजिट पर 20 आधार अंकों की कमी की थी, जो 12 मई 2020 से लागू हो गई थी। मार्च में भी बैंक ने दो बार एफडी की दर कम की थी। आइए जानते हैं कि दो करोड़ से कम की एफडी पर आपको कितना ब्याज मिलेगा।  

एसबीआई एफडी की लेटेस्ट ब्याज दरें :

7 दिन से 45 दिन 2.9%
46 दिन से 179 दिन  3.9%
180 दिन से 210 दिन  4.4%
211 दिन से 1 वर्ष से कम  4.4%
1 वर्ष से 2 वर्ष से कम 5.1%
2 साल से 3 साल से कम  5.1%
3 साल से 5 साल से कम 5.3%
5 साल और 10 साल तक  5.4%

वरिष्ठ नागरिकों के लिए 27 मई से प्रभावी एफबीआई की नवीनतम ब्याज दरें :

7 दिन से 45 दिन  3.4%
46 दिन से 179 दिन   4.4%
180 दिन से 210 दिन   4.9%
211 दिन से 1 वर्ष से कम  4.9%
1 वर्ष से 2 वर्ष से कम  5.6%
3 साल से कम 2 साल 5.6%
3 साल से 5 साल से कम 5.8%
5 साल और 10 साल तक 6.2%

एसबीआई ने 12 मई को 20 बीपीएस द्वारा '3 साल' तक के कार्यकाल के लिए सावधि जमा पर ब्याज दरों में कटौती की थी। मार्च में, एसबीआई ने एफडी पर ब्याज दरों को 20-50 बीपीएस से घटाकर 28 मार्च 2020 तक प्रभावी कर दिया था। यह दूसरी कटौती थी। इससे पहले बैंक ने 10 मार्च को एफडी पर ब्याज दरों में कटौती की थी।

27-05-2020
सोने-चांदी की कीमतों में आई गिरावट

नई दिल्ली। सोने-चांदी की कीमतों में आज यानी बुधवार को भारी गिरावट देखने को मिल रही है। आज सुबह 10 ग्राम 24 कैरेट सोना 46360 रुपये पर आ गया है। आज शुक्रवार के मुकाबले सोना 539 रुपये प्रति 10 ग्राम सस्ता हुआ है। वहीं अगर चांदी की बात करें तो आज 705 रुपये प्रति किलो ग्राम टूटकर चांदी 46920 रुपये पर आ गई है। इंडिया बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन की वेबसाइट (ibjarates.com) उनकी औसत कीमत अपटेड करती है। वहीं 24 कैरेट सोना यानी गोल्ड 999 का भाव मंगलवार के मुकाबले 539 रुपये सस्ता हुआ है। वहीं 23 कैरेट सोना यानी गोल्ड 995 में 542 रुपये की गिरावट देखने को मिल रही है। जबकि 22 कैरेट सोने की कीमत 494 रुपये टूटकर 42374 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गई है। इंडिया बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन दिल्ली के मीडिया प्रभारी राजेश खोसला के मुताबिक ibja देशभर के 14 सेंटरों से सोने-चांदी का करेंट रेट लेकर इसका औसत मूल्य बताता है। खोसला कहते हैं कि सोने-चांदी का करेंट रेट या यूं कहें हाजिर भाव अलग-अलग जगहों पर अलग हो सकते हैं पर इनकी कीमतों में मामूली अंतर होता है।

27-05-2020
हरे निशान पर खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स में हुई बढ़त, जानें निफ्टी का हाल

नई दिल्ली। लगातार दूसरे कारोबारी दिन आज शेयर बाजार हरे निशान पर खुला। बुधवार को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स में मामूली बढ़त देखी गई। यह 0.33 फीसदी की बढ़त के साथ 99.50 अंक ऊपर 30708.80 के स्तर पर खुला। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 0.58 फीसदी की तेजी के साथ 52 अंक ऊपर 9081.05 के स्तर पर खुला। शेयर बाजार के अनंतिम आंकड़ों के मुताबिक विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने मंगलवार को पूंजी बाजार में 4,716.13 करोड़ रुपये की इक्विटी खरीदी।

