GLIBS
उरला थाने से चंद कंदम दूर ट्रक ने बाइक सवार कुचला, एक घायल  

रायपुर। राजधानी के उरला थाना से चंद कदमों की दूरी में एक तेज रफ्तार ट्रक ने बाईक सवार दो युवकों को अपनी चपेट में ले लिया, जिससे बाइक सवार एक युवक की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं दूसरे युवक को गंभीर अवस्था में उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती किया गया है।

उरला थाना प्रभारी ने बताया कि ग्राम सुरहेली थाना बेरला निवासी धनेश्वर साहू अपने दोस्त डिगेन्द्र साहू (25) निवासी ग्राम भिंभौरी के साथ मोटरसायकल क्रमांक सीजी 25 सी 9472 में सवार होकर ग्राम कन्हेरा स्थित निरमा फैक्ट्री में आए थे। जहां दोनों अपनी ड्यूटी कर रात्रि में अपने दोस्त के यहां छट्ठी कार्यक्रम में शामिल होने ग्राम बीरगांव गए। वहां से शनिवार की सुबह करीब साढ़े 8 बजे धनेश्वर व डिगेन्द्र मोटरसायकल में सवार होकर सरोरा जाने के लिए निकले तभी उरला थाने से कुछ ही दूरी चौक पर सामने से आ रही ट्रक क्रमांक सीजी 13 एल 5778 के चालक ने लापरवाही पूर्वक वाहन चलाते हुए टक्कर मार दिया। जिससे मोटरसायकल में पीछे बैठे डिगेन्द्र साहू की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं धनेश्वर साहू को गंभीर अवस्था में उपचार के लिए अंबेडकर अस्पताल में भर्ती किया गया है। घटना के बाद ट्रक चालक वाहन छोड़कर फरार हो गया। जिसकी तलाश पुलिस कर रही है।

मुझे नई जिंदगी ढाई करोड़ जनता की पूजा-पाठ की बदौलत मिली: अजीत जोगी 

रायपुर। दिल्ली से स्वास्थ्य लाभ लेने के बाद आखिरकार छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस के संस्थापक नेता अजीत जोगी आज रायपुर पहुंच गए। अजीत जोगी का उनके  कार्यकर्ताओं ने गर्मजोशी के साथ स्वागत किया। जोगी ने इस अवसर पर अपने निवास में कार्यकर्ताओं का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि यह जिंदगी उन्हें ढाई करोड़ जनता की पूजा-पाठ और उनकी दुवाओं से मिली है। उन्होंने इसे अपना पुनर्जन्म बताते हुए अपने इस ने जीवन को ढाई करोड़ जनता की सेवा में समर्पित करने की बात कही। 

अजीत जोगी ने अपने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि  अब मैं नया पार्टी व नया चुनाव चिन्ह के माध्यम से छत्तीसगढ़ में परिवर्तन लाऊंगा और भ्रष्टाचार से छत्तीसगढ़ को मुक्त कराऊंगा। छत्तीसगढ़ के संसाधन कोयला, लोहा, सीमेंट व सोना का उपयोग कोई बाहरी नहीं बल्कि छत्तीसगढ़ की जनता करेगी, छत्तीसगढ़ छत्तीसगढ़िया लोगों के लिए है। राजनांदगांव के मृतक किसान हिम्मत लाल साहू और संतोष साहू के परिजनों ने उनकी अस्थियों की राख से अजीत जोगी का तिलक किया। 

