GLIBS

18-09-2020
प्रदेशभर में जांच और उपचार के नाम पर लूट जारी: संजय श्रीवास्तव 
रा
11:06pm

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने कोरोना मामलों की जांच और इलाज में मची लूट को प्रदेश सरकार की एक और विफलता बताया है। उन्होंने कहा है कि कोरोना टेस्ट के लिए सरकार की नई गाइडलाइन के बावजूद न केवल राजधानी, अपितु प्रदेशभर में जांच और उपचार के नाम पर लूट जारी है। सरकार की नाक के नीचे राजधानी के कई बड़े निजी अस्पतालों में कोरोना का डर दिखाकर, बेड की कमी बताकर बेड मुहैया कराने, चाकू के वार से जख़्मी के इलाज के लिए लोगों से लाखों रुपए न केवल मांगे जा रहे हैं, बल्कि परिजनों को इसके लिए बाध्य तक किया जा रहा है। श्रीवास्तव ने इसे प्रदेश सरकार की कलंकित कार्यप्रणाली का नमूना बताया है। भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने आरोप लगाया है कि अपने तमाम दावों के ढोल पीट रही सरकार यह देखने की जरूरत महसूस नहीं कर रही है कि कोविड सेंटर्स में कोरोना के नाम पर किस कदर लूट मची हुई है। हालात अब इस बात की आशंका को बल प्रदान कर रहे हैं कि क्या प्रदेश सरकार और निजी अस्पतालों में कोई गुप्त समझौता हुआ है,जिसके चलते राजधानी समेत प्रदेशभर के निजी अस्पताल सरकार की तयशुदा गाइडलाइन के बावजूद लूट का यह खेल चल रहा है। श्रीवास्तव ने कहा है कि कोविड सेंटर्स को इस कदर नारकीय यंत्रणा का केंद्र बनाकर प्रदेश सरकार ने रख दिया है कि वहां भर्ती मरीज भागकर ट्रेन के सामने कूदकर आत्महत्या के लिए विवश हो रहे हैं और सरकार व प्रशासन अब भी अपनी झूठी वाहवाही में आत्ममुग्ध होते जरा भी नहीं लजा रहे हैं। निजी अस्पतालों में मरीजों और खाली बेड्स की जानकारी हर तीन घंटे में अपडेट करने की व्यवस्था का पालन तक सरकार नहीं करा पा रही है और मरीज इलाज के लिए अस्पतालों के चक्कर लगाने विवश हैं।

18-09-2020
मोदी सरकार से कोरोना काल में मदद की उम्मीद दूर की बात,बकाया 6 हजार करोड़ भी नहीं मिली : धनंजय ठाकुर
रा
11:01pm

रायपुर। कांग्रेस ने मोदी सरकार पर छत्तीसगढ़ के साथ भेदभाव और सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाया है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा है कि, आपदा काल में मोदी सरकार से मदद की उम्मीद करना दूर की बात है,छत्तीसगढ़ के बकाया 6 हजार करोड़ की राशि भी नहीं मिली है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार आपदा काल में छत्तीसगढ़ के किसानों मजदूरों आमजनों के खातों में विभिन्न मदों से 5 हजार करोड़ से अधिक की राशि जमा कराई है। महामारी को नियंत्रित करने किए जा रहे उपायों में अब तक 554 करोड़ की राशि खर्च कर चुकी है। आगे भी महामारी नियंत्रण के उपायों में पैसों की कमी नहीं होगी। 

