GLIBS
वर्ल्ड म्यूजिक डे : इंसान को मानसिक तनाव से दूर रखता है संगीत

नई दिल्ली । 21 जून को 'वर्ल्ड म्यूजिक डे' मनाया जाता है ।इसकी शूरुआत सबसे पहले फ्रांस से हुई थी । फ्रांसीसियों के संगीत के प्रति दिवानगी की हद को देखते हुए 21 जून 1982 को आधिकारिक रूप से संगीत-दिवस की घोषणा हुई थी । धीरे-धीरे फिर ये समूचे विश्व में मनाया जाने लगा है। 21 जून को फ्रांस में लोग चाहे बच्चे, बूढ़े यहां तक कि अपाहिज और बीमार लोग हर कोई फ्रांसीसी सड़क पर उतर आता है कुछ-न-कुछ गाने, कोई-न-कोई वाद्य बजाने, थिरकने या सिर्फ़ सुनने के लिए बाहर निकल पड़ता है।

भारत में संगीत :

भारतवर्ष की सारी सभ्यताओं में संगीत का बड़ा महत्व रहा है। धार्मिक एवं सामाजिक परंपराओं में संगीत का प्रचलन प्राचीन काल से रहा है। संगीत भारतीय संस्कृति की आत्मा मानी जाती है।वैदिक काल में सामवेद के मंत्रों का उच्चारण उस समय के वैदिक सप्तक या सामगान के अनुसार सातों स्वरों के प्रयोग के साथ किया जाता था। गुरू-शिष्य परंपरा के अनुसार, शिष्य को गुरू से वेदों का ज्ञान मौखिक ही प्राप्त होता था व उन में किसी प्रकार के परिवर्तन की संभावना से मनाही थी। इस तरह प्राचीन समय में वेदों व संगीत का कोई लिखित रूप न होने के कारण उनका मूल स्वरूप लुप्त होता गया।

हिंदी सिनेमा में संगीत का महत्व :

भारतीय या हिंदी सिनेमा की बात करते है तो गीत-संगीत की परम्परा किसी फिल्म की लोकप्रियता की सबसे बड़ी वजह प्रतीत होती है । नौटंकी के दौर से लेकर गम्भीर सिनेमा के दौर तक गीत-संगीत की इस पूरकता को सहेज कर रखा गया | आज हिंदी फिल्मो में भले ही तकनीकी प्रधान हो गयी हो लेकिन गीत-संगीत से उसका रिश्ता अटूट है | हिंदी सिनेमा की पहली बोलती फिल्म 'आलम आरा' में ही पहला फिल्मी गीत भी था।  1931 में इसे एक नए एरा की शुरुआत समझ लीजिये। अब तक फिल्म प्रेमी अवाक फिल्मे देख रहे थे लेकिन “आलम आरा” में जब संवाद के साथ सुर-संगीत भी सुनने को मिला तो दर्शको की खुशी का ठिकाना नही रहा । इसके बाद बॉलावुड ने संगीत का दामन कभी नही छोड़ा। “आलम आरा” के कुछ समय बाद बनी फिल्म “इन्द्रसभा ” में कुल 71 गाने शामिल किये गये | यह  मुम्बई के मैजेस्टिक सिनेमा हॉल में सात हफ्ते तक चलती रही | फिल्म के गीत-संगीत को इसका श्रेय दिया गया | “इंद्रसभा” उस समय की व्यावसायिक रूप से सर्वाधिक सफल फिल्म मानी गयी | बॉम्बे टॉकीज की फिल्म “किस्मत” ने अनिल विस्वास (1914-2003) के संगीत-निर्देशन में बने गानों – “दूर हटो ए दुनिया वालो हिन्दुस्तान हमारा है ” , “पपीहा रे मेरे पिया से कहिया जाए” “धीरे धीरे बादल धीरे धीरे” की बदौलत कोलकाता के एक सिनेमा हॉल में तीन साल आठ महीन तक लगातार चलकर नया कीर्तिमान बनाया था ।

  

संगीत से लाभ  :

