GLIBS

दिल्ली विधानसभा चुनाव में स्टार प्रचारक ना बनाना ही स्पष्ट संकेत हैं: विकास तिवारी

राहुल चौबे  | 22 Jan , 2020 06:23 PM
दिल्ली विधानसभा चुनाव में स्टार प्रचारक ना बनाना ही स्पष्ट संकेत हैं: विकास तिवारी

रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव एवं प्रवक्ता विकास तिवारी ने दिल्ली विधानसभा चुनाव में जारी किए गए भाजपा और कांग्रेस पार्टी के स्टार प्रचारकों की सूची पर टिप्पणी दी है। उन्होंने कहा कि एक ओर जहां प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का कद दिन प्रतिदिन देश की राजनीति में बढ़ रहा है और उन्हें अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के द्वारा जारी किए गए स्टार प्रचारकों की सूची में स्थान दिया गया है। इसके पूर्व भी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा झारखंड,ओडिशा,महाराष्ट्र सहित अन्य राज्यों के चुनाव में स्टार प्रचारक बनाया गया था। वहीं दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को पहले जहां झारखंड, उड़ीसा, महाराष्ट्र के चुनाव से दूर रखा गया था वहीं अब भारतीय जनता पार्टी की केंद्रीय नेतृत्व के द्वारा आगामी दिनों में संपन्न होने वाले दिल्ली विधानसभा चुनाव में जारी किए गए स्टार प्रचारकों की सूची से भी डॉ रमन सिंह का नाम जोड़ा ही नही गया है।कांग्रेस प्रवक्ता विकास तिवारी ने कहा कि इसके पूर्व अन्य राज्य के चुनावों में जारी स्टार प्रचारकों की सूची में नाम नहीं आने पर कांग्रेस पार्टी की ओर से यह मांग की गई थी कि अगर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की उपयोगिता किसी भी चुनाव में भारतीय जनता पार्टी का शीर्ष नेतृत्व नहीं करा रहा है और उन्हें राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के पद पर शोपीस बना कर बैठा दिया है इसे स्पष्ट तो संकेत है कि भाजपा का शीर्ष नेतृत्व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह को अघोषित रूप से सन्यास दे दिए हैं और इससे यह भी स्पष्ट हो जाता है कि डॉ.रमन सिंह की पूछपरख अब दिल्ली में नहीं हो रही है। इस बात का एक और उदाहरण सामने आता है कि मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भाजपा अपने स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल तो करती है पर डॉ.रमन सिंह से अब वह कन्नी काटना चाहती है। कांग्रेस प्रवक्ता विकास तिवारी ने पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से आग्रह किया है कि जिस तरह से भाजपा का शीर्ष नेतृत्व उन्हें अनदेखा कर रही है उन्हें राष्ट्रीय उपाध्यक्ष होने के बावजूद तवज्जो नहीं दे रही है तो यह सही समय है कि उन्हें अब सक्रिय राजनीति से सन्यास ले लेना चाहिए।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.