GLIBS

तो क्या सरकारी जमीन भाजपा कार्यालय को नेशनल हाइवे से जोड़ने के लिए अधिगृहित की गई थी?

अनिल पुसदकर  | 14 Jan , 2020 04:15 PM
तो क्या सरकारी जमीन भाजपा कार्यालय को नेशनल हाइवे से जोड़ने के लिए अधिगृहित की गई थी?

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश कार्यालय कुशाभाऊ ठाकरे परिसर को नेशनल हाईवे से जोड़ने के लिए लगभग 5000 स्क्वायर फीट जमीन कलेक्टर के माध्यम से सरकार ने अधिग्रहित की थी जमीन निजी थी और उस जमीन को कलेक्टर ने अधिग्रहित कर उसके बदले ग्राम फुंडहर में भूस्वामी को 10000 स्क्वायर फिट जमीन आवंटित कर दी गई। भरोसेमंद सूत्रों का कहना है कि भाजपा कार्यालय के लिए जो जमीन खरीदी गई थी उसके और नेशनल हाईवे के बीच गैप उसके गैप को पूरा करने के लिए तत्कालीन कलेक्टर ने भूस्वामी की निजी जमीन अधिग्रहित कर भाजपा कार्यालय के लिए सड़क से रास्ता तय कर दिया। बताया जाता है कि अधिग्रहित निजी जमीन पर ही वह सड़क बनी हुई है जो सीधे गेट तक जाती है। जो गेट अब वास्तु शास्त्र की खराबी के कारण बंद कर दिया गया है। हैरानी की बात यह है कि नेशनल हाईवे पर इतना बड़ा खेल हो गया और किसी को कानों कान खबर तक नहीं लगी। मामला अब सामने आ रहा है। और संभवत इसमें जांच की मांग की की जाने वाली है। अगर इस मामले की जांच होती है तो बेहद चौंकाने वाले तथ्य सामने आ सकते हैं। किसी निजी जमीन का सरकारी अधिग्रहण सिर्फ सरकारी कार्यों के लिए ही किया जा सकता है किसी निजी कार्य के लिए नहीं। और यहां अधिग्रहण के तमाम नियमों का मजाक उड़ाते हुए उस अधिग्रहित जमीन को भाजपा कार्यालय के लिए रास्ता बनाने में लगा दिया गया था।

 

 

 

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.