संगीत सुनने से इंसान को मानसिक तनाव नहीं होता है। जब भी आप ड्रिप्रेशन महसूस करें गाना सुने। गाना सुनने से मन शांत होता है।। संगीत सुनने से हमारे शरीरे से एंडार्फिन हार्मोन नामक तत्व निकलता है जो दिल को स्वस्थ रखने का काम करता है। संगीत सुनने से दिमाग स्वस्थ रहता है। दिमाग स्वस्थ तो व्यक्ति स्वस्थ। इससे  दिल यानी हार्ट से संबंधित समस्याएं नहीं होती। गाना सुनने से अच्छी नींद आती है। मगर इस  बात का ध्यान रहे की रात में कभी भी रॉक और रैट्रो गाने ना सुने। अच्छी नींद के लिए हमेशा सुकून देने वाले गाने सुनने चाहिए। संगीत से दिल स्वस्थ रहने के साथ ही मूड फ्रैश भी होता है संगीत हमारे दिमाग के लिए योग का काम करता है।

 

सुदर्शन पटनायक ने सैंड आर्ट के जरिए दिया एक अनोखा संदेश

नई दिल्ली । अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर सैंड आर्टिस्ट सुदर्शन पटनायक ने उड़िसा के पुरी बीच में आर्ट वर्क कर पूरी दुनिया को योगा करने के लिए प्रेरित किया । सुदर्शन ने अपने इस आर्ट वर्क में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी,यूएस राष्ट्रपति, चीन के प्रेसिडेंट, रूस के प्रेसिडेंट और नॉर्थ कोरियन लीडर किम जॉन्ग उन की तस्वीर बनाई है । साथ ही इल सभी देशों के झंडे भी बनाए है । सुदर्शन ने ट्विटर पर इस आर्ट की तस्वीर डाली है जो काफी वायरल हो रही है । इस आर्ट वर्क के लिए 5 टन रेत का इस्तेमाल किया गया है ।

दुनिया के 170 से ज्यादा देशों के लोग 21 जून को विश्व योग दिवस के रूप में मनाते हैं।  11 दिसंबर 2014  से 21 जून के दिन दुनिया में योग दिवस के रूप में मनाया जा राहा है।पीएम मोदी ने   दुनियाभर के लोगों को चौथे योग दिवस की शुभकामनाएं देते हुए कहा- ''देहरादून से लेकर डबलिन तक, शंघाई से लेकर शिकागो तक, जकार्ता से लेकर जोहानिसबर्ग तक, योग ही योग है. योग व्यक्ति-परिवार-समाज-देश-विश्व और सम्पूर्ण मानवता को जोड़ता है. योग आज दुनिया की सबसे एकीकृत शक्ति में से एक बन गया है. उत्तराखंड की इस पावन धरती पर हम सभी का एकत्रित होना सौभाग्य की बात है “।

नए मकान की सेंट्रिंग गिरने से 4 मजदूरों की मौत, 1 गंभीर

बीजापुर। मद्देड़ थाना क्षेत्र के पेगड़ापल्ली गांव मं मंगलवार को सुबह एक निर्माणाधीन मकान की सेंट्रिंग गिरने से 4 मजदूरों की मौत हो गई। एक श्रमिक घायल हो गया है। उसको इलाज के लिए बीजापुर जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां उसकी हालत नाजुक बताई जा रही है।

कैसे हुआ हादसा :

मद्देड़ के थाना प्रभारी ने बताया कि मंगलवार को सुबह घर की छत बनाने के लिए बल्ली आदि की सेंट्रिंग बनाई गई थी थी। सुबह-सुबह इसी पर मजदूर काम कर रहे थे। इसी दौरान पूरा ढांचा भरभराकर गिर पड़ा। उसके नीचे दबने से 4 श्रमिकों की मौके पर ही मौत हो गई। तो वहीं एक गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल मजदूर को बीजापुर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने लाशों का पंचनामा करवा कर उनको पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मामले की तहकीकात की जा रही है।

