GLIBS

22-10-2019
नरेंद्र मोदी से मिले नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी
01:29pm

नई दिल्ली। भारतीय मूल के अमेरिकी अर्थशास्त्री और नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी ने मंगलवार को दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की है। पीएम मोदी ने अभिजीत के साथ मुलाकात की एक तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट की है। तस्वीर के साथ पीएम मोदी ने लिखा है कि मानव सशक्तिकरण के प्रति उनका जुनून साफ दिखाई देता है। भारत को उनकी उपलब्धियों पर गर्व है। मोदी ने कहा है, 'नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी के साथ उत्कृष्ट बैठक। मानव सशक्तीकरण के प्रति उनका जुनून साफ दिखाई देता है। हमने कई विषयों पर एक स्वस्थ और व्यापक बातचीत की है। भारत को उनकी उपलब्धियों पर गर्व है। उनके भविष्य के प्रयासों के लिए उन्हें शुभकामनाएं.'' बता दें कि अभिजीत बनर्जी का जन्म कोलकाता में हुआ था। उनके माता-पिता भी अर्थशास्त्र के प्रोफेसर थे। उनके पिता कोलकाता के मशहूर प्रेसिडेंसी कॉलेज में अर्थशास्त्र विभाग के प्रमुख थे। अभिजीत बनर्जी ने कोलकाता यूनिवर्सिटी में शुरुआती पढ़ाई की। इसके बाद अर्थशास्त्र में एमए के लिए वह जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी चले गए थे। 58 साल के अभिजीत फिलहाल अमेरिका की मेसाचुसेट्स यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर हैं। अभिजीत और इनकी पत्नी डुफलो अब्दुल लतीफ जमील पॉवर्टी ऐक्शन लैब के को-फाउंडर भी हैं।

 

22-10-2019
महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव के नतीजों के एक्ज़िट पोल पर प्रकाशपुन्ज पाण्डेय की प्रतिक्रिया
रा
01:23pm

रायपुर। प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने एक राजनीतिक विश्लेषण करते हुए कहा है कि कल यानी 21 अक्टूबर 2019 को महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव के साथ ही भारत के विभिन्न प्रदेशों में बहुत सी सीटों पर उप-चुनाव भी सम्पन्न हुआ। लेकिन चुनाव खत्म होने के बाद महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव के पूर्वानुमान (एक्ज़िट पोल) में पूरा मीडिया जोर शोर से जुट गया। हर चैनल पर केवल एक्ज़िट पोल ही दिखाया जा रहा था। दर्शकों की उत्सुकता बढ़ाने के लिए जल्दी जल्दी ब्रेक लिए जा रहे थे ताकि लोग टेलीविजन सेट छोड़कर कहीं न जा सकें। आपको क्या लगता है कि ऐसा कौन सा सूचना तंत्र है कि जनता द्वारा चुनाव में मतदान करने के बाद तुरंत ही एक्ज़िट पोल तैयार हो जाता है ? मतलब जो सर्वे कंपनियों के द्वारा पहले से ही रिपोर्ट तैयार कर ली जाती है। मतलब साफ़ है कि यह एक "ओपिनियन पोल है, न कि एक्ज़िट पोल।" प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने कहा कि भारत की कुल जनसंख्या 137 करोड़ से अधिक है, जिसमें कुल 90 करोड़ योग्य मतदाता हैं। महाराष्ट्र में कुल जनसंख्या लगभग 12 करोड़ है, जिसमें लगभग 8.9 करोड़ योग्य मतदाता हैं और हरियाणा में कुल जनसंख्या लगभग 2.85 करोड़ है, जिसमें लगभग 1.75 करोड़ योग्य मतदाता हैं। ग़ौरतलब है कि महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव में किसी भी बूथ पर 100 प्रतिशत मतदान नहीं हुआ। मतलब साफ़ है कि चंद लोगों की राय को पूरे सूबे की राय बता कर टीआरपी का खेल खेला जा रहा है। अब बात करते हैं कि पिछले लोकसभा चुनाव में एक्ज़िट पोल के आंकड़े लगभग एक्ज़िट पोल में कैसे तब्दील हो गए? तो मुझे लगता है कि यह पूरा खेल इलेक्शन मैनेजमेंट का है। अगर थोड़ा सा पीछे चलते हैं तो पिछले साल विधानसभा चुनाव में छत्तीसगढ़ के बारे में जो ओपिनियन और एक्ज़िट पोल थे उनमें भारतीय जनता पार्टी को दो तिहाई बहुमत मिलते दिख रहा था लेकिन हुआ इसके विपरीत।