किसान, व्यापारी और बेरोजगारों को लुभाने क कोशिश 

अजीत जोगी ने कहा कि जिस दिन वे राज्य के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे वे सबसे पहले चार हस्ताक्षर करेंगे, जिसमें किसानों के धान को ढाई हजार रुपए प्रति क्विंटल के भाव से खरीदेंगे। इसके अलावा वे किसानों का कर्ज माफी की घोषणा करेंगे। राज्य के 20 लाख बेरोजगार युवाओं को सरकार नौकरी पर रखने की व्यवस्था करेंगे। जोगी ने प्रदेश में पूर्ण शराब बंदी कर महिलाओं को उत्पीड़न से बचाने का शपथ लिया है। अजीत जोगी में प्रदेश के व्यापारियों को राज्य सरकार द्वारा लगाए जाने वाले टैक्स की राशि आधा करने का वायदा किया। 

जोगी को सिक्कों से तौला गया 

कार्यक्रम के अंत में अजीत जोगी को विधायक आरके राय, सियाराम कौशिक और भिलाई निवासी राजेन्द्र अग्रवाल  ने 85 किलो सिक्कों से तौले। अजीत जोगी ने उन सिक्कों को बाल आश्रम में देने की घोषणा की है। इसके अलावा अजीत जोगी को देवव्रत सिंह और कवर्धा निवासी योगेश तिवारी ने चांदी के हल भेंट किया। 

थानों में होंगे स्कैनर मशीन,  फुट और फिंगरप्रिंट लेकर बनाई जाएगी बदमाशों की कुंडली 

रायपुर। राजधानी के पुलिस विभाग में पुराने पैटर्न पर बदमाशों की फिंगरप्रिंट और निशान लेने की व्यवस्था अब खत्म होने की राह पर है। अब बदमाशों का आधुनिक तकनीकों के द्वारा फुट प्रिंट और फिंगरप्रिंट लेकर कुंडली बनाई जाएगी। इसके लिए आने वाले समय में स्केनर मशीन से थानों को लैस किया जाएगा। स्केनर मशीन से लिया गया रिकार्ड को सभी थानों में स्टोर कर लंबे समय तक रिकार्ड रखा जाएगा। हाल ही में पुलिसकर्मियों को इसके लिए प्रशिक्षण किया गया है।

कैसे होगा काम 

फिंगरप्रिंट एक्सपर्ट राकेश मनहरे ने बताया कि सीसीटीएनएस योजना के तहत हर थाने पर लाइव स्कैनर मशीन होगी, जिससे बदमाशों के हाथों, अंगुलियों और पैरों के निशानों का नमूना लिया जाएगा। उनके नमूनों का डाटा बेस तैयार किया जाएगा, जिसे सैकड़ों साल तक सुरक्षित रखा जाएगा। थानों पर तैनात एक्सपर्ट पुलिसकर्मी फिंगरप्रिंट समेत अन्य निशानों का नमूना लेने का काम करेंगे।

सजा दिलाने में होगी आसानी

आधुनिक तकनीक का बदमाशों को सजा दिलाने में मजबूत साक्ष्य के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकेगा। सालों पुराने निशान के नहीं मिलने से वारदात में बदमाश की भूमिका स्पष्ट नहीं हो पाती, जिसका फायदा बदमाशों को मिलता है और कोर्ट से बरी हो जाते हैं, लेकिन इसकी मदद से बदमाशों को कठोर सजा दिलाने में भी पुलिस को आसानी होगी।

ये होती हैं दिक्कतें 

वर्तमान में बदमाशों के हाथों, अंगुलियों और पैरों के निशान मैन्युअली लिए जाते हैं। इसे कागज पर एक फार्मेट पर बनाया जाता है। स्टांप पैड से बदमाशों के हाथों, अंगुलियों और पैरों के निशान लिए जाते हैं। स्याही से धब्बा बनने के कारण अंगुलियों की लाइन को मैच कराना बेहद कठिन हो जाता है, लेकिन लाइव स्कैनर मशीन से नमूना लेने पर यह समस्या खत्म हो जाएगी। साथ ही लंबे समय तक निशानों को साफ-सुथरा रखा जा सकेगा। साथ ही पुराने निशानों से मिलान करने में भी सहूलियत मिलेगी।