देश में 25 हजार नए पेट्रोल पंप खोलने की फिराक में सरकारी तेल कंपनियां

नई दिल्ली। सरकारी पेट्रोलियम कंपनियां देश भर में 25,000 नए पेट्रोल पंप खोलने जा रही है। देश में लगभग 57,000 पेट्रोल पंप सरकारी पेट्रोलियम कंपनियों द्वारा और 6,000 पेट्रोल पंप प्राइवेट कंपनियों द्वारा चलती है। इंडियन ऑइल, हिंदुस्तान पेट्रोलियम और भारत पेट्रोलियम के तीन सरकारी पेट्रोलियम कंपनिया पेट्रोल पंप खोलने के लिए अपने नियम बना सकते है।

ये तीनों कंपनियां एक महीने में विज्ञापन देकर 25,000 स्थानों पर पेट्रोल पंप खोलने के लिए आवेदन मंगाएगी। इसमें से ज्यादातर पेट्रोल पंप ग्रामीण इलाकों में खोले जाएंगे। अधिकारियों ने बताया कि नई गाइडलाइंस में समाज के पिछड़े वर्गों के लिए आरक्षण के नियमों के पालन के साथ ही पेट्रोलियम कंपनियों को डीलरों की नियुक्ति में छूट भी मिलेगी। पेट्रोल पंप डीलर चुनने की पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन होगी। डीलर का चुनाव ऑनलाइन ड्रॉ द्वारा आवेदनकर्ताओं में से विजेताओं का चुनाव कर किया जाएगा। आवेनदकर्ता के पास फंड की जरूरत को समाप्त किया गया है साथ ही जमीन पर मालिकाना हक न रखने वाले लोग भी जमीन मालिक के साथ टाई-अप कर डीलरशिप के लिए आवेदन कर सकते है।

मां धरती तो पिता आसमान...! 

नई दिल्ली। हर किसी की जिंदगी के बस दो ही सायबान होते हैं। मां है धरती तो पिता आसमान होते हैं। हर पिता अपने औलाद के सिर पर हमेशा अपनी छाया रखता है। उसको अच्छे से अच्छा खाना, कपड़ा और उम्दा तालीम दिलाता है, ताकि उसका बेटा एक अच्छा इंसान बन सके।

फादर्स डे दुनिया की पितृ सत्ता के सम्मान में एक व्यापक रूप से मनाया जाने वाला पर्व है। इसमें पितृत्व-बंधन तथा समाज में पिताओं के प्रभाव को समारोह पूर्वक मनाया जाता है। इस फादर्स डे पर अनेक सेलिब्रिटी और राजनेता ने फोटो शोयर कर पिता और बच्चों के लिए आपनी भावनाए व्यक्त की  हैं।

कांग्रेस पार्टी के यूथ कांग्रेस के अकाउंट से राहुल गांधी और राजीव गांधी की एक तस्वीर पोस्ट की गई है। इस तस्वीर में राहुल गांधी अपने पिता के गले लग रहे हैं। यह तस्वीर राहुल के बचपन की तस्वीर है। इस तस्वीर के साथ लिखा हुआ है। कि “पिता रास्ता दिखाने वाली रोशनी की तरह हैं, जो हमेशा सही रास्ता दिखाते हैं। उनका प्यार हमें हमारे सभी सपने पूरे करने में मदद करता है”।

शाहरुख खान ने भी एक तस्वीर शेयर की है,जिसमें बेटे अब्राहम द्वारा लिखा मैसेज दिखाई दे रहा है। अक्षय कुमार ने भी एक तस्वीर शेयर करते हुए लिखा है कि "मेरी बेटी ने मुझसे पंखों वाला यूनिकॉर्न मांगा था, कोई सुझाव दें."