धनंजय ने कहा है कि महामारी काल में मोदी सरकार छत्तीसगढ़ की जनता को किसी प्रकार से सहयोग नहीं मिला है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार ने लॉक डाउन के कारण बंद पड़ी आर्थिक गतिविधियों को सुचारू रूप से चलाने के लिए छत्तीसगढ़ के किसान, मजदूर, महिलाएं, व्यापारी, कामकाजी महिलाएं, ठेला चालक, रिक्शा चालक, दिहाड़ी मजदूरों को मदद करने के लिए 30 हजार करोड़ की राहत पैकेज की मांग की थी, लेकिन मोदी सरकार ने अब तक मदद नहीं की है। महामारी संकटकाल से निपटने के स्वास्थ व्यवस्थाओं को और विस्तारित करने लिए 821करोड़ की राशि मांगी थी,लेकिन मात्र 85 करोड़  देकर मोदी सरकार छत्तीसगढ़ के जनता के  स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ कर रही है। प्रधानमंत्री मजदूर गरीब कल्याण योजना से छत्तीसगढ़ को बाहर किया गया। किसान सम्मान निधि से 25 लाख किसानों के नाम को काट दिया गया। पीएम केयर फंड में छत्तीसगढ़ के सीएसआर फंड की राशि को जबरिया जमा करवा लिया गया और पीएम केयर फंड से नाम मात्र राशि मदद की गई। ये छत्तीसगढ़ के ढाई करोड़ जनता के साथ अन्याय है। भाजपा के सांसद सभी विषयों पर मौन रहकर छत्तीसगढ़ के साथ किए जा रहे भेदभाव का समर्थन कर रहे हैं।

18-09-2020
विद्यार्थियों का खेवनहार बने शिक्षा सारथी,सहभागिता ने उठाया मुहल्ला क्लास का जिम्मा
10:45pm

महासमुंद। कोरोना से बच्चों की पढ़ाई पर खासा असर पड़ा है। ऐसे में महासमुंद ब्लाक के बारनवापारा अभ्यारण्य के विस्थापित वन ग्राम, जो अब रामसागर (नया भावा) के नाम से प्रचलित है। गाॅव के पंच राजकुमार ठाकुर व भूतपूर्व सरपंच आनंद यादव की नवाचारी पहल व महिलाओं में  भुनेश्वरी ठाकुर, गीता बाई, मोंगरा आदि कि सहभागिता से मुहल्ला क्लास की पढ़ाई ने विद्यार्थियों को बड़ा सहारा दिया है। जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार कक्षाएं लगने से विद्यार्थियों में खुशी देखी जा रही है,वहीं अभिभावकों के मन में भी संतुष्टि साफ झलक रही है। गांव के ही दो शिक्षक गणेश सिंह एवं देवानंद नागवंशी शिक्षा सारथी बनें एमबीबीएस डॉ.प्रेमचंद ध्रुव, छबिला निषाद, मोनिका ध्रुव, धनीराम बारिक, हुमन यादव, भीष्मा यादव जैसे युवाओं ने निःस्वार्थ होकर जूनियर से सीनियर क्लास के बच्चों को शिक्षित कर विद्यार्थियों के लिए संकटमोचक साबित हो रहे है।
सामुदायिक भवन, रंगमंच में लगने वाली मोहल्ला क्लास के दो पाली के इस शिक्षण कार्य में विद्यार्थियों का भी भरपूर सहयोग मिल रहा है। कक्षा संचालन में ग्राम के एक शिक्षक देवानंद नागवंशी ने मिसाल ही पेश कर दी, विद्यार्थियों के अध्यापन के लिए ये अपना पूरा घर को ही उपलब्ध करा दिया है। विद्यार्थियों को पढ़ना आसान हो इसके लिए शैक्षणिक सामाग्री ब्लैक बोर्ड, चाक,चार्ट उपलब्ध है एवं विद्यार्थियों के हाथों की स्वच्छता के लिए हैंडवाश और सैनिटाइजर की व्यवस्था ग्राम विकास समिति पदाधिकारी अध्यक्ष तेजराम यादव, सचिव सुरेश निषाद, दिलीप यादव द्वारा उपलब्ध कराया गया है। विद्यार्थियों में खुशी, रागिनी, योगिता, पायल, तुलसी, हेमा, निशा,पूनम व पार्थिव, चंद्रकान्ता, रोहन, भानुप्रताप, गनपत, डोलेश का कहना है कि वे अध्यापन कार्य से वे खुश हैं।