वैश्विक बाजारों का हाल :

मंगलवार को दुनियाभर के ज्यादातर बाजारों में बढ़त देखने को मिली, जिसका असर घरेलू बाजार पर पड़ा। अमेरिका का डाउ जोंस 2.17 फीसदी की बढ़त के साथ 529.95 अंक ऊपर 24,995.10 पर बंद हुआ था। नैस्डैक 0.17 फीसदी बढ़त के साथ 15.63 अंक ऊपर 9,340.22 पर बंद हुआ था। एसएंडपी 1.23 फीसदी बढ़त के साथ 36.32 अंक ऊपर 2,991.77 पर बंद हुआ था। चीन का शंघाई कम्पोसिट 0.22 फीसदी गिरावट के साथ 6.18 अंक नीचे 2,840.37 पर बंद हुआ था। साथ ही इटली, फ्रांस और जर्मनी के बाजार में बढ़त देखने को मिली थी।    

दिग्गज शेयरों का हाल :
दिग्गज शेयरों की बात करें, तो आज हिंडाल्को, कोटक बैंक, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बंक, टाटा मोटर्स, हीरो मोटोकॉर्प, यूपीएल, सन फार्मा और वेदांता लिमिटेड के शेयर हरे निशान पर खुले। वहीं चाइचन, एम एंड एम, ओएनजीसी, गेल, अडाणी पोर्ट्स, कोल इंडिया, आईटीसी, एनटीपीसी, जेएसडब्ल्यू स्टील और डॉक्टर रेड्डी के शेयर लाल निशान पर खुले। 

मंगलवार को मामूली गिरावट पर बंद हुआ था बाजार :
मंगलवार को दिनभर की बढ़त गंवाकर शेयर बाजार मामूली गिरावट पर बंद हुआ था। सेंसेक्स 0.21 फीसदी की गिरावट के साथ 63.29 अंक नीचे 30609.30 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं निफ्टी 0.11 फीसदी लुढ़ककर 10.20 अंक नीचे 9029.05 के स्तर पर बंद हुआ था।

26-05-2020
बैंक हॉलिडे 2020 : आगामी 3 महीने में 30 दिन बंद रहेंगे बैंक, यहां देखें पूरी लिस्ट

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण इस वक़्त देश में लॉक डाउन चल रहा है। देश में लगे लॉक डाउन की वजह से स्कूल, कॉलेज, दुकानें, ऑफिस और ज्यादातर संस्थान बंद हैं। लेकिन बैंक लगातार खुल रहे हैं। हालांकि बैंकों के खुलने  और बंद होने की समय सारणी में थोड़ा फेरबदल हुआ है। लेकिन पूरे लॉक डाउन में बैंक कर्मचारी अनवरत काम करते रहे हैं। अगर बैंक की छुट्टियों की बात करें तो आगामी तीन महीने यानी जून, जुलाई और अगस्त में बैंक तकरीबन 30 दिन बंद रहेंगे। हालांकि इनमें रविवार और दूसरे-चौथे शनिवार को शामिल किया गया है। भारतीय रिजर्व बैंक की छुट्टियों की लिस्ट के अनुसार 3 महीने में रक्षाबंधन, जन्मअष्टमी, बकरा ईद जैसे अवकाश शामिल हैं। इस दौरान खाताधारकों को परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए इन तारीखों के बारे में जानना आपके लिए बहुत जरूरी है, जिससे आप समय से पहले ही अपना काम पूरा कर लें। आइए बताते हैं जून 2020 से लेकर अगस्त 2020 तक किस-किस दिन बंद रहेंगे बैंक देखें लिस्ट।।

किस तारीख को क्यों है बैंक की छुट्टी?

