GLIBS

हरियाणा सरकार ने की खिलाड़ियों की इनामी राशि में कटौती, खिलाड़ियों ने खेल नीति पर उठाए सवाल

ग्लिब्स टीम  | 26 Jun , 2019 02:07 PM
हरियाणा सरकार ने की खिलाड़ियों की इनामी राशि में कटौती, खिलाड़ियों ने खेल नीति पर उठाए सवाल

नई दिल्ली। हरियाणा सरकार ने अपने खिलाड़ियों की इनाम राशि में कटौती करने की घोषणा की है । इससे सूबे के खिलाड़ियों में आक्रोश है और वे ट्वीट कर अपना आक्रोश जाहिर कर रहे हैं।  खिलाड़ी हरियाणा सरकार की खेल नीति खेल नीति पर सवाल उठा रहें है। बता दें कि एशियन गेम्स की इनामी राशि खिलाड़ियों के खाते में आते ही हरियाणा सरकार के खिलाफ खिलाड़ियों का गुस्सा सामने आने लगा है। 
जिन खिलाड़ियों ने कॉमनवेल्थ के साथ एशियन गेम्स में भी मेडल जीते थे उनकी कॉमनवेल्थ गेम्स की आधी इनामी राशि में कटौती कर दी गई है। राशि में कटौती होने पर पहलवान बजरंग पूनिया, विनेश फौगाट समेत अन्य खिलाड़ियों ने ट्वीट कर नाराजगी जताई है।

खिलाड़ी जब देश के लिए मैडल लाता है, वह देश की जीत होती है। यह एक दिन की मेहनत से नहीं पूरे जीवन की तपस्या से प्राप्त होता है। खिलाड़ियों को मिलने वाली राशि में कटौती करके उनके मानसिकता और आत्मसम्मान पे ठेस न पहुंचाए। मेरी सरकार से विनती है कि इस निर्णय पर फिर से विचार करे।
वर्ल्ड के नम्बर वन पहलवान बजरंग पुनिया ने सरकार के खिलाफ ट्वीट किया है और लिखा है कि हरियाणा सरकार ने जो इनामी राशि मे कटौती की है वो खिलाड़ियों के मान सम्मान, मानसकिता और आत्मविश्वास पर ठेस पहुँचाएगी। मेडल लाना एक दिन की नहीं बल्कि पूरे जीवन की तपस्या है। बजरंग पुनिया ने सीएम मनोहर लाल खट्टर को टैग कर ट्वीट कर लिखा है कि हरियाणा के युवाओं ने देश को कई बेहतरीन मेडल दिए हैं। हरियाणा भले ही एक छोटा सा राज्य है पर यहां के खिलाड़ियों ने पूरे देश को कई बार गौरवांवित किया है। उनको मिलने वाली राशि में कटौती करके उनके मनोबल को ना तोड़ा जाए। मेरी हरियाणा सरकार से विनती है कि इस निर्णय पर दोबारा विचार किया जाए और इस मामले में सही निर्णय लिया जाए।
विनेश फोगाट ने इस मामले में ट्वीट कर कहा कि प्रिय सर लगता है जब आज से पांच साल पहले आप लोग आए थे तो यह क़सम ख़ाके आए थे हरियाणा में ना तो खिलाड़ी छोड़ने हैं ना ही उनका मान-सम्मान। चाहे वो खिलाड़ी छोटा हो चाहे बड़ा हो, आज कोई भी खिलाड़ी आपकी पॉलिसी से ख़ुश नहीं है।
 

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.