फिंगरप्रिंट डाटा से होने वाले फायदे

फिंगरप्रिंट के डाटा बनाने में पुलिस को कई फायदे होगें। ऐसा कोई व्यक्ति जिसका फिंगरप्रिंट पुलिस के पास मौजूद है और वह किसी दूसरे अपराध में शामिल रहता है तो उसकी पहचान आसानी से हो जाएगी। घटनास्थल से मिले उसकी अंगुलियों का निशान का मिलान डाटा बैंक में मौजूद फिंगरप्रिंट से कराया जाएगा। यदि यह मिल जाता है तो उसके घटना में शामिल होने की पुष्टि के साथ ही पुलिस को साक्ष्य भी मिल जाएगी। 

गांजा तस्करी करते दो युवक गिरफ्तार
आरोपियों के पास से 11 पैकेटों में 17 किलो गांजा जब्त, गंज पुलिस की कार्रवाई
सहायक श्रम आयुक्त महिलाओं से करते थे आपत्तिजनक बातें, थाने में शिकायत

रायपुर। श्रम विभाग में संविदा पद पर कार्यरत करीब आधा दर्जन महिलाएं मौदहापारा थाने में श्रम आयुक्त के खिलाफ छेड़खानी की लिखित शिकायत की है। श्रम विभाग में संविदा पद पर कार्यरत आधा दर्जन महिलाएं व युवतियां शुक्रवार के दोपहर मौदहापारा थाने पहुंचे और सहायक श्रम आयुक्त शोएब काजी पर छेडख़ानी की लिखित शिकायत कर एफआईआर दर्ज करने की मांग किए।

महिलाओं ने श्रम आयुक्त शोएब काजी पर आपत्तिजनक कमेंट करने का आरोप लगाया है। जिससे वहां की महिलाएं असुरक्षित महसूस कर रहें हैं। महिलाओं ने अपने पत्र में यह भी लिखा है कि शोएब काजी वाट्सअप और फेसबुक में भी उनकी फोटो व स्टेटस देखकर अश्लील टिप्पणी करते है। शिकायतकर्ता ने अपने साथ अप्रिय घटना घटित होने का अनुमान भी लगाया है और ऐसा होने पर पूरी जिम्मेदारी सहायक श्रम आयुक्त के होने की बात शिकायत पत्र में लिखी है। मौदहापारा पुलिस ने मामले में शिकायत पत्र को लेकर जांच करने की बात कही है।

बता दें कि थाने पहुंची सभी महिलाएं और युवतियां कलेक्टर के अनुमोदन के बाद वहां पदस्थ है। शिकायत के बाद पुलिस ने सहायक श्रम आयुक्त को थाने में बुलाया है और उनसे पूछताछ के बाद एफआईआर दर्ज करने की तैयारी की जा रही है।

हड़ताल पर गए एम्बुलेंस के 7 कर्मचारियों पर गिरी गाज, जीवीके कंपनी ने किया बर्खास्त

रायपुर। राजधानी में 108 और 102 एम्बुलेंस के हड़ताली कर्मचारियों पर जीवीके कंपनी ने सख्त रूख अपनाया है। कंपनी ने हड़ताल पर गए 7 कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया है। वहीं अन्य कर्मचारियों पर भी गाज गिर सकती है। बर्खास्त किए गए कर्मचारियों में कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष राजेन्द्र राठौर भी शामिल है।

बता दें कि बुधवार को जीवीके कंपनी ने एंबुलेंस कर्मचारियों के हड़ताल को खत्म कर ड्यूटी ज्वाइन करने का आदेश दिया था।

