GLIBS
कृषि मंत्री बृजमोहन के खिलाफ जलकी जमीन विवाद मामले में लगाई गई याचिका खारिज 

रायपुर। कृषि मंत्री  बृजमोहन अग्रवाल के खिलाफ जलकी जमीन मामले में दायर उच्च न्यायालय पिटीशन को मुख्य न्यायाधीश के बेंच ने डिसमिस कर दिया। यह याचिका शहर की पूर्व महापौर व कांग्रेस नेत्री किरणमयी नायक ने लगाई थी। 

याचिका में कहा गया है कि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल के परिजनों द्वारा महासमुंद जिले के ग्राम जलकी में वन भूमि को कब्जा करके उसमें रिसार्ट बना लिया गया है। ग्रामीणों ने इसकी शिकायत वन विभाग और शासन से की थी फिर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। 

पीएससी मेंस परीक्षा शुरू, 298 पदों के लिए 4760 अभ्यर्थी दे रहे परीक्षा 

भोपाल। मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग की मुख्य परीक्षा शुरू हो चुकी है। यह परीक्षा 23 से 28 जुलाई तक ग्वालियर, भोपाल, जबलपुर, इंदौर के संभागीय मुख्यालयों के 13 परीक्षा केंद्रों पर जारी रहेगी। 298 पदों के लिए प्रारंभिक परीक्षा में 4760 उम्मीदवार परीक्षा दे रहे हैं। सोमवार को परीक्षा केंद्र में प्रवेश से पहले अभ्यर्थियों से मोबाइल टोपी घड़ी जूते मौजे उतरवाए दिए गए। महिला परीक्षार्थियों के साथ भी पूरी सख्ती बरती गई। उनके बालों में लगाने का क्लीप, मंगलसूत्र, कान की बालियां और चूड़ियों की भी जांच की गई। 

बता दें कि पीएससी मुख्य परीक्षा में कुल छह पेपर होंगे। इनमें चार प्रश्नपत्र सामान्य अध्ययन से होंगे। चारों प्रश्नपत्र 300-300 अंकों के होंगे। पांचवें पर्चा हिंदी भाषा का होगा। यह 200 अंकों का होगा। आखिरी प्रश्नपत्र निबंध लेखन का होगा। सभी प्रश्नपत्रों के 1400 अंकों में से प्राप्तांक के आधार पर मेरिट सूची बनेगी। मेरिट के आधार पर पदों के मुकाबले तीन गुना उम्मीदवारों का चयन अगले और अंतिम दौर इंटरव्यू के लिए होगा। इंटरव्यू 175 अंकों का होगा। लिखित परीक्षा और इंटरव्यू के कुल 1575 अंकों के आधार पर अंतिम मेरिट और चयन सूची तैयार की जाएगी।

जूनियर डॉक्टर्स हड़ताल पर, गड़बड़ाई चिकित्सा सेवाएं, मरीजों की बढ़ी मुश्किलें 

भोपाल। भोपाल के हमीदिया और सुल्तानिया अस्पताल समेत सरकारी मेडिकल कॉलेजों से जुड़े दूसरे अस्पतालों में स्वास्थ्य सुविधाएं आज से गड़बड़ा गई  हैं।

10 हजार स्टायफंड बढ़ाने की मांग को लेकर जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन बेमियादी हड़ताल पर चले गए हैं। साथ ही सातवें वेतनमान की मांग को लेकर गांधी मेडिकल कॉलेज, हमीदिया अस्पताल और सुल्तानिया अस्पताल के स्वशासी कर्मचारियों ने भी बेमियादी हड़ताल का ऐलान किया है। 5 मेडिकल कॉलेज के करीब 1500 जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर हैं। इसका असर इमरजेंसी सेवाओं पर भी पड़ेगा। अतिरिक्त मुख्य सचिव राधेश्याम जुलानिया ने अधिकारियों और जूनियर डॉक्टरों के साथ मीटिंग बुलाई है। मीटिंग के बाद हड़ताल न करने पर चर्चा की जाएगी। चर्चा असफल रही तो जूनियर डॉक्टरों का आंदोलन और तेज होगा। 