सोनम कपूर ने अपने बचपन की तस्वीर शेयर की है इस तस्वीर में सोनम अपले पिता अनिल कपूर के गोद में है, और लिखा है, मेरे रोल मॉडल पिता मेरे लिए सबसे बड़ा गिफ्ट हैं। अभिषेक बच्चन ने पिता के साथ वाली बचपन की तस्वीर शेयर की है और लिखा है कि उनके पिता आज भी उनका हाथ थामे हुए हैं।

फादर्स डे सबसे पहले पश्चिम वर्जीनिया के फेयरमोंट में 5 जुलाई 1908 को मनाया गया था। कई महीने पहले 6 दिसम्बर 1907 को मोनोंगाह, पश्चिम वर्जीनिया में एक खान  दुर्घटना में मारे गए 362 पिताओं के सम्मान में इस विशेष दिवस का आयोजन किया गया।

टैक्सी लोगों की भीड़ में घुसी, आठ घायल

मास्को।फीफा विश्व कप की मेजबानी कर रहे रूस की राजधानी मास्को में शनिवार को मैच देखने आए कुछ लोग हादसे का शिकार हो गये।अचानक एक टैक्सी लोगों की भीड़ में घुस गई जिसकी चपेट में आकर आठ लोग घायल हो गये।इस हादसे में मैक्सिको के दो, रूस के दो और यूक्रेन का एक नागरिक  घायल हो गये है। घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घायल हुए कुछ लोग मैक्सिको टीम की जर्सी पहने हुए थे। घटना के बाद ड्राइवर ने भागने की कोशिश की लेकिन पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। वही अमरीकी सरकार ने रूस में चल रहे फीफा विश्व कप के दौरान संभावित आतंकी हमले की चेतावनी दी है। नागरिकों को रूस न जाने के लिए भी सलाह दी है।

मोदी सरकार को रोकने महागठबंधन जरूरी : राहुल गांधी

नई दिल्ली। राजनीति के क्षेत्र में एक दुसरे के कट्टर दुशमन माने जाने वाले भाजपा व कांग्रेस पार्टी के बीच हमले ना ही कभी थमे हैं और न ही कभी थमेंगे। राहुल गांधी ने ये बयां कर ही दिया कि भाजपा का डर कहीं न कहीं उनको भी है। राहुल ने आज बुधवार प्रेस कांफ्रेंस कर राहुल गांधी ने मोदी पर जमकर निशाना तो साधा, लेकिन अपने एक बयान पर यह समझ आ गया कि बीजेपी की सरकार से राहुल गांधी भी डरे हुए हैं। राहुल ने कहा कि मोदी सरकार को रोकने के लिए 2019 में महागठबंधन जरूरी हो गया है।  

उन्होंने भाजपा सरकार पर आरोप लगाया है कि केंद्र सरकार सिर्फ अमीरों के लिए काम कर रही है। पेट्रोल के दाम आसमान में है जिसे लेकर आम जनता परेशान हैं।और सरकार कोई सुध नहीं ले रही। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल ने कहा कि केन्द्र सरकार जिस तरह संस्थाओं पर आक्रमण कर रही हैं ऐसे में महागठबंधन देश की जरुरत है।आगे उन्होने मोदी पर हमला बोलते हुए कहा है कि उनके बातो में वादों की सच्चाई नहीं है। मोदी ने अपने गुरु लाल कृष्ण आडवाणी का कार्यक्रम तक में आदर नहीं किया। आज मैं आडवाणी जी के लिए बहुत क्षोभ महसूस कर रहा हूं। 

 
राहुल गांधी आज महाराष्ट्र के चंद्रपुर के नांदेड गांव में किसानों संग चौपाल पर चर्चा करेंगे। राहुल यहॉ दिवंगत कृषि वैज्ञानिक व एचएमटी धान आविष्कारक दादाजी खोब्रागढ़े के परिवार से मुलाकात करेंगे और उन्हें श्रद्धांजलि देंगे ।
कुछ लोगों को तरबूज सेवन से हो सकता है नुकसान

