GLIBS

Election Commission: गैर मान्यता प्राप्त राजनीतिक दल मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को देंगे पार्टी फंड का ब्योरा

राजू यदु  | 27 Aug , 2018 11:26 AM
Election Commission: गैर मान्यता प्राप्त राजनीतिक दल मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को देंगे पार्टी फंड का ब्योरा

रायपुर। भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार पंजीकृत एवं गैर मान्यता प्राप्त राजनैतिक दल पारदर्शिता के तहत प्रतिवर्ष पार्टी फंड, वार्षिक लेखा परीक्षण रिपोर्ट एवं निर्वाचन व्यय संबंधी रिपोर्ट अब सीधे छत्तीसगढ़ मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को देंगे।

छत्तीसगढ़ के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू ने बताया कि विगत वर्षो में कुछ राजनैतिक दलों द्वारा पार्टी फंड, वार्षिक लेखा परीक्षण रिपोर्ट एवं निर्वाचन व्यय संबंधी रिपोर्ट सीधे भारत निर्वाचन आयोग को भेजी जा रही थी। भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार अब यह जानकारी राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को निर्धारित प्रपत्र में और समय-सीमा में प्रस्तुत करना अनिवार्य किया गया है। 

उन्होंने बताया कि राजनैतिक दलों से प्राप्त होने वाली जानकारियां मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय की वेबसाइट-सीईओ छत्तीसगढ डाट एनआईसी डाट इन पर अपलोड की जाएगी। जिन 36 राजनीतिक दलों को इस संबंध में सूचना पत्र भेजा गया है, उनमें छत्तीसगढ़ सयुंक्त जातीय पार्टी, छत्तीसगढ़ विकास पार्टी, छत्तीसगढ़ समाज पार्टी, जय छत्तीसगढ़ पार्टी, लोकतंत्र कांग्रेस पार्टी, पृथक बस्तर राज्य पार्टी, 

राष्ट्रीय मानव एकता कांग्रेस पार्टी, शक्ति सेना (भारत देश), आजादी का अंतिम आंदोलन सेना, छत्तीसगढ़ नवनिर्माण सेना, आप सब की अपनी पार्टी, पिछड़ा समाज पार्टी यूनाईटेड, स्वाभिमान पार्टी, आजाद जनता पार्टी, छत्तीसगढ़ मुक्ति मोर्चा, छत्तीसगढ़ स्वभिमान मंच, राष्ट्रीय आदिवासी बहुजन पार्टी, भ्रष्टाचार मुक्ति मोर्चा, भारतीय पिछड़ा दल, भारतीय सदभावना समाज पार्टी, गोंड़ावना गणतंत्र पार्टी, राष्ट्रीय गोंडवाना पार्टी, जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़, भारतीय सर्वजन हितेय समाज पार्टी, भारतीय स्वतंत्र पार्टी, भारतीय दलित कांग्रेस, छत्तीसगढ़ समाजवादी पार्टी, सुन्दर समाज पार्टी, प्रजातंत्र कांग्रेस पार्टी, छत्तीसगढ़ विकास गंगा राष्ट्रीय पार्टी, छत्तीसगढ़िया पार्टी, भारतीय प्रजातांत्रिक शुद्ध गांधीवादी कृषक दल, राष्ट्रीय जनसभा पार्टी, भारतीय जनता सेक्यूलर पार्टी, भारत भूमि पार्टी, राष्ट्रीय समाजवादी स्वाभिमान मंच शामिल हैं।  

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.