GLIBS
युवक पर टंगिए से जानलेवा हमला कर आरोपी पहुंचा थाने, गिरफ्तार  

तखतपुर। तहसील के गांव कोडासर में शनिवार सुबह एक युवक पर टंगिए से जानलेव हमला कर दिया गया। घटना में गंभीर रूप से घायल युवक को अस्पताल मे भर्ती कराया गया है, जहां उपचार चल रहा है। मिली जानकारी के अनुसार गांव में सुबह करीब 10 बजे अमित साहू अपने साथी दीपक व सीताराम के साथ तालाब नहाने जा रहा था। इसी दौरान आरोपी देवप्रसाद ने अमित को देखकर उसकी मां के संबंध में आपत्तिजनक बातें करने लगा, जब अमित ने इसका विरोध किया तो दोनों में जमकर मारपीट हो गई। बीच बचाव के बाद अमित अपने साथियों के साथ नहाने तालाब चला गया। कुछ समय पश्चात जब अमित नहाकर वापस आ रहा था, तभी बुंदरू के घर के पास पीछे से आरोपी देवप्रसाद ने टंगिया से अमित पर हमला कर दिया, जिससे उसके सिर के नीचे गंभीर चोट आई। घायल अमित को आनन-फानन में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र तखतपुर लाया गया, जहां से उसे सिम्स, बिलासपुर रेफर कर दिया गया।

आरोपी ने किया सरेंडर 

घटना के बाद आरोपी देव प्रसाद ने स्वयं थाने पहुंचकर घटना की जानकारी पुलिस को देते हुए स्वयं को पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस उक्त मामले में प्रार्थी जलेश्वर साहू पिता राम कुमार साहू 21 वर्ष निवासी कोडासर के रिपोर्ट पर धारा 294, 506 व 307 लगाकर न्यायालय में पेश किया, जहा से आरोपी को जेल भेज दिया गया।

हादसा: बच्चे ने खोला हैंड ब्रेक तो नाले में गिरी सूमो, शादी में जा रहे 6 की मौत

गाजियाबाद। गाजियाबाद के विजय नगर थाना क्षेत्र में नेशनल हाईवे-24 के किनारे एक टाटा सूमो गाड़ी नाले में गिरने से 6 लोगों की मौत हो गई है। वहीं एक बच्ची अभी भी मिसिंग है। बताया जा रहा है कि टाटा सूमो गाड़ी में सवार 12 लोग एक शादी समारोह में शरीक होने के लिए जा रहे थे। नेशनल हाईवे पर जाम के चलते चालक ने कार को बैक कर रहा था। इसी बीच एक बच्चे ने हैंड ब्रेक खोल दिए और कार करीब 20 फीट गहरे नाले में जा गिरी। चश्मदीदों के मुताबिक पुलिस भी काफी देरी से मौके पर पहुंची। स्थानीय लोगों ने ही मदद करते हुए गाड़ी में सवार लोगों को निकालने का प्रयास किया, लेकिन इसी बीच 6 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। गाजियाबाद में नेशनल हाईवे—24 के किनारे बना नाला मौत का नाला बन गया, जिसने 6 लोगों की जिंदगी को लील लिया है। हादसा विजयनगर इलाके में अकबरपुर बेहरामपुर के पास हुआ। बताया जा रहा है कि नेशनल हाईवे—24 पर जाम लगा हुआ था। इसी बीच टाटा सूमो वाहन में सवार होकर 12 लोगों का परिवार एक शादी समारोह में शरीक होने के लिए जा रहा था। जाम को देखते चालक ने गाड़ी को बैक करके दूसरे रास्ते से ले जाने की कोशिश की, लेकिन इसी बीच टाटा सूमो में सवार एक बच्चे ने हैंड ब्रेक खोल दिए और कार एनएच—24 के किनारे करीब 20 फुट नीचे के नाले में गाड़ी जा गिरी और पूरा परिवार उसमें फंस गया।

करीब 3 घंटे की मशक्कत के बाद गाड़ी को बाहर निकाला जा सका। जिसमें एक बच्चा और एक महिला समेत छह लोगों की मौत हो गई। चश्मदीदों का आरोप है कि 100 नंबर पर कॉल भी नहीं लग पाई। वहीं पुलिस को फोन मिलाने पर पुलिस काफी देरी से पहुंची और घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया। 

