GLIBS
Shiv Temple : नगरी का सोमवंशी राजाओं के बनाए शिव मंदिर की हालत जर्जर 

धमतरी। महर्षि श्रृंगी ऋषि आश्रम के समीप कर्णेश्वर धाम में स्थित सोमवंशी राजाओं द्वारा निर्मित ऐतिहासिक भगवान शिव एवं रामजानकी मंदिर उचित मरम्मत के आभाव में जर्जर हो रहा है। सावन माह होने की वजह से शिव मंदिर में दर्शन व जल अभिषेक केलिए दूर-दूर से प्रतिदिन हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंच रहे हैं।  शासन, प्रशासन इन दर्शनार्थिय कांवरियों के सुविधाओं का ध्यान नही रख रही है। दर्शन स्थल पर रात बिताने , स्वास्थ्य सुविधाओं का कोई इंतजाम नही किया गया है। रात्रि में बरसते पानी के बीच कांवरियों को खुले आसमान के नीचे गुजारा करना पड़ रहा है।

बता दें कि कर्णेश्वर धाम पहुँच रहे कांवरियों में बड़ी सख्या महिलाओं की है इनकी सुरक्षा केलिए कोई व्यवस्था नहीं है।  उल्लेखनीय है कि कर्णेश्वरधाम स्थित शिव,राम-जानकी मंदिर का विशेष पुरातात्विक महत्व है। इस मंदिर में लगे सोलह पंक्तियों की भीत्ति शिलालेख से यह ज्ञात होता है इस मंदिर को संवत 1114 में कांकेर के सोमवंशी राजा कर्णराज ने अपने वंश की कीर्ति को अमर बनाने कर्णेश्वर देवहद में छह मंदिरों का निर्माण कराया था। आज इन मंदिरों की कीर्ति इतनी है कि देश- विदेश से श्रद्धालु दर्शन हेतु यहां आते है। पर कीर्ति के अनुरुप इन मंदिरों का रखरखाव पर सरकार ध्यान नही दे रही हैं । 

अष्ठ कोडीय प्रस्तर स्तंभों पर टिकी हुई मंदिर की छत अब जर्जर हो चुकी है । यहां कभी भी  गंभीर दुर्घटना धट सकती है। ओडिशा के जगन्नाथपुरी से दर्शन हेतु आये कांवरिया रमेश गुंडीचा ने चर्चा में बताया की इस मंदिर की ख्याति पूरे ओडिशा में है, क्योंकि सोमवंसी राजा जिन्होंने यह मंदिर बनवाया उनके पूर्वज जगन्नाथपुरी  के मूल निवासी थे । पर यहां कांवरियों के रात्रि रुकने की उचित व्यवस्था नही की जा रही है। शासन को इसका ध्यान रखना चाहिए । जिस दिन से सावन चालू होता है उस दिन से सावन के आखिरी दिन तक भंडारे की व्यवस्था नगरी सिहावा के उत्साहित युवकों को द्वारा हजारों कांवरियों को प्रतिदिन प्रसाद की व्यवस्था की जाती । दूर दराज से आए हुए श्रद्धालुओं का कहना है कि यहां मंदिर का वातावरण इतना अच्छा है कि हर साल आने का मन करता हे कणेश्वर धाम से कुछ दूर में प्राचीन गणेश मंदिर, श्रृंगी ऋषि पहाड़ जहां पर महर्षि श्रृंगी ऋषि एवं महानदी उद्गम; स्थल के दर्शन होते है। विकलगुप्ता उपाध्यक्ष कर्णेश्वर धाम मंदिर ट्रस्ट ने बताया कि मंदिर की अवस्था की सूचना समिति द्वारा पुरातत्व विभाग को दे दी गई है। कुछ मरम्मत कार्य का प्रस्ताव हो चुका है ।

Sports Competition : राज्य स्तरीय खेल प्रतियोगिता में रायपुर जोन बना ओवरऑल चैंपियन

धमतरी। जिले में 18वीं राज्य स्तरीय शालेय क्रीड़ा प्रतियोगिता का आयोजन संपन्न हुआ। प्रतियोगिता में रायपुर जिले ने ओवरऑल बाजी मारी है। शतरंज, कुश्ती और ताइक्वांडो में रायपुर के खिलाड़ियों का दबदबा रहा। पूरे प्रतियोगिता में रायपुर जोन को 373, दुर्ग  को 272 और जांजगीर-चांपा जोन को 140 अंक प्राप्त हुआ।