जून: 7, 13, 14, 17, 23, 24 और 31 जून को शनिवार और रविवार की वजह से छुट्टी रहेगी। इसके अलावा 18 जून गुरु हरगोबिंद जी जयंती कई राज्यों में अवकाश रहेगा।

जुलाई: 5, 11, 12, 19, 25 और 26 जुलाई को शनिवार और रविवार की वजह से छुट्टी रहेगी। इसके साथ ही 31 जुलाई को बकरा ईद गजेटेड हॉलिडे रहेगा।

अगस्त: 2, 8, 9, 16, 22, 23, 29 और 30 अगस्त को शनिवार और रविवार की वजह से छुट्टी रहेगी। अगस्त में 03 अगस्त को रक्षाबंधन की वजह से छुट्टी है, 11 अगस्त श्री कृष्ण जन्माष्टमी स्थानीय छुट्टी, 12 अगस्त श्री कृष्ण जन्माष्टमी गजटेड छुट्टी है, 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस का अवकाश, 21 अगस्त तीज (हरितालिका) स्थानीय छुट्टी रहेगी, 22 अगस्त गणेश चतुर्थी स्थानीय अवकाश रहेगा, 30 अगस्त मुहर्रम गजटेड छुट्टी है, 31 अगस्त ओणम का स्थानीय अवकाश रहेगा।

22-05-2020
कोरोना संकट: दुबई की 70 प्रतिशत कंपनियां अगले 6 महीने में हो सकती हैं बंद

नई दिल्ली। दुनिया भर में कोरोना वायरस से हाहाकार मचा हुआ है। विश्व भर में कोरोना वायरस से संक्रमण के मामले 50 लाख के पार हो गए है। वहीं 200 से अधिक देशों में कोरोना फैल चुका है। इस महामारी के कारण के कई देशों में लॉकडाउन लागू है। इसके बावजूद महामारी थमती दिखाई नहीं दे रही है। इस घातक वायरस की वजह से लाखों लोग अपनी जान तो गंवा ही रहे हैं अब लोगों की रोजी-रोटी पर संकट आ गया है।दुनिया कोरोना महामारी के संकट का सामना कर रही है। कोरोना का कहर दुबई में भी जारी है। दुनिया के सबसे अमीर शहरों में शुमार दुबई भी इस महामारी की आंधी में ढहता दिखाई दे रहा है। दुबई चेंबर ऑफ कॉमर्स ने कोरोना संकट के कारण होने वाले असर को लेकर एक सर्वे किया है। सर्वे में कहा गया है कि अगले छह महीने में कोविड-19 महामारी के कारण दुबई के 70 प्रतिशत बिजनेस बंद हो सकते हैं।

छोट और मंझोले बिजनेस तबाह

गुरुवार को जारी इस सर्वे में कहा गया है कि यहां की 90 फीसदी से अधिक कंपनियों को इस साल के पहले तीन महीनों में भारी नुकसान हुआ है। कंपनियों की सेल और टर्नओवर पर बुरा असर पड़ा है। चिंता की बात यह है कि पूरी दुनिया में आर्थिक सुस्ती के हालात पैदा हो गए हैं। इसका सबसे ज्यादा असर छोटे और मंझोले उद्योगों पर पड़ा है।दुबई में हर साल दुनिया भर के लोग घूमने और छुट्टियां बिताने आते हैं। इस वजह से यहां पर्यटन उद्योग काफी बड़ा है। कोरोना वायरस की वजह से पर्यटन पूरी तरह बंद हो गया है और इस क्षेत्र की कंपनियां डूबने के कगार पर हैं। इसके अलावा रियल स्टेट की आधी से ज्यादा कंपनियां, होटस-रेस्त्रां मालिकों और रिटेल बिजनेस का काम पहले ही 70 फीसदी तक कम हो गया है। आने वाले दिनों में हालात और भी खराब होने वाले हैं।

22-05-2020
ईएमआई भुगतान पर तीन महीने की अतिरिक्त मोहलत, मोरेटोरियम को 31 अगस्त तक बढ़ाया

