GLIBS

लोकतंत्र की हत्या पर मौन क्यों हैं तथाकथित लोकतंत्र के सेनानी : धनंजय ठाकुर

रविशंकर शर्मा  | 02 Aug , 2020 04:24 PM
लोकतंत्र की हत्या पर मौन क्यों हैं तथाकथित लोकतंत्र के सेनानी : धनंजय ठाकुर

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा है कि,मीसा बंदी पेंशन योजना बंद करना, छत्तीसगढ़ के हित और जनहित में लिया गया फैसला है। पूर्व की रमन सरकार ने 2008 में भाजपा और आरएसएस से जुड़े लोगों को पालने पोषने सरकारी खजाने का दुरुपयोग किया। बीते 12 साल में सरकारी खजाने पर 100 करोड़ से अधिक की राशि का बंदरबाट किया। 100 करोड़ की राशि छत्तीसगढ़ के किसानों, नौजवानों, मजदूरों, महिलाओं के स्वास्थ, शिक्षा,रोजगार, सुरक्षा पर खर्च की जाती। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आरएसएस और भाजपा से जुड़े लोगों को सरकारी खजाने से दूधभात खिलाते रहे। बीते 6 साल से देश में अघोषित आपातकाल लगा है। लोगों के मौलिक अधिकारों का हनन किया जा रहा है। ऐसे समय में स्वयंभू लोकतंत्र के सेनानी बीते 6 साल से कहां गायब है? मोदी भाजपा की सरकार लोकतंत्र की हत्या कर रही है। काले धन की थैलियों से खरीदफरोख्त कर निर्वाचित राज्य सरकारों को अस्थिर किया जा रहा है।

देश के नवरत्न महारत्न  मिनिरत्न सरकारी कंपनियों को बेचा जा रहा है। रेलवे स्टेशन,लाल किला, हवाई अड्डे, विमानन सेवा भेल गेल सहित अनेक सरकारी कम्पनियों संपत्तियों को बेचा जा रहा है। अभिव्यक्ति की आजादी का हनन किया जा रहा है। ऐसे में तथाकथित स्वयम्भू लोकतंत्र के सेनानी क्या मात्र पेंशन लेने के लिए प्रगट होते रहेंगें ? मोदी सरकार के लोकतंत्र विरोधी कृत्यों के खिलाफ आवाज उठाने से ये तथाकथित सेनानी क्यों डर रहे है? मोदी भाजपा के लोकतंत्र विरोधी कृत्यों को सफल बनाने में तथाकथित सेनानी क्यों जुटे हैं?

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.