प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने कहा कि अगर ईवीएम की बात करें तो आए दिन मीडिया रिपोर्ट्स के माध्यम से पता चलता रहता है कि ईवीएम में कोई ना कोई टेंपरिंग मतलब छेड़छाड़ की गई है, जिससे मतदाता कोई भी बटन दबाए तो वोट किसी एक पार्टी को ही जाता है। अगर इस बात में ज़रा सी भी सच्चाई है (जोकि चुनाव आयोग को संज्ञान में लेते हुए अपनी निष्पक्षता को स्पष्ट करना चाहिए) तो फिर दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश में चुनाव पद्धति पर ही सवालिया निशान खड़ा हो जाता है। प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने कहा कि अब बात करते हैं चुनावों में एक्ज़िट पोल के नतीजों में तब्दील होने पर। देखा जाए तो यह नतीजे ऐसे ही आने चाहिए क्योंकि भारतीय जनता पार्टी का इलेक्शन मैनेजमेंट इतना तगड़ा है कि उसके सामने बाकी पार्टियाँ पानी कम चाय लगती हैं। वहीं विपक्ष में जो बिखराव है वह भी इसका एक मूल कारण है। मेरे सर्वे के अनुसार देश और देश के लगभग सभी राज्यों में आम जनता मौजूदा भारतीय जनता पार्टी की सरकार से नाराज़ चल रही है लेकिन जनता के पास उपयुक्त पर्याय ना होने के कारण जनता एक्सपेरिमेंट नहीं करना चाहती है। मतलब किसी और को नहीं चुन रही है क्योंकि जनता देख रही है कि जब विपक्ष खुद ही प्रयासरत नहीं है, खुद ही बिखरा पड़ा है, खुद ही हताश है, तो जनता क्या कर सकती है। इसीलिए कहा गया है कि ईश्वर भी उसी की मदद करता है, जो अपनी मदद खुद करता है और वैसे भी भारत हो या विश्व का कोई भी देश, "एक स्वस्थ लोकतंत्र के लिए मजबूत विपक्ष का होना बेहद ही जरूरी है।" बाकी भारत में सब ठीक है। 

 

22-10-2019
एलओसी पर सेना के जवानों ने किया पाकिस्‍तान के तीन मोर्टार को नष्‍ट
01:09pm

नई दिल्ली। सेना ने नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर स्थित पुंछ जिले के करमारा गांव में पाकिस्‍तान सेना की ओर से दागे गए तीन मोर्टार शेल्‍स को नष्‍ट किया है। ये मोर्टार शेल्‍स हाल ही में पाक सेना की ओर से हुए युद्धविराम उल्‍लंघन में इस गांव में आकर गिरे थे। अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि सेना के इंजीनियरों ने एक बड़ी दुर्घटना को होने से बचा लिया है। पाकिस्‍तान की ओर से जम्‍मू कश्‍मीर में एलओसी पर लगातार फायरिंग की जा रही है और युद्धविराम को तोड़ा जा रहा है। पिछले दिनों भारतीय सेना ने पाकिस्‍तान अधिकृत कश्‍मीर (पीओके) में स्थित आतंकी संगठनों को निशाना बनाया है। भारत की तरफ से पीओके में हुई कार्रवाई में छह से 10 पाक सैनिक और कुछ आतंकी भी मारे गए हैं। ये आतंकी और सैनिक जम्‍मू कश्‍मीर के तंगधार सेक्‍टर में घुसपैठ की कोशिशों में लगे हुए थे। 19 और 20 अक्‍टूबर को जम्‍मू कश्‍मीर के कुपवाड़ा सेक्‍टर में आने वाले तंगधार सेक्‍टर में पाक की ओर से युद्धविराम को तोड़ा गया था। इसमें दो जवान शहीद हो गए थे तो एक आम नागरिक की भी मौत हो गई थी। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत की तरफ से कहा गया है कि आतंकी, फारवर्ड इलाकों में मौजूद कैंप्‍स की तरफ बढ़ने की कोशिशों में लगे हुए हैं। कई बार उनकी तरफ से घुसपैठ के असफल प्रयासों के बारे में जानकारी मिली है।