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की और ग्राहकों के लिए बड़ी राहत का ऐलान किया। होम लोन, पर्सनल लोन, वाहन कर्ज की ईएमआई चुका रहे लोगों के लिए आरबीआई ने फिर राहत दी है। केंद्रीय बैंक ने रेपो रेट में कटौती कर दी है, जिससे आपके लोन की ब्याज दरें कम हो जाएंगी। साथ ही टर्म लोन मोरेटोरियम 31 अगस्त तक के लिए बढ़ा दिया गया है। यानी अगर आप अगले 3 महीने तक अपने लोन की ईएमआई नहीं देते हैं तो बैंक दबाव नहीं डालेगा। शक्तिकांत दास ने रेपो रेट कटौती का ऐलान किया है। इस कटौती के बाद आरबीआई की रेपो रेट 4.40 फीसदी से घटकर 4 फीसदी हो गई है। इसके साथ ही लोन की किस्‍त देने पर 3 महीने की अतिरिक्‍त छूट दी गई है। आरबीआई ने कहा ईएमआई देने पर राहत 1 जून से 31 अगस्त तक के लिए बढ़ाई जा रही है। दरअसल आरबीआई को यह निर्णय इसलिए करना पड़ा कि लॉक डाउन के जारी रहने से लोगों की आय का फ्लो फिर से सुचारू नहीं हो पाया है। लोग ईएमआई मॉरेटोरियम की मौजूदा 31 मई तक की अवधि के खत्म होने के बाद मौजूदा परिस्थिति में अपना कर्ज चुकाने में सक्षम नहीं होंगे। इसलिए मॉरेटोरियम को और तीन माह तक बढ़ाना पड़ा। यह कर्ज लेने वालों और बैंकों दोनों के लिए इस मुश्किल वक्त में मददगार रहेगा।

रेपो रेट में 0.40 फीसदी की कटौती :

आरबीआई गवर्नर ने बताया कि पिछले तीन दिन में एमपीसी ने घरेलू और ग्लोबल माहौल की समीक्षा की। इसके बाद रेपो रेट में 0.40 फीसदी की कटौती का फैसला लिया गया है। लॉक डाउन में यह दूसरी बार है जब आरबीआई ने रेपो रेट पर कैंची चलाई है। इससे पहले 27 मार्च को आरबीआई गवर्नर ने 0.75 फीसदी कटौती का ऐलान किया था। इसके बार बैंकों ने लोन पर ब्‍याज दर कम कर दिया था। जाहिर सी बात है कि इससे आपकी ईएमआई भी पहले के मुकाबले कम हो गई है।

ईएमआई पर तीन महीने की अतिरिक्‍त छूट :

आरबीआई ने लॉक डाउन के शुरुआती दिनों में प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर बैंकों से 3 महीने के लिए लोन और ईएमआई पर छूट देने को कहा था। इसके बाद अधिकतर बैंकों ने इसे 3 महीने के लिए लागू कर दिया था। अब आरबीआई के नए 3 महीनों के लिए मोहलत के ऐलान के बाद ग्राहकों को कुल 6 महीने की छूट मिल जाएगी। मतलब ये कि आप कुल 6 महीने तक लोन की ईएमआई नहीं देना चाहते हैं तो बैंकों की ओर से कोई दबाव नहीं पड़ेगा। वहीं, आपका क्रेडिट स्‍कोर भी दुरुस्‍त रहेगा। यानी बैंक की नजर में आप डिफॉल्‍टर नहीं होंगे। हालांकि, इसके लिए आपको अतिरिक्‍त ब्‍याज देनी पड़ेगी।

27 मार्च को घोषित किया था विकल्प :

भारतीय रिजर्व बैंक ने 27 मार्च को बैंकों व वित्तीय संस्थानों को 1 मार्च 2020 तक बकाया सभी टर्म लोन्स लेने वालों को ईएमआई के भुगतान पर 3 माह का मोरेटोरियम उपलब्ध कराने को कहा था। इस विकल्प में ग्राहक मार्च, अप्रैल और मई माह की अपनी ईएमआई चाहें तो होल्ड कर सकते हैं। हालांकि ईएमआई स्थगन के इन तीन महीनों की अवधि के दौरान ब्याज लगता रहेगा, जो बाद में एक्स्ट्रा ईएमआई के तौर पर देना होगा। जो ग्राहक अपनी ईएमआई होल्ड नहीं करना चाहते, उन्हें कुछ भी करने की जरूरत नहीं है। उनकी ईएमआई वैसे ही कटती रहेगी, जैसे कट रही थी।