सभी मृतक और घायल मूलरूप से रुद्रपुर के रहने वाले हैं, जो खोड़ा में एक शादी समारोह में शरीक होने के लिए आ रहे थे। लेकिन, उससे पहले ही हादसा हो गया। नाला काफी गहरा था इसलिए मौके पर नेशनल हाईवे अथॉरिटी आॅफ इंडिया की क्रेन ने आकर गाड़ी को बाहर निकाला। 

हादसे के बाद से मौके पर भारी पुलिस बल में तैनात है। हालात संवेदनशील बन गए हैं। पुलिस का कहना है कि 10 से 12 लोग गाड़ी में सवार थे, जिनमें एक बच्चा भी शामिल था। मरने वालों में 60 साल के ओम प्रकाश, 55 साल की महिला, 30 साल की रीना, 17 साल की ऋतु, 28 साल की मधु और 5 साल की अंशिका शामिल है। बताया जा रहा है कि अभी तक अंशिका नहीं मिली है। जिसका शव नाले में होने की आशंका है। चश्मदीदों का आरोप है कि अगर पुलिस समय से मौके पर पहुंच जाती तो कुछ लोगों की जान बचाई जा सकती थी।

शादी से लौट रहा परिवार सड़क हादसे का शिकार, दो बच्चों की मौत तीन घायल

अंबिकापुर। शादी समारोह से लौट रहे एक परिवार शुक्रवार की सुबह सड़क हादसे का शिकार हो गया। दुर्घटना मे दो लोगों की मौत हो गई वहीं तीन लोग घायल हो गये। पुलिस ने बताया कि कार में बैठे व्यक्ति की कार चलाते हुए झपकी लग गई। जिससे कार अनियंत्रित हो गई। कार सड़क के किनारे जंगल में उड़ते हुए पेड़ से टकरा गई। व्यक्ति की बगल वाली सीट पर बैठे उसके दोनों बेटों की अस्पताल में मृत्यु हो गई, जबकि कार चला रहे व्यक्ति सहित पीछे बैठी व्यक्ति की मां और पत्नी बुरी तरह घायल हो गये। फिलहाल तीनों का अस्पताल में इलाज चल रहा है।

सूरजपुर जिले के ग्राम अधिना, सलका के बस स्टैंड स्थित विजय स्वीट्स के संचालक विजय गुप्ता के रिश्तेदार के घर ग्राम बतौली में शादी थी। उन्होंने अपने रिश्तेदार अमित गुप्ता की कार क्रमांक सीजी 15 बी-6725 को शादी में ले जाने के लिए मांगा था। इसके बाद विजय गुप्ता अपनी पत्नी शर्मिला गुप्ता, 2 मासूम बेटे अमन 8 वर्ष व सोनू 5 वर्ष तथा अमित गुप्ता की माता पार्वती गुप्ता को लेकर बतौली शादी समारोह में शामिल होने गया था।

शादी खत्म होने के बाद शुक्रवार की अलसुबह विजय गुप्ता सभी को लेकर कार से वापस घर लौट रहा था। इसी दौरान अंबिकापुर-दतिमा मार्ग पर राई जंगल के समीप सुबह करीब 4 बजे उसे झपकी आ गई। इससे कार अनियंत्रित होकर उड़ती हुई सड़क किनारे पेड़ से टकरा गई। हादसे में विजय गुप्ता सहित सभी लोग गंभीर रूप से घायल हो गए।

मौके पर अंधेरा होने के कारण वहां से गुजर रहे लोग भी कुछ नहीं देख पाए। इस दौरान विजय गुप्ता ने मोबाइल से अपने परिजनों को कॉल कर सूचना दी। सूचना मिलते ही परिजन वहां पहुंचे और सभी घायलों को मेडिकल कॉलेज अस्पताल अंबिकापुर में भर्ती कराया।

 

