GLIBS

Youth Festival : कबीरधाम में युवा उत्सव का आयोजन 10 दिसम्बर से,विभिन्न विधाओं में होगा खेल का आयोजन

सतीश पात्रे  | 07 Dec , 2018 10:47 AM
Youth Festival : कबीरधाम में युवा उत्सव का आयोजन 10 दिसम्बर से,विभिन्न विधाओं में होगा खेल का आयोजन

कवर्धा। जिला खेल एवं युवा कल्याण विभाग द्वारा हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी विकासखण्ड स्तरीय और जिला स्तरीय युवा उत्सव का आयोजन 10 दिसम्बर से शुरू किया जाएगा। युवा उत्सव का आयोजन जिले के चारों विकासखण्डों और जिला मुख्यालय में जिला स्तरीय युवा उत्सव का आयोजन अलग-अलग तिथियों में होगा। 

यहां पर होगा युवा उत्सव का आयोजन 

जिला खेल अधिकारी ने बताया कि शासकीय हायर सेकेण्ड्री बालक स्कूल सहसपुर लोहारा में 10 दिसम्बर को, शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला सिंगपुर पण्डरिया में 12 दिसम्बर को, शासकीय शारदा संगीत महाविद्यालय कवर्धा में 13 दिसम्बर को और शासकीय हायर सेकेण्ड्री स्कूल बोड़ला में 14 दिसम्बर को युवा उत्सव आयोजित होगा।  जिला स्तरीय युवा उत्सव 20 दिसम्बर को शसकीय शारदा संगीत महाविद्यालय कवर्धा में सबेरे 9 बजे से प्रारंभ होगा। 

आयोजन में ये लोग ही ले सकते है भाग

युवा उत्सव में 8 जनवरी 2019 की स्थिति में न्यूनतम 15 वर्ष और अधिकतम 35 वर्ष आयु के तथा जिले के निवासी कलाकार ही भाग ले सकते है। कलाकारों को जन्म प्रमाण पत्र एवं निवास प्रमाण पत्र अनिवार्य रूप से लाना है।

इन विधाओं में होगा उत्सव

युवा उत्सव में 18 विधाएं शामिल किए गए है, जिनमें लोकनृत्य, लोकगीत एकांकी नाटक (हिन्दी-अंग्रेजी भाषा), शास्त्री गायन हिन्दुस्तानी शैली, शास्त्री गायन कर्नाटक शैली, सितार वाद्न (शास्त्री वाद्न), बंसुरी वाद्न (शास्त्री वाद्न), तबला वाद्न (शास्त्री वाद्न), वीणा वाद्न (शास्त्री वाद्न), मृदंगम वाद्न (शास्त्री वाद्न), हारमोनियम वाद्न (सुगम वाद्न), गिटार वाद्न (भारतीय या पाश्चात्य संगीत), मणीपुरी (शास्त्री नृत्य), उड़ीसी (शास्त्री नृत्य), भरतनाट्य (शास्त्री नृत्य), कत्थक (शास्त्री नत्य), कुचीपुडी (शास्त्री नृत्य) और वक्तृत्य कला (तात्कालिक भाषण) शामिल है। 

ऐसे होगा खेल का आयोजन

जिला खेल अधिकारी ने बताया कि लोकनृत्य में कलाकारों की अधिकतम संख्या 20 होगी। इसमें नर्तक एवं वाद्ययंत्र बजाने वाले कलाकार दोनों सम्मिलित है। एक दल में पुरूष-महिलाएं या दोनों सम्मिलित रूप से भाग ले सकते है। भारतीय शैली के पुरातन नृत्य या लोकनृत्य मान्य होंगे। लेकिन इसमें शास्त्री नृत्य एवं नृत्य नाटिका मान्य नहीं होंगे। समय सीमा 15 मिनट टेप रिकार्डेड संगीत मान्य नहीं होगा। एकांकी नाट्य कलाकारों की अधिकतम संख्या 12 होगी। सिर्फ हिन्दी भाषा में एकांकी प्रस्तुत किया जा सकेगा। समय सीमा 45 मिनट। एकांकी लेखक की उम्र 8 जनवरी 2019 की स्थिति में 35 वर्ष से अधिक नहीं होना चाहिए। लोकगीत में कलाकारों की संख्या 10 होगी। समय सीमा 7 मिनट। लोकगीत किसी भी भारतीय क्षेत्रीय भाषा में प्रस्तुत किया जा सकता है। फिल्मी गीत मान्य नहीं होंगे।  बांसुरी, तबला, वीणा, मृदंगम, सितार वादन में प्रतिभागी वाद्ययंत्र स्वयं लेकर आएगें समय सीमा 15 मिनट, हिन्दुस्तानी कर्नाटक शैली में प्रस्तुत किए जा सकेंगे। हारमोनियम वादन में प्रतिभागी अपना वाद्ययंत्र स्वयं लेकर आएगें। प्रदर्शन सुगम संगीत पर होगा। फिल्मी गीत मान्य नहीं होंगे। समय सीमा 5 मिनट।   वाक्तृत्व कला हिन्दी या अंग्रेजी भाषा में बोला जा सकता है, इसका समय सीमा 4 मिनट होगा। सभी विधाओं में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले कलाकार जिला स्तरीय आयोजन में भाग ले सकते है।