 

22-10-2019
इस राज्य में दो से अधिक बच्चे वाले लोगों को नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी...
12:54pm

नई दिल्ली। जनसंख्या के मामले में असम सरकार ने तय किया है कि अब राज्य में सरकारी नौकरी उन्हीं लोगों को मिलेगी, जिनके दो या दो से कम बच्चे होंगे। असम मंत्रिमंडल ने इस बात का फैसला लिया है। असम मंत्रिमंडल के फैसले के मुताबिक, एक जनवरी 2021 के बाद दो से अधिक बच्चे वाले किसी व्यक्ति को कोई सरकारी नौकरी नहीं दी जाएगी। असम सरकार की कैबिनेट की बैठक में यह महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया। असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल के जनसंपर्क प्रकोष्ठ द्वारा जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि छोटे परिवार के मानक के अनुसार एक जनवरी 2021 से दो से अधिक बच्चे वालों को सरकारी नौकरी नहीं दी जाएगी। यही नहीं इस विज्ञप्ति में कहा गया है कि इस नई नीति के तहत यह शर्त सिर्फ किसी को सरकारी नौकरी देते वक्त ही ध्यान में नहीं रखी जाएगी, बल्कि नौकरी के अंत तक सभी को इस नीति के हिसाब से यह ध्यान रखना होगा कि उनके बच्चों की संख्या दो से अधिक ना हो। बच्चों की संख्या दो से अधिक होने पर उस व्यक्ति को सरकारी नौकरी से निकाला भी जा सकता है। 

22-10-2019
अमित शाह का आज जन्मदिन, पीएम मोदी ने दी शुभकामनाए...
12:47pm

नई दिल्ली। 22 अक्टूबर को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के जन्मदिन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें जन्मदिन की शुभकामनाएं दी। पीएम मोदी ने उनके बारे में लिखा कि, अमित शाह देश को सशक्त और सुरक्षित करने में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं। पीएम ने अपने ट्वीट में लिखा कि, कर्मठ, अनुभवी, कुशल संगठनकर्ता एवं मंत्रिमंडल में मेरे सहयोगी अमित शाह जी को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएं। सरकार में बहुमूल्य भूमिका निभाने के साथ ही वे भारत को सशक्त और सुरक्षित करने में भी महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं। ईश्वर उन्हें दीर्घायु करे और सदा स्वस्थ रखे।

आधुनिक राजनीति के चाणक्य, कामयाबी का इतिहास गढ़ चुके हैं 


आधुनिक राजनीति के चाणक्य, गृहमंत्री अमित शाह 55 साल के हो गए हैं। अमित शाह को साल 2014 में भाजपा का राष्ट्रीय महासचिव बनाया गया और साथ ही उत्तर प्रदेश का प्रभारी भी बनाया गया। यहां से अमित शाह की मौजूदगी राष्ट्रीय स्तर पर दर्ज हुई। भाजपा ने उनकी अगुवाई में 71 सीटों के साथ ऐतिहासिक जीत दर्ज की। साल 2014 में बीजेपी की जीत में यूपी का योगदान सरकार गठन का सबसे मजबूत पक्ष रहा। 2014 में ही अमित शाह को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बना दिया गया। 2019 में दूसरी बार भी जब पीएम मोदी की सरकार आई तो उन्हें गृह मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंप दी गई। गृहमंत्री की शपथ लेते वक्त अमित शाह के जेहन में कुछ ऐतिहासिक करने का संकल्प चल रहा था उन्होंने गृहमंत्री बनते ही इस संकल्प को साकार कर दिया। अमित शाह ने कई बड़े फैसले लेकर इतिहास रच दिया। इनमें जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाना और तीन तलाक पर कानून भी शामिल है। मुंबई में जन्में अमित शाह ने राजनीति में आगे बढ़ने के लिए कदम कदम पर संघर्ष किया। पढ़ाई के बाद उन्होंने अपने स्टिक के पाइप का कारोबार शुरू किया। इसके बाद स्टॉक मार्केट में शेयर ब्रोकर के तौर पर भी काम किया। वह 16 साल की आयु में ही आरएसएस से जुड़ गए और अखिल विद्यार्थी परिषद् के कार्यकर्ता बन गए। पार्टी और संगठन के प्रति निष्ठा व काम करने की अथक लगन ने आज उन्हें भारतीय सियासत की उन बुलंदियों तक तक पहुंचा दिया है जो किसी भी राजनेता का सबसे खूबसूरत सपना होती है।