18-09-2020
पिछले तीन दिनों में अलग-अलग बीमारियों से ग्रसित चार की मृत्यु
10:43pm

महासमुंद। विगत तीन दिनों में चार लोगों की मृत्यु होने की पुष्टि जिला स्वास्थ्य विभाग ने की है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ.एसपी वारे से मिली जानकारी के मुताबिक इनमें बुधवार 16 सितंबर  को ग्राम चारभाठा, सरायपाली की रहने वाली 45 वर्षीय महिला की मेकाहारा में उपचार के दौरान मृत्यु हो गई। उन्हें पहले से ही दाहिने अंगों में लकवा के अतिरिक्त निमोनिया और अनियमित रक्तचाप की समस्या थी। पूर्व में उनका काफी उपचार भी चल रहा था। जांच के दौरान उन्हें कोविड-19 का धनात्मक पाया गया था। दूसरे प्रकरण में गुरूवार 17 सितंबर  को ग्राम गढ़फुलझर, बसना के 40 वर्षीय व्यक्ति की उपचार के दौरान मेकाहारा में मृत्यु हुई। बताया जा रहा है कि वे भी कोविड-19 के धनात्मक थे। उन्हें अचानक सांस लेने में तकलीफ बढ़ गई थी। वहीं तीसरे मामले में सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक डाॅ. आरके परदल ने शुक्रवार 18 सितंबर को एक 35 वर्षीय युवक की ब्राॅथ डेड होने की पुष्टि की है। युवक की सांसें चिकित्सालय में भर्ती करने के पहले ही थम चुकी थीं। मरणोपरान्त मृतक के शरीर से कोविड-19 के नमूनों की जांच की गई, जिसमें वह कोविड-19 के धनात्मक निकला। मोहल्लेवासियों के अनुसार वह पिछले दो-तीन दिनों से घर से बाहर नहीं निकला था, जब उन्हें देखा गया तो वह बेहोश मिला। तत्काल उन्हें अस्पताल लाया गया। जहां प्रारम्भिक जांच के दौरान ही चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। डाॅ.वारे ने बताया कि कोविड-19 के निर्धारित प्रोटोकाॅल में संबंधित क्षेत्र के एक दण्डाधिकारी और चिकित्सा अधिकारी की उपस्थिति में सभी का विधिवत अंतिम संस्कार किया जाएगा। समाचार लिखे जाने तक आवश्यक प्रबंध किए जा रहे थे। वही एक अन्य प्रकरण में गुरूवार 17 सितंबर को सरायपाली के बालसी गांव के रहने वाले 43 वर्षीय व्यक्ति की भी उपचार के दौरान राजधानी के एक निजी चिकित्सालय में मृत्यु हो गई। वे भी कोविड-19 के धनात्मक मिले थे। शुक्रवार 18 सितंबर  को उनकी पार्थिव देह का अंतिम संस्कार कोविड-19 के निर्धारित प्रोटोकाॅल के तहत किया गया।

 

18-09-2020
Breaking: छत्तीसगढ़ में आज 3842 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले व 3281 हुए स्वस्थ,17 की मौत 
10:39pm

रायपुर। प्रदेश में लगातार दो दिनों से कोरोना की रफ्तार 38 सौ के ऊपर बनी हुई है। गुरुवार को 3809, तो आज शुक्रवार को 3842 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पहचान हुई है। 2614 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया है और 667 मरीजों ने होम आइसोलेशन कम्पलीट किया है। 17 मरीजों की मौत हुई है। प्रदेश में अब तक कुल 81617 पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं। 44392 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। 645 मरीजों की मौत हो चुकी है। एक्टिव केस 36580 हो चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग ने रात 10:15 बजे की स्थिति में मेडिकल बुलेटिन जारी की है। प्रदेश में रायपुर जिले से 672 मरीज मिले हैं। इसी तरह। दुर्ग  से 436, जांजगीर-चांपा से 334, राजनांदगांव से 309, बिलासपुर से 302, कोरबा से 185, रायगढ़ से 168, बस्तर से 163, बीजापुर से 145, दंतेवाड़ा से 133, धमतरी से 118, नारायणपुर से 91, बालोद से 90, कबीरधाम से 65, सुकमा व कांकेर से 63-63, बलौदाबाजार, सूरजपुर व सरगुजा से 62-62, बेमेतरा से 56, मुंगेली से 51, कोण्डागांव से 47, कोरिया से 43, गरियाबंद से 38, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही से 35, जशपुर से 30, बलरामपुर से 15, महासमुंद से 3, अन्य राज्य से 1 मरील मिले है।   मेडिकल बुुलेटिन देखने क्लिक करें   

