GLIBS

भारतीय ऑटो उद्योग को मंदी से निकलने में कितना समय लगेगा पता नहीं : मारुति सुजुकी

भारतीय ऑटो उद्योग को मंदी से निकलने में कितना समय लगेगा पता नहीं : मारुति सुजुकी

अहमदाबाद। दुनिया की प्रमुख ऑटो कंपनी मारूति सुजुकी के प्रबंध निदेशक सह मुख्य कार्यकारी अधिकारी (एमडी एवं सीईओ) केनिचि आयुकावा ने शनिवार को कहा कि किसी को भी पता नहीं है कि भारतीय ऑटो क्षेत्र को मंदी के मौजूदा दौर से निकलने में कितना समय लग सकता है। वाहनों के कलपुर्जों के उत्पादकों के संगठन एएमसीए के दूसरे वैल्यू चेन समिट में भाग लेने यहां आये आयुकावा ने मौजूदा स्थिति को एक मुश्किल और चुनौतीपूर्ण समय बताया और इससे निकल जाने की उम्मीद भी जतायी। यह पूछे जाने पर कि भारतीय वाहन और ऑटो बाजार में मंदी का मौजूदा दौर कब तक चलेगा, यह किसी को नहीं पता। हमारी कंपनी और अन्य ऑटो कंपनियां अपना बेहतरीनतम प्रयास कर रही हैं पर यह कोई नहीं जानता की मंदी का मौजूदा दौर दरअसल कब तक चलेगा।

ऐसे चुनौतीपूर्ण समय में कंपनी के गुजरात संयंत्र के विस्तारीकरण परियोजना के बारे में पूछे जाने पर आयुकावा ने कहा कि इसकी तीसरी इकाई का निर्माण का शुरू है जो अगले साल पूरा होगा और इसके जरिये उत्पादन भी शुरू हो जाने की संभावना है। इससे संयंत्र की उत्पादन क्षमता मौजूदा पांच लाख इकाई से बढ़ कर साढ़े सात लाख इकाई हो जायेगी। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कलपुर्जो के उत्पादन के मामले में स्थानीयकरण यानी लोकेलाइजेशन की नीति पर जोर दिया और इसे मंदी के दौर से निपटने और लागत खर्च को कम करने की चाबी करार दिया। उन्होंने गुजरात सरकार की नीतियों की सराहना भी की। बिजली अथवा बैटरी चालित वाहनों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि ऐसे वाहन जरूर मौजूदा मॉडलों के लिये चुनौती होंगे पर इनके बाजार में बड़े पैमाने पर आने में अभी पांच से दस साल का समय लगेगा।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.