GLIBS

प्राइमरी और मीडिल स्कूलों में होगी अंग्रेजी और सीबीएसई पैटर्न से पढ़ाई : मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम

रोहित बन्छोर  | 11 Jul , 2019 03:41 PM
प्राइमरी और मीडिल स्कूलों में होगी अंग्रेजी और सीबीएसई पैटर्न से पढ़ाई : मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम

रायपुर। शिक्षा मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम गुरुवार कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और आम जनता की समस्याओं से अवगत होने राजीव भवन पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने मीडिया कर्मियों से चर्चा करते हुए बताया कि आज स्कूलों में पढऩे वाले बच्चों के पालक मिलने आए थे और निजी स्कूलों के बढ़ी हुई फीस की समस्या को बताया। इससे हमने उनकों जानकारी दी कि स्कूलों में फीस स्ट्रक्चर ज्यादा है। इसके लिए फीस नियामक कमेटी बनाई गई है। जो स्कूलों की जांच करेगी। इसके अलावा स्कूल संचालित करने वाले प्रतिनिधि भी अपनी समस्याओं को लेकर आए थे। उनका कहना था कि आरटीई के तहत 2 लाख छात्र-छात्राएं पढ़ते है, जिससे 2 साल से पैसा नहीं आई है। मंत्री ने कहा कि आरटीई की पैसा 25 प्रतिशत राज्य सरकार देती है वहीं 75 प्रतिशत भारत सरकार की भागीदारी रहती है। वहीं कुछ कार्यकर्ता अपने साथियों के ट्रांसफर को लेकर आए थे।

मंत्री प्रेमसाय ने कहा कि शिक्षा विभाग के प्रत्येक विकास खंड के प्राइमरी और मीडिल स्कूलों में अंग्रेजी और सीबीएसई पैटर्न पर पढ़ाई होगी। इसके लिए एनसीआरटी के बुक को आने पर विलंब हो गया था। लेकिन बुक आ गई है और जल्द ही स्कूलों में पढ़ाई शुरू होगी। वहीं कई स्कूलों में शिक्षकों की कमी है। जिस पर मंत्री ने कहा कि अंग्रेजी, गणित, साईंस और कॉमर्स के शिक्षकों की भर्ती की जा रही है। वहीं जहां पर शिक्षक नहीं है तो वहां पर भी जल्द ही शिक्षकों की भर्ती करने का विचार किया जाएगा। स्कूलों में छत्तीसगढ़ी भाषा को पढ़ाने की बात पर उन्होंने जवाब दिया कि छत्तीसगढ़ के 15 भाषाओं को प्रायमरी स्तर से पढ़ाने का शुरू किया जाएगा। इसके अलावा हम लोगों ने ब्लैकबोर्ड से लेकर की बोर्ड तक की योजना चला रहे है। इसके तहत 1246 स्कूलों का चयन किया गया है। इसमें लैब, लेपटाप, प्रोजेक्ट व अन्य सुविधाएं रहेगी। ताकि बच्चे पढऩे के साथ ही सुनकर मनोरंजन कर सके।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.