22-10-2019
सुपेबेड़ा में किडनी पीड़ितों के बीच पहुंची राज्यपाल, पीड़ितों से की बात...
12:21pm

रायपुर। गरियाबंद जिले के सुपेबेड़ा में पीड़ितों से मिलने राज्यपाल अनुसुईया उईके और स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव पहुंचे हैं। सुपेबेड़ा के लोगों से सीधा संवाद कर उनकी समस्याओं का समाधान राज्यपाल और स्वास्थ्य मंत्री कर रहे हैं। संवाद के बाद अधिकारियों के साथ भी एक बैठक होगी।
राज्यपाल अनुसुईया उईके ने लोगों से कहा कि सुपेबेड़ा को लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव भी चिंतित हैं। प्रदेश सरकार सुपेबेड़ा के लोगों के साथ खड़ी है। राज्यपाल ने माना कि यहां के लोगों के ईलाज में देरी हुई है। वहीं पानी सुपेबेड़ा की सबसे बड़ी समस्या है।
इसके बाद राज्यपाल ने सुपेबेड़ा के लोगों से बात की और उनकी समस्याएं सुनी। सुपेबेड़ा के पीड़ितों ने राज्यपाल को बताया कि यहां पानी की समस्या है। रोजगार नहीं है, जिससे किडनी की बीमारी होने के बाद भी यहां से बाहर जाकर 12-12 घंटे काम करना पड़ता है। लोगों ने कहा कि इलाज के लिए रायपुर जाते हैं तो वहां भी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। एक पीड़ित के साथ 4-5 लोग जाते हैं। धन की कमी के चलते वहां रुकना और सभी के भोजन का खर्च भी वहन करना मुश्किल हो जाता है। सुपेबेड़ा में स्वच्छ पानी और स्वास्थ्य सेवाओं की मांग की गई। समस्या सुनने के बाद राज्यपाल ने कहा कि शासन स्तर पर अधिकारियों से भी बात की जाएगी। वहीं जिम्मेदार व्यक्तियों को अपना काम इमानदारी से करना होगा। यहां के लोग गंदा पानी पीने को मजबूर हैं। लोगों की पीड़ा दुखदायी है। वहीं रायपुर में मदद का भरोसा राज्यपाल ने दिलाया।

22-10-2019
रॉबर्ट वाड्रा अस्पताल में भर्ती, आर्थोपेडिक डॉक्टर कर रहे इलाज..
12:13pm