बेटियों को कोख में मारने वाले 17 राज्यों में छत्तीसगढ़ भी

भिलाई। छत्तीसगढ़ में  बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की मुहिम देशभर में तारीफ बटोरने वाले छत्तीसगढ़ को नीति आयोग की रिपोर्ट ने बड़ा झटका दिया है। हाल ही में जारी स्वस्थ राज्य और प्रगतिशील भारत रिपोर्ट के मुताबिक पिछले तीन दशक के दौरान देश में लड़कों की चाहत में लगभग एक करोड़ 21 लाख कन्याओं को गर्भ में ही मार दिया गया। वहीं देशभर में बीस फीसदी संपन्न और शिक्षित परिवारों में कन्या भू्रणहत्या की दर में लगातार वृद्धि हुई है। देश के बाद प्रदेश की बात की जाए तो आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट 2017-8 के लिंगानुपात के आंकड़े भी संतोषजनक नहीं है।

प्रदेश को उन 17 राज्यों के डेंजर जोन में रखा है, जहां बेटियों की संख्या तेजी से घट रही है। आधार वर्ष में प्रदेश में जहां जन्म के समय लिंगानुपात 973 था वो संदर्भ वर्ष में घटकर 961 रह गया है। लिंगानुपात में सीधे-सीधे 12 अंकों की गिरावट दर्ज की गई है। जन्म के समय घटते लिंगानुपात को लेकर हिमाचल और छत्तीसगढ़ की दशा देशभर में बेहद दयनीय है।

सबसे बड़ा कारण कन्या भ्रूण हत्या

शून्य से छह वर्ष से कम आयु के बच्चों में घटते लिंगानुपात के मामले में रायगढ़ के बाद दुर्ग जिला दूसरे नंबर पर है। रायगढ़ में जहां प्रति हजार बेटों के पीछे 947 बेटियां पैदा हुईं। वहीं दुर्ग में मात्र 948 बेटियां अपने माता-पिता का चेहरा देख पाईं। बेटियों के दयनीय स्थिति में तीसरे पायदान पर जांजगीर चांपा काबिज है। जहां प्रति हजार लड़कों के पीछे जन्म लेने वाली लड़कियों की संख्या मात्र 950 है। नीति आयोग की रिपोर्ट में छत्तीसगढ़ सहित देश के 17 राज्यों में घटते लिंगानुपात का सीधा कारण कन्या भ्रूण हत्या को बताया गया है। इधर प्रदेश में सबसे ज्यादा सार्वजनिक स्थलों में भू्रण मिलने की शिकायत भी दुर्ग जिले में दर्ज हुई है।

बेटियों के मुकाबले बेटों का जन्म दर अधिक

नीति आयोग ने जन्म के आंकड़ों के आधार पर तैयार की अपनी रिपोर्ट में खुलासा किया है कि गांवों की तुलना में शहरी इलाकों में बेटियों के जन्म में ज्यादा गिरावट आई है। देश में 902 बेटियों का जन्म जहां शहरी इलाकों में हुआ तो ग्रामीण इलाकों में 923 बेटियों का जन्म हुआ है। यही हाल छत्तीसगढ़ के शहरी आबादी वाले जिलों का भी है। प्रदेश के सबसे शिक्षित और शहरी आबादी वाले दुर्ग जिले में शून्य से छह वर्ष से कम आयु की जनसंख्या और सामान्य लिंगानुपात के घटते आंकड़े साफ-साफ बता रहे हैं कि यहां बेटियों के जन्म को लेकर समाज आज भी असहज महसूस करता है।

 

40 सीटों के लिए 7358 छात्र देंगे परीक्षा

बालोद। बालोदजिला बनने के 5 साल बाद विद्यालय शुरू होगा। सत्र 2017-18 में जवाहर नवोदय विद्यालय प्रारंभ हुआ। विद्यालय के प्राचार्य विद्याशरद जोशी ने जानकारी दी कि जिले के अधिकारियों सहित जनप्रतिनिधियों के सहयोग से परीक्षा की तैयारी लगभग पूर्ण कर ली गई है। नवोदय विद्यालय बालोद में प्रवेश लेने के लिए परीक्षा देने पांचों ब्लॉकों से 7358 छात्र-छात्राओं को मौका मिलेगा। इसके लिए सभी ब्लॉकों में 18 परीक्षा केन्द्र बनाए गए हैं।इस वर्ष जिले के छात्र नवोदय विद्यालय में प्रवेश लेने के लिए अपने ही जिले के केंद्रों में परीक्षा देंगे।

