GLIBS

मोदी सरकार पुलवामा हमले में शहीद हुए जवानों की सूची कब सार्वजनिक करेगी? : कांग्रेस

रविशंकर शर्मा  | 14 Feb , 2020 07:28 PM
मोदी सरकार पुलवामा हमले में शहीद हुए जवानों की सूची कब सार्वजनिक करेगी? : कांग्रेस

रायपुर। पुलवामा में 40 सीआरपीएफ जवानों की शहादत की पहली बरसी पर प्रदेश कांग्रेस ने श्रद्धासुमन अर्पित किए। प्रदेश कांग्रेस ने मोदी सरकार से सवाल पूछे हैं। महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि पूरा देश इन सवालों का जवाब मोदी सरकार से जानना चाहता है। उन्होंने कहा कि पुलवामा हमले से किसे लाभ हुआ? पुलवामा हमले की जांच से क्या नतीजे निकले? जिन सुरक्षा खामियों के कारण पुलवामा में हमला हुआ उसके लिये भाजपा सरकार में कौन जिम्मेदार है? शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा कि देश यह भी जानना चाहता है कि मोदी सरकार पुलवामा हमले में शहीद हुए जवानों की सूची कब सार्वजनिक करेगी? यह सूची अभी तक क्यों सार्वजनिक नहीं की गई? पुलवामा हमले के शहीदों के परिवारजनों को दी गई सहायता के वितरण सरकार क्यों सार्वजनिक नहीं करती? पुलवामा हमले की जांच रिपोर्ट क्यों छिपाई जा रही है? पुलवामा हमले में भाजपा सरकार क्या छिपा रही है? हिंदुस्तान की सरजमीं पर इतनी बड़ी मात्रा में आरडीएक्स कैसे आया? इसके अभी तक जिम्मेदारी क्यों तय नहीं की गई? पुलवामा हमले में हुए इतने बड़े इंटेलिजेंस फेलियर के लिए जो राष्ट्रीय सुरक्षा में चूक हुई है उसके लिए कौन जिम्मेदार है और किसकी जवाबदेही है? पुलवामा हमले की इंटेलिजेंस रिपोर्ट हमले से पहले आ गई थी उसको गृह मंत्रालय ने और सुरक्षा एजेंसियों ने क्यों नजरअंदाज किया? सीआरपीएफ द्वारा जवानों को एयरलिफ्ट ले जाया जाने की बात को क्यों नजरअंदाज कर किया? पाकिस्तान की जासूसी करते पकड़े गए देविंदर सिंह डिप्टी एसपी पुलवामा के हमले के समय कहां पदस्थ थे और किनके इशारों पर काम कर रहे थे? पुलवामा हमले में देविंदर सिंह की भूमिका की कब जांच होगी?
इस पुलवामा फेलियर इंटेलिजेंस में जो जांच हो रही है अगर हो रही है तो इसकी रिपोर्ट कब आएगी और अगर आ गई है तो जनता के सामने कब रखी जायेगी? मोदी ने झूठ क्यों बोला टीवी इंटरव्यू में उन्होने कहा कि वे हमले के दौरान शूटिंग नहीं करा रहे थे। बाद में कार्यक्रम के प्रसारण में शूट तारीख 14 फरवरी 2019 दिखाई गई।  

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.