बता दें कि पीजी प्रथम वर्ष, द्वितीय वर्ष व तृतीय वर्ष का स्टायपेंड क्रमश: 45 हजार, 47 हजार और 49 हजार रुपए है। जूडा इसे बढ़ाकर क्रमश: 65 हजार, 67 हजार व 69 हजार रुपए करने की मांग कर रहा है। इसके लिए जूडा का चरणबद्ध आंदोलन कई दिन से चल रहा है। वे अलग ओपीडी चला रहे थे। लेकिन आज से उनकी प्रदेशव्यापी हड़ताल शुरू हो गई। इस हड़ताल से भोपाल हमीदिया और सुल्तानिया अस्पताल में असर दिखने लगा है। 

दोहरा हत्याकांड में उलझी खरोरा पुलिस, 3 माह बाद भी कोई सुराग नहीं

रायपुर। खरोरा में हुए दोहरा हत्याकांड में पुलिस व क्राइम ब्रांच की टीम उलझ गई है। हत्या के तीन माह बाद भी पुलिस हत्यारों के खिलाफ अब तक कोई साक्ष्य नहीं जुटा पाई है। इस मामले में पुलिस अब तक 50 लोगों से पूछताछ कर चुकी है। वहीं क्राइम ब्रांच की टीम भी अपनी स्तर पर जांच कर रही है। 

बता दें कि 22 अप्रैल की शाम ग्राम परसवानी लांजा गांव के खेत में एक महिला व नाबालिग की जली हुई लाश मिली थी। जिसमें खरोरा पुलिस ने शवों की शिनाख्ती ग्राम लांजा निवासी शिवकुमारी धु्रव (33) व पुष्पेन्द्र निषाद (14) के रूप में की थी। जांच में पुलिस ने बताया था कि शिवकुमारी अक्सर गोबर बिनने जाती थी और वह उस दिन भी उसी काम के लिए सुबह करीब साढ़े 10 बजे घर से निकली थी। पुष्पेन्द्र सुबह 9 बजे निकला था। दोनों शवों के पोस्टमार्टम कराने के बाद पुलिस को जानकारी हुई की महिला के साथ दुष्कर्म नहीं हुआ। इससे यह मानते है कि दोनों की हत्या किसी रंजीश के चलते हुई है।

खरोरा पुलिस ने पीएम रिपोर्ट प्राप्त करने के बाद क्राइम ब्रांच की टीम के साथ मिलकर आरोपियों की पतासाजी में जूट गई। इस दौरान क्राइम ब्रांच की टीम गांवों में कैंप कर करीब 50 ग्रामीणों का बयान ले चुकी है। लेकिन अब तक पुलिस के हाथ कोई सुराग नहीं लगी है। वहीं पीएम रिपोर्ट मिलने पर पुलिस ने बताया कि महिला के शरीर में 14 जख्म और किशोर के शरीर पर करीब 6 जख्म मिले है।

नए सिरे से जांच शुरू 

खरोरा थाना प्रभारी राजेश देवदास ने बताया कि मुझे यहां ड्यूटी ज्वॉइन किए 15 दिन हुआ है, जिसके चलते मामले को नए सिरे से जांच शुरू कर रहा हूं और घटनास्थल का मुआयना भी किया हूं। अब तक मामले में मैं करीब 15-20 लोगों से पूछताछ  कर चुका है। जिससे पूछताछ में यह पता चला है कि घटना वाले दिन कुछ बाहरी व्यक्तियों को मोटरसायकल में घटना स्थल पर देखा गया है। वहीं क्राइम ब्रांच की टीम अपने स्तर पर जांच कर रही है।