 

18-09-2020
कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा-मरवाही के विकास पर भाजपा और छजका को पीड़ा क्यों ?
रा
10:07pm

रायपुर। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक सहित भाजपा और छजका नेताओं की ओर से मरवाही में किए जा रहे विकास कार्यों को लेकर की जा रही आपत्ति पर कांग्रेस ने प्रतिक्रिया दी है। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा है कि, मरवाही पेंड्रा के विकास पर भाजपा और छजका को पीड़ा क्यों हो रही है? मरवाही के विकास का अवसर भाजपा और छजका दोनों को मिला था। राज्य में पिछले पंद्रह सालों से भाजपा की सरकार थी। मरवाही की जनता विकास तो दूर सड़क, पानी, बिजली जैसी मूलभूत सुविधाओं से भी अछूती थी। मरवाही पेंड्रा गौरेला की जनता ने जिला बनाने के लिए बार-बार आवाज उठाई। जब राज्य में 9 जिलों का गठन किया गया, उस समय भी जिला बनने की सारी योग्यताओं को पूरा करने के बाद मरवाही पेंड्रा को जिला नहीं बनाया गया। मरवाही से राज्य की राजनीति के बड़ा नाम स्व. अजीत जोगी लगातार प्रतिनिधित्व कर रहे थे। उसके बावजूद मरवाही से विकास कोसो दूर था।
कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा है कि,अदूरदर्शी विकास की सोच में सिर्फ नए राजधानी में 8000 करोड़ खर्च करने के बजाए पूरे प्रदेश के विकास का मैप बनाया होता, तो आज राज्य के दूरस्थ कुछ इलाके पिछड़े नहीं होते। राज्य में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ में विकास से अछूते मरवाही जैसे इलाकों को विकसित करने का बीड़ा उठाया है। एक वर्ष पहले ही मरवाही पेंड्रा गौरेला को जिला बनाया गया।  नए जिले के लिए जिलाधीश न्यायालय भवन सहित तमाम सरकारी दफ्तर बनाए जा रहे। क्षेत्र में सड़क पुल पुलियों पहुंच मार्ग बनाए जा रहे हैं। राजनैतिक दुर्भावना से ग्रसित भाजपा के नेता इन विकास कार्यों का विरोध कर रहे। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा है कि, भाजपा के नेता खिसियानी बिल्ली के समान खंभा नोच रहे। प्रदेश की जनता भाजपा और छजका की विकास विरोधी सोच को देख रही और समझ भी रही,आने वाले चुनाव में जनता इसका हिसाब करेगी।

18-09-2020
सीरो सर्विलेंस के लिए आईसीएमआर की टीम ने लिए 727 सैंपल,शनिवार को तीन जिले तय
09:39pm