आंदोलन कर रहे संजीवनी के 6 स्टॉफ को किया बर्खास्त

1, राजेन्द्र राठौर अध्यक्ष

2, शिव साहू उपाध्यक्ष

3, लोकेश डडसेना सचिव

4, घनश्याम साहू जिला अध्यक्ष रायपुर

5, मोहनीश सिन्हा धमतरी का जिला अध्यक्ष

6, रघुनाथ साहू प्रदेश कार्यकारिणी समिति

7, पुरषोत्तम यादव

लोहा व्यापारी से 23 लाख से अधिक की ठगी, धोखाधड़ी का मामला दर्ज

रायपुर। राजधानी के शंकरनगर निवासी एक लोहा व्यापारी से 23 लाख से अधिक के लोहा की सीट एवं एंगल की ठगी करने का मामला प्रकाश में आया है। पीडि़त व्यापारी की शिकायत पर खमतराई पुलिस ने महाराष्ट्र के आरोपी के खिलाफ अपराध दर्ज कर जांच में लिया है।

थाना प्रभारी पूर्णिमा लांबा ने बताया कि शंकरनगर निवासी सुमीत नाहाटा (27) का भनपुरी में धनश्री स्टील के नाम से ऑफिस है। सुमीत पेशे से लोहा व्यापारी है और अपना व्यवसाय रायपुर एवं सूररजपुर से करता है। बताया जाता है कि 4 फरवरी 2018 को सुमीत के पास एक फोन आया। उक्त व्यक्ति ने अपना नाम माधव बिरादर बताया और पुणे में लोहा व्यवसाय करता हूं कहा। आरोपी माधव ने कहा कि उसका पुणे में ओमकार इंजीनियरिंग नाम से फर्म है। जिसके बाद माधव ने सुमीत से कहा कि उसे लोहे का सीट एवं एंगल की जरूरत है, मैं आर्डरर की कॉपी मेल कर रहा हूं और माल का 30 प्रतिशत नगद राशि दे रहा हूं। बाकी बचत राशि माल पहुंचने के बाद चेक के माध्यम से भुगतान करने की बात कही। जिस पर सुमीत को मेल के माध्यम से आर्डर की कॉपी मिल गई और उसके खाते में 7 लाख रूपए भी आ गया। उसके बाद सुमीत ने 7,12,14, और 15 फरवरी को ट्रक के माध्यम से कुल 32 लाख 27 हजार 828 रूपए का माल भेजा। माल भेजने के बाद भी जब सुमीत को पैसा नहीं मिला तो उसने 21 फरवरी को आरोपी माधव पर दबाव डाला। जिस पर आरोपी ने 8 लाख रूपए सुमीत के खाते में डाल दिया ओर बाकी रकम 1-2 दिन बाद देने की बात कही। जब 1-2 दिन बाद भी जब सुमीत को पैसा नहीं मिला तो उसने माधव को फोन लगाया तो उसका फोन बंद आया। जब सुमीत का माधव से संपर्क नहीं हुआ तो वह आरोपी माधव द्वारा दिए पते पर जाकर जानकारी ली तो पता चला कि वहां ओमकार इंजीनियरिंग के नाम से कोई फर्म नहीं है। वहीं यह भी जानकारी मिली की आरोपी माधव बिरादर ने रायपुर के दूसरे फर्म के साथ भी इसी तरह की ठगी की है। इस तरह आरोपी ने कुल 23 लाख 8 हजार 838 रूपए की ठगी किया है। पीडि़त की शिकायत पर खमतराई पुलिस आरोपी के खिलाफ अपराध दर्ज कर पतासाजी कर रही है।

जमीन विवाद में गैती से ताबड़तोड़ हमला कर बड़े भाई की हत्या, आरोपी गिरफ्तार 

रायपुर। राजधानी के राखी थाना क्षेत्र के ग्राम निमोरा में बीती रात जमीन विवाद के चलते छोटे भाई ने गैती से ताबड़तोड़ हमला कर बड़े भाई की हत्या कर दी। घटना की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने पंचनामा कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। वहीं आरोपी को हिरासत में लेकर पुलिस पूछताछ कर रही है।