सिद्धांत ने जीता आॅल इंडिया मेंस सिंगल्स का खिताब

रायपुर।  महाराष्ट्र के सिद्धांत भाटिया ने आॅल इंडिया मेंस टेनिस चैंपियनशिप का खिताब जीत लिया है। वीआईपी क्लब में खेले गए सिंगल्स के फाइनल मुकाबले में सिद्धांत ने महाराष्ट्र के ही अरमान भाटिया को तीन सेट के संघर्षपूर्ण मुकाबले के 6-3, 2-6, 6-1 से मात देकर खिताब अपने नाम किया। अंतिम सेट में सिद्धांत ने अरमान को कोई मौका नहीं दिया। क्वालिफाइंग मुकाबला हारने के बाद उन्हें लकी लूजर के रूप में मेन ड्रॉ में जगह मिली थी। इसके पहले सिद्धांत ने नंबर-1 तमिलनाडु के रंजीत विराली को 6-2, 5-7, 6-1 से शिकस्त देकर फाइनल में जगह बनाई थी। इसके पहले मेंस डबल्स का खिताबी मुकाबला भी महाराष्ट्र के सिद्धांत और अरमान ने जीता। विजेता जोड़ी ने अर्घ्या दास-जयदीप को सीधे सेट में 6-4, 6 -3 से मात दी। 50 हजार इनामी राशि वाले टूनार्मेंट में शनिवार को विजेता खिलाड़ियों को छत्तीसगढ़ टेनिस संघ के अध्यक्ष विक्रम सिंह सिसोदिया ने पुरस्कृत किया।

प्रदेश के 2.37 लाख अध्यापकों का संविलियन आदेश कल होगा जारी

भोपाल। प्रदेश के 2.37 लाख से ज्यादा अध्यापकों के स्कूल शिक्षा विभाग में संविलियन के आदेश सोमवार को जारी किए जाएंगे।। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बड़वानी में जनआशीर्वाद यात्रा के दौरान इसकी घोषणा की। बता दें कि संविलियन होने के साथ ही अध्यापकों को सरकारी कर्मचारी का दर्जा मिल जाएगा। अध्यापकों को 7वां वेतनमान भी मिलेगा। इससे एक अध्यापक को हर महीने 5 से 8 हजार रुपए तक का फायदा भी होगा। अभी प्रदेशभर में ये अध्यापक चार विभागों के अधीन काम कर रहे हैं। इन्हें सरकारी कर्मचारी का दर्जा नहीं है। ये नगरीय-पंचायती निकायों और आदिम जाति कल्याण विभाग के अधीन हैं।

बता दें कि मुख्यमंत्री ने बीती 21 जनवरी को सीएम हाउस में आयोजित एक कार्यक्रम में संविलियन की घोषणा की थी। इसके बाद 29 मई को कैबिनेट ने इस पर फैसला लिया था। तभी से अध्यापकों के संगठन संविलियन के आदेश जारी करने के लिए आंदोलन के जरिये सरकार पर दबाव बना रहे थे।

रामचंद्र सिंहदेव पंचतत्व में विलीन, नम आंखों से लोगों ने दी अंतिम विदाई 

बैकुंठपुर। प्रदेश के प्रथम वित्तमंत्री रामचंद्र सिंहदेव आज पंचतत्व में विलिन हो गए। उनका अंतिम संस्कार उनकी भतीजी अंबिका सिंहदेव ने की। रामचंद्र सिंहदेव को अंतिम विदाई देने कोरिया समेत आसपास के हजारों लोग जुटे। लोगों ने उन्हें नम आंखों से श्रद्धांजलि दी। कोरिया कुमार का पार्थिव शरीर को पैलेस से कुछ ही दूर पर अंतिम संस्कार किया गया। यह करीब एक एकड़ की जमीन है जिसमे भविष्य में कोरिया कुमार की स्मृति में बगीचे का निर्माण किया जाएगा। 

रामचंद्र सिंहदेव के निधन से शोक संतप्त कोरिया में आज दुकानें बंद रही। नगर में मातम का माहौल रहा। बता दें कि कल देर रात रामचंद्र सिंहदेव का रायपुर के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया था। प्रदेश कांग्रेस भवन में उनके पार्थिव देह को अंतिम दर्शन के रखा गया। जहां प्रदेश कांग्रेस के नेताओं ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। उसके बाद उन्हे प्लेन से अंबिकापुर लाया गया, जहां से सड़क मार्ग से उन्हें कोरिया बैकुंठपुर लाया गया। 