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के पति और अंतरिम पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा को उपचार के लिए नोएडा के मेट्रो हॉस्पिटल के आर्थोपेडिक विभाग में भर्ती कराया गया है। उन्हें पीठ और पैर में दर्द के कारण बीते रोज नोएडा के सेक्टर-11 स्थित मेट्रो हॉस्पिटल में ले जाया गया। इसके बाद डॉक्टरों की सलाह पर उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती कर लिया गया। उन्हें फर्स्ट फ्लोर पर वीआईपी रूम नंबर 108 में रखा गया है। अस्पताल सूत्रों के मुताबिक वरिष्ठ हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉक्टर पुनीत उनका इलाज कर रहे हैं। उनका सीटी स्कैन भी किया गया। वाड्रा के अस्पताल में भर्ती होने की जानकारी मिलने के बाद प्रियंका गांधी वाड्रा सोमवार शाम को लगभग 7:30 बजे अस्पताल पहुंच गईं। वाड्रा से अस्पताल में मिलकर थोड़ी देर में प्रियंका गांधी वहां से निकल गईं, लेकिन रात 10:30 बजे वे फिर अस्पताल पहुंचीं। इस बार प्रियंका गांधी रॉबर्ट वाड्रा के साथ रातभर लगभग 9 घंटे तक अस्पताल में मौजूद रहीं। सूचना मिलने के बाद कांग्रेस के स्थानीय नेता और कार्यकर्ता भी अस्पताल पहुंच गए। अस्पताल के आसपास सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। अस्पताल प्रशासन ने अभी उनकी बीमारी के बारे में विस्तार से कुछ भी बताने से इनकार किया है। लेकिन सूत्रों के मुताबिक उनके पैर और पीठ में दर्द है। अस्पताल पहुंचने पर उन्हें व्हीलचेयर दिया गया गया लेकिन वह चलकर ही डॉक्टर के कमरे तक गए। मंगलवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी व सोनिया गांधी भी उनसे मिलने पहुंच सकते हैं।

22-10-2019
भारतीय सीमा में घुसे दो पाकिस्तानी नागरिक, मछुआरों को किया बीएसएफ ने गिरफ्तार
12:07pm

नई दिल्ली। सीमा सुरक्षाबल (बीएसएफ) ने दो पाकिस्तानी नागरिकों को गिरफ्तार किया है जो घूमते हुए भारतीय सीमा में दाखिल हो गए थे। उनके पास से दो मोबाइल फोन, पाकिस्तानी सिम और पहचान पत्र बरामद हुए। इन नागरिकों की पहचान सैफ और तलीफ के रूप में हुई है जिला ओकारा पाकिस्तान के रहने वाले है। वहीं, बीएसएफ ने बीती देर शाम गुजरात के कच्छ तट के पास ‘हरामी नाले’ से दो पाकिस्तानी नागरिकों को मछली पकड़ने वाली नौका के साथ पकड़ लिया। अधिकारियों ने बताया कि बीएसएफ के कर्मी पाकिस्तान से लगती भारतीय समुद्री सीमा के पास सर क्रीक क्षेत्र में गश्त कर रहे थे। उन्होंने बताया कि पाकिस्तानी नागरिकों ने अपनी नौका छोड़कर भागने की कोशिश की, लेकिन उन्हें पकड़ लिया गया। शुरुआती तौर पर वे ‘मछुआरे’ प्रतीत होते हैं। अधिकारी ने कहा, हरामी नाला क्षेत्र में जब दो पाकिस्तानी नागरिकों ने अपनी नौका छोड़कर भागने की कोशिश की तो उन्हें पकड़ लिया गया। उन्होंने बताया कि उन्हें शाम करीब साढ़े पांच बजे पकड़ा गया और उनकी नौका को जब्त कर लिया गया। अधिकारी ने बताया कि बीएसएफ ने घटना के बाद व्यापक खोज अभियान चलाया तथा मामले की जांच की जा रही है। इससे कुछ दिन पहले ही बीएसएफ की एक टीम ने इसी इलाके से पाकिस्तान की पांच मछली पकड़ने वाली नौकाएं जब्त की थीं।

22-10-2019
आज देश में बैंकिंग सेवाएं ठप, एसबीआई के ग्राहकों पर रहेगा आंशिक असर
बि
11:58am