ऑनलाइन व ऑफलाइन आवेदन भरा गया

जोशी ने बताया सत्र 2018 के नवोदय विद्यालय प्रवेश परीक्षा के लिए दो तरह से आवेदन किया गया है, जिसमें ऑनलाइन व ऑफलाइन शामिल है। ऑफलाइन आवेदन करने वाले छात्र अपने स्कूलों में फार्म भरकर स्कूल में ही जमा किए। ऑनलाइन आवेदन के परीक्षार्थियों को सीएससी के माध्यम से प्रवेष पत्र वितरित किया गया, वहीं जो छात्र ऑफलाइन आवेदन किए थे उनको बीईओ के माध्यम से स्कूलों में प्रवेश पत्र भेजकर छात्रों को प्रदान किया गया।

7 हजार छात्र, केवल 40 सीट

ज्ञात हो कि बालोद जिले में नवोदय विद्यालय की शुरूआत 2017 में हुई थी। शुरूआत में स्कूल में केवल कक्षा छठवीं की ही कक्षा लग रही थी, जिसमें दर्ज संख्या 40 थी। व्यवस्थाओं के सुचारू संचालन के लिए इस वर्ष भी छठवीं में नए छात्रों को प्रवेश लेने 40 सीटों के लिए 7 हजार से अधिक छात्रों के बीच संग्राम होगा।

भवन बनने पर हो जायेगी छात्रों की संख्या 40 से 80

गौरतलब है कि पहले वर्ष केवल एक ही कक्षा लगने के कारण 40 छात्र-छात्राएं ही पढ़ाई कर रहे थे। वर्तमान में विद्यालय पुराने कलक्टोरेट भवन में लग रहा है। भवन में जगह कम होने के कारण इस वर्ष भी कक्षा छठवीं के लिए 40 सीटों के लिए परीक्षा आयोजित की जाएगी। विद्यालय का स्वयं का भवन बनने पर यह संख्या 80 हो जाएगी।

दुधली में बन रहा भवन
वर्तमान में नवोदय विद्यालय का स्वयं का भवन ग्राम दुधली में बन रहा है। बताया जा रहा है कि अब स्कूल में छठवीं व सातवीं की कक्षाएं चलेंगी। प्रवेश परीक्षा प्रभारी संतोष साकरे ने बताया अभी विद्यालय में पढऩे वाले कक्षा छठवीं के छात्रों की परीक्षा हो चुकी है और रिजल्ट भी वितरित किया जा चुका है। शुरुआती वर्ष में ही विद्यालय का परिणाम शत-प्रतिशत रहा है।

 

चचेरे भाई को अगवा कर मांगी 2 करोड़ की फिरौती, असफल होने पर कर दी हत्या

रायपुर। रविवार की देर रात हुई छात्र की हत्या का खुलासा पुलिस ने कर दिया है। दरअसल इस हत्या को अंजाम उसी के चचेरे भाई ने साथियों के साथ मिलकर दिया था। बताया जाता है कि आरोपियों ने छात्र को अगवाकर उसके पिता से 2 करोड़ रुपए वसूलने की योजना बनाई थी। योजना असफल होने पर उन्होंने छात्र की हत्या कर दी और पुलिस के सामने झूठी कहानी गढ़ दी। मृतक के चचेरे भाई ने पुलिस के सामने यह मनगढ़ंत कहानी बनाई थी कि आधी रात को कुछ लडक़ों ने उनके कमरे में आकर मारपीट कर चले गए थे। साथ ही यह भी कहा कि चार पांच युवकों ने मेंरे मुंह में कपड़ा ठूस मुझे दूसरे कमरे में बांध दिया था। जब मैं छुट कर निकला, तब तक प्रकाश की मौत हो चुकी थी। मृतक के चचेरे भाई इंजीनियरिंग कॉलेजों में कमीशन के आधार पर एडमिशन कराने का काम करता है। इसमें उसे करीब 10 लाख का नुकसान हुआ था। इसी नुकसान की भारपाई करने के लिए आरोपी ने ये कदम उठाया। पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही है।

 

 