रामचंद्र सिंहदेव एक अर्थशास्त्री, विद्वान, दूरदर्शी, कलाकार और कुशल राजनीतिज्ञ भी थे। बता दें कि साल 2000 में मध्यप्रदेश से अलग होकर बने छत्तीसगढ़ की पहली सरकार में रामचन्द्र सिंहदेव वित्त मंत्री थे। इससे पहले अविभाजित मध्यप्रदेश में भी वे कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं। रामचंद्र सिंहदेव को कोरिया कुमार के नाम से भी जाना जाता है। डा. सिंह देव  की स्कूली शिक्षा राजकुमार कालेज से हुई है। उसके बाद आगे की शिक्षा के लिए वे इलाहाबाद विश्वविद्यालय गए । जहां पर उनके सहपाठी  विश्वनाथ प्रताप सिंह व नारायण दत्त तिवारी रहे। साथ ही भूतपूर्व मूख्य मंत्री अर्जुन सिंह व पूर्व प्रधानमंत्री  वीपी सिंह उनके जूनियर रहे है। कोरिया राजघराने के रामचंद्र सिंहदेव ने 1967 में विधानसभा का चुनाव लड़ा और जीत हासिल कर सरकार में 16 विभागों के मंत्री बने थे। इसके बाद से वे अब तक 6 बार चुनाव जीतकर अविभाजित मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में विभिन्न महत्वपूर्ण मंत्री पदों पर भी रहे। 

 

स्कूल वैन पुल से 30 फीट नीचे गिरी, 16 बच्चे बाल-बाल बचे  

कोरबा। बच्चों को ले जा रही स्कूल वैन अनियंत्रित होकर पुल के  नीचे गिर गई।  अच्छी बात यह रही कि इसमें सवार करीब 16 बच्चे बाल-बाल बच गए। चालक समेत बच्चों को मामूली चोट आई है। कुछ बच्चों को गंभीर चोट आई है, जिन्हें उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 

घटना दर्री सिंचाई कालोनी के पास की है। सेंट्रल स्कूल एनटीपीसी के बच्चों को ले जा रही टाटा मैजिक वाहन अनियंत्रित होकर पुल से करीब 30 फीट नीचे गिर गई। घटना के बाद बच्चों की चीख-पुकार मचने के बाद आसपास से गुजर रहे लोगों ने बच्चों को बस से निकाला। तत्काल पुलिस को सूचना दी गई। आरोपी वााहन चालक मनोज यादव को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस आरोपी वाहन चालक से पूछताछ कर रही है। पुलिस यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि आखिर यह हादसा कैसे हुआ। वहीं इस घटना की खबर मिलने पर बच्चों के परिजन भी घटना स्थल तो कुछ सीधे 

अस्पताल पहुंचे। बदहवास परिजन अपने घायल बच्चों को देखकर रोने लगे। वहीं कुछ लोगों ने इसके लिए स्कूल प्रबंधन पर भी लापरवाही का आरोप लगाया। 

हड़ताल नहीं, चर्चा कर अपनी मांगें मनवाएंगे कोटवार

रायपुर। एक तरफ जहां प्रदेश में अपनी विभिन्न मांगों को लेकर सरकारी विभागों से जुड़े कर्मचारी संगठन धरना, प्रदर्शन और हड़ताल कर रहे हैं। वहीं दूसरी ओर कोटवार एसोसिएशन आॅफ छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से चर्चा कर अपनी मांग मनवाने का प्रयास कर रहे हैं। 

