GLIBS

चित्रकोट में लगभग 77 प्रतिशत मतदान, मतदान में चुनौतियां बाधा नहीं बनी : सुब्रत साहू

हर्षित शर्मा  | 21 Oct , 2019 08:27 PM
चित्रकोट में लगभग 77 प्रतिशत मतदान, मतदान में चुनौतियां बाधा नहीं बनी : सुब्रत साहू

रायपुर। चित्रकोट विधानसभा उपचुनाव के संबंध में जानकारी देते हुए मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू ने बताया कि अब तक 77 प्रतिशत मतदान हुआ है। सभी बूथ से दल वापस आ रहे हैं। इसके बाद अंतिम आंकड़े सामने आएंगे। उन्होंने कहा कि चित्रकोट विधानसभा क्षेत्र में उपनिर्वाचन के अंतर्गत आज हुए मतदान में चुनौतियां बाधा नहीं बनी। लोहंडीगुड़ा विकासखण्ड के काटाबांस गांव के मतदाताओं ने इन्द्रावती नदी उफान पर थी तो लोकतंत्र पर भरोसा करते हुए नाव से नदी पार कर मतदान केन्द्र में पहुंचकर मतदान किया। नदी-नालें पहाड़ से आगे निकला लोकतंत्र। इस व्यवस्था पर भरोसा करते हुए पैदल 40 किमी दूर से मतदाता पहाड़, नदी-नाले और घाटी को पार करते हुए अपने निर्धारित मतदान केन्द्र में पहुंचकर मताधिकार का प्रयोग किया। इसमें बड़ी संख्या में महिलाएं और बुजुर्ग मतदाताएं भी शामिल थे। इस क्षेत्र के 5 संवेदनशील मतदान केन्द्रों को अन्यत्र शिफ्ट किया गया। नक्सल संवेदनशील क्षेत्रों में ग्रामीणों की मतदान की शानदार तस्वीरें बताती है कि लोकतंत्र की मजबूती के लिए मतदान करने के लिए उनके जज्बे में अंदर से अब नक्सलियों का कोई खौफ नहीं है।
सुब्रत साहू ने कहा कि विधानसभा उप निर्वाचन चित्रकोट में मतदान केन्द्र क्र. 14 मटनार के पीठासीन अधिकारी की शिकायत मिलने पर त्वरित कार्रवाई की गई। उनके स्थान पर रिजर्व पीठासीन अधिकारी को तत्काल तैनात किया गया। इसी प्रकार स्वास्थ्यगत कारणों से मतदान केन्द्र कं. 15 मटनार के एक पीठासीन अधिकारी को भी रिप्लेस किया गया। उप निर्वाचन के तहत् आज चित्रकोट विधानसभा में हुए मतदान के दौरान गलत कृत्य की शिकायत के बाद आईटीबीपी के एक पुलिस सब इंस्पेक्टर को हटा दिया गया। चित्रकोट उप निर्वाचन में आज हुए मतदान में वालिंटियर्स की सक्रिय सहभागिता रही। इन्होंने मतदान केन्द्रों में आने वाले बुजुर्ग और दिव्यांग मतदाताओं को मदद की। चित्रकोट विधानसभा क्षेत्र में कंही पर कोई भी अप्रिय घटना नहीं हुई प्रशासन, पुलिस और सुरक्षा बलों के समन्वय से यह कार्य सफलतापूर्वक संपन्न हुआ।

ताज़ा खबरें

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.