GLIBS

लोकसभा में राजनाथ ही होंगे उपनेता, राज्यसभा में गहलोत बने नेता

लोकसभा में राजनाथ ही होंगे उपनेता, राज्यसभा में गहलोत बने नेता

नई दिल्ली। सत्रहवीं लोकसभा में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता प्रधानममंत्री नरेन्द्र मोदी और उपनेता रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह होंगे जबकि राज्यसभा में अरुण जेटली की जगह थावरचंद गहलोत को सदन का नेता नियुक्त किया गया है। भाजपा संसदीय दल कार्यालय द्वारा आज यहां जारी संसदीय दल की कार्यकारिणी की सूची में गृहमंत्री अमित शाह का नाम मोदी के बाद भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में दूसरे स्थान पर रखा गया है।


भाजपा संसदीय दल कार्यालय के सचिव सी बालसुब्रह्यमण्यम ने यहां बताया कि मोदी और शाह के निर्देशन में भाजपा संसदीय दल की कार्यकारिणी का गठन मंगलवार को किया गया। रक्षा मंत्री सिंह को लोकसभा में भाजपा का उपनेता बनाया गया है और वह सदन में मोदी के बाद नंबर दो की हैसियत में होंगे। राज्यसभा में सामाजिक न्याय अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत को सदन का नेता तथा रेल, वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल को उपनेता बनाया गया है। सरकार का मुख्य सचेतक संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी को बनाया गया है। लोकसभा में सरकार के उप मुख्य सचेतक संसदीय कार्य राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल होंगे जबकि राज्यसभा में उप मुख्य सचेतक संसदीय कार्य राज्य मंत्री वी मुरलीधरन होंगे। लोकसभा में भाजपा के मुख्य सचेतक संजय जायसवाल और राज्यसभा में पार्टी के मुख्य सचेतक नारायण लाल पंचारिया होंगे।


भाजपा संसदीय दल के सचिव पद पर लोकसभा में श्री गणेश सिंह और राज्यसभा में भूपेन्द्र यादव को नियुक्त किया गया है। गोपाल शेट्टी को संसदीय दल का कोषाध्यक्ष बनाया गया है।
लोकसभा में भाजपा ने 18 सांसदों को सचेतक बनाया है जिनमें सुश्री प्रतिमा भौमिक, सुनील सिंह, प्रवेश वर्मा, किरीट भाई सोलंकी, जुगल किशोर शर्मा, नलिन कुमार कतील, सुधीर गुप्ता, संतोष पांडे, के एम पाटिल, सुरेश पुजारी, कनक मल कटारा ,अजय मिश्रा, भानु प्रताप सिंह वर्मा, पंकज चौधरी, खगेन मुर्मू, रंजनाबेन भट्ट, सुश्री शोभा करंदलाजे और सुश्री लॉकेट चटर्जी शामिल हैं। राज्यसभा में भाजपा ने छह सचेतक बनाये हैं जिनमें सर्वश्री अमर शंकर साबले, शमशेर सिंह मनहास, श्वेत मलिक, चुन्नीभाई गोहेल, अजय प्रताप सिंह और अशोक वाजपेयी शामिल हैं।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.