इन जिले के खिलाड़ियों ने पक्की की नेशनल के लिए अपनी जगह

शतरंज 14 वर्ष बालिका बालक में रायपुर ने बाजी मारी, 17 वर्ष बालक में दुर्ग व बालिका में सरगुजा अव्वल रहा, 19 वर्ष बालक में बिलासपुर, बालिका में जशपुर, फ्रीस्टाइल कुश्ती 14 वर्ष बालक में कोंडागांव व बालिका में दुर्ग ने बाजी मारी। वहीं कुश्ती फ्री स्टाइल 17 वर्ष बालक में रायपुर और बालिका में जांजगीर ने जीत हासिल की। तो 19 वर्ष बालक में रायपुर और बालिका में दुर्ग रहे।

इसी तरह ग्रीकोरोमन 17 वर्ष  बालक और 19 वर्ष बालक में रायपुर के खिलाड़ी छाए रहे। ताइक्वांडो  में 17 वर्ष में भी बालक में रायपुर और बालिका में  दुर्ग के खिलाड़ी रहे।  19 वर्ष बालक में रायपुर और बालिका में भी दुर्ग ने बाजी मार ली। राजकीय शोक की वजह से शुभारंभ और समापन कार्यक्रम सादगी से संपन्न हुआ। विजेताओं को शील्ड और प्रशस्ति पत्र वितरित किए गए। जिसमें प्रमुख रुप से खेल अधिकारी हरीश देवांगन पीटीआई जेपी देव नवनीत पचोरी अमित महोबे कमलेश देशमुख हेमंत ठाकुर सहित विभाग के खिलाड़ियों का योगदान रहा।

Gangrel Dam : भारी बारिश से गंगरेल बांध लबालब, खतरे के निशान से 80 सेंटीमीटर दूर

धमतरी। गंगरेल बांध में लगातार आवक होने की वजह से अब एक गेट खोल दिया गया है। जिसमें से 1713 क्यूसेक पानी की जावक शुरू हो गई है। लगातार बारिश की वजह से गंगरेल सहित जिले के अन्य बांधों में स्थिति अच्छी हो गई है। गंगरेल बांध में खतरे के निशान से सिर्फ 80 सेंटीमीटर दूर है। इस वक्त बांध का लेवल 347.98 मीटर हो चुका है।

2 बजे की स्थिति में आवक 6420 क्यूसेक जारी है। जिसे देखते हुए एक गेट को खोलकर 1713 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है ।यह पानी रुद्री बराज में जा रहा है। इस वक्त गंगरेल बांध में उपयोगी पानी 91 फीसदी हो चुका है। कुल लगभग 30 टीएमसी पानी भर चुका है। अन्य बांधों की स्थिति के बारे बात करें तो दुधावा 66.55 सोंढुर 91.88 मुरुमसिल्ली 48.80 फीसदी भर चुका है ।रुद्री के एसडीओ डीएस कुंजाम ने बताया कि गंगरेल से पानी आना शुरू हो गया है। डिमांड को देखते हुए मेन केनाल से 1000 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है । आगे डिस्चार्ज को बढ़ाया जा सकता है।

Nageshwara Temple:अंतिम सोमवार में कांवरियों का उमड़ा सैलाब

धमतरी। सावन माह के चौथे और अंतिम सोमवार को शिवालयों में जलाभिषेक करने के लिए कांवरियों का सैलाब उमड़ पड़ा। सभी मंदिरों में लंबी-लंबी कतारें दिखाई दी। सबसे पहले कांवरिया महानदी के तट पर स्थित रुद्रेश्वर मंदिर पहुंचे जहां महानदी का जल लेकर रुद्रेश्वर महादेव को चढ़ाया गया।

हर सोमवार की तरह इस बार महानदी की महाआरती की गई । जिसमें सैकड़ों कांवरिया शामिल हुए । रुद्रेश्वर से कांवरियों का जत्था विंध्यवासिनी मंदिर पहुंचा । वहां से मुख्य मार्गो से होते हुए बटुकेश्वर मंदिर नागेश्वर मंदिर। बुढ़ेश्वर मंदिर पहुंचे। इस दौरान जगह-जगह विभिन्न संस्थाओं के द्वारा प्रसाद वितरण किया गया। साथ ही  कृत्रिम बारिश से भी स्वागत किया गया । बोल बम कांवरिया संघ के द्वारा पिछले कई वर्षों से कांवर यात्रा का आयोजन किया जा रहा है।

