GLIBS

जज्बे को सलाम: संक्रमित हुईं महिला चिकित्सक,कहा- ठीक होने के बाद दोगुनी ऊर्जा से फिर करूंगी काम

ग्लिब्स टीम  | 03 May , 2021 11:18 PM
जज्बे को सलाम: संक्रमित हुईं महिला चिकित्सक,कहा- ठीक होने के बाद दोगुनी ऊर्जा से फिर करूंगी काम

रायपुर। विश्व महामारी कोरोना के खिलाफ लड़ाई में स्वास्थ्य महकमा पूरी तरह से मुस्तैद है। लोगों को कहते सुना जा सकता है कि आज के समय में चिकित्सक हमारे तारनहार है, जो कोरोना महामारी के सामने दीवार की तरह खड़े होकर समाज व देश के प्रति अपने कर्तव्यों का बखूबी से निर्वहन कर रहे हैं। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र तिल्दा में पदस्थ डाॅ.पिंकी धृतलहरे अपने कर्तव्यों का निर्वहन करतीं हुईंं स्वयं, इनके एक वर्ष का पुत्र एवं पति डाॅ. भुवनेश्वर तीनों कोरोना पाजिटिव हो गये। डाॅ.पिंकी धृतलहरे कहती है कि चिकित्सा फिल्ङ के होने के बावजूद हम बहुत घबरा गए थे, खासकर एक वर्ष के पुत्र के बारे में ज्यादा चिंता होने लगी परन्तु धैर्य और हिम्मत और सकारात्मक सोच के साथ हम तीनों होम आइसोलेशन में हैं और एक सप्ताह में ही होम आइसोलेशन के गाइडलाइन के सही तरीके से पालन करने से स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है। आइसोलेशन की अवधि पूर्ण होते ही फिर से अपनी ड्यूटी पर दोगुनी ऊर्जा के साथ उपस्थित होकर, किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है, कर्तव्य मार्ग से पीछे नहीं हट सकती, भारत को कोरोना मुक्त करने में सहभागी बनूँगी। डॉ.पिंकी कहती है कि मरीजों की सेवा करना हमारा फर्ज है। इनके पति डॉ भुवनेश्वर धृतलहरे होम आइसोलेशन कन्ट्रोल रुम रायपुर में सेवारत हैं। वे कहते है कि जनमानस की सेवा करने का अवसर है। इस कोरोना महामारी को रोकने के लिए यथासंभव जतन करने के लिए सन्कल्पित है। मार्च 2020 से अब तक कोरोना महामारी के रोकथाम एवं बचाव, तथा कोरोना मरीजों को आवश्यक चिकित्सकीय उपचार परामर्श में लगातार लगे हुए हैं। ऐसे है कोरोना योध्दा डॉ.दंपत्ति अपने कर्तव्यों के प्रति ऐसी लगन‌ है‌ कि बच्चों की केयर के लिए मिलने वाली छुट्टी भी नहीं ली और निरन्तर कर्तव्य पथ पर डटे रहे।

 

ताज़ा खबरें

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.