रायपुर। छत्तीसगढ़ में आम लोगों और उच्च जोखिम वाले वर्गों में कोरोना संक्रमण के विरुद्ध रोग प्रतिरोधकता का पता लगाने किए जा रहे सीरो सर्विलेंस के लिए शुक्रवार को दूसरे दिन आईसीएमआर की टीम ने 727 सैंपल संकलित किए। टीम ने रायपुर जिले में 258, दुर्ग में 252 और राजनांदगांव में 217 सैंपल एकत्र किए। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के अंतर्गत राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, छत्तीसगढ़ की ओर से आईसीएमआर के विशेषज्ञों से प्रदेश में सीरो सर्विलेंस कराया जा रहा है। इसकी रिपोर्ट से प्रदेश में कोरोना संक्रमण से निपटने की प्रभावी रणनीति तैयार करने में मदद मिलेगी। आईसीएमआर की टीम ने शुक्रवार को रायपुर जिले के अड़सेना और सांकरा में 40-40 परिवारों से सैंपल लिए। टीम ने दोनों गांवों में उच्च जोखिम समूहों के कुल 178 सैंपल संकलित किए। दुर्ग जिले के मोतीपुर, सेलूद और खर्रा में आम नागरिकों के 40-40 सैंपल और इन तीनों गांवों से ज्यादा जोखिम वर्ग के कुल 132 सैंपल संकलित किए गए। राजनांदगांव जिले के रांका, मुरमुंदा और मेधा गांव से आम नागरिकों के 40-40 सैंपल लेने के साथ ही इन तीनों गांवों से उच्च जोखिम वाले व्यक्तियों के कुल 97 सैंपल लिए गए। आईसीएमआर की टीम ने सीरो सर्विलेंस के पहले दिन 17 सितंबर को रायपुर, दुर्ग और राजनांदगांव के अलग-अलग गांवों से कुल 692 सैंपल संकलित किए थे। इनमें दोनों वर्गों को मिलाकर रायपुर जिले के 211, दुर्ग के 244 और राजनांदगांव के 237 सैंपल शामिल हैं।  टीम 19 सितंबर को मुंगेली, बिलासपुर और जांजगीर-चांपा जिलों में सैंपल संकलित करेगी।

 

 

18-09-2020
कोरोना से जिले में मिले 65 संक्रमित मरीज, 28 हुए स्वस्थ
09:37pm

धमतरी। कोरोना वायरस से शुक्रवार को 65 लोग पॉजिटिव मिले,जिसमें बच्चे से लेकर बुजुर्ग ,पुलिस तक शामिल है। जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.डीके तुर्रे ने बताया की धमतरी शहर में आज 17 संक्रमित मरीज मिले हैं। इसमें एकता नगर से 1, बनियापारा से 4, पुराना बस स्टैंड से 1, अमलतासपुरम से 1, सोरीद से 3, विंध्यवासिनी वार्ड गवर्नमेंट स्कूल के पीछे 2, महिमा सागर वार्ड से 1, मराठा पारा से 3 संक्रमित मरीजों की पहचान की गई है।

धमतरी ग्रामीण

गुजरा बीएमओ डॉ.वंदना व्यास ने बताया कि आज 14 संक्रमित मरीजों की पहचान की गई है। इसमें से काशी से 5, कोलियरी से 5, रुद्री से 2, कसावाही से 2, सोरम से 1, अर्जुनी से 1 संक्रमित मरीजों की पहचान की गई है।

कुरुद

कुरूद बीएमओ यूएस नवरत्न ने बताया कि आज कुरूद ब्लाक में 23 संक्रमित मिले हैं।

मगरलोड

मगरलोड बीएमओ शारदा ठाकुर ने बताया कि आज ब्लॉक से 3 संक्रमित मिले हैं,जिसमें मगरलोड से 1, बड़ीकरेली से 1, बिरजूली से 1 संक्रमित की पहचान की गई है।

नगरी

नगरी के बीएमओ हितेंद्र कुमार साहू ने बताया कि आज नगरी ब्लॉक में 11 संक्रमित मिले है। इसमें से नगरी के वार्ड क्रमांक 1 से 3, वार्ड क्रमांक 7 से 1, नगरी एसडीओपी ऑफिस से 4, शंकरा से 1, सिरसीदा से 1 व 1 अन्य जगह से संक्रमित मरीज की पहचान की गई है। जिले में अब तक मिले संक्रमितों की संख्या 1391 हो चुकी है,जिसमें से एक्टिव केस की संख्या 753 है। धमतरी कोविड-19 अस्पताल में 65 मरीजों का उपचार किया जा रहा है। वही 28 लोगों को स्वस्थ्य होने के बाद डिस्चार्ज किया गया है,कुल 619 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है।

 

