GLIBS

सीएम योगी ने ऐसा क्या कर दिया कि पाकिस्तान में उनकी तारीफ हो रही है!

ग्लिब्स टीम  | 09 Jun , 2020 12:57 PM
सीएम योगी ने ऐसा क्या कर दिया कि पाकिस्तान में उनकी तारीफ हो रही है!

नई दिल्ली। भारत समेत पूरी दुनिया कोरोना संकट का सामना कर रही है। देश के तकरीबन सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में इस जानलेवा महामारी ने हजारों लोगों को अपनी चपेट में ले लिया है। महाराष्ट्र में कोविड-19 संक्रमण का विस्फोट हो गया है। सबसे ज्यादा आबादी वाला राज्य होने के बावजूद उत्तर प्रदेश में यह वायरस ज्यादा असर नहीं कर पाया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की शानदार कार्यप्रणाली को इसकी वजह माना जा रहा है। सीएम योगी की सराहना अब देश ही नहीं बल्कि पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में भी हो रही है।

जिस तरह से योगी आदित्यनाथ ने यूपी में कोरोना महामारी की तबाही को रोकने में सफलता हासिल की है उसके लिए पाकिस्तानी मीडिया में उनकी चर्चा हो रही है। पाकिस्तान के अखबार द डॉन के संपादक फहद हुसैन ने कोरोना से निपटने के लिए योगी की रणनीति की तारीफ की है। उन्होंने उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ और पाकिस्तान की इमरान खान सरकार के कार्यों की तुलना की है और योगी नेतृत्व को इमरान से बेहतर बताया है।

फहद हुसैन ने योगी के बारे में क्या लिखा? 

फहद हुसैन ने ट्विटर पर योगी सरकार और इमरान सरकार के कार्यों की तुलना की। उन्होंने लिखा है कि उत्तर प्रदेश की जनसंख्या पाकिस्तान से कहीं ज्यादा है, लेकिन कोरोना के दौरान हो रही मौतों का सिलसिला यूपी में पाकिस्तान से कम है। फहद ने लिखा कि पाकिस्तान की जनसंख्या 208 मिलियन है जबकि यूपी में 225 मिलियन लोग रहते हैं। इसके बावजूद यूपी में पाकिस्तान से बेहतर सुविधाएं हैं। अपने तर्क को समझाने के लिए फहद ने एक ग्राफ शेयर किया। उन्होंने लिखा, “इस ग्राफ को ध्यान से देखिए, इसमें कोरोना से पाकिस्तान और भारत के राज्य यूपी में होने वाली। मौतों की तुलना की गई है। दोनों की जनसंख्या, साक्षरता और प्रोफाइल एक ही है। पाकिस्तान उत्तर प्रदेश के मुकाबले कम जनसंख्या घनत्व लेकिन ज्यादा जीडीपी वाला देश है। यूपी ने कोरोना से निपटने के लिए कड़ाई से लॉक डाउन का पालन कराया लेकिन पाकिस्तान में ये नहीं हो सका। इसी का नतीजा है कि पाकिस्तान में संक्रमण और मौतों की दर ज्यादा है जबकि उत्तर प्रदेश में कम है।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.