GLIBS

 मोदी सरकार पर राहुल गांधी ने बोला हमला, कहा- भारतीय अर्थव्यवस्था 40 सालों में पहली बार भारी मंदी में

ग्लिब्स टीम  | 31 Aug , 2020 03:42 PM
 मोदी सरकार पर राहुल गांधी ने बोला हमला, कहा- भारतीय अर्थव्यवस्था 40 सालों में पहली बार भारी मंदी में

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष एवं सांसद राहुल गांधी ने एक वीडियो में देश की अर्थव्यवस्था के बारे में बात करते हुए मौजूदा सरकार पर जमकर भड़ास निकाली है। राहुल गांधी ने वीडियो में अर्थव्यवस्था के बारे में बात करते हुए कहा कि, 'जो आर्थिक त्रासदी देश झेल रहा है, उस दुर्भाग्यपूर्ण सच्चाई की आज पुष्टि हो जाएगी। भारतीय अर्थव्यवस्था 40 वर्षों में पहली बार भारी मंदी में है। असत्याग्रही इसका दोष ईश्वर को दे रहे हैं।' राहुल गांधी द्वारा जारी किए गए इस वीडियो में कहा कि'बीजेपी की सरकार ने असंगठित अर्थव्यवस्था पर आक्रमण किया है, और आपको गुलाम बनाने की कोशिश की जा रही है। 2008 में जबरदस्त आर्थिक तूफान पूरी दुनिया में आया। अमेरिका, यूरोप के बैंक गिर गए लेकिन इंडिया को कुछ नहीं हुआ। राहुल गांधी ने कहा कि उस वक्त यूपीए की सरकार थी और मैं प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मिलने गया और पूछा की पूरी दुनिया में आर्थिक नुकसान हुआ है लेकिन इंडिया में क्यों नहीं हुआ? प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा राहुल अगर हिंदुस्तान के अर्थव्यवस्था को समझना चाहते हो तो यह समझना होगा कि भारत में दो अर्थव्यवस्था है।

पहली असंगठित अर्थव्यवस्था और दूसरी संगठित अर्थव्यवस्था। संगठित अर्थव्यवस्था में बड़ी कंपनिया आती हैं, वहीं असंगठित अर्थव्यवस्था में किसान, मजदूर, मीडिल दुकानदार इत्यादि आते हैं। राहुल गांधी ने बताया कि मनमोहन सिंह ने उस वक्त बताया कि जिस दिन तक भारत की असंगठित अर्थव्यवस्था मजबूत है, उस दिन तक हिंदुस्तान को कोई भी आर्थिक नुकसान छू नहीं सकता है। इसके अलावा उन्होंने बताया कि मौजूदा समय में बीजेपी की तीन नीतियों से असंगठित अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचा है। इसमें से उन्होंने बताया कि पहला नोटबंदी दूसरा जीएसटी और तीसरा लॉकडाउन है। इसके अलावा उन्होंने कहा, 'प्रधानमंत्री  को सरकार चलाने के लिए मीडिया की जरूरत है, मार्केटिंग की जरूरत है। मीडिया-मार्केटिंग 15-20 लोग करते हैं। इनफॉर्मल सेक्टर में लाखों करोड़ रुपए हैं। इस सेक्टर को तोड़कर ये लोग पैसा लेना चाहते हैं। इसका नतीजा ये होगा कि हिंदुस्तान रोजगार पैदा नहीं कर पाएगा, क्योंकि इनफॉर्मल सेक्टर 90% से ज्यादा रोजगार देता है।'

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.