नई दिल्ली। आज देश में बैंकिंग सेवाएं ठप रहेंगी। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के विलय और जमा राशि पर ब्याज दर घटने के विरोध में ऑल इंडिया बैंक इंप्लॉइज एसोसिएशन व बैंक इंप्लॉइज फेडरेशन ऑफ इंडिया जैसी कुछ कर्मचारी यूनियनों ने मंगलवार को देशव्यापी हड़ताल का आह्वान किया है। हालांकि, अधिकारी और निजी क्षेत्र के बैंक हड़ताल में शामिल नहीं होंगे। ज्यादातर बैंकों ने अपने ग्राहकों को इस संबंध में पहले ही सूचित कर दिया है। देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया के ग्राहकों को इस हड़ताल का ज्‍यादा असर नहीं पड़ेगा। बैंक के मुताबिक जो कर्मचारी संगठन हड़ताल में शामिल हैं उसमें एसबीआई के कर्मचारियों की सदस्‍यता काफी कम है। भारतीय स्टेट बैंक सहित ज्यादातर बैंकों ने अपने ग्राहकों को हड़ताल और उसके प्रभाव के बारे में पहले ही सूचित कर दिया है। एसबीआई ने पिछले सप्ताह शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कहा, ‘इस हड़ताल में शामिल कर्मचारी यूनियन में हमारे बैंक कर्मचारियों की सदस्यता संख्या काफी कम है। ऐसे में हड़ताल से बैंक के कामकाज पर असर काफी सीमित रहेगा।’ सार्वजनिक क्षेत्र के एक अन्य बैंक सिंडिकेट बैंक ने कहा, ‘प्रस्तावित हड़ताल को लेकर बैंक ने अपनी शाखाओं में सामान्य कामकाज के लिए आवश्यक कदम उठाए हैं। हालांकि, हड़ताल होने की स्थिति में बैंक शाखाओं-कार्यालयों का कामकाज प्रभावित हो सकता है।’ भारतीय मजदूर संघ से सम्बद्ध नेशनल ऑर्गनाइजेशन ऑफ बैंक वर्कर्स और नेशनल ऑर्गनाइजेशन ऑफ ऑफिसर्स तथा इनसे जुड़ी बैंक यूनियंस ने बताया है कि वह 22 अक्टूबर को प्रस्तावित बैंक हड़ताल में शामिल नहीं हैं। समूचे बैंक उद्योग की 9 यूनियनों में से केवल दो यूनियनों ने ही इस हड़ताल का आह्वान किया है। पिछले महीने बैंक अधिकारियों की यूनियनों ने 26-27 सितंबर को दो दिन की हड़ताल की घोषणा की थी। लेकिन सरकार के हस्तक्षेप के बाद हड़ताल को वापस ले लिया गया था। बता दें कि इस हफ्ते धनतेरस और दिवाली का त्योहार है। इसके कारण 26, 27, 28, 29 अक्टूबर को लगातार चार दिन बैंक की छुट्टी रहने वाली है। ऐसा महीने के चौथे शनिवार और दिवाली की छुट्टियों के चलते होगा। 

22-10-2019
एकल विद्यालय सरईगहना में सात दिवसीय वर्ग का समापन
11:49am

कोरिया। एकल विद्यालय सात दिवसीय प्रशिक्षण वर्ग मंगलवार को सरईगहना में समापन हुआ। वर्ग मे संच बैकुंठपुर आचार्य एवं मनेंद्रगढ़ संच आचार्य सम्मिलित हुए। इस वर्ग में आचार्य को संस्कार एवं जैविक खाद, स्वच्छता,आरोग अनेक प्रकार का प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण के समापन सत्र में भारत माता की प्रतिमा पर दीप प्रज्वलित एवं  भारत माता की आरती कर एकल विद्यालय का सात दिवसीय अभ्यास वर्ग समापन किया गया। समापन सत्र में एकल विद्यालय संच बैकुंठपुर के अध्यक्ष शैलेश शिवहरे व विश्व हिंदू परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष नरेश सोनी एवं रामसागर सिंह, कमलेश गुप्ता सरपंच एवं ग्रामवासी उपस्थित थे।

22-10-2019
आईएनएक्स मीडिया केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री चिदंबरम मिली जमानत, अब नहीं रहेंगे जेल में
रा
11:19am