ट्रेन से चोरी हुआ 70 लाख का सोना, 5 घंटे बाद शिकायत दर्ज

रायगढ़। साउथ बिहार एक्सप्रेस के स्लीपर कोच से खरसिया रेलवे स्टेशन के करीब 70 लाख का सोना चोरी होने का मामला सामने आया है। पीड़ित के अनुसार यह घटना दोपहर 12.30 बजे ट्रेन के खरसिया पहुंचने के दौरान हुई है। हैरानी की बात ये है कि व्यापारी ने इसकी शिकायत शाम 5.15 बजे रायगढ़ जीआरपी से की, रायगढ़ जीआरपी ने इस मामले में यात्री की शिकायत पर अज्ञात आरोपी के खिलाफ जुर्म दर्ज कर लिया है। इस चोरी के मामले में रायगढ़ जीआरपी ने बगैर जांच-परख के सिर्फ 7 मिनट में ही जयपुर के पीड़ित व्यवसायी की शिकायत अपराध दर्ज कर लिया। दोपहर करीब 12.30 में ट्रेन के खरसिया पहुंचने के दौरान व्यापारी, करीब पौने 6 किलो सोने से भरे बैग को सीट पर छोड़कर बाथरूम चला गया। दो मिनट बाद जब वो आया तो उसका बैग सीट पर नहीं था। ट्रेन उस समय खरसिया रेलवे स्टेशन में रुकी थी। फिलहाल इस मामले की जाँच पुलिस कर रही है।

 

स्वराज अभियान के बहाने जनता को साध रही भाजपा

रायपुर। राष्ट्रव्यापी ग्राम स्वराज अभियान के बहाने भारतीय जनता पार्टी मिशन 65 की नींव तैयार करने में जुट गई। आगामी विधानसभा चुनाव से पहले हो रहे इस कार्यक्रम के जरिए भाजपा ने सरकारी मशीनरियों के साथ-साथ संगठन की ताकत भी झोंक दिया है। इससे सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि भाजपा को ग्रामीण क्षेत्रों में मौजूदा स्थिति का आकलन हो जाएगा। इसके आधार पर चौथी पारी की जीत की अहम रणनीति बनेगी।

यही वजह है कि राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री सौदान सिंह ने अपने निर्वाचित जनप्रतिनिधियों और जिलाध्यक्षों को ग्रामीण क्षेत्रों में रात गुजराने की हिदायत दी है। भाजपा योजनाबद्ध तरीके से ग्रामीण मतदाताओं तक पैठ बनाने की रणनीति पर काम करना शुरू कर किया है। पहले जनसंपर्क यात्रा और अब ग्राम स्वराज अभियान के जरिए भाजपा ग्रामीण और दलित वोटबैंक ध्रुवीकरण को रोकने का काम कर रही है। ग्राम स्वराज अभियान भी इस रणनीति का अहम हिस्सा माना जा रहा है। यही वजह है कि भाजपा ने अपने जनप्रतिनिधियों से कह दिया है कि वे ग्राम सुराज अभियान में अपनी शत प्रतिशत भागीदारी दें। मालूम हो कि ग्राम सुराज अभियान के तहत १8 अप्रैल को स्वच्छ भारत दिवस मनाया जाएगा।

20 अप्रैल को उज्जवला दिवस का आयोजन होगा। 24 अप्रैल को राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के रूप में मनाया जाएगा। इस दिन प्रधानमंत्री देश के सभी ग्राम सभाओं को सम्बोधित करेंगे। साथ ही राज्य स्तर से लेकर ग्राम पंचायत स्तर पर विविध गतिविधियां आयोजित की जाएंगी। 28 अप्रैल को ग्राम स्वराज दिवस, 30 अप्रैल को आयुष्मान भारत दिवस, 2 मई को किसान कल्याण दिवस और 5 मई को आजीविका दिवस मनाया जाएगा।

 

17 करोड़ का काम ठेकेदार के भरोसे, प्रशासन नहीं कर रही मॉनीटरिंग

बेमेतरा। जलसंसाधन विभाग द्वारा 18 किमी लंबाई वाले पुराने नहर नाली को उपयोगी बनाने के लिए बिलासपुर के ठेका कंपनी को 17 करोड़ में ठेके पर दिया गया है, जिनके द्वारा नहर पुलिया व नहर का पुन: निर्माण किया जाना था, लेकिन जिस तरह से कार्य किया जा रहा है। उस पर सवाल उठने लगे हैं।