आरबीआई गवर्नर की बड़ी बातें :

- पहली छमाही में भारत की जीडीपी ग्रोथ 2020-21 में निगेटिव रहेगी. हालांकि साल के दूसरे हिस्से में ग्रोथ में कुछ तेजी दिख सकती है।

- रिवर्स रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं हुआ है।

- लॉक डाउन से आर्थिक गतिविधियों में भारी गिरावट, छह बड़े औद्योगिक राज्यों में ज्यादातर रेड जोन रहे।

- मार्च में कैपिटल गुड्स के उत्पादन में 36 फीसदी की गिरावट।

-कंज्यूमर ड्यूरेबल के उत्पादन में 33 फीसदी की गिरावट।

-औद्योगिक उत्पादन में मार्च में 17 फीसदी की गिरावट।

- मैन्युफैक्चरिंग में 21 फीसदी की गिरावट. कोर इंडस्ट्रीज के आउटपुट में 6.5 फीसदी की कमी।

-खरीफ की बुवाई में 44 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।

-खाद्य महंगाई फिर अप्रैल में बढ़कर 8.6 फीसदी हो गई।

-दालों की महंगाई अगले महीनों में खासकर चिंता की बात रहेगी।

- इस छमाही में महंगाई उंचाई पर बनी रहेगी, लेकिन अगली छमाही में इसमें नरमी आ सकती है।

- 2020-21 में भारत के विदेशी मुद्रा भंडार 9.2 बिलियन डॉलर की बढ़ोतरी दर्ज की गई. भारत का विदेशी मुद्रा भंडार अभी 487 बिलियन डॉलर का है।

-15,000 करोड़ रुपये का क्रेडिट लाइन एग्जिम बैंक को दिया जाएगा।

-सिडबी को दी गई रकम का इस्तेमाल आगे और 90 दिन तक करने की इजाजत।

20-05-2020
300 अंको की तेजी के साथ खुला शेयर बाजार, निफ्टी में भी आई बढ़त

मुंबई। प्रमुख शेयर सूचकांक सेंसेक्स में बुधवार को शुरुआती कारोबार के दौरान 300 अंकों से अधिक की तेजी हुई और इस दौरान मिलेजुले वैश्विक संकेतों के बीच आईटीसी, एचडीएफसी और एचयूएल में बढ़त देखने को मिली। सेंसेक्स 30,524.53 के ऊपरी स्तर को छूने के बाद 217.69 अंक या 0.72 प्रतिशत की तेजी के साथ 30,413.56 पर कारोबार कर रहा था। इसी तरह एनएसई निफ्टी 57.70 अंक या 0.65 प्रतिशत बढ़कर 8,936.80 पर पहुंच गया। सेंसेक्स में सबसे अधिक तीन प्रतिशत की बढ़त आईटीसी में हुई। इसके अलावा एलएंडटी, टाटा स्टील, एनटीपीसी, एचयूएल, पावरग्रिड, एचडीएफसी और अल्ट्राटेक सीमेंट भी बढ़त के साथ कारोबार कर रहे थे। दूसरी ओर हीरो मोटोकॉर्प, इंडसइंड बैंक, बजाज फाइनेंस, एशियन पेंट्स और एसबीआई में गिरावट देखने को मिली। शेयर बाजार के अनंतिम आंकड़ों के मुताबिक विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने मंगलवार को पूंजी बाजार से 1,328.31 करोड़ रुपये के निकाले।विश्लेषकों के मुताबिक देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के कारण कारोबारी सतर्क रुख अपना रहे हैं।

19-05-2020
शेयर बाजार में रहा तेजी का रुख, बढ़त के साथ बंद हुए सेंसेक्स और निफ्टी