Gangrel Dam : पानी से लबालब गंगरेल को निहारने सैलानियों की उमड़ी भीड़

धमतरी। लगातार छुट्टियों की वजह से गंगरेल बांध का मनोरम दृश्य देखने रोज हजारों की संख्या में सैलानी पहुंच रहे हैं। बांध में पानी की आवक से लेवल भी बढ़ने लगा है। गंगरेल में स्थित रविशंकर बांध इस बार अच्छी बारिश की वजह से भरने की कगार पर है, जिसे देखने दूर-दूर से सैलानी पहुंच रहे हैं। गंगरेल में 15 अगस्त को सैलानियों की काफी भीड़ थी। इसके बाद से लगातार छुट्टियों की वजह से लोग पिकनिक मनाने पहुंच रहे हैं। बांध के मनोरम दृश्य को लोग अपने कैमरे में कैद करते हुए नजर आए।

रविवार होने की वजह से क्षेत्र के अलावा अंगार मोती मंदिर में भी श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ी। बांध में लगातार पानी का आवक जारी है। अगले 24 घंटे में कैंचमेन्ट एरिया में बारिश होती है तो वह भरने के कगार पर आ जाएगी। लोग गंगरेल बांध के गेट के खुलने का इंतजार कर रहे हैं। आज की स्थिति में गंगरेल बांध का लेवल 347.84 मीटर हो गया है, जिसमें पानी 29.261 टीएमसी पानी भर गया है। इस तरह से उपयोगी जल इसमें 90% भर चुका है।

Gangarail Dam : भारी बारिश से गंगरेल बांध लबालब, खतरे के निशान से बस कुछ ही दूर बांध का पानी

धमतरी। धमतरी में गंगरेल बांध में पानी खतरे के निशान की स्थिति में पहुंचने की कगार पर है। ऐसे में यदि पानी निशान से उपर आया तो बांध का पानी बाहर निकालना पड़ेगा। लगातार बारिश होती रही तो बांध पूरी तरह से भर जाएगा, जिसके कारण आसपास के गांव में पानी घुसने का खतरा रहेगा।

बता दें कि गंगरेल बांध में खतरे के निशान का स्तर 348.70 मीटर है, जो आज सुबह की स्थिति में 357.67 मीटर हो चुका है। यानि खतरे से सिर्फ 1 मीटर ही दूर है। जल स्तर 87.17 प्रतिशत पानी के साथ जलभराव हो चुका है। इस साल बारिश के सीजन में एक ही पखवाड़े में अच्छी बारिश होने की वजह से 12 टीएमसी पानी आया। जबकि इस साल के बारिश सीजन में कुल 17 टीएमसी पानी की आवक अब तक हो चुकी है। आज सुबह 11 बजे की स्थिति में 4722 क्यूसेक पानी की आवक है। इस तरह अब मात्र 4 टीएमसी पानी की आवश्यकता रह गई है। किसानों के लिए यह अच्छी खबर है। बाद में यदि पानी की आवश्यकता होती है। और बारिश नहीं होती है तो बांध से पानी छोड़ा जा सकता है ।बांध से भिलाई प्लांट  रायपुर और धमतरी नगर निगम को पानी पीने के लिए दिया जाता है ।ऐसे में राहत की खबर है ।पिछले साल पानी की कमी हो गई थी। सन 2013 में भारी बारिश हुई थी जिसकी वजह से पूरे 14 गेट खोलने पड़े थे ।वह नदी में बाढ़ की स्थिति बन गयी थी। तटवर्ती गांव डूबने की स्थिति में आ गए थे।

 

Tribute : दिवंगत अटल जी को स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर ने दी श्रद्धांजलि

धमतरी। आज स्थानीय मकई चौक में शाम को भाजपा के द्वारा श्रद्धांजलि कार्यक्रम रखा गया। जिसमें दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान धमतरी पहुंचने की यादों का स्मरण किया गया । मकई चौक में सभी भाजपा के कार्यकर्ता पदाधिकारी मौजूद थे और दीप जलाकर फूल माला चढ़ा कर उन्हें श्रद्धांजलि दी गई। गौरतलब है कि अटल जी का धमतरी आना भी हुआ था 1985 से लेकर 1989 के बीच में 2-3 बार  धमतरी पहुंचे थे। यहां के पूर्व मंत्री कृपाराम साहू के अलावा कुछ और अन्य पदाधिकारियों से भी उनकी मुलाकात हुई थी । उन यादों को आज भी संजोए रखा गया है ।मंत्री अजय चंद्राकर ने श्रद्धांजलि देते हुए बताया है कि जब अटल जी 60 वर्ष के हुए थे तब धमतरी आना हुआ था  तब उन्हें 1 लाख रूपए की थैली भेंट की गई थी। इसी तरह सिंधी समाज ने भी शोक सभा आयोजित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी समाज के चार पदाधिकारियों ने मुंडन कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की

