GLIBS

झीरम घाटी कांड की एसआईटी जांच से भाजपा नेताओं के माथे पर पसीना क्यों आ रहा? : धनंजय

रविशंकर शर्मा  | 31 Jul , 2020 10:28 PM
झीरम घाटी कांड की एसआईटी जांच से भाजपा नेताओं के माथे पर पसीना क्यों आ रहा? : धनंजय

रायपुर। भाजपा प्रवक्ता श्रीचंद सुंदरानी के बयान पर कांग्रेस ने पलटवार किया है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा है कि, झीरम घाटी राजनीतिक षड्यंत्र हत्याकांड की एसआईटी जांच से भाजपा को पसीना क्यों आ रहा है? तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने दो वर्षों तक सीबीआई जांच नहीं होने की सूचना क्यों छिपाई ? कौन चाहता है, झीरम घाटी षड्यंत्र कांड की जांच ना हो ? क्या भाजपा को डर है एनआईए झीरम घाटी कांड के लिए गठित एसआईटी को झीरम की फाइल दे देगी, तो झीरम की सुपारी किलिंग की कलाई खुल जाएगी? झीरम घाटी कांड की जांच के लिए एसआईटी गठित होने और शहीद उदय मुदलियार के बेटे जितेंद्र मुदलियार की ओर से झीरम घाटी कांड के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराए जाने के बाद फिर एनआईए जांच करने की बात क्यों कह रही है? जबकि एनआईए ने अक्टूबर 2015 में न्यायालय में क्लोजर रिपोर्ट पेश कर कहा कि, उनकी जांच पूरी हो चुकी है न्यायलय अब सुनवाई करें? प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा है कि झीरम घाटी कांड के जांच के लिए एसआईटी गठन होने के बाद भाजपा में खलबली मची है। भाजपा नहीं चाहती कि, झीरम घाटी षड्यंत्रकारियों के चेहरे से नकाब उतरे। सच्चाई जनता के बीच आए और राजनीतिक षड्यंत्र हत्याकांड में शामिल लोगों को सजा मिले। शहीद परिवार को न्याय मिले। छत्तीसगढ़ में भाजपा सरकार में रहते झीरम घाटी कांड की जांच को प्रभावित की। अब एसआईटी जांच को प्रभावित करने का प्रयास कर रही है। इससे स्पष्ट है दाल में कुछ काला नहीं ,बल्कि पूरी दाल ही काली है।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.