बता दें कि अगस्त के अंतिम सप्ताह में कोटवार एसोसिएशन का प्रांतीय सम्मेलन तय किया गया है। इसके लिए एसोसिएशन के सलाहकार अनिल श्रीवास्तव, प्रांताध्यक्ष प्रेम किशोर बाघ के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से मुलाकात कर उन्हें सम्मेलन में बतौर मुख्यअतिथि आमंत्रित किया है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन  सिंह ने एसोसिएशन के न्यौते को स्वीकार कर लिया है।   

कोटवार एसोसिएशन की सात सूत्रीय मांगे हैं। इनमें कोटवारों का पारिश्रमिक, बीमा, वारिस को अनुकंपा नियुक्ति,मालगुजारी, दान में दी गई जमीन के संबंध में हाईकोर्ट के आदेश का पालन किए जाने संबंध मांगें हैं। कोटवार लंबे समय से सरकार से इन मांगों को पूरी करने की मांग कर रहे हैं। 

चुनाव चिन्ह लेकर लौटे अजीत जोगी का जोशीला स्वागत 

रायपुर। स्वास्थ्य लाभ के लिए दिल्ली गए जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के संस्थापक अजीत जोगी आज रायपुर लौटे। माना एयरपोर्ट पर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने उन्हे चुनाव चिन्ह हल भेंट कर उनका स्वागत किया। एयरपोर्ट पर अजीत जोगी के स्वागत के लिए हजारों की संख्या में कार्यकर्ता मौजूद थे। अजीज जोगी के   स्वागत में समर्थकों ने जबर्दस्त उत्साह था। अजीत जोगी के स्वागत जमकर आतिशबाजी की गई। कार्यकर्ताओं ने खूब रंग-गुलाल उड़ाए। ढोल-ताशों की थाप पर कार्यकर्ता थिरकते नजर आए। 

विमान-तल परिसर पर जनता युवक कांग्रेस सभी कार्यकर्ताओं को उनके वाहन क्रमांक का स्टिकर बांटा गया।। जुलूस रायपुर के नगर घड़ी चौक से बाएं मुड़ कर मोतीबाग (बंजारी बाबा) चौक गई।  इसके बाद पुराना फायर ब्रिगेड चौक, आकाशवाणी, काली मंदिर चौक होते हुए काफिला सागौन बंगला पहुंचा। अजीत जोगी का अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग तरीके से स्वागत किया जाएगा। सभी मंचों पर पारंपरिक तरीके से उनका अभिनंदन करने कार्यकर्ताओं ने तैयारी पूरी कर ली है। जानकारी के   अनुसार पीटीएस चौक (पंथी नृत्य)- बसंत गिरिपुंजे के नेतृत्व में, फुंडहर चौक( ढोल, हल, गुलाबी गुब्बारा व गुलाल) - रायपुर ग्रामीण (ओम प्रकाश देवांगन), राम मंदिर/वीआईपी चौक(राउत नाचा)- आरंग विधानसभा (वतन चंद्राकर), मरीन ड्राइव (सजे हुए बैल के साथ)- रायपुर पश्चिम (सनत बंटी साहू), गांधी उद्यान चौक (थर्माकोल के हल के साथ)- रायपुर उत्तर (अमर गिधवानी, आसिफ मेमन, सुनंद विश्वास, सिद्दिक कुरैशी), अंबेडकर चौक(हल चलाता किसान के बड़े चुनाव चिन्ह के साथ)- एससी विभाग (बसंत आडिल), मोतीबाग चौक (मजार में चादर पोशी)- अल्पसंख्यक विभाग, जोगी ब्रिगेड, महिला विभाग (नोमान अकरम, राजीव कश्यप, बबलू रजा, आशा जोसफ), काली माता मंदिर (सजी हुई बैल गाड़ी के साथ)- रायपुर दक्षिण (इंद्रजीत ठाकुर) ने स्वागत किया गया है। 