18-09-2020
लॉक डाउन अवधि में नियमों का उल्लंघन करने वाले संस्थान होंगे 15 दिन तक सील, संचालक पर किया जाएगा जुर्म दर्ज
09:31pm

दुर्ग। जिले में 20 से 30 सितंबर तक लॉक डाउन की घोषणा की गई है। जिले में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को देखते हुए जिला प्रशासन ने जिले के नगरीय निकाय, दुर्ग-भिलाई, भिलाई-चरोदा, रिसाली, जामुल एवं कुम्हारी क्षेत्रों में लॉक डाउन लगाया है। इस दौरान शराब की समस्त दुकानें पूर्णत: प्रतिबंधित रहेंगी। नगरीय निकाय प्रतिबंधित क्षेत्र के अंतर्गत समस्त साप्ताहिक हॉट बाजार भी बंद रहेेंगे। होटल एवं रेस्टोरेंट को होम डिलीवरी की अनुमति रहेगी। कलेक्टर,डॉ.सर्वेश्वर नरेन्द्र भुरे ने बताया कि जिले में स्थित केंद्र एवं राज्य सरकार के अधीन समस्त शासकीय/अर्धशासकीय/निजी कार्यालय में एक-तिहाई अधिकारी/कर्मचारियों की उपस्थिति के साथ समयावधि में संचालित होंगी। जिले के समस्त शैक्षणिक संस्थान/कोचिंग संस्थान/ ट्युशन क्लासेस बंद रहेंगे, केवल प्रवेश प्रक्रिया एवं ऑनलाइन क्लासेस की अनुमति होगी।

जिले के प्रतिबंधित शहरी क्षेत्रों में परिवहन सेवा, टैक्सी, ऑटोरिक्शा, ई-रिक्शा प्रतिबंधित रहेेगी।  जिला एवं अंतर्राज्जीय बस परिवहन सेवा चालू रहेगी। मास्क, सैनिटाईजर, दवाईयाँ, एटीएम वाहन, एलपीजी गैस सिलेण्डर, ऑक्सीजन सिलेण्डर परिवहन करने वाले वाहनों को अनुमति रहेगी। अस्पताल, मेडिकल कॉलेज, क्लीनिक संचालित होंगे। जिले के प्रतिबंधित नगरीय निकाय क्षेत्रों में समस्त ढाबा पूर्णत: बंद रहेंगे। होटलों में लॉजिंग एवं बोर्डिंग की सुविधा उपलब्ध रहेगी। पूर्व में जारी विवाह हेतु प्राप्त अनुमति मान्य होगी। कलेक्टर ने बताया कि प्रतिबंधित क्षेत्रों में सब्जी, मटन, मछली, फल सुबह 5 बजे से सुबह 10 बजे तक, डेयरी केवल दूध व्यवसाय, सुबह 6 से 8 बजे तक, शाम को 5 से 7 बजे तक, रेस्टोरेन्ट, होटल में होम डिलीवरी सुबह 10 से रात्रि 10 बजे तक डीजल, पेट्रोल, एलपीजी एवं सीएनजी सांय 3 बजे तक, दवा दुकानें, मेडिकल स्टोर्स, चश्मा दुकानों को समय की पाबंदी से छूट रहेगी। घर पर जाकर दूध बाँटने के लिए सुबह 6 से प्रात: 9:30 बजे तक, शाम को 5 बजे से 7 बजे तक किया जा सकता है। कलेक्टर ने बताया कि यदि किसी भी व्यवसायी द्वारा उपरोक्त शर्तों में से किसी एक या एक से अधिक शर्तों का उल्लंघन किया तो तत्काल प्रभाव से 15 दिनों के लिए संस्थान सील कर दिया जायेगा। जिले के नगरीय निकाय, भिलाई 3, चरोदा, दुर्ग, भिलाई, रिसाली, जामुल, कुम्हारी क्षेत्रों में आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति संस्था, प्रतिष्ठान पर भारतीय दंड संहिता 1860 के धारा 188 के तहत दंडनीय अपराध होंगे।

 

Please Wait... News Loading