नई दिल्ली। पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम को आईएनएक्स मीडिया मुद्दे को लेकर सीबीआई में दर्ज मामले में जमानत मिल गई है। लेकिन वे अभी रिहा नहीं होंगे क्योंकि इस मुद्दे पर प्रवर्तन निदेशालय में दर्ज मामले में अभी उनको राहत नहीं मिली है। पी.चिदंबरम अब हालांकि तिहाड़ जेल में न रहकर प्रवर्तन निदेशालय की हिरासत में रहेंगे। पी. चिदंबरम को जमानत पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि उन्हें छोड़ा जा सकता है अपितु वे किसी और मामले में गिरफ्तार न हों, प्रवर्तन निदेशालय में दर्ज मामले में भी पी. चिदंबरम की हिरासत जांच एजेंसी को दी गई है, यानि सीबीआई में दर्ज मामले में बेल मिलने के बावजूद चिदंरम अब प्रवर्तन निदेशालय की हिरासत में रहेंगे। पी. चिदंबरम को सीबीआई में दर्ज मामले में जो जमानत मिली है वह शर्त जमानत है, कोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि चिदंबरम कोर्ट की अनुमति के बिना देश छोड़कर विदेश नहीं जा सकते, उन्हें 1 लाख रुपए के निजी मुचलके पर जमानत दी गई है। 

 

22-10-2019
फरसगांव पुलिस द्वारा अमर शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि
11:08am

कोंडागांव। पुलिस स्मृति दिवस के अवसर पर 21 अक्टूबर को फरसगांव पुलिस द्वारा सराहनीय पहल करते हुए देश के लिए शहीद हुए जवानों को पुलिस व प्रशासन की ओर से श्रृद्धांजलि दी गई। इस दौरान फरसगांव थाना प्रभारी विनोद कुमार साहू एवं अन्य स्टाफ के द्वारा शहीद जवानों के गांव पहुंच कर शहीद जवानों द्वारा पढ़े गए स्कूलों में जाकर स्कूल के छात्र छात्राओं के साथ शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। इसी कड़ी में ग्राम चरकई, बोरगांव, भंडार सिवनी मांझी आठगांव एवं फरसगांव के आदर्श विद्यालय एवं उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया।
इस मौके पर थाना प्रभारी विनोद कुमार साहू ने कहा कि पुलिस बल द्वारा उन बहादुर पुलिस जवानों की याद में इस दिवस का आयोजन किया जाता है, जिन्होंने जनता एवं शांति की रक्षा के लिए अपना जीवन कुर्बान कर दिया उन अमर शहीदों के बलिदान की गाथा एवं उनके गौरवपूर्ण यात्रा के बारे में  स्कूली  बच्चों को जानकारी दी और बताया कि पुलिस स्मृति दिवस प्रत्येक वर्ष 21 अक्टूबर को मनाया जाता है। पुलिस स्मृति दिवस के महत्व के बारे में सीआरपीएफ की बहादुरी का एक किस्सा है, गौरतलब है कि आज से 55 वर्ष पहले 21 अक्टूबर 1959 में लद्दाख में तीसरी बटालियन की एक कम्पनी को भारत-तिब्बत सीमा की सुरक्षा के लिए लद्दाख में ‘हाट-स्प्रिंग‘ में तैनात किया गया था। कम्पनी को टुकड़ियों में बांटकर चौकसी करने को कहा गया। जब बल के 21 जवानों का गश्ती दल ‘हाट-स्प्रिंग‘ में गश्त कर रहा था। तभी चीनी फौज के एक बहुत बड़े दस्ते ने इस गश्ती टुकड़ी पर घात लगाकर आक्रमण कर दिया। तब बल के मात्र 21 जवानों ने चीनी आक्रमणकारियों का डटकर मुकाबला किया। मातृभूमि की रक्षा के लिए लड़ते हुए 10 शूरवीर जवानों ने अपने प्राणों का बलिदान दिया। हमारे बल के लिए व हम सबके लिए यह गौरव की बात है कि केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के इन बहादुर जवानों के बलिदान को देश के सभी केन्द्रीय पुलिस संगठनों व सभी राज्यों की सिविल पुलिस द्वारा ‘पुलिस स्मृति दिवस‘ के रूप में मनाया जाता है। इस दौरान उपनिरीक्षक चंदन मरकाम,सहायक उपनिरीक्षक विश्वजीत मेश्राम, तरुण माईती, प्रधान आरक्षक सुमन भगत,आसमन मरकाम आरक्षक कृष्णा साहू, विकास दुग्गा, कृष्ण कुमार सोनवानी, पंचू मरकाम, घासु मरकाम, सोमनाथ मंडावी, सलीम तिग्गा सहित अन्य स्टाफ मौजूद थे।

Please Wait... News Loading