नई दिल्ली।तरबूज को हम एक स्वादिष्ट फल के रूप में तो जानते ही हैं तरबूज अत्यंत पौष्टिक भी है ।तरबूज जो हमें गर्मी में ठंडक का एहसास दिलाता है।वो कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, फाइबर और विटामिन सी, ए और बी का बहुत अच्छा स्रोत है। इसमें  लोहा, कैल्शियम, मैग्नीशियम,पोटेशियम और फास्फोरस जैसे महत्वपूर्ण खनिज भी निहित हैं। लेकिन कुछ ऐसे भी लोग है। जिनके लिए इसका सेवन हानिकारक भी हो सकता है।कुछ लोग को हैल्दी रहने के लिए तरबूज के सेवन से परहेज करना चाहिए।आप को बताते है कि किन लोगो को तरबूज का सेवन नही करना चाहिए:-

किडनी के रोगियों को : किडनी के मरीज को तरबूज का सेवन इसलिए नहीं करना चाहिए क्योंकि इसमें मिनरल्स भरपूर मात्रा में होते हैं जो किडनी के रोगी के लिए खतरनाक है।

हृदय समस्या वाले रोगियों को : हार्ट प्रोब्लम वालो को  तरबूज खाने से बचना चाहिए क्योकि तरबूज में पोटेशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसके सेवन से हार्ट प्रोब्लम बढ़ सकती है।

अस्थमा के रोगियों को : इस समस्या से ग्रसित लोगों के लिए तरबूज का सेवन हानिकारक है। क्योंकि अस्थमा में एमिनो एसिड होता है जिस कारण तरबूज का ज्यादा सेवन करने से उसे अस्थमा अटैक का खतरा बढ़ सकता है।

 डायबिटीज के रोगियों को :डायबिटीज के रोगियों को अपने खानपान पर विशेष ध्यान देना चाहिए कि उसे क्या खाना चाहिए और क्या नहीं।  तरबूज में भारी मात्रा में नेचुरल शुगर होता है। ऐसे में अगर शुगर के मरीज तरबूज का ज्यादा सेवन करेंगे तो उनके ब्लड शुगर लेवल भी बढ़ जाएगा। इसलिए डायबिटीज के रोगी को इसे सीमित मात्रा में खाना चाहिए।
 

क्रिकेट के टिकटों को बेचने के लिए धोनी के नाम का इस्तेमाल कर रहा आयरलैंड 

नई दिल्ली। भारतीय टीम को अब आयरलैंड का दौरा करना है। इस दौरे पर भारत को 2 टी-20 मैचों की सीरीज खेलनी है। आईपीएल 2018 में चेन्नई सुपर किंग्स को चैंपियन बनाने वाले महेंद्र सिंह धोनी भी इस दौरे पर खेलेंगे। आयरलैंड में माही की फैन फोलोविंग काफी ज्यादा है और अपने दर्शकों को लुभाने के लिए वे धोनी के नाम की टिकटों का इस्तेमाल कर रहे हैं। ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग स्टेडियम में आएं।

क्रिकेट आॅयरलैंड ने अपने ओफिशल ट्विटर हैंडल पर टिकटों की बिक्री के लिए लिखा, ''महेंद्र सिंह धोनी आ रहे हैं और आप उन्हें मलाहिदे में खेलते हुए देख सकते हैं। ये आपके लिए बड़ा मौका है क्योंकि 2011 में टाइम मैगजीन ने उन्हें अपने 100 सबसे प्रभावशाली लोगों में रखा था।'' गौरतलब है धोनी ना केवल भारत बल्कि पूरी दुनिया में काफी लोकप्रिय हैं। अपने खास शांत स्वभाव की वजह से वे लोगों के पसंदीदा क्रिकेटर हैं।

इस दौरे के लिए भारतीय टीम काफी मजबूत दिखाई दे रही है। आयरलैंड के खिलाफ भारत को अपना पहला मैच 27 और दूसरा मैच 29 जून को खेलना है। इसके बाद इंग्लैंड के खिलाफ 3 मैचों की टी-20 और 3 मैचों की वनडे सीरीज भी खेलनी है। आईपीएल के बाद धोनी अभी आराम कर रहे हैं। धोनी ने पूरे टूनार्मेंट में जबदस्त बल्लेबाजी की और कई मैच अपने दम पर जिताने में कामयाब रहे।

Please Wait... News Loading
Visitor No.