GLIBS

राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर कसा तंज,कहा-'सूर्य, चंद्रमा और सत्य, देर तक छिप नहीं सकते'

ग्लिब्स टीम  | 05 Jul , 2020 03:35 PM
राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर कसा तंज,कहा-'सूर्य, चंद्रमा और सत्य, देर तक छिप नहीं सकते'

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और मौजूदा नेता राहुल गांधी केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर पिछले कई दिनों से कोरोना वायरस और भारत-चीन सीमा विवाद को लेकर निशाना साध रहे हैं। राहुल गांधी ने फिर से इशारों में रविवार को मोदी सरकार पर हमला बोला है। राहुल गांधी ने गुरु पूर्णिमा के मौके पर भी केंद्र सरकार पर तंज किया है। राहुल गांधी ने गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं देते हुए भगवान गौतम बुद्ध को कोट को शेयर करते हुए कहा है कि 'सूर्य, चंद्रमा और सत्य, देर तक छिप नहीं सकते'। राहुल गांधी ने ट्वीट किया, 'तीन चीजें जो देर तक छिप नहीं सकतीं-सूर्य, चंद्रमा और सत्य-गौतम बुद्ध। आप सभी को गुरु पूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनाए।'लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर चीन के कथित अतिक्रमण को लेकर राहुल गांधी सरकार पर लगातार सवाल उठा रहे हैं। राहुल गांधी ने शनिवार (4 जुलाई) को किए ट्वीट में लिखा, ''देशभक्त लद्दाखी चीनी घुसपैठ के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं। वे चिल्ला चिल्ला कर आगाह कर रहे हैं। उनकी चेतावनी को नजरअंदाज करना भारत को महंगा पड़ेगा। भारत की खातिर, कृपया उन्हें सुनें।'' राहुल गांधी ने अपने इस ट्वीट के साथ एक वीडियो शेयर किया है।

जिसमें कुछ लोग (जो लद्दाखी होने का दावा) चीनी घुसपैठ की बात कह रहे हैं।कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कहा है, क्या वास्तविक व ताजा चित्र 'पैंगोंग त्सो लेक' एरिया में 'फिंगर 4 रिज़' तक हमारी सरजमीं पर चीनी कब्जे की सच्चाई बयां नहीं करते? क्या यह भारत का ही भूभाग है,जिस पर चीनियों द्वारा अतिक्रमण कर राडार, हैलीपैड और दूसरी संरचनाएं खड़ी कर दी गई हैं?उन्होंने कहा, 'द गार्जियन' अखबार ने दो तस्वीरें छापी हैं; इनमें एक तस्वीर 22 मई की है और दूसरी 23 जून की। इन दोनों तस्वीरों को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि हमारे क्षेत्र में अतिक्रमण हुआ है।कपिल सिब्बल ने कहा, समय की मांग है कि भारत चीन की ''आंखों में आंखें'' डालकर स्पष्ट रूप से बता दें कि चीनियों को भारतीय सरजमीं पर अपने अवैध व दुस्साहसपूर्ण कब्जे को छोड़ना होगा। प्रधानमंत्री, यही एकमात्र 'राज धर्म' है, जिसका पालन आपको हर कीमत पर करना चाहिए।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.