मुंबई। एशियाई बाजारों में मजबूत संकेतों के बीच घरेलू शेयर बाजारों में मंगलवार को तेजी का रुख रहा और सेंसेक्स 167 अंक चढ़कर बंद हुआ। उतार-चढ़ाव भरे कारोबार में 700 से ज्यादा अंक ऊपर नीचे होने के बाद 30 प्रमुख शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स 167.19 अंक यानी 0.56 प्रतिशत बढ़कर 30,196.17 अंक पर बंद हुआ। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 55.85 अंक यानी 0.63 प्रतिशत की बढ़त के साथ 8,879.10 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स में शामिल भारती एयरटेल का शेयर सबसे अधिक लाभ में रहा। कंपनी का शेयर 11 प्रतिशत तक चढ़ गया। ओएनजीसी, अल्ट्राटेक सीमेंट, आईटीसी, पावरग्रिड और एनटीपीसी में भी अच्छा लाभ रहा।कारोबारियों ने कहा कि कोविड-19 की वैक्सीन के परीक्षण में उत्साहजनक परिणाम से वैश्विक स्तर पर निवेशकों की धारणा मजबूत रही। इसका घरेलू शेयर बाजार में भी अनुकूल असर दिखा।

अमेरिका की बायोटेक्नोलॉजी कंपनी मॉडर्ना का कहना है कि उसे कोरोना वायरस की अपनी विकसित की जा रही वैक्सीन की जांच में शुरुआती सफलता मिली है। मानव परीक्षण में इसके परिणाम उत्साहजनक हैं और यह व्यक्ति की इस वायरस रोग के विरुद्ध प्रतिरोधक क्षमता को जगाने में सक्षम दिखी है। शंघाई, हांगकांग और सियोल के शेयर बाजार लाभ में बंद हुए। हालांकि शुरुआती सौदों में यूरोपीय शेयर बाजारों में गिरावट का रुझान था। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ब्रेंट कच्चा तेल का भाव 0.63 प्रतिशत टूटकर 34.59 डॉलर प्रति बैरल पर चल रहा था।

18-05-2020
राहत पैकेज के बाद सप्ताह के पहले दिन शेयर बाजार में भारी गिरावट

मुंबई। मोदी सरकार की तरफ से दिए गए राहत पैकेज का सोमवार को बाजार पर कोई असर देखने को नहीं मिला। सप्ताह में कारोबार के पहले दिन ही सेंसेक्स 1,068.75 अंक की गिरावट के साथ 30,028.98 पर बंद हुआ। वहीं, निफ्टी में भी 313.60 अंक की गिरावट देखी गई। सोमवार को निफ्टी गिरकर 8,823.25 पर बंद हुआ।दरअसल वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की तरफ से राहत पैकेज के आखिरी एलान के बाद सबकी निगाहें कारोबार के पहले दिन पर टिकी हुई थी। ऐसे में सोमवार सुबह सेंसेक्स और निफ्टी दोनों ही बढ़त के साथ खुले। सेंसेक्स 150.53 अंक ऊपर खुला तो वहीं, निफ्टी 21.45 प्वाइंट ऊपर खुला। हालांकि, बाजार के खुलने के आधा घंटे में ही यह बढ़त, गिरावट में बदल गई।

इसके बाद दिनभर ही इनमें गिरावट का ट्रेंड जारी रहा। बता दें कि शुक्रवार को भी शेयर बाजार गिरावट के साथ बंद हुआ था।कमजोर हुआ रुपयाअमेरिकी डॉलर के मुकाबले सोमवार को रुपया 33 पैसे कमजोर हो गया। कारोबार के पहले दिन की समाप्ति पर अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये टूटकर 75.91 रुपये पर बंद हुआ। दरअसल शेयर बाजार में गिरावट और विदेशी कोष के लगातार बाहर जाने से रुपया 33 पैसे कमजोर हो गया। बता दें कि रुपया शुक्रवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 75.58 पर बंद हुआ था।

18-05-2020
लाल निशान पर खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स-निफ्टी लुढ़के