बता दें कि बीते सप्ताह भर में हुए असमय बारिश ने जलसंसाधन विभाग द्वारा कराए जा रहे कार्य की पोल खोल कर रख दी है और नहर में बनाए जाने वाले डीआरबी (पुलिया) के निर्माण के शुरुआती समय में ही कमजोरियां सामने आ रही हैं। वहीं पुराने नहर से निकाले जा रहे मुरूम को लेकर भी शिकायत की गई है। 

कम वर्षा के बाद जल संकट से जूझ रहे बेमेतरा जिले में करोड़ों की लागत से पुराने नहरों को रिमोल्ड करने के कार्य में अभी से शिकायत आने लगी है। पूर्व में कमजोर काम को लेकर ठेकेदार को नोटिस थमाया गया था, लेकिन इसके बाद भी कार्य में सुधार करने के बजाए कमजोर निर्माण किया जा रहा है। इसके अलावा निर्माण कार्य में लगे मजदूरों ने मजदूरी नहीं मिलने की शिकायत दर्ज कराई है।

 

दुमका ट्रेजरी केस में 37 दोषियों को 3 से 14 साल की सजा, 2 करोड़ तक जुर्माना

रांची। चारा घोटाला से जुड़े दुमका ट्रेजरी के तीसरे मामले (आरसी 45/96) में सीबीआई के स्पेशल कोर्ट ने बुधवार को 37 दोषियों को 3 से 14 साल की सजा सुनाई है। इन्हें 9 अप्रैल को दोषी करार दिया गया था। सभी पर 50 लाख से 2 करोड़ रुपए तक जुमार्ना भी लगाया गया है। इस केस में 9 अप्रैल को 37 आरोपियों को दोषी करार दिया गया था। साथ ही 5 को बरी कर दिया गया था। चारा घोटाला का यह 51वां मामला है। यह मामला बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री व राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद समेत किसी भी राजनेता से जुड़ा नहीं है। इसमें पशुपालन विभाग के अधिकारी, डॉक्टर और आपूर्तिकर्ता शामिल हैं।

पुलिस गई थी लुटोरों को खोजने, हत्थे चढ़े बाइक चोर गैंग

बेमेतरा। रेकी कर वाहन चोरी करने वाले 12 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस ने उनसे 12 मोटरसाइकिल व एक कार बरामद की है। इस मामले में आरोपियों पर धारा 379 के तहत अपराध कायम किया गया है। सभी को न्यायलय में पेश किया गया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया है।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार नवंबर 2017 में नवागढ़ के सहकारी बैंक में हुई चोरी के मामले में तफ्तीश के दौरान दिल्ली, अम्बिकापुर, बिजुरी व मांढर में भी नवागढ़ के तरीके से चोरी होने की सूचना मिली थी। जिसके बाद जिले में तफ्तीश में तेजी लाई गई और जिले में यूपी से आकर रहने वालों की जानकारी जुटाई गई। इसी क्रम में पुलिस टीम को नवागढ़ तिगड्ढे के पास एक लॉज में मोटर साइकिल व कार के साथ 12 लोगों के रुके होने की जानकारी मिली। जिसके बाद मौके पर पहुंची टीम ने सभी लोगों से वाहनों का दस्तावेज मांगा। जिसमें किसी भी वाहन का वाजिब दस्तावेज नहीं मिलने पर संदेहियों से कड़ी पूछताछ की गई और वाहनों को जब्त कर आरोपियों को हिरासत में लिया गया।

सभी आरोपी उत्तरप्रदेश के मूल निवासी हैं। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि हम लोग कपड़ा व कंबल बेचने के लिए फेरी लगाने के बहाने किराए पर मकान लेकर रुक जाते हैं और हमारे कुछ साथी फेरी लगाने के बहाने आसपास घूमते हैं। रेकी करने के बाद योजनाबद्ध तरीके से घटना को अंजाम देते हैं और फरार हो जाते हैं। पुलिस संदेह के आधार पर आरोपियों से अन्य चोरियां व अपराधों के संबंध में पूछताछ कर रही है। लेकिन अभी तक आरोपियों ने किसी भी कोई खुलासा नहीं किया है।



 

 

Please Wait... News Loading
Visitor No.