राहुल की फिसली जुबान, पीएम मोदी नहीं रोक पाए अपनी हंसी

नई दिल्ली। संसद के मॉनसून सत्र में आज भाषण देते वक्त राहुल गांधी की जुबान फिसल गई। इसके बाद पीएम नरेंद्र मोदी समेत सदन में मौजूद विपक्षी दल के नेता अपनी हंसी रोक नहीं पाए।  राहुल गांधी अपने भाषण में जीएसटी को लेकर सरकार पर निशाना साध रहे थे। इसके बाद जैसे ही उन्होंने पीएम मोदी की विदेश यात्राओं पर बोलना शुरू किया, उनकी जुबान फिसल गई। 

राहुल गांधी ने कहा कि जब पीएम बार जाते हैं। यहां ‘बार’ से उनका आशय बाहर से था। उन्होंने अंग्रेजी में मतलब समझाते हुए कहा कि मतलब एब्रॉड यानी जब पीएम ओबामा, ट्रंप आदि से मिलने जाते हैं। लेकिन तब तक सबकी हंसी निकल चुकी थी। बीजेपी के नेता उनके इस बयान पर हंसने लगे। साथ ही पीएम मोदी भी अपनी हंसी नहीं रोक पाए और जोर जोर से हंसने लगे। 

पीएम मोदी और बीजेपी द्वारा हंसी उड़ने के बाद राहुल गांधी के चेहरे पर घबराहट साफ देखी जा सकती थी। हालांकि इसके बाद भी उन्होंने भाषण जारी रखा और राफेल-रोजगार जैसे मुद्दों पर बीजेपी को घेरा। आपको बता दें  कि पीएम मोदी राहुल गांधी के भाषण के दौरान दोबारा उस समय हंस पड़े, जब राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री अपनी आंख मेरी आंख में नहीं डाल सकते हैं। आपको बता दें कि कांग्रेस को इस चर्चा में  38 मिनट बोलने को दिए गए थे। 

राहुल ने पीएम मोदी को दी झप्पी, मोदी ने राहुल की पीठ थपथपाई

नई दिल्ली। संसद के मानसून सत्र के तीसरे दिन आज लोकसभा में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष व अमेठी के सांसद राहुल गांधी भाषण के बाद अपनी सीट से उठकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास गए और उन्हे गले लगाया। पीएम ने भी पीठ थप- थपाकर राहुल को बधाई दी। बता दें कि आज लोकसभा में मोदी सरकार के खिलाफ पहले अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग कराई जाएगी। बुधवार को टीडीपी सांसद की ओर से लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने मंजूर किया था, जिसके बाद उस पर चर्चा के लिए शुक्रवार का दिन तय हुआ था। 

सदन में राहुल गांधी ने कहा कि पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह अलग तरह के नेता हैं। मोदी और शाह सत्ता के बगैर नहीं रह सकते और हार भी बर्दाश्त नहीं कर सकते। आज हर आवाज को कुचलने की साजिश की जा रही है। पीएम मोदी अपने दिल की बात देश को बताएं। बाहर मुझे आपके सहयोगी दलों के सांसदों ने मुझे बधाई देते हुए कहा कि आप बहुत अच्छा बोले, पूरा विपक्ष और आपके ही 

सहयोगी प्रधानमंत्री को हराने जा रहे हैं। उन्होंने ने कहा कि हमला किसी व्यक्ति पर नहीं बल्कि अंबेडकर जी के संविधान पर हमला हो रहा है। जब आप के मंत्री संविधान को बदलने की बात करते हैं तो संविधान और संसद पर हमला होता है। उन्होंने कहा कि हम किसी भी कीमत पर संविधान को बदलने की बात नहीं सहेंगे। 

राहुल गांधी ने कहा कि पहली बार ऐसी छवि बन रही है कि भारत महिलाओं के लिए सुरक्षित मुल्क नहीं है। जहां भी अल्पसंख्यकों, आदिवासियों और दलितों पर हमले हो रहे हैं और पीएम एक शब्द तक नहीं बोले। राहुल ने कहा कि लोग मारे जा रहे हैं, काटे जा रहे हैं और मोदी के मंत्री आरोपियों पर हार डालते हैं।

Please Wait... News Loading
Visitor No.