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अर्थव्यवस्था के लिए 20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज का एलान किया। लेकिन बाजार को यह पैकेज रास नहीं आया। सप्ताह के पहले कारोबारी दिन यानी सोमवार को शेयर बाजार की शुरुआत लाल निशान पर हुई। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 0.42 फीसदी की गिरावट के साथ 137.40 अंक नीचे 30967.26 के स्तर पर खुला। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 0.47 फीसदी की गिरावट के साथ 42.50 अंक नीचे 9094.35 के स्तर पर खुला। दिग्गज शेयरों की बात करें, तो आज सिप्ला, इंफ्राटेल, रिलायंस, इंफोसिस, सन फार्मा, आईटीसी, हिंडाल्को, हिंदुस्तान यूनिलीवर, ब्रिटानिया और डॉक्टर रेड्डी के शेयर हरे निशान पर खुले। वहीं कोल इंडिया, आईसीआईसीआई बैंक, बजाज फाइनेंस, एक्सिस बैंक, एसबीआई, टाटा मोटर्स, इंडसइंड बैंक, मारुति, टाइटन और बजाज फिन्सर्व के शेयर लाल निशान पर खुले। 

वैश्विक बाजारों की बात करें, तो शुक्रवार को अमेरिका का डाउ जोंस 0.25 फीसदी की बढ़त के साथ 60.08 अंक ऊपर 23,685.40 पर बंद हुआ था। नैस्डैक 0.79 फीसदी बढ़त के साथ 70.84 अंक ऊपर 9,014.56 पर बंद हुआ था। एसएंडपी 0.39 फीसदी बढ़त के साथ 11.20 अंक ऊपर 2,863.70 पर बंद हुआ। चीन का शंघाई कम्पोसिट 0.45 फीसदी बढ़त के साथ 12.79 अंक ऊपर 2,881.25 पर बंद हुआ था। साथ ही फ्रांस, जर्मनी और कनाडा के बाजार भी बढ़त के साथ बंद हुए थे। सेक्टोरियल इंडेक्स भी आज एफएमसीजी, आईटी और फार्मा के अतिरिक्त सभी सेक्टर्स लाल निशान पर खुले। इनमें रियल्टी, ऑटो, बैंक, प्राइवेट बैंक, मीडिया, मेटल और पीएसयू बैंक शामिल हैं। प्री ओपन के दौरान शेयर मार्केट बढ़त पर था। सुबह 9.06 बजे सेंसेक्स 160.48 अंक यानी 0.52 फीसदी की बढ़त के बाद 31258.21 के स्तर पर था। वहीं निफ्टी 5.90 अंक यानी 0.06 फीसदी की गिरावट के बाद 9136.85 के स्तर पर था।

16-05-2020
आनंद महिंद्रा ने किया सेना में तीन साल ट्रेनिंग की पहल का समर्थन,कहा-हमारी कंपनी देगी जॉब


नई दिल्ली। उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने युवाओं को सेना में तीन साल तक सेवा देने संबंधी प्रस्ताव का समर्थन किया है। केवल इतना ही नहीं महिंद्रा ने भारतीय सेना को ईमेल लिखकर कहा है कि यदि ऐसा किया जाता है तो सेना में तीन साल तक 'टूर ऑफ ड्यूटी' करके आने वाले युवाओं को उनके समूह में नौकरी देने में तरजीह दी जाएगी।सेना को लिखे ईमेल में महिंद्रा ने लिखा, हाल ही में मुझे पता चला है कि भारतीय सेना 'टूर ऑफ ड्यूटी' संबंधी नए प्रस्ताव पर विचार कर रही है। इसके तहत युवाओं, फिट नागरिकों को स्वैच्छिक आधार पर सेना के साथ बतौर जवान या अफसर के तौर पर जुड़कर ऑपरेशनल एक्सपिरियंस (संचालन अनुभव) लेने का मौका मिलेगा। महिंद्रा ने लिखा, मुझे इस बात का पूरा यकीन है कि टूर ऑफ ड्यूटी के तौर पर सैन्य प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद जब वे कार्यस्थल पर आएंगे तो यह काफी फायदेमंद साबित होगा।

