GLIBS

कौशिक ने आश्रम छात्रावासों में लापरवाही को आपराधिक मामला बताया, कार्रवाई की मांग

हर्षित शर्मा  | 13 Mar , 2020 07:51 PM
कौशिक ने आश्रम छात्रावासों में लापरवाही को आपराधिक मामला बताया, कार्रवाई की मांग

रायपुर। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने बस्तर संभाग के स्कूल आश्रम छात्रावासों में व्याप्त लापरवाही को आपराधिक मामला बताते हुए प्रदेश सरकार पर जमकर निशाना साधा है। कौशिक ने कहा कि सुकमा क्षेत्र के पोटाकेबिन आश्रम-छात्रावास में एक छात्र की बीमारी से मौत के कुछ ही दिनों के अंतराल में जगदलपुर के मोरठपाल बालिका आश्रम में दो छात्राओं की बीमारी से हुई मौतें प्रदेश सरकार के तमाम दावों की पोल खोल देने के लिए पर्याप्त हैं। कौशिक ने इन मामलों में दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने और पीड़ित परिजनों को पर्याप्त आर्थिक मदद देने की मांग की है।

नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि इन आश्रमों के अधीक्षकों ने पूरे मामले को दबाने व छिपाने का दुस्साहस तक किया। सुकमा के पोटाकेबिन छात्रावास के अधीक्षक ने तो खुद जाँच करने पहुँचे अधिकारियों को गुमराह किया ही, मृत छात्र के परिजनों से भी झूठा बयान दिलाने का दंडनीय अपराध किया। इधर मोरठपाल बालिका आश्रम की अधीक्षक ने अपने आला अफसरों को दो छात्राओं की मौत की जानकारी तक देना मुनासिब नहीं समझा। अगर पीड़ित परिजनों ने आश्रम की अव्यवस्था पर सवाल खड़ा नहीं किया होता तो न जाने कैसा मंजर होता। कौशिक ने कहा कि हाल के ही महीनों में दंतेवाड़ा के एक छात्रावास में एक छात्रा के गर्भधारण का गंभीर प्रकरण सामने आने के बावजूद न तो शासन-प्रशासन ने संजीदा होना जरूरी समझा और न ही अपनी कार्यप्रणाली में सुधार लाने की इच्छा शक्ति दिखाई है, इसलिए तमाम दावों के बावजूद बस्तर के ये आश्रम-छात्रावास अराजकता के प्रतीक केंद्र बनते जा रहे हैं।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.