GLIBS

हर किसान से प्रति एकड़ 15 क्विंटल धान खरीदेंगे, 2500 रुपए का भुगतान होगा : कांग्रेस

रविशंकर शर्मा  | 10 Dec , 2019 04:16 PM
हर किसान से प्रति एकड़ 15 क्विंटल धान खरीदेंगे, 2500 रुपए का भुगतान होगा : कांग्रेस

रायपुर। धान खरीदी और किसानों से जुड़े मुद्दे पर प्रदेश कांग्रेस के मुख्यालय राजीव भवन में आज मंगलवार को पीसीसी प्रभारी महामंत्री गिरीश देवांगन, संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने प्रेसवार्ता ली। गिरिश देवांगन ने भाजपा के द्वारा लगाए गए आरोपों को गलत कहा, उन्होंने कहा कि 15 साल किसानों को डॉ. रमन सिंह और भाजपा ने ठगा है। नगरीय निकाय चुनाव के चलते भाजपा लोगों को बरगलाने का काम कर रही है। भूपेश सरकार किसानों के प्रति संवेदनशील है। गिरीश देवांगन ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा हमेशा धोखा करते आयी है, तभी सिर्फ 14 सीट मे सिमट कर रह गई। गिरीश देवांगन ने कहा कि  रकबे के हिसाब से धान खरीदा जा रहा है, टोकन सिस्टम आज चालू नहीं हुआ हैं। भाजपा के समय से ऐसे ही चलता आ रहा है। किसानों को धैर्य रखना चाहिए,अगर अंतिम दिन तक खरीदी पूरी नहीं हुई तो खरीदी की तिथि को आगे बढ़ाया जाएगा। 

उन्होंने अपील की कि किसान अफवाह फैलाने वालों से सावधान रहें।  अभी भी भाजपा के सांसद अपनी पार्टी के प्रधानमंत्री से कुछ  नहीं कह रहे हैं। कांग्रेस की ताकत किसान हैं और किसानों की ताकत कांग्रेस है। गिरीश देवांगन ने आरोप लगाया है कि किसानों से झूठ बोलने का काम डॉ. रमन सिंह ने किया है। बेरोजगारों को भत्ता, 10 लीटर दूध देने वाली जर्सी गाय, 300 रुपए बोनस 5 साल तक, 2100 रुपए धान समर्थन मूल्य, चाल, चरित्र और चेहरा बेनकाब हो गया है। भाजपाईयों ने कहा कि किसानों को 2500 रुपए समर्थन मूल्य देने से बाजार की व्यवस्था बिगड़ेगी। भूपेश बघेल ने दो घंटे में 11000 करोड़ का कर्ज माफ किया।  2500 रुपए में 80 मीट्रिक टन धान खरीदी, इस वर्ष 85 मीट्रिक टन 2500 रुपए में खरीदा जाएगा। गिरीश देवांगन ने कहा कि  भाजपा की केन्द्र सरकार का झूठ  स्वामिनाथन कमेटी की सिफारिशे।  किसानों की आय दुगुना करना। राज्य में भी झूठ बोला गया। धान खरीदी में 15 वर्षों में घाटा और घोटाला रमन सिंह की सरकार ने किया है। 2013 के घोषणा पत्र में एक-एक दाना धान की खरीद की बात भाजपा ने की थी। 2100 रुपए समर्थन मूल्य और 300 रुपए बोनस जो रमन सिंह ने कभी नहीं दिया। 2018 में कांग्रेस का घोषणा पत्र में धान की खरीद की न्यूनतम दर 2500 रुपए प्रति क्विंटल में करने की बात कही।

प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है छत्तीसगढ़ की भूपेश सरकार हर किसान से प्रति एकड़ 15 क्विंटल धान खरीदेंगे। हर उस किसान को जो धान बेचेगा, प्रति क्विंटल 2500 रुपए का भुगतान होगा। किसी भी सूरत में किसी भी किसान को इस योजना से वंचित नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के लोग किसानों के बीच अफवाहें फैला रहे हैं कि राज्य सरकार किसानों को 2500 रुपए नहीं देगी।या यह कि हर किसान से 15 क्विंटल धान खरीदी नहीं होगी। किसान भाई याद रखें कि किसानों से सबसे अधिक दगाबाजी इन्हीं लोगों ने की है। भाजपा ने धान का मूल्य 2100 रुपए देने की घोषणा की लेकिन मूल्य कभी दिया नहीं। भाजपा ने कहा था कि वे हर साल 300 रुपए बोनस देंगे लेकिन चुनावी वर्ष के अलावा कभी बोनस नहीं दिया। केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार आते ही राज्यों को बोनस देने से रोक दिया गया।  रमन सिंह मुख्यमंत्री थे लेकिन वे कभी प्रधानमंत्री से मिलने नहीं गए कि प्रदेश के किसानों को बोनस देने से नहीं रोकना चाहिए, एक चिट्ठी लिखकर चुपचाप बैठ गए। 

उन्होंने कहा कि केंद्र में भी भाजपा की सरकार थी और रमन सिंह भी भाजपा सरकार चला रहे थे, वे चाहते तो मामला सुलझा सकते थे लेकिन नहीं सुलझाया। अभी भी वे अपनी पार्टी के प्रधानमंत्री से कुछ  नहीं कह रहे हैं। पिछले साल जो राहत बोनस बांटने में दी गई थी वह इस साल फिर से रोक दी गई। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बार-बार चिट्ठी लिखते रहे, केंद्रीय कृषि और खाद्य मंत्री से मिले। केंद्र सरकार ने राज्य सरकार को बोनस देने से रोक दिया और कहा कि यदि बोनस दिया तो केंद्रीय पूल में चावल नहीं खरीदेंगे। अगर भाजपा के सांसद और विधानसभा के नेता छत्तीसगढ़ के किसानों के साथ खड़े होते तो यह नौबत नहीं आती।  इन सबके बावजूद राज्य की भूपेश सरकार किसानों को बोनस देने और उनका पूरा धान खरीदना चाहती है। इसे लेकर भी भाजपा के नेता राजनीति कर रहे है। किसानों को इनके बहकावे में आने की जगह सच को पहचानना होगा।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.