GLIBS

जर्मनी में ट्रेनिंग करेंगे भारतीय जूनियर साइक्लिस्ट

जर्मनी में ट्रेनिंग करेंगे भारतीय जूनियर साइक्लिस्ट

नई दिल्ली। भारतीय जूनियर साइक्लिस्ट अगस्त में जर्मनी के फ्रैंकफर्ट में होने वाली जूनियर ट्रैक विश्व साइक्लिंग चैंपियनशिप की तैयारी के लिए जर्मनी में तीन महीने की ट्रेनिंग करेंगे। भारतीय साइक्लिंग महासंघ के महासचिव ओंकार सिंह ने जूनियर साइक्लिस्टों के लिए मंगलवार शाम को यहां एक सम्मान और विदाई समारोह में यह जानकारी देते हुए बताया कि सात सदस्यीय जूनियर टीम और दो कोच तीन महीने के ट्रेनिंग और प्रतियोगिता कार्यक्रम के लिए जर्मनी जाएंगे। टीम मुख्य कोच आरके शर्मा की निगरानी में कड़ा अभ्यास करेगी और फिर 15 से 19 अगस्त तक फ्रैंकफर्ट में होने वाली जूनियर ट्रैक विश्व साइक्लिंग चैंपियनशिप में हिस्सा लेगी। ओंकार ने कहा कि टीम को अपने पिछले वर्ष के प्रदर्शन में सुधार करने का पूरा भरोसा है। अल्बान एसो ने पिछली चैंपियनशिप में ऐतिहासिक प्रदर्शन करते हुए रजत जीता था और वह मामूली अंतर से स्वर्ण पदक से चूक गए थे। वह इस समय जूनियर रैंकिंग में नंबर वन हैं। उन्होंने बताया कि भारतीय टीम विश्व चैंपियनशिप के बाद स्वदेश लौटकर दो महीने अभ्यास करेगी और फिर अक्टूबर में कोरिया में होने वाली एशियाई ट्रैक साइक्लिंग चैंपियनशिप में भी हिस्सा लेगी।

इस अवसर पर इंडोनेशिया के जकार्ता में एशियाई ट्रैक साइक्लिंग चैंपियनशिप में पदक जीतने वाले भारतीय जूनियर साइक्लिस्टों को नगद पुरस्कारों से सम्मानित किया गया। भारतीय टीम ने इस प्रतियोगिता में चीन, कोरिया, जापान और कजाखिस्तान जैसे देशों के साइक्लिस्टों को पीछे छोड़ते हुये चार स्वर्ण, चार रजत और दो कांस्य पदक जीते हैं। भारतीय जूनियर राइडर्स ने स्प्रिंट, कीरिन, टाइम ट्रायल और टीम स्प्रिंट में स्वर्ण पदक जीतकर नया इतिहास बनाया था। ओंकार सिंह और साइक्लिंग महासंघ को अपना समर्थन दे रहे होंडा मोटर साइकिल और स्कूटर इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक हरभजन सिंह ने साइक्लिस्टों को नगद पुरस्कारों से सम्मानित किया। हरभजन ने इस अवसर पर घोषणा की कि स्वर्ण विजेता को एक लाख, रजत विजेता को 75 हजार और कांस्य पदक विजेता को 50 हजार रुपए का नगद पुरस्कार दिया जा रहा है। साथ ही टीम के दोनों कोचों को एक एक लाख रुपए दिये गये।

सम्मानित होने वाले जूनियर साइक्लिस्टों में तीन स्वर्ण और एक रजत विजेता एसो, दो स्वर्ण और एक रजत विजेता रोनाल्डो सिंह लेतोनजाम, स्वर्ण विजेता जेम्स सिंह कीथेलाकपाम, स्वर्ण विजेता रोजित सिंह यांगलेम, रजत और कांस्य विजेता त्रिएशा पॉल, रजत विजेता निकिता निशा, रजत और कांस्य विजेता वेंकप्पा शिवप्पा केंगलगुटी, रजत और कांस्य विजेता बिलाल अहमद डार, कांस्य विजेता एलंगबम लेनचेनबा सिंह और कांस्य विजेता गुरप्रीत सिंह शामिल हैं। टीम के साथ सम्मानित होने वाले कोचों में वीएन सिंह और आर के शर्मा शामिल हैं। जर्मन दौरे के लिए भारतीय टीम इस प्रकार है: अल्बान एसो, रोनाल्डो सिंह लेतोनजाम, जेम्स सिंह कीथेलाकपाम, रोजित सिंह यांगलेम, त्रिएशा पॉल, निकिता निशा और डेविड बेकहम कोच: आरके शर्मा, आई गौतमनी देवी

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.