State Level Competition: सादगीपूर्ण ढंग से 18वीं राज्य स्तरीय खेल स्पर्धा का शुभारंभ

धमतरी। जिले में तीन खेलों के लिए 18वीं राज्य स्तरीय खेल स्पर्धा का आयोजन किया गया है। जिसका आज सादगीपूर्ण ढंग से शुभारंभ हुआ। बिना उद्घाटन समारोह के तीनों खेलों की शुरुआत की गई। राज्य स्तरीय खेलों में ताइक्वांडो कुश्ती और शतरंज खेल के 14, 17और 19 वर्ष के कैटेगरी में बालक और बालिका ख़िलाड़ी शामिल हो रहे हैं। जिसमें 12 जोन बस्तर, बिलासपुर, दुर्ग, जशपुर, सरगुजा, राजनांदगांव, रायपुर, कोरिया, कबीरधाम, कांकेर, कोंडागांव और जांजगीर-चांपा जिले शामिल है।

खेल अधिकारी हरीश देवांगन ने बताया कि 12 जोन से लगभग 1350 खिलाड़ी और 200 का स्टाफ पहुंचा है ।राजकीय शोक की वजह से उद्घाटन समारोह नहीं रखा गया था ।यह आयोजन 20 तारीख तक जारी रहेगा।

 

 
 
Arjuni police station : ग्रामीण क्षेत्रों में शराब बिक्री, थानेदार लाइन अटैच

धमतरी। अर्जुनी थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्र में शराब की अवैध बिक्री को लेकर सख्त कार्यवाही करते हुए एसपी ने थानेदार को लाइन अटैच कर दिया है।

गौरतलब है कि पिछले दिनों पुलिस अधीक्षक रजनेश सिंह ने सभी थाना प्रभारियों की बैठक लेकर सख्त हिदायत दी थी कि किसी भी थाना क्षेत्र में शराब जुआ सट्टा का कारोबार नहीं होना चाहिए । जिस क्षेत्र में होगी उसके थाना प्रभारी पर कार्रवाई की जाएगी। कल ग्राम भोयना के एक ढाबे में पुलिस को सूचना मिली कि अवैध शराब रखी हुई है। एसपी के निर्देश पर डीएसपी पंकज पटेल स्टाफ के साथ पहुंचकर दबिश दी जहां 38 पव्वा देशी शराब और एक बोतल बियर मिली। ढाबा संचालक के विरुद्ध धारा 34  2 के तहत कार्रवाई की गई। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में अवैध शराब जुआं बर्दाश्त नहीं की जाएगी इसी मामले को लेकर थाना प्रभारी को लाइन भेज दिया गया है।

Painful Accident : झोपड़ी पर दीवार गिरने से 3 लोगों की मौत, 4 घायल

धमतरी। अर्जुनी थाना क्षेत्र के कंडेल गांव में उस वक्त दर्दनाक हादसा हो गया, जब घर के सदस्य खाना खाकर सो रहे थे। देर रात एक मकान ढहने से 3 लोगों की मौत हो गई है। हादसे में 4 अन्य लोग घायल हो गए है। जिनमें महिला सहित बच्चे भी शामिल है। हादसे के बाद ग्रामीणों की मदद से संजीवनी एक्सप्रेस 108 को बुलाया गया और देर रात घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां उनका इलाज जारी है।

जानकारी के मुताबिक घटना रात करीब 9 बजे की है। बारिश से कमजोर हो चुके कंडेल गांव में एक मकान अचानक ढह गया और मकान का हिस्सा टूटकर पड़ोस में रहने वाले मिलोबाई साहू के घर पर भरभराकर गिर गया। इस हादसे में एक ही परिवार के तीन सदस्य की मौके पर ही मौत हो गई। 4 अन्य सदस्य बुरी तरह ज़ख्मी हो गए है। हादसे में मरने वालो में मिलो बाई साहू (70) खिलेश्वरी साहू (17), वेदांत (3) शामिल है। वहीं परिवार के धरमी साहू, राजकुमार साहू, मीरा साहू, इनेश्वरी साहू बुरी तरह घायल हो गए। जिन्हें संजीवनी एक्सप्रेस की मदद से इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मृतकों के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

 

 
Please Wait... News Loading
Visitor No.