GLIBS

पासवान ने छत्तीसगढ़ की खाद्यान्न वितरण व्यवस्था को सराहा, अमरजीत की मांग पर दिया सकारात्मक जवाब

रविशंकर शर्मा  | 22 May , 2020 03:44 PM
पासवान ने छत्तीसगढ़ की खाद्यान्न वितरण व्यवस्था को सराहा, अमरजीत की मांग पर दिया सकारात्मक जवाब

रायपुर। केन्द्रीय खाद्य मंत्री रामविलास पासवान ने देशव्यापी लाॅक डाउन के दौरान देश के विभिन्न राज्यों में खाद्यान्न व्यवस्था की वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग से समीक्षा की। पासवान ने लाॅक डाउन के दौरान कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षा के लिए छत्तीसगढ़ में किए गए प्रभावी उपायों और खाद्यान्न वितरण व्यवस्था की सराहना की। पासवान ने कहा कि छत्तीसगढ़ में लोगों को खाद्यान्न उपलब्ध कराने में महत्वपूर्ण सफलता हासिल की है। छत्तीसगढ़ में पहुंचने वाले प्रवासी श्रमिकों के लिए परिवहन, भोजन और स्वास्थ्य की समुचित व्यवस्था प्रशंसनीय है।खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने चर्चा के दौरान कहा कि छत्तीसगढ़ से 24 लाख मीट्रिक टन चावल सेंट्रल पुल में लेने की अनुमति मिली है। इसे बढ़ाकर 32 लाख मीट्रिक टन करने का अनुरोध केन्द्रीय खाद्य मंत्री से किया। पासवान ने सेंट्रेल पुल में चावल 8 लाख मीट्रिक टन बढ़ाने के संबंध में सकारात्मक जवाब दिए हैं।

एफसीआई ने भी अतिरिक्त चावल लेने पर सहमति जताई है। भगत ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत गरीब परिवारों को दी जा रही प्रति सदस्य 5 किलो निशुल्क चावल को तीन महीने और बढ़ाने का आग्रह किया है। उन्होंने छत्तीसगढ़ के बीपीएल कार्डधारी परिवारों के समान ही एपीएल कार्डधारी सामान्य परिवारों को भी सस्ता चावल देने का आग्रह किया। भगत ने कहा कि लाॅक डाउन के बाद राज्य में लगभग 40 हजार नए राशन कार्ड बने हैं, जो अन्य राज्यों से वापस आये प्रवासियों के थे। इन राशनकार्डो पर भी प्रवासी मजदूरों को भारत सरकार की योजना का लाभ दिया जाए।

छत्तीसगढ़ की शक्कर कारखानों से राज्य के लिए शक्कर का कोटा पीडीएस के माध्यम से वितरण के लिए अलग से देने का अनुरोध किया है। मंत्री भगत ने बताया कि छत्तीसगढ़ में चने का वितरण माह अप्रैल के लिए हो गया है और मई का वितरण किया जा रहा है। प्रदेश में देश के अन्य राज्यों से आने वाले प्रवासी श्रमिकों को भी खाद्यान्न उपलब्ध कराया जा रहा है। प्रदेश में कही भी खाद्यान्न की कमी नही है। मंत्री भगत ने केन्द्रीय मंत्री को छत्तीसगढ़ के लिए किए गए सहयोग के लिए धन्यवाद दिया। इस दौरान खाद्य विभाग के सचिव डाॅ.कमलप्रीत सिंह,विशेष सचिव मनोज कुमार सोनी, एमडी नान निरंजन दास सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.