भारतीय सेना में चयन और प्रशिक्षण के सख्त मानकों के मद्देनजर सैन्य प्रशिक्षण लेने वाले युवाओं को महिंद्रा समूह नौकरी देने पर विचार करेगा। दरअसल, नागरिकों में देश सेवा की भावना बढ़ाने और आम लोगों को भारतीय सेना से जोड़ने के लिए टूर ऑफ ड्यूटी का प्रस्ताव लाने पर विचार किया जा रहा है। यदि यह प्रस्ताव पारित हो जाता है तो ये देश के इतिहास में एक बड़ा क्रांतिकारी कदम होगा। इसके तहत युवाओं को तीन साल के लिए देश सेवा का मौका दिया जाएगा,जिससे सेना को अरबों रुपये की बचत होगी।फिलहाल इस प्रस्ताव पर शीर्ष सैन्य अधिकारियों के बीच मंथन चल रहा है, लेकिन सैन्य प्रवक्ता कर्नल अमन आनंद के मुताबिक, यदि इसे मंजूरी मिलती है तो पहले चरण में टेस्ट प्रोजेक्ट के तौर पर 100 अधिकारियों व 1000 जवानों की भर्ती की जाएगी।

शुरुआत में ट्रायल के आधार पर टूर ऑफ ड्यूटी के तहत 100 अफसरों और एक हजार जवानों को सेना में तीन साल के कार्यकाल के लिए रखने की योजना है।इसके जरिए भारतीय सेना देश के बेहतरीन प्रतिभा को अपने कुनबे में शामिल करना चाहती है। वर्तमान में शॉर्ट सर्विस कमिशन के जरिए सेना में शामिल होने वालों को कम से कम 10 साल नौकरी करनी होती है। सेना के शीर्ष अधिकारी शॉर्ट सर्विस कमिशन के प्रावधानों की भी समीक्षा कर रहे हैं जिससे कि युवाओं के लिए इसे ज्यादा आकर्षक बनाया जा सके।

14-05-2020
गिरावट के साथ बंद हुआ शेयर बाजार, सेंसेक्स और निफ्टी आए तीन सप्ताह के निचले स्तर पर

मुंबई। शेयर बाजार में चौतरफा बिकवाली के कारण गुरुवार को ढाई फीसदी से अधिक लुढ़क गया। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 885.72 अंक यानी 2.77 प्रतिशत का गोता लगाकर साढ़े तीन सप्ताह के निचले स्तर 31,122.89 अंक पर आ गया। पिछले कारोबारी दिवस यह 31,008.61 अंक पर बंद हुआ था। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 240.80 अंक अर्थात् 2.57 फीसदी लुढ़ककर 9,142.75 अंक पर बंद हुआ। यह दोनों सूचकांकों में 21 अप्रैल के बाद की सबसे बड़ी गिरावट है।आईटी, टेक, ऊर्जा और वित्त समूहों के सूचकांक तीन प्रतिशत से ज्यादा लुढ़क गए। धातु, बिजली, तेल एवं गैस, बैंकिंग और यूटिलिटीज समूहों में दो से तीन प्रतिशत तक की गिरावट रही। विदेशों से मिले नकारात्मक संकेतों ने भी बाजार पर दबाव बनाया। बीएसई का मिडकैप 0.39 प्रतिशत की गिरावट में 11,536.11 अंक पर और स्मॉलकैप 0.63 फीसदी फिसलकर 10,706.48 अंक पर बंद हुआ।

गुरुवार को शुरुआती कारोबार में भी बाजार में गिरावट देखने को मिली। गुरुवार सुबह सेंसेक्स 1.96 फीसदी की गिरावट के साथ 627.55 अंक नीचे 31381.06 के स्तर पर खुला। वहीं निफ्टी 1.94 फीसदी की गिरावट के साथ 182.15 अंक नीचे 9201.40 के स्तर पर खुला। इसके बाद दोपहर 12.21 बजे सेंसेक्स 651.75 अंक (-2.04 फीसदी) नीचे 31356.86 के स्तर पर पहुंच गया था। वहीं निफ्टी 184.80 अंक (-1.97 फीसदी) नीचे 9198.75 के स्तर पर कारोबार कर रहा था। बुधवार को दिनभर के उतार-चढ़ाव के बाद शेयर बाजार जोरदार बढ़त पर बंद हुआ था। 

Please Wait... News Loading