थाना प्रभारी एनडी साहू ने बताया कि ग्राम निमोरा निवासी मृतक देवनाथ बंजारे (35) खेती करता था और अपनी पत्नी व बच्चों के साथ रहता था। वहीं पड़ोस में देवनाथ का भाई आरोपी जितेन्द्र बंजारे अपने परिवार के साथ रहता है। उन दोनों भाईयों में जमीन विवाद को लेकर पूर्व में कई बार विवाद हो चुका है। इसी बात को लेकर मंगलवार की रात भी उन दोनों भाईयों में विवाद हो गया और गुस्से में आकर आरोपी जितेन्द्र ने गैती से देवनाथ बंजारे पर ताबड़तोड़ हमला किया। जिससे गंभीर रूप से घायल देवनाथ की मौके पर ही मौत हो गई। 

लूट का शिकार आबकारी निरीक्षक का बयान संदेहास्पद, आरोपी का अब तक सुराग नहीं

रायपुर। राजधानी में एक दिन पहले आबकारी निरीक्षक प्रशांत शर्मा से हुए 31 लाख रुपए के लूट मामले में अब तक कोई सुराग नहीं मिला है। पुलिस की जांच में आबकारी निरीक्षक के बयान संदेहास्पद लग रहा है। एएसपी प्रफुल्ल ठाकुर घटना स्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों में वारदात का फुटेज व आरोपियों के बारे में पतासाजी की जा रही है। वहीं घटनास्थल में मोबाइल टॉवर डंप कर पतासाजी कर रहे हैं। वही दूसरी तरफ पुलिस का कहना है कि कलेक्शन एजेंट प्रशांत शर्मा का बयान संदेहास्पद लग रहा है, क्योंकि प्रशांत ने जिस लूट की जगह व समय बताया है, उस समय रोड पर चहल-पहल होती है। इस मार्ग रात करीब एक बजे तक लोगों की आवाजाही रहती है। ऐसे में लूट की वारदात को अंजाम देना संभव नहीं है। 

इसके अलावा एक टीम ने क्षेत्र में लगे मोबाइल टावर को डंप कर डाटा कलेक्ट किया। इस डाटा का पुलिस के अधिकारी और जवान बारिकी से अध्ययन कर रहे हैं। अब पुलिस को सीसीटीवी फुटेज और मोबाइल नंबर से ही आरोपियों के क्लू मिलने की आशा है।

 बता दें कि  शनिवार-रविवार की दरमियानी रात को आबकारी आरक्षक की आंखों में मिर्ची पावडर डालकर अज्ञात आरोपियों ने 30 लाख रुपए  लूट लिए। आरक्षक शराब दुकानों से पैसे एकत्रित कर डंगनिया आॅफिस में जमा करने जा रहा था। घटना अनुपम उद्यान के पास बताई जा रही है। यहां पर आबकारी आरक्षक प्रशांत शर्मा को अज्ञात आरोपियों ने घेर लिया। उसकी गाड़ी रोकी। आंखों में मिर्ची पावडर डाला। प्रशांत के बैग को छिनकर फरार हो गए। इस वारदात को तीन आरोपियों ने अंजाम दिया है। इस घटना के बाद आबकारी आरक्षक ने थाने में सूचना दी। आरोपियों को गाड़ी नंबर जो आरक्षक ने बताया है वह गलत निकला। लूट का शिकार हुआ आरक्षक घटना की सही जानकारी नहीं दे पा रहा है। वह बार-बार बयान बदल रहा है। 

बहरहाल इस घटना के बाद देर रात ही पुलिस ने पूरे शहर में नाकेबंदी कर दी थी। इसके बाद भी आरोपी पकड़ में नहीं आए। एसपी अमरेश मिश्रा ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। आरोपियों की खोजबीन जारी है। जल्द ही इस मामले में आरोपी पुलिस  के शिकंजे में होंगे। 

Please Wait... News Loading
Visitor No.